#टेक्नोलॉजी

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:08
क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आज आवश्यकता कम हो गई है निश्चित रूप से अंगड़िया कभी कहीं पर दिखती भी नहीं है बहुत कम लोग दिखाई देते हैं घड़ी पहनी मैं खुद तो घड़ी की सोच भी नहीं सोचता भी नहीं है कभी पहले पिछले कई सालों से और कभी 1 दिन बाद बीच में घड़ी बनाई तो थोड़ा अस्वस्थता का अनुभव तो मैंने घड़ी पहनना बंद कर दिया मोबाइल में तो टाइम होता है टाइम तो क्या जो चाहे वह चीजें और इसके लिए तो उसके कारण तो उसमें खोपड़ी डालकर बैठे हुए हैं सारी दुनिया में लोग और उसी तरीके की की गर्दन आगे जाकर निर्माण हो सकती है इंसान में ऐसा भी वह मानवशास्त्र ने जो है और उत्क्रांति वाले फ्री वाले जो साइंस साइंटिस्ट है वह बता रहे अभी और जो हमारी हमारी उंगली है उसने जो मोबाइल को यूज करने वाली उंगली आए रिंगटोन जो है वह और अलग तरीके से डेवलप डेवलप हो सकती है ऐसा भी बताते हैं आंखें आंखों में विषम हो सकता है उसका स्ट्रक्चर बदल सकता है सभी युवा लुसेंट खेड़ी वाले कह रहे हैं और दिमाग में भी प्रॉब्लम भी होने वाले और उसकी सेवा लोशन भी होने वाला है सभी बताते हैं अरे सीवोल्यूशन क्रांतिया बन बन कर ही आज का हमारा शरीर बना है पहले सिर्फ एक सेल्फी और बाद में अब हर तरह अनेक तरह की सेल्स निर्माण हुई है शरीर के अंदर और अलग-अलग काम करती है तू तो मोबाइल के बहुत सारे करना में होने वाले हैं और अभी भी हो गए हैं तो घर कलाई की घड़ी जो है ऐसे गायब हो सकती केवल आवश्यकता कम हो गई है ऐसा ही नहीं पूरी गायब हो सकती है और कुछ समय बाद मोबाइल पर क्या-क्या हो सकता नहीं लगेगी ऐसा कुछ टेक्नोलॉजी आ जाएगा कि मोबाइल पर हाथ में देकर रखने की आवश्यकता नहीं सिर्फ उसको dual-core वर्ल्ड सावर या पासवर्ड या कुछ डायरेक्ट बोलने के बाद भी एक स्क्रीन नजर के सामने आएगा और वहां पर जाने को मिलेगा तो शायद हो सकता है इतनी टेक्नोलॉजी इन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सब बढ़ रहा है अगर मेरा जवाब सही नगर खुशी कृपया लाइक करें धन्यवाद
Kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aaj aavashyakata kam ho gaee hai nishchit roop se angadiya kabhee kaheen par dikhatee bhee nahin hai bahut kam log dikhaee dete hain ghadee pahanee main khud to ghadee kee soch bhee nahin sochata bhee nahin hai kabhee pahale pichhale kaee saalon se aur kabhee 1 din baad beech mein ghadee banaee to thoda asvasthata ka anubhav to mainne ghadee pahanana band kar diya mobail mein to taim hota hai taim to kya jo chaahe vah cheejen aur isake lie to usake kaaran to usamen khopadee daalakar baithe hue hain saaree duniya mein log aur usee tareeke kee kee gardan aage jaakar nirmaan ho sakatee hai insaan mein aisa bhee vah maanavashaastr ne jo hai aur utkraanti vaale phree vaale jo sains saintist hai vah bata rahe abhee aur jo hamaaree hamaaree ungalee hai usane jo mobail ko yooj karane vaalee ungalee aae ringaton jo hai vah aur alag tareeke se devalap devalap ho sakatee hai aisa bhee bataate hain aankhen aankhon mein visham ho sakata hai usaka strakchar badal sakata hai sabhee yuva lusent khedee vaale kah rahe hain aur dimaag mein bhee problam bhee hone vaale aur usakee seva loshan bhee hone vaala hai sabhee bataate hain are seevolyooshan kraantiya ban ban kar hee aaj ka hamaara shareer bana hai pahale sirph ek selphee aur baad mein ab har tarah anek tarah kee sels nirmaan huee hai shareer ke andar aur alag-alag kaam karatee hai too to mobail ke bahut saare karana mein hone vaale hain aur abhee bhee ho gae hain to ghar kalaee kee ghadee jo hai aise gaayab ho sakatee keval aavashyakata kam ho gaee hai aisa hee nahin pooree gaayab ho sakatee hai aur kuchh samay baad mobail par kya-kya ho sakata nahin lagegee aisa kuchh teknolojee aa jaega ki mobail par haath mein dekar rakhane kee aavashyakata nahin sirph usako dual-chorai varld saavar ya paasavard ya kuchh daayarekt bolane ke baad bhee ek skreen najar ke saamane aaega aur vahaan par jaane ko milega to shaayad ho sakata hai itanee teknolojee in aartiphishiyal intelijens sab badh raha hai agar mera javaab sahee nagar khushee krpaya laik karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:41
जी हां एक समय था कि बगैर घड़ी का लोगों को काम नहीं चलता था लोग हाथ में घड़ी बांधकर के चलते थे नए पॉकेट गाड़ी भी रखा करते थे कि धीरे-धीरे करते-करते घड़ी पेन में भी आगे लोग पहले भी अपने घड़ी लगाकर चलने लगे लेकिन जब से मोबाइल में घड़ी आ गई है तुम लोगों ने घड़ी बांधना शुरू करती है बहुत ही कोई फैशन बाज हो तो वह फास्ट ट्रैक किया मतलब आजकल बहुत 16000 20000 की घड़ी केवल अपनी वैल्यू बढ़ाने के लिए लगाया वह बात अलग है लेकिन सच्चाई तो यही है कि जब से मोबाइल में घड़ी के समय आने लगा है तो सारे समय जो है बिल्कुल घड़ियों की दुकानों की बिक्री फीकी पड़ गई है सही बात तो यही है
Jee haan ek samay tha ki bagair ghadee ka logon ko kaam nahin chalata tha log haath mein ghadee baandhakar ke chalate the nae poket gaadee bhee rakha karate the ki dheere-dheere karate-karate ghadee pen mein bhee aage log pahale bhee apane ghadee lagaakar chalane lage lekin jab se mobail mein ghadee aa gaee hai tum logon ne ghadee baandhana shuroo karatee hai bahut hee koee phaishan baaj ho to vah phaast traik kiya matalab aajakal bahut 16000 20000 kee ghadee keval apanee vailyoo badhaane ke lie lagaaya vah baat alag hai lekin sachchaee to yahee hai ki jab se mobail mein ghadee ke samay aane laga hai to saare samay jo hai bilkul ghadiyon kee dukaanon kee bikree pheekee pad gaee hai sahee baat to yahee hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:46
रुकने के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है मोबाइल फोन का प्रयोग बढ़ गया है तब से हाथ में घड़ी बहुत कम लोगों की जलती है ज्यादातर लोग सही टाइम देख लेते हैं लेकिन ऐसी बात नहीं है बहुत सारे घड़ी पसंद कभी भी घड़ी हो तो ही कर रहे हैं लेकिन टाइम देखने की जहां बात आती है तो ज्यादातर लोग मोबाइल में टाइम देते हैं इसी कारण दो महीना कम कर दिए और मोबाइल में टाइम देख लेते ही होती है
Rukane ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai mobail phon ka prayog badh gaya hai tab se haath mein ghadee bahut kam logon kee jalatee hai jyaadaatar log sahee taim dekh lete hain lekin aisee baat nahin hai bahut saare ghadee pasand kabhee bhee ghadee ho to hee kar rahe hain lekin taim dekhane kee jahaan baat aatee hai to jyaadaatar log mobail mein taim dete hain isee kaaran do maheena kam kar die aur mobail mein taim dekh lete hee hotee hai

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:58
नमस्कार दोस्तों का स्नेह क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है तो निश्चित रूप से दोस्तों इस की अब जरूरत नहीं महसूस होती है पहले लोग टाइम देखने के लिए पेपर देने जाते तो पहनते थे बच्चे लग गए हैं आजकल डिजिटल घड़ी और मोबाइल से घड़ी समाप्त नहीं है मोबाइल में समाप्त कर दी है जैसे पहले आया करता था कई सालों को समाप्त हो गया है और जो स्कैनिंग का काम है जो स्कैनर्स यूज़ करते थे वह खत्म हो गई है आजकल छुट्टी पत्र देने का खत्म हो गया है आजकल काम तो फीमेल सही जा रहे हो जाती है तो आजकल फैशन मात्र हो गई है सोशल स्टेटस की महंगी घड़ियां आ रही है और नहीं तो ऐसा लगता है कि घड़ी वॉच लगती है कि जब टाइम ही देखना है तो मोबाइल में तो है यह क्यों खड़ी पहननी तो निश्चित रूप से यह सब तेरा जो आपने प्रश्न पूछा है धन्यवाद
Namaskaar doston ka sneh kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai to nishchit roop se doston is kee ab jaroorat nahin mahasoos hotee hai pahale log taim dekhane ke lie pepar dene jaate to pahanate the bachche lag gae hain aajakal dijital ghadee aur mobail se ghadee samaapt nahin hai mobail mein samaapt kar dee hai jaise pahale aaya karata tha kaee saalon ko samaapt ho gaya hai aur jo skaining ka kaam hai jo skainars yooz karate the vah khatm ho gaee hai aajakal chhuttee patr dene ka khatm ho gaya hai aajakal kaam to pheemel sahee ja rahe ho jaatee hai to aajakal phaishan maatr ho gaee hai soshal stetas kee mahangee ghadiyaan aa rahee hai aur nahin to aisa lagata hai ki ghadee voch lagatee hai ki jab taim hee dekhana hai to mobail mein to hai yah kyon khadee pahananee to nishchit roop se yah sab tera jo aapane prashn poochha hai dhanyavaad

Chandan Kumar bharati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chandan जी का जवाब
Teacher
0:28
हेलो गुड मॉर्निंग आप का प्रॉपर में जो आया था सब से प्रश्न किया मोबाइल फोन के कारण कलाई में बड़ी पढ़ने की आवश्यकता कम हो गई है आप सिर्फ मोबाइल फोन से ही अपनी घड़ी की जो टाइम होती है ओन्ली लोग देख लेते हैं लेकिन जिसकी आवश्यकता होती है या जिसको शौक होता है घड़ी पढ़ने का वह पहनते हैं इसके लिए भी कोई रोक शौक नहीं है हां लेकिन मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहन के आ सकता कम हो गई बात से हम सहमत हैं
Helo gud morning aap ka propar mein jo aaya tha sab se prashn kiya mobail phon ke kaaran kalaee mein badee padhane kee aavashyakata kam ho gaee hai aap sirph mobail phon se hee apanee ghadee kee jo taim hotee hai onlee log dekh lete hain lekin jisakee aavashyakata hotee hai ya jisako shauk hota hai ghadee padhane ka vah pahanate hain isake lie bhee koee rok shauk nahin hai haan lekin mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahan ke aa sakata kam ho gaee baat se ham sahamat hain

Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:11
मोबाइल के कारण कलाई में खड़ी करने की आवश्यकता कम हो गई है जी हां यह बात बिल्कुल सत्य है कि जब से मोबाइल फोन आया है हमारे जीवन में बहुत सी सी छोटी मोटी चीजें में परिवर्तन आ गया है कि लोगों की बात महसूस नहीं होती मोबाइल फोन बंद कर बंद हो गए लोगों का अपना बीपी हो गया अपना वेट हो गया अपना कुछ जो ब्लड प्रेशर हो गया वह तक मोबाइल से नाप लेते हैं जिससे में बदलाव आया है ऐसी चीजों पर असर डालेगा अभी हाल ही में वह बात करूं तो मोबाइल ने टेलीविजन पर भी असर डाल दिया है एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 5 सालों में टेलीविजन में 7.6 की गिरावट आई है यानी साथ पिछले 5 सालों में सातवें चरण में 15 परसेंट हमारी आबादी के लोगों ने टीवी देखना और खरीदना कम कर दिया है अब भविष्य में देखने वाली बात यह होगी क्या मोबाइल किन किन चीजों को किन किन चीजों को हम से रिप्लेस करेगा कभी घड़ी का ब्लड प्रेशर की मशीनों का नंबर है क्या पता आ गया और अभी सीधा नंबर हो
Mobail ke kaaran kalaee mein khadee karane kee aavashyakata kam ho gaee hai jee haan yah baat bilkul saty hai ki jab se mobail phon aaya hai hamaare jeevan mein bahut see see chhotee motee cheejen mein parivartan aa gaya hai ki logon kee baat mahasoos nahin hotee mobail phon band kar band ho gae logon ka apana beepee ho gaya apana vet ho gaya apana kuchh jo blad preshar ho gaya vah tak mobail se naap lete hain jisase mein badalaav aaya hai aisee cheejon par asar daalega abhee haal hee mein vah baat karoon to mobail ne teleevijan par bhee asar daal diya hai ek riport ke anusaar pichhale 5 saalon mein teleevijan mein 7.6 kee giraavat aaee hai yaanee saath pichhale 5 saalon mein saataven charan mein 15 parasent hamaaree aabaadee ke logon ne teevee dekhana aur khareedana kam kar diya hai ab bhavishy mein dekhane vaalee baat yah hogee kya mobail kin kin cheejon ko kin kin cheejon ko ham se riples karega kabhee ghadee ka blad preshar kee masheenon ka nambar hai kya pata aa gaya aur abhee seedha nambar ho

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:51
दोसा वाले के मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है दोस्तों वैसे तो बात करें मोबाइल को और घड़ी को ले करके तो गाड़ी का काम समय दिखाना होता है और मोबाइल का जो कार्य वह और भी ज्यादा हो जाता है वह संवाद करने के अलावा टाइम मिताली सबको तेरे मोबाइल के अंदर आ जाते हैं और इसी वजह से आज की न्यूज़ नेशन के लोग जो है वो कलाई के अंदर घड़ी नहीं पहनते हैं परंतु एक विशेष तौर पर इसमें उसने बताया कि के स्मार्ट वॉच होना बहुत जरूरी है तो स्मार्ट बनने के लिए एक बात की तो बहुत ही आवश्यकता होगी परंतु यदि मोबाइल फोन की बात करें तो वह जो है वो घड़ी का काम करने की आवश्यकता नहीं होती है
Dosa vaale ke mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai doston vaise to baat karen mobail ko aur ghadee ko le karake to gaadee ka kaam samay dikhaana hota hai aur mobail ka jo kaary vah aur bhee jyaada ho jaata hai vah sanvaad karane ke alaava taim mitaalee sabako tere mobail ke andar aa jaate hain aur isee vajah se aaj kee nyooz neshan ke log jo hai vo kalaee ke andar ghadee nahin pahanate hain parantu ek vishesh taur par isamen usane bataaya ki ke smaart voch hona bahut jarooree hai to smaart banane ke lie ek baat kee to bahut hee aavashyakata hogee parantu yadi mobail phon kee baat karen to vah jo hai vo ghadee ka kaam karane kee aavashyakata nahin hotee hai

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:28
जी आपको बिल्कुल सही बोल रहे हैं हमारे फोन की वजह से हम कहीं ना कहीं घड़ी का इस्तेमाल करना कम हो गया है और अभी किल्ली में जितना लिखूंगा जो न्यूज़ नेशन से वो कहीं ना कहीं खड़ी कर दी इसलिए करते हैं क्योंकि हमारी फैशन के पास हो चुका है या फिर एग्जाम वगैरह की बात आती है तो इसीलिए ज्यादातर गाड़ी है आज के जमाने में यूज करते हैं लेकिन समय को देखने की जो प्रपोज घड़ी तू कहीं ना कहीं मोबाइल फोन की वजह से हमारी चालू हो जाता है
Jee aapako bilkul sahee bol rahe hain hamaare phon kee vajah se ham kaheen na kaheen ghadee ka istemaal karana kam ho gaya hai aur abhee killee mein jitana likhoonga jo nyooz neshan se vo kaheen na kaheen khadee kar dee isalie karate hain kyonki hamaaree phaishan ke paas ho chuka hai ya phir egjaam vagairah kee baat aatee hai to iseelie jyaadaatar gaadee hai aaj ke jamaane mein yooj karate hain lekin samay ko dekhane kee jo prapoj ghadee too kaheen na kaheen mobail phon kee vajah se hamaaree chaaloo ho jaata hai

Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
1:36
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है मित्र आजकल हम यही देखते हैं कि सभी लोग ज्यादातर वाला घड़ी पहनना छोड़ दिए हैं क्योंकि सभी के पास चाहे छोटा हो या बड़ा सबके पास मोबाइल फोन तो है अब मोबाइल फोन में जब भी समय देखना होता तो मोबाइल फोन का ही प्रयोग करते हैं इसीलिए लोगों ने क्या किया कि अब घड़ी पहनने की आदत को है जो छोड़ दिया आज इनकी कुछ ज्यादा ही आदत है कि हां हाथ में घड़ी होनी ही चाहिए चाय समय देखेंगे या नहीं देखेंगे पर घड़ी तो पहनेंगे तो वही लोग अब घड़ी पहनते हैं बाकी ज्यादातर सभी लोगों ने घड़ी का घड़ी को पहनना बंद कर दिया है क्योंकि समय देखने के लिए मोबाइल का प्रयोग करते हैं और यह आपने जो कहा है कि कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है यह बिल्कुल सही है अगर मोबाइल फोन मार लीजिए किसी के पास नहीं है तो वहीं अब घड़ी को पहनता है बाकी सभी लोगों ने धीरे-धीरे घड़ी को पहनना बंद कर दिया है क्योंकि अब इसकी आवश्यकता ही नहीं रह गई है जब आपको समय देखने के लिए मोबाइल फोन आपके पास में है क्या आप घड़ी को क्यों पहनेंगे उसमें ही समय क्यों देखेंगे जब मोबाइल में हम समय देख पाते हैं तो इसी कारण से लोगों ने अब इस विचार को लेकर के घड़ी को पहनना बिल्कुल ही कम कर दिया है धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai mitr aajakal ham yahee dekhate hain ki sabhee log jyaadaatar vaala ghadee pahanana chhod die hain kyonki sabhee ke paas chaahe chhota ho ya bada sabake paas mobail phon to hai ab mobail phon mein jab bhee samay dekhana hota to mobail phon ka hee prayog karate hain iseelie logon ne kya kiya ki ab ghadee pahanane kee aadat ko hai jo chhod diya aaj inakee kuchh jyaada hee aadat hai ki haan haath mein ghadee honee hee chaahie chaay samay dekhenge ya nahin dekhenge par ghadee to pahanenge to vahee log ab ghadee pahanate hain baakee jyaadaatar sabhee logon ne ghadee ka ghadee ko pahanana band kar diya hai kyonki samay dekhane ke lie mobail ka prayog karate hain aur yah aapane jo kaha hai ki kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai yah bilkul sahee hai agar mobail phon maar leejie kisee ke paas nahin hai to vaheen ab ghadee ko pahanata hai baakee sabhee logon ne dheere-dheere ghadee ko pahanana band kar diya hai kyonki ab isakee aavashyakata hee nahin rah gaee hai jab aapako samay dekhane ke lie mobail phon aapake paas mein hai kya aap ghadee ko kyon pahanenge usamen hee samay kyon dekhenge jab mobail mein ham samay dekh paate hain to isee kaaran se logon ne ab is vichaar ko lekar ke ghadee ko pahanana bilkul hee kam kar diya hai dhanyavaad

itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:27
प्रश्न है क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है बिल्कुल कम हो गई है क्योंकि आजकल कोई भी घड़ी नहीं पहनती अगर भी घड़ी कैसे पहनते हैं देती है अगर उसे टाइम पूछो तो वह फटाक से मोबाइल निकलती है और बोलते हैं कितना टाइम हुआ है मैंने खुद एक मार्केट गई है जो कि मेरे पास फोन स्विच ऑफ हो गई थी और मैं घड़ी भी नहीं पहनी थी तो मैं एक पूछा एक लड़की को कि क्या टाइम हुआ है क्योंकि मुझे घर भी जाना है लेट हो रहा था तो मम्मी का फोन आ रहा होगा पर मेरा मोबाइल स्विच ऑफ हुआ था तो मैंने जब उससे पूछा कि कितना टाइम हुआ है तो फटाक से अपने प्यार से मोबाइल मोबाइल लाया और बताया कितना टाइम हुआ है तो मैं काफी वह लड़की नहीं मैं भी काफी डिप्रेशन से गुजरती है गुजरती हूं क्योंकि मुझे भी कोई अगर टाइम पूछा था तो मैं भी एक हाथ में घड़ी मेरा होता था पर मैं घड़ी नहीं देखती मोबाइल मेरे हाथ पर रहता था तो मैं मोबाइल लेकर टाइम देख कर बोलती थी तो इसलिए आप मोबाइल फोन इतना ज्यादा हो गया है सब के पास मोबाइल होता है सबके पास मोबाइल लेता है तो इसलिए घड़ी कम हो गई है कलाई में पहनना
Prashn hai kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai bilkul kam ho gaee hai kyonki aajakal koee bhee ghadee nahin pahanatee agar bhee ghadee kaise pahanate hain detee hai agar use taim poochho to vah phataak se mobail nikalatee hai aur bolate hain kitana taim hua hai mainne khud ek maarket gaee hai jo ki mere paas phon svich oph ho gaee thee aur main ghadee bhee nahin pahanee thee to main ek poochha ek ladakee ko ki kya taim hua hai kyonki mujhe ghar bhee jaana hai let ho raha tha to mammee ka phon aa raha hoga par mera mobail svich oph hua tha to mainne jab usase poochha ki kitana taim hua hai to phataak se apane pyaar se mobail mobail laaya aur bataaya kitana taim hua hai to main kaaphee vah ladakee nahin main bhee kaaphee dipreshan se gujaratee hai gujaratee hoon kyonki mujhe bhee koee agar taim poochha tha to main bhee ek haath mein ghadee mera hota tha par main ghadee nahin dekhatee mobail mere haath par rahata tha to main mobail lekar taim dekh kar bolatee thee to isalie aap mobail phon itana jyaada ho gaya hai sab ke paas mobail hota hai sabake paas mobail leta hai to isalie ghadee kam ho gaee hai kalaee mein pahanana

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:35
आकाश वाले की क्या मोबाइल फोन के कारण कलर में गाड़ी देने की आवश्यकता कम हो गई है तो ऐसा कुछ नहीं है जो पहले अपनी कलाई पर घड़ी पहनते हुए तो अभी भी पहन रहे हैं और जो पहले नहीं पहनते थे या फिर कभी कभी पहनने से पहनते थे वह अब टाइम अपने मोबाइल से देख लेते हैं इसलिए गढ़ की आवश्यकता नहीं होती है यह तरह से देखा जाए तो मोबाइल फोन आने के बाद घड़ी का यूज करना कम कर दिया है धन्यवाद
Aakaash vaale kee kya mobail phon ke kaaran kalar mein gaadee dene kee aavashyakata kam ho gaee hai to aisa kuchh nahin hai jo pahale apanee kalaee par ghadee pahanate hue to abhee bhee pahan rahe hain aur jo pahale nahin pahanate the ya phir kabhee kabhee pahanane se pahanate the vah ab taim apane mobail se dekh lete hain isalie gadh kee aavashyakata nahin hotee hai yah tarah se dekha jae to mobail phon aane ke baad ghadee ka yooj karana kam kar diya hai dhanyavaad

SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:31
हेलो फ्रेंड्स मोबाइल फोन होने के कारण आज कल हम लोग कलाइयों में घड़ी बांधना बहुत ही कम कर दिए हैं कि दुख दो मुख्य कारण हैं एक तो मोबाइल से हम हर समय को देख सकते हैं जिससे कि हमें भरी पहनने की आदत छूट जा रही है मोबाइल होने से और भी हमारे सारे काम भी हो जाते हैं जिससे कि हम घड़ी पहनना बिल्कुल भूल ही जाते हैं थैंक यू
Helo phrends mobail phon hone ke kaaran aaj kal ham log kalaiyon mein ghadee baandhana bahut hee kam kar die hain ki dukh do mukhy kaaran hain ek to mobail se ham har samay ko dekh sakate hain jisase ki hamen bharee pahanane kee aadat chhoot ja rahee hai mobail hone se aur bhee hamaare saare kaam bhee ho jaate hain jisase ki ham ghadee pahanana bilkul bhool hee jaate hain thaink yoo

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:53
तो आज आप का सवाल है कि क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि एक ऐसे बहुत सारे यूजर्स है जो बात की मतलब घड़ी या नहीं दे सकते और घड़ी कैसे बहुत सारी उम्र से जो आपको आज अंजलि फोन में नहीं मिलेगा जैसे कि फोन में आप बातचीत करते टाइम भी देखते हैं लेकिन जब आप गाड़ी चला रहे हो या फिर कहीं भी आप टाइपिंग कर रहे हो तब आप फोन अब पॉकेट में रॉकेट से फोन निकालकर टाइम नहीं देते जल्दी आपके हाथ में रहता है आपने और मैंने मतलब देख लेते टाइम और यह तरह के स्टाइल भी होता है अच्छा भी लगता है तो इस टाइम के साथ साथ बहुत सारे जगह से फ्री ड्राइविंग में आपको काम आता सिर्फ हाथ देख लिया ना देख लेते हैं तुम मुझे नहीं लगता है कि घड़ी की कभी भी आवश्यकता कब होगी
To aaj aap ka savaal hai ki kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai ki aisa bilkul bhee nahin hai kyonki ek aise bahut saare yoojars hai jo baat kee matalab ghadee ya nahin de sakate aur ghadee kaise bahut saaree umr se jo aapako aaj anjali phon mein nahin milega jaise ki phon mein aap baatacheet karate taim bhee dekhate hain lekin jab aap gaadee chala rahe ho ya phir kaheen bhee aap taiping kar rahe ho tab aap phon ab poket mein roket se phon nikaalakar taim nahin dete jaldee aapake haath mein rahata hai aapane aur mainne matalab dekh lete taim aur yah tarah ke stail bhee hota hai achchha bhee lagata hai to is taim ke saath saath bahut saare jagah se phree draiving mein aapako kaam aata sirph haath dekh liya na dekh lete hain tum mujhe nahin lagata hai ki ghadee kee kabhee bhee aavashyakata kab hogee

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:23
नमस्ते दोस्तों आज का आपका सवाल है क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है और दोस्तों आपके सवाल को प्रिय है पहले समय में हमारे पास मोबाइल फोन नहीं होते थे इसलिए हमें कलाई में घड़ी पहनने पसंद करते थे क्योंकि हमें घड़ी से हमें टाइम भी देखना पड़ता था और हमें शौक भी था घड़ी पहनने का लेकिन हमारे वर्तमान समय में मोबाइल फोन सभी के पास होने की वजह से क्योंकि मोबाइल फोन में ही समय और टाइम आ जाता है इसलिए हमें और घड़ी पहनने की आवश्यकता नहीं पड़ती है क्योंकि हम समय अपने मोबाइल फोन से देख लेते हैं इसलिए हमारे वर्तमान काल में हम कलाई पर घड़ी को नहीं पहनते हैं क्योंकि हम ज्यादातर मोबाइल सभी के पास होता है इसलिए मोबाइल फोन से ही समय देख लेते हैं इसलिए हमें घड़ी पहने की आवश्यकता कम हो गई है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaste doston aaj ka aapaka savaal hai kya mobail phon ke kaaran kalaee mein ghadee pahanane kee aavashyakata kam ho gaee hai aur doston aapake savaal ko priy hai pahale samay mein hamaare paas mobail phon nahin hote the isalie hamen kalaee mein ghadee pahanane pasand karate the kyonki hamen ghadee se hamen taim bhee dekhana padata tha aur hamen shauk bhee tha ghadee pahanane ka lekin hamaare vartamaan samay mein mobail phon sabhee ke paas hone kee vajah se kyonki mobail phon mein hee samay aur taim aa jaata hai isalie hamen aur ghadee pahanane kee aavashyakata nahin padatee hai kyonki ham samay apane mobail phon se dekh lete hain isalie hamaare vartamaan kaal mein ham kalaee par ghadee ko nahin pahanate hain kyonki ham jyaadaatar mobail sabhee ke paas hota hai isalie mobail phon se hee samay dekh lete hain isalie hamen ghadee pahane kee aavashyakata kam ho gaee hai dhanyavaad doston khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है
URL copied to clipboard