#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?

Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:57
क्या दोस्तों प्रश्न है कि क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए तो दोस्तों मैं बताना चाहता हूं कि उनको पार्टी बनाने की जरूरत नहीं है पूरा पार्टी पर उनका एक प्रकार से नियंत्रण है वह बहुत ही एक अच्छे वक्ता है और एक बहुत ही अच्छे नियोजित तरीके से राजनीति में अपना पैर जमा रखी है उन्होंने और जितने भी एमपी एमएलए हैं वह सारे उनके नाम से इलेक्शन जीत पा रहे हैं बहुत सारे लोग तो इलेक्शन ही नहीं जीत पाते अगर मोदी जी का नाम ना हो तो उनका करिश्मा चलता है तो उनकी अपनी ही पार्टी है और पार्टी को जिताने के लिए संगठन होना बहुत जरूरी है तो अपनी पार्टी में को बनाने की जरूरत नहीं है उनको संगठन ही जो उनका है भारतीय जनता पार्टी का वही जीता सकता है वही कार्य उनको करके उनके कार्यकर्ता करके उनको आगे बढ़ा सकते हैं तो उनको अलग से कोई पार्टी बनाने की जरूरत नहीं है धन्यवाद
Kya doston prashn hai ki kya narendr modee ko apanee khud kee paartee bana lenee chaahie to doston main bataana chaahata hoon ki unako paartee banaane kee jaroorat nahin hai poora paartee par unaka ek prakaar se niyantran hai vah bahut hee ek achchhe vakta hai aur ek bahut hee achchhe niyojit tareeke se raajaneeti mein apana pair jama rakhee hai unhonne aur jitane bhee emapee emele hain vah saare unake naam se ilekshan jeet pa rahe hain bahut saare log to ilekshan hee nahin jeet paate agar modee jee ka naam na ho to unaka karishma chalata hai to unakee apanee hee paartee hai aur paartee ko jitaane ke lie sangathan hona bahut jarooree hai to apanee paartee mein ko banaane kee jaroorat nahin hai unako sangathan hee jo unaka hai bhaarateey janata paartee ka vahee jeeta sakata hai vahee kaary unako karake unake kaaryakarta karake unako aage badha sakate hain to unako alag se koee paartee banaane kee jaroorat nahin hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
dev Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए dev जी का जवाब
Unknown
0:09

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए यह कल्पना ही विचित्र लगती है क्योंकि इस देश का सबसे बड़ा पद उन्होंने दो बार बार हासिल किया है उस पर काम किया है अभी से बड़ा नुकसान और क्या हो सकता है और क्यों उनकी उम्र क्या है अब उन्होंने अगर पार्टी बनाए तो उसको सत्ता में आने के लिए 30 साल तो लग जाएंगे कम से कम अगर वह सफल हो तेरे होते रहे तो तो ऐसी कोई गलती कभी नहीं करता है और महत्वपूर्ण हो जो बात है अब उनकी जो लोकप्रियता है उनका जो बाबू पद है वह केवल उनका नहीं है उनके साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उद्योग जगत और मीडिया रहा है अगर उन्होंने दूसरी पार्टी निकाली वीर तीनों लोग हैं उनका समर्थन वापस लेने तुम की पार्टी को वोट भी ज्यादा नहीं मिलेंगे तुमको तो लोकसभा की सीटें भी बहुत मतदाता संघ जो होते हैं चित्र होते वह भी बहुत बड़े होते हैं ना में जनसभा के क्षेत्र में बहुत बड़े होते हैं अभी चुनाव जीतना तीन चीजों पर डिपेंड डिपेंड करता है एक money2india इंडस्ट्रियलिस्ट्स पहुंचाते हुए लोगों को मसल एक मां की ताकत हम उसको कहते हैं कह सकते हैं ज्यादा से ज्यादा लोग उसके साथ साथ हैं और अच्छी बुरी सभी प्रकार की ताकत है छठवां भाग तीसरा इस राजू भगवता इंडिया एटीएम होते हैं और मीडिया जो है और लोगों की मानसिकता भी बनाता है और किसी को नेता की प्रतिमा दिलाता है प्रधानमंत्री पद की भी प्रतिमा जिला का है और यह लोगों के साइकोलॉजी पर रिपीट करता है और जो मीडिया में आता है ज्यादा करके लोग हो सीमांत या उस तरफ हो जाते हैं तो मीडिया भी उनके साथ होना पड़ेगा और वह तो रहे एक सन्यासी तो इन चीजों को इकट्ठा करने के लिए उनको आज के पद का कुछ फायदा होगा लेकिन ज्यादा फायदा नहीं होगा जिस तरह से अन्ना अन्ना जी हजारी विधानसभा का भी चुनाव जीत नहीं सकते एपीजे अब्दुल कलाम भी विधानसभा के में कभी चुनाव नहीं लिख सकती शक्तिशाली यह कोई वैज्ञानिक हो या कोई साहित्यिक हो या कोई साधु संत हो या कोई समझती हो फिर भी वह सजा जो विधानसभा का चुनाव है यहां तक कि गांव का चुनाव जो होता है वह भी जीतना मुश्किल होता है इसका कारण है कि भारत में डेमोक्रेसी जो है लोग सही जो है उसकी चलो अभी तक लोगों तक पहुंच नहीं है एक लोक साहित्य समाज अभिनव बना नहीं है अभी भी संकुचित सोच वाला समाज है थोड़े से पैसे लेकर खाना शराब लेकर अपना वोट दबाव में दहशत में ले लेते हैं पूरे राष्ट्र के हित में क्या आवश्यक है अभी तक यह काम अन्नदाता नहीं जानता है उसको मालूम भी नहीं होता है कि देश में देश कहां है डिस्क के पड़ोसी कौन-कौन से हैं यह भूगोल के गोल पर दक्षिण पूर्व पश्चिम कहां पर स्थित है स्थित है भारत में किस तरह के राज्य किस तरह के समाज है किस तरह के धर्म जाति है ऐसी जानकारी इस तरह की जानकारी होती है और लोगों को 95% लोगों को मालूम नहीं होती है जो लोग मोदी को फिर से अकेले शुरुआत करनी पड़ेगी जो लगभग इसलिए उन्होंने अपनी खुद की पार्टी कभी बनाने नहीं चाहिए और प्रधानमंत्री को चौक पर तुमको मिला है तो कोई जरूरत भी नहीं है
Kya narendr modee ko apanee khud kee paartee bana lenee chaahie yah kalpana hee vichitr lagatee hai kyonki is desh ka sabase bada pad unhonne do baar baar haasil kiya hai us par kaam kiya hai abhee se bada nukasaan aur kya ho sakata hai aur kyon unakee umr kya hai ab unhonne agar paartee banae to usako satta mein aane ke lie 30 saal to lag jaenge kam se kam agar vah saphal ho tere hote rahe to to aisee koee galatee kabhee nahin karata hai aur mahatvapoorn ho jo baat hai ab unakee jo lokapriyata hai unaka jo baaboo pad hai vah keval unaka nahin hai unake saath raashtreey svayansevak sangh udyog jagat aur meediya raha hai agar unhonne doosaree paartee nikaalee veer teenon log hain unaka samarthan vaapas lene tum kee paartee ko vot bhee jyaada nahin milenge tumako to lokasabha kee seeten bhee bahut matadaata sangh jo hote hain chitr hote vah bhee bahut bade hote hain na mein janasabha ke kshetr mein bahut bade hote hain abhee chunaav jeetana teen cheejon par dipend dipend karata hai ek monaiy2indi indastriyalists pahunchaate hue logon ko masal ek maan kee taakat ham usako kahate hain kah sakate hain jyaada se jyaada log usake saath saath hain aur achchhee buree sabhee prakaar kee taakat hai chhathavaan bhaag teesara is raajoo bhagavata indiya eteeem hote hain aur meediya jo hai aur logon kee maanasikata bhee banaata hai aur kisee ko neta kee pratima dilaata hai pradhaanamantree pad kee bhee pratima jila ka hai aur yah logon ke saikolojee par ripeet karata hai aur jo meediya mein aata hai jyaada karake log ho seemaant ya us taraph ho jaate hain to meediya bhee unake saath hona padega aur vah to rahe ek sanyaasee to in cheejon ko ikattha karane ke lie unako aaj ke pad ka kuchh phaayada hoga lekin jyaada phaayada nahin hoga jis tarah se anna anna jee hajaaree vidhaanasabha ka bhee chunaav jeet nahin sakate epeeje abdul kalaam bhee vidhaanasabha ke mein kabhee chunaav nahin likh sakatee shaktishaalee yah koee vaigyaanik ho ya koee saahityik ho ya koee saadhu sant ho ya koee samajhatee ho phir bhee vah saja jo vidhaanasabha ka chunaav hai yahaan tak ki gaanv ka chunaav jo hota hai vah bhee jeetana mushkil hota hai isaka kaaran hai ki bhaarat mein demokresee jo hai log sahee jo hai usakee chalo abhee tak logon tak pahunch nahin hai ek lok saahity samaaj abhinav bana nahin hai abhee bhee sankuchit soch vaala samaaj hai thode se paise lekar khaana sharaab lekar apana vot dabaav mein dahashat mein le lete hain poore raashtr ke hit mein kya aavashyak hai abhee tak yah kaam annadaata nahin jaanata hai usako maaloom bhee nahin hota hai ki desh mein desh kahaan hai disk ke padosee kaun-kaun se hain yah bhoogol ke gol par dakshin poorv pashchim kahaan par sthit hai sthit hai bhaarat mein kis tarah ke raajy kis tarah ke samaaj hai kis tarah ke dharm jaati hai aisee jaanakaaree is tarah kee jaanakaaree hotee hai aur logon ko 95% logon ko maaloom nahin hotee hai jo log modee ko phir se akele shuruaat karanee padegee jo lagabhag isalie unhonne apanee khud kee paartee kabhee banaane nahin chaahie aur pradhaanamantree ko chauk par tumako mila hai to koee jaroorat bhee nahin hai

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
Rehan Sahu Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rehan जी का जवाब
Unknown
0:04

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
Om awasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Om जी का जवाब
Unknown
2:14
उदार लोकतांत्रिक व्यवस्था में राजनीतिक दल सत्ता प्राप्त करने का माध्यम होते हैं वे अपने उद्देश्य अपने मित्र अपने लक्ष्यों की पूर्ति के लिए चुनाव लड़ते हैं और नरेंद्र मोदी इस समय राजनीतिक सत्ता प्राप्त किए हुए हैं उनके हितों की पूर्ति चुनाव जीत कर रही इसलिए उन्हें किसी बॉडी बनाने की कोई आवश्यकता नहीं है वास्तव में कोई व्यक्ति नहीं पार्टी तब बनाता है जब वह किसी पार्टी में उपेक्षित हैं किसी पार्टी की लोकप्रियता को नकारा जाता हूं उसकी प्रतिभा को दरकिनार करने के लिए गुटबाजी की जाती है ऐसी कोई भी स्थिति नरेंद्र मोदी के साथ नहीं उनकी लोकप्रियता उनकी पार्टी में और वर्तमान देश में जगजाहिर कोई इसमें संदेह नहीं है इसलिए नई पार्टी बनाने की कोई आवश्यकता है हालांकि ऐसे उदाहरण भारतीय राजनीति जगत की गुटबाजी के चलते एक नई पार्टी बना लेते हैं या अपने राजनीतिक तुच्छ स्वार्थों के कारण एक पार्टी से दूसरी पार्टी में चले जाते हैं आजादी के बाद से लेकर अब तक सैकड़ों हजारों की संख्या में मौजूद वास्तव में यह कोई व्यवस्था नहीं है जिसमें व्यक्ति एक पार्टी से दूसरी पार्टी में एक राजनीतिक पद के लिए जाता है हम आशा करते हैं कि पार्टियां अपने लोकतांत्रिक व्यवस्था में थोड़ा ससुरा जलाएंगे और ऐसे नेताओं को आगे बढ़ाएंगे यू योग्य उनकी योग्यता और प्रतिभा इस देश को उत्थान के मार्ग प्रशस्त करें हालांकि वर्तमान समय में 40 से 50% अपराधिक प्रवृत्ति के हैं जिन पर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं ऐसे में यह जिंदगी जहां तक बात नरेंद्र मोदी के तूने नई पार्टी बनाने की कोई आवश्यकता नहीं है वर्ष पार्टी को नदी की तरह एक आत्ममंथन और आप स्वच्छता की जरूरत है जिससे पार्टी में जाने की पूर्ति की जाती
Udaar lokataantrik vyavastha mein raajaneetik dal satta praapt karane ka maadhyam hote hain ve apane uddeshy apane mitr apane lakshyon kee poorti ke lie chunaav ladate hain aur narendr modee is samay raajaneetik satta praapt kie hue hain unake hiton kee poorti chunaav jeet kar rahee isalie unhen kisee bodee banaane kee koee aavashyakata nahin hai vaastav mein koee vyakti nahin paartee tab banaata hai jab vah kisee paartee mein upekshit hain kisee paartee kee lokapriyata ko nakaara jaata hoon usakee pratibha ko darakinaar karane ke lie gutabaajee kee jaatee hai aisee koee bhee sthiti narendr modee ke saath nahin unakee lokapriyata unakee paartee mein aur vartamaan desh mein jagajaahir koee isamen sandeh nahin hai isalie naee paartee banaane kee koee aavashyakata hai haalaanki aise udaaharan bhaarateey raajaneeti jagat kee gutabaajee ke chalate ek naee paartee bana lete hain ya apane raajaneetik tuchchh svaarthon ke kaaran ek paartee se doosaree paartee mein chale jaate hain aajaadee ke baad se lekar ab tak saikadon hajaaron kee sankhya mein maujood vaastav mein yah koee vyavastha nahin hai jisamen vyakti ek paartee se doosaree paartee mein ek raajaneetik pad ke lie jaata hai ham aasha karate hain ki paartiyaan apane lokataantrik vyavastha mein thoda sasura jalaenge aur aise netaon ko aage badhaenge yoo yogy unakee yogyata aur pratibha is desh ko utthaan ke maarg prashast karen haalaanki vartamaan samay mein 40 se 50% aparaadhik pravrtti ke hain jin par aaparaadhik mukadame darj hain aise mein yah jindagee jahaan tak baat narendr modee ke toone naee paartee banaane kee koee aavashyakata nahin hai varsh paartee ko nadee kee tarah ek aatmamanthan aur aap svachchhata kee jaroorat hai jisase paartee mein jaane kee poorti kee jaatee

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:43
कल पूछा गया है क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए तो देखिए मेरा मानना है कि अगर कोई व्यक्ति अपने कुछ करना चाहता है अपने देश के लिए तो उसको किसी पार्टी की आवश्यकता नहीं आज के समय में नरेंद्र मोदी ऐसा चेहरा है कि जिसको पूरी जनता जानती है पूरी बीजेपी जो है नरेंद्र मोदी पर टिकी हुई है तो उनको अपनी खुद की पार्टी बनाने की कोई जरूरत नहीं है और जहां तक मेरा मानना है कि नरेंद्र मोदी काफी अच्छा काम कर रहे तू वह अकेली इस के योग्य है कि हो सकता है कि वह अगले चुनाव में भी प्रधानमंत्री बन जाए उनको किसी भी अन्य पार्टी को बनाने की आवश्यकता नहीं है उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Kal poochha gaya hai kya narendr modee ko apanee khud kee paartee bana lenee chaahie to dekhie mera maanana hai ki agar koee vyakti apane kuchh karana chaahata hai apane desh ke lie to usako kisee paartee kee aavashyakata nahin aaj ke samay mein narendr modee aisa chehara hai ki jisako pooree janata jaanatee hai pooree beejepee jo hai narendr modee par tikee huee hai to unako apanee khud kee paartee banaane kee koee jaroorat nahin hai aur jahaan tak mera maanana hai ki narendr modee kaaphee achchha kaam kar rahe too vah akelee is ke yogy hai ki ho sakata hai ki vah agale chunaav mein bhee pradhaanamantree ban jae unako kisee bhee any paartee ko banaane kee aavashyakata nahin hai ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ko Apni Khud Ki Party Bana Leni Chaiye
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:49
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए तो फ्रेंड से नरेंद्र मोदी जी जिस तरह से देश के विकास के लिए कार्य कर रहे हैं और वे खुद इतना अच्छा जाना माना चेहरा है और उन्हीं की बदौलत बीजेपी आगे बढ़ी है तो मुझे नहीं लगता कि नरेंद्र मोदी को अपनी पार्टी बनाना चाहिए उन्हें अच्छा काम करने के लिए किसी ऐसी पार्टी की जरूरत नहीं है वे बीजेपी में है और बीजेपी में ही रहेंगे और उसी में खुश हैं और वे बीजेपी के लिए ही काम करते हैं बीजेपी की पार्टी ही उन्हीं की पार्टी है वह वे उसे ही अपना मानते हैं तूने अलग से पार्टी बनाने की कोई जरूरत नहीं है उनका चेहरा ही है भारत में दुनिया में काफी है मोदी जी बहुत अच्छे इंसान हैं और वे देश के लिए बहुत अच्छा काम कर रहे हैं धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya narendr modee ko apanee khud kee paartee bana lenee chaahie to phrend se narendr modee jee jis tarah se desh ke vikaas ke lie kaary kar rahe hain aur ve khud itana achchha jaana maana chehara hai aur unheen kee badaulat beejepee aage badhee hai to mujhe nahin lagata ki narendr modee ko apanee paartee banaana chaahie unhen achchha kaam karane ke lie kisee aisee paartee kee jaroorat nahin hai ve beejepee mein hai aur beejepee mein hee rahenge aur usee mein khush hain aur ve beejepee ke lie hee kaam karate hain beejepee kee paartee hee unheen kee paartee hai vah ve use hee apana maanate hain toone alag se paartee banaane kee koee jaroorat nahin hai unaka chehara hee hai bhaarat mein duniya mein kaaphee hai modee jee bahut achchhe insaan hain aur ve desh ke lie bahut achchha kaam kar rahe hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी बना लेनी चाहिए, नरेंद्र मोदी को अपनी खुद की पार्टी
URL copied to clipboard