#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

वर दे कविता में कवि मां वीणा वादिनी से क्या वरदान चाहता है?

Var De Kavita Mein Kavi Maa Veena Vaadini Se Kya Vardaan Chahta Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
1:33
तथास्तु मित्र राहुल के राहुल जी का एक सवाल आया है कि वर दे कविता में कवि मां वीणा वादिनी से क्या वरदान चाहता है तो दोस्त मैं आपसे बताना चाहती हूं मैं आपको अपनी जानकारी के हिसाब से बताना चाहती हूं कि कविता का भावार्थ यह है कि मातृभूमि के प्रति कर्तव्य निभाने के लिए कभी ने प्रेरित किया और अपना सर्वस्व अर्पण कर देना है हर भारतवासी का कर्तव्य होता है और कभी जो है इस कविता के द्वारा मां वीणा वादिनी से प्रधान चाहता है कि बाद ही मामला बात नहीं आप तुम आप भारतवासियों के अंधकार से प्राप्त हो जाएंगे शफी बंधन को काट दो और ज्ञान का एक बड़ा स्रोत बहाकर जितनी भी पाप और दोष और अज्ञानता और मनी लेता है उनकी हृदय के अंदर उन्हें दूर करो उनको साफ कर दो और उनके हृदय को प्रकाश से जगमगाए तो कभी का बुलावा देने से ही माना है यही वरदान जाता है कि सारे देशवासियों को के अंदर घुस कर्तव्य को याद दिला दो और ऐसी गंगा बहा दो क्यों अपने कर्तव्य को अपना सर्वस्व निछावर कर हर देश का देश अपने देश के लिए अपने देश के हित में काम करें और अपने देश के लिए कुछ करें धन्यवाद मित्र आशा है कि आपको आपका जवाब मिल गया होगा धन्यवाद
Tathaastu mitr raahul ke raahul jee ka ek savaal aaya hai ki var de kavita mein kavi maan veena vaadinee se kya varadaan chaahata hai to dost main aapase bataana chaahatee hoon main aapako apanee jaanakaaree ke hisaab se bataana chaahatee hoon ki kavita ka bhaavaarth yah hai ki maatrbhoomi ke prati kartavy nibhaane ke lie kabhee ne prerit kiya aur apana sarvasv arpan kar dena hai har bhaaratavaasee ka kartavy hota hai aur kabhee jo hai is kavita ke dvaara maan veena vaadinee se pradhaan chaahata hai ki baad hee maamala baat nahin aap tum aap bhaaratavaasiyon ke andhakaar se praapt ho jaenge shaphee bandhan ko kaat do aur gyaan ka ek bada srot bahaakar jitanee bhee paap aur dosh aur agyaanata aur manee leta hai unakee hrday ke andar unhen door karo unako saaph kar do aur unake hrday ko prakaash se jagamagae to kabhee ka bulaava dene se hee maana hai yahee varadaan jaata hai ki saare deshavaasiyon ko ke andar ghus kartavy ko yaad dila do aur aisee ganga baha do kyon apane kartavy ko apana sarvasv nichhaavar kar har desh ka desh apane desh ke lie apane desh ke hit mein kaam karen aur apane desh ke lie kuchh karen dhanyavaad mitr aasha hai ki aapako aapaka javaab mil gaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वर दे कविता में कवि मां वीणा वादिनी से क्या वरदान चाहता है कविता में कवि मां वीणा वादिनी से क्या वरदान चाहता है
URL copied to clipboard