#भारत की राजनीति

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:23
क्वेश्चन है सरकार जो सड़कें बनाने का दावा कभी यूज क्यों नेता के अनुसार वह कितने साल की है लेकिन अभी ऐसे गुणवत्ता जब उन्होंने उस नाग बनती है सब बहुत अच्छी लगती है कि हां यह चलेगी लेकिन तेरी समझ में आती अभी आपका महीने बाद ही समझ पाएगी तू बता कैसी क्या है और आगे की सीट आएगी

और जवाब सुनें

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
3:53
हेलो गूगल आई होप आप सब ठीक होंगे अगर आपका स्वागत है तो सरकार बनाने का दावा कर रही है उसकी बहन संसार में कितने साल लगेंगे देखिए पहले आप को समझना पड़ेगा कि जल्दी आने जाने की सरकार जो है कि तू कोई भी प्रोजेक्ट ब्लॉक करती है जाने की कोई प्रोजेक्ट की टेंडरिंग करते हैं उसके बाद कंपनी अलग-अलग कंपनी जो होती है जो रेपुटेड कंपनी है वह अपनी वीडियो डालते हैं तो लोगों पर या उसी हिसाब से जो है ना चाहिए इसको चेक करते सेलेक्ट करके कौन सी कंपनी है जो अच्छी है जो काफी टाइम से काम कर रही है और उसकी रेट भी अच्छा है तो उसी हिसाब से पूछ कुछ अलग करते हैं तो मुझको वह कुछ ठंडा बोल कर दिया पूजा करने बाद एक डेट डिसाइड होती है कि यह प्रोजेक्ट का ऐस्टीमेटेड टाइम हो राजकोट कितने अंदर होना चाहिए और इसके बाद यहां पर मुझे माइलस्टोन की बात कर रहा हूं कि मालिक तो नहीं होता है जैसे 80 किलोमीटर का रोड जसनगर मानसून रखे जाते हैं तो उस मान लीजिए 20 किलोमीटर का पहला मैच दोनों कंपनी समय से पहले जो का टाइम होता है उससे पहले कर लेता उसको बोनस मिलता है लेकिन साथ साथ में उसकी गुणवत्ता चेक करने के लिए गवर्नमेंट है जाने की एनएचआई होगा अपने जो थर्ड पार्टी क्लांस होते हैं उनको रखती है और उनका यह कहां होता है कि साइट पर कुछ भी मटेरियल डिस्पैच होता है जो प्लांट से कोई मीटिंग हो जाता है पहले इसकी गुणवत्ता चेक करके उसकी टाइम चेक करती है उसी हिसाब से हो पास करती हो तब वह रोड पर जाकर लगता है उसके बाद जब रोड बन जाए तो उसके बाद एक और कटिंग होती जाने की कोई अगरतला अपने जोहर डामर बिछाया जाता है उसके बाद उसके कोर कटिंग चलकर जाती है कि कितने टाइम तक वह तो कितने फ्रेंड है उससे पहले जो रोड के ऊपर है जो अरुंडेल बनाया जाता है बैटिंग बनाई जाती है उसके बाद अलग-अलग डिजाइन पत्थर बिछाए जाते हैं उसके बाद उनकी वीडियो स्टैंड से नापी जाती है हम उसी हिसाब के बाद उनको जो है अथॉरिटी मिलती है उस चीज को करने के लिए जब वह कंप्लीट कर लेती है इस चीज को तब वह रोड पर बन जाता है अब रोड का जमाली जिसमें पूरा का पूरा काम खत्म करते हैं लेकिन उसके बाद भी गवर्नमेंट ने उसको अलाउड कर रखा था कि आपके टीम जो है 5 साल के लिए जो भी उनको वहां पर जाकर रोड टैक्स है तो हम तो लगेंगे तो एक मेंटेनेंस तीन जगह से कंपनी की मिठाई जाती है वह मेंटेन स्टिंग्स अगले 10 से 15 साल तक वही रहती है अगर रोड पर कोचिंग या किसी चीज की कोई सूरत है रोड पर हादसा होता है कोई जानवर पशु मुझे तो बहुत सारी सारी टीम में डॉक्टर भी होते हैं जो पैरामेडिकल स्टाफ है वह होता है साथ में इंजीनियर की भी होते हैं और उज्जवल के रखरखाव के लिए ज लाइटों के लिए ऑफिस में रखे जाते हैं जरूरतों को पसंद है तो उसको उठाने के लिए अलग से एंबुलेंस भी होती हैं और एक पेट्रोलिंग के थे जो 24:00 से 1:00 जो है पेट्रोल करती रहती है चेक करते रहते कि सबकुछ रो रो के हैं और उसी हिसाब से करते बाकी अगर हम गुणवत्ता की बात करें तो देखे गुणवत्ता मटेरियल लगाया जाता है मटेरियल दिया जाता है तू डॉक्टर दीपक गवर्नमेंट अथॉरिटीज के साथ ही रहती है जब भी वह कोविड-19 लगाते हैं उसकी पूर्णता है जांच की जाती है जब जांच को खराब करती है तभी को पास किया था तभी उसका इलाज किया जाता है तू जितना एक किसी भी रोड का जो टाइम पीरियड गवर्नमेंट रखा था वहां तक वह उसको देखते उसके बाद यह मेंटेनर्स टीम है जो कंपनी को फ्रेंडों को देती हो जो उसकी बीवी होती है उसी हिसाब से को सुमन टेंस कैसे काटते हैं तो देखिए गवर्नमेंट का पूरा अधिकार है तो उसकी पूरी देख तक रखा है आप करती है अगर रोड में कुछ ऐसा ही होता है उसका पूर्णता जिम्मेदारी ज्योति वह उसी कंपनी की होती है जो उसको बनाती है तो यह कुछ अन्य महत्वपूर्ण है जो मैंने आपको बताया आशा करता हूं जानकारी आपको पसंद आए तो लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:38
नमस्कार दोस्तों से वाले सरकार को जो सड़कें बनाने का दावा कर रही है उसकी गुणवत्ता के अनुसार वह कितने साल तक टिकेगी दे दो जो भी चीज होती है और कमेंट जो है अब कितने साल के थे यह तो एग्रीमेंट के आधार पर होता है उसमें 20 साल 25 साल जितना होता है उतना जो है दोस्तों एग्रीमेंट ठेकेदार द्वारा किया जाता है जो सरकार मानती है कितने साल झुकती है यह निर्भर करता है कुछ एग्रीमेंट के आधार पर होती रहती है

Harshit kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Harshit जी का जवाब
Student
0:50
बहुत ही अच्छा प्रश्न है जो अक्सर सभी नागरिकों के मन में उठती है अगर हमारे उत्तर से किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचती है तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं लेकिन सरकार तो अपनी कितना पैसा पास करती है अगर उतना पैसा लगाकर अगर किसी भी सड़क का निर्माण किया जाए तो उसकी गुणवत्ता बहुत अधिक की होगी लेकिन जो सड़क बनाने का जो जिसको टेंडर मिलता है वह लोग उस पैसे का सही ढंग से उपयोग नहीं करते हैं और आधा पैसे बचाने के चक्कर में वह खराब चढ़कर बना देती है जिससे उसकी गुणवत्ता काफी कमजोर हो जाती है और वह 5 साल क्या वह 1 साल भी नहीं टिक पाती है थैंक यू

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:51
गुड इवनिंग सवाल यह है कि सरकार जो सरकार बनाने का दावा कर रही है उसकी गुणवत्ता के अनुसार वह कितने साल टिकेगी देखिए यह तो गुणवत्ता जो है होती है जो सड़कें बनाई जा रही है सरकार सरकार के द्वारा सरकार के द्वारा ग्राम मध्यम तो ही है सरकार रही बनवा रही है लेकिन उसका टेंडर दिया जाता है वह ठेके पर बनता है मतलब कोई-कोई लोग ठेका देता है मैं लेता है मुझे बड़ी-बड़ी कंपनियां भी लेती हैं कोई व्यक्तिगत लोग भी लेते हैं और उसको बनाते हैं तो वह लोग बनाते हैं तो उसकी गुणवत्ता निश्चित रूप से उतनी अच्छी नहीं होती कभी कहीं कहीं होती है लेकिन ज्यादातर जगहों को मैंने देखा है कि वह सड़कें बड़ी जल्दी टूट जाती है और लोग कभी-कभी तो 15 दिन 20 दिन महीने दिन के अंदर ही टूटने लगती ऐसा भी देखा गया तो उसका क्या कारण है और कहीं-कहीं सड़कें अच्छी बनती है लेकिन जितने खर्च किए जाते हैं उसके अनुसार वह नहीं बनती कैंसर की गुणवत्ता नहीं होती है तो कितने साल टिकेगी साल का तो बात ही नहीं है मैं तो महीने की भी बात कर रहा है कितने महीने टेकेगी यह भी नहीं कहा जा सकता हां उसके लिए यह नियम बनाया गया है कि उसको जो है आपको 3 साल या 5 साल तक उसको मेंटेन करना है उसी कंपनी को जो लोग बना रहे हैं उनके जिम्मे ही होता है तो उसको मेंटेन करके रखना है 3 साल शायद है या 5 साल है ऐसे करके कि इतने सालों तक टूटना नहीं चाहिए या नहीं वह मरम्मत करते रहते हैं बीच-बीच में यही होता बस यही स्थिति थैंक यू

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
0:44
सरकार जो सड़कें बनाने का दावा कर रही है उसकी गुणवत्ता के अनुसार वह कितने साल तक टिकेगी तो अधिकतर जगह पर तो यही देखा गया है जहां पर भी करप्शन होता है वहां पर भी सरकार अपेसेल आती है उसके बाद में जो सांसद विधायक होते विधानसभा क्षेत्र में जो उनकी विधायक होंगे वह कांटेक्ट निकालते हैं कांटेक्ट में को कम आते हैं उसके बाद ओं कांट्रैक्टर होता है वह हर चीज में ऐसी मिलावट करता है कि जिससे साल की जो वह सड़के हैं साल भरी जा सके साल दर साल में उनकी परखच्चे उड़ जाए और उसके बाद फिर से ट्रेन दिल्ली के लिए और फिर से विधायक टेंडर पास करें यह जो भी अधिकारी हैं वह कृपा करें और उसमें कांटेक्ट फिर से मौत करें इस तरह से कोई खेल चलता रहता है तो साल डेढ़ साल 2 साल से ज्यादा जो ऐसी छोटी मोटी लड़की होती हैं वह चलती नहीं है राजमार्ग होते हैं वह काफी दिनों तक चले जाते हैं धन्यवाद

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
7:30
सरकार की सड़कें बनाने का दावा कर रही है उसकी कोटा के अनुसार व्यक्ति अपने तांत्रिक होगी हमने देखा है कि केंद्र सरकार ने जहां जहां सड़कों के निर्माण की बात की है वह बिल्कुल पूर्ण के आंखों के लिए क्योंकि मैंने कई अच्छी संवाद सुनने हैं जो केवल जुमले साबित हुए कई मैंने परियोजनाओं का गठन किया है जो केवल दिवा स्वप्न में किसी एक इमारत को बहुत खूबसूरत बना देना या किसी एक के स्टेशन को बहुत सुंदर बना देना इस बात का प्रतीक नहीं है कि भारतीय रेलवे में सुधार आ गया रेलवे की रेलगाड़ियों की चाय बढ़ा देना और स्टेशनों से चम्मच सुविधाएं छीन लेना कि आपको स्टेशन पर पानी ना मिले खाने पीने की व्यवस्था ना मिले इन सब चीजों से ट्रेन में यात्रा करने वाला कोई बीमार व्यक्ति हो सकता है कोई बच्चा हो सकता है कोई बुरा हो सकता है कोई ऐसा हो सकता है जब स्टेशनों पर खाने पीने की व्यवस्था होती थी तो लोगों की लोग मदद कर देते थे लेकिन ऐसी स्थिति में आज कौन बजट करेगा क्योंकि 10 मिनट 2 मिनट के लिए रूकती है और स्टेशन पर कुछ है नहीं ट्रेन में खाने पीने की कोई व्यवस्था है नहीं आप बताइए अच्छी तरह से मैंने देखा है जहां-जहां चरखी में नहीं है जान जान हाईवे मुनि वह हाईवे उत्तर की एक बरसात नहीं मिल पाती है इस बरसात मन के पंछी उड़ जाते हैं जगह-जगह गड्ढे बन जाते हैं आपको यकीन नहीं है काश बोलकर पैसा कोई प्रबंध होता कि हम उन सड़कों की वीडियो बनाकर जनमानस तक पहुंचा सकते अधिकार 3638 तारीख को बनी थी और इतने दिन बाद इन सड़कों का यह सौंदर्यीकरण होंगे वही हाल सड़कों का होगा जो स्वच्छ भारत अभियान का हुआ है स्वच्छ भारत अभियान पर करीब-करीब पाठक ने आप यकीन नहीं मानेंगे 25 हजार करोड़ रुपए एक बार में खर्च किए और 61000 करोड रूपए सरकार ने उसकी सुंदरीकरण पर खर्च किए और आज तक भारत की तस्वीर आप जिधर भी उठा कर देखिए आपको देखने को मिल जाएगी मैंने देखा कि प्राया सच बात को लोग सुनना पसंद नहीं करते और ना ही स्वच्छ बात और सच बात को लोग बुद्धिमान की या समझदारी की आईने से देखना भी पसंद नहीं करते उन चीजों को पसंद करते हैं जो वतन साथियों क्योंकि आपको मालूम है हजार हजार अचार्य रामचंद्र शुक्ला महावीर प्रसाद द्विवेदी और हजारी प्रसाद द्विवेदी श्यामसुंदर जान अयोध्या चुनरी लोक गीत कवि और लेखक थे मुंशी प्रेमचंद जिन्होंने पूरी जिंदगी साहित्य में आलोचना और समालोचने कि आज पूरा संसार पूरा भारत वर्ष उनकी ज्ञान का धरोहर है उनका ज्ञान हम सबके लिए धरोहर है और हम उनके ज्ञान की उनकी लेखन शैली से उनके विचार शैली से हम लोग बिल्कुल कम से कम हम प्रभावित तो मैं आलोचना नहीं मैं समालोचना और सत्य बात आपके सामने रख रहा हूं फिर गुणवत्ता के आधार पर या ठेकेदारी के आधार पर या सरकार की नीतियों के आधार पर जो कुछ आप देखने की सड़कें अधिकतम 2 वर्ष जेल में तो शुक्रगुजार एवं सरकार का इतना भगवान की कोई भूमिका नहीं है हम भगवान को धन्यवाद क्योंकि जो हालात देश में इस समय महंगाई के चार यकीन मानिए मुद्रास्फीति महंगाई के बढ़ने को का बहुत बड़ा कारण होती है प्रदेश में धन की कमी नकदी की कमी आर्थिक समस्याओं को जोड़ दे रख देती है धन की कमी होने पर कैची है मुद्रा का संकुचन है लेकिन यहां मुद्रा है ही नहीं तो क्या तुम उतरा परेशान हो क्या मुद्रा संकुचन जहां इंसान 8 घंटे 10 घंटे कार्य करके अपने दिन का जो रोजगार के माध्यम से एकत्रित चलाते हैं ज्यादा आज 16 घंटे काम करके भी आवश्यकताओं की पूर्ति संभव है आप बताइए क्योंकि काम नहीं है ऐसे हालात में एक अच्छी सरकार को सबसे पहले किसी भी क्षेत्र में हर व्यक्ति को रोजगार देने का कदम उठाना चाहिए चित्रकार की मृत्यु होती है यकीन मन्ना उनके द्वारा बनवाए गए चाहे वह पढ़ाई करो चाहे लड़कियां चाहिए लड़कों की लड़कियों की नालों की सफाई हो निश्चित रूप से वह गुणवत्ता के आधार पर बहुत बहुत अच्छी हो

neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
I am nurse
2:16
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार मैं आपकी दोस्त मिला था और आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर वन सवाल-जवाब को कॉल करें कि सरकार जो सरकी बनाने का दावा कर रही है एनसीपी प्रवक्ता के अनुसार होती सितारों की खेती से दूध पिया करना नामुमकिन है क्योंकि देखिए जो भी सरकार आती है वह अपने देश की अपने देश को आगे बढ़ाने के लिए नहीं करता का बनाने का लोन पास करती है उसे पारित करती है परंतु वह बताता है कि पार्टी के विधायक होते हैं जो भी लोग होते हैं अपने तो अपने होते हैं उनके साथ पूर्व प्राथमिक स्तर का किया जाता है और जो लोग लेते हैं तो इसमें उनको कमा लेते हैं उसके बाद जो लोकन प्राप्त होते हैं वह लोग उसमें मिलावट करके करके बनाता है बहुत सारे पैसे अपने पास हम लेते हैं और मिलावटी करके मिलावट करके उसको को ऊपर से देखना उसके साथ ऐसा उस पर पेंट कर देते हैं सारे पुराने घर पर जाकर खत्म करके उसे चली नया बना दिया जाए उस तरफ से उनको रूपरेखा बनाने थे लेकिन जब उसे फिर से गाड़ियां चलने लगती है 2 महीने के बाद ही उसके आने लगती है कि वह कितना उसमें कितना अच्छा होता है उसको नया साल में तो उसकी हालत ऐसी हो जाती है मतलब आप पहचाने नहीं सकते हो कि साल भर पहले वह सड़क बनाई गई किसी को चाहे किसी का भी सरकार काल में किसी के भी राजस्थान में यही सब होता है और यह चलता आ रहा है यह चलती है तो हमारी अनुसार अगर देखा जाए तो गुणवत्ता हिंदी में कैसे बात करते हो तो सड़क बनने के लिए एक महीने बाद पता चल जाती है कि किस तरह की तो ऐसा कुछ भी नहीं होता है अच्छी चीजें नहीं होती है हर जगह मिला होता तो हमारा हर जगह मिलावट इंग्लिश में और उसमें दावत के अनुसार के सारे होगा

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • sarkar dwara bnai gyi sadak ki gunvatta kaisi hai, sadakon ki gunvatta kaise pta karte hai
URL copied to clipboard