#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?

Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:09
बाल पूछा गया है अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था तो देखिए महाराणा प्रताप ऐसे योद्धा थे जिनको अकबर ने राज्य ऑफर किया था अकबर ने कहा था कि आप मेरा जो जो एरिया आप चाहते हैं मैं बार बगैरा उसको आप खुद शासित करें बस आप मेरे अंडर में करें पर महाराणा प्रताप अपने देश भक्ति के लिए अपने मातृभूमि के प्रति प्रेम के लिए उन्होंने राज्य त्याग कर जंगलों में रहना स्वीकार किया और अकबर के खिलाफ हो अकबर को अपने देश से बाहर भगाने की हमेशा कोशिश करते रहे और अकबर महाराणा प्रताप से इसीलिए डरता था कि उन्हें अपनी मातृभूमि के प्रति इतना प्रेम था इतनी इज्जत थी कि वह कभी भी उनको खरीद नहीं सकता था जो सच्चा इंसान होता है और जो पूरी निष्ठा से किसी अपने देश के लिए काम करता है उस को हराना काफी मुश्किल होता है उसके अलावा महाराणा प्रताप का युद्ध कौशल जो है अकबर के लिए बहुत बड़ी परेशानी का सबब था और यही कारण है कि अकबर महाराणा प्रताप से डरता था उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Baal poochha gaya hai akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha to dekhie mahaaraana prataap aise yoddha the jinako akabar ne raajy ophar kiya tha akabar ne kaha tha ki aap mera jo jo eriya aap chaahate hain main baar bagaira usako aap khud shaasit karen bas aap mere andar mein karen par mahaaraana prataap apane desh bhakti ke lie apane maatrbhoomi ke prati prem ke lie unhonne raajy tyaag kar jangalon mein rahana sveekaar kiya aur akabar ke khilaaph ho akabar ko apane desh se baahar bhagaane kee hamesha koshish karate rahe aur akabar mahaaraana prataap se iseelie darata tha ki unhen apanee maatrbhoomi ke prati itana prem tha itanee ijjat thee ki vah kabhee bhee unako khareed nahin sakata tha jo sachcha insaan hota hai aur jo pooree nishtha se kisee apane desh ke lie kaam karata hai us ko haraana kaaphee mushkil hota hai usake alaava mahaaraana prataap ka yuddh kaushal jo hai akabar ke lie bahut badee pareshaanee ka sabab tha aur yahee kaaran hai ki akabar mahaaraana prataap se darata tha ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Barsan Banerjee Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Barsan जी का जवाब
Unknown
1:09
तुझी लोगों ने महाराणा प्रताप जो सीरियस है वह देखा है तो उनको जरूर पता होगा एक एक ऐसी महिला थी जिन्होंने बोल दिया था कि अगर अगर कभी भी इस तरह से लेकर महाराणा प्रताप के सामने जाएगा तो महाराणा प्रताप से उनकी मृत्यु निश्चित है तो यह बहुत बार गाड़ी भी दी गई है क्योंकि महाराणा प्रताप चाहते तो उन्हें पांच से छह बार में ही मार दे सकते थे या पहली बार भी मार सकते थे पर उन्होंने महारानी क्योंकि बहुत पर ऐसी कारण हुआ कि उनके पास ही रहते थे और सेकंड थे या अभी चलते जब वह नशा करते थे तब तो राजपूत एक नियम होता है कि शिवानी का सकते हैं चलो खैर कोई बात नहीं हुआ तो उसे नहीं मार सकते और यही इंसान को कभी मरते नहीं तो इस तरह से बहुत सारे कारण कुछ और ही मारता है बट अगर वह शस्त्र लेकर अगर कभी उनके सामने जाते तो महाराणा प्रताप सचमुच उनको एक बार में ढेर कर पाते इसलिए हमने कभी नहीं गए क्योंकि उन्होंने एक स्त्री जो सन्यासी होती है मैंने उसे बोला था कि अगर सामने कभी तुम्हारा प्रताप के पड़ गए तो तुम ऐसे ही मर जाओगे इसलिए महाराणा प्रताप का अकबर को महाराणा प्रताप अकबर महाराणा तब से कितना डरते थे
Tujhee logon ne mahaaraana prataap jo seeriyas hai vah dekha hai to unako jaroor pata hoga ek ek aisee mahila thee jinhonne bol diya tha ki agar agar kabhee bhee is tarah se lekar mahaaraana prataap ke saamane jaega to mahaaraana prataap se unakee mrtyu nishchit hai to yah bahut baar gaadee bhee dee gaee hai kyonki mahaaraana prataap chaahate to unhen paanch se chhah baar mein hee maar de sakate the ya pahalee baar bhee maar sakate the par unhonne mahaaraanee kyonki bahut par aisee kaaran hua ki unake paas hee rahate the aur sekand the ya abhee chalate jab vah nasha karate the tab to raajapoot ek niyam hota hai ki shivaanee ka sakate hain chalo khair koee baat nahin hua to use nahin maar sakate aur yahee insaan ko kabhee marate nahin to is tarah se bahut saare kaaran kuchh aur hee maarata hai bat agar vah shastr lekar agar kabhee unake saamane jaate to mahaaraana prataap sachamuch unako ek baar mein dher kar paate isalie hamane kabhee nahin gae kyonki unhonne ek stree jo sanyaasee hotee hai mainne use bola tha ki agar saamane kabhee tumhaara prataap ke pad gae to tum aise hee mar jaoge isalie mahaaraana prataap ka akabar ko mahaaraana prataap akabar mahaaraana tab se kitana darate the

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:39
महाराणा प्रताप से डरता दोस्त बताते हैं कि किसी विद्वान ने अखबार को बताया था एक दूसरे के सामने कभी नहीं आए और जब भी अकबर महाराणा प्रताप को समझाने के लिए एक ही चीज के लिए तो अपने जो दूध दे उन्हें बताया कि हल्दीघाटी का युद्ध हुआ उसमें भी अकबर श्याम लगाकर के मान सिंह को भेजा दोस्तों जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारत के इतिहास में माराणापरताब एकमात्र ऐसी योद्धा रहे हैं जिन्होंने कभी किसी मुगल बादशाह के आगे हार ने हल्दीघाटी के युद्ध के बाद तो अकबर इतना डर गया था कि वह सपने में भी महाराणा प्रताप के नाम से भी चौक जाता था पर पसीना पसीना हो जाता था इतिहासकार बताते हैं कि जब महाराणा प्रताप की मौत हुई तब अकबर बहुत रोया था दोस्तों भारत के इतिहास में महाराणा प्रताप हल्दीघाटी के युद्ध के लिए भी प्रसिद्ध है 1576 के हल्दीघाटी युद्ध में 20000 राजपूतों के साथ लेकर के प्रताप ने लड़की के साथ सामना किया और मैच मुट्ठी भर राजपूत अकबर जरूर घबरा गया था उस विद्वान की कई बातों को लेकर के कि जिस दिन वो महाराणा प्रताप के सामने चले जाएंगे उनकी मौत हो जाए इसी वजह से अकबर ना प्रताप सर्कल हर चीज में महाराणा प्रताप अकबर से बैटरी
Mahaaraana prataap se darata dost bataate hain ki kisee vidvaan ne akhabaar ko bataaya tha ek doosare ke saamane kabhee nahin aae aur jab bhee akabar mahaaraana prataap ko samajhaane ke lie ek hee cheej ke lie to apane jo doodh de unhen bataaya ki haldeeghaatee ka yuddh hua usamen bhee akabar shyaam lagaakar ke maan sinh ko bheja doston jaanakaaree ke lie aapako bata den ki bhaarat ke itihaas mein maaraanaaparataab ekamaatr aisee yoddha rahe hain jinhonne kabhee kisee mugal baadashaah ke aage haar ne haldeeghaatee ke yuddh ke baad to akabar itana dar gaya tha ki vah sapane mein bhee mahaaraana prataap ke naam se bhee chauk jaata tha par paseena paseena ho jaata tha itihaasakaar bataate hain ki jab mahaaraana prataap kee maut huee tab akabar bahut roya tha doston bhaarat ke itihaas mein mahaaraana prataap haldeeghaatee ke yuddh ke lie bhee prasiddh hai 1576 ke haldeeghaatee yuddh mein 20000 raajapooton ke saath lekar ke prataap ne ladakee ke saath saamana kiya aur maich mutthee bhar raajapoot akabar jaroor ghabara gaya tha us vidvaan kee kaee baaton ko lekar ke ki jis din vo mahaaraana prataap ke saamane chale jaenge unakee maut ho jae isee vajah se akabar na prataap sarkal har cheej mein mahaaraana prataap akabar se baitaree

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:02
आपका सवाल है कि अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था तो हल्दीघाटी के युद्ध में ब्लॉक खान को माना प्रताप ने उनके घोड़े समेत काट दिया था और इसके बाद अकबर महाराणा प्रताप से इतना डर गया कि वह रात को सोते हुए इसके पसीने पसीने हो जाते थे अकबर इतना डर गया कि खासकर राणा की युद्ध कौशल देखकर हुए सपने में भी राम के नाम पर चौक जाता था वह पसीना पसीना हो जाता था यही नहीं लंबे समय तक राणा की तलवार अकबर के मन मैं डर के रूप में बैठ गई थी अकबर इतना शर्मा हुआ था कि ने अपनी राजधानी पहले और बाद में राणा की मृत्यु के बाद में आगरा जाने का फैसला किया था और आज महाराणा प्रताप जी की पुण्यतिथि हैं धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha to haldeeghaatee ke yuddh mein blok khaan ko maana prataap ne unake ghode samet kaat diya tha aur isake baad akabar mahaaraana prataap se itana dar gaya ki vah raat ko sote hue isake paseene paseene ho jaate the akabar itana dar gaya ki khaasakar raana kee yuddh kaushal dekhakar hue sapane mein bhee raam ke naam par chauk jaata tha vah paseena paseena ho jaata tha yahee nahin lambe samay tak raana kee talavaar akabar ke man main dar ke roop mein baith gaee thee akabar itana sharma hua tha ki ne apanee raajadhaanee pahale aur baad mein raana kee mrtyu ke baad mein aagara jaane ka phaisala kiya tha aur aaj mahaaraana prataap jee kee punyatithi hain dhanyavaad

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था तो फ्रेंड से महाराणा प्रताप बहुत ही अच्छे शक्तिशाली शासक थे उन्होंने अकबर की अधीनता स्वीकार नहीं की थी तथा युद्ध करना स्वीकार किया था अकबर नेता राज्य विस्तार किया तो यह महाराणा प्रताप को अपने राज में मिलाना चाहते थे लेकिन महाराणा प्रताप ने उनकी गुलामी नहीं स्वीकार की वह युद्ध करना स्वीकार किया और उनके बीच में युद्ध हुआ जो हल्दीघाटी के युद्ध के नाम से प्रसिद्ध है तो इसीलिए अकबर उसके प्रताप से बहुत ही ज्यादा डरता था धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha to phrend se mahaaraana prataap bahut hee achchhe shaktishaalee shaasak the unhonne akabar kee adheenata sveekaar nahin kee thee tatha yuddh karana sveekaar kiya tha akabar neta raajy vistaar kiya to yah mahaaraana prataap ko apane raaj mein milaana chaahate the lekin mahaaraana prataap ne unakee gulaamee nahin sveekaar kee vah yuddh karana sveekaar kiya aur unake beech mein yuddh hua jo haldeeghaatee ke yuddh ke naam se prasiddh hai to iseelie akabar usake prataap se bahut hee jyaada darata tha dhanyavaad

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Usha Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Usha जी का जवाब
Housewife
0:34
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था राणा प्रताप शुरू से ही जनता के शासक थे उनके लिए अपने राज्य और अपनी प्रजा से बढ़कर कुछ नहीं था जब बादशाह अकबर ने प्रताप को मेवाड़ मुगल सल्तनत में मिलान को कहा तो महाराणा प्रताप ने समझौता नहीं युद्ध करना स्वीकार किया अकबर और महाराणा प्रताप के बीच का युद्ध हल्दीघाटी की लड़ाई के नाम से प्रसिद्ध है धन्यवाद
Akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha raana prataap shuroo se hee janata ke shaasak the unake lie apane raajy aur apanee praja se badhakar kuchh nahin tha jab baadashaah akabar ne prataap ko mevaad mugal saltanat mein milaan ko kaha to mahaaraana prataap ne samajhauta nahin yuddh karana sveekaar kiya akabar aur mahaaraana prataap ke beech ka yuddh haldeeghaatee kee ladaee ke naam se prasiddh hai dhanyavaad

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:03
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों महाराणा प्रताप हल्दीघाटी में जो युद्ध हुआ या महाराणा प्रताप निश्चित तौर पर जिस तरह से उन्होंने राजपूतों के साम्राज्य को संभाला और अकबर को नाकों चने चबा दिया और चाहे वह हल्दीघाटी के युद्ध के बाद जब उनके पास रिसोर्सेज कम हो गए चाहे वो कहते हैं कि घास की रोटियां खाई लेकिन उसने अपना विश्वास देखने नहीं दिया अपने अंदर बार विश्वास और अपने अंदर जुनून है तो ऐसे सिरफिरे लोगों से तो अकबर जैसा महान साम्राज्य की दरगाह जहां राजपूताना शान थे महाराणा प्रताप और राजपूतों के लिए एक उदाहरण थे और भारतीय इतिहास के ऐसे सूरमा थे जो अकबर जैसे नवंबर को महिमामंडित लोगों ने किया हुआ है बहुत सारे जगहों पर रब महिमामंडित कर दिया लेकिन वह प्रशासन कितना अच्छा ग्रेट कहते हैं लेकिन मैं नहीं मानता हूं और निश्चित तौर पर महाराणा प्रताप का युद्ध निश्चित है उसका प्रशासनिक स्तर तक चल छोटे स्तर के ही राजा रहे हो लेकिन राजपूतों की शांति और भारतीय इतिहास में उनका नाम हमेशा गौरवशाली रहा है और निश्चित तौर पर स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाता है उनका नाम रणथंबोर का स्तंभ है और भी चीजें हैं आज महाराणा प्रताप की जन्मस्थली जाते हैं और आना मॉडल महा उदयपुर के आगे जो किला है उसको आप देखेंगे तो आपको लगेगा कि किस तरह का स्ट्रक्चर किया गया और कैसे बनाया गया है और शायद कल्पना नहीं कर सकते हैं और स्त्री पुरुष के लिंग को अकबर का भी पता नहीं कर पाया था
Akabar mahaaraana prataap se darata kyon mahaaraana prataap haldeeghaatee mein jo yuddh hua ya mahaaraana prataap nishchit taur par jis tarah se unhonne raajapooton ke saamraajy ko sambhaala aur akabar ko naakon chane chaba diya aur chaahe vah haldeeghaatee ke yuddh ke baad jab unake paas risorsej kam ho gae chaahe vo kahate hain ki ghaas kee rotiyaan khaee lekin usane apana vishvaas dekhane nahin diya apane andar baar vishvaas aur apane andar junoon hai to aise siraphire logon se to akabar jaisa mahaan saamraajy kee daragaah jahaan raajapootaana shaan the mahaaraana prataap aur raajapooton ke lie ek udaaharan the aur bhaarateey itihaas ke aise soorama the jo akabar jaise navambar ko mahimaamandit logon ne kiya hua hai bahut saare jagahon par rab mahimaamandit kar diya lekin vah prashaasan kitana achchha gret kahate hain lekin main nahin maanata hoon aur nishchit taur par mahaaraana prataap ka yuddh nishchit hai usaka prashaasanik star tak chal chhote star ke hee raaja rahe ho lekin raajapooton kee shaanti aur bhaarateey itihaas mein unaka naam hamesha gauravashaalee raha hai aur nishchit taur par svarn aksharon mein likha jaata hai unaka naam ranathambor ka stambh hai aur bhee cheejen hain aaj mahaaraana prataap kee janmasthalee jaate hain aur aana modal maha udayapur ke aage jo kila hai usako aap dekhenge to aapako lagega ki kis tarah ka strakchar kiya gaya aur kaise banaaya gaya hai aur shaayad kalpana nahin kar sakate hain aur stree purush ke ling ko akabar ka bhee pata nahin kar paaya tha

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
डॉ0 सीता शुक्ला Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डॉ0 जी का जवाब
Unknown
1:30
मित्र नमस्कार आपका प्रश्न है अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था तो मित्र भारतीय इतिहास में 18 जून सन 1576 में हल्दीघाटी के युद्ध में मेवाड़ के राणा प्रताप ने मात्र 20000 राजपूतों को लेकर अकबर अकबर की विशाल सेना का सामना करके मुगलों के छक्के छुड़ा दिए थे अकबर की सेना में हाथियों की संख्या बहुत थी और महाराणा प्रताप की सेना में घोड़ों की संख्या बहुत थी यह युद्ध लगभग 4 घंटे तक चला चलता रहा था और इस युद्ध में किसी की भी जीत नहीं हुई थी ऐसा कहा जाता है कि और कुछ लोगों का मानना है कि हल्दीघाटी के युद्ध के बाद महाराणा प्रताप जमीनों के पट्टे जारी करते रहे हैं इसका मतलब तो यह हुआ कि महाराणा प्रताप की जीत हुई थी यह बुद्धि जो है वह आज तक सुलझी हुई है उल्टी हुई है इसमें जानमाल का बहुत नुकसान भी हुआ था इस भीषण युद्ध में 18000 सैनिकों की मृत्यु हुई थी और वहां पर इतना रक्त बहा था कि वहां का नाम ही रक्त तलाई पड़ गया महाराणा प्रताप युद्ध कौशल को देखकर अकबर इतना डर गए थे कि उन्हें स्वप्न में भी महाराणा का नाम सुनकर वह चौक जाते थे और वह पसीना पसीना हो जाते थे महाराणा प्रताप के जीते जी अकबर कभी भी उनका राज्य नहीं ले सके धन्यवाद
Mitr namaskaar aapaka prashn hai akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha to mitr bhaarateey itihaas mein 18 joon san 1576 mein haldeeghaatee ke yuddh mein mevaad ke raana prataap ne maatr 20000 raajapooton ko lekar akabar akabar kee vishaal sena ka saamana karake mugalon ke chhakke chhuda die the akabar kee sena mein haathiyon kee sankhya bahut thee aur mahaaraana prataap kee sena mein ghodon kee sankhya bahut thee yah yuddh lagabhag 4 ghante tak chala chalata raha tha aur is yuddh mein kisee kee bhee jeet nahin huee thee aisa kaha jaata hai ki aur kuchh logon ka maanana hai ki haldeeghaatee ke yuddh ke baad mahaaraana prataap jameenon ke patte jaaree karate rahe hain isaka matalab to yah hua ki mahaaraana prataap kee jeet huee thee yah buddhi jo hai vah aaj tak sulajhee huee hai ultee huee hai isamen jaanamaal ka bahut nukasaan bhee hua tha is bheeshan yuddh mein 18000 sainikon kee mrtyu huee thee aur vahaan par itana rakt baha tha ki vahaan ka naam hee rakt talaee pad gaya mahaaraana prataap yuddh kaushal ko dekhakar akabar itana dar gae the ki unhen svapn mein bhee mahaaraana ka naam sunakar vah chauk jaate the aur vah paseena paseena ho jaate the mahaaraana prataap ke jeete jee akabar kabhee bhee unaka raajy nahin le sake dhanyavaad

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:36
अकबर महाराणा प्रताप से क्यों डरता क्यों डरते थे अकबर एक उस वक्त के एक बड़े साम्राज्य के राजा थे शहंशाह थी फिर भी वह महाराणा प्रताप से डरते थे क्योंकि महाराणा प्रताप जो थे को महाराणा प्रताप उस समय का सबसे बड़ा पूरे जगत में साम्राज्य औरंगजेब का था उस वक्तव्य औरंगजेब छत्रपति शिवाजी महाराज से डरता था शिवा छत्रपति शिवाजी महाराज थे वैसे क्या बात थी अलग इसको हम समझ लेना चाहिए यह दोनों जो भी है वह स्वाभिमानी व्यक्ति थे यह महत्वपूर्ण बात है इसमें और वो चाहते थे कि बाहर से आए हुए किसी भी शासन करता था शासन हमारे देश में या हमारा जो प्रदेश एवं समय राज्य हुआ करते थे तो नहीं होना चाहिए और स्वतंत्रता उनके लिए सबसे बड़ी चीज दी है आज भी स्वतंत्रता कितनी बड़ी चीज है लोगों का अनुभव हो रहा है और आगे जाकर स्वतंत्रता पर खत्म हो गई तो किन-किन चीजों से हमें किचन को हमें एक होना पड़ेगा यह भी कुछ लोगों के समझ में आ रहा है तो महाराणा प्रताप ऐसे व्यक्तित्व था जो मुगल घर आना था उमंगो लाइट मंगोलिया से आया हुआ था आक्रमणकारी घर आना था उसका वो एक मूल संस्था पहले बाहर आया था वह भी विदेशी था व्हाट्सएप आती है कि महाराणा प्रताप राजपूत थे और राजा को ही उस वक्त वर्ण व्यवस्था के अनुसार राजपूत राज्य हुआ करते थे क्षत्रिय हुआ करती थी अक्षत यह जो है उनके कुछ तत्व होते थे जैसे प्राण जाए पर वचन न जाए इस तरीके के कुछ उनके दांत होते थे और वह मर सकती थी लेकिन ऐसे कुछ जो यह वह उनके सामने झुक नहीं सकती थी और यही जो चीज है वह उसने महाराणा प्रताप ने पूरे उसके राज्य में है कि लोगों में निर्माण की थी वह चेतना स्वतंत्रता की चेतना यहां तक कि उसका जो घोड़ा था उसकी कहानी भी बताई जाती है आज भी रोमांचित करने वाली वह कहानी है चेतक का मकबरा लकवा कोई वह समाधि स्थान है वह कहा जाता है इसी तरह से छत्रपति शिवाजी महाराज महाराष्ट्र में भूमि भूमि पुत्रों का एक राज्य निर्माण करने के लिए उन्हें वह चेतना उन्होंने लाए थे और औरंगजेब को भी वापस महाराष्ट्र से जाना पड़ा और जाते वक्त व महाराष्ट्र के अंदर ही पूरा होकर मर गया एक महाराष्ट्र को जिसने पाया तो ऐसी बातें होती बाबा के होती है कुछ यादगार बन जाती है और इसमें इतिहास भी उसको सलाम करता है वैसा ही तो टीपू सुल्तान का भी अधिक रहे और कुछ लोग ऐसे चरित्र हुए हैं भारत में भी धन्यवाद
Akabar mahaaraana prataap se kyon darata kyon darate the akabar ek us vakt ke ek bade saamraajy ke raaja the shahanshaah thee phir bhee vah mahaaraana prataap se darate the kyonki mahaaraana prataap jo the ko mahaaraana prataap us samay ka sabase bada poore jagat mein saamraajy aurangajeb ka tha us vaktavy aurangajeb chhatrapati shivaajee mahaaraaj se darata tha shiva chhatrapati shivaajee mahaaraaj the vaise kya baat thee alag isako ham samajh lena chaahie yah donon jo bhee hai vah svaabhimaanee vyakti the yah mahatvapoorn baat hai isamen aur vo chaahate the ki baahar se aae hue kisee bhee shaasan karata tha shaasan hamaare desh mein ya hamaara jo pradesh evan samay raajy hua karate the to nahin hona chaahie aur svatantrata unake lie sabase badee cheej dee hai aaj bhee svatantrata kitanee badee cheej hai logon ka anubhav ho raha hai aur aage jaakar svatantrata par khatm ho gaee to kin-kin cheejon se hamen kichan ko hamen ek hona padega yah bhee kuchh logon ke samajh mein aa raha hai to mahaaraana prataap aise vyaktitv tha jo mugal ghar aana tha umango lait mangoliya se aaya hua tha aakramanakaaree ghar aana tha usaka vo ek mool sanstha pahale baahar aaya tha vah bhee videshee tha vhaatsep aatee hai ki mahaaraana prataap raajapoot the aur raaja ko hee us vakt varn vyavastha ke anusaar raajapoot raajy hua karate the kshatriy hua karatee thee akshat yah jo hai unake kuchh tatv hote the jaise praan jae par vachan na jae is tareeke ke kuchh unake daant hote the aur vah mar sakatee thee lekin aise kuchh jo yah vah unake saamane jhuk nahin sakatee thee aur yahee jo cheej hai vah usane mahaaraana prataap ne poore usake raajy mein hai ki logon mein nirmaan kee thee vah chetana svatantrata kee chetana yahaan tak ki usaka jo ghoda tha usakee kahaanee bhee bataee jaatee hai aaj bhee romaanchit karane vaalee vah kahaanee hai chetak ka makabara lakava koee vah samaadhi sthaan hai vah kaha jaata hai isee tarah se chhatrapati shivaajee mahaaraaj mahaaraashtr mein bhoomi bhoomi putron ka ek raajy nirmaan karane ke lie unhen vah chetana unhonne lae the aur aurangajeb ko bhee vaapas mahaaraashtr se jaana pada aur jaate vakt va mahaaraashtr ke andar hee poora hokar mar gaya ek mahaaraashtr ko jisane paaya to aisee baaten hotee baaba ke hotee hai kuchh yaadagaar ban jaatee hai aur isamen itihaas bhee usako salaam karata hai vaisa hee to teepoo sultaan ka bhee adhik rahe aur kuchh log aise charitr hue hain bhaarat mein bhee dhanyavaad

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
Ankit Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Student
0:55
हां नमस्कार सबको मेरा नाम है कि सिंह राजपूत क्वेश्चन है अकबर महाराणा प्रताप से क्यों डरता था तो देखिए एक घटना थी जब हल्दीघाटी के युद्ध चल रही थी उसमें एक पाल ऑल कहां एक अकबर की तरफ से सेनापति था तू जब अकबर से भिड़ा जब महाराणा प्रताप से गिरा था महाराणा प्रताप और बालोतरा के युद्ध में महाराणा प्रताप ने मलखान को उसके शरीर को दो टुकड़े में उससे घोड़े सहित दो टुकड़े में विभाजित कर दिया था सिर्फ एक ही बार से यह घटना देखकर वहां के आसपास के सैनिक कितने दहशत में हो गए थे कि महाराणा प्रताप के करीब जाने की कीमत में क्या रखें अकबर भी इस घटना से लेकर को लेकर इतनी दहशत में था के मार्फत आपके सामने कभी जीवन में शामिल हुई है उसे सिर्फ सेनापतियों को ही लड़ने के लिए भेजा थैंक यू
Haan namaskaar sabako mera naam hai ki sinh raajapoot kveshchan hai akabar mahaaraana prataap se kyon darata tha to dekhie ek ghatana thee jab haldeeghaatee ke yuddh chal rahee thee usamen ek paal ol kahaan ek akabar kee taraph se senaapati tha too jab akabar se bhida jab mahaaraana prataap se gira tha mahaaraana prataap aur baalotara ke yuddh mein mahaaraana prataap ne malakhaan ko usake shareer ko do tukade mein usase ghode sahit do tukade mein vibhaajit kar diya tha sirph ek hee baar se yah ghatana dekhakar vahaan ke aasapaas ke sainik kitane dahashat mein ho gae the ki mahaaraana prataap ke kareeb jaane kee keemat mein kya rakhen akabar bhee is ghatana se lekar ko lekar itanee dahashat mein tha ke maarphat aapake saamane kabhee jeevan mein shaamil huee hai use sirph senaapatiyon ko hee ladane ke lie bheja thaink yoo

bolkar speaker
अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था?Akhbar Maharana Pratap Se Drta Kyun Tha
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:01
आपका प्रश्न एक अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था अकबर जो था उसकी अपनी परिस्थितियों की महाराणा प्रताप की परिस्थितियां अकबर इस देश में अपना विस्तार चाहता था समझे अपना और राजपूत उसके सामने एक एक करके थे झुकाते जा रहे थे लेकिन राणा प्रताप उन राजपूतों के विपरीत या लेके उसके राणा प्रताप जी के परिवार में भी उनके विरोधी हो गए थे वह एक महान वीर थे संध्या अपना और विराट सेनानी थे बहुत बड़ी व्यक्तित्व के सेनानी थे और निश्चित था कि अगर अकबर उनके अपने इलाके में जाता जो उदयपुर कुंभलगढ़ का इलाका है तो वह आसानी से जिंदा वापस लौट पाते कहना कठिन है कि हार जीत किसकी होती यह तो कहना कठिन जैसे हल्दीघाटी के युद्ध के बारे में अभी तक अंतिम रूप से कुछ भी नहीं कहा गया हालांकि हल्दीघाटी से नीचे उतर के बाद शाहीबाग और बादशाही बाग से भी और नीचे उतरकर के राणा प्रताप ने रक्त तलाई में युद्ध किया और चेतक के घायल होने के बाद भाग्य समझे आपने तो उनकी वीरता का जो कौशल था वह जबरदस्त था और अकबर जानता था कि जो राजपूत हैं वह जीवन मरण को उतना वैल्यू नहीं देते जितना सम्मान को अकबर जीना चाहता था सम्मान के साथ और राणा प्रताप सम्मान के साथ जीना चाहते थे लेकिन अंतर दोनों में क्या था कि अकबर सम्मान के साथ जो जीवन जीना चाहता था राणा प्रताप के लिए वह सम्मान जीवन और मरण से भी बड़ा था अध्यापन इसीलिए उसने है और राजपूतों का उपयोग करके अकबर अकबर ने महाराणा प्रताप को हराने की चेष्टा की हल्दीघाटी के युद्ध का प्रमाण रहा वहां अगर थोड़ी से राजपूत उनके साथ आ गए होते तो शायद इस देश का इतिहास कुछ दूसरा ही होता है ना तो राणा प्रताप की जो अपनी ताकत थी जो धर्म युद्ध की मानसिकता थी जो संवेदनशीलता थी उसके कारण वे अब्दुल रहीम खानखाना के बच्चों तक उन्होंने सुरक्षित वापस लौट आया था तो अकबर हर तरह से उनसे इस कारण भयभीत रहता था और उसे एक ही भी था कि राणा प्रताप से कभी उनकी खा गया तो भारत में बाकी जो राजपूत में छुपाए बैठे थे उसके सामने इन्होंने अपनी हार मान ली थी वह फिर से उठा देते और अकबर को विकट परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है इसीलिए अकबर राणा प्रताप को बहुत ज्यादा छेड़ने की कोशिश नहीं की मेरे विचार से थे
Aapaka prashn ek akabar mahaaraana prataap se darata kyon tha akabar jo tha usakee apanee paristhitiyon kee mahaaraana prataap kee paristhitiyaan akabar is desh mein apana vistaar chaahata tha samajhe apana aur raajapoot usake saamane ek ek karake the jhukaate ja rahe the lekin raana prataap un raajapooton ke vipareet ya leke usake raana prataap jee ke parivaar mein bhee unake virodhee ho gae the vah ek mahaan veer the sandhya apana aur viraat senaanee the bahut badee vyaktitv ke senaanee the aur nishchit tha ki agar akabar unake apane ilaake mein jaata jo udayapur kumbhalagadh ka ilaaka hai to vah aasaanee se jinda vaapas laut paate kahana kathin hai ki haar jeet kisakee hotee yah to kahana kathin jaise haldeeghaatee ke yuddh ke baare mein abhee tak antim roop se kuchh bhee nahin kaha gaya haalaanki haldeeghaatee se neeche utar ke baad shaaheebaag aur baadashaahee baag se bhee aur neeche utarakar ke raana prataap ne rakt talaee mein yuddh kiya aur chetak ke ghaayal hone ke baad bhaagy samajhe aapane to unakee veerata ka jo kaushal tha vah jabaradast tha aur akabar jaanata tha ki jo raajapoot hain vah jeevan maran ko utana vailyoo nahin dete jitana sammaan ko akabar jeena chaahata tha sammaan ke saath aur raana prataap sammaan ke saath jeena chaahate the lekin antar donon mein kya tha ki akabar sammaan ke saath jo jeevan jeena chaahata tha raana prataap ke lie vah sammaan jeevan aur maran se bhee bada tha adhyaapan iseelie usane hai aur raajapooton ka upayog karake akabar akabar ne mahaaraana prataap ko haraane kee cheshta kee haldeeghaatee ke yuddh ka pramaan raha vahaan agar thodee se raajapoot unake saath aa gae hote to shaayad is desh ka itihaas kuchh doosara hee hota hai na to raana prataap kee jo apanee taakat thee jo dharm yuddh kee maanasikata thee jo sanvedanasheelata thee usake kaaran ve abdul raheem khaanakhaana ke bachchon tak unhonne surakshit vaapas laut aaya tha to akabar har tarah se unase is kaaran bhayabheet rahata tha aur use ek hee bhee tha ki raana prataap se kabhee unakee kha gaya to bhaarat mein baakee jo raajapoot mein chhupae baithe the usake saamane inhonne apanee haar maan lee thee vah phir se utha dete aur akabar ko vikat paristhitiyon ka saamana karana padata hai iseelie akabar raana prataap ko bahut jyaada chhedane kee koshish nahin kee mere vichaar se the

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अकबर महाराणा प्रताप से डरता क्यों था अकबर महाराणा प्रताप
URL copied to clipboard