#undefined

bolkar speaker

क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?

Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:06
दुकान तो आज आप का सवाल है कि क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है बीमारियां बहुत सारे कारणों की वजह से वो दिल ही क्या होता है कि अगर आपको खान पीन की वजह से हुआ बाहर का जोगी आफ स्टेट फूड फास्ट फूड में दिखा रहे हैं मतलब एक्सरसाइज को जो भी लेकर बीमारी होती है लेकिन अब सोचने बहुत ज्यादा लगती चिंता करने के लिए मतलब आप बहुत ज्यादा सोचने लगते हैं तो इसलिए मतलब ज्यादा से ज्यादा लोग और ज्यादा उनका हेल्थ खराब हो जाता है इसलिए चिंता की वजह से तो यह पूरी तरह से सही बात है कि 80% लोग चिंता करके ही अदब अपनी जान सुनाओ या फिर का मतलब बीमारियों से जूझ रहे हैं देख लीजिए जो अम्ल महामारी हुआ था तो पहले डेड इतना ज्यादा क्यों हो रहा था कि लोगों को पता चल रहा था कि हां उनको कोरोनावायरस पॉजिटिव है तो वह बहुत ज्यादा डर जा रहे थे उनको क्या होगा नहीं होगा अब नहीं यह नहीं आया क्या आप ऐसा कुछ इतना डरा हुआ माहौल भी तो हर वह डर भी जा रहे थे बहुत चिंता कर रहे थे जिस वजह से इतना ज्यादा मौत हो रही थी अभी लोग ज्यादा देर हो गया समझने लगे इतना टेंशन ही नहीं रहे नॉर्मल उनको लग रहा है अगर वह भी रहा है तो लोग सोच रही है नॉर्मल कोई ज्यादा बड़ी बात नहीं है इस वजह से लोग खुद को कंट्रोल करता है ऐसी कोई भी बीमारी अगर होती है तो देख डॉक्टर भी मैंने आपको अगर बहुत कुछ बीमारी पर लास्ट स्टेज क्यों ना हो रोकने में ही बोलते हैं कि नहीं सब ठीक है ना और मैं कुछ नहीं होगा बाद में आप की व्यवस्था पेरेंट्स को या फिर किसी और को समझा दे कि उनको क्या बीमारी कब तक क्या नहीं हो सकता चिंता बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए क्योंकि टेंशन लेने से वह दिमागी तौर पर फिर हमारे हेल्प पर फिजिकली हम सब तरफ से बीमार पड़ते हैं और मतलब ठीक होने की जगह भी हम खुद को ठीक नहीं कर पाते हमारे दिमाग में बार-बार यही चलता नहीं हमारा लास्ट स्टेज है या फिर से तो बहुत लोग इस बीमारी से कोई बच नहीं पाता है तो हम भी यह सोचकर हम अंदर ही अंदर घूमते रहते हैं और मतलब ज्यादा यह बीमारी बढ़ जाती है
Dukaan to aaj aap ka savaal hai ki kya 80% beemaariyaan keval chinta karane se hotee hai beemaariyaan bahut saare kaaranon kee vajah se vo dil hee kya hota hai ki agar aapako khaan peen kee vajah se hua baahar ka jogee aaph stet phood phaast phood mein dikha rahe hain matalab eksarasaij ko jo bhee lekar beemaaree hotee hai lekin ab sochane bahut jyaada lagatee chinta karane ke lie matalab aap bahut jyaada sochane lagate hain to isalie matalab jyaada se jyaada log aur jyaada unaka helth kharaab ho jaata hai isalie chinta kee vajah se to yah pooree tarah se sahee baat hai ki 80% log chinta karake hee adab apanee jaan sunao ya phir ka matalab beemaariyon se joojh rahe hain dekh leejie jo aml mahaamaaree hua tha to pahale ded itana jyaada kyon ho raha tha ki logon ko pata chal raha tha ki haan unako koronaavaayaras pojitiv hai to vah bahut jyaada dar ja rahe the unako kya hoga nahin hoga ab nahin yah nahin aaya kya aap aisa kuchh itana dara hua maahaul bhee to har vah dar bhee ja rahe the bahut chinta kar rahe the jis vajah se itana jyaada maut ho rahee thee abhee log jyaada der ho gaya samajhane lage itana tenshan hee nahin rahe normal unako lag raha hai agar vah bhee raha hai to log soch rahee hai normal koee jyaada badee baat nahin hai is vajah se log khud ko kantrol karata hai aisee koee bhee beemaaree agar hotee hai to dekh doktar bhee mainne aapako agar bahut kuchh beemaaree par laast stej kyon na ho rokane mein hee bolate hain ki nahin sab theek hai na aur main kuchh nahin hoga baad mein aap kee vyavastha perents ko ya phir kisee aur ko samajha de ki unako kya beemaaree kab tak kya nahin ho sakata chinta bilkul bhee nahin karana chaahie kyonki tenshan lene se vah dimaagee taur par phir hamaare help par phijikalee ham sab taraph se beemaar padate hain aur matalab theek hone kee jagah bhee ham khud ko theek nahin kar paate hamaare dimaag mein baar-baar yahee chalata nahin hamaara laast stej hai ya phir se to bahut log is beemaaree se koee bach nahin paata hai to ham bhee yah sochakar ham andar hee andar ghoomate rahate hain aur matalab jyaada yah beemaaree badh jaatee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:16
क्वेश्चन पूछा गया कि क्या 80 परसेंट बीमारियां केवल चिंता करने से होती है तो यह बात सही है कि लगभग ज्योति हंसी प्रचंड की गाड़ी हम चिंता करते वक्त होता है ज्यादा सोचते हैं जिससे क्या होता है कि हमें उस बीमारी से सामना करना पड़ता है
Kveshchan poochha gaya ki kya 80 parasent beemaariyaan keval chinta karane se hotee hai to yah baat sahee hai ki lagabhag jyoti hansee prachand kee gaadee ham chinta karate vakt hota hai jyaada sochate hain jisase kya hota hai ki hamen us beemaaree se saamana karana padata hai

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:29
80% बीमारियां केवल चिंता करने से होते हैं बिल्कुल होती है मेरे भाई और कहते हैं कि चिंता चिता के समान पर मनुष्य को मरणासन्न बनाने के योग्य हो जाती है क्योंकि अगर आपने नेगेटिव सोचना शुरु कर दिया नकारात्मक पहली है तो आप मानसिक रूप से परेशान होने जाएंगे और जब मानसिक रूप से परेशान होंगे और बार-बार आपको इस चिंता में डूब रोड हो पड़े रहेंगे तो उसका बहुत बड़ा नुकसान होता है देखेंगे चिंता अगर लगातार रहेगी तो आपका सर दर्द बना रहेगा आपका वजन घटे लगेगा आप किसी दिन नींद नहीं आएगी खाना भी आपको हजम नहीं होगा बार-बार आप बीमार पड़ेंगे आपका ध्यान केंद्रित नहीं होगा आपका मूड जो है वह बदलता रहेगा हाइपर एक्टिव हो जाएंगे गोवर्धन सिटी हो जाएंगे और कभी-कभी तो आप डिप्रेशन में भी चले जाते हैं और ब्लड प्रेशर के बीमारी आप हो जाए डायबिटीज के पेशेंट हो जाएंगे क्योंकि इस तनाव के कारण है निश्चित तौर पर हमारे शरीर के अंदर जो हार्मोन का सिकरी कन्हैया जो है वह सब बढ़ जाता है और उसका प्रशिक्षण नहीं होता निरंतर चिंता करते रहने से आपके अंदर एक भय की भावना होगी अपने कार्यों को आप सही ढंग से कर नहीं एक अच्छा मैं आपको लगी है यार मेरी ममता नहीं है अब अपने आप को चिंता विकार के कारण से अनियंत्रित कर पाएंगे तो मनोवैज्ञानिक कई कारण होते हैं और निश्चित तौर पर अलग अलग ढंग से इसमें होगा आप को आप देखिए आप देखेंगे नींद की समस्या तो हमारे ही है कमजोरी और सुस्त होगी कभी कभी आप यह भी देखेंगे किमो शुष्क हो जाता है जवाब बाद में बात करते हैं और कमजोरी महसूस होने लगती है मांस पेशियों में भी हो जाता है इस तरह का तो बहुत सारी चीजें हैं जो यह काम करने की जरूरत होती है और निश्चित तौर पर एक अवसाद जैसी बीमारी के हो जाते हैं आपका और गिफ्ट भी हो सकते हैं आप अल्कोहल भी लिख सकते हैं सारी चीजों से आप मानसिक विकृतियों से प्रभावित हो सकते
80% beemaariyaan keval chinta karane se hote hain bilkul hotee hai mere bhaee aur kahate hain ki chinta chita ke samaan par manushy ko maranaasann banaane ke yogy ho jaatee hai kyonki agar aapane negetiv sochana shuru kar diya nakaaraatmak pahalee hai to aap maanasik roop se pareshaan hone jaenge aur jab maanasik roop se pareshaan honge aur baar-baar aapako is chinta mein doob rod ho pade rahenge to usaka bahut bada nukasaan hota hai dekhenge chinta agar lagaataar rahegee to aapaka sar dard bana rahega aapaka vajan ghate lagega aap kisee din neend nahin aaegee khaana bhee aapako hajam nahin hoga baar-baar aap beemaar padenge aapaka dhyaan kendrit nahin hoga aapaka mood jo hai vah badalata rahega haipar ektiv ho jaenge govardhan sitee ho jaenge aur kabhee-kabhee to aap dipreshan mein bhee chale jaate hain aur blad preshar ke beemaaree aap ho jae daayabiteej ke peshent ho jaenge kyonki is tanaav ke kaaran hai nishchit taur par hamaare shareer ke andar jo haarmon ka sikaree kanhaiya jo hai vah sab badh jaata hai aur usaka prashikshan nahin hota nirantar chinta karate rahane se aapake andar ek bhay kee bhaavana hogee apane kaaryon ko aap sahee dhang se kar nahin ek achchha main aapako lagee hai yaar meree mamata nahin hai ab apane aap ko chinta vikaar ke kaaran se aniyantrit kar paenge to manovaigyaanik kaee kaaran hote hain aur nishchit taur par alag alag dhang se isamen hoga aap ko aap dekhie aap dekhenge neend kee samasya to hamaare hee hai kamajoree aur sust hogee kabhee kabhee aap yah bhee dekhenge kimo shushk ho jaata hai javaab baad mein baat karate hain aur kamajoree mahasoos hone lagatee hai maans peshiyon mein bhee ho jaata hai is tarah ka to bahut saaree cheejen hain jo yah kaam karane kee jaroorat hotee hai aur nishchit taur par ek avasaad jaisee beemaaree ke ho jaate hain aapaka aur gipht bhee ho sakate hain aap alkohal bhee likh sakate hain saaree cheejon se aap maanasik vikrtiyon se prabhaavit ho sakate

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:13
जी एटी परसेंट नहीं 9 से 95% बीमारियां सोच मिलती है चिंता करने सोचती है क्योंकि आप जैसे चिंता करना शुरू करते हो आपके शरीर में फोटोस और नाम का हार्मोन डिस्टिक हनुमंता में पड़ना शुरू हो जाता है पंजाब के शरीर में बॉडी में हार्मोन वह बनना शुरू होगा तो सीधे आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को इफेक्ट पड़ेगा आपको खाने पत्नी में दिक्कत होगी आपको पता भी नहीं चलेगा कि आपके साथ क्या हो रहा है मानसिक रूप से आप हमेशा अपने आपको थका वफाओं के डिसीजन नहीं ले पाओगे तो किस कारण से एक नहीं बहुत सारी बीमारियां होती है जब आपको डाइजेस्ट में दिक्कत हो तो नहीं पाओगे ठीक है चिंता से 50% से भी ज्यादा गाड़ियां होती है मीठा कीजिए लेकिन एक लिमिट उसका सलूशन देखे क्या है ना उस सलूशन मिल गई है सिर्फ चिंता करने से कुछ नहीं होगा सलूशन घूमना बहुत जरूरी है
Jee etee parasent nahin 9 se 95% beemaariyaan soch milatee hai chinta karane sochatee hai kyonki aap jaise chinta karana shuroo karate ho aapake shareer mein photos aur naam ka haarmon distik hanumanta mein padana shuroo ho jaata hai panjaab ke shareer mein bodee mein haarmon vah banana shuroo hoga to seedhe aapake daijestiv sistam ko iphekt padega aapako khaane patnee mein dikkat hogee aapako pata bhee nahin chalega ki aapake saath kya ho raha hai maanasik roop se aap hamesha apane aapako thaka vaphaon ke diseejan nahin le paoge to kis kaaran se ek nahin bahut saaree beemaariyaan hotee hai jab aapako daijest mein dikkat ho to nahin paoge theek hai chinta se 50% se bhee jyaada gaadiyaan hotee hai meetha keejie lekin ek limit usaka salooshan dekhe kya hai na us salooshan mil gaee hai sirph chinta karane se kuchh nahin hoga salooshan ghoomana bahut jarooree hai

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:35
81% बीमारियां केवल चिंता करने से होते हैं दोस्तों यह बात तो सत्य है कि यदि आप चिंता ना करें तो आपको कोई बीमारी नहीं होगी अधिकार जो बीमारियां होती है दोस्तों नॉर्मल ही होती है और उनका इलाज बीमारी को लेकर चिंता जाहिर करते हैं तो वह बीमारी है वह बड़ी हो जाती है उनमें से सत्तर से अस्सी परसेंट जो लोग होते हैं वह सिर्फ जनता के कारण से ही मर जाते हैं तो हां आप कह सकते हैं कि 80% बीमारियां दुआ दोस्तों को केवल चिंता के कारण ही होती है
81% beemaariyaan keval chinta karane se hote hain doston yah baat to saty hai ki yadi aap chinta na karen to aapako koee beemaaree nahin hogee adhikaar jo beemaariyaan hotee hai doston normal hee hotee hai aur unaka ilaaj beemaaree ko lekar chinta jaahir karate hain to vah beemaaree hai vah badee ho jaatee hai unamen se sattar se assee parasent jo log hote hain vah sirph janata ke kaaran se hee mar jaate hain to haan aap kah sakate hain ki 80% beemaariyaan dua doston ko keval chinta ke kaaran hee hotee hai

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
जी हां आपकी बात बिल्कुल सही है अस्सी परसेंट बीमारियां क्या हंड्रेड परसेंट बीमारी है जो चिंता के कारण होती है जब आदमी ज्यादा चिंतित रहने लगता है और अनावश्यक रूप से उसके दिमाग की फैक्ट्री चलने लगती है हर आदमी पर शक करने लगता है हमने जीवन पर को भरोसा नहीं रहता है तो डिप्रेशन कभी मरीज हो जाता है सर कभी मरीज होता है शुगर का भी मरीज हो जाता है सोचने की बीमारी उसको हो जाती है उसे खाना भी अच्छा नहीं लगता उसके पाचन शक्ति कमजोर पड़ जाती है तमाम प्रकार के और 1 या पेट की बीमारी हो गई उसको और दिमाग दिमाग में उलझन आने लगे तो डिप्रेशन में चला जाता हूं डिप्रेशन में चला जाता है तुझे बहुत ही कष्ट हटा दो किसी काम का नहीं रहता है उसको सत्तर परसेंट तेरा पागल समझ गया उसको किसी पर भरोसा नहीं रहता यहां तक हो जाता है कि डिप्रेशन में सुसाइड कर लेता है इसलिए चिंता करने से कोई काम नहीं हम हमेशा परिस्थितियों से लड़ने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए जो परिस्थितियों से निपटा जाएगा इस बात को लेकर के अपने आप को बिल्कुल सतर्क रखिए
Jee haan aapakee baat bilkul sahee hai assee parasent beemaariyaan kya handred parasent beemaaree hai jo chinta ke kaaran hotee hai jab aadamee jyaada chintit rahane lagata hai aur anaavashyak roop se usake dimaag kee phaiktree chalane lagatee hai har aadamee par shak karane lagata hai hamane jeevan par ko bharosa nahin rahata hai to dipreshan kabhee mareej ho jaata hai sar kabhee mareej hota hai shugar ka bhee mareej ho jaata hai sochane kee beemaaree usako ho jaatee hai use khaana bhee achchha nahin lagata usake paachan shakti kamajor pad jaatee hai tamaam prakaar ke aur 1 ya pet kee beemaaree ho gaee usako aur dimaag dimaag mein ulajhan aane lage to dipreshan mein chala jaata hoon dipreshan mein chala jaata hai tujhe bahut hee kasht hata do kisee kaam ka nahin rahata hai usako sattar parasent tera paagal samajh gaya usako kisee par bharosa nahin rahata yahaan tak ho jaata hai ki dipreshan mein susaid kar leta hai isalie chinta karane se koee kaam nahin ham hamesha paristhitiyon se ladane ke lie hamesha taiyaar rahana chaahie jo paristhitiyon se nipata jaega is baat ko lekar ke apane aap ko bilkul satark rakhie

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
1:06
नमस्कार आपका प्रश्न क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है देखिए संसार में जो भी कोई है वह किसी ना किसी चिंता से ग्रसित हो ही जाता है क्योंकि सरकार का नाम ही दुकानें हैं और कभी एक दुख तो कभी दो दुख तो कभी हजारों दुख आप पर टूट पड़ते हैं और यह 7% कान्हा की 80% बीमारियां क्यों चिंता से हो जाती है तो यह गलत होगा क्योंकि कई तरह के ऐसे हमारे जीवन में घटना घटित होती है जिसके कारण भी हम बीमार पड़ जाते हैं लेकिन चिंता करने से बीमारी बीमारियां कब बढ़ती है तो मैं आपको बताता हूं जब किसी बात को लेकर आप रात दिन सोचते रहते हैं तो आपको बीमारी का कारण हो सकती है यदि आप इसी बात को अभी चिंता कर रहे हैं फिर दूसरे काम में इंवॉल्व हो गए उसको भूल गए तो आपको कोई दिक्कत इससे नहीं होगा धन्यवाद आपके इस प्रश्न के
Namaskaar aapaka prashn kya 80% beemaariyaan keval chinta karane se hotee hai dekhie sansaar mein jo bhee koee hai vah kisee na kisee chinta se grasit ho hee jaata hai kyonki sarakaar ka naam hee dukaanen hain aur kabhee ek dukh to kabhee do dukh to kabhee hajaaron dukh aap par toot padate hain aur yah 7% kaanha kee 80% beemaariyaan kyon chinta se ho jaatee hai to yah galat hoga kyonki kaee tarah ke aise hamaare jeevan mein ghatana ghatit hotee hai jisake kaaran bhee ham beemaar pad jaate hain lekin chinta karane se beemaaree beemaariyaan kab badhatee hai to main aapako bataata hoon jab kisee baat ko lekar aap raat din sochate rahate hain to aapako beemaaree ka kaaran ho sakatee hai yadi aap isee baat ko abhee chinta kar rahe hain phir doosare kaam mein involv ho gae usako bhool gae to aapako koee dikkat isase nahin hoga dhanyavaad aapake is prashn ke

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
20% तो नहीं लेकिन 40 से 50% तक बीमारियां टेंशन करने की वजह से होती है काफी बीमारियां शुगर तारा इतनी टेंशन से हो जाती हैं तो आपको ज्यादा टेंशन नहीं करनी है कि टेंशन एक ऐसी बीमारी है जो सबको हो रही है और बहुत लोग इससे प्रभावित भी हैं डिप्रेशन सबसे ज्यादा कॉमन है इसमें डिप्रेशन के शिकार लोग हो जाते हैं उनको रात भर नींद नहीं आती है तो काफी दिक्कत में आ जाते हैं तो आपको ऐसा कुछ भी नहीं करना है टेंशन मत लीजिए जो बकरी अपने मेंटली रखी है और हमें लाइक करते रहिए धन्यवाद
20% to nahin lekin 40 se 50% tak beemaariyaan tenshan karane kee vajah se hotee hai kaaphee beemaariyaan shugar taara itanee tenshan se ho jaatee hain to aapako jyaada tenshan nahin karanee hai ki tenshan ek aisee beemaaree hai jo sabako ho rahee hai aur bahut log isase prabhaavit bhee hain dipreshan sabase jyaada koman hai isamen dipreshan ke shikaar log ho jaate hain unako raat bhar neend nahin aatee hai to kaaphee dikkat mein aa jaate hain to aapako aisa kuchh bhee nahin karana hai tenshan mat leejie jo bakaree apane mentalee rakhee hai aur hamen laik karate rahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:59
कोसी नदी क्या हनी पर्सेंट बीमारी बीमारियां केवल चिंता से होती हैं तो हां यह कुछ हद तक सच है क्योंकि ऐसा देखा गया है कि कुछ जो बीमारियां होती है जब से डायबिटीज होता ए राइड हो या फिर पीसीओडी हो या फिर अदर्स वर्सेस हो जाते हैं ठीक है तो वह कहीं ना कहीं उसका कमीन कारण स्पष्ट होता है कि हम अपनी लाइफ में बहुत ज्यादा चिंता लेते हैं या किसी चीज को या किसी बातों को बहुत बार सोचते हैं जिस वजह से हमें वह प्रॉब्लम हो जाती है खासकर फीमेल में बहुत ज्यादा कॉफी में अधिकतर की चीजें देखी जाती है कि लाइफ में स्ट्रेस के कारण उनको कुछ वजह से डायबिटीज हो गई थायराइड हो गया या बहुत ज्यादा सोचती हैं किसी बात को तुम को ही सब प्रॉब्लम हो जाती है और जिसका उनको सामना करना पड़ता है ठीक है अब तो यह बात काफी हद तक सच है क्योंकि जितने भी मैंने जूती भी ई-मेल की काउंसलिंग की है अपने करियर में तो अधिकतर जो फीमेल्स है वह किसी ना किसी रीजन से उन्होंने बताया है कि लाइफ के कुछ टाइम तक उनको इस ट्रस्ट था जिस टाइम पिन कोड आईपीएस हो गया उनको थायराइड हो गया उनको पीसीओडी हो गया और उस टाइम पीरियड कि उनकी लाइफ में आने से पहले उनको ही सब प्रॉब्लम नहीं थी तो यह चीज प्रूफ कर दिया कि उनका जो बीमारी का कारण था वह शख्स था यह बहुत ज्यादा ओवर थे ना बहुत ज्यादा किस चीज को आप सोच लो बहुत ज्यादा सोचना एक होता है आप कोई सुख किसी चीज को सोच रहे हो अब जॉब कर रहे हो क्या चीज के बाद मुझे यह करना है बट एक चीज होती है कि आप किसी चीज में डूबी जाओ इतना सोचो तो जब एक्सट्रीम लेवल का हम सोच लेते हैं ना तो उस टाइम पर वह जो सूचना होता है हमारा व्हाट्सएप हमारे को थॉट समझ चिंता में बदल जाते हैं जो हमें भी नहीं पता चलता तो उससे बहुत सी प्रॉब्लम हो जाती है उससे करो जो डिप्रेशन में नहीं लगते हैं कुछ को प्रॉब्लम हो जाती है खुद को कुछ लूट से रिलेटेड प्रॉब्लम हो जाती है मेंटल प्रॉब्लम हो जाती है मेंटल पीस नहीं मिलती तो सब बहुत तरह की प्रॉब्लम हो जाती है कुछ हेल्थ रिलेटेड शूटिंग कुछ मंडली शुभ होते हैं ठीक है तो वो आईडेंटिफाई करना बहुत मुश्किल होता है बट यह बात सच है कि जो बीमारियों का मेन कारण होता है वह चिंता होता है जिसे कहावत भी है कि चिंता चिता के समान है तो वह इसीलिए कहावत बनी है क्योंकि चिंता से अधिकतर बीमारियों को जन्म देने का कारण ही चिंता होती है तो इस पोस्ट को आप मैं ट्यूशन के थ्रू कंट्रोल भी कर सकते हैं तो मेरे ख्याल से कि हर इंसान को मैं टेशन कि तू चिंता को कंट्रोल करना चाहिए इस प्रेस अब तो पूरी लाइफ तक आपके साथ रहेगा किसी ना किसी रूप में बट उस को कंट्रोल करना बहुत जरूरी है ताकि बीमारियों को दूर कर सके और उनसे निजात पा सके और अपना स्वस्थ जीवन एक जी सके तो यह करना चाहिए यह बहुत जरूरी है
Kosee nadee kya hanee parsent beemaaree beemaariyaan keval chinta se hotee hain to haan yah kuchh had tak sach hai kyonki aisa dekha gaya hai ki kuchh jo beemaariyaan hotee hai jab se daayabiteej hota e raid ho ya phir peeseeodee ho ya phir adars varses ho jaate hain theek hai to vah kaheen na kaheen usaka kameen kaaran spasht hota hai ki ham apanee laiph mein bahut jyaada chinta lete hain ya kisee cheej ko ya kisee baaton ko bahut baar sochate hain jis vajah se hamen vah problam ho jaatee hai khaasakar pheemel mein bahut jyaada kophee mein adhikatar kee cheejen dekhee jaatee hai ki laiph mein stres ke kaaran unako kuchh vajah se daayabiteej ho gaee thaayaraid ho gaya ya bahut jyaada sochatee hain kisee baat ko tum ko hee sab problam ho jaatee hai aur jisaka unako saamana karana padata hai theek hai ab to yah baat kaaphee had tak sach hai kyonki jitane bhee mainne jootee bhee ee-mel kee kaunsaling kee hai apane kariyar mein to adhikatar jo pheemels hai vah kisee na kisee reejan se unhonne bataaya hai ki laiph ke kuchh taim tak unako is trast tha jis taim pin kod aaeepeees ho gaya unako thaayaraid ho gaya unako peeseeodee ho gaya aur us taim peeriyad ki unakee laiph mein aane se pahale unako hee sab problam nahin thee to yah cheej prooph kar diya ki unaka jo beemaaree ka kaaran tha vah shakhs tha yah bahut jyaada ovar the na bahut jyaada kis cheej ko aap soch lo bahut jyaada sochana ek hota hai aap koee sukh kisee cheej ko soch rahe ho ab job kar rahe ho kya cheej ke baad mujhe yah karana hai bat ek cheej hotee hai ki aap kisee cheej mein doobee jao itana socho to jab eksatreem leval ka ham soch lete hain na to us taim par vah jo soochana hota hai hamaara vhaatsep hamaare ko thot samajh chinta mein badal jaate hain jo hamen bhee nahin pata chalata to usase bahut see problam ho jaatee hai usase karo jo dipreshan mein nahin lagate hain kuchh ko problam ho jaatee hai khud ko kuchh loot se rileted problam ho jaatee hai mental problam ho jaatee hai mental pees nahin milatee to sab bahut tarah kee problam ho jaatee hai kuchh helth rileted shooting kuchh mandalee shubh hote hain theek hai to vo aaeedentiphaee karana bahut mushkil hota hai bat yah baat sach hai ki jo beemaariyon ka men kaaran hota hai vah chinta hota hai jise kahaavat bhee hai ki chinta chita ke samaan hai to vah iseelie kahaavat banee hai kyonki chinta se adhikatar beemaariyon ko janm dene ka kaaran hee chinta hotee hai to is post ko aap main tyooshan ke throo kantrol bhee kar sakate hain to mere khyaal se ki har insaan ko main teshan ki too chinta ko kantrol karana chaahie is pres ab to pooree laiph tak aapake saath rahega kisee na kisee roop mein bat us ko kantrol karana bahut jarooree hai taaki beemaariyon ko door kar sake aur unase nijaat pa sake aur apana svasth jeevan ek jee sake to yah karana chaahie yah bahut jarooree hai

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
Tanvi  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tanvi जी का जवाब
Unknown
0:33
धाकड़ समाज का अस्तित्व से बीमारियां केवल चिंता करने से होती है तो जी हां जी हम कह सकते हैं जरूरी मशीन बीमारियों केवल जिंदा करने से होती है क्योंकि आप जो अपने हाथ से खेलते अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखेंगे उतनी बीमारियां आपको कम होगी और आप एक अच्छे स्वास्थ्य जिंदगी जी सकते लेकिन यदि ऐसा ना हो और आप चिंता करते हैं जिसे हम इंग्लिश में क्या कहते हैं तो आपको कई सारी मानसिक और शारीरिक बीमारियां होने की संभावना होती है
Dhaakad samaaj ka astitv se beemaariyaan keval chinta karane se hotee hai to jee haan jee ham kah sakate hain jarooree masheen beemaariyon keval jinda karane se hotee hai kyonki aap jo apane haath se khelate apane svaasthy ka khyaal rakhenge utanee beemaariyaan aapako kam hogee aur aap ek achchhe svaasthy jindagee jee sakate lekin yadi aisa na ho aur aap chinta karate hain jise ham inglish mein kya kahate hain to aapako kaee saaree maanasik aur shaareerik beemaariyaan hone kee sambhaavana hotee hai

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
0:58
नमस्कार आपका सवाल 181 पर्सेंट बीमारियां सेवन केवल चिंता करने से ही होती है आदि के दोस्त कुछ अब तक बात सही है कि काफी सारी बीमारियां ऐसी होती हैं जो चिंता के कारण लग जाते हैं कहते ना चिंता चिता समान होती है तो बात सही है लेकिन आपका यह कहना गलत है कि कश्ती फसल बीमा झांसी पर्सेंट बीमारी है चिंता की वजह से नहीं होती चिंता की वजह से नॉर्मल ही क्या होता है 20% बीमारी हो और वह भी डिप्रेशन कोई ज्यादा घातक बीमारी नहीं होती हर की बीमारी होती है जिसे डिप्रेशन हो गया मानसिक तनाव हो गया या कुछ और ऐसा रोग जैसे कि शरीर में खून की कमी हो जाना आदमी तनाव में चिंता में खाना पीना भूल जाता है जैसे भी कुछ बीमारियां जन्म लेती हैं लेकिन कहना गलत है कि प्रथम जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal 181 parsent beemaariyaan sevan keval chinta karane se hee hotee hai aadi ke dost kuchh ab tak baat sahee hai ki kaaphee saaree beemaariyaan aisee hotee hain jo chinta ke kaaran lag jaate hain kahate na chinta chita samaan hotee hai to baat sahee hai lekin aapaka yah kahana galat hai ki kashtee phasal beema jhaansee parsent beemaaree hai chinta kee vajah se nahin hotee chinta kee vajah se normal hee kya hota hai 20% beemaaree ho aur vah bhee dipreshan koee jyaada ghaatak beemaaree nahin hotee har kee beemaaree hotee hai jise dipreshan ho gaya maanasik tanaav ho gaya ya kuchh aur aisa rog jaise ki shareer mein khoon kee kamee ho jaana aadamee tanaav mein chinta mein khaana peena bhool jaata hai jaise bhee kuchh beemaariyaan janm letee hain lekin kahana galat hai ki pratham javaab achchha lagega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या 80% बीमारियां केवल चिंता करने से होती है?Kya 80 Percent Bimariya Keval Chinta Karne Se Hoti Hai
मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:28
दोस्तों सवाल है क्या सुप्रसिद्ध बीमारियां केवल चिंता करने से होती है तो दोस्तों या बिल्कुल सही बात है कि 80% जो बीमारियां हैं वह चिंता करने से ही होती हैं अगर आप चिंता नहीं करते हैं तो आप बिल्कुल स्वस्थ रहेंगे अगर आपको किसी प्रकार भी की भी चिंता होती है तो आप कितना भी खा ले आपके शरीर में नहीं लगेगा तो दोस्तों चिंता ही बीमारी का कारण बनती है धन्यवाद
Doston savaal hai kya suprasiddh beemaariyaan keval chinta karane se hotee hai to doston ya bilkul sahee baat hai ki 80% jo beemaariyaan hain vah chinta karane se hee hotee hain agar aap chinta nahin karate hain to aap bilkul svasth rahenge agar aapako kisee prakaar bhee kee bhee chinta hotee hai to aap kitana bhee kha le aapake shareer mein nahin lagega to doston chinta hee beemaaree ka kaaran banatee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तनाव और अवसाद में अंतर,अवसाद के उपचार,पतंजलि में डिप्रेशन की दवा
URL copied to clipboard