#जीवन शैली

bolkar speaker

अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?

Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:42
छोटी-छोटी बातों को और हमको चिढ़ हो रहा है तो इसके लिए मैं आपको एक सलाह दूंगा कि ट्राई करिए ठीक है कोशिश करेगी ज्यादा शांत रहने के लिए ज्यादा शांत रहने के लिए ज्यादा था आप एक अपने आप में एक के टारगेट सेट करें कि मैं इन चीजों को ना ज्यादा नहीं बोलूंगा या फिर आज के दिन में में टोटल में एक व्हाट्सएप पर एक सौ सेंटेंस बोलूंगा एक सौ बार क्यों बोलूंगा जिससे ज्यादा नहीं बोलूंगा तो इतने क्या होगा ना कि हमारी माहित को माइंड का हमारे मुंह साइलेंट रहेगा तो मेरे माइंड भी उसके बाद में थोड़ी शांति बन जाएगा और जब मन शांत बन जाएगा तो बन जाएगा तो हम हर एक बातों को ना अच्छी तरह से हम सोचेंगे समझेंगे कि हां यह बात तो क्या है क्यों है कैसा है उसको जब आप अच्छे से समझेंगे तो हमको चैट नहीं आएगा और हम उसे सलाह निकालने क्यों मत दिमाग में कोशिश लेट होगा ठीक है हम खुद चाय कोशिश करने लगेंगे कि इस जो प्रॉब्लम सिस्को समाधान कैसे करेंगे ऐसा नहीं कि आप चैटिंग नहीं रे हम दे देंगे ठीक है तभी होता है जब हमको समझता नहीं है प्रकाश से जब प्रॉब्लम पाया जब कोई चीज हम सुनील समझे तो फटाक चमन सरधना स्टार्ट कर दिए थे टिकट कब का मतलब ही बोलते हैं इंग्लिश में कि कुछ ना सोचे समझे उसको एक संदेश देते हैं तो इसी तरह में बोलना चाहूंगा कि हम अपने आप को रखना सिखाइए टिकट लेने कि आप चैट करो नहीं होगी लेकिन दूसरे जिलों में भी बेकार की बातें करते हैं जब आप फालतू की बकवास वगैरा करते हैं ठीक है हमें तो अपने को कंट्रोल करेगी थोड़ा शांत रहिए जब आप शांत करें ना पेक्टिस करोगे उसके बाद आपको ज्यादा चैट नहीं रहोगे और यह मेरा पर्सनल मैं यह प्रश्न टेक्स्प्रिंट्स चली तो इस हिसाब से मैं आपको सलाह दे रहा हूं
Chhotee-chhotee baaton ko aur hamako chidh ho raha hai to isake lie main aapako ek salaah doonga ki traee karie theek hai koshish karegee jyaada shaant rahane ke lie jyaada shaant rahane ke lie jyaada tha aap ek apane aap mein ek ke taaraget set karen ki main in cheejon ko na jyaada nahin boloonga ya phir aaj ke din mein mein total mein ek vhaatsep par ek sau sentens boloonga ek sau baar kyon boloonga jisase jyaada nahin boloonga to itane kya hoga na ki hamaaree maahit ko maind ka hamaare munh sailent rahega to mere maind bhee usake baad mein thodee shaanti ban jaega aur jab man shaant ban jaega to ban jaega to ham har ek baaton ko na achchhee tarah se ham sochenge samajhenge ki haan yah baat to kya hai kyon hai kaisa hai usako jab aap achchhe se samajhenge to hamako chait nahin aaega aur ham use salaah nikaalane kyon mat dimaag mein koshish let hoga theek hai ham khud chaay koshish karane lagenge ki is jo problam sisko samaadhaan kaise karenge aisa nahin ki aap chaiting nahin re ham de denge theek hai tabhee hota hai jab hamako samajhata nahin hai prakaash se jab problam paaya jab koee cheej ham suneel samajhe to phataak chaman saradhana staart kar die the tikat kab ka matalab hee bolate hain inglish mein ki kuchh na soche samajhe usako ek sandesh dete hain to isee tarah mein bolana chaahoonga ki ham apane aap ko rakhana sikhaie tikat lene ki aap chait karo nahin hogee lekin doosare jilon mein bhee bekaar kee baaten karate hain jab aap phaalatoo kee bakavaas vagaira karate hain theek hai hamen to apane ko kantrol karegee thoda shaant rahie jab aap shaant karen na pektis karoge usake baad aapako jyaada chait nahin rahoge aur yah mera parsanal main yah prashn teksprints chalee to is hisaab se main aapako salaah de raha hoon

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:32
सवाल है अगर छोटी-छोटी बातों पर भी क्यों होने लगे तो क्या करना चाहिए देखिए अक्सर ऐसा तब होता है जब हमारे मनमाफिक कोई कार्य नहीं हो पाता है और वह कार्य बिगड़ जाता है तो हमें किसी महसूस होने लगती है और गुस्सा आ जाता है लाइफ में हमेशा अच्छा ही हो ऐसा नहीं है कभी दिन खुशियों में बीते हुए तो कभी किसी बात पर चुनाव होगा गुस्सा आएगा मगर अक्सर कुछ लोगों को छोटी-छोटी बातों पर जलन होती है और गुस्सा आ जाता है गुस्से का एक प्रकार चिढ़ है गुस्सा अक्षर तब तक शांत नहीं होता जब तक कि उसकी प्रतिक्रिया न दी जाए ऐसे में आप अपना गुस्सा अपने शौक पर निकाल सकते हैं जी हां इसका मतलब सिर्फ यही है कि अगर आप डांस में रुचि रखते हैं या फिर आपको दौड़ना पसंद है या फिर कुछ और आपके शौक है तो अपने शौक में समझाइए और तनाव मुक्त हो जाइए या माहौल को बेहतर बनाने का अच्छा तरीका है जब आप गुस्से में होते हैं तो उन जगहों के बारे में सोचने की कोशिश करें जहां आप खुद को कुछ और शांति महसूस करते हैं फिर एक गहरी सांस लें और अपने मन ही मन में किसी खास शब्द या वाक्य को दोहराएं इस से आपका ध्यान उस बात से हटे गा जिस पर गुस्सा आया है जिससे आपको सिर पैदा हुई है और आप अपने गुस्से पर काबू कर पाएंगे धन्यवाद
Savaal hai agar chhotee-chhotee baaton par bhee kyon hone lage to kya karana chaahie dekhie aksar aisa tab hota hai jab hamaare manamaaphik koee kaary nahin ho paata hai aur vah kaary bigad jaata hai to hamen kisee mahasoos hone lagatee hai aur gussa aa jaata hai laiph mein hamesha achchha hee ho aisa nahin hai kabhee din khushiyon mein beete hue to kabhee kisee baat par chunaav hoga gussa aaega magar aksar kuchh logon ko chhotee-chhotee baaton par jalan hotee hai aur gussa aa jaata hai gusse ka ek prakaar chidh hai gussa akshar tab tak shaant nahin hota jab tak ki usakee pratikriya na dee jae aise mein aap apana gussa apane shauk par nikaal sakate hain jee haan isaka matalab sirph yahee hai ki agar aap daans mein ruchi rakhate hain ya phir aapako daudana pasand hai ya phir kuchh aur aapake shauk hai to apane shauk mein samajhaie aur tanaav mukt ho jaie ya maahaul ko behatar banaane ka achchha tareeka hai jab aap gusse mein hote hain to un jagahon ke baare mein sochane kee koshish karen jahaan aap khud ko kuchh aur shaanti mahasoos karate hain phir ek gaharee saans len aur apane man hee man mein kisee khaas shabd ya vaaky ko doharaen is se aapaka dhyaan us baat se hate ga jis par gussa aaya hai jisase aapako sir paida huee hai aur aap apane gusse par kaaboo kar paenge dhanyavaad

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:05
अगर छोटी-छोटी बातों पर चढ़ा होने लगे तो क्या करना चाहिए कि छोटी-छोटी बातों पर चड़ होने का मतलब है कि आप एक्चुअली में कोई और परेशानी है जो आपके दिमाग में है जिसका निवारण आपको नहीं मिला है जिस वजह से आप हर चीज पर जला रहे हैं अगर यह कभी-कभी हो रहा है और अभी कुछ ही दिनों से होने लगा है तो यही वजह है लेकिन अक्सर ऐसा होता है आपके साथ और हमेशा ही आपका स्वभाव नहीं है फिर चैट करना तो फिर समझ जाना चाहिए कि फिर और भी कोई रीजन हो सकती है तो उसके लिए पूरी जांच करना बहुत जरूरी है जैसे एक मेडिकल डॉक्टर पूरे शरीर की जांच करता है आपकी नव देखता है और फिर आपको और जो हर टेस्ट करने के लिए बोलता है उसके बाद ही कोई दवा देता है ऐसे ही जो मनोवैज्ञानिक है वह भी आपसे अलग अलग प्रकार के सवाल पूछता है आपका पूरा क्लीनिकल इंटरव्यू लेता है उसके बाद आप की मनोदशा को समझते जानते हुए वह डायग्नोज करता है कि क्यों चिढ़ चिढ़ हो रही है क्यों परेशानी हो रही है किस तरह की किन-किन बातों पर चढ़ते हैं आप गुस्सा जल्दी आ जाता है अपने अपने मन मुताबिक शिवसेना होने पर जल आहट होती है या हम कुछ अपेक्षाएं किसी के ऊपर हमने ला दी हुई है और वह अपेक्षा अनुसार काम नहीं कर रहा है इस वजह से हो रहा है इन जनरल कोई और ही आपको परेशानी है जिस वजह से हो रहा है जैसे मैंने पहले सबसे पहले का तो बहुत सारी वजह हो सकती है हो सकता है आप कोई और मानसिक पीड़ा से ग्रसित हो जिस वजह से आपका यह एक सितम है चर्च ऐड होना यह भी हो सकता है तो यह गहराई में जांच करने के बाद ही पता चलता है कि इस आखिरी ऐसा क्यों हो रहा लेकिन अगर ऐसा हो रहा है बार-बार हो रहा है और इससे आपके और डे टुडे लाइफ में प्रॉब्लम हो रही है रिलेशनशिप से प्रॉब्लम आ रही है तो आप एक कोई काउंसलिंग सेशन ले सकते हो कोई बहुत बड़ी बात नहीं है ज्यादा महंगा भी नहीं रहता है प्रसिद्ध दवा लेने डॉक्टर के पास जाते हैं इसे मनोचिकित्सक से भी बात कर सकते हैं आप चाहे तो आप मुझे भी कांटेक्ट कर सकते हैं और फिर हम डिस्कस कर सकते हैं कि सूजन क्या प्रॉब्लम है क्यों आपको चैटिंग हो रही है धन्यवाद
Agar chhotee-chhotee baaton par chadha hone lage to kya karana chaahie ki chhotee-chhotee baaton par chad hone ka matalab hai ki aap ekchualee mein koee aur pareshaanee hai jo aapake dimaag mein hai jisaka nivaaran aapako nahin mila hai jis vajah se aap har cheej par jala rahe hain agar yah kabhee-kabhee ho raha hai aur abhee kuchh hee dinon se hone laga hai to yahee vajah hai lekin aksar aisa hota hai aapake saath aur hamesha hee aapaka svabhaav nahin hai phir chait karana to phir samajh jaana chaahie ki phir aur bhee koee reejan ho sakatee hai to usake lie pooree jaanch karana bahut jarooree hai jaise ek medikal doktar poore shareer kee jaanch karata hai aapakee nav dekhata hai aur phir aapako aur jo har test karane ke lie bolata hai usake baad hee koee dava deta hai aise hee jo manovaigyaanik hai vah bhee aapase alag alag prakaar ke savaal poochhata hai aapaka poora kleenikal intaravyoo leta hai usake baad aap kee manodasha ko samajhate jaanate hue vah daayagnoj karata hai ki kyon chidh chidh ho rahee hai kyon pareshaanee ho rahee hai kis tarah kee kin-kin baaton par chadhate hain aap gussa jaldee aa jaata hai apane apane man mutaabik shivasena hone par jal aahat hotee hai ya ham kuchh apekshaen kisee ke oopar hamane la dee huee hai aur vah apeksha anusaar kaam nahin kar raha hai is vajah se ho raha hai in janaral koee aur hee aapako pareshaanee hai jis vajah se ho raha hai jaise mainne pahale sabase pahale ka to bahut saaree vajah ho sakatee hai ho sakata hai aap koee aur maanasik peeda se grasit ho jis vajah se aapaka yah ek sitam hai charch aid hona yah bhee ho sakata hai to yah gaharaee mein jaanch karane ke baad hee pata chalata hai ki is aakhiree aisa kyon ho raha lekin agar aisa ho raha hai baar-baar ho raha hai aur isase aapake aur de tude laiph mein problam ho rahee hai rileshanaship se problam aa rahee hai to aap ek koee kaunsaling seshan le sakate ho koee bahut badee baat nahin hai jyaada mahanga bhee nahin rahata hai prasiddh dava lene doktar ke paas jaate hain ise manochikitsak se bhee baat kar sakate hain aap chaahe to aap mujhe bhee kaantekt kar sakate hain aur phir ham diskas kar sakate hain ki soojan kya problam hai kyon aapako chaiting ho rahee hai dhanyavaad

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:40
देखिए कितने प्रश्न पूछा अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चढ़ा होने लगे तो क्या करना चाहिए देखिए अगर किसी को छोटी छोटी बातों को छेड़े तो उसे सबसे पहले प्यार से समझा इस लड़ाई झगड़ा नहीं करना चाहिए उस पर चिल्लाना नहीं चाहिए वह धीरे-धीरे उसे खुशी का माहौल देना चाहिए उसे खुश करना चाहिए उसे कॉमेडी सुनाना चाहिए गाने सुनाना चाहिए और प्यार से हमेशा बोलना चाहिए और ज्यादा दिक्कत हो तो आप एक बार डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं कोई प्रॉब्लम नहीं होगी और बशर्ते उसे पर हावी ना हो पूरी तरह चिल्लाना से से प्यार से ही सके तो थोड़ा सही हो सकता है पहले से बेहतर
Dekhie kitane prashn poochha agar chhotee-chhotee baaton par bhee chadha hone lage to kya karana chaahie dekhie agar kisee ko chhotee chhotee baaton ko chhede to use sabase pahale pyaar se samajha is ladaee jhagada nahin karana chaahie us par chillaana nahin chaahie vah dheere-dheere use khushee ka maahaul dena chaahie use khush karana chaahie use komedee sunaana chaahie gaane sunaana chaahie aur pyaar se hamesha bolana chaahie aur jyaada dikkat ho to aap ek baar doktar se salaah le sakate hain koee problam nahin hogee aur basharte use par haavee na ho pooree tarah chillaana se se pyaar se hee sake to thoda sahee ho sakata hai pahale se behatar

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
KARTIK MISHRA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KARTIK जी का जवाब
Student
0:28

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:50
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चुप होने लगे तो क्या करना चाहिए तो फ्रेंड अगर हम छोटी-छोटी बातों के जीने लगा तेरी हमारे अंदर शरीर में कमजोरी के लक्षण हो सकता है और हमारे बीपी का अप डाउन होना भी हो सकता है जो हमारे शरीर में खून नहीं होता है तो मैं चिड़चिड़ापन आ जाता है और हम छोटी-छोटी बातों में भी चाहने लगते हैं और कभी-कभी हमारा भी पिक अप डाउन होता है उससे भी हमें चित्राहट होने लगती है तो हमें इसके लिए करना चाहिए जो जिस काम से हमें चलो वहां से थोड़ा दूर हट कर बैठ जाना चाहिए और हमें अपने पसंदीदा कार्यक्रम टीवी में देखना चाहिए अपना मन बहलाना चाहिए और हमें बाहर निकल कर थोड़ा वाकिंग करना चाहिए शेयर करना चाहिए अपने मन को बनाना चाहिए छोटी-छोटी बातों में नहीं चुनना चाहिए और प्रेम से से बात करनी चाहिए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki agar chhotee-chhotee baaton par bhee chup hone lage to kya karana chaahie to phrend agar ham chhotee-chhotee baaton ke jeene laga teree hamaare andar shareer mein kamajoree ke lakshan ho sakata hai aur hamaare beepee ka ap daun hona bhee ho sakata hai jo hamaare shareer mein khoon nahin hota hai to main chidachidaapan aa jaata hai aur ham chhotee-chhotee baaton mein bhee chaahane lagate hain aur kabhee-kabhee hamaara bhee pik ap daun hota hai usase bhee hamen chitraahat hone lagatee hai to hamen isake lie karana chaahie jo jis kaam se hamen chalo vahaan se thoda door hat kar baith jaana chaahie aur hamen apane pasandeeda kaaryakram teevee mein dekhana chaahie apana man bahalaana chaahie aur hamen baahar nikal kar thoda vaaking karana chaahie sheyar karana chaahie apane man ko banaana chaahie chhotee-chhotee baaton mein nahin chunana chaahie aur prem se se baat karanee chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
4:58
क्वेश्चन किया कि अगर मैं छोटी-छोटी बातों पर जुड़े होने लगे तो क्या करना चाहिए देखिए अब क्या होता है कि जब हम कोई काम करते हैं तो यह टाइम नॉर्मल हो गया और कोरोनावायरस आइए और भी बढ़ गया कि जो डिप्रेशन का मामला देखा गया वह बहुत ज्यादा बढ़ गया था और इन गवर्नमेंट में बहुत सारा इसके लिए मतलब भी निकाला तो देखिए यह छोटी-छोटी बातों पर इंसान को अपनी एक्टिविटी पर ध्यान देना चाहिए इंसान में जब शरीर में कुछ कमी होने लगती है जैसे विटामिंस की कमी होने लगती है या फिर खून की कमी होती है तो क्या होने लगता है यह प्रॉब्लम हो सकती है या फिर क्या होता है कि जब हम कोई काम करते हैं आप पढ़ाई करते हैं या इस टाइम जॉब कोरोनावायरस से कितना है क्या हुआ कि लोग मतलब कौन से ज्यादा समय बिताते थे या फिर वर्क वर्क फ्रॉम होम करते थे तो उन्हें मैक्सिमम सेट फोन लैपटॉप पर गुजारना पड़ता था तो क्या होता था की फिर वो मतलब फोन से टच हो गए थे या फिर फिर दूसरों से जुड़ने में थोड़ा-थोड़ा हर इंसान को अपने लिए एक घंटा निकालना चाहिए और शांत रखने के लिए शांति और इसका सबसे अच्छा तरीका है मेडिटेशन मेडिटेशन करना चाहिए और जितनी अच्छी बातें अपने अंदर भरना चाहिए और अपने पिकअप करना चाहिए क्योंकि जब हम इंसान अपने पिक केयर नहीं करते हैं तो फिर हम बुरे बन जाते हैं और हमें पता भी नहीं चलता कि हम क्या कर रहा है अक्सर क्या होता कि जब हमें गुस्सा आता है तो हम किसी को कुछ बोल देते हैं फिर हमें बाद में बहुत ज्यादा पता होता कि मैंने ऐसा क्यों बोला बहुत बुरा लगा लेकिन कोई रिस्पांस नहीं देता तब तो ठीक है उसी पर उसने रिस्पांस भी देने लगा अगर वह भी रिस्पांस दे तो फिर लड़ाई होने लगती है अपने आप को कंट्रोल करना चाहिए गुस्सा आता है तो बस रिलैक्स बोलो रिलायंस रिलायंस पर 3 मिनट तक कंट्रोल करना बैकस्ट्रीट तो फिर क्या होगा कि मुझे गुस्सा कम हो जाएगा और फिर जो वह सिचुएशन क्रिकेट होने वाला होगा तो इतनी छोटी बात लेकिन इतना बड़ा थोड़ा क्लियर करना पड़ेगा जैसे जो अंकन एक दिन खराब कर देगा एक दिन नहीं वह बात जो आप बोल दोगे वह तो बोल दो कि लेकिन आपका जो इंटेंशन होगा वह गलत नहीं होगा लेकिन क्या होगा कि वह बात को लेकर फिर पछतावा होने लगा कर मैंने ऐसा क्यों बोला उसे हर्ट हो गया बहुत कुछ थोड़ी सी बस आप को कंट्रोल करना है और इसका सबसे अच्छा तरीका है मेडिटेशन मेडिटेशन करोगे तो आप शांत हो जाओगे और अपने आप को समझने लगा कि मैं क्या कर रहा हूं या मैं क्या कर रही हूं और अगर यह कर लिया लाइफ में क्योंकि कह देना कि अगर किसी इंसान ने अपने मन को जीत लिया तो वह सब संसार को जीत सकता है कुछ भी कर सकता क्योंकि मंजू मतलब क्या कहते हैं बंदर की तरह इधर से उधर कुत्ता रहता है तो क्या करना चाहिए कि हमें कौन खास तौर से अक्सर छोटी-छोटी बातों पर मेकअप छुड़ाने लगता किसी चीज से अटैचमेंट होता है तो फिर अगर किसी ने उसके बाद में बोल दिया या फिर किसी ने कुछ कह दिया तो फिर हमें उसे चुरा लेंगे यार इसमें कैसे बोलते हैं मेरा तो मतलब किसी और को पकड़ के रखा है तो फिर उसमें उसके बारे में बोल दिया तो फिर मेरे व्हाट्सएप से नहीं मिलेगी तो फिर उस पर लड़ाई हो जाएगी होने दो मतलब नॉर्मल नॉर्मल ऐसे नहीं मतलब मतलब यह सब चीज को एक बाइट करना अपने लाइफ में क्योंकि मैं अपनी लाइफ अच्छी बनानी है तो आपको यह सब मतलब अगर तो विटामिन की कमी है या फिर आप अच्छे भोजन नहीं लेते हैं क्या देना जैसा खाना खाते हैं वैसा मन हो जाता तो खाना अच्छा खाइए क्योंकि अगर शरीर में प्रॉब्लम होगी तो भी मन चिड़चिड़ापन होता है कि अगर हम ना चाहते हुए भी किसी को कुछ बोल देते हैं तो वह चीज सही करिए पहले अच्छा खाना खाइए अपनी हेल्थ को सही रखिए और उसके बाद अपने माइंड को सही रहेंगे अगर तीन-चार अच्छा तो फिर लाइफ में कुछ बातचीत कर सकते हो तो पहले अच्छा खाना खाना है जो इस टाइम के लाइफ़स्टाइल हो गया है वह बहुत खराब है कि लोग सादा बर्गर पिज्जा यह सब काटे दिमाग में भी मतलब गलत फर्क पड़ता मतलब शरीर भी हावी हो जाएगा दिमाग में अभी हो जाएगा यह सब शरीर के लिए खराब है सबके लिए तो मेडिटेशन करो अच्छा खाना खाओ अच्छा पानी पियो और क्या कहते हैं अपने आप को कंट्रोल रखो कंट्रोल और रिलायंस बस एक घंटा सुबह एक घंटा रात को सोते टाइम बस अपने को तो लाइफ एकदम नॉर्मल हो जाएगी और मूवी भी आपको झगड़ा झंझट कुछ नहीं मिलेगा और लाइफ एकदम लल्लन हो जाएगी और आप भी बहुत अच्छा फील महसूस करोगे आप इस इस चीज को बस एक हफ्ता तक ट्राई करो अगर आपको फिर अच्छा लगे तो फिर इसे अपने लाइफ में उतारना जिससे कि आपकी लाइफ नहीं बल्कि पूरे परिवार के नाइस चेंज हो जाएगी थैंक यू
Kveshchan kiya ki agar main chhotee-chhotee baaton par jude hone lage to kya karana chaahie dekhie ab kya hota hai ki jab ham koee kaam karate hain to yah taim normal ho gaya aur koronaavaayaras aaie aur bhee badh gaya ki jo dipreshan ka maamala dekha gaya vah bahut jyaada badh gaya tha aur in gavarnament mein bahut saara isake lie matalab bhee nikaala to dekhie yah chhotee-chhotee baaton par insaan ko apanee ektivitee par dhyaan dena chaahie insaan mein jab shareer mein kuchh kamee hone lagatee hai jaise vitaamins kee kamee hone lagatee hai ya phir khoon kee kamee hotee hai to kya hone lagata hai yah problam ho sakatee hai ya phir kya hota hai ki jab ham koee kaam karate hain aap padhaee karate hain ya is taim job koronaavaayaras se kitana hai kya hua ki log matalab kaun se jyaada samay bitaate the ya phir vark vark phrom hom karate the to unhen maiksimam set phon laipatop par gujaarana padata tha to kya hota tha kee phir vo matalab phon se tach ho gae the ya phir phir doosaron se judane mein thoda-thoda har insaan ko apane lie ek ghanta nikaalana chaahie aur shaant rakhane ke lie shaanti aur isaka sabase achchha tareeka hai mediteshan mediteshan karana chaahie aur jitanee achchhee baaten apane andar bharana chaahie aur apane pikap karana chaahie kyonki jab ham insaan apane pik keyar nahin karate hain to phir ham bure ban jaate hain aur hamen pata bhee nahin chalata ki ham kya kar raha hai aksar kya hota ki jab hamen gussa aata hai to ham kisee ko kuchh bol dete hain phir hamen baad mein bahut jyaada pata hota ki mainne aisa kyon bola bahut bura laga lekin koee rispaans nahin deta tab to theek hai usee par usane rispaans bhee dene laga agar vah bhee rispaans de to phir ladaee hone lagatee hai apane aap ko kantrol karana chaahie gussa aata hai to bas rilaiks bolo rilaayans rilaayans par 3 minat tak kantrol karana baikastreet to phir kya hoga ki mujhe gussa kam ho jaega aur phir jo vah sichueshan kriket hone vaala hoga to itanee chhotee baat lekin itana bada thoda kliyar karana padega jaise jo ankan ek din kharaab kar dega ek din nahin vah baat jo aap bol doge vah to bol do ki lekin aapaka jo intenshan hoga vah galat nahin hoga lekin kya hoga ki vah baat ko lekar phir pachhataava hone laga kar mainne aisa kyon bola use hart ho gaya bahut kuchh thodee see bas aap ko kantrol karana hai aur isaka sabase achchha tareeka hai mediteshan mediteshan karoge to aap shaant ho jaoge aur apane aap ko samajhane laga ki main kya kar raha hoon ya main kya kar rahee hoon aur agar yah kar liya laiph mein kyonki kah dena ki agar kisee insaan ne apane man ko jeet liya to vah sab sansaar ko jeet sakata hai kuchh bhee kar sakata kyonki manjoo matalab kya kahate hain bandar kee tarah idhar se udhar kutta rahata hai to kya karana chaahie ki hamen kaun khaas taur se aksar chhotee-chhotee baaton par mekap chhudaane lagata kisee cheej se ataichament hota hai to phir agar kisee ne usake baad mein bol diya ya phir kisee ne kuchh kah diya to phir hamen use chura lenge yaar isamen kaise bolate hain mera to matalab kisee aur ko pakad ke rakha hai to phir usamen usake baare mein bol diya to phir mere vhaatsep se nahin milegee to phir us par ladaee ho jaegee hone do matalab normal normal aise nahin matalab matalab yah sab cheej ko ek bait karana apane laiph mein kyonki main apanee laiph achchhee banaanee hai to aapako yah sab matalab agar to vitaamin kee kamee hai ya phir aap achchhe bhojan nahin lete hain kya dena jaisa khaana khaate hain vaisa man ho jaata to khaana achchha khaie kyonki agar shareer mein problam hogee to bhee man chidachidaapan hota hai ki agar ham na chaahate hue bhee kisee ko kuchh bol dete hain to vah cheej sahee karie pahale achchha khaana khaie apanee helth ko sahee rakhie aur usake baad apane maind ko sahee rahenge agar teen-chaar achchha to phir laiph mein kuchh baatacheet kar sakate ho to pahale achchha khaana khaana hai jo is taim ke laifastail ho gaya hai vah bahut kharaab hai ki log saada bargar pijja yah sab kaate dimaag mein bhee matalab galat phark padata matalab shareer bhee haavee ho jaega dimaag mein abhee ho jaega yah sab shareer ke lie kharaab hai sabake lie to mediteshan karo achchha khaana khao achchha paanee piyo aur kya kahate hain apane aap ko kantrol rakho kantrol aur rilaayans bas ek ghanta subah ek ghanta raat ko sote taim bas apane ko to laiph ekadam normal ho jaegee aur moovee bhee aapako jhagada jhanjhat kuchh nahin milega aur laiph ekadam lallan ho jaegee aur aap bhee bahut achchha pheel mahasoos karoge aap is is cheej ko bas ek haphta tak traee karo agar aapako phir achchha lage to phir ise apane laiph mein utaarana jisase ki aapakee laiph nahin balki poore parivaar ke nais chenj ho jaegee thaink yoo

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:03
अब बाल पूछा गया है अगर छोटी-छोटी बातों पर भी छेड़ होने लगे तो क्या करना चाहिए तो दिखे अगर आपको ऐसी स्थिति आपके साथ बन रही है और आपको छोटी-छोटी बातों पर चैट होने लगी है तो सबसे बेहतरीन स्टाफ आई है कि आपको अपना माहौल बदलने की जरूरत है आप कुछ दिन के लिए वैकेशन पर जा सकते हैं या फिर जिस जहां पर आप हैं वहां से कुछ दिन के लिए अलग चले जाइए जिन लोगों के साथ आपको हैं शायद उसकी वजह से असल में यह एक की वजह से हमको चिड़चिड़ापन लगता है जिससे आपको हो रही है तो उससे अलग होता है हो सके तो आपको कुछ टाइम के लिए जहां जिस जगह पर रह रहे हैं वहां से अलग हो जाइए चाहे वह 15 दिन के लिए हो या हो सके तो 2 दिन के लिए दूसरा पिक नए वातावरण में माहौल में जाएंगे आप एक रिप्लेसमेंट मिलेगा तो फिर उसके बाद आपको यह वाली समस्या का समाधान हो जाएगा और आप कीचड़ थोड़ी कम हो जाएगी उम्मीद आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Ab baal poochha gaya hai agar chhotee-chhotee baaton par bhee chhed hone lage to kya karana chaahie to dikhe agar aapako aisee sthiti aapake saath ban rahee hai aur aapako chhotee-chhotee baaton par chait hone lagee hai to sabase behatareen staaph aaee hai ki aapako apana maahaul badalane kee jaroorat hai aap kuchh din ke lie vaikeshan par ja sakate hain ya phir jis jahaan par aap hain vahaan se kuchh din ke lie alag chale jaie jin logon ke saath aapako hain shaayad usakee vajah se asal mein yah ek kee vajah se hamako chidachidaapan lagata hai jisase aapako ho rahee hai to usase alag hota hai ho sake to aapako kuchh taim ke lie jahaan jis jagah par rah rahe hain vahaan se alag ho jaie chaahe vah 15 din ke lie ho ya ho sake to 2 din ke lie doosara pik nae vaataavaran mein maahaul mein jaenge aap ek riplesament milega to phir usake baad aapako yah vaalee samasya ka samaadhaan ho jaega aur aap keechad thodee kam ho jaegee ummeed aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए?Agar Choti Choti Baaton Par Bhe Chidh Hone Lage To Kya Karaa Chaiye
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
0:38
जाकर छोटी-छोटी बातों पर भी छेड़ो ना लगे तो क्या करना चाहिए अगर आपको छोटी-छोटी बातें ही मतलब आपको चिढ़ाने के लिए काफी होता है तो मेरे ही मानना है कि आपको मेरी टेशन करना चाहिए योगा करना चाहिए क्योंकि यह सब बातें जो है कोई मायने नहीं रखता है किसी के लाइफ में और अगर आपकी लाइफ में इतना महत्व रख रहा है तो इसका मतलब है कि आपके जिंदगी में जो है आपको जो पहले से उसका सामना करना पड़ रहा है या फिर ऐसा भी हो सकता है कि आपको जो है जो असली वाली चीजें हैं वह नजर ही नहीं आ रहा है मेरे ख्याल से ईश्वर का जन्म
Jaakar chhotee-chhotee baaton par bhee chhedo na lage to kya karana chaahie agar aapako chhotee-chhotee baaten hee matalab aapako chidhaane ke lie kaaphee hota hai to mere hee maanana hai ki aapako meree teshan karana chaahie yoga karana chaahie kyonki yah sab baaten jo hai koee maayane nahin rakhata hai kisee ke laiph mein aur agar aapakee laiph mein itana mahatv rakh raha hai to isaka matalab hai ki aapake jindagee mein jo hai aapako jo pahale se usaka saamana karana pad raha hai ya phir aisa bhee ho sakata hai ki aapako jo hai jo asalee vaalee cheejen hain vah najar hee nahin aa raha hai mere khyaal se eeshvar ka janm

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अगर छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए छोटी-छोटी बातों पर भी चिढ़ होने लगे तो क्या करना चाहिए
URL copied to clipboard