#जीवन शैली

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:29
देखिए जब मुश्किल के वक्त होता है तो आप हम लोगों को पर खुद के साथ में संतुलन बनाए रखना की जरूरत है इसीलिए हम को क्या करना चाहिए ज्यादा पेड़ बनाकर रखना चाहिए ठीक है और ज्यादा हमारे आसपास जो चल संपत्ति है उनको पर थोड़ी अच्छी ध्यान देने की जरूरत है और पेड़ों और याद रखना कि आप जहां पर रहते हैं घर के आसपास को हमेशा पेड़ से भर देना चाहिए रिश्ते पर देना चाहिए जो सही संतुलन उसको बताया कि रखने की जरूरत है धन्यवाद
Dekhie jab mushkil ke vakt hota hai to aap ham logon ko par khud ke saath mein santulan banae rakhana kee jaroorat hai iseelie ham ko kya karana chaahie jyaada ped banaakar rakhana chaahie theek hai aur jyaada hamaare aasapaas jo chal sampatti hai unako par thodee achchhee dhyaan dene kee jaroorat hai aur pedon aur yaad rakhana ki aap jahaan par rahate hain ghar ke aasapaas ko hamesha ped se bhar dena chaahie rishte par dena chaahie jo sahee santulan usako bataaya ki rakhane kee jaroorat hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:49
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न मुश्किल वक्त में प्रकृति के साथ कैसे संतुलन स्थापित किया जा सकता है जो फ्रेंड्स जैसे अभी हमने देखा था कोरोनावायरस में इतना ज्यादा फैल चुका है तो जैसे हमने प्रकृति के साथ संतुलन किया हम लोग अपने घर में रहे ज्यादा बाहर नहीं गए मैं अपने हाथों को बार-बार 213 मास्क लगाना सोशल डिस्टेंसिंग करना यह सब हम लोगों ने संतुलित किया और जब प्रकृति में समाज में दुनिया में यह कोरोनावायरस ठहर गया तो हम अपने घर में रहे लोग डाउन लगा दिया गया यही सब हुआ व्यक्ति के साथ हमें जब मुश्किल वक्त आए तो प्रतिष्ठान संतुलित रहना चाहिए जब भी कोई ऐसे ज्यादा बारिश हो तो हमें घर में रहना चाहिए ज्यादा बाहर नहीं जाना चाहिए यह सब जो प्राकृतिक आपदाएं आती है तो प्रकृति हमें उनके साथ संतुलन बनाकर रहना चाहिए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn mushkil vakt mein prakrti ke saath kaise santulan sthaapit kiya ja sakata hai jo phrends jaise abhee hamane dekha tha koronaavaayaras mein itana jyaada phail chuka hai to jaise hamane prakrti ke saath santulan kiya ham log apane ghar mein rahe jyaada baahar nahin gae main apane haathon ko baar-baar 213 maask lagaana soshal distensing karana yah sab ham logon ne santulit kiya aur jab prakrti mein samaaj mein duniya mein yah koronaavaayaras thahar gaya to ham apane ghar mein rahe log daun laga diya gaya yahee sab hua vyakti ke saath hamen jab mushkil vakt aae to pratishthaan santulit rahana chaahie jab bhee koee aise jyaada baarish ho to hamen ghar mein rahana chaahie jyaada baahar nahin jaana chaahie yah sab jo praakrtik aapadaen aatee hai to prakrti hamen unake saath santulan banaakar rahana chaahie dhanyavaad

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:34
फेस्टिवल खुशबू देखते हैं उसके बाद इसका विस्तार पूर्वक कर देंगे किशनपुरा मुश्किल वक्त में भी प्रकृति के साथ संतुलन कैसे प्राप्त किया जा सकता है इसके बाद भी हम प्रतिशत संतुलन स्थापित कर सकते हैं वह सारे उदाहरण भी जैसे पेड़ पौधे ज्यादा लगाएं प्रदूषण कम करें या नहीं वह वाली चीज का उपयोग कम करने से दिमाग होता कार्बन फैलता है करो उसने उसे यह सब करके हमें पर्यावरण को सुरक्षित रख सकते हैं उसके साथ संतुलन बना सकती हो
Phestival khushaboo dekhate hain usake baad isaka vistaar poorvak kar denge kishanapura mushkil vakt mein bhee prakrti ke saath santulan kaise praapt kiya ja sakata hai isake baad bhee ham pratishat santulan sthaapit kar sakate hain vah saare udaaharan bhee jaise ped paudhe jyaada lagaen pradooshan kam karen ya nahin vah vaalee cheej ka upayog kam karane se dimaag hota kaarban phailata hai karo usane use yah sab karake hamen paryaavaran ko surakshit rakh sakate hain usake saath santulan bana sakatee ho

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:57
मुश्किल वक्त में भी प्रकृति के साथ संतुलन कैसे स्थापित किया जा सकता है मुश्किल वक्त का मतलब यह है कि वो आती संकट में है जिसमें विवश की स्थिति बनी रहती है अर्थात उसका कोई भी सामर्थ्य युक्ति साथ नहीं देता है और वह अपने आपको आता हताश होता है तो प्रकृति में एक से नहीं हर शंकर से गुजरने का साक्षरता पहलवान के ही रहते हैं लेकिन हम उनको ही बढ़ावा देते हैं शांत ही सबसे बड़ी स्क्रीन और धरता युक्ति है अगर शांत और धैर्य से अपनी स्थिति को नियंत्रण रख पाए तो वह दौर होता है जो गुजरता है या इसी दौरान में कुछ भी कर संभावना है हमारे अंतर्गत से बचाव पक्ष में स्वीकृत करती है अगर हम थोड़ा सा ध्यान करेंगे तो जब हम किसी आपदा का संवेदनशीलता है तो क्योंकि वह संवेदना एक दर्द के रूप से प्रतीत कराती है उस प्रणव को और यह सावधानी के लिए बताती है ऑरेंज बताने का मतलब है फिर जहां से बताने की क्षमता है वहीं से निदान होने की प्रवृत्ति उत्पन्न होने लग जाती है बशर्ते यही है कि उसमें अपने डिसीजन को आतुर नहीं देना चाहिए क्योंकि आनन-फानन में बिना सोचे समझे कोई निर्णय के पक्ष में हम घबराहट को पढ़ाते हैं तो नुकसान अपना होता है 3:00 से ही एक प्रकृति संतुलन के लिए जरूरत होती है कि आप शांत और देवर के साथ अपने आप को स्थित रखें और साक्षी भाव से देखेंगे तो आपको जरूर निवारण विधियां अपने आप से विकल्प के रूप में उत्पन्न होने लगे जाए लगेगी क्योंकि जो प्रकृति का स्वभाविक धर्म है वह सिर्फ उसकी सुरक्षा प्रदान करना है असुरक्षा ही उसकी शक्ति है धन्यवाद वैसे भी होगी वर्करैक्स की ओर से यही कहना चाहता हूं कि सिर्फ सही है नहीं और धरता ही और शांति ही आपको सदा है उस मोबाइल पर खड़ा कर देगी जहां से आप अपने आप को सुरक्षात्मक दृष्टि से बचा पाएंगे
Mushkil vakt mein bhee prakrti ke saath santulan kaise sthaapit kiya ja sakata hai mushkil vakt ka matalab yah hai ki vo aatee sankat mein hai jisamen vivash kee sthiti banee rahatee hai arthaat usaka koee bhee saamarthy yukti saath nahin deta hai aur vah apane aapako aata hataash hota hai to prakrti mein ek se nahin har shankar se gujarane ka saaksharata pahalavaan ke hee rahate hain lekin ham unako hee badhaava dete hain shaant hee sabase badee skreen aur dharata yukti hai agar shaant aur dhairy se apanee sthiti ko niyantran rakh pae to vah daur hota hai jo gujarata hai ya isee dauraan mein kuchh bhee kar sambhaavana hai hamaare antargat se bachaav paksh mein sveekrt karatee hai agar ham thoda sa dhyaan karenge to jab ham kisee aapada ka sanvedanasheelata hai to kyonki vah sanvedana ek dard ke roop se prateet karaatee hai us pranav ko aur yah saavadhaanee ke lie bataatee hai orenj bataane ka matalab hai phir jahaan se bataane kee kshamata hai vaheen se nidaan hone kee pravrtti utpann hone lag jaatee hai basharte yahee hai ki usamen apane diseejan ko aatur nahin dena chaahie kyonki aanan-phaanan mein bina soche samajhe koee nirnay ke paksh mein ham ghabaraahat ko padhaate hain to nukasaan apana hota hai 3:00 se hee ek prakrti santulan ke lie jaroorat hotee hai ki aap shaant aur devar ke saath apane aap ko sthit rakhen aur saakshee bhaav se dekhenge to aapako jaroor nivaaran vidhiyaan apane aap se vikalp ke roop mein utpann hone lage jae lagegee kyonki jo prakrti ka svabhaavik dharm hai vah sirph usakee suraksha pradaan karana hai asuraksha hee usakee shakti hai dhanyavaad vaise bhee hogee varkaraiks kee or se yahee kahana chaahata hoon ki sirph sahee hai nahin aur dharata hee aur shaanti hee aapako sada hai us mobail par khada kar degee jahaan se aap apane aap ko surakshaatmak drshti se bacha paenge

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:18
मुश्किल वक्त में भी प्रकृति के साथ सतगुरु कैसे स्थापित किया जा सकता है मुश्किल से जो है वह हमारे शरीर की हो सकती है यह नहीं सोचती है इसमें यह प्रकृति में जब असंतुलन हो जाता है मुश्किल वक्त आता है हमें पर कुर्सी के साथ एक संतुलन बनाना हमेशा आवश्यक होता है तो प्रकृति के साथ संतुलन बनाने के लिए हमें प्रकृति की जो प्राकृतिक चीजें हैं उन को नष्ट नहीं करना चाहिए जैसे हम इंसान जो जंगलों को काट कर उसकी लकड़ी है और अन्य सभी चीजों का व्यापार करता है पैसों के लिए स्कूटी का भी डांस कर रहा है करण एनवायरमेंट का संतुलन बिगड़ता है मनुष्य नदियों से रैली निकालता है श्री कारण नदी का पात्र जो होता है वह बिगड़ जाता है उसके कारण ज्यादा पानी रुका नहीं रहता और उसके कारण आजू बाजू के जो चला होते हैं या जवानी मोर पानी के स्त्रोत होती है उसमें पानी कम होता है कम पड़ जाता है छोटे मनुष्य के लिए प्रकृति के साथ इस तरह का खिलवाड़ नहीं करना चाहिए मुश्किल वक्त में वर्षा ऋतु की बात है तो उसके की मुश्किल के समय में इसे डॉक्टर से इलाज करके मेडिसिन या शल्य चिकित्सा गुरुजी पड़े तो करके और आहार विहार में संतुलन तक के निंदा का मंडप मुश्किल वक्त पर किया जा सकता है धन्यवाद
Mushkil vakt mein bhee prakrti ke saath sataguru kaise sthaapit kiya ja sakata hai mushkil se jo hai vah hamaare shareer kee ho sakatee hai yah nahin sochatee hai isamen yah prakrti mein jab asantulan ho jaata hai mushkil vakt aata hai hamen par kursee ke saath ek santulan banaana hamesha aavashyak hota hai to prakrti ke saath santulan banaane ke lie hamen prakrti kee jo praakrtik cheejen hain un ko nasht nahin karana chaahie jaise ham insaan jo jangalon ko kaat kar usakee lakadee hai aur any sabhee cheejon ka vyaapaar karata hai paison ke lie skootee ka bhee daans kar raha hai karan enavaayarament ka santulan bigadata hai manushy nadiyon se railee nikaalata hai shree kaaran nadee ka paatr jo hota hai vah bigad jaata hai usake kaaran jyaada paanee ruka nahin rahata aur usake kaaran aajoo baajoo ke jo chala hote hain ya javaanee mor paanee ke strot hotee hai usamen paanee kam hota hai kam pad jaata hai chhote manushy ke lie prakrti ke saath is tarah ka khilavaad nahin karana chaahie mushkil vakt mein varsha rtu kee baat hai to usake kee mushkil ke samay mein ise doktar se ilaaj karake medisin ya shaly chikitsa gurujee pade to karake aur aahaar vihaar mein santulan tak ke ninda ka mandap mushkil vakt par kiya ja sakata hai dhanyavaad

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:33
अब सवाल है कि मुसीबत में प्रकृति के साथ संतुलन कैसे स्थापित किया जा सकता है मुश्किल वक्त में प्रकृति के साथ में संतुलन स्थापित करने के लिए बहुत जरूरी है कि हर एक वह चीज जो हमने खुद ही कटौती कर दी है उसको हम पूरा करें बैलेंस हमने क्रिएट कर दिया है उसको हम सही करें उदाहरण के तौर पर इस तरीके से तेजी से पेड़ काटते जा रहे हैं और नए पौधे लगाए नहीं जा रहे हैं सबसे पहले उसी को सही करना बेहद जरूरी है मौसम तो प्रॉब्लम तभी सही हो जाएंगे अगर हम प्लांटेशन करना शुरू कर दें आपका दिन शुभ रहे थे निवाद
Ab savaal hai ki museebat mein prakrti ke saath santulan kaise sthaapit kiya ja sakata hai mushkil vakt mein prakrti ke saath mein santulan sthaapit karane ke lie bahut jarooree hai ki har ek vah cheej jo hamane khud hee katautee kar dee hai usako ham poora karen bailens hamane kriet kar diya hai usako ham sahee karen udaaharan ke taur par is tareeke se tejee se ped kaatate ja rahe hain aur nae paudhe lagae nahin ja rahe hain sabase pahale usee ko sahee karana behad jarooree hai mausam to problam tabhee sahee ho jaenge agar ham plaanteshan karana shuroo kar den aapaka din shubh rahe the nivaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मुश्किल वक्त में भी प्रकृति के साथ संतुलन कैसे स्थापित किया जा सकता है प्रकृति के साथ संतुलन कैसे स्थापित किया जा सकता है
URL copied to clipboard