#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?

Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
1:20
प्रश्न है मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए अक्सर आप देखते हैं कि जब आप गहरी निंद्रा में होते हैं तो आपको अपने आप ही कोई सपना आ जाता है जब आप सुबह उठते हैं तो आप चले जनक होते हैं और काफी बार नहीं भी होती है क्योंकि अक्सर जब सपना हम देखते हैं तो जो भी हम दिन भर सोते हैं उसी से संबंधित हमें सिर्फ अपना जो है देखने को मिलता है लेकिन वह होता है कि मनुष्य के बस में बिल्कुल भी नहीं होता उसे मनुष्य अपने अनुसार नियंत्रित नहीं कर सकता और सपना बदल नहीं सकता लेकिन जब हम खुली आंखों से कोई सपना देखते हैं जब हम एक उद्देश्य बनाते हैं और हम यह सोच लेते हैं कि हमें उस पर ही अग्रसर होना है तो ऐसे में सपना देखना जरूरी होता है लेकिन वह सपना अगर खुली आंखों से आपने देखा है और उसे पूरा करने का निश्चय किया है तो यह बड़ी ही अच्छी बात होती है क्योंकि मनुष्य जब सपना देखता है मन में किसी तरह की कल्पना करता है और यह सोचता है कि मुझे यह कार्य पूरा करना है और मुझे इस में सफलता हासिल करनी है तो ऐसे में मनुष्य के लिए सपना देखना बेहद अच्छा साबित हो सकता है और बाद में वह यह सोच कर भी खुश हो सकता है कि अगर उसने सपना ना देखा होता तो आज वह जिंदगी में शायद इतना आगे ना बढ़ पाता धन्यवाद
Prashn hai manushy ko sapana kyon dekhana chaahie aksar aap dekhate hain ki jab aap gaharee nindra mein hote hain to aapako apane aap hee koee sapana aa jaata hai jab aap subah uthate hain to aap chale janak hote hain aur kaaphee baar nahin bhee hotee hai kyonki aksar jab sapana ham dekhate hain to jo bhee ham din bhar sote hain usee se sambandhit hamen sirph apana jo hai dekhane ko milata hai lekin vah hota hai ki manushy ke bas mein bilkul bhee nahin hota use manushy apane anusaar niyantrit nahin kar sakata aur sapana badal nahin sakata lekin jab ham khulee aankhon se koee sapana dekhate hain jab ham ek uddeshy banaate hain aur ham yah soch lete hain ki hamen us par hee agrasar hona hai to aise mein sapana dekhana jarooree hota hai lekin vah sapana agar khulee aankhon se aapane dekha hai aur use poora karane ka nishchay kiya hai to yah badee hee achchhee baat hotee hai kyonki manushy jab sapana dekhata hai man mein kisee tarah kee kalpana karata hai aur yah sochata hai ki mujhe yah kaary poora karana hai aur mujhe is mein saphalata haasil karanee hai to aise mein manushy ke lie sapana dekhana behad achchha saabit ho sakata hai aur baad mein vah yah soch kar bhee khush ho sakata hai ki agar usane sapana na dekha hota to aaj vah jindagee mein shaayad itana aage na badh paata dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:40
नमस्कार साथियों सवाल है मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए तो साथियों अपने मन की एक विशेष अवस्था होते हैं जिसमें वास्तविकता का आभास होता है स्वप्न न तो जागृत अवस्था में आता है ना तो निद्रा में बल्कि यह दोनों के बीच तुरिया अवस्था में आता है साथियों सपनों के आने के पीछे खानपान और बीमारियों की बड़ी भूमिका होती है इसके पीछे ग्रह और राशियों को भी जिम्मेदार माना जाता है आई होप कि जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Namaskaar saathiyon savaal hai manushy ko sapana kyon dekhana chaahie to saathiyon apane man kee ek vishesh avastha hote hain jisamen vaastavikata ka aabhaas hota hai svapn na to jaagrt avastha mein aata hai na to nidra mein balki yah donon ke beech turiya avastha mein aata hai saathiyon sapanon ke aane ke peechhe khaanapaan aur beemaariyon kee badee bhoomika hotee hai isake peechhe grah aur raashiyon ko bhee jimmedaar maana jaata hai aaee hop ki javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न मनुष्य को सपना क्यों नहीं सोना चाहिए तो फ्रेंड से जब मनुष्य अपना देखता है कोई चीज की कल्पना करता है मन में विचार बनाता है तभी वह पूरा होता है तो मनुष्य को सपने देखते रहना चाहिए सपने देखने से हमारे घर भी पूरे हो जाते हैं जैसा सपना देखती है फिर उस कार्य को करने की कोशिश करते हैं इसीलिए हम जैसा सपना देखते हैं उसको कार्य को कोशिश पूरी करने में सपने को झुक जाते हैं और इसलिए सपना देखना जरूरी होता है तो फ्रेंड्स जॉब पसंद आए तो लाइक करें धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn manushy ko sapana kyon nahin sona chaahie to phrend se jab manushy apana dekhata hai koee cheej kee kalpana karata hai man mein vichaar banaata hai tabhee vah poora hota hai to manushy ko sapane dekhate rahana chaahie sapane dekhane se hamaare ghar bhee poore ho jaate hain jaisa sapana dekhatee hai phir us kaary ko karane kee koshish karate hain iseelie ham jaisa sapana dekhate hain usako kaary ko koshish pooree karane mein sapane ko jhuk jaate hain aur isalie sapana dekhana jarooree hota hai to phrends job pasand aae to laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:47
नमस्ते आपका क्वेश्चन है मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए देखिए यह बात सच है कि सिर्फ सपने देखने से ड्रीम देखने से किसी भी आदमी का काम या लक्ष्य की पूर्ति नहीं होती है लेकिन हां आपके सपने आपके लक्ष्य को पूरा करने की पहली चिट्ठी जरूर है आप सपने को देखिए जरूर लेकिन आप उस लक्ष्य को पूरा करने के लिए आप एक प्लानिंग बनाई है तू उस सपने की वैल्यू रहेगी बात बस इतनी सी है किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए सपना देखना बहुत जरूरी होता है लेकिन हाउस के लिए एक प्लान का भी जरूरत हो तो
Namaste aapaka kveshchan hai manushy ko sapana kyon dekhana chaahie dekhie yah baat sach hai ki sirph sapane dekhane se dreem dekhane se kisee bhee aadamee ka kaam ya lakshy kee poorti nahin hotee hai lekin haan aapake sapane aapake lakshy ko poora karane kee pahalee chitthee jaroor hai aap sapane ko dekhie jaroor lekin aap us lakshy ko poora karane ke lie aap ek plaaning banaee hai too us sapane kee vailyoo rahegee baat bas itanee see hai kisee bhee lakshy ko paane ke lie sapana dekhana bahut jarooree hota hai lekin haus ke lie ek plaan ka bhee jaroorat ho to

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:01
हम तो आज आप का सवाल है कि मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए मेरे हिसाब से हर एक इंसान को सपना देखने का हक है लेकिन उस सपने को सिर्फ नींद में औरत अपना समझकर कि नहीं छोड़ देना उसे पाने के लिए आपको चेक करना है जो भी हमने सपना देखा उसे पानी के लिए जी जान लगा ना होता है कि कभी कदार हम सपना देखते हैं जो भी चीज हम देखते उसे पानी चाहिए हमारे अंदर बहुत ज्यादा उत्सुकता हम बहुत ज्यादा मतलब एक्साइटेड हो जाती नहीं हमें किसी भी हालत में यह चाहिए अगर आप बहुत सारे लोगों के जीवन में सपनों का बहुत ज्यादा असर पड़ता गुरु सपना देखते जी जान में है मतलब होते हैं तो मेरे हिसाब से सपना देखना चाहिए लेकिन साथ ही साथ उसको पूरा करने के लिए भी
Ham to aaj aap ka savaal hai ki manushy ko sapana kyon dekhana chaahie mere hisaab se har ek insaan ko sapana dekhane ka hak hai lekin us sapane ko sirph neend mein aurat apana samajhakar ki nahin chhod dena use paane ke lie aapako chek karana hai jo bhee hamane sapana dekha use paanee ke lie jee jaan laga na hota hai ki kabhee kadaar ham sapana dekhate hain jo bhee cheej ham dekhate use paanee chaahie hamaare andar bahut jyaada utsukata ham bahut jyaada matalab eksaited ho jaatee nahin hamen kisee bhee haalat mein yah chaahie agar aap bahut saare logon ke jeevan mein sapanon ka bahut jyaada asar padata guru sapana dekhate jee jaan mein hai matalab hote hain to mere hisaab se sapana dekhana chaahie lekin saath hee saath usako poora karane ke lie bhee

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:06
नमस्कार देखना चाहिए ना जो हम खुली आंखों से देखते हैं सपना हमारा होता है वही होता है जो हमारा लक्ष्य है आप भी देखते हैं वह होता है जो कि पूरा करना होता उसके लिए कठिन संघर्ष करना पड़ता है लेकिन सपने पूरे करने के लिए संघर्ष करने चाहिए क्योंकि बंद अपना भी खत्म हो जाता है लेकिन जो खुली हुई आंखों के सपने देखते हैं वह हमारा वही सपना होता जिसे हमें पूरा करना होता है तो उसे पूरा करने में पूरा अपना पूरा घर का ना होता है जिसे हम कठिन तक घर द्वारा पूरी लगन द्वारा ही पूरा कर सकते हैं लोग कहते हैं सवाल का जवाब बन जाएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखे धन्यवाद
Namaskaar dekhana chaahie na jo ham khulee aankhon se dekhate hain sapana hamaara hota hai vahee hota hai jo hamaara lakshy hai aap bhee dekhate hain vah hota hai jo ki poora karana hota usake lie kathin sangharsh karana padata hai lekin sapane poore karane ke lie sangharsh karane chaahie kyonki band apana bhee khatm ho jaata hai lekin jo khulee huee aankhon ke sapane dekhate hain vah hamaara vahee sapana hota jise hamen poora karana hota hai to use poora karane mein poora apana poora ghar ka na hota hai jise ham kathin tak ghar dvaara pooree lagan dvaara hee poora kar sakate hain log kahate hain savaal ka javaab ban jaega aap log khush rahie doosaron ko bhee khush rakhe dhanyavaad

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए मनुष्य जो भी करता है उसके पहले उसके मन में उसकी प्रतिमा और उसकी तैयारी मन के द्वारा की जाती है इसका मतलब है कि हर चीज कल्पना हम उसको सपना भी कर सकते हैं नींद में भी व्यक्ति भैया देखा जाता है दिन में आने वाले हैं उनको उनका तो यहां पर चर्चा नहीं है यह सपना पॉजिटिव अर्चना पर हम सारी दुनिया में यशस्वी लोगों को जानते हैं और उनके जीवन क्रम को जानते हैं आप सभी ने बताया है कि हमें बड़ा बनना है ऐसी सोच मेरे स्टेट यानी बड़े होली के सपने में देखते हैं और अभी भी अभी सिद्ध हो रहा है जिस तरह से मनुष्य सोचता है उसकी तरफ हमेशा अपने आप चला जाता है वह चीजें भी उसकी तरफ आने आ जाती है किसके कारण सपने में देखने वालों के सपने नगर पक्के हो तो पूरे हुए दिखाई देते हैं कई लोग समाज कहते हैं कि मैं 2 साल के अंदर अपना घर बना हुआ उसका सपना होता है इंदौर में नहीं 4 साल के अंदर तो वह पूरा हो जाता है सपना देखने किस वर्ष अपना पूरा नहीं होता और जिस तरीके से कि हम सपने देखते हो उस दिशा में हम जाते हैं शराब कर कर पिक अप ढाबे पर बैठकर नॉनवेज सर मेरी सब लड़के चकना जिसको कहते हैं या स्टार्टर ऐसा हम करें करने से किसी का नंबर होगा इस तरीके के सोचा और सपना उसे शराबी आधा भी तक पहुंचेगी कोई व्यक्ति एमबीबीएस मेडिकल इंजीनियरिंग 16 सेक्टर में जाने के सपने देखता है और 100 लोग जाते हैं तो होते हैं तो उसमें 10 जाते हैं एचडी मूवी सपने देखे भक्ति अपने नजदीक जो लोग रहते हैं उनको बताते हैं कि इस तरह से मैं स्टडी कर रहा हूं यहां पर मुझे एडमिशन लेना है तुम लोगों को मालूम हो जाता है यह प्रयास कर रहा है कृष्ण लीला चाहिए मैं मेरी युवावस्था में सहित बहुत प्रशासन के साहित्य कैसे मुझे मालूम है कि जो बिल्कुल एक स्वतंत्र जीवन जीते जी सुचनी जीवन जीते जी वह किसी के गुलाम नहीं थी मैं किसी के मालिक थे जब चाहिए सोती थी जब चाहिए थी जब चली जाती थी कई साहित्यिक किसी परीक्षण स्थल पर रहने के लिए महीना दो-तीन महीने जाते थे और वहां पर अपना लेखन करते थे ऋषि आचार्य अत्रे लो ना भजन लेखन के लिए इस तरीके से मैनेज अपनी इज्जत देखा करता था तो मुझे ऐसा लगता था कि एक ऐसी जिंदगी जीनी चाहिए ठीक तो हो ना तुम्हें आज उसी तरह का एक मेरा अपना जीवन मैंने किसी की कॉपी नहीं की लेकिन मेरा अपना एक स्वतंत्र जीवन जीने का तरीका है पूरा
Manushy ko sapana kyon dekhana chaahie manushy jo bhee karata hai usake pahale usake man mein usakee pratima aur usakee taiyaaree man ke dvaara kee jaatee hai isaka matalab hai ki har cheej kalpana ham usako sapana bhee kar sakate hain neend mein bhee vyakti bhaiya dekha jaata hai din mein aane vaale hain unako unaka to yahaan par charcha nahin hai yah sapana pojitiv archana par ham saaree duniya mein yashasvee logon ko jaanate hain aur unake jeevan kram ko jaanate hain aap sabhee ne bataaya hai ki hamen bada banana hai aisee soch mere stet yaanee bade holee ke sapane mein dekhate hain aur abhee bhee abhee siddh ho raha hai jis tarah se manushy sochata hai usakee taraph hamesha apane aap chala jaata hai vah cheejen bhee usakee taraph aane aa jaatee hai kisake kaaran sapane mein dekhane vaalon ke sapane nagar pakke ho to poore hue dikhaee dete hain kaee log samaaj kahate hain ki main 2 saal ke andar apana ghar bana hua usaka sapana hota hai indaur mein nahin 4 saal ke andar to vah poora ho jaata hai sapana dekhane kis varsh apana poora nahin hota aur jis tareeke se ki ham sapane dekhate ho us disha mein ham jaate hain sharaab kar kar pik ap dhaabe par baithakar nonavej sar meree sab ladake chakana jisako kahate hain ya staartar aisa ham karen karane se kisee ka nambar hoga is tareeke ke socha aur sapana use sharaabee aadha bhee tak pahunchegee koee vyakti emabeebeees medikal injeeniyaring 16 sektar mein jaane ke sapane dekhata hai aur 100 log jaate hain to hote hain to usamen 10 jaate hain echadee moovee sapane dekhe bhakti apane najadeek jo log rahate hain unako bataate hain ki is tarah se main stadee kar raha hoon yahaan par mujhe edamishan lena hai tum logon ko maaloom ho jaata hai yah prayaas kar raha hai krshn leela chaahie main meree yuvaavastha mein sahit bahut prashaasan ke saahity kaise mujhe maaloom hai ki jo bilkul ek svatantr jeevan jeete jee suchanee jeevan jeete jee vah kisee ke gulaam nahin thee main kisee ke maalik the jab chaahie sotee thee jab chaahie thee jab chalee jaatee thee kaee saahityik kisee pareekshan sthal par rahane ke lie maheena do-teen maheene jaate the aur vahaan par apana lekhan karate the rshi aachaary atre lo na bhajan lekhan ke lie is tareeke se mainej apanee ijjat dekha karata tha to mujhe aisa lagata tha ki ek aisee jindagee jeenee chaahie theek to ho na tumhen aaj usee tarah ka ek mera apana jeevan mainne kisee kee kopee nahin kee lekin mera apana ek svatantr jeevan jeene ka tareeka hai poora

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
प्रश्न आया है मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए सपना की प्रक्रिया कोई सुरक्षा से नहीं होता है नियंत्रण रूप से अनिश्चित उत्पन्न होता है और लेकिन सपने देखने का एक वह है जिसको हम टारगेट बनाते हैं उसके लिए बार-बार अनुसमरणम महानायक सपना देखना चाहिए या नहीं को मजबूत बनता है कि वह चीजें जिंदगी में हासिल करने की अभिव्यक्ति तो इसलिए सपने के लिए सुई लगाया जाता है और लोग देखते हैं सपनों को लेकिन यहां सपनों के संसार के लिए दो रूप में आता है एक तो वैसे क्रांत होने से निजात पाने की युक्ति में भी अंत करण के अवचेतन में कुछ चीजें से ले ले आ जाते हैं जो हमारे से संबंधित भाव को कुछ ना कुछ प्रेरित दिशा देते हैं और उसमें प्रणाम मौका कुछ प्रभाव कि मैं सुशील बनाती है तो कुछ चीजें हैं उमंगों में होती हैं जो अलग से एक सुखदायक खुशनुमा मिजाज के अंतर्गत उत्पन्न होता है यह दोनों विधियों में ही अंत करण में ऐसे सपने बुनियादी पकड़ती गुरु से बन के आ जाते हैं आप लेकिन देखना चाहिए यह दूसरा सवाल आता है और उसका जो ज्ञान होता है उसी संदर्भ में होता है कि वह अपने टारगेट के सपने देखे कि मुझे अपने रूप से अपनी क्षमता से अपनी प्रतिभा से शिखर तक मुझे अपने दोस्त कृत रूप में खड़ा करना होता है और वहां तक अपने गांव को पांच के हाईलाइट करने की कोशिश की जाती है ऐसे सपने वह बंद करके और वातावरण को कर्षण करता है जो सहयोग में उसके लिए प्रवृत्ति का कारण बन जाता है कैसे सपने हमेशा लोग दिखते हैं जिनके अंदर कुछ भावनाएं जुड़ी होती हैं और वह उनका एक्शन क्लब लक्ष्य हो जाता है और यह होना भी चाहिए जरूरी है क्योंकि जब हम किसी चीज को भूल जाते हैं अपने रास्ते को तो यह मडगांव की दिशा होते हैं लेकिन एक लाल समय होने के लिए जरूरी होता है कि हम सभाओं के उत्पाद में रहे तो यही वाक्यांश से मैं अपने प्रत्युत्तर को अर्पण करता हूं धन्यवाद
Prashn aaya hai manushy ko sapana kyon dekhana chaahie sapana kee prakriya koee suraksha se nahin hota hai niyantran roop se anishchit utpann hota hai aur lekin sapane dekhane ka ek vah hai jisako ham taaraget banaate hain usake lie baar-baar anusamaranam mahaanaayak sapana dekhana chaahie ya nahin ko majaboot banata hai ki vah cheejen jindagee mein haasil karane kee abhivyakti to isalie sapane ke lie suee lagaaya jaata hai aur log dekhate hain sapanon ko lekin yahaan sapanon ke sansaar ke lie do roop mein aata hai ek to vaise kraant hone se nijaat paane kee yukti mein bhee ant karan ke avachetan mein kuchh cheejen se le le aa jaate hain jo hamaare se sambandhit bhaav ko kuchh na kuchh prerit disha dete hain aur usamen pranaam mauka kuchh prabhaav ki main susheel banaatee hai to kuchh cheejen hain umangon mein hotee hain jo alag se ek sukhadaayak khushanuma mijaaj ke antargat utpann hota hai yah donon vidhiyon mein hee ant karan mein aise sapane buniyaadee pakadatee guru se ban ke aa jaate hain aap lekin dekhana chaahie yah doosara savaal aata hai aur usaka jo gyaan hota hai usee sandarbh mein hota hai ki vah apane taaraget ke sapane dekhe ki mujhe apane roop se apanee kshamata se apanee pratibha se shikhar tak mujhe apane dost krt roop mein khada karana hota hai aur vahaan tak apane gaanv ko paanch ke haeelait karane kee koshish kee jaatee hai aise sapane vah band karake aur vaataavaran ko karshan karata hai jo sahayog mein usake lie pravrtti ka kaaran ban jaata hai kaise sapane hamesha log dikhate hain jinake andar kuchh bhaavanaen judee hotee hain aur vah unaka ekshan klab lakshy ho jaata hai aur yah hona bhee chaahie jarooree hai kyonki jab ham kisee cheej ko bhool jaate hain apane raaste ko to yah madagaanv kee disha hote hain lekin ek laal samay hone ke lie jarooree hota hai ki ham sabhaon ke utpaad mein rahe to yahee vaakyaansh se main apane pratyuttar ko arpan karata hoon dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए
URL copied to clipboard