#धर्म और ज्योतिषी

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:54
भगवत गीता पढ़ने से सच में मन में और जिंदगी की खनखन करती है बिल्कुल लेकिन कुछ समय के लिए कुछ भी करते हैं जैसे कोई गीत सुनते हम लोग तो उसमें कोई आ भक्ति गीत होगी तुम्हारे मम्मी की भावना उत्पन्न होगी वाला गाना सुना दुखी हो जाते हैं जब खुशी वाला गाना सुनेंगे तो जाते हैं कंप्यूटर करते हैं प्रकार की भावना उत्पन्न होगी और हमें ऐसा लगेगा कि अब हमें ऐसा ही करना चाहिए और हमारे जीवन में इतने अच्छे कर्म करने चाहिए लेकिन वह कुछ समय के नहीं होगा अच्छे विचार हैं और आप हमेशा अच्छे कर्म करते तू ही अच्छे कर पाएंगे और आप एक अच्छे तू रोजाना रोज गीता पढ़ी है कल सुबह की छोटी बच्ची होती है और आपके मन में शांति रहती है उसके लिए आपको इतनी मन में शांति रहेगी कि जो भी काम कम करें वह अच्छी है और जो भी हमसे गलतियां हुई है उसके लिए वह फिर से दोबारा कर दिया ना होने देता पर कम हो सकती है तुम्हें चाहते हैं तो आपको चाहिए
Bhagavat geeta padhane se sach mein man mein aur jindagee kee khanakhan karatee hai bilkul lekin kuchh samay ke lie kuchh bhee karate hain jaise koee geet sunate ham log to usamen koee aa bhakti geet hogee tumhaare mammee kee bhaavana utpann hogee vaala gaana suna dukhee ho jaate hain jab khushee vaala gaana sunenge to jaate hain kampyootar karate hain prakaar kee bhaavana utpann hogee aur hamen aisa lagega ki ab hamen aisa hee karana chaahie aur hamaare jeevan mein itane achchhe karm karane chaahie lekin vah kuchh samay ke nahin hoga achchhe vichaar hain aur aap hamesha achchhe karm karate too hee achchhe kar paenge aur aap ek achchhe too rojaana roj geeta padhee hai kal subah kee chhotee bachchee hotee hai aur aapake man mein shaanti rahatee hai usake lie aapako itanee man mein shaanti rahegee ki jo bhee kaam kam karen vah achchhee hai aur jo bhee hamase galatiyaan huee hai usake lie vah phir se dobaara kar diya na hone deta par kam ho sakatee hai tumhen chaahate hain to aapako chaahie

और जवाब सुनें

Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
0:47
भगवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल स्थान सकती है तो हां दोस्तों काम क्रोध मोह लोभ इन सभी बातों का आपको पूर्ण रूप से ज्ञान होगा और आप अपने जीवन की उथल-पुथल को कम कर सकते हैं ऐसी जानकारियां प्राप्त होंगी जिसके बारे में आपने सोचा नहीं होगा किस प्रकार से अपने दुश्मन से लड़ना है किस प्रकार से उस को हराना है यानी पराजित करना है किस प्रकार से व्यक्ति चला जाता है हल्की माया क्या होती है इन सब बातों का गूढ़ ज्ञान आपको प्राप्त होगा साथ ही जीवन क्या है आत्मा क्या है इसका बोध होगा धन्यवाद
Bhagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee kee uthal-puthal sthaan sakatee hai to haan doston kaam krodh moh lobh in sabhee baaton ka aapako poorn roop se gyaan hoga aur aap apane jeevan kee uthal-puthal ko kam kar sakate hain aisee jaanakaariyaan praapt hongee jisake baare mein aapane socha nahin hoga kis prakaar se apane dushman se ladana hai kis prakaar se us ko haraana hai yaanee paraajit karana hai kis prakaar se vyakti chala jaata hai halkee maaya kya hotee hai in sab baaton ka goodh gyaan aapako praapt hoga saath hee jeevan kya hai aatma kya hai isaka bodh hoga dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न किया भगवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो जी हां फ्रेंड से आप भगवद्गीता पढ़ेंगे तो आपको जरूर मन में कुछ शांति तो जरूर मिलेगी पूरा आपका दिमाग नहीं शांत हो पाए लेकिन थोड़ा तो आपको शांति ना मिलेगी इसलिए भगवत गीता पढ़ना बहुत अच्छा होता है उसमें लिखी बातें आपको बहुत सांत्वना प्रदान करेंगे और आपको बहुत अच्छा लगेगा इसलिए आपको गीता पढ़ना चाहिए और वह जो जीवन में आपके उथल-पुथल मची है उसको पढ़ने से आपका मन शांत हो जाएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kiya bhagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee kee uthal-puthal tham sakatee hai to jee haan phrend se aap bhagavadgeeta padhenge to aapako jaroor man mein kuchh shaanti to jaroor milegee poora aapaka dimaag nahin shaant ho pae lekin thoda to aapako shaanti na milegee isalie bhagavat geeta padhana bahut achchha hota hai usamen likhee baaten aapako bahut saantvana pradaan karenge aur aapako bahut achchha lagega isalie aapako geeta padhana chaahie aur vah jo jeevan mein aapake uthal-puthal machee hai usako padhane se aapaka man shaant ho jaega dhanyavaad

Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
0:44
क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मर और जिंदगी उथल-पुथल तुम जाती है कि नहीं जी हां मैं कहूंगा कि यह बात बिल्कुल सत्य है कि अगर आप प्रतिदिन दो से तीन पेज भगवत गीता के पढ़ते हैं तो आपके जीवन में एक नया फेसबुक बंद करें कि आपके जीवन में जो भी मन के अंदर विचार गलत आ रहे हैं उन विचारों का भी समाधान करेगी और आपको बहुत गीता को पढ़ने से आपके अंदर एक नई नई चीजों का एक नई नई चीजें उत्पन्न होंगी तो आपको सम्मान में लड़ना सिखाएंगे मजबूती से आएंगे आप को होशियार बनाएंगे मैं आप से कहता हूं कि आप अपने घर में एक बहुत ही का तो अवश्य रखें और अपने बच्चों को जाने वाली पीढ़ी को एक बार जरुर से प्यार किया प्रतिदिन दो से तीन पर होती तक अवश्य पढ़ें
Kya bhagavat geeta padhane se sach mein mar aur jindagee uthal-puthal tum jaatee hai ki nahin jee haan main kahoonga ki yah baat bilkul saty hai ki agar aap pratidin do se teen pej bhagavat geeta ke padhate hain to aapake jeevan mein ek naya phesabuk band karen ki aapake jeevan mein jo bhee man ke andar vichaar galat aa rahe hain un vichaaron ka bhee samaadhaan karegee aur aapako bahut geeta ko padhane se aapake andar ek naee naee cheejon ka ek naee naee cheejen utpann hongee to aapako sammaan mein ladana sikhaenge majabootee se aaenge aap ko hoshiyaar banaenge main aap se kahata hoon ki aap apane ghar mein ek bahut hee ka to avashy rakhen aur apane bachchon ko jaane vaalee peedhee ko ek baar jarur se pyaar kiya pratidin do se teen par hotee tak avashy padhen

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:01
भगवत गीता पढ़ने से मन में सच में मनावर जिंदगी की उत्तल पुथल थम जाती है जा सकती है निश्चित रूप से समझा सकती है उसका जो एक महत्वपूर्ण सिद्धांत है जिसको कर्म सिद्धांत कहते हैं वैसे बताता है कि कर्म करो फल की अपेक्षा मत करो इसका मतलब यह है कि हम हर तरह के काम करते हैं लेकिन सभी कामों के पीछे हमारा एक स्वार्थ होता है हमारी इच्छा होती है हमारा लोग होता है हमारा कोई भी हो सकता है मोहम्मद सर भी हो सकता है ऐसे भी करो से भरी हुई भरे हुए हमारे कर्म होते हैं उसके कारण हमें दुख मिलता है और अगर काम को ऐसी भावनाओं से भ्रम को दूर करके किया जाए तो हमारे मन को दुख पहुंचने की कोई हमारे मन को दुख पहुंचाने में कोई कुछ नहीं कर सकता यह मामा हमेशा सत्य मालूम होता है अब हम सत्य की राह पर चलते हुए हम रहते हैं तो हमें हमारे हमारे मन को नहीं भूल सकते या पैसा वापस आ नहीं सकते और जब मन शुद्ध होता है तब जिंदगी में आनंद ही आनंद होता है और भगवत गीता में बहुत सारे बटे वो सिखाई गई है दुनिया के बड़े या जैसे हिटलर जैसे लोग भगवत गीता से प्रभावित थी तो वह मेरा तो ऐसा मानना है कि युद्ध के संदर्भ में जो भगवत गीता का संदेश है किलर ना तुम्हारा कर्तव्य है वह तो नहीं करना चाहिए विशिष्ट परिस्थितियों में अगर सत्य की विजय होगी अगर आप सत्य तो आपकी विजय निश्चित होगी तो इसी तरीके की एक सोच से प्रेरित हुआ था और हमारी जिंदगी में बहुत सारी उथल-पुथल आ जाती है उसे उसको भी हम इस नजरिए से देख सकते हैं कि यह सब शरीर के तल पर हो रहा है लेकिन यह जो भी कुछ सामने आया है उसको हमें पेश करना है उसे भरना है धन्यवाद
Bhagavat geeta padhane se man mein sach mein manaavar jindagee kee uttal puthal tham jaatee hai ja sakatee hai nishchit roop se samajha sakatee hai usaka jo ek mahatvapoorn siddhaant hai jisako karm siddhaant kahate hain vaise bataata hai ki karm karo phal kee apeksha mat karo isaka matalab yah hai ki ham har tarah ke kaam karate hain lekin sabhee kaamon ke peechhe hamaara ek svaarth hota hai hamaaree ichchha hotee hai hamaara log hota hai hamaara koee bhee ho sakata hai mohammad sar bhee ho sakata hai aise bhee karo se bharee huee bhare hue hamaare karm hote hain usake kaaran hamen dukh milata hai aur agar kaam ko aisee bhaavanaon se bhram ko door karake kiya jae to hamaare man ko dukh pahunchane kee koee hamaare man ko dukh pahunchaane mein koee kuchh nahin kar sakata yah maama hamesha saty maaloom hota hai ab ham saty kee raah par chalate hue ham rahate hain to hamen hamaare hamaare man ko nahin bhool sakate ya paisa vaapas aa nahin sakate aur jab man shuddh hota hai tab jindagee mein aanand hee aanand hota hai aur bhagavat geeta mein bahut saare bate vo sikhaee gaee hai duniya ke bade ya jaise hitalar jaise log bhagavat geeta se prabhaavit thee to vah mera to aisa maanana hai ki yuddh ke sandarbh mein jo bhagavat geeta ka sandesh hai kilar na tumhaara kartavy hai vah to nahin karana chaahie vishisht paristhitiyon mein agar saty kee vijay hogee agar aap saty to aapakee vijay nishchit hogee to isee tareeke kee ek soch se prerit hua tha aur hamaaree jindagee mein bahut saaree uthal-puthal aa jaatee hai use usako bhee ham is najarie se dekh sakate hain ki yah sab shareer ke tal par ho raha hai lekin yah jo bhee kuchh saamane aaya hai usako hamen pesh karana hai use bharana hai dhanyavaad

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:35
पूजा जी क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मानव जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो जी बिल्कुल कम सकती है क्योंकि उसमें छुपाते हैं आप उनके अध्याय पढ़ कर तो देखिए एक बार उनको अपने जीवन में अप्लाई कर कर दी क्या खुद मैं खुद आपके अंदर एक ऐसा चीज नजर आएगा कि सामने वाला और आप खुद नहीं समझ पाएंगे कि मुझ पर यह चेंज कब आओगे और कैसे आ गया पढ़कर देखेगा क्योंकि कृष्ण और राम भगवान ने भी कहा है कृष्णा जी ने जो कहा है अब वह करिए और राम भगवान ने जो किया है आप वह करिए जगह पसंद है तो लाइक करें धन्यवाद
Pooja jee kya bhagavat geeta padhane se sach mein maanav jindagee kee uthal-puthal tham sakatee hai to jee bilkul kam sakatee hai kyonki usamen chhupaate hain aap unake adhyaay padh kar to dekhie ek baar unako apane jeevan mein aplaee kar kar dee kya khud main khud aapake andar ek aisa cheej najar aaega ki saamane vaala aur aap khud nahin samajh paenge ki mujh par yah chenj kab aaoge aur kaise aa gaya padhakar dekhega kyonki krshn aur raam bhagavaan ne bhee kaha hai krshna jee ne jo kaha hai ab vah karie aur raam bhagavaan ne jo kiya hai aap vah karie jagah pasand hai to laik karen dhanyavaad

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:02
क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी के उथल-पुथल थम सकती है दिखे फ्रेंड्स क्या है ना क्या आपको अगर विश्वास नहीं रहेगा तो आपको कुछ शांति नहीं मिलेगी कहा जाता है कि भगवान की प्रार्थना उसी में होती जब हमें सुख और शांति की जरूरत होती है तो मन में हम लीन हो जाते हैं उनके उनके हर एक बातों में उनकी हर एक ध्यान में हम उन्हें याद करते हर एक सांस में हम उन्हें याद करने की कोशिश करते होती हैं करते हैं उसी कारण क्या होता है कि हमें अपनी जिंदगी में जो भी बहुत ज्यादा परेशानी या कष्ट होने वाले रहते हैं कहीं ना कहीं दूर हो जाते हैं और हमें सुख शांति प्रदान होती है तो यही है कि अगर भगवान गीता में आप विश्वास रखते हैं तो उसको पड़ेंगे तो जरूर कुछ ना कुछ आपको ज्ञान मिलेंगे किसी की आने वाले जो भी परेशानियां रहेंगी उससे आप लड़ने लायक रहेंगे उस में लड़ने से सक्षम रहेंगे जिससे कि आपको परेशानियों से निजात मिल जाएगी आपको सुख शांति यही बात होती है
Kya bhagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee ke uthal-puthal tham sakatee hai dikhe phrends kya hai na kya aapako agar vishvaas nahin rahega to aapako kuchh shaanti nahin milegee kaha jaata hai ki bhagavaan kee praarthana usee mein hotee jab hamen sukh aur shaanti kee jaroorat hotee hai to man mein ham leen ho jaate hain unake unake har ek baaton mein unakee har ek dhyaan mein ham unhen yaad karate har ek saans mein ham unhen yaad karane kee koshish karate hotee hain karate hain usee kaaran kya hota hai ki hamen apanee jindagee mein jo bhee bahut jyaada pareshaanee ya kasht hone vaale rahate hain kaheen na kaheen door ho jaate hain aur hamen sukh shaanti pradaan hotee hai to yahee hai ki agar bhagavaan geeta mein aap vishvaas rakhate hain to usako padenge to jaroor kuchh na kuchh aapako gyaan milenge kisee kee aane vaale jo bhee pareshaaniyaan rahengee usase aap ladane laayak rahenge us mein ladane se saksham rahenge jisase ki aapako pareshaaniyon se nijaat mil jaegee aapako sukh shaanti yahee baat hotee hai

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:53
देखिए ऐसा एक जाके नहीं होता है कि अगर आपने भागवत गीता पढ़ लिया तो आज जिंदगी की उथल-पुथल हम जाएगी ऐसा नहीं होता है जी देखिए ऐसा है कुछ कि आपका हमारा हम सब का जीवन हमारे कर्म अनुसार इस तरीके से उस तरीके से चलता चला जाता है हम हमेशा गर्म करते हैं का कर्म फल होता है अगर हमारा कर्म सही होता है आज सही समय पर सही चीज किया जाता है तो उसका पैसा रिजल्ट भी सामने दिखता है आज हम जो भी कुछ है अपने चॉइस इसके हिसाब से हैं अपने डिसिशन के कारण है जो अभी तक आज तक हमें जैसी खड़ी है फैसले लिए पैसे में यह भी होता है कि भाई पढ़ाई करना था नहीं करना था इस समय यह कहना था उस समय वह करना था इस समय से ऐसी बात करनी थी उस जॉब के साथ आगे बढ़ना था है इससे पैसे नहीं लेने थे बिजनेस में नहीं लगाने से बहुत सारी चीजें तो जब हम जीवन की बात करते हैं तुझे देखे जीवन में संघर्ष बने रहेंगे उतार-चढ़ाव जीवन का हिस्सा होता है वह रहेगा तो क्या बदलता है अगर आप भागवत गीता पढ़ते हैं और पढ़ने का मतलब यह नहीं होता कि आपने एक रीडिंग लगा ली पूरे किताब की और आप सोच रहे हैं कुछ फायदा नहीं हुआ जी नहीं आपको ऐसे ही रीडिंग नहीं लगानी आप उसको पढ़िए दिन में एक पन्ना जो करना पड़े 3 बनने पढ़िए और देखिए कि उससे क्या समझ आता है क्या सीख मिलती है भगवत गीता और कुछ नहीं है आपको बताती है कि जीवन क्या है जीवन को जीना कैसे हैं सही दिशा में कैसे जाना होता है और जब हमें यह पता लग जाता है कि दिशा सही यह है तो भले ही संघर्ष जैसा भी हो आप को एक संतोष होता है कि कम से कम में सही दिशा में तो हूं हाथ में गिलानी की भावना नहीं आती है वगैरह वगैरह तो जीवन के संघर्ष बने रहेंगे जब आप गीता पढ़ते तब आपको जीवन के संघर्षों से जूझने की हिम्मत आ जाती है ताकत आ जाती है दिशा मिल जाती है समझ आ जाता है यह समझ आने लगता है अगर आपने ध्यान से उसको पढ़ा है उनकी बातों को देखा है समझा ऐसी काहे जाना है हर जीवन को एक तरीके से जीने का के बारे में आपने सोचा है और जीने का प्रयास कर रहे हैं तो जीवन थोड़ा उन्हीं समस्याओं में उसने का परिस्थितियों में जो थोड़ा कठिन लगता था अब थोड़ा लगता है कि हां चलो ठीक है कोई बात नहीं मैनेज हो जाएगा निकल जाएंगे इस परिस्थिति से भी होता कुछ नहीं है सिर्फ नजरिए का फर्क होता है तो नजरिया बदला और आपको जीवन थोड़ा बेहतर लगने लगता है बस यही होता है
Dekhie aisa ek jaake nahin hota hai ki agar aapane bhaagavat geeta padh liya to aaj jindagee kee uthal-puthal ham jaegee aisa nahin hota hai jee dekhie aisa hai kuchh ki aapaka hamaara ham sab ka jeevan hamaare karm anusaar is tareeke se us tareeke se chalata chala jaata hai ham hamesha garm karate hain ka karm phal hota hai agar hamaara karm sahee hota hai aaj sahee samay par sahee cheej kiya jaata hai to usaka paisa rijalt bhee saamane dikhata hai aaj ham jo bhee kuchh hai apane chois isake hisaab se hain apane disishan ke kaaran hai jo abhee tak aaj tak hamen jaisee khadee hai phaisale lie paise mein yah bhee hota hai ki bhaee padhaee karana tha nahin karana tha is samay yah kahana tha us samay vah karana tha is samay se aisee baat karanee thee us job ke saath aage badhana tha hai isase paise nahin lene the bijanes mein nahin lagaane se bahut saaree cheejen to jab ham jeevan kee baat karate hain tujhe dekhe jeevan mein sangharsh bane rahenge utaar-chadhaav jeevan ka hissa hota hai vah rahega to kya badalata hai agar aap bhaagavat geeta padhate hain aur padhane ka matalab yah nahin hota ki aapane ek reeding laga lee poore kitaab kee aur aap soch rahe hain kuchh phaayada nahin hua jee nahin aapako aise hee reeding nahin lagaanee aap usako padhie din mein ek panna jo karana pade 3 banane padhie aur dekhie ki usase kya samajh aata hai kya seekh milatee hai bhagavat geeta aur kuchh nahin hai aapako bataatee hai ki jeevan kya hai jeevan ko jeena kaise hain sahee disha mein kaise jaana hota hai aur jab hamen yah pata lag jaata hai ki disha sahee yah hai to bhale hee sangharsh jaisa bhee ho aap ko ek santosh hota hai ki kam se kam mein sahee disha mein to hoon haath mein gilaanee kee bhaavana nahin aatee hai vagairah vagairah to jeevan ke sangharsh bane rahenge jab aap geeta padhate tab aapako jeevan ke sangharshon se joojhane kee himmat aa jaatee hai taakat aa jaatee hai disha mil jaatee hai samajh aa jaata hai yah samajh aane lagata hai agar aapane dhyaan se usako padha hai unakee baaton ko dekha hai samajha aisee kaahe jaana hai har jeevan ko ek tareeke se jeene ka ke baare mein aapane socha hai aur jeene ka prayaas kar rahe hain to jeevan thoda unheen samasyaon mein usane ka paristhitiyon mein jo thoda kathin lagata tha ab thoda lagata hai ki haan chalo theek hai koee baat nahin mainej ho jaega nikal jaenge is paristhiti se bhee hota kuchh nahin hai sirph najarie ka phark hota hai to najariya badala aur aapako jeevan thoda behatar lagane lagata hai bas yahee hota hai

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:54
दोस्तों की क्या भागवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो दोस्तों निस्संदेह उथल-पुथल हम सकती हैं और भगवत गीता के साथ अन्य कोई या धार्मिक पुस्तक पढ़े उससे भी आपको मन को शांति मिले करा रामायण पढ़ सकते हैं या कोई अन्य धर्म है के लोग हैं तो गुरु वाणी जैसे लोग पढ़ते हैं किसी ना किसी वक्त किसी ना किसी रूप में भगवान का ध्यान करेंगे एकांत में रहेंगे और निश्चित रूप से उसे काफी चीजें सीखने को मिलती है भागवत गीता से तो बिल्कुल सारी चीजें सीखने को मिलती हैं तो क्या रामायण से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलती है कोई भेद पड़ता है उससे काफी चीजें सीखने को मिलती हैं तो निश्चित रूप से जो जीवन में चक्कर चल रहे हैं जिससे लोग परेशान होते हैं दुखी रहते हैं कुछ ना कुछ जरूर उसे ज्ञान प्राप्त करके हमें न्याय प्राप्त हो सकती है तो भगवत गीता पड़े हैं या अन्य पुस्तक भी बड़े से पूर्ण रुप से आपको लाभ होगा धन्यवाद
Doston kee kya bhaagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee kee uthal-puthal tham sakatee hai to doston nissandeh uthal-puthal ham sakatee hain aur bhagavat geeta ke saath any koee ya dhaarmik pustak padhe usase bhee aapako man ko shaanti mile kara raamaayan padh sakate hain ya koee any dharm hai ke log hain to guru vaanee jaise log padhate hain kisee na kisee vakt kisee na kisee roop mein bhagavaan ka dhyaan karenge ekaant mein rahenge aur nishchit roop se use kaaphee cheejen seekhane ko milatee hai bhaagavat geeta se to bilkul saaree cheejen seekhane ko milatee hain to kya raamaayan se hamen bahut kuchh seekhane ko milatee hai koee bhed padata hai usase kaaphee cheejen seekhane ko milatee hain to nishchit roop se jo jeevan mein chakkar chal rahe hain jisase log pareshaan hote hain dukhee rahate hain kuchh na kuchh jaroor use gyaan praapt karake hamen nyaay praapt ho sakatee hai to bhagavat geeta pade hain ya any pustak bhee bade se poorn rup se aapako laabh hoga dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:29
क्या भगवत गीता पढ़ने से सच्चे मन और जिंदगी को तलपत्री हम सकती है दोस्त एक बार पढ़ कर के दे और जितने भी अध्याय है अगर धीरे-धीरे आप पढ़ते हैं और मन को शांत और स्थिर कर के जीवन के सारे गुण को मिले हर रहे जीवन कैसे जिया जाता है और इसके सिद्धांत ऐसे नहीं है कि ब्रिटिश कार्यशील तक अंतरराष्ट्रीय संस्था जो भगवद्गीता पर रिसर्च कर रही है और कितने सालों से विश्व के अनेक हिस्सों में इस पर चर्चा हो रही है अभी इनकी रहस्यों को कोई समझ नहीं पाया और निश्चित तौर पर उसमें एक ही बातें जो लिखी हुई है अगर उसको आप उतार लेते हैं जीवन में कहते हैं जीवन का सभी चीजों का निचोड़ है शुरू से लेकर आज तक हमने तो कुछ हिस्सों को ही पड़ा है और अब पाया है कि बहुत बेहतरीन चीज है निश्चित तौर पर अगर मन में स्थिरता हो जिंदगी में उथल-पुथल हो या कहीं हो ऐसी भी नहीं है किस को पढ़ने से बहरा की भावना आया इस तरह से होगी जीवन को सही ढंग से समझने जाने का मिलेगा और बेहतर में
Kya bhagavat geeta padhane se sachche man aur jindagee ko talapatree ham sakatee hai dost ek baar padh kar ke de aur jitane bhee adhyaay hai agar dheere-dheere aap padhate hain aur man ko shaant aur sthir kar ke jeevan ke saare gun ko mile har rahe jeevan kaise jiya jaata hai aur isake siddhaant aise nahin hai ki british kaaryasheel tak antararaashtreey sanstha jo bhagavadgeeta par risarch kar rahee hai aur kitane saalon se vishv ke anek hisson mein is par charcha ho rahee hai abhee inakee rahasyon ko koee samajh nahin paaya aur nishchit taur par usamen ek hee baaten jo likhee huee hai agar usako aap utaar lete hain jeevan mein kahate hain jeevan ka sabhee cheejon ka nichod hai shuroo se lekar aaj tak hamane to kuchh hisson ko hee pada hai aur ab paaya hai ki bahut behatareen cheej hai nishchit taur par agar man mein sthirata ho jindagee mein uthal-puthal ho ya kaheen ho aisee bhee nahin hai kis ko padhane se bahara kee bhaavana aaya is tarah se hogee jeevan ko sahee dhang se samajhane jaane ka milega aur behatar mein

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:58
यहां जो कोई व्यक्ति सच्चे मन से भगवत गीता पड़ता है या किसी को पढ़कर सुनाता है या किसी से सुनता तो सच में मन और जिंदगी की होटल पुट थम सकती है क्योंकि इसमें ऐसे लोग होते हैं ऐसे लोग का रोज उच्चारण करें या वह तो हम आने वाले समय हर समस्या का समाधान बिना कोई टेंशन या कुछ कार्य में हम कर सकते हैं तथा गीता में 9 सूत्र है जो कि आपकी जिंदगी बदल देंगे किताब पढ़ने के बाद में मनुष्य अपने मन में विश्वास में इतना आत्मविश्वास हो जाता है कि भगवान की पूजा पाठ करने के लिए कि शायद प्यार हो जाता है
Yahaan jo koee vyakti sachche man se bhagavat geeta padata hai ya kisee ko padhakar sunaata hai ya kisee se sunata to sach mein man aur jindagee kee hotal put tham sakatee hai kyonki isamen aise log hote hain aise log ka roj uchchaaran karen ya vah to ham aane vaale samay har samasya ka samaadhaan bina koee tenshan ya kuchh kaary mein ham kar sakate hain tatha geeta mein 9 sootr hai jo ki aapakee jindagee badal denge kitaab padhane ke baad mein manushy apane man mein vishvaas mein itana aatmavishvaas ho jaata hai ki bhagavaan kee pooja paath karane ke lie ki shaayad pyaar ho jaata hai

Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
0:39
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या भागवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी उथल-पुथल थम सकती है देखिए आदि इस चीज को आप सही तरीके से लेंगे यदि सही तरीके से आपके दिमाग में यह प्रवेश कर जाएगा जितने भी भागवत जी में भगवान ने उपदेश दिए हैं इन सारी चीजों को यदि अपने जीवन के में थोड़ा सा भी अभी धारण करने की आप क्षमता रखते हैं तो जरूर आपके जीवन में जो उथल-पुथल चल रहे हैं जो सोच विचार चल रहे हैं जो उधेड़बुन में आप पढ़े हुए हैं उसको आप उससे निजात पा सकते हैं बिल्कुल सत्य है धन्यवाद आपके इस प्रश्न के लिए
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya bhaagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee uthal-puthal tham sakatee hai dekhie aadi is cheej ko aap sahee tareeke se lenge yadi sahee tareeke se aapake dimaag mein yah pravesh kar jaega jitane bhee bhaagavat jee mein bhagavaan ne upadesh die hain in saaree cheejon ko yadi apane jeevan ke mein thoda sa bhee abhee dhaaran karane kee aap kshamata rakhate hain to jaroor aapake jeevan mein jo uthal-puthal chal rahe hain jo soch vichaar chal rahe hain jo udhedabun mein aap padhe hue hain usako aap usase nijaat pa sakate hain bilkul saty hai dhanyavaad aapake is prashn ke lie

Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:25
आपने पूछा क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी उत्तर पुत्र थम जाती है बिल्कुल थम जाती है हंड्रेड पर्सन तक जाती मेरी जिंदगी में बहुत दूर भी तो था कैंसिल का अंतिम महीना तक नींद नहीं आती थी मैं नहीं श्री भक्ति सूफी गीता पढ़नी शुरू की तेजस्विता पढ़ते हैं शिव भक्ति करते हैं तो हमारी आत्मा करके उनके पास पहुंच जाती यह हमारी आत्मा मिताशी सकती है हम जैसे भी ध्यान करेंगे और जब करेंगे तो उनके पास पहुंच जाती है हर एक का हो जाए तो हमारी बात एक बार बारासत प्रस्ताव द्वारा शस्त्र नया भक्ति द्वारा ऐसे आपको संदेश पर जाएंगे जिससे आप अज्ञान मिता रे मिता रे हरे कृष्ण हरे कृष्ण कैसे भगवान के दर्शन कराते रहते हैं तो थोड़े से भी कोई संत से होता है ना खाते में 4 चलते हैं तो भगवान संदेश भेजो आते हैं अभी तेरे को मेरे पर विश्वास नहीं है हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे तो सच में भर्ती है इसमें कोई संशय नहीं है तो काफी ऑडियो अपलोड किए मैंने रोक ले है पर आप आ जाइए धोखे से मीठे यह है कि उनका नाम है तो आप वहां से सुने हरे कृष्ण हरे कृष्ण संस्कृत बार-बार पूछे इस पर तो 3 मिनट से ज्यादा बोल नहीं सकते तो अपना बंद हो जाएगा और कहते कहते बात पूरी नहीं होगी थोड़ा बहुत ज्यादा है तो मैं बोल कर लिखे पलों को फाउंडर है उनको कहना चाहता हूं इसमें कम से कम 30 मिनट का समय करें ताकि आज्ञा दी उपदेश दिया सोचकर से मिले तो कैसे मीठी पूरी तरह से प्रार्थना है कि 30 मिनट का समय के लिए हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण तेरी और तेरी
Aapane poochha kya bhagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee uttar putr tham jaatee hai bilkul tham jaatee hai handred parsan tak jaatee meree jindagee mein bahut door bhee to tha kainsil ka antim maheena tak neend nahin aatee thee main nahin shree bhakti soophee geeta padhanee shuroo kee tejasvita padhate hain shiv bhakti karate hain to hamaaree aatma karake unake paas pahunch jaatee yah hamaaree aatma mitaashee sakatee hai ham jaise bhee dhyaan karenge aur jab karenge to unake paas pahunch jaatee hai har ek ka ho jae to hamaaree baat ek baar baaraasat prastaav dvaara shastr naya bhakti dvaara aise aapako sandesh par jaenge jisase aap agyaan mita re mita re hare krshn hare krshn kaise bhagavaan ke darshan karaate rahate hain to thode se bhee koee sant se hota hai na khaate mein 4 chalate hain to bhagavaan sandesh bhejo aate hain abhee tere ko mere par vishvaas nahin hai hare krshn hare krshn hare to sach mein bhartee hai isamen koee sanshay nahin hai to kaaphee odiyo apalod kie mainne rok le hai par aap aa jaie dhokhe se meethe yah hai ki unaka naam hai to aap vahaan se sune hare krshn hare krshn sanskrt baar-baar poochhe is par to 3 minat se jyaada bol nahin sakate to apana band ho jaega aur kahate kahate baat pooree nahin hogee thoda bahut jyaada hai to main bol kar likhe palon ko phaundar hai unako kahana chaahata hoon isamen kam se kam 30 minat ka samay karen taaki aagya dee upadesh diya sochakar se mile to kaise meethee pooree tarah se praarthana hai ki 30 minat ka samay ke lie hare krshn hare krshn hare krshn krshn krshn teree aur teree

Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
1:22

Aarti Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aarti जी का जवाब
Teacher
1:05
क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो मेरे ख्याल से जब भी हम भगवत गीता पढ़ते हैं या कुरान पढ़ते हैं या गुरु ग्रंथ साहब पढ़ते हैं या बाइबल पढ़ते हैं या शिव पुराण पढ़ते हैं या गरुड़ पुराण पढ़ते हैं या कोई भी ऐसी धार्मिक किताबें पढ़ते हैं तो पढ़ते समय हमें उन में लिखी हुई चीजें अनायास हमारे आंखों के सामने एक चलचित्र की तरह दिखने लगते हैं और हमारा मन एक चित्त होकर शांतता शांतिपूर्ण वातावरण का अनुभव करता है और कहीं ना कहीं इन सब चीजों से हमारी जिंदगी में होने वाली उत्तल पुथल यानी कि जो हमारे सोच विचार हैं वह रुकते हैं और मैं थोड़ी सी लगाम लगती है तो ऐसा कहा जा सकता है कि भगवत गीता पढ़ने से या किसी भी अन्य धार्मिक संतो को पढ़ने से हमारे मन की उथल-पुथल थम सकती है
Kya bhagavat geeta padhane se sach mein man aur jindagee kee uthal-puthal tham sakatee hai to mere khyaal se jab bhee ham bhagavat geeta padhate hain ya kuraan padhate hain ya guru granth saahab padhate hain ya baibal padhate hain ya shiv puraan padhate hain ya garud puraan padhate hain ya koee bhee aisee dhaarmik kitaaben padhate hain to padhate samay hamen un mein likhee huee cheejen anaayaas hamaare aankhon ke saamane ek chalachitr kee tarah dikhane lagate hain aur hamaara man ek chitt hokar shaantata shaantipoorn vaataavaran ka anubhav karata hai aur kaheen na kaheen in sab cheejon se hamaaree jindagee mein hone vaalee uttal puthal yaanee ki jo hamaare soch vichaar hain vah rukate hain aur main thodee see lagaam lagatee hai to aisa kaha ja sakata hai ki bhagavat geeta padhane se ya kisee bhee any dhaarmik santo ko padhane se hamaare man kee uthal-puthal tham sakatee hai

Som Prakash Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Som जी का जवाब
Open to work
1:22
यह सभी लोग कहते हैं मेरा अभिमान है भगवान की तरह पढ़ने से हमारे मन में जो उथल-पुथल मची रहती है जो विचार आते रहते हैं जो कृष्ण जाते रहते हैं जो प्रश्न बनते हैं उसे पढ़ने से निश्चित रूप से हम सकती हमारे जिंदगी हिंदी लिटरेचर में आनंद आता है यदि आपको हिंदी लिटरेचर पड़े इंग्लिश लिटरेचर 9th पड़े उससे भी उनकी समस्याओं का निदान महाभारत भगवत गीता को पढ़ने से उसमें जो उद्देश्य उनका अनुसरण करने से कुछ हद तक यार काफी है तब आपको समस्याओं का समाधान मिल सकता है और कल बदल खत्म हो सकती हैं और अगर आपके पास भगवत गीता उपलब्ध नहीं है यदि आपके पास इतना क्या नहीं है क्या बस में लिखे हुए उपदेशों को अपनी लैंग्वेज में समझ सके तो आप किसी भी लिटरेचर को यदि आप चाइना में रख दो चाइनीस यूज कीजिए फॉर चाइनीस जापानीस किसी भी लैंग्वेज यूज कर रहे हैं इंग्लिश हिंदी आपने जो पढ़ने से भी आपकी जिंदगी में भी हो सकती है
Yah sabhee log kahate hain mera abhimaan hai bhagavaan kee tarah padhane se hamaare man mein jo uthal-puthal machee rahatee hai jo vichaar aate rahate hain jo krshn jaate rahate hain jo prashn banate hain use padhane se nishchit roop se ham sakatee hamaare jindagee hindee litarechar mein aanand aata hai yadi aapako hindee litarechar pade inglish litarechar 9th pade usase bhee unakee samasyaon ka nidaan mahaabhaarat bhagavat geeta ko padhane se usamen jo uddeshy unaka anusaran karane se kuchh had tak yaar kaaphee hai tab aapako samasyaon ka samaadhaan mil sakata hai aur kal badal khatm ho sakatee hain aur agar aapake paas bhagavat geeta upalabdh nahin hai yadi aapake paas itana kya nahin hai kya bas mein likhe hue upadeshon ko apanee laingvej mein samajh sake to aap kisee bhee litarechar ko yadi aap chaina mein rakh do chainees yooj keejie phor chainees jaapaanees kisee bhee laingvej yooj kar rahe hain inglish hindee aapane jo padhane se bhee aapakee jindagee mein bhee ho sakatee hai

Deepak Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deepak जी का जवाब
Bijnes
0:17

sumit kumar gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sumit जी का जवाब
Student
2:55

Pranav Mahajan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Pranav जी का जवाब
Unknown
2:49
नमस्कार दोस्तों यह बात बिल्कुल सही और सच्ची है कि श्री भगवत गीता जी को पढ़ने से वाकई में मन और इनकी की उथल-पुथल थम जाती है पर आना कि यह बात सही है पर जितनी तरह लगती है उतनी आसान नहीं है ऐसा इसलिए है क्योंकि भगवत गीता जी कोई एक किताब नहीं है जो बहुत लोगों को इस गलतफहमी है कि यह पुस्तक है कि ग्रंथ है नहीं जी मेरे हिसाब से ज्ञान का एक ऐसा सागर है जिसकी गहराई कितनी है यह हमें सीट आज तक किसी को पता ही नहीं है और ना हम उसको पूरी तरह समझ भी पाएंगे इसमें एक पहली बात है दूसरी बात जो अक्सर गलती लोगों से हो रही है हम इसको सिर्फ पढ़ने में अपना पूरा फोकस करते रहते हैं हमने यह श्लोक याद कर लिया यह बात पढ़ ली मैंने 10 बार गीता पढ़ ली 50 बार पढ़ ली वह मकसद नहीं है उसको पढ़ने में उस समझने में बहुत ज्यादा फर्क उर्दू भी आप देखेंगे जो लोग कुछ भी थोड़ा ध्यान से इस को पढ़ते हैं और जो समझते हैं आप हमेशा देखेंगे कि हर नई रीडिंग के बाद उनकी इंटरप्रिटेशन जो है वह बदलती जाती है यही इसकी ड्यूटी है और यही नहीं इसके आगे भी हमें एक कदम भरना है पहली बात आ गई पढ़ने की दूसरी बात आ गई समझने की तीसरी बात आ गई उसी को जिंदगी में अमल करने की एक और बहुत बड़ी बात है कि मांगी थी आपको एक उसके अंदर की बहुत बड़ी बात समझ में भी आ गई पढ़ना तो एक आपने किया आप को समझ में भी आप पहुंच गए पर जब उसको अमल में लाने की बात है तो आपकी इंद्रिया दिन के वश में जग जननी हम लोग रहते हैं हमें वह अमल नहीं करने देते तो अमल करना एक अनेक शिक्षक है तो पढ़ने के बाद उसको समझना समझने के बाद उसको अमल करना अमल करने के बाद नेक्स्ट स्टेप है कि जो आपके एक्सपीरियंस है उनकी अनुभूति करना उनका एहसास करना उस अमन के बाद अब इसलिए आपकी कुछ एक्सपीरियंस हो गए कुछ पॉजिटिव कुछ नेगेटिव कुछ कंफ्यूज थी इस तरह के एक्सपीरियंस इसको समझना एक्नेक्स बात है उन एक्सपीरियंस की लाइट में स्पायकल को एक बार फिर से चलाना यानी कि एक बार फिर से पढ़ना उस पढ़ाई के बाद नए ज्ञान की लाइट में फिर से समझना उस समय की लाइट में फिर से अमल करना उस अमल की लाइट में फिर से एक बार उनके एक एक्सपीरियंस इसको है इस पूरी साइक्लिकल प्रोसेस को जवाब करना शुरू करते हैं और धीरे-धीरे यह आपके उत्तम का एक इंसेपरेबल पार्ट बन जाती है तब एक ऐसी स्थिति आ जाती है जिसमें भगवान के आशीर्वाद से भगवत गीता जी के कारण उनका अध्ययन करने के कारण वह वाकई में आपकी जिंदगी की उथल-पुथल थमना शुरू हो जाती है धन्यवाद
Namaskaar doston yah baat bilkul sahee aur sachchee hai ki shree bhagavat geeta jee ko padhane se vaakee mein man aur inakee kee uthal-puthal tham jaatee hai par aana ki yah baat sahee hai par jitanee tarah lagatee hai utanee aasaan nahin hai aisa isalie hai kyonki bhagavat geeta jee koee ek kitaab nahin hai jo bahut logon ko is galataphahamee hai ki yah pustak hai ki granth hai nahin jee mere hisaab se gyaan ka ek aisa saagar hai jisakee gaharaee kitanee hai yah hamen seet aaj tak kisee ko pata hee nahin hai aur na ham usako pooree tarah samajh bhee paenge isamen ek pahalee baat hai doosaree baat jo aksar galatee logon se ho rahee hai ham isako sirph padhane mein apana poora phokas karate rahate hain hamane yah shlok yaad kar liya yah baat padh lee mainne 10 baar geeta padh lee 50 baar padh lee vah makasad nahin hai usako padhane mein us samajhane mein bahut jyaada phark urdoo bhee aap dekhenge jo log kuchh bhee thoda dhyaan se is ko padhate hain aur jo samajhate hain aap hamesha dekhenge ki har naee reeding ke baad unakee intarapriteshan jo hai vah badalatee jaatee hai yahee isakee dyootee hai aur yahee nahin isake aage bhee hamen ek kadam bharana hai pahalee baat aa gaee padhane kee doosaree baat aa gaee samajhane kee teesaree baat aa gaee usee ko jindagee mein amal karane kee ek aur bahut badee baat hai ki maangee thee aapako ek usake andar kee bahut badee baat samajh mein bhee aa gaee padhana to ek aapane kiya aap ko samajh mein bhee aap pahunch gae par jab usako amal mein laane kee baat hai to aapakee indriya din ke vash mein jag jananee ham log rahate hain hamen vah amal nahin karane dete to amal karana ek anek shikshak hai to padhane ke baad usako samajhana samajhane ke baad usako amal karana amal karane ke baad nekst step hai ki jo aapake eksapeeriyans hai unakee anubhooti karana unaka ehasaas karana us aman ke baad ab isalie aapakee kuchh eksapeeriyans ho gae kuchh pojitiv kuchh negetiv kuchh kamphyooj thee is tarah ke eksapeeriyans isako samajhana ekneks baat hai un eksapeeriyans kee lait mein spaayakal ko ek baar phir se chalaana yaanee ki ek baar phir se padhana us padhaee ke baad nae gyaan kee lait mein phir se samajhana us samay kee lait mein phir se amal karana us amal kee lait mein phir se ek baar unake ek eksapeeriyans isako hai is pooree saiklikal proses ko javaab karana shuroo karate hain aur dheere-dheere yah aapake uttam ka ek inseparebal paart ban jaatee hai tab ek aisee sthiti aa jaatee hai jisamen bhagavaan ke aasheervaad se bhagavat geeta jee ke kaaran unaka adhyayan karane ke kaaran vah vaakee mein aapakee jindagee kee uthal-puthal thamana shuroo ho jaatee hai dhanyavaad

Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Non
1:20
आज का सवाल बूटियां है क्या भगवत गीता पढ़ने से सच में मानव जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो यह बात सच है लेकिन उसके साथ में एक यह भी कहना चाहूंगा कि जब तक आप खुद पर रिप्लाई नहीं करेंगे खुद भगवत गीता को नहीं पड़ेगी तब तक आप नहीं समझ पाएंगे कि आपको कैसा महसूस होता है आप वक्त निकालकर के नियम पूर्वक अगर भगवत गीता पढ़ते ही तो आपको जरूर जिंदगी की तलाश हम सकती है आपको एक जीवन में नई प्रगति का रास्ता नहीं सकता है नहीं मैं रास्ते की तरफ आप बढ़ सकते हैं और जो भगवान श्री कृष्ण ने आपको भुलाने में वह अजीब नहीं लगता है तो वह भी अपने आप लग जाएगा किसी भी भगवान को आप चाय नहीं मानते हो तो उन्हें भी मारने लगेंगे भगवत गीता इतना पावरफुल है कि वह अपने पूरे जीवन की दशा दीन दशा को ही बदल सकता है आप चाहे आपकी भी किसी भी लेवल पर नहीं अगर आप उसे सच्चे मन से पढ़ते हैं तो आपकी पूरी दिन दिशा ही ठीक हो जाती है भगवत गीता पढ़ने से जहां तक माना जाता है कि मेरा दोस्त जो भी होगा आपकी कुछ पीड़ा हो तो वह भी ठीक होती है तो जो भी है अगर आप अगर दे तो पढ़ते हैं तो सच्चे मन से पढ़े पूरा उससे पहले नहीं बल्कि उसे अपने जीवन में उतारने की कोशिश करें वह आपको जरूर जरूर फायदा होगा तो थैंक यू धन्यवाद
Aaj ka savaal bootiyaan hai kya bhagavat geeta padhane se sach mein maanav jindagee kee uthal-puthal tham sakatee hai to yah baat sach hai lekin usake saath mein ek yah bhee kahana chaahoonga ki jab tak aap khud par riplaee nahin karenge khud bhagavat geeta ko nahin padegee tab tak aap nahin samajh paenge ki aapako kaisa mahasoos hota hai aap vakt nikaalakar ke niyam poorvak agar bhagavat geeta padhate hee to aapako jaroor jindagee kee talaash ham sakatee hai aapako ek jeevan mein naee pragati ka raasta nahin sakata hai nahin main raaste kee taraph aap badh sakate hain aur jo bhagavaan shree krshn ne aapako bhulaane mein vah ajeeb nahin lagata hai to vah bhee apane aap lag jaega kisee bhee bhagavaan ko aap chaay nahin maanate ho to unhen bhee maarane lagenge bhagavat geeta itana paavaraphul hai ki vah apane poore jeevan kee dasha deen dasha ko hee badal sakata hai aap chaahe aapakee bhee kisee bhee leval par nahin agar aap use sachche man se padhate hain to aapakee pooree din disha hee theek ho jaatee hai bhagavat geeta padhane se jahaan tak maana jaata hai ki mera dost jo bhee hoga aapakee kuchh peeda ho to vah bhee theek hotee hai to jo bhee hai agar aap agar de to padhate hain to sachche man se padhe poora usase pahale nahin balki use apane jeevan mein utaarane kee koshish karen vah aapako jaroor jaroor phaayada hoga to thaink yoo dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या भगवतगीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है भगवतगीता पढ़ने से जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है
URL copied to clipboard