#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?

Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:36
हेलो जुबान तो आज आपका सवाल है कि लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं उधर कोई भी एक चित्र में क्यों काम करता है तब तक काम करता जब सुविधाएं फैसिलिटी इज द बेसिक चीज अगर उनका पूरा हो पाता है जरूरतें पूरी हो पाती तब कोई भी इंसान काम करता है क्षेत्र की बात करें तो देखिए वहां पर अभी हम जलन हो रहा है इतनी सारी किसान सुसाइड करते रहते आए दिन हम लोग न्यूज़ में भी यह बात देखते कि इतने सारे लोग साइट कर क्षेत्र में वहां पर कोई फैसिलिटी फैसिलिटी छोड़िए जरूरत की चीजें भी उनकी पूरी नहीं हो पाती जो पूरी देश दुनिया को खाना देते हैं उनके घर में ही एक वक्त का खाना नसीब नहीं हो पाता ना ही उनकी फैमिली ना ही कोई भी इंसान अच्छे से रह पाता है तो जिस वजह से बहुत सारे किसानों के मन में यह मेंटालिटी आ गया कि हम अगर किसान बन के तो हमारे बच्चे नहीं बने और हम भी कहीं ना कहीं कोई अलग नौकरी जॉब देखें आता कि यहां इस क्षेत्र से हटकर कुछ काम करें दो चार पैसे कमाए और अपनी जरूरत को पूरा कर सके क्षेत्र में वापस लेनी चाहिए ऐसी सुविधाएं देनी चाहिए ताकि कोई भी इंसान वहां उस क्षेत्र के बारे में ऐसा ना सोचे कि अच्छा नहीं और मैं यहां से हट जाऊं तो मतलब लोगों को चाहे वो कोई भी क्षेत्र के किसान की समस्या हेतु सरकार को सोचना चाहिए अगर कोई भी नौकरी या कोई भी जॉब कोई भी छेद रहे तो वहां के बारे में भी सोचना चाहिए कंपनी के मालिकों कि वह ऐसी चीज प्रोवाइड करें ताकि कोई भी वहां से हट कर दूसरे खेती के बारे में
Helo jubaan to aaj aapaka savaal hai ki log kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain udhar koee bhee ek chitr mein kyon kaam karata hai tab tak kaam karata jab suvidhaen phaisilitee ij da besik cheej agar unaka poora ho paata hai jarooraten pooree ho paatee tab koee bhee insaan kaam karata hai kshetr kee baat karen to dekhie vahaan par abhee ham jalan ho raha hai itanee saaree kisaan susaid karate rahate aae din ham log nyooz mein bhee yah baat dekhate ki itane saare log sait kar kshetr mein vahaan par koee phaisilitee phaisilitee chhodie jaroorat kee cheejen bhee unakee pooree nahin ho paatee jo pooree desh duniya ko khaana dete hain unake ghar mein hee ek vakt ka khaana naseeb nahin ho paata na hee unakee phaimilee na hee koee bhee insaan achchhe se rah paata hai to jis vajah se bahut saare kisaanon ke man mein yah mentaalitee aa gaya ki ham agar kisaan ban ke to hamaare bachche nahin bane aur ham bhee kaheen na kaheen koee alag naukaree job dekhen aata ki yahaan is kshetr se hatakar kuchh kaam karen do chaar paise kamae aur apanee jaroorat ko poora kar sake kshetr mein vaapas lenee chaahie aisee suvidhaen denee chaahie taaki koee bhee insaan vahaan us kshetr ke baare mein aisa na soche ki achchha nahin aur main yahaan se hat jaoon to matalab logon ko chaahe vo koee bhee kshetr ke kisaan kee samasya hetu sarakaar ko sochana chaahie agar koee bhee naukaree ya koee bhee job koee bhee chhed rahe to vahaan ke baare mein bhee sochana chaahie kampanee ke maalikon ki vah aisee cheej provaid karen taaki koee bhee vahaan se hat kar doosare khetee ke baare mein

और जवाब सुनें

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:12
हेलो किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं दोस्तों जाने कि दूसरे क्षेत्र में किए जा रहे हैं उनको उपलब्ध नहीं हो रहा है दूसरी बात ग्लोबिंग वार्मिंग की वजह से वर्षा जो है वह भी कम हो रही है यही कारण है कि जो हमारी अधिकांश जो बंजर हो रही है अब बंजर भूमि के अंदर ना तो करती होगी और वहां पर पानी की सुविधा नहीं है और दूसरा बारिश भी नहीं चाहता क्योंकि वह अपने अच्छे भविष्य की तलाश के लिए दूसरे क्षेत्र की ओर जाता है वह शहरी क्षेत्र के अंदर जाता है कारखाने के अंदर काम करता है जो बच्चे हैं अपने परिवार के उन का भरण पोषण करता है तो यही कारण है कि नहीं है एक अच्छा भविष्य देखने के लिए पढ़ाई अपने बच्चों के पढ़ाई के लिए
Helo kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain doston jaane ki doosare kshetr mein kie ja rahe hain unako upalabdh nahin ho raha hai doosaree baat globing vaarming kee vajah se varsha jo hai vah bhee kam ho rahee hai yahee kaaran hai ki jo hamaaree adhikaansh jo banjar ho rahee hai ab banjar bhoomi ke andar na to karatee hogee aur vahaan par paanee kee suvidha nahin hai aur doosara baarish bhee nahin chaahata kyonki vah apane achchhe bhavishy kee talaash ke lie doosare kshetr kee or jaata hai vah shaharee kshetr ke andar jaata hai kaarakhaane ke andar kaam karata hai jo bachche hain apane parivaar ke un ka bharan poshan karata hai to yahee kaaran hai ki nahin hai ek achchha bhavishy dekhane ke lie padhaee apane bachchon ke padhaee ke lie

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:02
नमस्कार मैं एक ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाला व्यक्ति मुझे पता है कि लोग कृषि छोड़कर यश जो शहरी क्षेत्र है यह उसी में सब को छोड़कर दूसरे क्षेत्रों में क्यों जा रहे हो क्योंकि कृषि है वह दुआ है यहां पर भारत में है अक्षय बारिश सही तरीके से नहीं होती है तो जब बारिश नहीं होगी तो फसलें बर्बाद हो जाती है एक बार लगा हुआ पैसा डूब जाता है और कुछ नहीं आता था तो इसलिए कृषि को छोड़ रहे हैं लोग इसके अलावा किसी को छोड़ने की और भी बहुत से कारण है कि जो जो पग आगे बढ़े खेतों के जो खेत एवं छोटे होते जा रहे हैं जब छोटे थे तो कहां पर कम फसल होगी और तुम फसल होगी तो एक व्यक्ति का जीवन यापन नहीं होगी यह भी कारणों का काम छोटा हो जाता है इसके अलावा सिर्फ खेती पर निर्भर नहीं रहा जा सकता खर्चे बढ़ गए हैं आज के समय में विलासिता की वस्तुओं की अधिक मांग रहती है इसी कारण से भी खेती करना चोट रखें करनी है
Namaskaar main ek graameen kshetr mein rahane vaala vyakti mujhe pata hai ki log krshi chhodakar yash jo shaharee kshetr hai yah usee mein sab ko chhodakar doosare kshetron mein kyon ja rahe ho kyonki krshi hai vah dua hai yahaan par bhaarat mein hai akshay baarish sahee tareeke se nahin hotee hai to jab baarish nahin hogee to phasalen barbaad ho jaatee hai ek baar laga hua paisa doob jaata hai aur kuchh nahin aata tha to isalie krshi ko chhod rahe hain log isake alaava kisee ko chhodane kee aur bhee bahut se kaaran hai ki jo jo pag aage badhe kheton ke jo khet evan chhote hote ja rahe hain jab chhote the to kahaan par kam phasal hogee aur tum phasal hogee to ek vyakti ka jeevan yaapan nahin hogee yah bhee kaaranon ka kaam chhota ho jaata hai isake alaava sirph khetee par nirbhar nahin raha ja sakata kharche badh gae hain aaj ke samay mein vilaasita kee vastuon kee adhik maang rahatee hai isee kaaran se bhee khetee karana chot rakhen karanee hai

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:54
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका पेट में लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं तो फ्रेंड सृष्टि ज्यादातर पानी के ऊपर निर्भर होती है तो कभी कभी बारिश होती है कभी नहीं होती है तो कृषि में लोगों को घाटा लग जाता है किसानी करने में इसीलिए लोग और दूसरे व्यवसाय भी कर रहे हैं नौकरियां भी कर रहे हैं एकदम खेती पर निर्भर नहीं रह रहे हैं खेती में हमेशा फायदा नहीं होता है वह मानसून के ऊपर होता है अगर मानसून नहीं आता तो उसमें नुकसान हो जाता है इसीलिए लोग दूसरे व्यवसाय की तरफ भी अपना ध्यान कम दे रहे हैं और दूसरे विषय करना पसंद कर रहे हैं खाली और कृषि में मेहनत भी बहुत ज्यादा होती है तो लोग बहुत ज्यादा मेहनत भी नहीं करना चाहते इसीलिए अपना कोई दूसरा नौकरी में शायद धंधा कर रहे हैं तो फ्रेंड जवाब पसंद आए तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka pet mein log kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain to phrend srshti jyaadaatar paanee ke oopar nirbhar hotee hai to kabhee kabhee baarish hotee hai kabhee nahin hotee hai to krshi mein logon ko ghaata lag jaata hai kisaanee karane mein iseelie log aur doosare vyavasaay bhee kar rahe hain naukariyaan bhee kar rahe hain ekadam khetee par nirbhar nahin rah rahe hain khetee mein hamesha phaayada nahin hota hai vah maanasoon ke oopar hota hai agar maanasoon nahin aata to usamen nukasaan ho jaata hai iseelie log doosare vyavasaay kee taraph bhee apana dhyaan kam de rahe hain aur doosare vishay karana pasand kar rahe hain khaalee aur krshi mein mehanat bhee bahut jyaada hotee hai to log bahut jyaada mehanat bhee nahin karana chaahate iseelie apana koee doosara naukaree mein shaayad dhandha kar rahe hain to phrend javaab pasand aae to laik keejiega dhanyavaad

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
s Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए s जी का जवाब
Unknown
0:07

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:36
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं तो दोस्तों कृषि क्षेत्र ऐसा क्षेत्र है मात्र एक ऐसा भारत में जो मैन फैक्चरिंग यूनिट है जहां पर मैन्युफैक्चरर हमेशा गरीब रहता है नहीं तो आप कोई भी ऐसी चीज देख ले का व्यवसाय देखने जो निर्माण करता हो उसने आगे प्रॉफिट में बेच रहा है वह कभी भी गरीब नहीं होगा डिस्ट्रीब्यूटर हमेशा जो है मैम फैक्चर है डिस्ट्रीब्यूटर से हमेशा पैसे वाला होता है क्योंकि मार्जिन तो नीचे ही मिलता है लेकिन कृषि क्षेत्र में किसान बनकर होते हुए भी गरीब है क्यों क्योंकि उसकी गरीबी का फायदा और उसकी अज्ञानता का फायदा दलाल बीच में ले रहे हैं मैं दिल्ली में बहुत सारे ऐसे क्लाइंट को जानता हूं जो करोड़पति है बस फोन पर बात करते हैं और ट्रक इधर से उधर गेहूं का करते हैं और पैसे में दलाली मिल जाती है तो दलालों को जब तक खत्म नहीं किया जाएगा तब तक किसी में कोई रुचि नहीं ले और बड़ी समस्या की बात है कि अगर हम कृषि मेन अपना व्यवसाय छोड़ देंगे भारत का तो हमें बाहर से आयात करना पड़ेगा अब आजकल ऑर्गेनिक फार्मिंग में बच्चे लोग युवा जा रहे हैं उसके अंदर की जो समझदार है लेकिन अभी भी कम है जो मेन जमीन से जुड़े किसान हैं वह उनके आगे बच्चे जो है खेती करना पसंद नहीं कर रहे हैं वह देख जिंदगी भर गरीबी में ही जीना है तो शिवन्या नौकरी कर लो कोई अच्छा कार्य कर लो तो यह चिंता का विषय है सरकार ने एक जो कानून बनाया है अच्छा बनाया है लेकिन दलालों को इस में दिक्कत आ रही है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki log kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain to doston krshi kshetr aisa kshetr hai maatr ek aisa bhaarat mein jo main phaikcharing yoonit hai jahaan par mainyuphaikcharar hamesha gareeb rahata hai nahin to aap koee bhee aisee cheej dekh le ka vyavasaay dekhane jo nirmaan karata ho usane aage prophit mein bech raha hai vah kabhee bhee gareeb nahin hoga distreebyootar hamesha jo hai maim phaikchar hai distreebyootar se hamesha paise vaala hota hai kyonki maarjin to neeche hee milata hai lekin krshi kshetr mein kisaan banakar hote hue bhee gareeb hai kyon kyonki usakee gareebee ka phaayada aur usakee agyaanata ka phaayada dalaal beech mein le rahe hain main dillee mein bahut saare aise klaint ko jaanata hoon jo karodapati hai bas phon par baat karate hain aur trak idhar se udhar gehoon ka karate hain aur paise mein dalaalee mil jaatee hai to dalaalon ko jab tak khatm nahin kiya jaega tab tak kisee mein koee ruchi nahin le aur badee samasya kee baat hai ki agar ham krshi men apana vyavasaay chhod denge bhaarat ka to hamen baahar se aayaat karana padega ab aajakal orgenik phaarming mein bachche log yuva ja rahe hain usake andar kee jo samajhadaar hai lekin abhee bhee kam hai jo men jameen se jude kisaan hain vah unake aage bachche jo hai khetee karana pasand nahin kar rahe hain vah dekh jindagee bhar gareebee mein hee jeena hai to shivanya naukaree kar lo koee achchha kaary kar lo to yah chinta ka vishay hai sarakaar ne ek jo kaanoon banaaya hai achchha banaaya hai lekin dalaalon ko is mein dikkat aa rahee hai dhanyavaad

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं दीक्षित फ्रेंड कृषि का जो व्यवसाय है वह पहले की अपेक्षा अब उसमें कुछ रहा नहीं है फ्रेंड इसलिए जो है लोग दूसरे व्यवसाय की तरफ अग्रसर हो रहे हैं क्योंकि फ्रेंड अगर पहले की अपेक्षा देखा जाए तो पहले की जमीन ज्योति मजबूत ही उठ जाओ थी उसमें जो है हर एक फसल उगाने की क्षमता थी आज की जो मिट्टी हो गए फ्रेंड उसमें उर्वरक शक्ति जो है वो उसकी खत्म हो चुकी है आजकल के जोक दिखा दो गहरा रहे वह भी मिलावटी प्रकार के आ रहे हैं उतनी ताकत जो है हमारी खेतों को वह नहीं दे पाते इसलिए जो है वह खेतों में उस प्रकार की उत्पादन जो है वह नहीं हो पाती उत्पादन अब जो है फ्रेंड खेती अगर है तो किसी के लिए है वह है जिसके पास बहुत सारा व्यवसाय मतलब बड़ी मात्रा में वही जो है इन सब चीजों को जो है कर सकता है और बड़ी मात्रा में चाहे जो फ्रेंड चाहे वह खेत हो या फिर बिजनेस हो बड़ी मात्रा में ही वह सक्सेस होता है क्योंकि उसमें आप जितना लागत लगाते हैं उतना या उससे अधिक कहीं जो है वह आप निकाल लेते हैं आजकल आप देखते हैं अगर आपके पास छोटी खेती है तो आपको बस उसमें से आपका जीवन यापन करने के लिए ही उत्पादन हो सकता है मिल सकता है अगर आप चाहे क्या आप अपनी खेती से अपना मकान बना ले कहीं पर जमीन ले ले अपनी बच्ची का भविष्य सुधारने दी यह असंभव है फिर खेती से जो है सिर्फ अपना जीवन यापन किया जा सकता है इसके लिए अगर किसी प्रकार की अन्य सोर्स अगर हम करना चाहे तो हम नहीं कर सकते अब रीजन यही है फ्रेंड की जैसे की जुताई महंगी हो गई है खाद मिट्टी मांगी हो गई है और ऊपर से भेजो खेत खेतों में इतनी क्षमता नहीं हुई है कि वह उत्पादन उतनी अच्छी क्वालिटी के दे सके तो यही सब कंडीशन है कि लोग खेती से अब अपना मुंह मोड़ रहे हैं लेकिन प्रिंट जिनके पास है वह चाहे जितनी भी इसी दिया जाए गड़बड़ चाहे खाद मांगा हो जाए या फिर उर्वरक कम हो जाए तो उनको तो चैटिंग करनी है करनी है फ्रेंड माली जी हमारे पास कीर्ति है तो हम छोड़कर तो जा नहीं सकते ना फ्रेंड्स हमें उस में कुछ ना कुछ उत्पादन जो है वह करना है और अगर उत्पादन हो रहा है तो मार्केट से कहीं ना कहीं जो है हमें ज्यादा मिलेगा से हालांकि जितना आप पैसा लगाकर मार्केट चलेंगे तो मार्केट वाली चीज मिलावटी भी होती है और वह जो है केमिकल रही थी होती है लेकिन हमारे यहां जो उत्पादन होता है वह कर थोड़ा सा भी आप आएंगे तो वह बिना मिलावट के पाएंगे और शुद्ध पाएंगे इसलिए कहीं न कहीं खेती का उपयोग तो होना ही होना है शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai log kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain deekshit phrend krshi ka jo vyavasaay hai vah pahale kee apeksha ab usamen kuchh raha nahin hai phrend isalie jo hai log doosare vyavasaay kee taraph agrasar ho rahe hain kyonki phrend agar pahale kee apeksha dekha jae to pahale kee jameen jyoti majaboot hee uth jao thee usamen jo hai har ek phasal ugaane kee kshamata thee aaj kee jo mittee ho gae phrend usamen urvarak shakti jo hai vo usakee khatm ho chukee hai aajakal ke jok dikha do gahara rahe vah bhee milaavatee prakaar ke aa rahe hain utanee taakat jo hai hamaaree kheton ko vah nahin de paate isalie jo hai vah kheton mein us prakaar kee utpaadan jo hai vah nahin ho paatee utpaadan ab jo hai phrend khetee agar hai to kisee ke lie hai vah hai jisake paas bahut saara vyavasaay matalab badee maatra mein vahee jo hai in sab cheejon ko jo hai kar sakata hai aur badee maatra mein chaahe jo phrend chaahe vah khet ho ya phir bijanes ho badee maatra mein hee vah sakses hota hai kyonki usamen aap jitana laagat lagaate hain utana ya usase adhik kaheen jo hai vah aap nikaal lete hain aajakal aap dekhate hain agar aapake paas chhotee khetee hai to aapako bas usamen se aapaka jeevan yaapan karane ke lie hee utpaadan ho sakata hai mil sakata hai agar aap chaahe kya aap apanee khetee se apana makaan bana le kaheen par jameen le le apanee bachchee ka bhavishy sudhaarane dee yah asambhav hai phir khetee se jo hai sirph apana jeevan yaapan kiya ja sakata hai isake lie agar kisee prakaar kee any sors agar ham karana chaahe to ham nahin kar sakate ab reejan yahee hai phrend kee jaise kee jutaee mahangee ho gaee hai khaad mittee maangee ho gaee hai aur oopar se bhejo khet kheton mein itanee kshamata nahin huee hai ki vah utpaadan utanee achchhee kvaalitee ke de sake to yahee sab kandeeshan hai ki log khetee se ab apana munh mod rahe hain lekin print jinake paas hai vah chaahe jitanee bhee isee diya jae gadabad chaahe khaad maanga ho jae ya phir urvarak kam ho jae to unako to chaiting karanee hai karanee hai phrend maalee jee hamaare paas keerti hai to ham chhodakar to ja nahin sakate na phrends hamen us mein kuchh na kuchh utpaadan jo hai vah karana hai aur agar utpaadan ho raha hai to maarket se kaheen na kaheen jo hai hamen jyaada milega se haalaanki jitana aap paisa lagaakar maarket chalenge to maarket vaalee cheej milaavatee bhee hotee hai aur vah jo hai kemikal rahee thee hotee hai lekin hamaare yahaan jo utpaadan hota hai vah kar thoda sa bhee aap aaenge to vah bina milaavat ke paenge aur shuddh paenge isalie kaheen na kaheen khetee ka upayog to hona hee hona hai shukriya

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
2:46
छा गया है किलो किन कारणों से कृषि व्यवसाय को छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं तो देखिए कृषि व्यवसाय को छोड़ने के पीछे का मुख्य कारण यह है कि आमदनी जो है लागत के पिक्चर जो है बहुत ज्यादा नहीं है कई बार तो लागत जितनी भी आमदनी नहीं हो पाती किसान को और उसमें उनका लेबल उनका समूह तो अकाउंट भी नहीं कर सकते अब जितनी उनकी लागत लगती है उससे कुछ एक ज्यादा ही उनका जो है जो आमदनी होती है उसकी लागत के अपेक्षा और उनका साल भर का लेबर और घरवालों का लेबर और वह सब चीजें तो बिल्कुल कंसीडर नहीं करी जाती यही कारण है कि लोग किसी को छोड़ना चाहते हैं अगर किसी तरीके से सरकार इस बात पर ध्यान देते कि किसानों की जो इनकम है उनकी आमदनी बढ़ जाए तो उससे यह होगा कि हेलो कृषि की तरफ ज्यादा ध्यान देने लगेंगे कृषि एक ऐसा व्यवसाय है जहां पर आपको बहुत लगाव महसूस होता है अपनी जमीन से जुड़ा हुआ अनुभव महसूस होता है लेकिन बस बात यही कि जब आपकी इनकम इतनी ज्यादा नहीं हो पाती है आपकी फैमिली एक मिडलाइफ भी नहीं दे पाती है तो फिर आप उस व्यवसाय की तरफ इतना ज्यादा का रुझान नहीं रह जाता तो सरकार को यह करना चाहिए कि जितना भी किसान अनाज उगाता है उसका पूरा प्रॉफिट किसान को मिले जैसे कि अगर बात करते खेती की इंडिया में चावल सबसे ज्यादा उगाया जाता है तो गर्म बात करते चावल की तो जब एक किसान उस चावल को भेजता है तो अभी स्टेट के अकॉर्डिंग कुछ 2525 ओ धान की कीमत रखी गई है 2000 से 25 100 पर क्विंटल मतलब 100 किलो का ₹2000 मतलब एक केजी चावल का ₹20 अब जब हम यही चावल मार्केट से खरीदते अपने यूज़ के लिए तो उसकी कीमत लगभग ₹100 पर किलोग्राम हो जाती है तो देखिए कितना ज्यादा वेरी सेना गया बिचौलियों ने खा लिया व्यापारियों ने खा लिया कंपनीज उसका प्रॉफिट ले रही है लेकिन जो असल में उस चावल को उगा रहा है उसके सान के पास सिर्फ 1 किलो का ₹20 होता है और जब हम लोग चावल खरीदे हमारे पास ₹100 है तो क्या यह नहीं होना चाहिए चावल का कम से कम ₹50 सत्तर रुपए उस किसान के पास जाना चाहिए जब किसान को एक प्रॉफिट होगा अपने फैसलों से तो फिर वह कृषि की तरफ ज्यादा उसका रुझानों कर लोग कृषि के तरफ वापस आएंगे क्योंकि इंडिया एक कृषि प्रधान देश है और हम इसमें काफी ज्यादा तरक्की कर सकते और काफी ज्यादा तरक्की हम कर भी रहे पर परेशानी के किसान तरक्की में क्या बे किसान को फायदा नहीं मिल रहा है उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Chha gaya hai kilo kin kaaranon se krshi vyavasaay ko chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain to dekhie krshi vyavasaay ko chhodane ke peechhe ka mukhy kaaran yah hai ki aamadanee jo hai laagat ke pikchar jo hai bahut jyaada nahin hai kaee baar to laagat jitanee bhee aamadanee nahin ho paatee kisaan ko aur usamen unaka lebal unaka samooh to akaunt bhee nahin kar sakate ab jitanee unakee laagat lagatee hai usase kuchh ek jyaada hee unaka jo hai jo aamadanee hotee hai usakee laagat ke apeksha aur unaka saal bhar ka lebar aur gharavaalon ka lebar aur vah sab cheejen to bilkul kanseedar nahin karee jaatee yahee kaaran hai ki log kisee ko chhodana chaahate hain agar kisee tareeke se sarakaar is baat par dhyaan dete ki kisaanon kee jo inakam hai unakee aamadanee badh jae to usase yah hoga ki helo krshi kee taraph jyaada dhyaan dene lagenge krshi ek aisa vyavasaay hai jahaan par aapako bahut lagaav mahasoos hota hai apanee jameen se juda hua anubhav mahasoos hota hai lekin bas baat yahee ki jab aapakee inakam itanee jyaada nahin ho paatee hai aapakee phaimilee ek midalaiph bhee nahin de paatee hai to phir aap us vyavasaay kee taraph itana jyaada ka rujhaan nahin rah jaata to sarakaar ko yah karana chaahie ki jitana bhee kisaan anaaj ugaata hai usaka poora prophit kisaan ko mile jaise ki agar baat karate khetee kee indiya mein chaaval sabase jyaada ugaaya jaata hai to garm baat karate chaaval kee to jab ek kisaan us chaaval ko bhejata hai to abhee stet ke akording kuchh 2525 o dhaan kee keemat rakhee gaee hai 2000 se 25 100 par kvintal matalab 100 kilo ka ₹2000 matalab ek kejee chaaval ka ₹20 ab jab ham yahee chaaval maarket se khareedate apane yooz ke lie to usakee keemat lagabhag ₹100 par kilograam ho jaatee hai to dekhie kitana jyaada veree sena gaya bichauliyon ne kha liya vyaapaariyon ne kha liya kampaneej usaka prophit le rahee hai lekin jo asal mein us chaaval ko uga raha hai usake saan ke paas sirph 1 kilo ka ₹20 hota hai aur jab ham log chaaval khareede hamaare paas ₹100 hai to kya yah nahin hona chaahie chaaval ka kam se kam ₹50 sattar rupe us kisaan ke paas jaana chaahie jab kisaan ko ek prophit hoga apane phaisalon se to phir vah krshi kee taraph jyaada usaka rujhaanon kar log krshi ke taraph vaapas aaenge kyonki indiya ek krshi pradhaan desh hai aur ham isamen kaaphee jyaada tarakkee kar sakate aur kaaphee jyaada tarakkee ham kar bhee rahe par pareshaanee ke kisaan tarakkee mein kya be kisaan ko phaayada nahin mil raha hai ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं?Log Kin Karnon Se Krishi Vyavsay Chodkar Dusre Shetr Mein Ja Rahe Hain
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:53
ट्रांस क्वेश्चन पूछा जाए कि लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्रों में जा रहे हैं तो अगर भारत की बात करें तो भारत में ऐसे कई समस्याएं हैं जिनसे लोक से कृषि व्यवसाय को छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं साली की हम अपने अगर हम कृषि व्यवसाय से जुड़ रहे हैं तो पहला की सरकार द्वारा दी जाने वाली है जितना भी किसी व्यवसाय के क्षेत्र में ठंड होता है वह तो समय पर नहीं मिल पाता है और दूसरी कि हमें हर जगह जगह पर और हर गांव में देखा जा रहा है कि आज के समय में जो हैं में राशन जो है आसानी से मिल जा रहा है इंटरेस्ट इसे अगर देखा जाए तो लोग को लोगों को आज कल में कृषि व्यवसाय जितना जो है छिपा नहीं दिखाई दे रहा है जिससे क्या कि वह दूसरे क्षेत्रों में जा रहे हैं
Traans kveshchan poochha jae ki log kin kaaranon se krshi vyavasaay chhodakar doosare kshetron mein ja rahe hain to agar bhaarat kee baat karen to bhaarat mein aise kaee samasyaen hain jinase lok se krshi vyavasaay ko chhodakar doosare kshetr mein ja rahe hain saalee kee ham apane agar ham krshi vyavasaay se jud rahe hain to pahala kee sarakaar dvaara dee jaane vaalee hai jitana bhee kisee vyavasaay ke kshetr mein thand hota hai vah to samay par nahin mil paata hai aur doosaree ki hamen har jagah jagah par aur har gaanv mein dekha ja raha hai ki aaj ke samay mein jo hain mein raashan jo hai aasaanee se mil ja raha hai intarest ise agar dekha jae to log ko logon ko aaj kal mein krshi vyavasaay jitana jo hai chhipa nahin dikhaee de raha hai jisase kya ki vah doosare kshetron mein ja rahe hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • लोग किन कारणों से कृषि व्यवसाय छोड़कर दूसरे क्षेत्र में जा रहे हैं, लोग कृषि व्यवसाय क्यों छोड़ रहा‌‌ है
URL copied to clipboard