#जीवन शैली

bolkar speaker

आप लोग यह बताओ कि जो हमारे घर पर भीख मांगने वाले लोग आते हैं क्या वह सच में गरीब होते हैं क्या?

Aap Sab Log Yah Btao Ki Yah Jo Humare Ghar Par Bheekh Mangne Vaale Log Aate Hain Kya Vahe Sach Me Gareeb Hote Hain Kya
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:46
आप सब लोग यह बताओ कि यह जो हमारे घर पर भीख मांगने वाले लोग आते हैं क्या वह सच में गरीब होते हैं क्या दोस्तों आपको बता दें कि कुछ लोग तो है वास्तव में गरीब होते हैं और उनके पास कुछ नहीं होता है और वह भी मांग कर अपना गुजारा करते हैं उनको ठाकुर के बेटा जा सकता है क्या वहां पर कोई महिला को जबरदस्ती करके उनको जो भी गंदे होते तो आपको इन लोगों से लोगों को अपने घर से बाहर ही रखना उचित समझिए
Aap sab log yah batao ki yah jo hamaare ghar par bheekh maangane vaale log aate hain kya vah sach mein gareeb hote hain kya doston aapako bata den ki kuchh log to hai vaastav mein gareeb hote hain aur unake paas kuchh nahin hota hai aur vah bhee maang kar apana gujaara karate hain unako thaakur ke beta ja sakata hai kya vahaan par koee mahila ko jabaradastee karake unako jo bhee gande hote to aapako in logon se logon ko apane ghar se baahar hee rakhana uchit samajhie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आप लोग यह बताओ कि जो हमारे घर पर भीख मांगने वाले लोग आते हैं क्या वह सच में गरीब होते हैं क्या?Aap Sab Log Yah Btao Ki Yah Jo Humare Ghar Par Bheekh Mangne Vaale Log Aate Hain Kya Vahe Sach Me Gareeb Hote Hain Kya
Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
1:27
नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप सब लोग यह बताओ कि जो हमारे घर पर भीख मांगने वाले लोग आते हैं क्या वह सच में गरीब होते हैं क्या देखिए वर्तमान जो समय है यदि आपका हाथ पैर ठीक तरीके से काम करता है तो आप किसी ना किसी रोजी रोजगार से अपने पेट भरने लायक आमदनी कर सकते हैं या नहीं उतना आप कमा सकते हैं लेकिन आपका प्रश्न है कि भीख मांगने वाले सच में गरीब होते हैं क्या तो दो तरीके के होते हैं या तो उनको यही आदत पड़ गई है कि हमें इसे आसान अब कोई दूसरा काम नहीं है ताकि हम अपना रोजी रोजगार चला सके उनको यह साल लगता है कि किसी के दरवाजे पर जाओ मांगू खाओ दूसरे ऐसे लोग होते हैं कि जिनको या पेशा बन गया है जैसे बड़े-बड़े शहरों में आपने सुना होगा कि उनका यह पैसा है उनके लड़के जो है डॉक्टर इंजीनियर सब कुछ है लेकिन उनका यह पैसा है कि भीख मांगने मांग कर ही है अपना जीवन यापन करेंगे तो यह दो तरीके लेवल के लोग हैं जो उनका खानदानी आदत है जो कि भीख मांग रहे हैं और एक मजबूरन इस प्रकार के करते हैं उनके पास और कोई चारा नहीं है तो आशा करता हूं आपके इस प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा धन्य
Namaskaar aapaka prashn hai ki aap sab log yah batao ki jo hamaare ghar par bheekh maangane vaale log aate hain kya vah sach mein gareeb hote hain kya dekhie vartamaan jo samay hai yadi aapaka haath pair theek tareeke se kaam karata hai to aap kisee na kisee rojee rojagaar se apane pet bharane laayak aamadanee kar sakate hain ya nahin utana aap kama sakate hain lekin aapaka prashn hai ki bheekh maangane vaale sach mein gareeb hote hain kya to do tareeke ke hote hain ya to unako yahee aadat pad gaee hai ki hamen ise aasaan ab koee doosara kaam nahin hai taaki ham apana rojee rojagaar chala sake unako yah saal lagata hai ki kisee ke daravaaje par jao maangoo khao doosare aise log hote hain ki jinako ya pesha ban gaya hai jaise bade-bade shaharon mein aapane suna hoga ki unaka yah paisa hai unake ladake jo hai doktar injeeniyar sab kuchh hai lekin unaka yah paisa hai ki bheekh maangane maang kar hee hai apana jeevan yaapan karenge to yah do tareeke leval ke log hain jo unaka khaanadaanee aadat hai jo ki bheekh maang rahe hain aur ek majabooran is prakaar ke karate hain unake paas aur koee chaara nahin hai to aasha karata hoon aapake is prashn ka uttar mil gaya hoga dhany

bolkar speaker
आप लोग यह बताओ कि जो हमारे घर पर भीख मांगने वाले लोग आते हैं क्या वह सच में गरीब होते हैं क्या?Aap Sab Log Yah Btao Ki Yah Jo Humare Ghar Par Bheekh Mangne Vaale Log Aate Hain Kya Vahe Sach Me Gareeb Hote Hain Kya
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:36
की सच्चाई है कि कोरोना संक्रमण काल में भारत में बेरोजगारी बहुत ज्यादा बड़ी है भुखमरी बड़ी है गरीबी बढ़ी है क्योंकि भारत में आज उसको रोने से प्रमुख गाल में लोक डाउन लग जाने से केवल चार प्रकार के लोग सुखी है नंबर 1 क्रीमी अभिनेता अभिनेत्री नंबर दो भारत का अधिकारी वर्ग नंबर 3 भारत के नेता वर्ग और भारत का संपन्न व्यापारी वर्ग के चार ही सुखी है क्योंकि इनके पास देश का 80 परसेंट पैसा है जबकि देश का जो 80% गरीब तबका वर्ग है मेटल वर्क है उनके पास देश का केवल 29 परसेंट पैसा है कोई भी स्वाभिमानी कभी किसी के सामने हाथ फैलाना पसंद नहीं करता है सलमानी मर तो सकता है लेकिन कभी किसी के सामने हाथ फैलाना नहीं पसंद करता है वह तो केवल एक उस कंडीशन में ही आते ला सकता है जबकि उसके सभी जो विचार हैं जो सभी उपाय हैं वह सब फेल हो चुके हैं और वह * बहुत की कंडीशन में है क्योंकि कविता जी ने बहुत पहले मांगन मरण समान है मत मांगो कोई भी और मांग से मरना वाला यह सतगुरु पीसी तो ऐसे की संस्कृति में भी का इंसान कभी कम आता है जबकि उसके सारे उपाय फेल हो चुके हैं वह दोनों की कंडीशन पाया गया है एकदम बढ़ा लिया करो ना सुन काल में हमने यह महसूस किया कि बेरोजगारी के कारण जिन के परिवारों में चार चार बच्चे हैं अब वह बेचारी उसके कारण मांग भी नहीं सकते हैं सरकार उनको देती नहीं है क्योंकि सरकार में आप देखते हो कि राजनीतिक कितनी अच्छी है अधिकारी वर्ग में कितनी भ्रष्ट नेता कर्मचारी वर्ग में कितना इस पकोड़ी बसता है उसका बारे में ना मुझे कहना चाहिए ना आप को समझना चाहिए क्योंकि आप भी इसको रोज पिया ख्वाबों में टीवी पर देखते हैं परिणाम स्वरूप जो बेचारे को करीब जो जो सहायता के मोहताज हैं उनको भी संकोच के कारण मांग नहीं पाते हैं और सरकार होने देती नहीं है अब बताइए उनके पास क्या कंडीशन है क्योंकि मैं आर एस एस मेरा हूं क्योंकि मैंने लोगों को घर जा जाकर देखा है इस कोरोना संक्रमण काल में लोक डाउन लग जाने से बहुत से परिवारों की ऐसी हैंड टो माउथ कंडीशन देखी है जिनके घरों पर हम खाना पहुंचाने गए हैं जिनके घरों पर हमने जाट धर्म आदि के भेदभाव के बिना उनकी सहायता करने का प्रयास किया है उस हालात पर मैंने महसूस किया कि वास्तव में ही गरीबी है वास्तव में ही बेरोजगारी है वास्तव में यह दर्दनाक स्थिति है और मैं इस ऐप के माध्यम से आप से भी करवा दी यही अनुरोध करूंगा कि आप भी इस लॉकडाउन के काल में या कोरोना संक्रमण की काल में उन बेरोजगार भाइयों की उन गरीब भाइयों की अपने साथियों की अपने पड़ोसियों की हेल्प अवश्य करें यथा सामर्थ हेल्प करें जो वास्तव में सहायता के मोहताज हैं जिनके बच्चों को छू ले चलने की आस में बैठे रहते हैं जो जिनके घरों में चूल्हे ठंडे पड़े हुए हैं उनकी सहायता करेंगे यदि उनकी सहायता कर रहे हैं तो मान लीजिए कि आपने ईश्वर के लिए कोई कार्य किया है आप इस पर की भर्ती कर रहे हैं गरीबों की सहायता करना विचारों की सहायता करना लावारिस तो की सहायता करना ना तो की सहायता करना एक बहुत बड़ा पुण्य का कार्य है तलवारों के दो हजार चमचे मिल जाते हैं धनवान करोड़पति लखपति जितने भी अरबपति हैं उनके तो एक नहीं जा को चमके मिल जाते हैं इसकी ब्रांड मिल जाते हैं लेकिन अनाजों की गरीबों की बेसहारों की बेरोजगारों की जो सहायता करते हैं वही वास्तव में दीनबंधु होते हैं भगवान के भक्त होते हैं मैं आपसे यही अनुरोध करूंगा कि आपकी सहायता करें
Kee sachchaee hai ki korona sankraman kaal mein bhaarat mein berojagaaree bahut jyaada badee hai bhukhamaree badee hai gareebee badhee hai kyonki bhaarat mein aaj usako rone se pramukh gaal mein lok daun lag jaane se keval chaar prakaar ke log sukhee hai nambar 1 kreemee abhineta abhinetree nambar do bhaarat ka adhikaaree varg nambar 3 bhaarat ke neta varg aur bhaarat ka sampann vyaapaaree varg ke chaar hee sukhee hai kyonki inake paas desh ka 80 parasent paisa hai jabaki desh ka jo 80% gareeb tabaka varg hai metal vark hai unake paas desh ka keval 29 parasent paisa hai koee bhee svaabhimaanee kabhee kisee ke saamane haath phailaana pasand nahin karata hai salamaanee mar to sakata hai lekin kabhee kisee ke saamane haath phailaana nahin pasand karata hai vah to keval ek us kandeeshan mein hee aate la sakata hai jabaki usake sabhee jo vichaar hain jo sabhee upaay hain vah sab phel ho chuke hain aur vah * bahut kee kandeeshan mein hai kyonki kavita jee ne bahut pahale maangan maran samaan hai mat maango koee bhee aur maang se marana vaala yah sataguru peesee to aise kee sanskrti mein bhee ka insaan kabhee kam aata hai jabaki usake saare upaay phel ho chuke hain vah donon kee kandeeshan paaya gaya hai ekadam badha liya karo na sun kaal mein hamane yah mahasoos kiya ki berojagaaree ke kaaran jin ke parivaaron mein chaar chaar bachche hain ab vah bechaaree usake kaaran maang bhee nahin sakate hain sarakaar unako detee nahin hai kyonki sarakaar mein aap dekhate ho ki raajaneetik kitanee achchhee hai adhikaaree varg mein kitanee bhrasht neta karmachaaree varg mein kitana is pakodee basata hai usaka baare mein na mujhe kahana chaahie na aap ko samajhana chaahie kyonki aap bhee isako roj piya khvaabon mein teevee par dekhate hain parinaam svaroop jo bechaare ko kareeb jo jo sahaayata ke mohataaj hain unako bhee sankoch ke kaaran maang nahin paate hain aur sarakaar hone detee nahin hai ab bataie unake paas kya kandeeshan hai kyonki main aar es es mera hoon kyonki mainne logon ko ghar ja jaakar dekha hai is korona sankraman kaal mein lok daun lag jaane se bahut se parivaaron kee aisee haind to mauth kandeeshan dekhee hai jinake gharon par ham khaana pahunchaane gae hain jinake gharon par hamane jaat dharm aadi ke bhedabhaav ke bina unakee sahaayata karane ka prayaas kiya hai us haalaat par mainne mahasoos kiya ki vaastav mein hee gareebee hai vaastav mein hee berojagaaree hai vaastav mein yah dardanaak sthiti hai aur main is aip ke maadhyam se aap se bhee karava dee yahee anurodh karoonga ki aap bhee is lokadaun ke kaal mein ya korona sankraman kee kaal mein un berojagaar bhaiyon kee un gareeb bhaiyon kee apane saathiyon kee apane padosiyon kee help avashy karen yatha saamarth help karen jo vaastav mein sahaayata ke mohataaj hain jinake bachchon ko chhoo le chalane kee aas mein baithe rahate hain jo jinake gharon mein choolhe thande pade hue hain unakee sahaayata karenge yadi unakee sahaayata kar rahe hain to maan leejie ki aapane eeshvar ke lie koee kaary kiya hai aap is par kee bhartee kar rahe hain gareebon kee sahaayata karana vichaaron kee sahaayata karana laavaaris to kee sahaayata karana na to kee sahaayata karana ek bahut bada puny ka kaary hai talavaaron ke do hajaar chamache mil jaate hain dhanavaan karodapati lakhapati jitane bhee arabapati hain unake to ek nahin ja ko chamake mil jaate hain isakee braand mil jaate hain lekin anaajon kee gareebon kee besahaaron kee berojagaaron kee jo sahaayata karate hain vahee vaastav mein deenabandhu hote hain bhagavaan ke bhakt hote hain main aapase yahee anurodh karoonga ki aapakee sahaayata karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आप लोग पढ़ते हैं.. कोई भिखारी कैसे बनते है
URL copied to clipboard