#भारत की राजनीति

Vikash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
2:17

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:14
आजादी के इतने सालों बाद भी भारतीय किसान सरकार के खिलाफ आजादी की लड़ाई क्यों नहीं लग रहा आपका कहना बहुत सही है शायद जो भारतीय किसान है वह एकजुट है कि नहीं और जो इनके कर्ताधर्ता नेता कहलाते हैं आपने देखा होगा जितनी भी किसान यूनियन है वह कहीं न कहीं किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े हुए कुछ कम्युनिस्टों का यूनियन है कुछ कांग्रेसका है कुछ बीजेपी का है कुछ भारतीय किसान यूनियन का और भी बहुत कहीं न कहीं लालच 25th ताकि करीबी आ सकता के विपरीत हो जाती जो मेन समस्या है किसान की उसको उठाने वाला कोई है ही नहीं इस समय 52 दिनों से आंदोलन चल रहा है कुछ किसान इसमें हैं आप देखेंगे जितने किसान नेता है आलीशान गाड़ियों में चल रहे हैं घूम रहे हैं बड़ी-बड़ी जो फार्म है और जो विदेशी फंडिंग है इनके पैसे मोटे आ रहे हैं वह खूब बन रहे कोई भी मुद्दा लेकिन अब वह कह रहे हम किसान कानून वापस करो जबकि उसमें संशोधन करके ठीक किया जा सकता है तो जब तक जब से आजादी हुई है हर पॉलिटिकल पार्टी सत्ता में तो आई लेकिन किसानों की स्थिति वैसी की वैसी क्योंकि इनके अंदर एकता नहीं है अधिकतर किसान जो है अपने कामों को करने के लिए खेतों में पड़ा रहता और जो है भी वह सत्ता के करीब पहुंच विपक्ष के करीब पहुंच कर वहां से मलाई खा कर के वापस आ जाते और यही कारण है कि इतने 70 सालों में भी किसान की स्थिति झांकी कहां पड़ी हुई है वह कहीं सुधारने
Aajaadee ke itane saalon baad bhee bhaarateey kisaan sarakaar ke khilaaph aajaadee kee ladaee kyon nahin lag raha aapaka kahana bahut sahee hai shaayad jo bhaarateey kisaan hai vah ekajut hai ki nahin aur jo inake kartaadharta neta kahalaate hain aapane dekha hoga jitanee bhee kisaan yooniyan hai vah kaheen na kaheen kisee raajaneetik paartee se jude hue kuchh kamyuniston ka yooniyan hai kuchh kaangresaka hai kuchh beejepee ka hai kuchh bhaarateey kisaan yooniyan ka aur bhee bahut kaheen na kaheen laalach 25th taaki kareebee aa sakata ke vipareet ho jaatee jo men samasya hai kisaan kee usako uthaane vaala koee hai hee nahin is samay 52 dinon se aandolan chal raha hai kuchh kisaan isamen hain aap dekhenge jitane kisaan neta hai aaleeshaan gaadiyon mein chal rahe hain ghoom rahe hain badee-badee jo phaarm hai aur jo videshee phanding hai inake paise mote aa rahe hain vah khoob ban rahe koee bhee mudda lekin ab vah kah rahe ham kisaan kaanoon vaapas karo jabaki usamen sanshodhan karake theek kiya ja sakata hai to jab tak jab se aajaadee huee hai har politikal paartee satta mein to aaee lekin kisaanon kee sthiti vaisee kee vaisee kyonki inake andar ekata nahin hai adhikatar kisaan jo hai apane kaamon ko karane ke lie kheton mein pada rahata aur jo hai bhee vah satta ke kareeb pahunch vipaksh ke kareeb pahunch kar vahaan se malaee kha kar ke vaapas aa jaate aur yahee kaaran hai ki itane 70 saalon mein bhee kisaan kee sthiti jhaankee kahaan padee huee hai vah kaheen sudhaarane

Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
1:28
आजादी के इतने सालों बाद भी भारतीय किसान सरकार के खिलाफ आजादी की लड़ाई क्यों लड़ रहे हैं तो दोस्तों जिस प्रकार से दीमक लकड़ी को खोखला कर देता है उसी प्रकार से किसान के साथ बहुत बड़ा यूनियन जुड़ा हुआ है जिसमें दर्शन पाल सिंह जोगेंद्र सिंह सुखदेव सिंह सुरजीत सिंह अजमेर सिंह लोको पाल जिन्होंने 1994 में इंदिरा गांधी के हत्यारों को श्रद्धांजलि दी थी सतनाम सिंह अजनारा कमलजीत सिंह पन्नू निर्भय सिंह कीर्ति जिनको एक बस स्टैंड में 3 साल की सजा हुई बलदेव सिंह निहाल ऑल इंडिया किसान सभा मुखिया उनका सीटीएम से संबंधित रुलदु सिंह मानसा पंजाब किसान यूनियन कविता करूंगा कि ग्रीनपीस इंडिया प्रमुख हरनाम ऑनलाइन संघर्ष पार्टी अक्षय कुमार मेधा पाटेकर की रणजीत सिंह सेक्सी कालीन किसान के नेता इतनी महान हस्तियां जुड़ी हुई है तो संघर्ष तो स्वाभाविक है क्योंकि कथित पीएम से संबंध है कोई सजायाफ्ता है इन्हीं यूनियन अध्यक्ष की वजह से लड़ाई चल रही है और कब तक चले कुछ कहा नहीं जा सकता धन्यवाद
Aajaadee ke itane saalon baad bhee bhaarateey kisaan sarakaar ke khilaaph aajaadee kee ladaee kyon lad rahe hain to doston jis prakaar se deemak lakadee ko khokhala kar deta hai usee prakaar se kisaan ke saath bahut bada yooniyan juda hua hai jisamen darshan paal sinh jogendr sinh sukhadev sinh surajeet sinh ajamer sinh loko paal jinhonne 1994 mein indira gaandhee ke hatyaaron ko shraddhaanjali dee thee satanaam sinh ajanaara kamalajeet sinh pannoo nirbhay sinh keerti jinako ek bas staind mein 3 saal kee saja huee baladev sinh nihaal ol indiya kisaan sabha mukhiya unaka seeteeem se sambandhit ruladu sinh maanasa panjaab kisaan yooniyan kavita karoonga ki greenapees indiya pramukh haranaam onalain sangharsh paartee akshay kumaar medha paatekar kee ranajeet sinh seksee kaaleen kisaan ke neta itanee mahaan hastiyaan judee huee hai to sangharsh to svaabhaavik hai kyonki kathit peeem se sambandh hai koee sajaayaaphta hai inheen yooniyan adhyaksh kee vajah se ladaee chal rahee hai aur kab tak chale kuchh kaha nahin ja sakata dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:29
देखिए हर आदमी अपने अपने हक की लड़ाई लड़ता है किसान को सरकार का कानून पसंद नहीं है क्योंकि सरकार पूंजीपतियों के लिए काम कर रही है पूंजीपति किसान से ही ₹10 का माल खरीदेगा और उसे पैकिंग में करके बीस पच्चीस रुपए मार्केट में उतारे लेबल लगा देता है कि मत लिख देता है ₹5 की चीज ₹25 कीमत लगा लेता क्योंकि नीचे से ऊपर तक उसे बहुत सारी बेचैनी हो जाती हो सारा माल उठकर के यहां से रुमाल वगैरह में चला जाते हैं शहरों में लोगों की आमदनी होती ज्यादा गरीब किसान तो इतना भी अब नहीं कर सकते छोटी-छोटी लागो तो छोटे इलाकों में जयमाला वहां पहुंचेगा ₹5 का माल जहां पर ₹25 में बिकने लगेगा इधर साथ तेज पड़ जाएगी तो इस चीज को समझ रहे हैं और उसको जो उचित मूल्य है किसान को वह मंडी पर मिलने से उसको लगता लग रहा है कि सरकार जो है आपको ब्लॉक दे रही है ऐसा कुछ नहीं होगा मंडिया समाप्त हो जाएगी इस सरकार को चाहिए कि वह किसानों के हित के काम को देखते हुए अभी उसको स्थगित कर दे कानून को और इसके बाद चर्चा एक संसद में इसके दी फिर से करें उसके गुण और दोष होना चाहिए और बहस होने के बाद किसानों को पूर्णतया जब संतुष्ट हो जाए तभी इस कानून को लागू करने पर विचार कर रही कानून जनता की भलाई के लिए होते हैं जनता को तकलीफ देने के लिए परेशान करने के लिए नहीं होता सरकार जितने भी दृष्टांत दे रही है वह तर्क हीन है और उन तर्कों को किसान मानने को कोई तैयार नहीं होता
Dekhie har aadamee apane apane hak kee ladaee ladata hai kisaan ko sarakaar ka kaanoon pasand nahin hai kyonki sarakaar poonjeepatiyon ke lie kaam kar rahee hai poonjeepati kisaan se hee ₹10 ka maal khareedega aur use paiking mein karake bees pachchees rupe maarket mein utaare lebal laga deta hai ki mat likh deta hai ₹5 kee cheej ₹25 keemat laga leta kyonki neeche se oopar tak use bahut saaree bechainee ho jaatee ho saara maal uthakar ke yahaan se rumaal vagairah mein chala jaate hain shaharon mein logon kee aamadanee hotee jyaada gareeb kisaan to itana bhee ab nahin kar sakate chhotee-chhotee laago to chhote ilaakon mein jayamaala vahaan pahunchega ₹5 ka maal jahaan par ₹25 mein bikane lagega idhar saath tej pad jaegee to is cheej ko samajh rahe hain aur usako jo uchit mooly hai kisaan ko vah mandee par milane se usako lagata lag raha hai ki sarakaar jo hai aapako blok de rahee hai aisa kuchh nahin hoga mandiya samaapt ho jaegee is sarakaar ko chaahie ki vah kisaanon ke hit ke kaam ko dekhate hue abhee usako sthagit kar de kaanoon ko aur isake baad charcha ek sansad mein isake dee phir se karen usake gun aur dosh hona chaahie aur bahas hone ke baad kisaanon ko poornataya jab santusht ho jae tabhee is kaanoon ko laagoo karane par vichaar kar rahee kaanoon janata kee bhalaee ke lie hote hain janata ko takaleeph dene ke lie pareshaan karane ke lie nahin hota sarakaar jitane bhee drshtaant de rahee hai vah tark heen hai aur un tarkon ko kisaan maanane ko koee taiyaar nahin hota

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
2:19
आजादी के इतने सालों बाद भी भारतीय किसान सरकार के खिलाफ आजादी की आंदोलन तू कर रहा है इसका सीधा साधा कारण है कि भारत में जो सरकारी रहे वह सरकारी किसानों की सरकार नहीं थी वह सरकार पूंजीपतियों की सरकार थी सेठ जी और भज्जी की सरकार थी और वह किसानों के हित संबंध में कुछ long-term ऐसे कुछ डिसीजन है जो वह करना नहीं चाहती थी कि उनकी इच्छाशक्ति नहीं थी कि किसानों को बार-बार फसाया गया बार-बार फसाया गया और किसान फस गया था उसका गया है यह किसान की भी एक भूल है और अपनी भूल को जो लोग भर्ती नहीं वह गुलामी की तरफ जा रहे होते हैं तो ऐसी व्यवस्था भारती की संख्या आज हो रही है उद्योग जगत के लिए कई लाख करोड़ की करोड़ के प्रावधान हो सकते हैं लेकिन किसानों के लिए नहीं हो सकते यह वास्तव में भारतीय अर्थव्यवस्था का तो यही उनकी मांगे जो है वह गला को भी नहीं मानी जा सकती सरकार पर संवैधानिक मार्ग से कैसे कंट्रोल किसान करते हैं उसे यह निश्चित होगा कि किसानों की मुक्ति होगी या नहीं धन्यवाद
Aajaadee ke itane saalon baad bhee bhaarateey kisaan sarakaar ke khilaaph aajaadee kee aandolan too kar raha hai isaka seedha saadha kaaran hai ki bhaarat mein jo sarakaaree rahe vah sarakaaree kisaanon kee sarakaar nahin thee vah sarakaar poonjeepatiyon kee sarakaar thee seth jee aur bhajjee kee sarakaar thee aur vah kisaanon ke hit sambandh mein kuchh long-tairm aise kuchh diseejan hai jo vah karana nahin chaahatee thee ki unakee ichchhaashakti nahin thee ki kisaanon ko baar-baar phasaaya gaya baar-baar phasaaya gaya aur kisaan phas gaya tha usaka gaya hai yah kisaan kee bhee ek bhool hai aur apanee bhool ko jo log bhartee nahin vah gulaamee kee taraph ja rahe hote hain to aisee vyavastha bhaaratee kee sankhya aaj ho rahee hai udyog jagat ke lie kaee laakh karod kee karod ke praavadhaan ho sakate hain lekin kisaanon ke lie nahin ho sakate yah vaastav mein bhaarateey arthavyavastha ka to yahee unakee maange jo hai vah gala ko bhee nahin maanee ja sakatee sarakaar par sanvaidhaanik maarg se kaise kantrol kisaan karate hain use yah nishchit hoga ki kisaanon kee mukti hogee ya nahin dhanyavaad

prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए prakash जी का जवाब
Normal business
2:58
शादी के इतने सालों बाद भी भारतीय किसान सरकार के खिलाफ आजादी की लड़ाई क्यों लड़ रहा है अगर आप छोटी सी बात सोचें तो वह हर तरीके से सही है कि किसी नामी गिरामी कि छोटे से फार्महाउस से अगर कोई चीज निकलती है तो वह ₹100 किलो ₹80 किलो ₹60 किलो और किसान की खेती जो चीज निकलती है वह ₹10 किलो ₹5 किलो इसका क्या रीजन है ऑफिस का क्या मतलब है यह तो वही वाला ऐसा हुआ कि सस्ता माल खरीदो और इंडिया से अदानी अंबानी को पैसे वाला करो हो सके तो मेरा सभी लोगों से अनुरोध है कि किसानों का समर्थन करें उनका समर्थन बने समर्थन करें हर तरीके से क्योंकि वह हमारा अन्नदाता है जिस तरीके से हम शादी व्याह किसी पार्टी समारोह में जिस तरीके खाना बर्बाद कर देते हैं ना अगर आप देखोगे ना तो किसान को खुद भरपेट अच्छे से खाना नहीं मिलता खाना पैदा करने वाले को खाना नहीं मिलता है लेकिन हम पैसे के दम पर खाने को बर्बाद तक कर देते हैं और यह सरकार हर सरकार सिर्फ किसानों के दम पर ही बनती है और किसानों को हर तरीके से बड़ा मानती है लेकिन किसान को ही हर तरीके से पीछा छोड़ देती है और हम लोगों की गंदी बातें यह होती है कि अगर गेहूं पर एक रुपए किलो भर जाए तो हम कितना बड़ा सोचने लगते हैं कि इस पर रेट बढ़ गया उस पर रेट बढ़ गया लेकिन चल अब गुटका शराब ₹100 से 200 की हो जाए तो हमें कोई फर्क नहीं पड़ता हमको पीनी है वह गुटका हमको रोज खाना है वही वाला गुटखा आज ₹5 में ₹5 से ₹10 में पहुंच गया लेकिन हमको कहना है इतनी महंगी चीजें हम खा सकते हैं लेकिन हमारी सबसे गंदी आ जाइए और सरकार बीजेपी सरकार तो आज तक ना पैदा हुई है और ना शायद कभी होगी इसमें वही वाला हिसाब किया हुआ है कि जिसकी लाठी उसकी भैंस यह सिर्फ पैसे वालों को ही पैसा का पैसे वाला बना रहा है अडानी अंबानी यों का ही घर पर प्राय यह किसी और का कुछ नहीं कर रहा है आम जनता का गरीब का किसान का सबका मरना हो रहा है तो हो सके तो इस सरकार का बहिष्कार करें और आपको जो ठीक लगे उस सरकार को वोट दें और ज्यादा से ज्यादा किसान का समर्थन करें मेरा आप लोगों से यही अनुरोध है नहीं तो यह बेचारे किसान इसी तरीके की आजादी की लड़ाई लड़ते-लड़ते मर जाएंगे यह सरकार कुछ नहीं करेगी और आप लोग
Shaadee ke itane saalon baad bhee bhaarateey kisaan sarakaar ke khilaaph aajaadee kee ladaee kyon lad raha hai agar aap chhotee see baat sochen to vah har tareeke se sahee hai ki kisee naamee giraamee ki chhote se phaarmahaus se agar koee cheej nikalatee hai to vah ₹100 kilo ₹80 kilo ₹60 kilo aur kisaan kee khetee jo cheej nikalatee hai vah ₹10 kilo ₹5 kilo isaka kya reejan hai ophis ka kya matalab hai yah to vahee vaala aisa hua ki sasta maal khareedo aur indiya se adaanee ambaanee ko paise vaala karo ho sake to mera sabhee logon se anurodh hai ki kisaanon ka samarthan karen unaka samarthan bane samarthan karen har tareeke se kyonki vah hamaara annadaata hai jis tareeke se ham shaadee vyaah kisee paartee samaaroh mein jis tareeke khaana barbaad kar dete hain na agar aap dekhoge na to kisaan ko khud bharapet achchhe se khaana nahin milata khaana paida karane vaale ko khaana nahin milata hai lekin ham paise ke dam par khaane ko barbaad tak kar dete hain aur yah sarakaar har sarakaar sirph kisaanon ke dam par hee banatee hai aur kisaanon ko har tareeke se bada maanatee hai lekin kisaan ko hee har tareeke se peechha chhod detee hai aur ham logon kee gandee baaten yah hotee hai ki agar gehoon par ek rupe kilo bhar jae to ham kitana bada sochane lagate hain ki is par ret badh gaya us par ret badh gaya lekin chal ab gutaka sharaab ₹100 se 200 kee ho jae to hamen koee phark nahin padata hamako peenee hai vah gutaka hamako roj khaana hai vahee vaala gutakha aaj ₹5 mein ₹5 se ₹10 mein pahunch gaya lekin hamako kahana hai itanee mahangee cheejen ham kha sakate hain lekin hamaaree sabase gandee aa jaie aur sarakaar beejepee sarakaar to aaj tak na paida huee hai aur na shaayad kabhee hogee isamen vahee vaala hisaab kiya hua hai ki jisakee laathee usakee bhains yah sirph paise vaalon ko hee paisa ka paise vaala bana raha hai adaanee ambaanee yon ka hee ghar par praay yah kisee aur ka kuchh nahin kar raha hai aam janata ka gareeb ka kisaan ka sabaka marana ho raha hai to ho sake to is sarakaar ka bahishkaar karen aur aapako jo theek lage us sarakaar ko vot den aur jyaada se jyaada kisaan ka samarthan karen mera aap logon se yahee anurodh hai nahin to yah bechaare kisaan isee tareeke kee aajaadee kee ladaee ladate-ladate mar jaenge yah sarakaar kuchh nahin karegee aur aap log

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आजादी के इतने सालों बाद भी भारतीय किसान सरकार के खिलाफ आजादी की लड़ाई क्यों लड़ रहा है किसान सरकार के खिलाफ आजादी की लड़ाई क्यों लड़ रहा है?
URL copied to clipboard