#undefined

bolkar speaker

लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?

Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:33
हेलो एवरीवन तो आज आप का सवाल है कि लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं तो देखिए जब लोगों के पास दो चार पैसे आ जाते हैं और जब वह खुद को बहुत ऊपर समझने लगते हैं ऐसा लगता है कि नहीं हम आम लोगों से बहुत ही अलग है हमारे पास बंगला गाड़ी हम बहुत ही टैलेंटेड है हमारे अंदर बहुत टैलेंट है हम अमीर हैं तो आम लोगों की जब कैटेगरी में वह खुद को उसके ऊपर समझने लगती है भावना उनके मन में आ जाती है वह अमीर हो या उनकी फैमिली अमीरों को इस तरह की जब टूट भी जाए किसी के भी मन में आता है तो वह घमंडी हो जाता है बहुत बार क्या होता है किसी बच्चे के घर कोई टीचर तारीफ कर देते हैं कोई बड़ा इंसान अगर तारीफ कर देता तो उससे पहले वह ठीक रहता लेकिन जैसे तारे अंदर घमंड आ जाता है प्रेषित किया जा रहा था इसकी जाती इसके आगे मुझे और भी अच्छा काम करना था कि तारीफ करें घमंड अगर किसी के अंदर रहता है तो चाह कर भी कोई अच्छा अब जितना भी अच्छा काम करें लोगों को पता चल जाता कि इंसान घमंडी जाकर भी कोई उसके सामने पास ही नहीं आएगा बात ही जितनी करेगा क्या विशेष क्या करेगा तू जो भी चीज हमारे पास है हमें उसका शुक्रगुजार होना चाहिए कि मैं यह चीज मिला है उसमें घमंड नहीं करना चाहिए क्योंकि ऊपर से नीचे गिरते हुए इंसान को भी बहुत बार लोगों ने देखा है कि जो बहुत अगर घमंड उसके अंदर अगर आ जाता है जब वो जितना भी अमीर क्यों न हो एक दिन गरीब भी हो सकता है तो कभी भी यह नहीं सोचना चाहिए कि हम बहुत ऊपर के हैं हम बहुत अमीर है वह इंसान गरीब यार यह कमेंट करना चाहिए कभी भी ऐसा नहीं सोचना चाहिए ना ही करना चाहिए
Helo evareevan to aaj aap ka savaal hai ki log kab jyaada ghamandee ho jaate hain to dekhie jab logon ke paas do chaar paise aa jaate hain aur jab vah khud ko bahut oopar samajhane lagate hain aisa lagata hai ki nahin ham aam logon se bahut hee alag hai hamaare paas bangala gaadee ham bahut hee tailented hai hamaare andar bahut tailent hai ham ameer hain to aam logon kee jab kaitegaree mein vah khud ko usake oopar samajhane lagatee hai bhaavana unake man mein aa jaatee hai vah ameer ho ya unakee phaimilee ameeron ko is tarah kee jab toot bhee jae kisee ke bhee man mein aata hai to vah ghamandee ho jaata hai bahut baar kya hota hai kisee bachche ke ghar koee teechar taareeph kar dete hain koee bada insaan agar taareeph kar deta to usase pahale vah theek rahata lekin jaise taare andar ghamand aa jaata hai preshit kiya ja raha tha isakee jaatee isake aage mujhe aur bhee achchha kaam karana tha ki taareeph karen ghamand agar kisee ke andar rahata hai to chaah kar bhee koee achchha ab jitana bhee achchha kaam karen logon ko pata chal jaata ki insaan ghamandee jaakar bhee koee usake saamane paas hee nahin aaega baat hee jitanee karega kya vishesh kya karega too jo bhee cheej hamaare paas hai hamen usaka shukragujaar hona chaahie ki main yah cheej mila hai usamen ghamand nahin karana chaahie kyonki oopar se neeche girate hue insaan ko bhee bahut baar logon ne dekha hai ki jo bahut agar ghamand usake andar agar aa jaata hai jab vo jitana bhee ameer kyon na ho ek din gareeb bhee ho sakata hai to kabhee bhee yah nahin sochana chaahie ki ham bahut oopar ke hain ham bahut ameer hai vah insaan gareeb yaar yah kament karana chaahie kabhee bhee aisa nahin sochana chaahie na hee karana chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Azad  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Azad जी का जवाब
Job .
1:56
आपका सवाल है लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं घमंडी हो जाते हैं तो लोग कहते हैं कि मतलब पैसा आने के बाद दौलत आने के बाद जब आदमी थोड़ा कमाए लगता है थोड़ा बिजी हो जाता है तो उसको घमंड जाता है यह मेरा मानना नहीं है इसलिए जब आदमी थोड़ा एडवांस होता है उधर ही से थोड़ा जो अपना अपडेट होता है वह चेंज करता जैसे चप्पल हवाई चप्पल प्रदर्शन डलवाने सैंडल पहने तो जूता पहने साइकिल से तो मोटरसाइकिल से बाहर निकलता है इंसान तो उसके अंदर हर एक चीज बात करने की तमीज तरीका हरीश बदल जाता है घमंड होता है कि हम किसी दूसरे को किसी भी दूसरे व्यक्ति को अनुज को हम बोलेंगे हमारे पास इतना बेशर्म तो मार देंगे कर देंगे तो वह रहने दे देंगे वह होगा अपने आप में रहता है भले कोई कोई देखता है तो अच्छी बात है देखे लेकिन वह घमंड नहीं लिखा जाता है अपने आप को बदलना हर कोई चाहता है वही करते हो और घमंड भी तभी आता है जब पैसा रहता है तभी इंसान किसी दूसरे को मारने के काटने की बात करता है हालांकि यह गलत है नहीं करना चाहिए घमंड बिल्कुल नहीं करना चाहिए क्यों क्योंकि आज हमारे पास दौलत है तो कल जाकर शक्ति किस-किस निदेशक किसी कारण से आए तो किसी न किसी कारण से हमेशा एक दूसरे से दोस्ती बनाए रखें और घमंड बिल्कुल नहीं करना चाहिए घमंड तो बहुत बड़ा पाप है घमंड तो किसी का भी नहीं चलता है इसलिए घमंड इसी को कहते हैं कि किसी एक दूसरे को सताना उसको धमकी देना उसका नुकसान कर देना इसी को घमंड करते हैं धन्यवाद
Aapaka savaal hai log kab jyaada ghamandee ho jaate hain ghamandee ho jaate hain to log kahate hain ki matalab paisa aane ke baad daulat aane ke baad jab aadamee thoda kamae lagata hai thoda bijee ho jaata hai to usako ghamand jaata hai yah mera maanana nahin hai isalie jab aadamee thoda edavaans hota hai udhar hee se thoda jo apana apadet hota hai vah chenj karata jaise chappal havaee chappal pradarshan dalavaane saindal pahane to joota pahane saikil se to motarasaikil se baahar nikalata hai insaan to usake andar har ek cheej baat karane kee tameej tareeka hareesh badal jaata hai ghamand hota hai ki ham kisee doosare ko kisee bhee doosare vyakti ko anuj ko ham bolenge hamaare paas itana besharm to maar denge kar denge to vah rahane de denge vah hoga apane aap mein rahata hai bhale koee koee dekhata hai to achchhee baat hai dekhe lekin vah ghamand nahin likha jaata hai apane aap ko badalana har koee chaahata hai vahee karate ho aur ghamand bhee tabhee aata hai jab paisa rahata hai tabhee insaan kisee doosare ko maarane ke kaatane kee baat karata hai haalaanki yah galat hai nahin karana chaahie ghamand bilkul nahin karana chaahie kyon kyonki aaj hamaare paas daulat hai to kal jaakar shakti kis-kis nideshak kisee kaaran se aae to kisee na kisee kaaran se hamesha ek doosare se dostee banae rakhen aur ghamand bilkul nahin karana chaahie ghamand to bahut bada paap hai ghamand to kisee ka bhee nahin chalata hai isalie ghamand isee ko kahate hain ki kisee ek doosare ko sataana usako dhamakee dena usaka nukasaan kar dena isee ko ghamand karate hain dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:33
हेलो फ्रेंड अंग्रेजी में मूल शब्द का अर्थ नया होता है यह कई वस्तुओं के आगे जोड़कर उसको उसके गुरु को प्रसन्न प्रदर्शित करता है
Helo phrend angrejee mein mool shabd ka arth naya hota hai yah kaee vastuon ke aage jodakar usako usake guru ko prasann pradarshit karata hai

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक:
2:11
नमस्कार मित्र आपने प्रश्न किया है लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं मित्र लोग जब घमंडी होते हैं जब उन्हें हद से ज्यादा या इच्छा से ज्यादा उन्हें मिल जाता है जैसा कि हमने देखा है बहुत सारे लोग इस दुनिया में रहते हैं परंतु जब कोई व्यक्ति गरीब है तो वह बिल्कुल सामान्य तरीके से रहता है और अगर उसी व्यक्ति के पास बहुत सारा पैसा आ जाता है बहुत अमीर हो जाता है तो उस व्यक्ति में बदलाव आ जाएगा उस में घमंड देखने का आपको मिलेगा कारण क्योंकि उसने ऐसा सोचा नहीं था तुझसे इतना पैसा मिल जाएगा गरीब होने के बावजूद भी तो उसमें क्या जाएगा एक घमंड आ जाएगा जबकि व्यक्ति को कभी भी घमंड नहीं करना क्योंकि ईश्वर की कृपा से ही व्यक्ति को सब कुछ मिलता है यह सब कुछ ईश्वर की देन है तो जो आज हमारे पास है जरूरी नहीं कि वह हमेशा ही हमारे पास रहेगा तो आज है और कल नहीं है यह भी ऐसा हो सकता है फिर भी व्यक्ति घमंड करता रहता है और घमंड करने का उसके बाद कारण उनकी जैसे उसे पैसा अधिक मिल रहा है ना बहुत समीर हो गया है और कुछ ज्यादा ही ज्ञानी है कुछ व्यक्ति जो ऐसे भी है जो अपनी पढ़ाई को लेकर के भी घमंड करते हैं कि कोई 10वीं फेल है पर एक बियर खराब है तो बी ए वाला सोचेगा तभी ए कर चुका हूं मैं बहुत पढ़ा लिखा हूं तो वह वैसे घमंड करेगा पर उसे यह नहीं पता कि जितना ज्ञान उसको है उससे ज्यादा ज्ञान उस दसवीं वाले व्यक्ति को भी है तो फिर इसमें घमंड करने की बात क्या हुई इसलिए पति को कभी भी घमंड नहीं करना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar mitr aapane prashn kiya hai log kab jyaada ghamandee ho jaate hain mitr log jab ghamandee hote hain jab unhen had se jyaada ya ichchha se jyaada unhen mil jaata hai jaisa ki hamane dekha hai bahut saare log is duniya mein rahate hain parantu jab koee vyakti gareeb hai to vah bilkul saamaany tareeke se rahata hai aur agar usee vyakti ke paas bahut saara paisa aa jaata hai bahut ameer ho jaata hai to us vyakti mein badalaav aa jaega us mein ghamand dekhane ka aapako milega kaaran kyonki usane aisa socha nahin tha tujhase itana paisa mil jaega gareeb hone ke baavajood bhee to usamen kya jaega ek ghamand aa jaega jabaki vyakti ko kabhee bhee ghamand nahin karana kyonki eeshvar kee krpa se hee vyakti ko sab kuchh milata hai yah sab kuchh eeshvar kee den hai to jo aaj hamaare paas hai jarooree nahin ki vah hamesha hee hamaare paas rahega to aaj hai aur kal nahin hai yah bhee aisa ho sakata hai phir bhee vyakti ghamand karata rahata hai aur ghamand karane ka usake baad kaaran unakee jaise use paisa adhik mil raha hai na bahut sameer ho gaya hai aur kuchh jyaada hee gyaanee hai kuchh vyakti jo aise bhee hai jo apanee padhaee ko lekar ke bhee ghamand karate hain ki koee 10veen phel hai par ek biyar kharaab hai to bee e vaala sochega tabhee e kar chuka hoon main bahut padha likha hoon to vah vaise ghamand karega par use yah nahin pata ki jitana gyaan usako hai usase jyaada gyaan us dasaveen vaale vyakti ko bhee hai to phir isamen ghamand karane kee baat kya huee isalie pati ko kabhee bhee ghamand nahin karana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
rahana khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rahana जी का जवाब
Student
0:38
आपने पूछा कि लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं लोग तभी ज्यादा घमंडी हो जाते हैं जब वह कुछ ऐसा काम कर सकता काम या काम कर सकता है जो बाकी सब नहीं कर सकता है तब वह ज्यादा घमंडी हो जाते हैं वह हर एक सामने हार के सामने बोलते हैं क्यों नहीं कर सकते मैं कर सकती हूं और हमारे यहां गांव तो रब्बर भी ज्यादा होता है जो थोड़ा बहुत गोरा होता है वह हर किसी को बोलते हैं कि वह कितनी काली है और जी बहुत सारे ऐसे बात है तो थैंक यू
Aapane poochha ki log kab jyaada ghamandee ho jaate hain log tabhee jyaada ghamandee ho jaate hain jab vah kuchh aisa kaam kar sakata kaam ya kaam kar sakata hai jo baakee sab nahin kar sakata hai tab vah jyaada ghamandee ho jaate hain vah har ek saamane haar ke saamane bolate hain kyon nahin kar sakate main kar sakatee hoon aur hamaare yahaan gaanv to rabbar bhee jyaada hota hai jo thoda bahut gora hota hai vah har kisee ko bolate hain ki vah kitanee kaalee hai aur jee bahut saare aise baat hai to thaink yoo

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं इस संदर्भ में यह देखा जाता है कि जो मनुष्य के अंदर से उनका पर्सनैलिटी है यानी कि वो उसकी जो इगो है वह किस वेद लेवल की है उसके हिसाब से ही घमंड होता है क्योंकि जनसाधारण में जो कभी आप प्राप्त वस्तुएं प्राप्त होती है तो सहज ही घमंड हो जाता है और यह एक प्रक्रिया होती है कि जिसमें उसमें उसका लाश इतना नियंत्रण हो जाता है जिसकी वजह से वह और चीजों को गौर नहीं करता जो अनुशासन के विपरीत चने की कोशिश करता है यह घमंड का एक रूप होता है जिसमें अपनी स्वतंत्रता और एक क्षमता को वह राजेश नहीं करता और हेलो बोलते हैं उसको दूसरी भाषा में कोई चीज ऐसी उसके साथ जुड़ती है या प्राप्ति होती है अचानक तो यह पाया जाता है आम इंसानों में लेकिन जो दूसरे हिसाब से अपने रुतबे के हिसाब से कुछ और लंबे प्रोसीजर स्थित होते हैं उनको तभी कुछ महसूस होता है कि हां या घमंड को गर्व कहे एक अलग चीज हो जाते हैं लेकिन घमंड हो ना जाता ना समझी की बुनियाद पर होता है क्योंकि वह उसी में ही अपने आप को बहुत मानता की परिभाषा में जोड़ता है यह सब चीजें उसके जीवन की इस नियंत्रण यंत्र शैली पर होती है अगर वह संपन्न है तो या खानदानी सा और इसी से चलता है तो वह साधारण सी जी लगते हैं लेकिन इस स्पेशल जब होता है जिन चीजों का भाव होता है वह प्राप्त होता है तो सेल बाहों में ऐसा भावना होती है लेकिन डांस करने वाले उसको भी हजम कर लेते हैं तो प्रश्न जो आया हुआ इसके साथ के मुताबिक यही है कि जब आप प्राप्त वस्तुएं अगर उसको मिल जाते हैं तो वह इस दौर में आ जाता जिस को घमंड कहा जाता है और अनाचार की स्थिति में उत्पन्न होता है यह जो प्रिय नहीं होता है तो शायद संभव में रहने की जिसमें क्षमता होती है वह अच्छा होता है उसके बारे में यही कहना चाहते धन्यवाद बीजेपी योग्य बोलकर एप्स की ओर
Helo kab jyaada ghamandee ho jaate hain is sandarbh mein yah dekha jaata hai ki jo manushy ke andar se unaka parsanailitee hai yaanee ki vo usakee jo igo hai vah kis ved leval kee hai usake hisaab se hee ghamand hota hai kyonki janasaadhaaran mein jo kabhee aap praapt vastuen praapt hotee hai to sahaj hee ghamand ho jaata hai aur yah ek prakriya hotee hai ki jisamen usamen usaka laash itana niyantran ho jaata hai jisakee vajah se vah aur cheejon ko gaur nahin karata jo anushaasan ke vipareet chane kee koshish karata hai yah ghamand ka ek roop hota hai jisamen apanee svatantrata aur ek kshamata ko vah raajesh nahin karata aur helo bolate hain usako doosaree bhaasha mein koee cheej aisee usake saath judatee hai ya praapti hotee hai achaanak to yah paaya jaata hai aam insaanon mein lekin jo doosare hisaab se apane rutabe ke hisaab se kuchh aur lambe proseejar sthit hote hain unako tabhee kuchh mahasoos hota hai ki haan ya ghamand ko garv kahe ek alag cheej ho jaate hain lekin ghamand ho na jaata na samajhee kee buniyaad par hota hai kyonki vah usee mein hee apane aap ko bahut maanata kee paribhaasha mein jodata hai yah sab cheejen usake jeevan kee is niyantran yantr shailee par hotee hai agar vah sampann hai to ya khaanadaanee sa aur isee se chalata hai to vah saadhaaran see jee lagate hain lekin is speshal jab hota hai jin cheejon ka bhaav hota hai vah praapt hota hai to sel baahon mein aisa bhaavana hotee hai lekin daans karane vaale usako bhee hajam kar lete hain to prashn jo aaya hua isake saath ke mutaabik yahee hai ki jab aap praapt vastuen agar usako mil jaate hain to vah is daur mein aa jaata jis ko ghamand kaha jaata hai aur anaachaar kee sthiti mein utpann hota hai yah jo priy nahin hota hai to shaayad sambhav mein rahane kee jisamen kshamata hotee hai vah achchha hota hai usake baare mein yahee kahana chaahate dhanyavaad beejepee yogy bolakar eps kee or

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:39
नमस्कारा कब से स्नेह लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं तो आपको बता दें कि आत्मविश्वास और अति आत्मविश्वास में सिर्फ एक बार की मोटाई कितना फर्क होता है लोगों को यह समझना पड़ता है या बाद में समझ में आता है कि जो उनका विश्वास था वह अति आत्मविश्वास हुए कब बदल गया जिस कारण हम सब से दूर हो गए लेकिन अच्छा तो यही होगा कि आप हमेशा अपनी जमीन से अपनी जड़ों से जुड़े रहें और कभी भी अपने ऊपर या आपके द्वारा कमाए जाने वाले पैसे या और किसी चीज के ऊपर कभी भी घमंड ना करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaara kab se sneh log kab jyaada ghamandee ho jaate hain to aapako bata den ki aatmavishvaas aur ati aatmavishvaas mein sirph ek baar kee motaee kitana phark hota hai logon ko yah samajhana padata hai ya baad mein samajh mein aata hai ki jo unaka vishvaas tha vah ati aatmavishvaas hue kab badal gaya jis kaaran ham sab se door ho gae lekin achchha to yahee hoga ki aap hamesha apanee jameen se apanee jadon se jude rahen aur kabhee bhee apane oopar ya aapake dvaara kamae jaane vaale paise ya aur kisee cheej ke oopar kabhee bhee ghamand na karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:33
हेलो फ्रेंड अंग्रेजी में मूल शब्द का अर्थ नया होता है यह कई वस्तुओं के आगे जोड़कर उसको उसके गुरु को प्रसन्न प्रदर्शित करता है
Helo phrend angrejee mein mool shabd ka arth naya hota hai yah kaee vastuon ke aage jodakar usako usake guru ko prasann pradarshit karata hai

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:24
तो सवाल है लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं तो दोस्तों सभी ऐसे व्यक्ति नहीं होते हैं जो घमंड करते हैं क्योंकि जो लोग लालची होते हैं जिनके पास पैसा अधिक बढ़ने लगता है धीरे-धीरे उनका घमंड भी बढ़ने लगता है क्योंकि पैसा ऐसी चीज है जो लालची आदमी को घमंडी बना देती है धन्यवाद
To savaal hai log kab jyaada ghamandee ho jaate hain to doston sabhee aise vyakti nahin hote hain jo ghamand karate hain kyonki jo log laalachee hote hain jinake paas paisa adhik badhane lagata hai dheere-dheere unaka ghamand bhee badhane lagata hai kyonki paisa aisee cheej hai jo laalachee aadamee ko ghamandee bana detee hai dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:44
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं दोस्तों लोगों के पास में जब रुपया गड्ढा होने लगता है और बड़ी तेजी से इकट्ठा होने लगता है यानी कि वह अमीर बनने बहुत ही जल्दी शुरू हो जाते हैं तब उनको पैसो का घमंड हो जाता है और बहुत ज्यादा घमंडी हो जाते हैं हालांकि मैं सभी के बारे में नहीं कहना चाहता हूं जो महानुभाव बहुत ही सदा सारे लोग होते हैं जिसके पास धन बहुत है लेकिन विधान भी देते हैं और अपना व्यवहार भी सबके साथ अच्छा रखते हैं तो उनके बारे में हम नहीं कहना चाहते हैं लेकिन बहुत सारे लोग हमने देखे हैं कि पहले उनके पास कुछ नहीं हुआ करता था वह किसी वजह से किसी विशेष कारण से उनके पास बहुत सा धन प्राप्त हो गया था तो वह घमंड करने लग गए थे ऐसे बहुत से लोग हैं खो जाते हैं घमंडी या फिर अपने द्वार खड़ा पड़ोस के लोग होते हैं वह दूसरे की भावनाओं को जलकर भी बहुत एक दूसरे की से कंपटीशन रखते हुए हर किसी चीज में एक घर में रहन-सहन में आगे बढ़ने की कोई अच्छा रखते हैं और थोड़ा सा भी किसी दूसरे पड़ोसी से आगे बढ़ जाते हैं तो भी घमंड करने लगते हैं कुछ लोग तो घमंड बचपन से ही शुरू हो जाता है बच्चों से लेकर के किशोर युवा प्रौढ़ावस्था बूढ़ा बुढ़ापा कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बुढ़ापे में भी अपनी चीजों का घमंड करते हैं रखते हैं दोस्तों सबसे ज्यादा तो प्रभावी है वह धन का है धन जिसके पास होता है वह घमंड स्कूल में पढ़ने लगता है या फिर जो नौकरी पैसे में लोग चले जाते हैं तो हमें काफी ऐसा अपने आस-पड़ोस में अपने दोस्तों में जिक्र करते हुए सुना है कि आज जब वह नौकरी नहीं लगा था आदमी तो बहुत अच्छा था तभी से मेजोल अच्छा रखता था गले मिलते हुए अच्छा बोलता था हालचाल पूछते थे लेकिन जब उनको नौकरी लग गई है तो वह फोन भी नहीं करता आपको बतलाता भी नहीं है बहुत ही ज्यादा अब उनके पास पैसा धन दौलत होने से और शायद वह घमंडी हो जाते हैं तो दोस्तों क्षमा चाहूंगा कि मैं सभी के लिए ऐसा नहीं कह रहा हूं कुछ लोग दोस्तों के बुरी आदतों के मजदूर होते हैं तो उनके लिए मैं कह रहा हूं धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki log kab jyaada ghamandee ho jaate hain doston logon ke paas mein jab rupaya gaddha hone lagata hai aur badee tejee se ikattha hone lagata hai yaanee ki vah ameer banane bahut hee jaldee shuroo ho jaate hain tab unako paiso ka ghamand ho jaata hai aur bahut jyaada ghamandee ho jaate hain haalaanki main sabhee ke baare mein nahin kahana chaahata hoon jo mahaanubhaav bahut hee sada saare log hote hain jisake paas dhan bahut hai lekin vidhaan bhee dete hain aur apana vyavahaar bhee sabake saath achchha rakhate hain to unake baare mein ham nahin kahana chaahate hain lekin bahut saare log hamane dekhe hain ki pahale unake paas kuchh nahin hua karata tha vah kisee vajah se kisee vishesh kaaran se unake paas bahut sa dhan praapt ho gaya tha to vah ghamand karane lag gae the aise bahut se log hain kho jaate hain ghamandee ya phir apane dvaar khada pados ke log hote hain vah doosare kee bhaavanaon ko jalakar bhee bahut ek doosare kee se kampateeshan rakhate hue har kisee cheej mein ek ghar mein rahan-sahan mein aage badhane kee koee achchha rakhate hain aur thoda sa bhee kisee doosare padosee se aage badh jaate hain to bhee ghamand karane lagate hain kuchh log to ghamand bachapan se hee shuroo ho jaata hai bachchon se lekar ke kishor yuva praudhaavastha boodha budhaapa kuchh log aise hote hain jo budhaape mein bhee apanee cheejon ka ghamand karate hain rakhate hain doston sabase jyaada to prabhaavee hai vah dhan ka hai dhan jisake paas hota hai vah ghamand skool mein padhane lagata hai ya phir jo naukaree paise mein log chale jaate hain to hamen kaaphee aisa apane aas-pados mein apane doston mein jikr karate hue suna hai ki aaj jab vah naukaree nahin laga tha aadamee to bahut achchha tha tabhee se mejol achchha rakhata tha gale milate hue achchha bolata tha haalachaal poochhate the lekin jab unako naukaree lag gaee hai to vah phon bhee nahin karata aapako batalaata bhee nahin hai bahut hee jyaada ab unake paas paisa dhan daulat hone se aur shaayad vah ghamandee ho jaate hain to doston kshama chaahoonga ki main sabhee ke lie aisa nahin kah raha hoon kuchh log doston ke buree aadaton ke majadoor hote hain to unake lie main kah raha hoon dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
er. ramphal bind Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए er. जी का जवाब
Private job
0:57
प्रश्न आपका हेलो कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं जरूर मैं आपको आप लोगों को बताना चाहता हूं मेरा जैसा कि स्वयं से इसमें ज्यादा घमंडी या घमंडी होने की कोई बात नहीं होती क्या होता है कि जब इंसान धीरे-धीरे समय समय पर क्या होता है उसकी लेवल बढ़ते जाते हैं या नहीं कभी वह पढ़ाई के उस थम रहा कभी धीरे-धीरे कमाने की रोकथाम आ गया या पारिवारिक हम आगे क्या होता है कितनी बिजी लाइफ हो जाती है जिससे कि वह दूसरों को अपने कर्मियों को समय नहीं दे पाता तो उनके करीबियों को लगता है यह तो बहुत पैसे कमाने लगा इसलिए घमंडी हो गया यह पूछता नहीं है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि आप एक एक शब्द में कहा जाए तो सिंपल सी बात है आप जैसा सोचेंगे कि आप जैसी नजरिया होगी वैसी आपके लोग नजर आएंगे घमंडी होने की कोई इसमें बात ही नहीं होती
Prashn aapaka helo kab jyaada ghamandee ho jaate hain jaroor main aapako aap logon ko bataana chaahata hoon mera jaisa ki svayan se isamen jyaada ghamandee ya ghamandee hone kee koee baat nahin hotee kya hota hai ki jab insaan dheere-dheere samay samay par kya hota hai usakee leval badhate jaate hain ya nahin kabhee vah padhaee ke us tham raha kabhee dheere-dheere kamaane kee rokathaam aa gaya ya paarivaarik ham aage kya hota hai kitanee bijee laiph ho jaatee hai jisase ki vah doosaron ko apane karmiyon ko samay nahin de paata to unake kareebiyon ko lagata hai yah to bahut paise kamaane laga isalie ghamandee ho gaya yah poochhata nahin hai lekin aisa bilkul nahin hai kyonki aap ek ek shabd mein kaha jae to simpal see baat hai aap jaisa sochenge ki aap jaisee najariya hogee vaisee aapake log najar aaenge ghamandee hone kee koee isamen baat hee nahin hotee

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
jayprakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jayprakash जी का जवाब
Unknown
1:25

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Astha Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Astha जी का जवाब
Unknown
0:17

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Shyam sundar Nai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shyam जी का जवाब
नोकरी
0:14
अधिकतर लोग जो उनके पास बहुत अधिक पैसा हो जाता है या किसी बड़े पद को प्राप्त कर लेते हैं तो वह घमंडी हो जाते हैं धन्यवाद
Adhikatar log jo unake paas bahut adhik paisa ho jaata hai ya kisee bade pad ko praapt kar lete hain to vah ghamandee ho jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:46
आपका प्रश्न है लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं तो फ्रेंड से जब किसी को जरूरत से ज्यादा इज्जत सम्मान पैसा यह जरूरत से अधिक कोई भी चीज मिल जाती है तो वह घमंडी हो जाते हैं ज्यादातर लोग तो पैसे के मारे घमंड में आ जाते हैं कि हमारे पास बहुत धन दौलत है और कोई कोई के पास कोई ऐसा विशेष गुण होता है जिसकी वजह से वह घमंड में आ जाते हैं कमेंट नहीं होना चाहिए मंडोना बहुत गलत बात होती है लेकिन बहुत सारे लोग घमंडी हो जाते हैं और किसी से बात नहीं करते ढंग से और घमंड दिखाती रहती हैं तो ज्यादातर पैसे आने पर ले घमंडी हो जाते हैं वैसा ही लोगों का घमंड का कारण बन जाता है तो फ्रेंड्स जवाब अच्छे लगे तो लाइक करें धन्यवाद
Aapaka prashn hai log kab jyaada ghamandee ho jaate hain to phrend se jab kisee ko jaroorat se jyaada ijjat sammaan paisa yah jaroorat se adhik koee bhee cheej mil jaatee hai to vah ghamandee ho jaate hain jyaadaatar log to paise ke maare ghamand mein aa jaate hain ki hamaare paas bahut dhan daulat hai aur koee koee ke paas koee aisa vishesh gun hota hai jisakee vajah se vah ghamand mein aa jaate hain kament nahin hona chaahie mandona bahut galat baat hotee hai lekin bahut saare log ghamandee ho jaate hain aur kisee se baat nahin karate dhang se aur ghamand dikhaatee rahatee hain to jyaadaatar paise aane par le ghamandee ho jaate hain vaisa hee logon ka ghamand ka kaaran ban jaata hai to phrends javaab achchhe lage to laik karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard