#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?

Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:05
कुछ लोग जैसे वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाती क्यों है कि दूसरों के नजरों में अच्छा बनने की कोशिश करते हैं आप सुंदर देखना चाहते हैं आप अपने आप को स्वस्थ और हेल्दी और ब्यूटीफुल दिखाने की कोशिश करते हैं अपनी जो है याद करके अपने कपड़े पहने हुए करने के इच्छुक नहीं होंगे पर क्या चीज टाइप बगैरा सूट I3 पहन रखा तो लोग आपसे मिलने की और बात करने की इच्छा जाहिर करेंगे क्योंकि वह सोचेंगे कि आप कोई ना कोई बड़े आदमी दिखाना जो है आजकल के दौर के अंदर हर किसी का और यही कारण है कि जो दिखावटी जो दुनिया है इसके अंदर हम लोग फंसे हुए हैं तो आज आप हो या कोई और वह हर कोई व्यक्ति स्मार्ट बनना चाहेगा अपने आपको अच्छी तरीके से कपड़े इत्यादि सब जैसा है वैसा ही दिखाएंगे
Kuchh log jaise vaise logon ko dikhaane mein sakuchaatee kyon hai ki doosaron ke najaron mein achchha banane kee koshish karate hain aap sundar dekhana chaahate hain aap apane aap ko svasth aur heldee aur byooteephul dikhaane kee koshish karate hain apanee jo hai yaad karake apane kapade pahane hue karane ke ichchhuk nahin honge par kya cheej taip bagaira soot i3 pahan rakha to log aapase milane kee aur baat karane kee ichchha jaahir karenge kyonki vah sochenge ki aap koee na koee bade aadamee dikhaana jo hai aajakal ke daur ke andar har kisee ka aur yahee kaaran hai ki jo dikhaavatee jo duniya hai isake andar ham log phanse hue hain to aaj aap ho ya koee aur vah har koee vyakti smaart banana chaahega apane aapako achchhee tareeke se kapade ityaadi sab jaisa hai vaisa hee dikhaenge

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
0:53
नमस्कार श्रोता हम जिस समय में रह रहे हैं वहां पर पहले से ही सोसाइटी में सेट कर रखा है कि किसके जिस व्यक्ति के अंदर यह चीज होंगी वह व्यक्ति अट्रैक्टिव जैसे लड़कों में अगर कह दिया कि जिस के सिक्स पैक एप्स होंगे या जिसकी हाइट बड़ी होगी जिसकी दाढ़ी होगी वह लड़का सोसायटी एक्सेप्ट करेंगी या नहीं उसको एस्पेक्ट मिलेगी उसकी उसकी सब कदर करेंगे ऐसी लड़कियों के लिए भी कुछ नियम बना रखे हैं तो जब कोई व्यक्ति होता है जो इन नियमों में फिट नहीं बैठता तो ऐसे व्यक्ति जानबूझकर अपने आपको वैसा नहीं दिखाता यानी वह जैसा होता है वैसा दिखाने में सकूं चाहते हैं निसंकोच करते हैं क्योंकि नहीं लगता है कि सोसाइटी उनकी डिस्प्लेज्ड इससे स्पष्ट करें कि वह उन चीजों में फिट नहीं आते तो यह एक कारण होता है धन्यवाद
Namaskaar shrota ham jis samay mein rah rahe hain vahaan par pahale se hee sosaitee mein set kar rakha hai ki kisake jis vyakti ke andar yah cheej hongee vah vyakti atraiktiv jaise ladakon mein agar kah diya ki jis ke siks paik eps honge ya jisakee hait badee hogee jisakee daadhee hogee vah ladaka sosaayatee eksept karengee ya nahin usako espekt milegee usakee usakee sab kadar karenge aisee ladakiyon ke lie bhee kuchh niyam bana rakhe hain to jab koee vyakti hota hai jo in niyamon mein phit nahin baithata to aise vyakti jaanaboojhakar apane aapako vaisa nahin dikhaata yaanee vah jaisa hota hai vaisa dikhaane mein sakoon chaahate hain nisankoch karate hain kyonki nahin lagata hai ki sosaitee unakee displejd isase spasht karen ki vah un cheejon mein phit nahin aate to yah ek kaaran hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:26
हिमाचली क्या होता है कि लोगों के बीच में दिमाग एक सोच है कि सामने वाला जो दिखा रहा है वह कहीं ना कि वह बेस्ट है सोसाइटी में जिससे लोग चल रहे हैं वही बेस्ट है मैं उनकी तरह को नहीं और हम जितने में पीछे रह जाऊंगा लोग मेरे को आपसे अपनी करेंगे लोग मेरे को बोलेंगे कि मैं पिछले जमाने का हूं तो लोग अपने आप को फेंक बनाते हैं और उनकी तरह देने की कोशिश करते हैं
Himaachalee kya hota hai ki logon ke beech mein dimaag ek soch hai ki saamane vaala jo dikha raha hai vah kaheen na ki vah best hai sosaitee mein jisase log chal rahe hain vahee best hai main unakee tarah ko nahin aur ham jitane mein peechhe rah jaoonga log mere ko aapase apanee karenge log mere ko bolenge ki main pichhale jamaane ka hoon to log apane aap ko phenk banaate hain aur unakee tarah dene kee koshish karate hain

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:20
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सब चाहते क्यों है तो फ्रेंड कई लोगों का स्वभाव शर्म आने वाला होता है इसीलिए वे जैसे ही वैसे खुद को दिखाने में सब कुछ आते हैं और बहुत सारे लोग गरीब होते हैं जो अमीरों के सामने आने में सूख जाते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kuchh log jaise hain vaise logon ko dikhaane mein sab chaahate kyon hai to phrend kaee logon ka svabhaav sharm aane vaala hota hai iseelie ve jaise hee vaise khud ko dikhaane mein sab kuchh aate hain aur bahut saare log gareeb hote hain jo ameeron ke saamane aane mein sookh jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:45
फैंसी गले पड़ गए थे उसके बाद कविता के उत्तर देंगे तो किसी ने प्रश्न पूछा कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सब चाहते हैं कि कहीं ऐसा होता है कुछ लोग जैसे होते हैं अपने दिल से पूछ लो भाई जैसे इधर ही है कुछ लोग रही है तो अपनी उनको आदतें अपना रंग दिखाना चाहते हैं संकोच करते हैं ऐसा लगता है क्या सोचे क्या नहीं तो यह हम जैसे हैं हमें भी ऐसा दिखावा करना चाहिए क्या नहीं छुपाना नहीं चाहिए क्या हम गरीब से क्या कैसे भी सही से क्या होगा कि हम अपनी सच्चाई भी सामने पेश करेगी तो उनकी इज्जत हमारे पति और बढ़ जाएगी हम जैसे भी हो सब जाना चाहिए एक गरीब सही कह रहे थे एक जैसी भी है ठीक है
Phainsee gale pad gae the usake baad kavita ke uttar denge to kisee ne prashn poochha kuchh log jaise hain vaise logon ko dikhaane mein sab chaahate hain ki kaheen aisa hota hai kuchh log jaise hote hain apane dil se poochh lo bhaee jaise idhar hee hai kuchh log rahee hai to apanee unako aadaten apana rang dikhaana chaahate hain sankoch karate hain aisa lagata hai kya soche kya nahin to yah ham jaise hain hamen bhee aisa dikhaava karana chaahie kya nahin chhupaana nahin chaahie kya ham gareeb se kya kaise bhee sahee se kya hoga ki ham apanee sachchaee bhee saamane pesh karegee to unakee ijjat hamaare pati aur badh jaegee ham jaise bhee ho sab jaana chaahie ek gareeb sahee kah rahe the ek jaisee bhee hai theek hai

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
KARTIK MISHRA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KARTIK जी का जवाब
Student
0:19

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
Dollie kashwani Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dollie जी का जवाब
Energy Alchemist & Wellness Designer
0:59
कुछ लोग जैसे हैं वैसे ही लोगों को दिखाने में सब कुछ आते क्यों हैं लेकिन कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में संगमा ऐसा कुछ आते हैं उसका रीजन बहुत बड़ा है कुछ लोग उस चीज को बुरा मानते हैं अब उन्होंने दिमाग में सिर्फ की डेफिनेशन वही बना ली है तो वह अपने आप को बुरा कैसे दिखा सकते हैं और वाकई में समाज कुछ चीजों को एक्सेप्ट नहीं करता है तो वह अपने आप को नहीं दिखा पाते हैं सिंपल सी चीज है तो दूसरी चीज की इस वजह से भी नहीं दिखा पाते हैं कि उनको कहीं ना कहीं किसका डर भी रहता है कि जो है लोगों से नाराज हो जाएंगे या जो है उनके हाथ से चली गई हमको कुछ नहीं होता है जो है अगर आप सही हैं तो कुत्ते विश्वास करें और गलत है तो अब करेंगे भी दे देंगे सिंपल सी चीज है तो डरता वही है जो गलत होता है आफ आपको मेरा आंसर पसंद आया होगा विश यू ऑल द बेस्ट
Kuchh log jaise hain vaise hee logon ko dikhaane mein sab kuchh aate kyon hain lekin kuchh log jaise hain vaise logon ko dikhaane mein sangama aisa kuchh aate hain usaka reejan bahut bada hai kuchh log us cheej ko bura maanate hain ab unhonne dimaag mein sirph kee dephineshan vahee bana lee hai to vah apane aap ko bura kaise dikha sakate hain aur vaakee mein samaaj kuchh cheejon ko eksept nahin karata hai to vah apane aap ko nahin dikha paate hain simpal see cheej hai to doosaree cheej kee is vajah se bhee nahin dikha paate hain ki unako kaheen na kaheen kisaka dar bhee rahata hai ki jo hai logon se naaraaj ho jaenge ya jo hai unake haath se chalee gaee hamako kuchh nahin hota hai jo hai agar aap sahee hain to kutte vishvaas karen aur galat hai to ab karenge bhee de denge simpal see cheej hai to darata vahee hai jo galat hota hai aaph aapako mera aansar pasand aaya hoga vish yoo ol da best

bolkar speaker
कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है?Kuch Log Jaise Hain Vaise Logon Ko Dikhane Mein Sakuchate Kyun Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:41
पूछा गया है कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सब कुछ आते क्यों हैं तो देखिए हम जैसे हैं वैसे लोगों को अपने आप को प्रेग्नेंट करने में कई लोग सब कुछ आते हैं और इसका सीधा सा कारण है आत्मविश्वास की कमी उन लोगों को यह फील होता है कि वह जैसे हैं वह परिपूर्ण नहीं है और लोग उनके बारे में सोचते हीन भावना से देखेंगे लोग उनको एक्सेप्ट नहीं करेंगे और इसका मेन कारण बसेड़ी के मैच में श्वास की कमी उनको लगता है उनमें कुछ कमी है वह किसी मामले में दूसरे से पिछड़े हुए हैं और इसीलिए लोग सब कुछ आते हैं उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Poochha gaya hai kuchh log jaise hain vaise logon ko dikhaane mein sab kuchh aate kyon hain to dekhie ham jaise hain vaise logon ko apane aap ko pregnent karane mein kaee log sab kuchh aate hain aur isaka seedha sa kaaran hai aatmavishvaas kee kamee un logon ko yah pheel hota hai ki vah jaise hain vah paripoorn nahin hai aur log unake baare mein sochate heen bhaavana se dekhenge log unako eksept nahin karenge aur isaka men kaaran basedee ke maich mein shvaas kee kamee unako lagata hai unamen kuchh kamee hai vah kisee maamale mein doosare se pichhade hue hain aur iseelie log sab kuchh aate hain ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कुछ लोग जैसे हैं वैसे लोगों को दिखाने में सकुचाते क्यों है
URL copied to clipboard