#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है?

Vishvas Aur Andhvishvas Mein Antar Kis Prakar Samjha Ja Sakta Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:48
फालतू वाले विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है निश्चित रूप से प्रकाश होता विश्वास का मतलब यह होता है कि हमने आपसे कोई भी बात बताइए अभी कोई भी चीज आपको दिए हम लोग कोई भी आपसे गुप्त बात बताएं कि निश्चित तौर पर हम ने यह कहा कि भाई प्लीज बहुत किसी को नहीं बताना तो निश्चित तौर पर अगर किसी को नहीं बताते हैं तो हो गया विश्वास दूसरी तौर पर कोई भी कार्य कर रहे हैं आपसे मदद मांग रहे हमें विश्वास है कि आप बदल देंगे क्रमश चौथे और आप मदद देते हैं तू भरोसा विश्वास नहीं कि आप हमें हमारे विश्वास पर खरे उतरे हैं उसके से भी कमला बांध विश्वास किया होता है कि मैंने तो समाज में विद्यमान ऐसे सिंबल लोगों को मानते हो जो असल जिंदगी में सच नहीं है उसे कहते हैं अंधविश्वास जैसे हो गया मतलब कोई भी आपने अक्सर देखा होगा कि मतलब कोई ज्योतिषी आते हैं तो लोग उसे अपना हाथ दिखाते हैं तो निश्चित तौर पर क्या होता है कि वहां पर देखा बता कैसी सी चीज है तो निश्चित तौर पर लोग मान लेते हैं कि हां ऐसे ही चीज है लेकिन निश्चित तौर पर क्या होता है कि वह मुझे बिल्कुल साफ नहीं होता है कि वह कमाने खाने का एक नजरिया है जो कमाता खाता है और यहीं हो गया अंधविश्वास बाकी और दूसरा अंधविश्वासी लोग भी अपनी पुरानी परंपराओं पर मनमानी करने का मतलब यह है कि लोग मानते हैं कि ऊपर वाला सब देख रहा है और यह निश्चित तौर पर हमारे हिसाब से कोई फर्क नहीं है ऊपर से कोई नहीं देख रहा है जो कुछ करते हैं तो आप मतलब आप ही देखते हैं और जब जिसके सामने करते हो वह देखता है तो हमारे सब से यही होगा उसका उत्तर बाकी आप लोगों अलग-अलग उत्तर दे सकते हैं तो मैं करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा अगर अच्छा लगे तो प्लीज लाइक करें सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Phaalatoo vaale vishvaas aur andhavishvaas mein antar kis prakaar samajha ja sakata hai nishchit roop se prakaash hota vishvaas ka matalab yah hota hai ki hamane aapase koee bhee baat bataie abhee koee bhee cheej aapako die ham log koee bhee aapase gupt baat bataen ki nishchit taur par ham ne yah kaha ki bhaee pleej bahut kisee ko nahin bataana to nishchit taur par agar kisee ko nahin bataate hain to ho gaya vishvaas doosaree taur par koee bhee kaary kar rahe hain aapase madad maang rahe hamen vishvaas hai ki aap badal denge kramash chauthe aur aap madad dete hain too bharosa vishvaas nahin ki aap hamen hamaare vishvaas par khare utare hain usake se bhee kamala baandh vishvaas kiya hota hai ki mainne to samaaj mein vidyamaan aise simbal logon ko maanate ho jo asal jindagee mein sach nahin hai use kahate hain andhavishvaas jaise ho gaya matalab koee bhee aapane aksar dekha hoga ki matalab koee jyotishee aate hain to log use apana haath dikhaate hain to nishchit taur par kya hota hai ki vahaan par dekha bata kaisee see cheej hai to nishchit taur par log maan lete hain ki haan aise hee cheej hai lekin nishchit taur par kya hota hai ki vah mujhe bilkul saaph nahin hota hai ki vah kamaane khaane ka ek najariya hai jo kamaata khaata hai aur yaheen ho gaya andhavishvaas baakee aur doosara andhavishvaasee log bhee apanee puraanee paramparaon par manamaanee karane ka matalab yah hai ki log maanate hain ki oopar vaala sab dekh raha hai aur yah nishchit taur par hamaare hisaab se koee phark nahin hai oopar se koee nahin dekh raha hai jo kuchh karate hain to aap matalab aap hee dekhate hain aur jab jisake saamane karate ho vah dekhata hai to hamaare sab se yahee hoga usaka uttar baakee aap logon alag-alag uttar de sakate hain to main karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga agar achchha lage to pleej laik karen sabsakraib karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है?Vishvas Aur Andhvishvas Mein Antar Kis Prakar Samjha Ja Sakta Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
1:25
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है विश्वास जो होता है वह हमारे अंदर की क्षमता होती है जैसे कि किसी कार्य को गर्म कर सकते हैं या फिर हमने कभी किया हो वह चीज तो यह हमारा विश्वास रहता है कि हम उस चीज को कर लेते हैं लेकिन अगर हम कोई चीज नहीं किए होते हैं इसी प्रकार का एक फिर भी उसमें हम दिखाते कम कर लेंगे तो वह हमारा जो है अंधविश्वास माना जाता है प्रेम एक सा काम फिर जो किसी ने पहले किया हो या फिर तकनीकी और वैज्ञानिक या फिर सारी ही तरीके से किया जा सकता हो उसे जो है हमारा विश्वास कहते हैं और जो ऐसा काम जैसे कि कोई वैज्ञानिक तकनीकी आज का कोई आधार ही नहीं है या उस काम किया ही नहीं जा सकता या उसको किसी झूठे तरीके से छिपाकर किया जा सकता है या उस काम को ऐसे होना जो है वह विश्वास कहलाता है जैसे किसी के उस काम की कोई मतलब है जड़ी ना हो किसी प्रकार का कोई उसका मूल तथ्य ना हो उस काम को हम बोले हम कर सकते हैं तो वह अंधविश्वास कहलाता है आशा है कि आप सभी को इस वक्त शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai vishvaas aur andhavishvaas mein antar kis prakaar samajha ja sakata hai vishvaas jo hota hai vah hamaare andar kee kshamata hotee hai jaise ki kisee kaary ko garm kar sakate hain ya phir hamane kabhee kiya ho vah cheej to yah hamaara vishvaas rahata hai ki ham us cheej ko kar lete hain lekin agar ham koee cheej nahin kie hote hain isee prakaar ka ek phir bhee usamen ham dikhaate kam kar lenge to vah hamaara jo hai andhavishvaas maana jaata hai prem ek sa kaam phir jo kisee ne pahale kiya ho ya phir takaneekee aur vaigyaanik ya phir saaree hee tareeke se kiya ja sakata ho use jo hai hamaara vishvaas kahate hain aur jo aisa kaam jaise ki koee vaigyaanik takaneekee aaj ka koee aadhaar hee nahin hai ya us kaam kiya hee nahin ja sakata ya usako kisee jhoothe tareeke se chhipaakar kiya ja sakata hai ya us kaam ko aise hona jo hai vah vishvaas kahalaata hai jaise kisee ke us kaam kee koee matalab hai jadee na ho kisee prakaar ka koee usaka mool tathy na ho us kaam ko ham bole ham kar sakate hain to vah andhavishvaas kahalaata hai aasha hai ki aap sabhee ko is vakt shukriya

bolkar speaker
विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है?Vishvas Aur Andhvishvas Mein Antar Kis Prakar Samjha Ja Sakta Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:31
बस वाले की विश्वास अंधविश्वास मंत्र किस प्रकार समझा जा सकता है तो विश्वास और अंधविश्वास में क्या फर्क होता है दृष्टि की किसी घटना या दृष्टि नियम के अनुसार व्याख्या करना हे मानव विश्वास है और दृष्टि नियम विरुद्ध बातों को अपनाना अंधविश्वास है सृष्टि की किसी घटना का सृष्टि नियम के अनुरूप है क्या करना माना विश्वास है और सृष्टि नियम विरुद्ध अंधविश्वास
Bas vaale kee vishvaas andhavishvaas mantr kis prakaar samajha ja sakata hai to vishvaas aur andhavishvaas mein kya phark hota hai drshti kee kisee ghatana ya drshti niyam ke anusaar vyaakhya karana he maanav vishvaas hai aur drshti niyam viruddh baaton ko apanaana andhavishvaas hai srshti kee kisee ghatana ka srshti niyam ke anuroop hai kya karana maana vishvaas hai aur srshti niyam viruddh andhavishvaas

bolkar speaker
विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है?Vishvas Aur Andhvishvas Mein Antar Kis Prakar Samjha Ja Sakta Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:48
कल पूछा गया है विश्वास और अंधविश्वास में अंतर किस प्रकार समझा जा सकता है तो देखिए विश्वास और अंधविश्वास में सीधा अंतर यह है कि तार्किक आपकी समझ कितनी है आप किसी चीज पर भरोसा करते हैं तब जब आप उस को पूरी तरीके से टाइप कर चुके हो और जब आपको लगे कि हां यह चीज ऐसे ही होगी लेकिन जब आप बात करते अंधविश्वास की तो आप उसके सकारात्मक नकारात्मक पहलुओं को भूल जाते हैं तर्क कुतर्क उसके जो तर्क है जब लोग आप को उसके खिलाफ कुछ बोलते हैं तो आपको वह लोग बहुत बुरे मालूम पड़ता है कि जब आप किस चीज पर विश्वास करते हैं तो आप उस बात पर तर्क कर सकते हैं आपको पता है यह सही है तभी आप उस पर भरोसा कर रहे हैं उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Kal poochha gaya hai vishvaas aur andhavishvaas mein antar kis prakaar samajha ja sakata hai to dekhie vishvaas aur andhavishvaas mein seedha antar yah hai ki taarkik aapakee samajh kitanee hai aap kisee cheej par bharosa karate hain tab jab aap us ko pooree tareeke se taip kar chuke ho aur jab aapako lage ki haan yah cheej aise hee hogee lekin jab aap baat karate andhavishvaas kee to aap usake sakaaraatmak nakaaraatmak pahaluon ko bhool jaate hain tark kutark usake jo tark hai jab log aap ko usake khilaaph kuchh bolate hain to aapako vah log bahut bure maaloom padata hai ki jab aap kis cheej par vishvaas karate hain to aap us baat par tark kar sakate hain aapako pata hai yah sahee hai tabhee aap us par bharosa kar rahe hain ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • विश्वास और अंधविश्वास में अंतर क्या है विश्वास और अंधविश्वास में अंतर
  • विश्वास और अंधविश्वास में अंतर क्या है विश्वास और अंधविश्वास में अंतर
URL copied to clipboard