#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:18
ख्वाजा का सवाल है कि हम दूसरों की संस्कृति को अपनाते हैं क्या हमारे संस्कृति को यूरोप अमेरिका अपनाते हैं क्या बहुत सारी ऐसी चीजें थी कि हमें दूसरों की भी अच्छी लगती है मन होता है कि हम भी अप्लाई करें ऐसा नहीं है कि हर एक चीज से मित्रता है आप बहुत सारे ऐसे देखे और चाऊमीन खाने क्या जो भी चम्मच होता है या फिर जो भी पहनावा हो बाहर से आया है और हमें मतलब बहुत अच्छा लगता है वह यूज़फुल भी एक ऐसा नहीं हम क्या सकते किया वह बाहर से आए तो मुझसे इस्तेमाल नहीं करें ऐसा नहीं है बहुत सारी ऐसी है जो गुरु के साथ कॉमन है मतलब मिलता-जुलता है जैसे कि वह लोगों के पास चाहे जितना भी फ्रीडम क्यों ना हो बट वह भी अगर शादी है या फिर अगर मतलब रिलेशन में जब आते हैं तो अपने मम्मी पापा से पूछते हैं आगे जो भी स्टेप लेते हैं उनसे हम लोग अपने मम्मी पापा को बताते हैं आगे के बारे में सोचते हो फोन करते हैं और दूसरा जैसे हम सब मिलकर एक साथ खाना खाते भूलूंगी वैसे करते तो कुछ चीजें हैं जो मैंने जो मिलती जुलती है लेकिन ऐसा हम नहीं कह सकते कि हमारे में जितना भी करके जो भी हमारी संस्कृति होते ही सिर्फ हम अपनाएंगे अगर कुछ चीजें हमें बाहर के लोगों की अच्छी लगती है तो हम भी उसे अप्लाई करके देख सकते हो कोई बुराई नहीं है
Khvaaja ka savaal hai ki ham doosaron kee sanskrti ko apanaate hain kya hamaare sanskrti ko yoorop amerika apanaate hain kya bahut saaree aisee cheejen thee ki hamen doosaron kee bhee achchhee lagatee hai man hota hai ki ham bhee aplaee karen aisa nahin hai ki har ek cheej se mitrata hai aap bahut saare aise dekhe aur chaoomeen khaane kya jo bhee chammach hota hai ya phir jo bhee pahanaava ho baahar se aaya hai aur hamen matalab bahut achchha lagata hai vah yoozaphul bhee ek aisa nahin ham kya sakate kiya vah baahar se aae to mujhase istemaal nahin karen aisa nahin hai bahut saaree aisee hai jo guru ke saath koman hai matalab milata-julata hai jaise ki vah logon ke paas chaahe jitana bhee phreedam kyon na ho bat vah bhee agar shaadee hai ya phir agar matalab rileshan mein jab aate hain to apane mammee paapa se poochhate hain aage jo bhee step lete hain unase ham log apane mammee paapa ko bataate hain aage ke baare mein sochate ho phon karate hain aur doosara jaise ham sab milakar ek saath khaana khaate bhooloongee vaise karate to kuchh cheejen hain jo mainne jo milatee julatee hai lekin aisa ham nahin kah sakate ki hamaare mein jitana bhee karake jo bhee hamaaree sanskrti hote hee sirph ham apanaenge agar kuchh cheejen hamen baahar ke logon kee achchhee lagatee hai to ham bhee use aplaee karake dekh sakate ho koee buraee nahin hai

और जवाब सुनें

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:24
कारपोरेट है मेरा सवाल था कि हम दोनों की संस्कृति को अपनाते क्या हमारी संस्कृति को यूरोप अमेरिका अपनाते हैं क्या तो देखें मुझे बिल्कुल पार्टी के साथ नहीं पता है लेकिन हां मेरे कुछ फ्रेंड है फॉरेन के उनको इंडियन कल्चर जो है वह काफी पसंद है तो काफी चीजें पढ़ाई करना पसंद करते हैं इंडियन कल्चर से शुक्रिया
Kaaraporet hai mera savaal tha ki ham donon kee sanskrti ko apanaate kya hamaaree sanskrti ko yoorop amerika apanaate hain kya to dekhen mujhe bilkul paartee ke saath nahin pata hai lekin haan mere kuchh phrend hai phoren ke unako indiyan kalchar jo hai vah kaaphee pasand hai to kaaphee cheejen padhaee karana pasand karate hain indiyan kalchar se shukriya

Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:53
नमस्कार मित्र आपने प्रश्न किया है कि हम दूसरों के संस्कृति को अपनाते हैं क्या हमारी संस्कृति को यूरोप अमेरिका अपनाते हैं क्या मित्र भारत देश है सभी की संस्कृति को स्वीकार करता है सभी को मानता है परंतु हमारे जो संस्कृति है भारत देश की जो संस्कृति है उसे ना तो कोई यूरोप अपनाता है ना कोई अमेरिका और ना ही कोई देश उसे अपना था है केवल भारत ही एक ऐसा देश है जो सभी की संस्कृति को भी स्वीकार करता है जैसे कि भारत के जो लोग हैं वह भारत देश की संस्कृति को छोड़ कर के और पाश्चात्य संस्कृति अर्थात विदेशी संस्कृति को अपना रहे हैं स्वीकार कर रहे हैं आज की तरह टेंशन हो रहा है उनका परंतु और विदेशी जो लोग हैं वह हमारी संस्कृति को बिल्कुल भी स्वीकार नहीं करते हैं वैसे बिल्कुल भी नहीं अपनाते हैं वह जब यहां आते हैं तो खुद की संस्कृति का प्रदर्शन यहां पर करते हैं का प्रभाव हमारे भारत देश के लोगों के ऊपर देखने को मिलता है कि वे लोग धीरे-धीरे उनकी ही संस्कृति को अपनाने लगते हैं परंतु जब विदेशी लोग यहां घूमने आते हैं तब भी वह यहां की संस्कृति को अपनाते नहीं है इसका मतलब यही है कि केवल भारत देश के लोग हैं दूसरों की संस्कृति को अपना रहे हैं बाकी दूसरे लोग जो है विदेशी लोग जो है वह भारत के संस्कृति को अपनाते नहीं है धन्यवाद
Namaskaar mitr aapane prashn kiya hai ki ham doosaron ke sanskrti ko apanaate hain kya hamaaree sanskrti ko yoorop amerika apanaate hain kya mitr bhaarat desh hai sabhee kee sanskrti ko sveekaar karata hai sabhee ko maanata hai parantu hamaare jo sanskrti hai bhaarat desh kee jo sanskrti hai use na to koee yoorop apanaata hai na koee amerika aur na hee koee desh use apana tha hai keval bhaarat hee ek aisa desh hai jo sabhee kee sanskrti ko bhee sveekaar karata hai jaise ki bhaarat ke jo log hain vah bhaarat desh kee sanskrti ko chhod kar ke aur paashchaaty sanskrti arthaat videshee sanskrti ko apana rahe hain sveekaar kar rahe hain aaj kee tarah tenshan ho raha hai unaka parantu aur videshee jo log hain vah hamaaree sanskrti ko bilkul bhee sveekaar nahin karate hain vaise bilkul bhee nahin apanaate hain vah jab yahaan aate hain to khud kee sanskrti ka pradarshan yahaan par karate hain ka prabhaav hamaare bhaarat desh ke logon ke oopar dekhane ko milata hai ki ve log dheere-dheere unakee hee sanskrti ko apanaane lagate hain parantu jab videshee log yahaan ghoomane aate hain tab bhee vah yahaan kee sanskrti ko apanaate nahin hai isaka matalab yahee hai ki keval bhaarat desh ke log hain doosaron kee sanskrti ko apana rahe hain baakee doosare log jo hai videshee log jo hai vah bhaarat ke sanskrti ko apanaate nahin hai dhanyavaad

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
मेरा सवाल था कि हम दूसरों की शक्ति को अपनाते हुए क्या मरीज को एरोप्लेन लोग अपना चेहरा ग्रुप या 19 लोग में भारत पर राज कर चुके हैं भारत में भारत को समझे और उन्हें भारत में अखिल भारत में उनका एक गुलाम था तो गुना गुलाम की कोई चीज है मालिक नहीं अपनाता या उसको तुझे समझता है यही मानसिकता यूरोप और अमेरिका में कहीं पर भी खबर आ जाती है कि स्टार ने यह स्टडी इन माया जूलिया रॉबर्ट्स ने हिंदू धर्म को अपनाया यह किसी ने बौद्ध धर्म का इस्लाम को अपना नहीं किया और इस लाभ से क्रिश्चियनिटी में विश्वास रखने वाली दो चीजें चलती रहती है लेकिन भारत की संस्कृति का अनुकरण पश्चिम में बहुत कम होता है भारत के लोग वहां पर गए हैं अभी भी रहते हैं वह यूरोपियन बन गए उनके जैसी हो गई जैसी बोल जो अभी अमेरिका के राष्ट्रपति बन गई है क्या नाम है उसका साउथ इंडिया की रिवर जन्म से तो भारतीय वंश की है लेकिन उसका सारा व्यक्तिमत्व जो है वह अमेरिकन बन गए और हमारे लोग जाकर वहां उसी रिश्ते और कुछ भारतीय संस्कृति का अनुकरण करते हैं लेकिन कुछ बातें छुपा कर रिहान की जो कमजोरियां या बचकानी बातें अंधविश्वास है हिंदी के संदर्भ में खाने के संदर्भ में ऐसी कई चीजें मां-बाप और छुपाते हैं और उनकी तरीके से रहने का प्रयास करते हैं अब इसके विपरीत भारती पश्चिम की संस्कृति ज्यादा करके का अनुकरण करते हैं देसी वहां पर वक्त मिट्टी वाला है सिर्फ भारत में भी अभी व्यक्तिवाद ज्यादा बढ़ रहा है लिव इन रिलेशनशिप गे पीपल संडे मैरिजस मंडे मैरिज और घटस्फोट लेते दूसरी शादी करना यह तो आप बॉलीवुड में हम देख रहे हैं और अरबाज खान उसकी पत्नी को जो पहले थी मलायका अरोरा अरोरा को सुनने के लिए जो मुझे कौन कपूर है उसके साथ विदेश जा रही थी जहां पर उसके बच्चे और वह भी उसको छोड़ने गया था इसमें भी दूसरी एक गर्लफ्रेंड बनाई है उनको यह सब चीजें जो है श्री रुपेश इलेक्शन संस्कृति सोसायटी नीचे की तरफ आती-जाती तो इस तरह की शुरुआत भारत के बीच हुई तो कहने का मतलब यह है कि भारत के लोग जो है मोहित मीणा कन्हैया इंप्योरिटी कॉन्प्लेक्स से जीते बीजेपी चुनावी वादा करके यूरोप अमेरिका उसकी उम्र का अनुकरण करने का प्रयास करते हैं उनकी संस्कृति को अपनाने का प्रयास करें धन्यवाद
Mera savaal tha ki ham doosaron kee shakti ko apanaate hue kya mareej ko eroplen log apana chehara grup ya 19 log mein bhaarat par raaj kar chuke hain bhaarat mein bhaarat ko samajhe aur unhen bhaarat mein akhil bhaarat mein unaka ek gulaam tha to guna gulaam kee koee cheej hai maalik nahin apanaata ya usako tujhe samajhata hai yahee maanasikata yoorop aur amerika mein kaheen par bhee khabar aa jaatee hai ki staar ne yah stadee in maaya jooliya robarts ne hindoo dharm ko apanaaya yah kisee ne bauddh dharm ka islaam ko apana nahin kiya aur is laabh se krishchiyanitee mein vishvaas rakhane vaalee do cheejen chalatee rahatee hai lekin bhaarat kee sanskrti ka anukaran pashchim mein bahut kam hota hai bhaarat ke log vahaan par gae hain abhee bhee rahate hain vah yooropiyan ban gae unake jaisee ho gaee jaisee bol jo abhee amerika ke raashtrapati ban gaee hai kya naam hai usaka sauth indiya kee rivar janm se to bhaarateey vansh kee hai lekin usaka saara vyaktimatv jo hai vah amerikan ban gae aur hamaare log jaakar vahaan usee rishte aur kuchh bhaarateey sanskrti ka anukaran karate hain lekin kuchh baaten chhupa kar rihaan kee jo kamajoriyaan ya bachakaanee baaten andhavishvaas hai hindee ke sandarbh mein khaane ke sandarbh mein aisee kaee cheejen maan-baap aur chhupaate hain aur unakee tareeke se rahane ka prayaas karate hain ab isake vipareet bhaaratee pashchim kee sanskrti jyaada karake ka anukaran karate hain desee vahaan par vakt mittee vaala hai sirph bhaarat mein bhee abhee vyaktivaad jyaada badh raha hai liv in rileshanaship ge peepal sande mairijas mande mairij aur ghatasphot lete doosaree shaadee karana yah to aap boleevud mein ham dekh rahe hain aur arabaaj khaan usakee patnee ko jo pahale thee malaayaka arora arora ko sunane ke lie jo mujhe kaun kapoor hai usake saath videsh ja rahee thee jahaan par usake bachche aur vah bhee usako chhodane gaya tha isamen bhee doosaree ek garlaphrend banaee hai unako yah sab cheejen jo hai shree rupesh ilekshan sanskrti sosaayatee neeche kee taraph aatee-jaatee to is tarah kee shuruaat bhaarat ke beech huee to kahane ka matalab yah hai ki bhaarat ke log jo hai mohit meena kanhaiya impyoritee konpleks se jeete beejepee chunaavee vaada karake yoorop amerika usakee umr ka anukaran karane ka prayaas karate hain unakee sanskrti ko apanaane ka prayaas karen dhanyavaad

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:20
10 का सवाल है कि दूसरों की संस्कृति को पढ़ाते हैं कि हमारी संस्कृति को भी यूरोप अमेरिका अपनाते हैं भारत की विविधता में एकता है पूरे दुनिया को पसंद है क्योंकि बहुत सारे ऐसे देश है जो कि भारत की संस्कृति को पसंद करते हैं और भारत के जैव विविधता में एकता है प्रकृति यह खास बात सकते हैं जो भारत को सबसे अलग बनाती है विदेशों से जो कि दूसरे देशों को काफी पसंद आती है और कैसा संकेत यहां की है जो रूठ जाती है और भी आती है और सवाल है कि यूरोप और अमेरिका आदि देशों के थक गई थी अब अपना आते हैं तो हमारे देश की संस्कृति है और विविधता में एकता है हिंदुओं की अगर कुछ पसंद आए तो अपना सकते हैं इसमें कोई बुराई नहीं अगर कोई अच्छी चीज है तो उसे अपनाने में कोई बुराई नहीं है ऐसा नहीं कि दूसरे देश का है तो हम नहीं अपना सकते हैं तब तक आप का सवाल है कि दूसरे देश की संस्कृति को प्रभावित करते हैं सवाल का जवाब दें धन्यवाद
10 ka savaal hai ki doosaron kee sanskrti ko padhaate hain ki hamaaree sanskrti ko bhee yoorop amerika apanaate hain bhaarat kee vividhata mein ekata hai poore duniya ko pasand hai kyonki bahut saare aise desh hai jo ki bhaarat kee sanskrti ko pasand karate hain aur bhaarat ke jaiv vividhata mein ekata hai prakrti yah khaas baat sakate hain jo bhaarat ko sabase alag banaatee hai videshon se jo ki doosare deshon ko kaaphee pasand aatee hai aur kaisa sanket yahaan kee hai jo rooth jaatee hai aur bhee aatee hai aur savaal hai ki yoorop aur amerika aadi deshon ke thak gaee thee ab apana aate hain to hamaare desh kee sanskrti hai aur vividhata mein ekata hai hinduon kee agar kuchh pasand aae to apana sakate hain isamen koee buraee nahin agar koee achchhee cheej hai to use apanaane mein koee buraee nahin hai aisa nahin ki doosare desh ka hai to ham nahin apana sakate hain tab tak aap ka savaal hai ki doosare desh kee sanskrti ko prabhaavit karate hain savaal ka javaab den dhanyavaad

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:49
नमस्कार आपका प्रश्न मेरा सवाल था कि हम दूसरों की संस्कृति को अपनाते हैं क्या हमारी संस्कृति को यूरोप अमेरिका अपनाते हैं तो आपको बता देंगे बिल्कुल बहुत तेजी से पश्चिमी देशों में भारतीय संस्कृति के प्रति क्रेज बढ़ा है और बहुत सारे लोग इसको आप अपनाने लगे हैं उनका मानना है जो भारतीय संस्कृति है वह काफी यादव उत्तम है अच्छी है और उसको अपनाना चाहिए और विंसेट से संस्कृति नहीं यहां की जो शिक्षा दिक्षा प्रणाली रही है गुरुकुल परंपरा रही हो साथी साथी होगा जिसको सभी लोग जानते हैं तो उसको भी व्यायाम का सबसे अच्छा माध्यम माना जाता है तो उसको भी अभिगोपन कंट्रीज अपना नहीं लगी है आपके क्या विचार हैं इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn mera savaal tha ki ham doosaron kee sanskrti ko apanaate hain kya hamaaree sanskrti ko yoorop amerika apanaate hain to aapako bata denge bilkul bahut tejee se pashchimee deshon mein bhaarateey sanskrti ke prati krej badha hai aur bahut saare log isako aap apanaane lage hain unaka maanana hai jo bhaarateey sanskrti hai vah kaaphee yaadav uttam hai achchhee hai aur usako apanaana chaahie aur vinset se sanskrti nahin yahaan kee jo shiksha diksha pranaalee rahee hai gurukul parampara rahee ho saathee saathee hoga jisako sabhee log jaanate hain to usako bhee vyaayaam ka sabase achchha maadhyam maana jaata hai to usako bhee abhigopan kantreej apana nahin lagee hai aapake kya vichaar hain is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:16
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका नाम का प्रश्न मेरे सवाल था कि हम दूसरों की संस्कृति को अपनाते हैं कि हमारे संस्कृति को ग्रुप वाले भी अपनाते हैं आप ऐसा होने लगा है जैसे हमारे यहां लोग घूमने के लिए आते हैं फिर यहां से देंगे जो जाते हैं तो विदेशों में भी वही लोग करते हैं जिससे कि हम लोग कोरोनावायरस जब से चला और हमारे इंडिया में गले मिलने जाना है उसके पर ज्यादा जोर की देते हैं तो अभी देशों में भी लोग नमस्ते करने लगे हैं एक दूसरे से नमस्ते हाय हेलो ऐसे करते हैं और हमारे यहां का पहनावा भी एक लोगों को काफी आकर्षित करता है यहां पर जॉब लेडीज घूमने आती है तो वह अपने वहां पर जहां से साड़ियां खरीद कर ली जाती है बहुत सारी और वहां देश में जाकर उस साड़ी कुर्ती है तो हम यह कह सकते हैं कि दूसरे देश भी हमारी संस्कृति अपना रही है और हमारे और हमारे यहां का जो खानपान है वह भी लोगों को बहुत पसंद आता है तो इधर से खरीद के और जो भी सूखी चीजें हैं में ले जाते हैं वहां जाकर खाते हैं तो हमारे यहां की संस्कृति खानदान जो भी उनको अच्छा लगता है वह घर जाकर जरूर अपनाते हैं तो अच्छा लगे तो लाइक करें धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka naam ka prashn mere savaal tha ki ham doosaron kee sanskrti ko apanaate hain ki hamaare sanskrti ko grup vaale bhee apanaate hain aap aisa hone laga hai jaise hamaare yahaan log ghoomane ke lie aate hain phir yahaan se denge jo jaate hain to videshon mein bhee vahee log karate hain jisase ki ham log koronaavaayaras jab se chala aur hamaare indiya mein gale milane jaana hai usake par jyaada jor kee dete hain to abhee deshon mein bhee log namaste karane lage hain ek doosare se namaste haay helo aise karate hain aur hamaare yahaan ka pahanaava bhee ek logon ko kaaphee aakarshit karata hai yahaan par job ledeej ghoomane aatee hai to vah apane vahaan par jahaan se saadiyaan khareed kar lee jaatee hai bahut saaree aur vahaan desh mein jaakar us sari kurtee hai to ham yah kah sakate hain ki doosare desh bhee hamaaree sanskrti apana rahee hai aur hamaare aur hamaare yahaan ka jo khaanapaan hai vah bhee logon ko bahut pasand aata hai to idhar se khareed ke aur jo bhee sookhee cheejen hain mein le jaate hain vahaan jaakar khaate hain to hamaare yahaan kee sanskrti khaanadaan jo bhee unako achchha lagata hai vah ghar jaakar jaroor apanaate hain to achchha lage to laik karen dhanyavaad

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:23
असफलता गेम दूसरों के संस्कृति को अपनाते हैं क्या हमारी संस्कृति को यूरोप अमेरिका बनाते हैं क्या दोस्त अब यह बात बिल्कुल सत्य है कि हम भारतीय संस्कृति को विश्व के कई देश अपना रहे हैं और जातक बातें उनके संस्कृतियों को तोहार दोस्तों उनके संस्कृतियों को हम और वह हमारी संस्कृति को अपना रहे हैं परंतु यदि देखा जाए तो हम लोग उनके संस्कृति के ज्यादा प्रभाव में आते हुए जा रहे हैं
Asaphalata gem doosaron ke sanskrti ko apanaate hain kya hamaaree sanskrti ko yoorop amerika banaate hain kya dost ab yah baat bilkul saty hai ki ham bhaarateey sanskrti ko vishv ke kaee desh apana rahe hain aur jaatak baaten unake sanskrtiyon ko tohaar doston unake sanskrtiyon ko ham aur vah hamaaree sanskrti ko apana rahe hain parantu yadi dekha jae to ham log unake sanskrti ke jyaada prabhaav mein aate hue ja rahe hain

nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:03
नमस्कार आपका सवाल है कि हम दूसरों की संस्कृति को अपनाते हैं तो क्या हमारी संस्कृति को भी यूरोप अमेरिका अपनाते हैं जी हां काफी हद तक सही बात है और जिस प्रकार हम आज वेस्टर्न रंग में रंगते जा रहे हैं वेस्टर्न पहनावा वेस्टर्न खाना-पीना वेस्टर्न म्यूजिक इन सब चीजों को पसंद करते हैं उसी तरह से अमेरिका और यूरोप के लोग भी भारत आते हैं और उन्हें यहां की संस्कृति बहुत पसंद आती है उन्हें यहां का खानपान यहां का पहनावा यहां का लोक संगीत राग रागनी और शास्त्रीय संगीत में गाना बहुत पसंद आता है आपने कई बार देखा भी होगा कि जो फोनस आते हैं अंग्रेज लोग आते हैं यूरोप अमेरिका फ्रांस वगैरह साइड से तो वह लोग भारत के संगीत को शास्त्रीय संगीत को बहुत पसंद करते हैं बहुत ध्यान लगाकर सुनते हैं जबकि भारतीय लोगों से के संगीत को ना समझ पाते ना ही वह सुनना पसंद है तो यह सब जरुरी है भारतीय संस्कृति को भी वह लोग अपना कर और एक दूसरे की संस्कृति को अपनाना अच्छी बात समझना बहुत अच्छी बात है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki ham doosaron kee sanskrti ko apanaate hain to kya hamaaree sanskrti ko bhee yoorop amerika apanaate hain jee haan kaaphee had tak sahee baat hai aur jis prakaar ham aaj vestarn rang mein rangate ja rahe hain vestarn pahanaava vestarn khaana-peena vestarn myoojik in sab cheejon ko pasand karate hain usee tarah se amerika aur yoorop ke log bhee bhaarat aate hain aur unhen yahaan kee sanskrti bahut pasand aatee hai unhen yahaan ka khaanapaan yahaan ka pahanaava yahaan ka lok sangeet raag raaganee aur shaastreey sangeet mein gaana bahut pasand aata hai aapane kaee baar dekha bhee hoga ki jo phonas aate hain angrej log aate hain yoorop amerika phraans vagairah said se to vah log bhaarat ke sangeet ko shaastreey sangeet ko bahut pasand karate hain bahut dhyaan lagaakar sunate hain jabaki bhaarateey logon se ke sangeet ko na samajh paate na hee vah sunana pasand hai to yah sab jaruree hai bhaarateey sanskrti ko bhee vah log apana kar aur ek doosare kee sanskrti ko apanaana achchhee baat samajhana bahut achchhee baat hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय समाज पर पश्चिमीकरण के प्रभाव, भारतीय संस्कृति और सभ्यता, भारतीय युवाओं पर पश्चिमी संस्कृति का प्रभाव
URL copied to clipboard