#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?

Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:25
तो मित्रों आपके सवाल का उत्तर है यह कि हमारे विश्व का वर्तमान भिन्न भिन्न प्रकार का होता है जहां पर खान-पान वेशभूषा दलवाई मौसम सब अलग अलग होने के कारण मनुष्य का रंग गोरा काला सावला गेहूं रंग होता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
To mitron aapake savaal ka uttar hai yah ki hamaare vishv ka vartamaan bhinn bhinn prakaar ka hota hai jahaan par khaan-paan veshabhoosha dalavaee mausam sab alag alag hone ke kaaran manushy ka rang gora kaala saavala gehoon rang hota hai dhanyavaad doston khush raho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:28
सवाल ही इंसान का रंग अलग-अलग क्यों होता है देखिए मानव त्वचा का रंग गहरे भूरे से लेकर हल्के गुलाबी श्वेत तक विस्तृत पर आ सकता है मानो तो चमकता प्राकृतिक वरण का परिणाम है मानव में त्वचा वर्ण अकता का विकास मुख्य तत्व तक आवेदन करने वाली पराबैंगनी विकिरण की मात्रा को विनियमित करने और इसके जीव रसायन प्रभाव नियंत्रित करने से हुआ है लोगों का वास्तविक रंग विभिन्न तत्वों पर निर्भर करता है यद्यपि सबसे महत्वपूर्ण तत्व मेलानिन इन वर्णक है मेलानिन इन का निर्माण त्वचा की उचित नामक कोशिकाओं के अंदर होता है और गहरे श्याम वर्ण के लोगों की त्वचा का रंग इसे ही निर्धारित होता है हल्के रंग के लोगों की त्वचा का रंग बारिश ताकि नीले सफेद संयोजी उत्तक और शिराओं में प्रभावित होने वाले हेमोग्लोबिन से निर्धारित होता है त्वचा में अंतर्निहित लाल रंग दृश्य मान होता है जो मुख्य रूप से चेहरे पर कुछ विशिष्ट परिस्थितियों में अधिक दिखाई देता है जैसे व्यायाम के उपरांत तंत्रिका तंत्र की उत्तेजित अवस्था गुस्सा डर आदमी ऐसा दिखाई देता है धन्यवाद
Savaal hee insaan ka rang alag-alag kyon hota hai dekhie maanav tvacha ka rang gahare bhoore se lekar halke gulaabee shvet tak vistrt par aa sakata hai maano to chamakata praakrtik varan ka parinaam hai maanav mein tvacha varn akata ka vikaas mukhy tatv tak aavedan karane vaalee paraabainganee vikiran kee maatra ko viniyamit karane aur isake jeev rasaayan prabhaav niyantrit karane se hua hai logon ka vaastavik rang vibhinn tatvon par nirbhar karata hai yadyapi sabase mahatvapoorn tatv melaanin in varnak hai melaanin in ka nirmaan tvacha kee uchit naamak koshikaon ke andar hota hai aur gahare shyaam varn ke logon kee tvacha ka rang ise hee nirdhaarit hota hai halke rang ke logon kee tvacha ka rang baarish taaki neele saphed sanyojee uttak aur shiraon mein prabhaavit hone vaale hemoglobin se nirdhaarit hota hai tvacha mein antarnihit laal rang drshy maan hota hai jo mukhy roop se chehare par kuchh vishisht paristhitiyon mein adhik dikhaee deta hai jaise vyaayaam ke uparaant tantrika tantr kee uttejit avastha gussa dar aadamee aisa dikhaee deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:25
देखे इंसान के रंग लगन होने की वजह है कि उनके अंदर की जो चीन है आपके जीवन में आपके जैन शायद आपके पिताजी के कुछ जींस के जींस डिफरेंट हो कि कुछ दिन काफी दिन से होते हैं लेकिन कुछ थोड़ी इतने दिन से हर एक इंसान में सिर्फ लेंस होता है आपकी ता होया पुत्रों कोई भी हो तो उसे डिफरेंस जो रहता है जिनकी वजह से हम अलग-अलग होते हैं
Dekhe insaan ke rang lagan hone kee vajah hai ki unake andar kee jo cheen hai aapake jeevan mein aapake jain shaayad aapake pitaajee ke kuchh jeens ke jeens dipharent ho ki kuchh din kaaphee din se hote hain lekin kuchh thodee itane din se har ek insaan mein sirph lens hota hai aapakee ta hoya putron koee bhee ho to use dipharens jo rahata hai jinakee vajah se ham alag-alag hote hain

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:37

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
Naman Singh Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Naman जी का जवाब
Student & Social worker
1:08
नमस्कार जैसा कि प्रश्न है कि इंसान का रंग अलग अलग होता है तो आज हम इसका कारण जाएंगे कि इंसान कारण अलग-अलग क्यों आए तो जब सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में है या सूर्य के प्रकाश में उपस्थित पराबैगनी किरणे जब हमारे शरीर में पढ़ती है तो शरीर के ऊतकों द्वारा अधिक मेलानिन बनने लगता है और शरीर के द्वारा अधिक महिला बनने की वजह से शरीर का रंग काला या गेहुआ हो जाता है जबकि ठंडे स्थानों पर विपरीत होता है ठंडे स्थानों पर रहने वाले लोगों के शरीर में मैंने मेलानिन की मात्रा कम पाई जाती है जिसके कारण वहां के लोग गोरे यही कारण है कि अलग-अलग रंग इंसानों में होते हैं धन्यवाद
Namaskaar jaisa ki prashn hai ki insaan ka rang alag alag hota hai to aaj ham isaka kaaran jaenge ki insaan kaaran alag-alag kyon aae to jab soory ke prakaash kee upasthiti mein hai ya soory ke prakaash mein upasthit paraabaiganee kirane jab hamaare shareer mein padhatee hai to shareer ke ootakon dvaara adhik melaanin banane lagata hai aur shareer ke dvaara adhik mahila banane kee vajah se shareer ka rang kaala ya gehua ho jaata hai jabaki thande sthaanon par vipareet hota hai thande sthaanon par rahane vaale logon ke shareer mein mainne melaanin kee maatra kam paee jaatee hai jisake kaaran vahaan ke log gore yahee kaaran hai ki alag-alag rang insaanon mein hote hain dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है इंसान कर रंग अलग अलग क्यों होता है तो फ्रेंड से यह होता है त्वचा की अलग-अलग रंगों का कारण इसके लिए मेरी नींद पदार्थ जिम्मेदार होता है आंखों बालों और त्वचा के रंग के लिए मेलेनिन ही जिम्मेदार होता है तो इसी में पदार्थ के कारण ही हमारी त्वचा का रंग अलग अलग होता है तो फ्रेंड्स आपको अगर मेरे जवाब पसंद आए तो प्लीज लग तो फ्रेंड साहब को मेरे जॉब अच्छी लगे तो लाइक करिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai insaan kar rang alag alag kyon hota hai to phrend se yah hota hai tvacha kee alag-alag rangon ka kaaran isake lie meree neend padaarth jimmedaar hota hai aankhon baalon aur tvacha ke rang ke lie melenin hee jimmedaar hota hai to isee mein padaarth ke kaaran hee hamaaree tvacha ka rang alag alag hota hai to phrends aapako agar mere javaab pasand aae to pleej lag to phrend saahab ko mere job achchhee lage to laik kariega dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
Usha Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Usha जी का जवाब
Housewife
0:34
नमस्ते पूछा क्या एक इंसान कर रहे हैं अलग अलग क्यों है जब सूर्य के प्रकाश में उपस्थिति पराबैगनी किडनी हमारे शरीर पर पड़ती है तो शरीर के ऊतकों द्वारा अधिक मैलानी बनने लगता है शरीर के द्वारा अधिक मेलानिन बनने की वजह से शरीर का रंग काला यज्ञ हुआ हो जाता है जबकि ठंडे स्थानों पर रहने वाले लोगों के शरीर में मिलाने की मात्रा कम पाई जाती है धन्यवाद
Namaste poochha kya ek insaan kar rahe hain alag alag kyon hai jab soory ke prakaash mein upasthiti paraabaiganee kidanee hamaare shareer par padatee hai to shareer ke ootakon dvaara adhik mailaanee banane lagata hai shareer ke dvaara adhik melaanin banane kee vajah se shareer ka rang kaala yagy hua ho jaata hai jabaki thande sthaanon par rahane vaale logon ke shareer mein milaane kee maatra kam paee jaatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:51
पूछा गया है इंसान का रंग अलग अलग क्यों है तो दिखी इंसान का रंग अलग अलग होने के पीछे का एक कारण यह है कि अलग-अलग जगहों पर जो है वहां के अकॉर्डिंग इंसान की स्किन और जो है का कलर होता है जिसे ईश्वर ने जितने भी प्राणी मनाए हैं उन सब को अपने आसपास के वातावरण के अनुरूप ढलने की जुड़ने के लिए कुछ ऐसी चीज है विकसित करी हुई है वैसे ही इंसान में कलर को लेकर के है जिन देशों में सूरज की रोशनी तेज होती वहां के लोगों की स्कीम थोड़ी डार्क होती है अब दूसरा चीज है इसमें काम करता है वह है मिलाने नामक हार्मोन हार्मोन जितना अधिक होता है हमारे शरीर में उतना हमारा रंग सावला होता है उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Poochha gaya hai insaan ka rang alag alag kyon hai to dikhee insaan ka rang alag alag hone ke peechhe ka ek kaaran yah hai ki alag-alag jagahon par jo hai vahaan ke akording insaan kee skin aur jo hai ka kalar hota hai jise eeshvar ne jitane bhee praanee manae hain un sab ko apane aasapaas ke vaataavaran ke anuroop dhalane kee judane ke lie kuchh aisee cheej hai vikasit karee huee hai vaise hee insaan mein kalar ko lekar ke hai jin deshon mein sooraj kee roshanee tej hotee vahaan ke logon kee skeem thodee daark hotee hai ab doosara cheej hai isamen kaam karata hai vah hai milaane naamak haarmon haarmon jitana adhik hota hai hamaare shareer mein utana hamaara rang saavala hota hai ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
0:21
अपने क्या इंसान का रंग अलग अलग क्यों है इंसान का नाम जो है वह अलग अलग है इसलिए है क्योंकि जब मेलानिन कम मात्रा जो है अलग-अलग लोगों में अलग होती है जो काले रंग की होती उनकी मालिनी ज्यादा होती है उनकी स्किन पर और जो गोरे होते हैं उनकी मैंने नीम जो है वह कम होती है उनकी स्किन में मेरे ख्याल से सवाल का जवाब
Apane kya insaan ka rang alag alag kyon hai insaan ka naam jo hai vah alag alag hai isalie hai kyonki jab melaanin kam maatra jo hai alag-alag logon mein alag hotee hai jo kaale rang kee hotee unakee maalinee jyaada hotee hai unakee skin par aur jo gore hote hain unakee mainne neem jo hai vah kam hotee hai unakee skin mein mere khyaal se savaal ka javaab

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:56
चलिए पहले पूछ लेते उसके बाद में उत्तर उत्तर देंगे फिर किसी की मजाक कर रहा था क्योंकि इंसान का रंग लगा इसलिए लैला वह अपने माता-पिता अपने बुजुर्गों पर जाते हैं यहां अपनी पीढ़ी दर पीढ़ी भी जाते हैं तो उस प्रकार से रंग का काला गोरा एक ऐसा भी हो सकता है विलियम जलवायु पर भी निर्भर करता है कौन कैसा है या ठंडे ठंडे प्रदेश हैं वहां के लोग ज्यादा प्रतिबंधित है तो दिमाग मत खा रहे होते जाएगा प्लीज अनब्लॉक करें हमारे आई देखो प्यार के लोग काले होते हैं और साउथ इंडियन की तरफ चले आओ मैंने देख लिया में चले वहां के लोग काले होते तो यह है जलवा ए और अपने माता-पिता के ऊपर ही निर्भर करता है यह काले गोरे कैसे
Chalie pahale poochh lete usake baad mein uttar uttar denge phir kisee kee majaak kar raha tha kyonki insaan ka rang laga isalie laila vah apane maata-pita apane bujurgon par jaate hain yahaan apanee peedhee dar peedhee bhee jaate hain to us prakaar se rang ka kaala gora ek aisa bhee ho sakata hai viliyam jalavaayu par bhee nirbhar karata hai kaun kaisa hai ya thande thande pradesh hain vahaan ke log jyaada pratibandhit hai to dimaag mat kha rahe hote jaega pleej anablok karen hamaare aaee dekho pyaar ke log kaale hote hain aur sauth indiyan kee taraph chale aao mainne dekh liya mein chale vahaan ke log kaale hote to yah hai jalava e aur apane maata-pita ke oopar hee nirbhar karata hai yah kaale gore kaise

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
विकी आपका प्रश्न है कि इंसान का रंग अलग अलग क्यों यह प्रश्न वाकई बहुत उत्सुकता भरा है क्या कि वाकई हम यह जानना चाहते हैं कि हम अपने आसपास लोगों को देखते हैं कुछ लोग बहुत काले होते हैं कुछ लोगों का कलर के हुए रंग का होता है कुछ लोग बहुत ज्यादा गोरे होते हैं तो इसके मुख्य रूप से देखिए मित्रों तीन कारण पहला कारण आनुवंशिक कारण जिसके माता-पिता का रंग जिस तरह का होगा तो बच्चे का जो रंग होगा उसकी त्वचा का जो रंग होगा वह भी लगभग उतना ही मिलता जुलता होगा अगर माता-पिता गोरे हैं तो बच्चा भी गोरा पर होगा माता-पिता काले हैं तो बच्चा भी काला पैदा होगा अर्थात उसकी त्वचा का रंग काला हो तो सबसे पहला जो कारण है वह तो है अनुवांशिक का दूसरा है कि जो हमारी त्वचा के अंदर एक मेलेनिन नामक वर्णन होता है जिसको आप अंग्रेजी में सिग्मेंट भी कह सकते हैं तुम लोगों का रंग गोरा या काला होना हमारी त्वचा में पाया जाने वाला जो मेलेनिन नामक चमक को किस चीज की मात्रा के आधार पर गिरता है होता है कि वह काला है या जिसके शरीर में त्वचा में मेलानिन की मात्रा ज्यादा होगी बात काला दिखता है और जिस की त्वचा में मेलानिन की मात्रा कम होती है वह बुरा दिखता है अब शरीर के अलग-अलग भाग में मेलानिन की मात्रा अलग-अलग हो सकती है और काला या गोरा बनने के लिए होने के कारण जो मेलानिन पिगमेंट है उसको सूर्य का प्रकाश प्रभावित करता है लेकिन दूसरी बात यह भी है इसके लिए सूर्य के प्रकाश को ही पूर्ण रूप से जिम्मेदार नहीं माना जा सकता क्योंकि नए पैदा होने वाले बच्चे भी काले या गोरे होते हैं जो कि सूर्य के प्रकाश से बहुत दूर हैं इसीलिए मैंने पहला जो कारण बताया था कि आनुवांशिक कारण दूसरा क्योंकि जो उसके माता-पिता से जो विरासत में उनको जिनकी मिले हैं उसी चीज के आधार पर उसकी त्वचा का रंग तय होता है और तीसरा होता है कि जैतारण में जलवायु के अंदर बच्चा पैदा होता है उस जलवायु का भी उस पर गहरा प्रभाव पड़ता है मुख्य रूप से यही तीन कारण है जिसके अंदर गलत है धन्यवाद
Vikee aapaka prashn hai ki insaan ka rang alag alag kyon yah prashn vaakee bahut utsukata bhara hai kya ki vaakee ham yah jaanana chaahate hain ki ham apane aasapaas logon ko dekhate hain kuchh log bahut kaale hote hain kuchh logon ka kalar ke hue rang ka hota hai kuchh log bahut jyaada gore hote hain to isake mukhy roop se dekhie mitron teen kaaran pahala kaaran aanuvanshik kaaran jisake maata-pita ka rang jis tarah ka hoga to bachche ka jo rang hoga usakee tvacha ka jo rang hoga vah bhee lagabhag utana hee milata julata hoga agar maata-pita gore hain to bachcha bhee gora par hoga maata-pita kaale hain to bachcha bhee kaala paida hoga arthaat usakee tvacha ka rang kaala ho to sabase pahala jo kaaran hai vah to hai anuvaanshik ka doosara hai ki jo hamaaree tvacha ke andar ek melenin naamak varnan hota hai jisako aap angrejee mein sigment bhee kah sakate hain tum logon ka rang gora ya kaala hona hamaaree tvacha mein paaya jaane vaala jo melenin naamak chamak ko kis cheej kee maatra ke aadhaar par girata hai hota hai ki vah kaala hai ya jisake shareer mein tvacha mein melaanin kee maatra jyaada hogee baat kaala dikhata hai aur jis kee tvacha mein melaanin kee maatra kam hotee hai vah bura dikhata hai ab shareer ke alag-alag bhaag mein melaanin kee maatra alag-alag ho sakatee hai aur kaala ya gora banane ke lie hone ke kaaran jo melaanin pigament hai usako soory ka prakaash prabhaavit karata hai lekin doosaree baat yah bhee hai isake lie soory ke prakaash ko hee poorn roop se jimmedaar nahin maana ja sakata kyonki nae paida hone vaale bachche bhee kaale ya gore hote hain jo ki soory ke prakaash se bahut door hain iseelie mainne pahala jo kaaran bataaya tha ki aanuvaanshik kaaran doosara kyonki jo usake maata-pita se jo viraasat mein unako jinakee mile hain usee cheej ke aadhaar par usakee tvacha ka rang tay hota hai aur teesara hota hai ki jaitaaran mein jalavaayu ke andar bachcha paida hota hai us jalavaayu ka bhee us par gahara prabhaav padata hai mukhy roop se yahee teen kaaran hai jisake andar galat hai dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान का रंग अलग अलग क्यों है?Insan Ka Rang Alag Alag Kyu Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:31
प्रश्न है इंसान का रंग अलग अलग क्यों है देखे तो व्हाट्सएप कर रहा मेलेनिन नामक एक रसायन से निर्धारित होता है मेलेनिन की मात्रा के अधिक होने के अहसास आकर रंग काला हो जाता है कलर ऑफ सॉलिड नामक विटामिन बी को भी नष्ट होने से बचाता है काली त्वचा सूर्य की आदेश किरणों को भीतर जाने से रोकते विटामिन D3 का उत्पादन प्रभावित होता है
Prashn hai insaan ka rang alag alag kyon hai dekhe to vhaatsep kar raha melenin naamak ek rasaayan se nirdhaarit hota hai melenin kee maatra ke adhik hone ke ahasaas aakar rang kaala ho jaata hai kalar oph solid naamak vitaamin bee ko bhee nasht hone se bachaata hai kaalee tvacha soory kee aadesh kiranon ko bheetar jaane se rokate vitaamin d3 ka utpaadan prabhaavit hota hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इंसान का रंग अलग अलग क्यों है इंसान का रंग
URL copied to clipboard