#जीवन शैली

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:42
जी हां बहन ना कभी कभी कभी कभी किसी लोगों की व्यक्तित्व की प्रदर्शित करता है जैसे कि आप अगर किसी की मौत के मौत के अवसर में गए हो वहां पर अगर आप ऐसी कुछ कपड़े पहने हो कि जो कोई पार्टी में जाने वाला कपड़ा हूं तो इसमें कहीं ना कहीं हर किसी को लगता है कि आप एक सीरियस बंद हो नहीं आप सीरियस पसंद हो नहीं रखो रिस्पेक्ट देना आता नहीं है कोई मरा हुआ इंसान को तो कौन सी जगह पर मेरे को कौन से कपड़े पहनने की जरूरत है यह एक अच्छा व्यक्तित्व वाला को पता है ठीक है पूरी मंचूरियन इस चीज को जान लेता है जान पता हमको हमेशा कपड़ों के चित्र पर ध्यान देने की जरूरत है कहां पर हो कैसे कपड़े पहने धन्यवाद
Jee haan bahan na kabhee kabhee kabhee kabhee kisee logon kee vyaktitv kee pradarshit karata hai jaise ki aap agar kisee kee maut ke maut ke avasar mein gae ho vahaan par agar aap aisee kuchh kapade pahane ho ki jo koee paartee mein jaane vaala kapada hoon to isamen kaheen na kaheen har kisee ko lagata hai ki aap ek seeriyas band ho nahin aap seeriyas pasand ho nahin rakho rispekt dena aata nahin hai koee mara hua insaan ko to kaun see jagah par mere ko kaun se kapade pahanane kee jaroorat hai yah ek achchha vyaktitv vaala ko pata hai theek hai pooree manchooriyan is cheej ko jaan leta hai jaan pata hamako hamesha kapadon ke chitr par dhyaan dene kee jaroorat hai kahaan par ho kaise kapade pahane dhanyavaad

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:14
)]}' [['wrb.fr','MkEWBc',null,

Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
0:43
हवा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदूषित करने में सक्षम होता है जी हां पहनावा भी हमारे आत्मविश्वास पर बहुत प्रभाव डालता है अच्छे से तैयार होने पर हमारे अंदर एक अलग सी एनर्जी आती है और सामने वाले पर भी काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है अपने पैरों को लेकर छोटी मोटी बातों का ध्यान रखकर आप अपने आत्मविश्वास के स्तर का निर्माण कर सकते हो और आपके खुद के व्यक्तित्व का निर्माण का भी होता तो होता है इसीलिए सादा रहन-सहन उच्च विचार की क्षमता रखने वाले व्यक्ति खासतौर पर पैनल का विशेष ध्यान रखते हैं जय हिंद जय भारत सभी मित्रों को धन्यवाद
Hava kisee vyakti ke vyaktitv ko pradooshit karane mein saksham hota hai jee haan pahanaava bhee hamaare aatmavishvaas par bahut prabhaav daalata hai achchhe se taiyaar hone par hamaare andar ek alag see enarjee aatee hai aur saamane vaale par bhee kaaphee achchha prabhaav padata hai apane pairon ko lekar chhotee motee baaton ka dhyaan rakhakar aap apane aatmavishvaas ke star ka nirmaan kar sakate ho aur aapake khud ke vyaktitv ka nirmaan ka bhee hota to hota hai iseelie saada rahan-sahan uchch vichaar kee kshamata rakhane vaale vyakti khaasataur par painal ka vishesh dhyaan rakhate hain jay hind jay bhaarat sabhee mitron ko dhanyavaad

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
क्या पहनावा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम होता है कुछ हद तक निश्चित निश्चित रूप से सक्षम होता है कलाकारों की बात इसमें हम नहीं लेते हैं कल आकर किसी भी पहना हो मैं किसी व्यक्तित्व का उसको जाकर कर सकते हैं जैसे संजय दत्त ने वह फिल्म चाहिए आमिर खान की वह एलियन वाली उसमें राजस्थानी पैरों किया था उसमें राजस्थानी लग रहे थे पंजाबी तेरा उसे पंजाबी वीडियो समझ में आता है उसकी दाढ़ी और उसके वह ठंडा होता है उससे नेहरू शर्ट भी ज्यादा कर के व्यापारियों के राजनेताओं में प्रचलित ग्रामीण लोग ग्रामीण पैरों से धोती बेटा पैसा मिलेगा जलगांव से स्पेशल कहते हैं इस तरीके से तरीके के पहनावे से ग्रामीण व्यक्ति समझ में आता है शहरी भी शर्ट जींस पैंट्स इस तरीके के शेयर में ज्यादा करके और खर्च खर्च कपड़े शर्ट पेंट यूज़ करने वाले व्यक्ति होते हैं और ऑफिसियल एड्रेस भी होता है जिसको फॉर्मल ड्रेस क्या कहते हैं उसमें शर्ट और पैंट टी-शर्ट हो सकता है और यह सुरक्षित हो सकता है एक भूत और टायर इन शर्ट टी शर्ट किया हुआ टाइम नहीं रहता है उसके लिए रहता तो सूट भी जो है बड़ा उद्योगपति इस तरीके का व्यक्ति होता है को तो समझ में आता है कि ज्यादा करके वह वह वह वह हो सकता है लेकिन इसमें जो शौकीन लोग हैं इसमें मैंने पकड़े नहीं है कई लोगों के ड्रेस पहनने के शोक होते और वह पहनते हैं सारे तरह की फोटो निकाल कर रखिए लगाई जाती है घर में जिसमें उसने उसको वकील की ड्रेस ड्रेस में है भी एक फोटो निकालकर उसमें रखा था लेकिन वह बिल्कुल अनपढ़ था डॉक्टर के ड्रेस भी फोटो निकलवाया था और वह लगाया था यह इसका एक था अभी जी और उससे कॉमेडी पैदा हो जाती है फिल्म में लेकिन गरीब लोग मध्यमवर्गीय लोग और अमीर लोग पहनावे से समझ में आते हैं कुत्ता की और भैरव बैरागी या समस्त व्यक्ति होते हैं तो वह भव्या हरे या पीले रंग के जो ऐसे बहुत दुख हुआ और हिंदू मुस्लिम फकीर पहनते हैं तो एक भी रखती वाला व्यक्ति की सोच रखने वाला कैरेक्टर है ऐसा लोग समझ सकते हैं गांधी टोपी भी एक होती है उसे भी शादी वाला कांग्रेसी पहले हुआ करते थे आज भी दिखाने के लिए होते हैं तो हर तरह के पहनावे से व्यक्तिमत्व यूपीपी परिणाम पहनावे अलग-अलग होती साड़ी होती है उसमें भी कई प्रकार की सारी होती है घागरा होता है राजस्थानी पहरा होता है पंजाबी पहरा होता है पंजाबी ड्रेस मशहूर है महाराष्ट्र में साड़ी ब्लाउज रहता है और साड़ी भी भी पहनने की एक पुरानी पद्धति भी है और लोग कहते हैं और राज्य और आदिवासी के बिलों में अनेक अनेक पद्धति है और इतना ही नहीं ऐसा भी है कि ब्लाउज पहनते नहीं है महाराष्ट्र की 1 वर्ड आर नाम की कास्ट है उसमें श्रेया जो पुरानी है वह यह पहनती नहीं थी ब्लाउज नहीं पाई थी आप तो नए जमाने की लड़कियां है यह बात पसंद नहीं करती यह परंपरा उन्होंने छोड़ दी है लेकिन कुछ कुछ जगह है यह जितनी देखने को मिलता है तो ऐसा लगता से बेटियों के पैरों जो होते हैं वह अलग-अलग पर्सनैलिटी को व्यक्त व्यक्त करते हैं स्वभाव को व्यक्त करते हैं सोच को व्यक्त कर सकते हैं और उसकी सारी चीजें दर्शन हो
Kya pahanaava kisee vyakti ke vyaktitv ko pradarshit karane mein saksham hota hai kuchh had tak nishchit nishchit roop se saksham hota hai kalaakaaron kee baat isamen ham nahin lete hain kal aakar kisee bhee pahana ho main kisee vyaktitv ka usako jaakar kar sakate hain jaise sanjay datt ne vah philm chaahie aamir khaan kee vah eliyan vaalee usamen raajasthaanee pairon kiya tha usamen raajasthaanee lag rahe the panjaabee tera use panjaabee veediyo samajh mein aata hai usakee daadhee aur usake vah thanda hota hai usase neharoo shart bhee jyaada kar ke vyaapaariyon ke raajanetaon mein prachalit graameen log graameen pairon se dhotee beta paisa milega jalagaanv se speshal kahate hain is tareeke se tareeke ke pahanaave se graameen vyakti samajh mein aata hai shaharee bhee shart jeens paints is tareeke ke sheyar mein jyaada karake aur kharch kharch kapade shart pent yooz karane vaale vyakti hote hain aur ophisiyal edres bhee hota hai jisako phormal dres kya kahate hain usamen shart aur paint tee-shart ho sakata hai aur yah surakshit ho sakata hai ek bhoot aur taayar in shart tee shart kiya hua taim nahin rahata hai usake lie rahata to soot bhee jo hai bada udyogapati is tareeke ka vyakti hota hai ko to samajh mein aata hai ki jyaada karake vah vah vah vah ho sakata hai lekin isamen jo shaukeen log hain isamen mainne pakade nahin hai kaee logon ke dres pahanane ke shok hote aur vah pahanate hain saare tarah kee photo nikaal kar rakhie lagaee jaatee hai ghar mein jisamen usane usako vakeel kee dres dres mein hai bhee ek photo nikaalakar usamen rakha tha lekin vah bilkul anapadh tha doktar ke dres bhee photo nikalavaaya tha aur vah lagaaya tha yah isaka ek tha abhee jee aur usase komedee paida ho jaatee hai philm mein lekin gareeb log madhyamavargeey log aur ameer log pahanaave se samajh mein aate hain kutta kee aur bhairav bairaagee ya samast vyakti hote hain to vah bhavya hare ya peele rang ke jo aise bahut dukh hua aur hindoo muslim phakeer pahanate hain to ek bhee rakhatee vaala vyakti kee soch rakhane vaala kairektar hai aisa log samajh sakate hain gaandhee topee bhee ek hotee hai use bhee shaadee vaala kaangresee pahale hua karate the aaj bhee dikhaane ke lie hote hain to har tarah ke pahanaave se vyaktimatv yoopeepee parinaam pahanaave alag-alag hotee sari hotee hai usamen bhee kaee prakaar kee saaree hotee hai ghaagara hota hai raajasthaanee pahara hota hai panjaabee pahara hota hai panjaabee dres mashahoor hai mahaaraashtr mein sari blauj rahata hai aur sari bhee bhee pahanane kee ek puraanee paddhati bhee hai aur log kahate hain aur raajy aur aadivaasee ke bilon mein anek anek paddhati hai aur itana hee nahin aisa bhee hai ki blauj pahanate nahin hai mahaaraashtr kee 1 vard aar naam kee kaast hai usamen shreya jo puraanee hai vah yah pahanatee nahin thee blauj nahin paee thee aap to nae jamaane kee ladakiyaan hai yah baat pasand nahin karatee yah parampara unhonne chhod dee hai lekin kuchh kuchh jagah hai yah jitanee dekhane ko milata hai to aisa lagata se betiyon ke pairon jo hote hain vah alag-alag parsanailitee ko vyakt vyakt karate hain svabhaav ko vyakt karate hain soch ko vyakt kar sakate hain aur usakee saaree cheejen darshan ho

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:08
कल के पहनावा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम होता है दोस्ती बात करें पैनल के लेकर ग्रामीण क्षेत्र के अंदर पहनावा कुछ अलग होता है शहरी क्षेत्र के अंदर अलग होता है नीतू का प्रदर्शन करने के लिए वास्तव में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं यदि आप अच्छे उनके जैसे कि जैसे कि आप बिजनेसमैन से कपड़े पहने हुए कपड़े पहने पढ़ते आप एक ऑफिसर दिख जाए तो बिल्कुल हां यह तो कहना ही पड़ेगा कि जो पहनावे दोस्तों व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करता है कुछ लोग पर किचन के लड़के शादी होते हैं उनका पहनावा कुछ अलग हो जाता है
Kal ke pahanaava kisee vyakti ke vyaktitv ko pradarshit karane mein saksham hota hai dostee baat karen painal ke lekar graameen kshetr ke andar pahanaava kuchh alag hota hai shaharee kshetr ke andar alag hota hai neetoo ka pradarshan karane ke lie vaastav mein ek mahatvapoorn bhoomika nibhaate hain yadi aap achchhe unake jaise ki jaise ki aap bijanesamain se kapade pahane hue kapade pahane padhate aap ek ophisar dikh jae to bilkul haan yah to kahana hee padega ki jo pahanaave doston vyakti ke vyaktitv ko pradarshit karata hai kuchh log par kichan ke ladake shaadee hote hain unaka pahanaava kuchh alag ho jaata hai

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:41
आकाश वाले की क्या कहना किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदूषित करने में सक्षम होता है तो मेरे ख्याल से पहनावा किसी व्यक्ति को व्यक्तित्व की प्रदर्शनी करने में सक्षम नहीं होता है क्योंकि अगर हम किसी ट्रेन में जा रहे हैं तो कपड़े मिले हो जाते हैं तो सामने वाला मिलता है तो हमारा बच्चे थे तो कम नहीं होगा क्योंकि वह जानता है कैसा भाव क्या है किस प्रकार का व्यक्ति है इसलिए मैं बोला ना नहीं होता है जितना थी कि हमने पहचान होती है धन्यवाद
Aakaash vaale kee kya kahana kisee vyakti ke vyaktitv ko pradooshit karane mein saksham hota hai to mere khyaal se pahanaava kisee vyakti ko vyaktitv kee pradarshanee karane mein saksham nahin hota hai kyonki agar ham kisee tren mein ja rahe hain to kapade mile ho jaate hain to saamane vaala milata hai to hamaara bachche the to kam nahin hoga kyonki vah jaanata hai kaisa bhaav kya hai kis prakaar ka vyakti hai isalie main bola na nahin hota hai jitana thee ki hamane pahachaan hotee hai dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:00
जी हां बिट्टू की बोली भाषा पहनावा उसका चांडाल रहन-सहन सब उसके व्यक्तित्व पर निर्भर करता है उसके व्यक्तित्व को प्रदर्शित करता है कोई व्यक्ति धोती कुर्ता और टोपी लगा कर के चंदन लगा लेता है झोला टांगे तो धूल पंडित नजर आता है ब्राह्मण इसके बाद कुछ सादरी पहन लेता है धोती कुर्ता फोटो पर लगा कर के पार्टी का नेता भी नजर आता है पैंट शर्ट में यह कि पढ़े-लिखे दफ्तर के बाबू महसूस होते हैं लेकिन पढ़े-लिखे का जो व्यक्ति तो होता है वह पेंट में और बाकी हमारी भारतीय वेशभूषा है यदि कुर्ता पजामा कुर्ता धोती सर्जरी और टोपी यह उसका उचित पहनावा होता है उसी से भक्ति झलकता है तो के लिए कपड़े बहुत महत्वपूर्ण होते हैं साफ-सुथरे हो सकते हैं और हमारी संस्कृति के अनुसार से प्रधानों का होना आवश्यक है
Jee haan bittoo kee bolee bhaasha pahanaava usaka chaandaal rahan-sahan sab usake vyaktitv par nirbhar karata hai usake vyaktitv ko pradarshit karata hai koee vyakti dhotee kurta aur topee laga kar ke chandan laga leta hai jhola taange to dhool pandit najar aata hai braahman isake baad kuchh saadaree pahan leta hai dhotee kurta photo par laga kar ke paartee ka neta bhee najar aata hai paint shart mein yah ki padhe-likhe daphtar ke baaboo mahasoos hote hain lekin padhe-likhe ka jo vyakti to hota hai vah pent mein aur baakee hamaaree bhaarateey veshabhoosha hai yadi kurta pajaama kurta dhotee sarjaree aur topee yah usaka uchit pahanaava hota hai usee se bhakti jhalakata hai to ke lie kapade bahut mahatvapoorn hote hain saaph-suthare ho sakate hain aur hamaaree sanskrti ke anusaar se pradhaanon ka hona aavashyak hai

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:18
आज आप का सवाल है कि क्या पहनावा कितने व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम होता है तो देखिए बिल्कुल भी नहीं है मतलब बहुत अच्छा तो कह भी सकते हैं कि ऐसा होता है कि आलोक जैसे रहते हैं वैसा ही कपड़ा भी पहनते हैं लेकिन अब बहुत बार यह भी होता है कि आलोक मतलब आसपास देखकर तो कपड़े पहन लेते हैं अभी क्या चल रहा है क्या नया नहीं चल रहा है उस हिसाब से मतलब लेते हैं लेकिन जब बोलने की बात आती है और व्यवहार की बात आती है नेचर की बात आती बिहेवियर की बात आती है तब आपको असलियत में पता चलता है कि व्यक्ति कैसा है नहीं है उसके व्यक्तित्व कहते हैं ना वैसे आप हमेशा पता नहीं लगा सकते पहनावा से जनरल ही पता कर पाते हैं कि हां वही इंसान अपडेटेड है या नहीं अभी मतलब फ्रेंड की हिसाब से भी योगी सरकार का हिसाब से वह चल रहा है या नहीं या फिर वह फैशनेबल है या नहीं स्टाइलिश थोड़ा क्या ठीक है अंदर से कैसा व्यवहार करता है और लोगों के प्रति उसकी सोच विचार कैसे बहना बरसे पता नहीं कर सकते
Aaj aap ka savaal hai ki kya pahanaava kitane vyakti ke vyaktitv ko pradarshit karane mein saksham hota hai to dekhie bilkul bhee nahin hai matalab bahut achchha to kah bhee sakate hain ki aisa hota hai ki aalok jaise rahate hain vaisa hee kapada bhee pahanate hain lekin ab bahut baar yah bhee hota hai ki aalok matalab aasapaas dekhakar to kapade pahan lete hain abhee kya chal raha hai kya naya nahin chal raha hai us hisaab se matalab lete hain lekin jab bolane kee baat aatee hai aur vyavahaar kee baat aatee hai nechar kee baat aatee biheviyar kee baat aatee hai tab aapako asaliyat mein pata chalata hai ki vyakti kaisa hai nahin hai usake vyaktitv kahate hain na vaise aap hamesha pata nahin laga sakate pahanaava se janaral hee pata kar paate hain ki haan vahee insaan apadeted hai ya nahin abhee matalab phrend kee hisaab se bhee yogee sarakaar ka hisaab se vah chal raha hai ya nahin ya phir vah phaishanebal hai ya nahin stailish thoda kya theek hai andar se kaisa vyavahaar karata hai aur logon ke prati usakee soch vichaar kaise bahana barase pata nahin kar sakate

himanshu bansal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए himanshu जी का जवाब
Influencer, trainer,motivate speaker
2:26
स्टार सभी को यह सवाल है कि क्या पहनावा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम होता है अभी बिल्कुल भी ना इस बात को नहीं मानता हूं कि हमारे पहनावे सिंह जो हमारे व्यक्तित्व है जो हर बिहेवियर है वह प्रदर्शित हो जाता है मुझे ऐसा इसलिए नहीं लगता क्योंकि अगर मांगी एक इंसान इतना सक्षम नहीं है कि वह अपने पहनावे को अच्छा लगता कि हम उसको यह तो नहीं कह सकते कि उसका व्यक्तित्व जिसने नहीं यह बात नाते हमारे भारत देश में तू हर भेष में होगी हर देश में हर प्रकार का व्यक्ति है हर प्रकार का व्यक्ति अपने व्यक्तित्व को अपने पहनावे में नहीं दर्शाया सकता हर प्रकार से अपने आपको अपने पहनावे को अच्छा करके कि नहीं लोगों को बता सकता कि मैं बहुत अच्छा हूं बहुत प्रकार के व्यक्ति हैं अलग-अलग आर्थिक समस्याएं हैं सभी देश में आर्थिक समस्या को देखते हुए हमारे देश का व्यक्ति किसी भी देश का कोई व्यक्ति अपने पहनावे के ऊपर बता दिया ना देकर अपने पेट के ऊपर सदा ध्यान देगा तो हमें बिल्कुल नहीं कह सकते कि पहनावे से जो इंसान का व्यक्तित्व है वह प्रदर्शित होता है क्योंकि हर एक इंसान अपना पहला व अच्छा नहीं कर सकता लेकिन अगर चाहे तो अपना अच्छा कर सकता है क्योंकि पहनावे के लिए हमें पैसे की जरूरत है लेकिन व्यक्तित्व के लिए हमें सिर्फ और सिर्फ एक इच्छा शक्ति की जरूरत है तो हो सकता है कि उसके मन में ना जागी हो कि अच्छे पहनावे वाला है और उसके मन में जाग जाए जिसके बाद शायद ही पहनने के लिए कुछ भी नहीं कह सकते कि मैं दावे से किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व पता लगता है बिल्कुल ऐसा नहीं होता वह सकता है वह होता भी है बहुत ताज्जुब बहुत अच्छी पहनावे वाला व्यक्ति हो उसका बहुत ही नहीं कॉपी तुझ पर स्थित है बहुत छोटी सोच होगी लेकिन वही कोई गरीब व्यक्ति होगा कि के पास शायद एक बैग दिखाने के लिए भोजन ना हो पहनने के लिए कपड़े ना हो क्या पता वह उसे किस एरिया में किसी के फेवर में नहीं बोलोगी कि अभी उसकी फोटो सिर्फ एक नॉर्मल बात समझाने की कोशिश कर रहा हूं कि कोई भी उसको अपनी शेयर ना करें धन्यवाद करता हूं कि सवाल का जवाब न दे पाने
Staar sabhee ko yah savaal hai ki kya pahanaava kisee vyakti ke vyaktitv ko pradarshit karane mein saksham hota hai abhee bilkul bhee na is baat ko nahin maanata hoon ki hamaare pahanaave sinh jo hamaare vyaktitv hai jo har biheviyar hai vah pradarshit ho jaata hai mujhe aisa isalie nahin lagata kyonki agar maangee ek insaan itana saksham nahin hai ki vah apane pahanaave ko achchha lagata ki ham usako yah to nahin kah sakate ki usaka vyaktitv jisane nahin yah baat naate hamaare bhaarat desh mein too har bhesh mein hogee har desh mein har prakaar ka vyakti hai har prakaar ka vyakti apane vyaktitv ko apane pahanaave mein nahin darshaaya sakata har prakaar se apane aapako apane pahanaave ko achchha karake ki nahin logon ko bata sakata ki main bahut achchha hoon bahut prakaar ke vyakti hain alag-alag aarthik samasyaen hain sabhee desh mein aarthik samasya ko dekhate hue hamaare desh ka vyakti kisee bhee desh ka koee vyakti apane pahanaave ke oopar bata diya na dekar apane pet ke oopar sada dhyaan dega to hamen bilkul nahin kah sakate ki pahanaave se jo insaan ka vyaktitv hai vah pradarshit hota hai kyonki har ek insaan apana pahala va achchha nahin kar sakata lekin agar chaahe to apana achchha kar sakata hai kyonki pahanaave ke lie hamen paise kee jaroorat hai lekin vyaktitv ke lie hamen sirph aur sirph ek ichchha shakti kee jaroorat hai to ho sakata hai ki usake man mein na jaagee ho ki achchhe pahanaave vaala hai aur usake man mein jaag jae jisake baad shaayad hee pahanane ke lie kuchh bhee nahin kah sakate ki main daave se kisee vyakti ka vyaktitv pata lagata hai bilkul aisa nahin hota vah sakata hai vah hota bhee hai bahut taajjub bahut achchhee pahanaave vaala vyakti ho usaka bahut hee nahin kopee tujh par sthit hai bahut chhotee soch hogee lekin vahee koee gareeb vyakti hoga ki ke paas shaayad ek baig dikhaane ke lie bhojan na ho pahanane ke lie kapade na ho kya pata vah use kis eriya mein kisee ke phevar mein nahin bologee ki abhee usakee photo sirph ek normal baat samajhaane kee koshish kar raha hoon ki koee bhee usako apanee sheyar na karen dhanyavaad karata hoon ki savaal ka javaab na de paane

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या पहनावा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम होता है पहनावा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रदर्शित करने में सक्षम
URL copied to clipboard