#रिश्ते और संबंध

charu seth Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए charu जी का जवाब
Think and speak
4:56
जैसे कि आपने फ्रेश में इतना कुछ पूछा है मैं उसको रिपीट नहीं करूंगी आपके प्रश्न को एक्स वाई क्रोमोसोम की व्हाट एवरेज जो भी आपने लिख दिया है साइंस के लैंग्वेज में आखिर आखिर का जो आपने बहुत अच्छा है कि महिला को क्यों दोष दिया जाता है बेटे क्यों नहीं देखें इसमें किसी की साइंस की कोई गलती नहीं है क्योंकि यहां के लोग नहीं समझते ही नहीं चाहते हैं उनको यहां अगर कुछ गलती है तुम्हें कुंठित सोच की और अशिक्षित होने की जो लोग अशिक्षित हैं उनको तो कह सकते हैं कि मैं उनको शिक्षा नहीं मालूम है या उनको साइंस नहीं मालूम है इसलिए वह महिला को दोष दे रहे आप उनको क्या समझाएंगे जो शिक्षित है लेकिन उनकी सोच आज भी कांटेक्ट है यहां अगर मैं दोनों की बात करूं तो आप ही सोचिए कि जो पढ़ा लिखा इंसान है वह भी महिला को दोष देता है जो अनपढ़ इंसान है वह भी महिला को दोष देता है इस बेटी होने के लिए उनकी सोच भी सही लगे तो उनको भी आपको आपको सही लगे लगेगा आप सोचें वह सोच क्या है और वह कुंजप्पन क्या है आप गांव की बात करें चाहे शहर की बात कर ले रात को 10:00 बजे भी अगर लड़की घर से बाहर निकलती है तो उसे किसी इंसान की यानी कि अपने भाई की अपने दोस्त की है अपने पिताजी की जो भी उसके घर में जाएं इस मौजूद है उसकी साथ की जरूरत पड़ती है क्योंकि मां बाप के बारे में सोचिए जिससे एक लड़की है दो लड़की है तीन लड़कियां हैं और उसके घर में कोई मेहमान आ जाता है जो रात को 11:00 बजे आ रहा है स्टेशन पर उसको लेने के लिए तीन लड़कियों की जगह तीन लड़के होते हैं इन तीन में से एक लड़का होता जो कम से कम नहीं 15 साल का होता है मालिक से 15 16 साल की उसके तीनों बच्चे हैं और में से कोई एक लड़का इस उम्र का होता तो नेचुरल से बात है वह लड़का स्टेशन पर जाकर और में आए हुए मेहमान को पिकअप कर के ले आता लेकिन वह जो मां-बाप जिससे सिर्फ तीन लड़के हैं क्या वह बाप क्या बोला उसने को चाहे कितनी भी बड़ी क्यों हो गई हो भेजेंगे फोन को पिकअप करने के लिए नहीं भेजेंगे आदमी कोई उस बात को खुद ही जाना पड़ेगा चाहे वह कितना कमजोर हो चाहे वह कितना बड़ा हो चाहे वह कितना बीमार है कि नहीं हो सकता है उसमें मांगों से फोन करके यह कहना पड़ा कि भैया तुम खुद ही एडजस्टमेंट कर लो हमारे लाने वाला कोई नहीं अब आप मेरे कहने वाले इस बात की गहराई सोचिए कि यहां कितनी सारी चीजें ऐसी हैं जो एक लड़की नहीं कर सकती है इसीलिए लोग जो हैं आज के अनुसार पहले के पीछे आगे से वह नहीं चाहते कि हमारे घर में लड़कियां ज्यादा पैदा हो या लड़की ही पैदा हो लड़का ना पैदा हो क्योंकि देखे बहुत सारी चीजें ऐसी होती है चाहे मैं मैं खुद भी एक लड़की हूं मैं महिला हूं मैं मैं किसके पीछे की बात यह समझ लीजिए कि मैं बहुत ज्यादा शिक्षित भी हूं मैं अपने पापा पर खड़ी भी हूं मैं खत में अपना के किसी इंसान को और के घर का खर्चा भी चला सके मैं सहमत हूं लेकिन क्या यह मेरे लिए बहुत सारी चीजें ऐसी हैं जो मैं नहीं कर सकती चाह कर भी नहीं कर सकती मुझे गाड़ी चलानी आती है लेकिन मैं रात को 11:00 बजे किसी को पिक करने के लिए स्टेशन नहीं जा सकते मुझे स्कूटी चलानी आती है लेकिन मैं रात शाम को किसी को अपने बच्चे को साथ लेकर किसी ऐसे माहौल में नहीं जा सकती जहां पर बहुत सारी गैदरिंग घूमे अकेली नहीं जा सकती मुझे उसके लिए अपने हस्बैंड की जरूरत होती है तो बहुत सारी चीजें दुनिया में ऐसे हैं जो एक महिला को आगे बढ़ने पर रोक देते हैं और एक बात और एक मां उस जगह आकर में घुटने टेक देता है वहीं से उनके साथ जो है वह कुंठित होनी शुरू हो जाती मैं इस चीज को बिल्कुल भी बढ़ावा नहीं देती हूं कि जो लोग यह कहते हैं कि हां मेरे घर में लड़की हुई है तो मुझे बिल्कुल भी खुश नहीं हो रही नहीं मेरी खुद की भी बेटी है और मुझे बहुत खुशी है अपनी बेटी होने के लेकिन जब मैं दूसरी तरफ से दूसरी जगह से सोचती हूं तो मुझे लगता है कि वाकई में हर रिश्ते को अगर हम देखें तो एक लड़का और एक लड़की दोनों का होना एक घर में बहुत जरूरी है क्योंकि इस समाज में बहुत सारी चीजें ऐसी हैं जो कुछ लड़कियां ही कर पाती है तो उस सिर्फ और सिर्फ लड़के ही कर पाते हैं तो जो लोगों की सोच है और जिसके लिए वह महिला को दोष देते हैं बेटी होने के लिए बात किस बात पर आ जाते हैं क्यों महिला को दोष देते हैं बेटियों निकले वह इसलिए क्योंकि यहां जो महिला है वह खुद महिला के दुश्मन है देखे जितनी भी कहानियां किस्से और यह जो रीति रिवाज बनाने वाले लोग हैं यह कौन महिलाएं हैं उन्होंने खुद ही अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारी है और खुद ही अपने आप को यह इतना ज्यादा हीरोइन नीचा दिखाया है कि सिर्फ जो मैंने आज मैं देखती हूं गांव में आज भी महिलाओं को पुरुषों के पैरों की जूती है समझा जाता है चाहे वह घर में उनसे ज्यादा काम करती हो और चाहे वह उनसे ज्यादा समझदार हो तुझे महिला महिला के दुश्मन होते हैं ना वहां पर उस तरीके के सो जाना स्वाभाविक है
Jaise ki aapane phresh mein itana kuchh poochha hai main usako ripeet nahin karoongee aapake prashn ko eks vaee kromosom kee vhaat evarej jo bhee aapane likh diya hai sains ke laingvej mein aakhir aakhir ka jo aapane bahut achchha hai ki mahila ko kyon dosh diya jaata hai bete kyon nahin dekhen isamen kisee kee sains kee koee galatee nahin hai kyonki yahaan ke log nahin samajhate hee nahin chaahate hain unako yahaan agar kuchh galatee hai tumhen kunthit soch kee aur ashikshit hone kee jo log ashikshit hain unako to kah sakate hain ki main unako shiksha nahin maaloom hai ya unako sains nahin maaloom hai isalie vah mahila ko dosh de rahe aap unako kya samajhaenge jo shikshit hai lekin unakee soch aaj bhee kaantekt hai yahaan agar main donon kee baat karoon to aap hee sochie ki jo padha likha insaan hai vah bhee mahila ko dosh deta hai jo anapadh insaan hai vah bhee mahila ko dosh deta hai is betee hone ke lie unakee soch bhee sahee lage to unako bhee aapako aapako sahee lage lagega aap sochen vah soch kya hai aur vah kunjappan kya hai aap gaanv kee baat karen chaahe shahar kee baat kar le raat ko 10:00 baje bhee agar ladakee ghar se baahar nikalatee hai to use kisee insaan kee yaanee ki apane bhaee kee apane dost kee hai apane pitaajee kee jo bhee usake ghar mein jaen is maujood hai usakee saath kee jaroorat padatee hai kyonki maan baap ke baare mein sochie jisase ek ladakee hai do ladakee hai teen ladakiyaan hain aur usake ghar mein koee mehamaan aa jaata hai jo raat ko 11:00 baje aa raha hai steshan par usako lene ke lie teen ladakiyon kee jagah teen ladake hote hain in teen mein se ek ladaka hota jo kam se kam nahin 15 saal ka hota hai maalik se 15 16 saal kee usake teenon bachche hain aur mein se koee ek ladaka is umr ka hota to nechural se baat hai vah ladaka steshan par jaakar aur mein aae hue mehamaan ko pikap kar ke le aata lekin vah jo maan-baap jisase sirph teen ladake hain kya vah baap kya bola usane ko chaahe kitanee bhee badee kyon ho gaee ho bhejenge phon ko pikap karane ke lie nahin bhejenge aadamee koee us baat ko khud hee jaana padega chaahe vah kitana kamajor ho chaahe vah kitana bada ho chaahe vah kitana beemaar hai ki nahin ho sakata hai usamen maangon se phon karake yah kahana pada ki bhaiya tum khud hee edajastament kar lo hamaare laane vaala koee nahin ab aap mere kahane vaale is baat kee gaharaee sochie ki yahaan kitanee saaree cheejen aisee hain jo ek ladakee nahin kar sakatee hai iseelie log jo hain aaj ke anusaar pahale ke peechhe aage se vah nahin chaahate ki hamaare ghar mein ladakiyaan jyaada paida ho ya ladakee hee paida ho ladaka na paida ho kyonki dekhe bahut saaree cheejen aisee hotee hai chaahe main main khud bhee ek ladakee hoon main mahila hoon main main kisake peechhe kee baat yah samajh leejie ki main bahut jyaada shikshit bhee hoon main apane paapa par khadee bhee hoon main khat mein apana ke kisee insaan ko aur ke ghar ka kharcha bhee chala sake main sahamat hoon lekin kya yah mere lie bahut saaree cheejen aisee hain jo main nahin kar sakatee chaah kar bhee nahin kar sakatee mujhe gaadee chalaanee aatee hai lekin main raat ko 11:00 baje kisee ko pik karane ke lie steshan nahin ja sakate mujhe skootee chalaanee aatee hai lekin main raat shaam ko kisee ko apane bachche ko saath lekar kisee aise maahaul mein nahin ja sakatee jahaan par bahut saaree gaidaring ghoome akelee nahin ja sakatee mujhe usake lie apane hasbaind kee jaroorat hotee hai to bahut saaree cheejen duniya mein aise hain jo ek mahila ko aage badhane par rok dete hain aur ek baat aur ek maan us jagah aakar mein ghutane tek deta hai vaheen se unake saath jo hai vah kunthit honee shuroo ho jaatee main is cheej ko bilkul bhee badhaava nahin detee hoon ki jo log yah kahate hain ki haan mere ghar mein ladakee huee hai to mujhe bilkul bhee khush nahin ho rahee nahin meree khud kee bhee betee hai aur mujhe bahut khushee hai apanee betee hone ke lekin jab main doosaree taraph se doosaree jagah se sochatee hoon to mujhe lagata hai ki vaakee mein har rishte ko agar ham dekhen to ek ladaka aur ek ladakee donon ka hona ek ghar mein bahut jarooree hai kyonki is samaaj mein bahut saaree cheejen aisee hain jo kuchh ladakiyaan hee kar paatee hai to us sirph aur sirph ladake hee kar paate hain to jo logon kee soch hai aur jisake lie vah mahila ko dosh dete hain betee hone ke lie baat kis baat par aa jaate hain kyon mahila ko dosh dete hain betiyon nikale vah isalie kyonki yahaan jo mahila hai vah khud mahila ke dushman hai dekhe jitanee bhee kahaaniyaan kisse aur yah jo reeti rivaaj banaane vaale log hain yah kaun mahilaen hain unhonne khud hee apane pairon par kulhaadee maaree hai aur khud hee apane aap ko yah itana jyaada heeroin neecha dikhaaya hai ki sirph jo mainne aaj main dekhatee hoon gaanv mein aaj bhee mahilaon ko purushon ke pairon kee jootee hai samajha jaata hai chaahe vah ghar mein unase jyaada kaam karatee ho aur chaahe vah unase jyaada samajhadaar ho tujhe mahila mahila ke dushman hote hain na vahaan par us tareeke ke so jaana svaabhaavik hai

और जवाब सुनें

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:32
अजूबा चीजें बोले तो बहुत सही बात है यह साइंटिफिकली जोए बिडेन से उसको आप बोलिए बोले लेकिन आप एक बात बताइए कि यह जो आप इंफॉर्मेशन दिए सोसाइटी में कितने लोगों को पता है ठीक है कितने लोग इसको कितनों को पता भी होता लेकिन कितने लोग उसका सेट किए हैं आप देखो किसी को भी लोग को बताओ आपके यहां एक से क्रोमोजन एक्स वाइ क्रोमोजोम से तेज होता है तो बच्चा बेटा ऐसी होता है तो लोग पहले बोले कि क्या बोल रहा है यह भी लेते समझ लेते तो उनका दिमाग में रहता है कि सच है क्या और दूसरी बात यह है कि कहीं ना कहीं इस औरत को इसीलिए दबा कर रखते हैं इसलिए औरत को जिम्मेदार ठहराते क्योंकि औरत का स्थान अभी भी समाज में एक सही स्थान में नहीं है और एक औरत का भूमिका को हर कोई एपिसोड अभी तक किया नहीं तो साइड में कहीं ना कहीं औरतें के निचले हिस्से में अभी भी है तो इसके लिए अब जब यह स्थिति आता है तो फिर बेबी काल बन जाता है तो हर कोई औरत को ही रिजल्ट जाता है कि पुरुष कभी भी ऐसा नहीं सोचता है कि एक कमियां जो है यह मेरी वजह से कमियां है ठीक है मेरे अंदर में कोई कमी है मेरे अंदर में कोई इनकैपेबिलिटी है तो और इसीलिए यह बच्चा कैसा पैदा हुआ ब्रदर ओं सोसायटी मां की कमजोरी मतलब मां की अंदर की कोई कमियां की वजह से यह बच्चा पैदा हुआ है क्योंकि बच्चा असल मतलब कंप्लीट के बच्चा मां के पेट से होता तो हर कोई सोचता है कि उसकी पेट की कोई ना कोई कमियां है जो क्यों बच्चा बेबी गाले बॉय पैदा नहीं कर रहा है ठीक है धन्यवाद
Ajooba cheejen bole to bahut sahee baat hai yah saintiphikalee joe biden se usako aap bolie bole lekin aap ek baat bataie ki yah jo aap imphormeshan die sosaitee mein kitane logon ko pata hai theek hai kitane log isako kitanon ko pata bhee hota lekin kitane log usaka set kie hain aap dekho kisee ko bhee log ko batao aapake yahaan ek se kromojan eks vai kromojom se tej hota hai to bachcha beta aisee hota hai to log pahale bole ki kya bol raha hai yah bhee lete samajh lete to unaka dimaag mein rahata hai ki sach hai kya aur doosaree baat yah hai ki kaheen na kaheen is aurat ko iseelie daba kar rakhate hain isalie aurat ko jimmedaar thaharaate kyonki aurat ka sthaan abhee bhee samaaj mein ek sahee sthaan mein nahin hai aur ek aurat ka bhoomika ko har koee episod abhee tak kiya nahin to said mein kaheen na kaheen auraten ke nichale hisse mein abhee bhee hai to isake lie ab jab yah sthiti aata hai to phir bebee kaal ban jaata hai to har koee aurat ko hee rijalt jaata hai ki purush kabhee bhee aisa nahin sochata hai ki ek kamiyaan jo hai yah meree vajah se kamiyaan hai theek hai mere andar mein koee kamee hai mere andar mein koee inakaipebilitee hai to aur iseelie yah bachcha kaisa paida hua bradar on sosaayatee maan kee kamajoree matalab maan kee andar kee koee kamiyaan kee vajah se yah bachcha paida hua hai kyonki bachcha asal matalab kampleet ke bachcha maan ke pet se hota to har koee sochata hai ki usakee pet kee koee na koee kamiyaan hai jo kyon bachcha bebee gaale boy paida nahin kar raha hai theek hai dhanyavaad

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:05
विकी यह जो एक इनसिक्योरिटी हैपियर है लाख है डिप्रिवेशन है हीरो शब्द है सारे नेगेटिव है और यह हर इंसान चाहे वह पुरुष हो या स्त्री हो कभी ना कभी इन चीजों से ग्रसित होता है और सबसे आसान तरीका क्या है डील करने का इन चीजों से कि हम यह ब्लेम दूसरे पर डाली पहले तो लड़की होने पर निराशा होनी नहीं चाहिए है ना लेकिन फिर भी होती है क्योंकि उसके पीछे बहुत सारी मान्यताएं हैं बहुत सारी कहानियां है बहुत सारे विचार है जो बचपन से उसको फिट किया गया इस वजह से इंसान को लगता है कि यह तो मौज है कि नहीं होना चाहिए या लड़का ही चाहिए और अगर वैसा नहीं होता है तो फिर वह ब्लेम करने के लिए कोई तो चाहिए वह ब्लेम किसको करेगा तो क्लेम दूसरे को करने पर अपने को हल्का लगता है किसी और को गाली दे दी किसी और को भेज दिया किसी और को जिम्मेदार ठहराया तो यह कोई गलत बात नहीं है कोई पाप नहीं है फिर भी हम ब्लेम कर रहे हैं कि जो फीमेल है जो लेडी है मदर है उसका फोल्डर उसको कोई फर्क नहीं है तो प्योर साइंस तो अब यह देखो आपकी यह मानसिकता को दर्शाता है एक को मान्यता के पाटन को दर्शा रहा है शादी करने से पहले ही अगर जांच कर ली जाए कि जो पुरुष है उसकी मानसिकता कैसी है उसके परिवार की मानसिकता कैसी है और कैसा रहेगा आगे उसका व्यवहार यह रुझान तो बहुत हद तक हम इसको कटेल कर सकते हैं लेकिन फिर सवाल आता है कि इतनी अगर खोज खबर कर पाता इतना कर देख आते तो शायद बहुत सी शादियां होती ही नहीं और शायद यही एक वजह है कि आज शादियां डिले हो रही है बहुत से लोगों की शादियां नहीं हो रही है क्योंकि वह कई तथ्यों को समझ पाते हैं देख पाते हैं और कंप्रोमाइज करने से मना कर देते हैं तो लड़कियां स्वतंत्र हैं आज की डेट में वह कंप्रोमाइज नहीं करती है इस वजह से जो है शादियां वह ऐसी जगह नहीं करना चाहती है जो उनको अनु में जाकर प्रॉब्लम क्रिएट हो कि मुद्दे पर आते हैं कि यह क्यों होता है तो जैसा मैंने बताया कि मानसिकता है यहां पर बहुत हद तक जिम्मेदार है यह सोचना कि पुरुष प्रधान समाज हमारा और यह सोचना कि पुरुष ही वंश को आगे लेकर जाएगा तो वही को लड़का पैदा होना चाहिए तो लड़की पैदा होने पर तो उसके जींस जो है वह हमारे फैमिली से बाहर जाएंगे ना किसी और फैमिली में जाएंगे यह सोच रहा था इस वजह से जोड़ दिया जाता है कि लड़का मैंने देखी गलत है सोच मैं इसको प्रमोट नहीं कर रही हूं और यह बार-बार फिर इस चीज को पिंप्वाइंट किया जाता है लेडी को ही तुमने लड़का पैदा नहीं किया जबकि प्योर साइंस तो ब्लेम करने के लिए क्या होता है थोड़ा मन को अच्छा लगता है ना कोई और जिम्मेदार है मैं जिम्मेदार नहीं हूं कि यह चीज है तो यहां उनको साइंटिफिकली आप कितना भी समझा लो उनको बात नहीं करते कि जब तक उनकी मूल मान्यता नहीं टूटेगी की लड़की का पैदा होना गलत है पिछली यह थॉट गलत है यह विचार चेंज करना जरूरी है धन्यवाद
Vikee yah jo ek inasikyoritee haipiyar hai laakh hai dipriveshan hai heero shabd hai saare negetiv hai aur yah har insaan chaahe vah purush ho ya stree ho kabhee na kabhee in cheejon se grasit hota hai aur sabase aasaan tareeka kya hai deel karane ka in cheejon se ki ham yah blem doosare par daalee pahale to ladakee hone par niraasha honee nahin chaahie hai na lekin phir bhee hotee hai kyonki usake peechhe bahut saaree maanyataen hain bahut saaree kahaaniyaan hai bahut saare vichaar hai jo bachapan se usako phit kiya gaya is vajah se insaan ko lagata hai ki yah to mauj hai ki nahin hona chaahie ya ladaka hee chaahie aur agar vaisa nahin hota hai to phir vah blem karane ke lie koee to chaahie vah blem kisako karega to klem doosare ko karane par apane ko halka lagata hai kisee aur ko gaalee de dee kisee aur ko bhej diya kisee aur ko jimmedaar thaharaaya to yah koee galat baat nahin hai koee paap nahin hai phir bhee ham blem kar rahe hain ki jo pheemel hai jo ledee hai madar hai usaka pholdar usako koee phark nahin hai to pyor sains to ab yah dekho aapakee yah maanasikata ko darshaata hai ek ko maanyata ke paatan ko darsha raha hai shaadee karane se pahale hee agar jaanch kar lee jae ki jo purush hai usakee maanasikata kaisee hai usake parivaar kee maanasikata kaisee hai aur kaisa rahega aage usaka vyavahaar yah rujhaan to bahut had tak ham isako katel kar sakate hain lekin phir savaal aata hai ki itanee agar khoj khabar kar paata itana kar dekh aate to shaayad bahut see shaadiyaan hotee hee nahin aur shaayad yahee ek vajah hai ki aaj shaadiyaan dile ho rahee hai bahut se logon kee shaadiyaan nahin ho rahee hai kyonki vah kaee tathyon ko samajh paate hain dekh paate hain aur kampromaij karane se mana kar dete hain to ladakiyaan svatantr hain aaj kee det mein vah kampromaij nahin karatee hai is vajah se jo hai shaadiyaan vah aisee jagah nahin karana chaahatee hai jo unako anu mein jaakar problam kriet ho ki mudde par aate hain ki yah kyon hota hai to jaisa mainne bataaya ki maanasikata hai yahaan par bahut had tak jimmedaar hai yah sochana ki purush pradhaan samaaj hamaara aur yah sochana ki purush hee vansh ko aage lekar jaega to vahee ko ladaka paida hona chaahie to ladakee paida hone par to usake jeens jo hai vah hamaare phaimilee se baahar jaenge na kisee aur phaimilee mein jaenge yah soch raha tha is vajah se jod diya jaata hai ki ladaka mainne dekhee galat hai soch main isako pramot nahin kar rahee hoon aur yah baar-baar phir is cheej ko pimpvaint kiya jaata hai ledee ko hee tumane ladaka paida nahin kiya jabaki pyor sains to blem karane ke lie kya hota hai thoda man ko achchha lagata hai na koee aur jimmedaar hai main jimmedaar nahin hoon ki yah cheej hai to yahaan unako saintiphikalee aap kitana bhee samajha lo unako baat nahin karate ki jab tak unakee mool maanyata nahin tootegee kee ladakee ka paida hona galat hai pichhalee yah thot galat hai yah vichaar chenj karana jarooree hai dhanyavaad

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:41
संत्री वाले प्रश्नों के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष माइक्रोमैक्स चेन मोतिहारी पुत्री अनुमति तो लोग अपनी वाइफ को जान मार दी महिला का गाना यह बहुत गलत है इसमें महिला का कोई दोष नहीं होता है यह तो भगवान की लीला ऊपर वाले की लीला है भाई हूं तेरा वजन मंजूर करना चाहिए यह गलत है लड़की भी लड़कों से कम नहीं है हमें असत्य करनी चाहिए भ्रूण हत्या रोकने चाहिए यह वह गलत है उसमें उसका भी दोस्त है ना मेरा दोष होता है ठीक है कि गलत होता है बहुत ही ऐसा नहीं करना चाहिए ताने मारने चाहिए अपनी महिला हो या पंकज तो ठीक है
Santree vaale prashnon ke uttar pradesh adhyaksh maikromaiks chen motihaaree putree anumati to log apanee vaiph ko jaan maar dee mahila ka gaana yah bahut galat hai isamen mahila ka koee dosh nahin hota hai yah to bhagavaan kee leela oopar vaale kee leela hai bhaee hoon tera vajan manjoor karana chaahie yah galat hai ladakee bhee ladakon se kam nahin hai hamen asaty karanee chaahie bhroon hatya rokane chaahie yah vah galat hai usamen usaka bhee dost hai na mera dosh hota hai theek hai ki galat hota hai bahut hee aisa nahin karana chaahie taane maarane chaahie apanee mahila ho ya pankaj to theek hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:47
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि अगर किसी भी महिला में एक्स एक्स क्रोमोसोम होते हैं पुरुष में एक्स वाई क्रोमोसोम होते हैं और यदि वह इस पर मंडे को निषेचित करता है तो बेबी बॉय लड़का होता है और एक स्पर्म जो होते हैं आदमी के ऊपर निर्भर होता है लड़की का होना फिर भी लोग महिलाओं को क्यों दोष देते हैं लड़की होने पर तो यह सब बेवकूफ लोग करते हैं जिनको इसके बारे में पता नहीं होता है कि लड़की होना आदमी के ऊपर निर्भर होता है इसमें औरत का कोई भी दोस्त नहीं होता है औरत के स्वर में लड़के का जन्म होता है तो भी दो बहुत सारे लोग औरतों को ताना मारते हैं वह मूर्ख होते हैं उन्हें कुछ पता नहीं होता इसलिए ऐसा करते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki agar kisee bhee mahila mein eks eks kromosom hote hain purush mein eks vaee kromosom hote hain aur yadi vah is par mande ko nishechit karata hai to bebee boy ladaka hota hai aur ek sparm jo hote hain aadamee ke oopar nirbhar hota hai ladakee ka hona phir bhee log mahilaon ko kyon dosh dete hain ladakee hone par to yah sab bevakooph log karate hain jinako isake baare mein pata nahin hota hai ki ladakee hona aadamee ke oopar nirbhar hota hai isamen aurat ka koee bhee dost nahin hota hai aurat ke svar mein ladake ka janm hota hai to bhee do bahut saare log auraton ko taana maarate hain vah moorkh hote hain unhen kuchh pata nahin hota isalie aisa karate hain dhanyavaad

Manju Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Manju जी का जवाब
Unknown
1:42
बिल्कुल सही बात कही है आपने कि जब लड़की पैदा होती है तो दोस्त महिलाओं को ही देते हैं तो यह सीधा सीधा अगर आप जवाब जानना चाहते हैं तो उन लोगों की अज्ञानता है क्योंकि बच्चे की लिंग जो है उसमें औरतों का कोई हाथ नहीं होता है मर्दो का ही होता है क्योंकि जो वाई क्रोमोसोम है मर जाता है और तुम्हें माइक्रोमोशन होता ही नहीं है तो लड़का होने के लिए बाय क्रोमोजोम और मिलना जरूरी है तो देखिए इसमें पूरी तरह मर्दों का हाथ होता है तो सीधा सीधा जो लोग औरतों को ब्लेम करते हैं या और जो खुद ने दार खेत करते हैं कहते हैं बच्चे मीनिंग के लिए तो यह सरासर अज्ञानता है दूसरी बात शायद दहेज प्रथा ही एक ऐसी प्रथा है जिसकी वजह से लोग लड़की नहीं चाहते हैं तो अगर यह प्रथा बंद हो जाती है तो लड़का हो या लड़की को समान दर्जा बिल्कुल मिर्जा मेरा विचार है तीसरी बात यह है कि लड़का हो या लड़की क्या फर्क पड़ता है बच्चे तो भगवान की देन है इसे दोनों हाथ जोड़कर स्वीकार करना चाहिए क्योंकि बहुत से ऐसे परिवार है जहां बच्चे होते ही नहीं है तो चाहे लड़का हो या लड़की हो यह भगवान की देन होती है यह जो सोचे अगर हर किसी में आ जाए तो इसके लिए हर कोई जो है भारत देश के हर एक व्यक्ति जो है साक्षर होना जरूरी है तो उसकी लोगों में जब ज्ञान प्राप्त होगा तो इस तरह एक अज्ञानी बातें जो है बिल्कुल नहीं करेंगे
Bilkul sahee baat kahee hai aapane ki jab ladakee paida hotee hai to dost mahilaon ko hee dete hain to yah seedha seedha agar aap javaab jaanana chaahate hain to un logon kee agyaanata hai kyonki bachche kee ling jo hai usamen auraton ka koee haath nahin hota hai mardo ka hee hota hai kyonki jo vaee kromosom hai mar jaata hai aur tumhen maikromoshan hota hee nahin hai to ladaka hone ke lie baay kromojom aur milana jarooree hai to dekhie isamen pooree tarah mardon ka haath hota hai to seedha seedha jo log auraton ko blem karate hain ya aur jo khud ne daar khet karate hain kahate hain bachche meening ke lie to yah saraasar agyaanata hai doosaree baat shaayad dahej pratha hee ek aisee pratha hai jisakee vajah se log ladakee nahin chaahate hain to agar yah pratha band ho jaatee hai to ladaka ho ya ladakee ko samaan darja bilkul mirja mera vichaar hai teesaree baat yah hai ki ladaka ho ya ladakee kya phark padata hai bachche to bhagavaan kee den hai ise donon haath jodakar sveekaar karana chaahie kyonki bahut se aise parivaar hai jahaan bachche hote hee nahin hai to chaahe ladaka ho ya ladakee ho yah bhagavaan kee den hotee hai yah jo soche agar har kisee mein aa jae to isake lie har koee jo hai bhaarat desh ke har ek vyakti jo hai saakshar hona jarooree hai to usakee logon mein jab gyaan praapt hoga to is tarah ek agyaanee baaten jo hai bilkul nahin karenge

ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
1:02
कल पूछा गया है महिला में सेक्स क्रोमोजोम सोते हैं पुरुष में 1 स्क्वायर मतलब कुल मिलाकर यह जो सवाल है वही कहना चाह रहे हैं कि पुरुष ही जिम्मेदार होता है कि बच्चा लड़का होगा या लड़की होगी और फिर भी महिलाओं को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है तो देखिए यह बहुत ही अच्छा सवाल है और जिसने भी यह पूछा मुझको धन्यवाद करना चाहूंगी कि आप सोचते हैं और यही समाज में परिवर्तन की शुरुआत है देखिए आप पहले क्या था कि लोगों को जानकारी नहीं थी कि बच्चा या बच्ची जो होती है लड़का या लड़की जो होता है वह किस कारण से होता है लेकिन जन तीरे तीरे साइंस में तरक्की करें और हमको जब चीजें समझ में आए तब हमको पता चला कि असल में इसके लिए जिम्मेदार पिता होता है माता नहीं और फिर भी जो कुछ लोग जो दकियानूसी विचार वाले हैं जो पुरानी परंपराओं को मानते हैं वह लड़की को ही दोष देते हैं और यह बहुत बेकार बात क्यों आपको मेरे से बात पसंद है वह का धन्यवाद
Kal poochha gaya hai mahila mein seks kromojom sote hain purush mein 1 skvaayar matalab kul milaakar yah jo savaal hai vahee kahana chaah rahe hain ki purush hee jimmedaar hota hai ki bachcha ladaka hoga ya ladakee hogee aur phir bhee mahilaon ko isake lie jimmedaar thaharaaya jaata hai to dekhie yah bahut hee achchha savaal hai aur jisane bhee yah poochha mujhako dhanyavaad karana chaahoongee ki aap sochate hain aur yahee samaaj mein parivartan kee shuruaat hai dekhie aap pahale kya tha ki logon ko jaanakaaree nahin thee ki bachcha ya bachchee jo hotee hai ladaka ya ladakee jo hota hai vah kis kaaran se hota hai lekin jan teere teere sains mein tarakkee karen aur hamako jab cheejen samajh mein aae tab hamako pata chala ki asal mein isake lie jimmedaar pita hota hai maata nahin aur phir bhee jo kuchh log jo dakiyaanoosee vichaar vaale hain jo puraanee paramparaon ko maanate hain vah ladakee ko hee dosh dete hain aur yah bahut bekaar baat kyon aapako mere se baat pasand hai vah ka dhanyavaad

Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
0:59
सवाल जो आपने पूछा है मेरा यह मानना है कि अक्सर लोग ऐसा गलतियां कर लेते हैं क्योंकि उनको नहीं पता है कि मतलब उसे कैसे होती है हर इंसान जो है वह अधिक एजुकेटेड नहीं होता है उसके अलावा भी जो हम लोगों की एक मानसिकता होती है कि आज जो कमजोर इंसान है जो उनको जो है वह दबाना शुरु करते हैं वह महिलाओं को छह खासकर टारगेट बनाते हैं क्योंकि महिलाएं जो है काफी ज्यादातर मामलों में जय डिपेंडेंट होती है अगर दिखाई जाए काफी घरों में तो यही कारण होता है कि हर चीज का चैट ओशो महिलाओं को देती है और महिलाएं भी कभी ना कुमार जाए ऐसी स्थिति में कमजोर फील करती है और कमजोर हो भी जाती है कभी कबार ज्योति काफी बहुत मतलब गलत बात होती है तो मेरा यह मानना है कि अगर आप के आस पास ऐसा कोई इंसान है जो ऐसा कुछ करता है तो फौरन उनको रोकिए मेरे किसी सवाल का जवाब दो
Savaal jo aapane poochha hai mera yah maanana hai ki aksar log aisa galatiyaan kar lete hain kyonki unako nahin pata hai ki matalab use kaise hotee hai har insaan jo hai vah adhik ejuketed nahin hota hai usake alaava bhee jo ham logon kee ek maanasikata hotee hai ki aaj jo kamajor insaan hai jo unako jo hai vah dabaana shuru karate hain vah mahilaon ko chhah khaasakar taaraget banaate hain kyonki mahilaen jo hai kaaphee jyaadaatar maamalon mein jay dipendent hotee hai agar dikhaee jae kaaphee gharon mein to yahee kaaran hota hai ki har cheej ka chait osho mahilaon ko detee hai aur mahilaen bhee kabhee na kumaar jae aisee sthiti mein kamajor pheel karatee hai aur kamajor ho bhee jaatee hai kabhee kabaar jyoti kaaphee bahut matalab galat baat hotee hai to mera yah maanana hai ki agar aap ke aas paas aisa koee insaan hai jo aisa kuchh karata hai to phauran unako rokie mere kisee savaal ka javaab do

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आप ने प्रश्न किया है कि महिला में एक्स क्रोमोसोम होते हैं पुरुष में एक्स और वाई क्रोमोसोम होते हैं यदि वाइफ पर मंडे को निषेचित करता है तो बेबी बॉय होता है वह एक्स स्क्वायर मंडे को निश्चित करता है तो मेरी गर्जन लेती है फिर भी बेटी पैदा होने पर लोग महिला को ही ताने मारते हैं जी आप बिल्कुल सही कह रहे हैं और यह अज्ञानता का संकट यह अशिक्षित होने का कारण है बहुत सारे लोगों को गांवों के अंदर या जो अशिक्षित समाज है अशिक्षित लोग हैं आज भी यह पता ही नहीं है कि वाकई में लड़का पैदा होगा यह लड़की पैदा होगी इस समय महिला का कोई रोल ही नहीं है यह पूर्ण रूप से पुरुष पर निर्भर करता है कि पुरुष से वॉइस फॉर्म निकल रहा है या नेक्स्ट निकल रहा है अब यह अच्छा इसमें गलती पुरुष की भी मैं नहीं मानता क्योंकि वह भी जानबूझकर के ऐसा कुछ नहीं करता यह सब कुछ प्राकृतिक है प्रकृति के अधीन है और इसमें महिला को दोषी ठहराना निश्चित रूप से बहुत ज्यादा गलत है और मैं कतई इस तरह की चीज का समर्थन नहीं करता और दूसरी बात भाई अगर एक्स क्रोमोसोम है और अगर लड़की पैदा हो गई बेटी पैदा हो गई तो आप क्या समझते हैं क्या बेटियों के पैदा हुए बिना यह समाजिक संस्कृति सभ्यता यह देश दुनिया चल सकती है तभी संभव भी है ऐसा सोचा भी जा सकता है देखिए हर व्यक्ति को हर पुरुष को एक लड़की चाहिए होती है पत्नी चाहिए होती है लेकिन उसको बेटी नहीं चाहिए होती है अरे साहब यह तो कमाल की बात हो गई कितनी गलत और विकृत मानसिकता है आपको मां चाहिए होती है आपको पत्नी चाहिए होती है लेकिन आपको बेटी नहीं चाहिए आपको अपने बेटे के लिए बहू भी चाहिए लेकिन आपको बेटी नहीं चाहिए यह विकृत मानसिकता है और ऐसा नहीं है कि यह अशिक्षित लोगों में ही है कई बार यह पढ़े लिखे लोगों की मानसिकता अब उनकी बुद्धि पर तो तरस आता है और इस तरह के कुछ लोगों की वजह से पूरा पुरुष समाज बदनाम होता है तो मेरा इन मेरी दृष्टि में यह गलत बात है महिलाओं को इसके लिए कतई दोषी नहीं ठहराना चाहिए बल्कि महिलाओं को तो पूजनीय है कि वह हमारे परिवार को हमारे वंश को हमारी संस्कृति को आगे बढ़ाती है 9 महीने बच्चे को अपने पेट में पानी धन्यवाद
Aap ne prashn kiya hai ki mahila mein eks kromosom hote hain purush mein eks aur vaee kromosom hote hain yadi vaiph par mande ko nishechit karata hai to bebee boy hota hai vah eks skvaayar mande ko nishchit karata hai to meree garjan letee hai phir bhee betee paida hone par log mahila ko hee taane maarate hain jee aap bilkul sahee kah rahe hain aur yah agyaanata ka sankat yah ashikshit hone ka kaaran hai bahut saare logon ko gaanvon ke andar ya jo ashikshit samaaj hai ashikshit log hain aaj bhee yah pata hee nahin hai ki vaakee mein ladaka paida hoga yah ladakee paida hogee is samay mahila ka koee rol hee nahin hai yah poorn roop se purush par nirbhar karata hai ki purush se vois phorm nikal raha hai ya nekst nikal raha hai ab yah achchha isamen galatee purush kee bhee main nahin maanata kyonki vah bhee jaanaboojhakar ke aisa kuchh nahin karata yah sab kuchh praakrtik hai prakrti ke adheen hai aur isamen mahila ko doshee thaharaana nishchit roop se bahut jyaada galat hai aur main katee is tarah kee cheej ka samarthan nahin karata aur doosaree baat bhaee agar eks kromosom hai aur agar ladakee paida ho gaee betee paida ho gaee to aap kya samajhate hain kya betiyon ke paida hue bina yah samaajik sanskrti sabhyata yah desh duniya chal sakatee hai tabhee sambhav bhee hai aisa socha bhee ja sakata hai dekhie har vyakti ko har purush ko ek ladakee chaahie hotee hai patnee chaahie hotee hai lekin usako betee nahin chaahie hotee hai are saahab yah to kamaal kee baat ho gaee kitanee galat aur vikrt maanasikata hai aapako maan chaahie hotee hai aapako patnee chaahie hotee hai lekin aapako betee nahin chaahie aapako apane bete ke lie bahoo bhee chaahie lekin aapako betee nahin chaahie yah vikrt maanasikata hai aur aisa nahin hai ki yah ashikshit logon mein hee hai kaee baar yah padhe likhe logon kee maanasikata ab unakee buddhi par to taras aata hai aur is tarah ke kuchh logon kee vajah se poora purush samaaj badanaam hota hai to mera in meree drshti mein yah galat baat hai mahilaon ko isake lie katee doshee nahin thaharaana chaahie balki mahilaon ko to poojaneey hai ki vah hamaare parivaar ko hamaare vansh ko hamaaree sanskrti ko aage badhaatee hai 9 maheene bachche ko apane pet mein paanee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

URL copied to clipboard