#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?

Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
RAM NIWASH AWASTHI Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAM जी का जवाब
विद्यार्थी
2:56
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है कि ज्यादातर हिंदू परिवारों में तुलसी का पूजा किया जाता है और कल्याण के तौर पर भी देखा जाता है लेकिन पौराणिक महत्व से अलग तुलसी एक जानी-मानी औषधि भी है जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों से बचने में भी किया जाता है जैसे कि खांसी से लेकर कई बड़ी और भयंकर बीमारियों से भी कारगर औषधि है तुलसी का पौधा आयुर्वेद में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है तुलसी की जड़ उसकी शाखाएं उसकी पत्नी और भी अपना-अपना महत्व है इनका सबका अलग-अलग आमतौर पर घरों में दो तरह की तुलसी देखने को मिलती है एक तो है जिसकी पत्तियों का रंग थोड़ा गहरा होता है और दूसरी जिस की पत्तियों का रंग थोड़ा हल्का होता अगर आपको सर्दी या फिर हल्का बुखार होता है तो मिश्री काली मिर्च और तुलसी के पत्ते को पानी में अच्छी तरह से पका कर उसका काढ़ा पीने से फायदेमंद होता है काला आप चाहे तो इसकी गोलियां भी बना कर खा सकते हैं अगर आप को दस्त हो रही है तो तुलसी के पत्तों का इलाज आपको फायदा देगा तुलसी के पत्तों को जीरे के साथ मिलाकर पीस लें इसके बाद उसे दिन में तीन से चार बार जागते रहे ऐसा करने से दस्त रुक जाती है सांस की दुर्गंध को दूर करने में भी तुलसी की पत्तियां काफी फायदेमंद होती है और नेचुरल होने की वजह से भी इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है अगर आपके मुंह से बदबू आ रही है तो तुलसी के कुछ पत्तों को चबाने ऐसा करने से दुर्गंध चली जाती है इसके अलावा अगर आपको कहीं पर भी चोट लगी है तो तुलसी के पत्ते को फिटकरी के साथ मिलाकर लगाने से घाव जल्दी ठीक हो जाता है तुलसी में एंटीबैक्टीरियल तत्व होते हैं जो गांव को पकने नहीं देता है इसके अलावा तुलसी के पत्ते को तेल में मिलाकर लगाने से जलन भी नहीं होती है और काम भी हो जाती है जलन तो संबंधी रोगों में फायदेमंद होती है इसके इस्तेमाल से कील मुंहासे खत्म हो जाते हैं और चेहरा साफ होता है कई शोधों में तुलसी के बीज को कैंसर के इलाज में भी कारगर बताया गया है हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है जवाब सुनने के लिए धन्यवाद
Tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hai ki jyaadaatar hindoo parivaaron mein tulasee ka pooja kiya jaata hai aur kalyaan ke taur par bhee dekha jaata hai lekin pauraanik mahatv se alag tulasee ek jaanee-maanee aushadhi bhee hai jisaka istemaal kaee beemaariyon se bachane mein bhee kiya jaata hai jaise ki khaansee se lekar kaee badee aur bhayankar beemaariyon se bhee kaaragar aushadhi hai tulasee ka paudha aayurved mein tulasee ke paudhe ke har bhaag ko svaasthy ke lihaaj se phaayademand bataaya gaya hai tulasee kee jad usakee shaakhaen usakee patnee aur bhee apana-apana mahatv hai inaka sabaka alag-alag aamataur par gharon mein do tarah kee tulasee dekhane ko milatee hai ek to hai jisakee pattiyon ka rang thoda gahara hota hai aur doosaree jis kee pattiyon ka rang thoda halka hota agar aapako sardee ya phir halka bukhaar hota hai to mishree kaalee mirch aur tulasee ke patte ko paanee mein achchhee tarah se paka kar usaka kaadha peene se phaayademand hota hai kaala aap chaahe to isakee goliyaan bhee bana kar kha sakate hain agar aap ko dast ho rahee hai to tulasee ke patton ka ilaaj aapako phaayada dega tulasee ke patton ko jeere ke saath milaakar pees len isake baad use din mein teen se chaar baar jaagate rahe aisa karane se dast ruk jaatee hai saans kee durgandh ko door karane mein bhee tulasee kee pattiyaan kaaphee phaayademand hotee hai aur nechural hone kee vajah se bhee isaka koee said iphekt nahin hota hai agar aapake munh se badaboo aa rahee hai to tulasee ke kuchh patton ko chabaane aisa karane se durgandh chalee jaatee hai isake alaava agar aapako kaheen par bhee chot lagee hai to tulasee ke patte ko phitakaree ke saath milaakar lagaane se ghaav jaldee theek ho jaata hai tulasee mein enteebaikteeriyal tatv hote hain jo gaanv ko pakane nahin deta hai isake alaava tulasee ke patte ko tel mein milaakar lagaane se jalan bhee nahin hotee hai aur kaam bhee ho jaatee hai jalan to sambandhee rogon mein phaayademand hotee hai isake istemaal se keel munhaase khatm ho jaate hain aur chehara saaph hota hai kaee shodhon mein tulasee ke beej ko kainsar ke ilaaj mein bhee kaaragar bataaya gaya hai haalaanki abhee tak isakee pushti nahin huee hai javaab sunane ke lie dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:30
से क्या आपका प्रश्न है तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है देखें आयुर्वेद में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिए लाभकारी बताया गया है यदि कहीं चोट लग जाती तो तुलसी के पत्ते को फिटकरी के साथ मिलाकर लगाने से गांव तुरंत ठीक हो जाता है तुलसी में मौजूद एंटी बैक्टीरियल तो अथवा खाओ को पार्क में नहीं देता है इसके पत्ते को तेल में मिलाकर लगाने से जलन भी कम होती है
Se kya aapaka prashn hai tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hai dekhen aayurved mein tulasee ke paudhe ke har bhaag ko svaasthy ke lie laabhakaaree bataaya gaya hai yadi kaheen chot lag jaatee to tulasee ke patte ko phitakaree ke saath milaakar lagaane se gaanv turant theek ho jaata hai tulasee mein maujood entee baikteeriyal to athava khao ko paark mein nahin deta hai isake patte ko tel mein milaakar lagaane se jalan bhee kam hotee hai

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:30
सवाल है कि तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है तुलसी जिसका साइंटिफिक नेम ऑफ इम्यून सिस्टम है एक बीज पत्री तथा शाक्य औषधीय पौधा है यह झाड़ी के रूप में उगता है अधिक से 3 फुट ऊंचा होता है इसकी पत्तियां बैंगनी आभा वाली हल्के रोए से ढके होती हैं पत्तियां 1 से 2 इंच लंबी होती हैं सुगंध और अंडा कार्य आयत कार होती हैं पुष्प मजरी अति की कोमल एवं 7 इंच लंबी और बहुरंगी छटा वाली होती है जिस पर बैंगनी और गुलाबी आभा वाले बहुत छोटे प्रकार पुष्प चक्र में लगते हैं 30 शक्तिपीठ वर्ण के छोटे काले चिन्हों से युक्त अंडाकार होते हैं नए पौधे मुख्य रूप से वर्षा ऋतु में उगते हैं और शीतकाल में फूल पौधे सामान्य रूप से दो-तीन वर्षों तक हरा-भरा बना रहता है इसके बाद इसकी वृद्धावस्था आ जाती है पति कम और छोटे हो जाते हैं और शाखाएं सुखी दिखाई देती हैं इस समय से हटाकर नए पौधे लगाने के धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है आयुर्वेद में तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है तुलसी ऐसी औषधि है जो दाल ज्यादातर बीमारियों में काम आती है इसका उपयोग सर्दी जुखाम खासी दंत रोग और स्वास्थ संबंधी रोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद माना चाहता है
Savaal hai ki tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hai tulasee jisaka saintiphik nem oph imyoon sistam hai ek beej patree tatha shaaky aushadheey paudha hai yah jhaadee ke roop mein ugata hai adhik se 3 phut ooncha hota hai isakee pattiyaan bainganee aabha vaalee halke roe se dhake hotee hain pattiyaan 1 se 2 inch lambee hotee hain sugandh aur anda kaary aayat kaar hotee hain pushp majaree ati kee komal evan 7 inch lambee aur bahurangee chhata vaalee hotee hai jis par bainganee aur gulaabee aabha vaale bahut chhote prakaar pushp chakr mein lagate hain 30 shaktipeeth varn ke chhote kaale chinhon se yukt andaakaar hote hain nae paudhe mukhy roop se varsha rtu mein ugate hain aur sheetakaal mein phool paudhe saamaany roop se do-teen varshon tak hara-bhara bana rahata hai isake baad isakee vrddhaavastha aa jaatee hai pati kam aur chhote ho jaate hain aur shaakhaen sukhee dikhaee detee hain is samay se hataakar nae paudhe lagaane ke dhaarmik mahatv hone ke saath-saath tulasee aushadheey gunon se bhee bharapoor hai aayurved mein tulasee ko usake aushadheey gunon ke kaaran vishesh mahatv diya gaya hai tulasee aisee aushadhi hai jo daal jyaadaatar beemaariyon mein kaam aatee hai isaka upayog sardee jukhaam khaasee dant rog aur svaasth sambandhee rogon ke lie bahut hee phaayademand maana chaahata hai

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:57
कमाल है तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है तुलसी के पौधे की यौन रोगों के इलाज में पुरुषों में शारीरिक कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल हुए दोस्तों काफी फायदेमंद होता है कि समस्या में भी जो है या कुछ कर दिलाने में सहायक है इसके अतिरिक्त कैंसर के इलाज में भी आपके बहुत ज्यादा सहायक होगा चेहरे की चमक के लिए भी यह वह ज्यादा फायदेमंद है चोट लग जाए तो घाव भरने के लिए काफी फायदेमंद है सांस इत्यादि के अंदर ही दूर बनाती है तो उस दुर्गंध को दूर करने के लिए भी जो तुलसी का पौधा काफी कारगर साबित है लूज मोशन या फिर सर्दी खांसी बुखार हो तब भी इसका उपयोग दे सकते हैं दोस्त और इसके अतिरिक्त जो है आपने तुलसी का जो पौधे की पूजा करते हैं वह भी इसी कारण से करते हैं क्योंकि इसके अंदर काफी जगह है
Kamaal hai tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hai tulasee ke paudhe kee yaun rogon ke ilaaj mein purushon mein shaareerik kamajoree hone par tulasee ke beej ka istemaal hue doston kaaphee phaayademand hota hai ki samasya mein bhee jo hai ya kuchh kar dilaane mein sahaayak hai isake atirikt kainsar ke ilaaj mein bhee aapake bahut jyaada sahaayak hoga chehare kee chamak ke lie bhee yah vah jyaada phaayademand hai chot lag jae to ghaav bharane ke lie kaaphee phaayademand hai saans ityaadi ke andar hee door banaatee hai to us durgandh ko door karane ke lie bhee jo tulasee ka paudha kaaphee kaaragar saabit hai looj moshan ya phir sardee khaansee bukhaar ho tab bhee isaka upayog de sakate hain dost aur isake atirikt jo hai aapane tulasee ka jo paudhe kee pooja karate hain vah bhee isee kaaran se karate hain kyonki isake andar kaaphee jagah hai

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:08
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या होता है फ्रेंड्स तुलसी के पौधों पौधा अपने आप में औषधीय गुणों का खजाना होता है तुलसी जैसे तुलसी भारतीय घरों में तो तुलसी को पूजा जाता है उसकी पूजा भी की जाती है और तुलसी को औषधि के रूप में आप जिसको सर्दी जुखाम खांसी हो जाती है तो वे चाय में तुलसी की पत्तियां डालकर पीता है जिससे उसको बहुत ही फायदा मिलता है और तुलसी एक्यूनिटी बूस्टर के रूप में काम करता है जो तुलसी ड्रॉप बनाते हैं और तुलसी का जो पानी होता है पत्तियों का रस होता है फ्रेंड्स पक्षियों के पत्ते से जो रस निकलता है उसी रास्ते इम्यूनिटी पावर के लिए यूनिटी बूस्टर बनाया जाता है और पिया जाता है जो भी बोलते हैं तुलसी की पत्तियों की चार बूंद करो सेवन करता है वह हमेशा हर बीमारियों से बचा रहता है तथा उसके अंदर बहुत सारी यूनिटी पावर आती है तो इसकी औषधि का सबसे बड़ा उपयोग यही है कि इसकी पत्तियों से जो रस निकलता है यह एक यूनिट बूस्टर के रूप में काम करता है तो फ्रेंड से आपको जॉब अच्छी लगे तो प्लीज लाइक जरूर करिएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hota hai phrends tulasee ke paudhon paudha apane aap mein aushadheey gunon ka khajaana hota hai tulasee jaise tulasee bhaarateey gharon mein to tulasee ko pooja jaata hai usakee pooja bhee kee jaatee hai aur tulasee ko aushadhi ke roop mein aap jisako sardee jukhaam khaansee ho jaatee hai to ve chaay mein tulasee kee pattiyaan daalakar peeta hai jisase usako bahut hee phaayada milata hai aur tulasee ekyoonitee boostar ke roop mein kaam karata hai jo tulasee drop banaate hain aur tulasee ka jo paanee hota hai pattiyon ka ras hota hai phrends pakshiyon ke patte se jo ras nikalata hai usee raaste imyoonitee paavar ke lie yoonitee boostar banaaya jaata hai aur piya jaata hai jo bhee bolate hain tulasee kee pattiyon kee chaar boond karo sevan karata hai vah hamesha har beemaariyon se bacha rahata hai tatha usake andar bahut saaree yoonitee paavar aatee hai to isakee aushadhi ka sabase bada upayog yahee hai ki isakee pattiyon se jo ras nikalata hai yah ek yoonit boostar ke roop mein kaam karata hai to phrend se aapako job achchhee lage to pleej laik jaroor kariega dhanyavaad

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:42
देखिए तुलसी के पौधा का औषधीय गुण तो क्या कहेंगे हम तुलसी के पौधे से हमारी अंदर में जो इंफेक्शन वगैरह होते हुए इनफेक्शंस नहीं होता है अगर आपको खांसी जुखाम बगैरा नितिन कुछ है तो तुलसी के रस पीने से आपको खांसी जुखाम सही हो जाता है तब की बात है कि आपकी बॉडी में अगर कहीं पर आंटी मतलब एंटी बैक्टीरियल एंटी फंगल इन सब केमिकल रिएक्शन के लिए जरूरत है और आपकी कोई किन-किन का डिवीजन स्किन इन्फेक्शन से स्किन व्हाइटनिंग हो रहा है तो वहां पर तुलसी के पत्ते काला तुलसी के पत्ते को लगा सकते हैं और एक दीदी है कि मुझे तो बोला भी कहा है कि आपकी बॉडी मार्च-अप्रैल बन रहा है तो उसको भी तुलसी का पत्ता सही प्रकार से इफेक्ट देता है धन्यवाद
Dekhie tulasee ke paudha ka aushadheey gun to kya kahenge ham tulasee ke paudhe se hamaaree andar mein jo imphekshan vagairah hote hue inaphekshans nahin hota hai agar aapako khaansee jukhaam bagaira nitin kuchh hai to tulasee ke ras peene se aapako khaansee jukhaam sahee ho jaata hai tab kee baat hai ki aapakee bodee mein agar kaheen par aantee matalab entee baikteeriyal entee phangal in sab kemikal riekshan ke lie jaroorat hai aur aapakee koee kin-kin ka diveejan skin inphekshan se skin vhaitaning ho raha hai to vahaan par tulasee ke patte kaala tulasee ke patte ko laga sakate hain aur ek deedee hai ki mujhe to bola bhee kaha hai ki aapakee bodee maarch-aprail ban raha hai to usako bhee tulasee ka patta sahee prakaar se iphekt deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:34
आपका सवाल है कि तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है तो तुलसी के पौधा के औषधीय उपयोग पुरुषों में शादी कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी मुख काफी फायदेमंद होता है इसके अलावा यौन दुर्बलता और नागपुर में बीज का नियमित इस्तेमाल फायदेमंद रहता है अक्सर महिलाओं को पीरियड अनीता की शिकार हो जाती है ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog kya hai to tulasee ke paudha ke aushadheey upayog purushon mein shaadee kamajoree hone par tulasee ke beej ka istemaal kaaphee mukh kaaphee phaayademand hota hai isake alaava yaun durbalata aur naagapur mein beej ka niyamit istemaal phaayademand rahata hai aksar mahilaon ko peeriyad aneeta kee shikaar ho jaatee hai aise mein tulasee ke beej ka istemaal karana phaayademand hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है?Tulsi Ke Paudhe Ka Aushadhi Upayog Kya Hai
Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
0:36
तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग करने के तुलसी के पौधे के बहुत सारे औषधि उपयोग होते हैं ऐसे आप चाय में डालकर पी सकते हैं इसे नॉर्मल गर्म पानी में उबालकर भी पी सकते हैं एक तो आपको कॉफी वगैरा के शिकायत देवी नमस्ते बैठक डब्बे में पेशेंट होते दमे के मरीज होते हैं उनके लिए बहुत फायदा करता है तुम्हारे लिए ठीक है और इसके लिए बैलेंस को भी बुलाने में बहुत ज्यादा करता है तो तुलसी को रोज और जो है वह अपने आप पानी के साथ आकर ले सकते तो सबसे बेस्ट है पानी सुबह मान लीजिए और उस पानी का सेवन करें सबसे बेस्ट भेजिए
Tulasee ke paudhe ka aushadhi upayog karane ke tulasee ke paudhe ke bahut saare aushadhi upayog hote hain aise aap chaay mein daalakar pee sakate hain ise normal garm paanee mein ubaalakar bhee pee sakate hain ek to aapako kophee vagaira ke shikaayat devee namaste baithak dabbe mein peshent hote dame ke mareej hote hain unake lie bahut phaayada karata hai tumhaare lie theek hai aur isake lie bailens ko bhee bulaane mein bahut jyaada karata hai to tulasee ko roj aur jo hai vah apane aap paanee ke saath aakar le sakate to sabase best hai paanee subah maan leejie aur us paanee ka sevan karen sabase best bhejie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग क्या है तुलसी के पौधे का औषधि उपयोग
URL copied to clipboard