#रिश्ते और संबंध

Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
1:22
देखिए ऐसा अक्सर काफी लोगों के साथ होता है कि वह तीन चार व्यक्तियों के सामने तो खुलकर अपनी बात रख सकते हैं लेकिन जैसे ही वह भीड़ के सामने कुछ बोलने की कोशिश करते हैं तो वह बिक जाते हैं और उनके हाथ पैर कांपने लग जाते हैं और मैं यह सोचते हैं कि सामने वाला क्या सोचेगा देखिए अगर वह यह समझे कि वह उन से अधिक बुद्धिमान है और उसका जवाब जो है वह दूसरों से अच्छा दे सकते हैं और लोगों को बेहतर समझा सकते हैं और इनसे लोग प्रेरित भी होंगे और खुद भी वह जो डर है वह काबू में ला सकते हैं अगर उनके अंदर यह बात यह भावना आ जाए तो वह अपनी जिंदगी में काफी आगे बढ़ सकते हैं देखें सबसे पहले जब भी कोई भी व्यक्ति स्टेज पर जाएं एक लंबी सांस लेकर यह सोचे कि मैं कर सकता हूं और यह मेरे लिए काफी मुश्किल बात नहीं है अगर वह यह दृढ़ निश्चय करके जाए कि वह किसी को कुछ समझाने की कोशिश कर रहा है या इससे लोगों का ही भला होगा लोग उससे प्रेरित होंगे अगर यह भावना अगर मैं मन में बैठा लेगा तो उसे थोड़ा समय लगेगा लेकिन वह हर व्यक्ति के सामने अपनी बात खुलकर कहेगा और सभा में चाहे स्टेज पर कहीं भी हो वह अपनी बात को आसानी से कह पाएगा धन्यवाद
Dekhie aisa aksar kaaphee logon ke saath hota hai ki vah teen chaar vyaktiyon ke saamane to khulakar apanee baat rakh sakate hain lekin jaise hee vah bheed ke saamane kuchh bolane kee koshish karate hain to vah bik jaate hain aur unake haath pair kaampane lag jaate hain aur main yah sochate hain ki saamane vaala kya sochega dekhie agar vah yah samajhe ki vah un se adhik buddhimaan hai aur usaka javaab jo hai vah doosaron se achchha de sakate hain aur logon ko behatar samajha sakate hain aur inase log prerit bhee honge aur khud bhee vah jo dar hai vah kaaboo mein la sakate hain agar unake andar yah baat yah bhaavana aa jae to vah apanee jindagee mein kaaphee aage badh sakate hain dekhen sabase pahale jab bhee koee bhee vyakti stej par jaen ek lambee saans lekar yah soche ki main kar sakata hoon aur yah mere lie kaaphee mushkil baat nahin hai agar vah yah drdh nishchay karake jae ki vah kisee ko kuchh samajhaane kee koshish kar raha hai ya isase logon ka hee bhala hoga log usase prerit honge agar yah bhaavana agar main man mein baitha lega to use thoda samay lagega lekin vah har vyakti ke saamane apanee baat khulakar kahega aur sabha mein chaahe stej par kaheen bhee ho vah apanee baat ko aasaanee se kah paega dhanyavaad

और जवाब सुनें

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:56
तुम्हारा दोस्त है बहुत अच्छा बोल लेता है ठीक है तुम्हारे दोस्त मुझे भी है मैं भी यही है कि मैं लोगों के सामने कभी नहीं बोला था पहले तो उसकी यादें डलवाओ अच्छे दोस्तों को बुलाओ और उनके सामने बोला ठीक है पहली बात तो हमें इतने की आदत नहीं होती हम तो उन्होंने बोला है सामने खुल के बोल पाता क्योंकि वह उसके दोस्त के दोस्त नहीं है नजरों से नहीं देखता हूं पैदा हो जाती है मन में खोल कर देखो प्रेक्टिस से इंसान बनता है उसकी हेल्प करो बहुत ज्यादा तभी वह सब लोगों के सामने बोल पाएगा यह सब कुछ जवाब चाहते हैं
Tumhaara dost hai bahut achchha bol leta hai theek hai tumhaare dost mujhe bhee hai main bhee yahee hai ki main logon ke saamane kabhee nahin bola tha pahale to usakee yaaden dalavao achchhe doston ko bulao aur unake saamane bola theek hai pahalee baat to hamen itane kee aadat nahin hotee ham to unhonne bola hai saamane khul ke bol paata kyonki vah usake dost ke dost nahin hai najaron se nahin dekhata hoon paida ho jaatee hai man mein khol kar dekho prektis se insaan banata hai usakee help karo bahut jyaada tabhee vah sab logon ke saamane bol paega yah sab kuchh javaab chaahate hain

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:34
तुम्हारे मित्र की हालत वैसी ही है जैसा कि बहुत से लोगों को तुमने देखा है कि वह दिखता बाथरूम में नहाते हैं जब बाथरूम में गाने गाते हैं तो बाथरूम में जो गाने गाते हैं तो वह अच्छा गा लेकिन जैसे ही वह कैसी बाहर किसी समारोह में यह किसी कार्यक्रम में जब लोगों के समक्ष गाने कौन को प्रस्तावित किया जाता है तब भी नहीं खा पाते हैं इसका मेन कारण है एलिटरेशन साइकोलॉजी कहती है कि ऐसे लोग जो होते हैं वह अंतर्मुखी होते हैं भाई मुख्य नहीं हो पाते हैं जबकि पर मुखी जो प्रवृत्ति के लोग होते हैं वह गायक कहीं भी स्टेज पर गा सकते हैं वे लोग 25 * अच्छा अच्छा नहीं लगा सकते हैं लेकिन लोगों की भीड़ देखकर बहुत अच्छा गाते हैं क्योंकि उन्हें ब्लड देकर गाने कब होता है बहिर्मुखी पर भर्ती होती है ऐसे लोगों को बोलने में शंका नहीं होती है ऐसे ही अरे आपके मित्र को तो अनपढ़ नेताओं से सीख लेनी चाहिए कि एक अनपढ़ लेता हजारों की भीड़ को कितनी जल्दी अपनी बात शैली के द्वारा झूठे साक्ष्य आंकड़े बता कर के और प्रभावित कर लेता है तो क्या तुम्हारा दोस्त उनसे भी नहीं सीखना चाहिए और अपने टैलेंट को व्हाट्सएप करने की क्षमता है बनानी चाहिए
Tumhaare mitr kee haalat vaisee hee hai jaisa ki bahut se logon ko tumane dekha hai ki vah dikhata baatharoom mein nahaate hain jab baatharoom mein gaane gaate hain to baatharoom mein jo gaane gaate hain to vah achchha ga lekin jaise hee vah kaisee baahar kisee samaaroh mein yah kisee kaaryakram mein jab logon ke samaksh gaane kaun ko prastaavit kiya jaata hai tab bhee nahin kha paate hain isaka men kaaran hai elitareshan saikolojee kahatee hai ki aise log jo hote hain vah antarmukhee hote hain bhaee mukhy nahin ho paate hain jabaki par mukhee jo pravrtti ke log hote hain vah gaayak kaheen bhee stej par ga sakate hain ve log 25 * achchha achchha nahin laga sakate hain lekin logon kee bheed dekhakar bahut achchha gaate hain kyonki unhen blad dekar gaane kab hota hai bahirmukhee par bhartee hotee hai aise logon ko bolane mein shanka nahin hotee hai aise hee are aapake mitr ko to anapadh netaon se seekh lenee chaahie ki ek anapadh leta hajaaron kee bheed ko kitanee jaldee apanee baat shailee ke dvaara jhoothe saakshy aankade bata kar ke aur prabhaavit kar leta hai to kya tumhaara dost unase bhee nahin seekhana chaahie aur apane tailent ko vhaatsep karane kee kshamata hai banaanee chaahie

Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:58
बहुत व्यक्तिगत व्यक्तिगत क्वेश्चन मुझे लग रहा है कि मेरा एक दोस्त है वह हर सवाल का जवाब देने में सक्षम है तीन चार व्यक्तियों के सामने बोल पाता है लेकिन जब किसी सभा में आ जाता है तो वह बोल नहीं पाता तो देखिए खरीदनी है कि मुझे वह तीन चार लोगों के सामने बोल पाता है वह तीन चार लोग उनके अपने होंगे जैसे उनके दोस्त हो सकते हैं उनकी फैमिली को प्रसन्न हो सकते हैं उनकी रिलेटिव हो सकते हैं ठीक है या कॉलेज में हम जिनके साथ हैं उनके सामने वह बोल पाता होगा पर सभा में ऐसा नहीं होता सभा में बहुत लोग होते हैं जिन्हें हम जानते हैं वह भी होते हैं नाम नहीं जानते वह भी होते हैं तो हमें हमें डर इस बात का लगता है हम नर्वस इस बात पर होते हैं कि दूसरा इंसान क्या कुछ ऐसा ना हो कि हमें गलती पकड़ ले या मिस ट्यूसडे कुछ ना कुछ समझा रहे हो कुछ बोल रहे हो तो ऐसा ना हो कि मैं खुद भूल जाए या कोई लाइंस पहुंच जाएं या कुछ ऐसा बोल दिया कुछ ऐसी गलती कर दें इस दूसरों को पॉइंट मजा दूसरा मरा मजाक बनाए यह दूसरा बोले कि यार तूने तो वह गलती कर दी इस चीज को भूल नहीं पाया तो आजकल ना इंसान थोड़ा फेलियर से डरता है और ऐसा नहीं है कि आपके फ्रेंड के साथ होता है कि सबके साथ होता है ठीक है मुझे ध्यान है जब मैंने फर्स्ट टाइम स्टेज पेश किया था मैंने जो बोला था मेरी सीनियर ने एक कॉन्फ्रेंस मुझे चांस मिला था बोलने का और उस चीज मुझे उस जगह पर उस कॉन्फ्रेंस पर बहुत लोग थे मतलब और 100 से ज्यादा लोग थे पहली बार सौ से ज्यादा लोगों के सामने बोल पाना बाकी ठीक मम्मी बहुत बड़ी चीज थी मेरे लिए मुझे समझ में नहीं आ रहा था मैं क्या करूं कैसे बोलूं ठीक है अब वह एक कॉरपोरेट सेक्टर था कॉर्पोरेट सेक्टर के लोग थे उनमें अधिकारी से लेकर नीचे जूनियर असिस्टेंट महाकाली पर है सर मुक्त है तुम मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं और कैसे बोलूं कैसे उसको फेस करूं ऑडियंस को और जब मैंने मुझे जाने की मैंने उनके सामने बोला स्टार्ट किया जो मेरी प्रेजेंटेशन थी मैंने प्रेजेंटेशन देना मैंने प्रेजेंटेशन बना लिया था मैंने प्रेजेंटेशन देना स्टार्ट किया स्टेज शो बोलना स्टार्ट क्या तुम मुझे आज भी ध्यान है कि पहली बार जब मैंने बोला तो मैंने मैंने यह सोचा कि यह जितने भी लोग हैं कि सब बेवकूफ है जो भी इंसान नॉलेज है जो भी जिसको भी नॉलेज है जो बुद्धिमान है वह मैं हूं मैंने यह सोच के बोलना स्टार्ट क्या बोलना स्टार्ट करोगे ना तब आप आपके फ्रेंड की जो एक्सप्लेन है वह बहुत अच्छे से करेगा उसको लगेगा कि यह सब सामने बैठी है बच्चे इनको मुझे सिखाना है मैं टीचर हूं जिस एटीट्यूट के साथ बोलेगा तो बोल पाएंगे हालांकि स्टार्टिंग में कुछ ना कुछ ऐसा होगा जैसे मेरे भी जब मैं कर रही थी तो मेरे भी पैर थोड़ा कहां पर है थे क्योंकि एक बार में फर्स्ट टाइम पर 100 से ज्यादा लोगों के समय बोल पाना बहुत बड़ी बात होती है पठान धीरे-धीरे धीरे-धीरे करते-करते आप ही एक टाइम नहीं आया जब मैं किसी के भी साथ
Bahut vyaktigat vyaktigat kveshchan mujhe lag raha hai ki mera ek dost hai vah har savaal ka javaab dene mein saksham hai teen chaar vyaktiyon ke saamane bol paata hai lekin jab kisee sabha mein aa jaata hai to vah bol nahin paata to dekhie khareedanee hai ki mujhe vah teen chaar logon ke saamane bol paata hai vah teen chaar log unake apane honge jaise unake dost ho sakate hain unakee phaimilee ko prasann ho sakate hain unakee riletiv ho sakate hain theek hai ya kolej mein ham jinake saath hain unake saamane vah bol paata hoga par sabha mein aisa nahin hota sabha mein bahut log hote hain jinhen ham jaanate hain vah bhee hote hain naam nahin jaanate vah bhee hote hain to hamen hamen dar is baat ka lagata hai ham narvas is baat par hote hain ki doosara insaan kya kuchh aisa na ho ki hamen galatee pakad le ya mis tyoosade kuchh na kuchh samajha rahe ho kuchh bol rahe ho to aisa na ho ki main khud bhool jae ya koee lains pahunch jaen ya kuchh aisa bol diya kuchh aisee galatee kar den is doosaron ko point maja doosara mara majaak banae yah doosara bole ki yaar toone to vah galatee kar dee is cheej ko bhool nahin paaya to aajakal na insaan thoda pheliyar se darata hai aur aisa nahin hai ki aapake phrend ke saath hota hai ki sabake saath hota hai theek hai mujhe dhyaan hai jab mainne pharst taim stej pesh kiya tha mainne jo bola tha meree seeniyar ne ek konphrens mujhe chaans mila tha bolane ka aur us cheej mujhe us jagah par us konphrens par bahut log the matalab aur 100 se jyaada log the pahalee baar sau se jyaada logon ke saamane bol paana baakee theek mammee bahut badee cheej thee mere lie mujhe samajh mein nahin aa raha tha main kya karoon kaise boloon theek hai ab vah ek koraporet sektar tha korporet sektar ke log the unamen adhikaaree se lekar neeche jooniyar asistent mahaakaalee par hai sar mukt hai tum mujhe samajh mein nahin aa raha tha ki main kya karoon aur kaise boloon kaise usako phes karoon odiyans ko aur jab mainne mujhe jaane kee mainne unake saamane bola staart kiya jo meree prejenteshan thee mainne prejenteshan dena mainne prejenteshan bana liya tha mainne prejenteshan dena staart kiya stej sho bolana staart kya tum mujhe aaj bhee dhyaan hai ki pahalee baar jab mainne bola to mainne mainne yah socha ki yah jitane bhee log hain ki sab bevakooph hai jo bhee insaan nolej hai jo bhee jisako bhee nolej hai jo buddhimaan hai vah main hoon mainne yah soch ke bolana staart kya bolana staart karoge na tab aap aapake phrend kee jo eksaplen hai vah bahut achchhe se karega usako lagega ki yah sab saamane baithee hai bachche inako mujhe sikhaana hai main teechar hoon jis eteetyoot ke saath bolega to bol paenge haalaanki staarting mein kuchh na kuchh aisa hoga jaise mere bhee jab main kar rahee thee to mere bhee pair thoda kahaan par hai the kyonki ek baar mein pharst taim par 100 se jyaada logon ke samay bol paana bahut badee baat hotee hai pathaan dheere-dheere dheere-dheere karate-karate aap hee ek taim nahin aaya jab main kisee ke bhee saath

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सभा में खुलकर आने के उपाय, मन में डर लगना, मंच पर बोलने की कला
URL copied to clipboard