#undefined

bolkar speaker

भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?

Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Aditya Tripathi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
1:30
भारत के लोगों की प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से तो देखिए आप यानी कि हमारे देश के लोग उतरे क्षमता सबसे अच्छी है लेकिन हमारे भारत के लोगों की हमारे भारत के जनता के कारण यह हो सकता है कि हमारे देश के लोग हर मौसम से लड़ने वाली होती है जबकि कई देश में ऐसा नहीं होता वहां ज्यादा गर्मी हो रही होती है या ठंडी होती हमारे देश के लोग हर मौसम से बराबर से लड़ रहे होते हो ठंडी हो बरसात हो या घर में अपने आप को तैयार कर लेते हैं और दूसरी बातें हो सकती है कि हमारे देश विश्व में के सबसे ज्यादा युवा हमारे देश में विश्व में सबसे ज्यादा हमारे देश में और युवाओं की जरूरत क्षमता सबसे ज्यादा होती है इसलिए हमारे देश के देशवासियों प्रतिरोधक क्षमता सबसे अधिक हो सकती है मेरे हिसाब से यही दुकान हो सकते हैं अगर आपको पसंद आए हो तो मेरे जवाब को लाइक करें
Bhaarat ke logon kee pratirodhak kshamata doosare deshon se to dekhie aap yaanee ki hamaare desh ke log utare kshamata sabase achchhee hai lekin hamaare bhaarat ke logon kee hamaare bhaarat ke janata ke kaaran yah ho sakata hai ki hamaare desh ke log har mausam se ladane vaalee hotee hai jabaki kaee desh mein aisa nahin hota vahaan jyaada garmee ho rahee hotee hai ya thandee hotee hamaare desh ke log har mausam se baraabar se lad rahe hote ho thandee ho barasaat ho ya ghar mein apane aap ko taiyaar kar lete hain aur doosaree baaten ho sakatee hai ki hamaare desh vishv mein ke sabase jyaada yuva hamaare desh mein vishv mein sabase jyaada hamaare desh mein aur yuvaon kee jaroorat kshamata sabase jyaada hotee hai isalie hamaare desh ke deshavaasiyon pratirodhak kshamata sabase adhik ho sakatee hai mere hisaab se yahee dukaan ho sakate hain agar aapako pasand aae ho to mere javaab ko laik karen

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:38
भारत के लोगों के रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक क्वेश्चन 1st तौर पर आप देखेंगे भैया हमारा जो देश है कहीं न कहीं दादी नानी के नुक्से तो करता ही है ना भाई बहुत सारे दादी नानी के नुक्से का प्रयोग करते हैं आप देखें घर में कहीं न कहीं धनिया है पुदीना है और भी चीजें हैं अदरक है इन सब चीजों का इस्तेमाल करता हूं लहसुन और प्याज है इसके साथ दिखे कि आज भी हमारे देश में हम घर की पकाए हुए खाने ज्यादा खाते हैं हमें सर्दी जुखाम हो गया तो हम काढ़ा बनाकर पी लेते हैं नीम की काढ़ा पी लेते हैं तुलसी के पत्ते डालकर के पी लेते हैं नींबू का सादा इस्तेमाल करते हैं अदरक का करते हैं ड्राई फ्रूट का इस्तेमाल करता है निश्चित तौर पर हमारे और आज भी हमारी बहुत सारी आबादी बहुत सारी क्या 90% आबादी शहरों को छोड़ दिया जाए जो ग्रामीण परिवेश में रह रही है आप देखेंगे कि नेचर पर डिपेंड है और नीचे पर वह अपनी पूरी तरह से अपने खान-पान सब कुछ है पर यही नतीजा है कि जो कोविड-19 का प्रभाव हुआ हमारे ग्रामीण भारत में इसका प्रभाव बहुत कम रहा है शहरी क्षेत्रों में लोग प्रभावी जरूर हुए लेकिन ग्रामीण भारत जो है वह ज्यादा प्रभावित नहीं हुआ तो इसका यही कारण जो प्रतिरोधक क्षमता है कि आज भी हम कुक्ड फूड यानी घर के बनाए हुए खाने ज्यादा खाते हैं शहरी जीवन में हो सकता है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी वह चीजें नहीं तो यह बहुत सारे ऐसे कारण है कि हमारा जो रहन-सहन है हमारा जो देसी स्टाइल है यह कहीं न कहीं हमारी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाओ और सिलसिलेवार अगर आप इसको देखना चाहते हैं तो बहुत बड़े ढंग से आप इसको देख सकते हैं और निश्चित तौर पर यह सारी चीजें हमारे लिए बहुत बेहतर है
Bhaarat ke logon ke rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon adhik kveshchan 1st taur par aap dekhenge bhaiya hamaara jo desh hai kaheen na kaheen daadee naanee ke nukse to karata hee hai na bhaee bahut saare daadee naanee ke nukse ka prayog karate hain aap dekhen ghar mein kaheen na kaheen dhaniya hai pudeena hai aur bhee cheejen hain adarak hai in sab cheejon ka istemaal karata hoon lahasun aur pyaaj hai isake saath dikhe ki aaj bhee hamaare desh mein ham ghar kee pakae hue khaane jyaada khaate hain hamen sardee jukhaam ho gaya to ham kaadha banaakar pee lete hain neem kee kaadha pee lete hain tulasee ke patte daalakar ke pee lete hain neemboo ka saada istemaal karate hain adarak ka karate hain draee phroot ka istemaal karata hai nishchit taur par hamaare aur aaj bhee hamaaree bahut saaree aabaadee bahut saaree kya 90% aabaadee shaharon ko chhod diya jae jo graameen parivesh mein rah rahee hai aap dekhenge ki nechar par dipend hai aur neeche par vah apanee pooree tarah se apane khaan-paan sab kuchh hai par yahee nateeja hai ki jo kovid-19 ka prabhaav hua hamaare graameen bhaarat mein isaka prabhaav bahut kam raha hai shaharee kshetron mein log prabhaavee jaroor hue lekin graameen bhaarat jo hai vah jyaada prabhaavit nahin hua to isaka yahee kaaran jo pratirodhak kshamata hai ki aaj bhee ham kukd phood yaanee ghar ke banae hue khaane jyaada khaate hain shaharee jeevan mein ho sakata hai lekin graameen kshetron mein abhee vah cheejen nahin to yah bahut saare aise kaaran hai ki hamaara jo rahan-sahan hai hamaara jo desee stail hai yah kaheen na kaheen hamaaree pratirodhak kshamata ko badhao aur silasilevaar agar aap isako dekhana chaahate hain to bahut bade dhang se aap isako dekh sakate hain aur nishchit taur par yah saaree cheejen hamaare lie bahut behatar hai

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:53
प्ले कि भारत के लोगों के रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से अधिक क्यों है तो देखें हमेशा से ही हमारे यहां पर जो खाने में इस्तेमाल किए जाते हैं मसाले इसी तरीके की ही मसाले का प्रयोग किया जाता है जिससे कि हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है हल्दी जो कि अब आयुष विभाग ने एडवाइजरी के द्वारा जारी करी थी जो कि आंटी बाग के लिए प्रॉपर्टी है एंटीसेप्टिक के तरीके से यूज की जाती है उसका प्रयोग हमारे यहां मसालों में रोजाना के खाने में किया ही रहता है अदरक का प्रयोग भी रोजाना ही होता है चाहे उसको सब्जियों में डालने के प्रयोग किया जाए जाए उसको 4 के प्रयोग में किया जाए चाहे उसकी चाय बनाई जाए तरीके से बहुत सारी चीजें हैं जिनका प्रयोग डेली बेसिस पर हमारे यहां होता ही है हमारे खान-पान में और एक बहुत बड़ा फैक्टर है कारण है कि भारत में लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता और देशों के मुकाबले काफी ज्यादा अच्छी है आपका दिन शुभ रहे थे निकाल
Ple ki bhaarat ke logon ke rog pratirodhak kshamata doosare deshon se adhik kyon hai to dekhen hamesha se hee hamaare yahaan par jo khaane mein istemaal kie jaate hain masaale isee tareeke kee hee masaale ka prayog kiya jaata hai jisase ki hamaare shareer kee rog pratirodhak kshamata badhatee hai haldee jo ki ab aayush vibhaag ne edavaijaree ke dvaara jaaree karee thee jo ki aantee baag ke lie propartee hai enteeseptik ke tareeke se yooj kee jaatee hai usaka prayog hamaare yahaan masaalon mein rojaana ke khaane mein kiya hee rahata hai adarak ka prayog bhee rojaana hee hota hai chaahe usako sabjiyon mein daalane ke prayog kiya jae jae usako 4 ke prayog mein kiya jae chaahe usakee chaay banaee jae tareeke se bahut saaree cheejen hain jinaka prayog delee besis par hamaare yahaan hota hee hai hamaare khaan-paan mein aur ek bahut bada phaiktar hai kaaran hai ki bhaarat mein logon kee rog pratirodhak kshamata aur deshon ke mukaabale kaaphee jyaada achchhee hai aapaka din shubh rahe the nikaal

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:55
नमस्कार आपका सवाल है कि भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों मोदी के भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता जो है वह बहुत अधिक है दूसरे देशों से यह बात बिल्कुल सही है सही मायनों में बिल्कुल आप सही है कि क्या सकते इस बात को उसका कारण ही है कि डे के भारत का वातावरण अलग है भारत के लोगों का जो खान पाने को अलग है और रहन-सहन बहुत अलग है वातावरण में भी फर्क पड़ता है और लोगों के खानपान से भी बहुत फर्क पड़ता है यहां के लोग मेहनती ज्यादा है हर आपने देखा होगा कि मजदूर के बच्चे कम बीमार पड़ते हैं क्योंकि वह हमेशा धूप में रहेंगे या मिट्टी में खेलते रहेंगे उन्हें किसी चीज की कोई परवाह नहीं होती उनको ज्यादा केयरटेकर वगैरह कुछ नहीं चाहिए तो क्या होता और फिर मजदूर जल्दी बीमार नहीं पड़ता है क्योंकि कारण है कि वह सिर्फ सादा खाना खाते हैं सादा जीवन व्यतीत करते हैं वह सिर्फ अपना दाल रोटी साग सब्जी जो खाते हुए खाते हैं ज्यादा वह इधर तला हुआ चिकन मटन यह सब ज्यादातर उन में नहीं होता तो इसलिए बोलो कम बीमार पड़ते हैं और इसके अलावा वह मेहनत ज्यादा करते हैं इसलिए और बाहर के देशों में क्या कि हर काम मशीनों से किया जाता मेहनत है ही नहीं फिर वहां का वातावरण भी अलग टाइप का है किसी देश में ठंडा जा रहा है किसी देश में गर्म ज्यादा है और फिर वहां पर क्या है कि लोग साफ सफाई से या के थोड़ा सा केयर नहीं करते किसी भी चीज को जो मिला वह खा लेते हैं अब आपने देखा है चीन में पैंगोलिन नामक जानवर खा लिया अब उसके खाने से क्या होगा कि करो ना फैल गया अब करो ना देकर पूरे विश्व में पूरे भारत में हर जगह बुरा हाल है हर जगह बेरोजगारी पत्नी क्या-क्या समस्याएं यह किस बीमारी से उत्पन्न हो गई है वह समस्या कहां से आई है वह चीन से आई है और चीन में क्यों है क्योंकि वहां पर किसी भी जानवर का चाहे वह किसी भी क्वालिटी का कुछ भी खा लेते हैं इस वजह से हमारे देश में प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है और दूसरे देशों में कम है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon modee ke bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata jo hai vah bahut adhik hai doosare deshon se yah baat bilkul sahee hai sahee maayanon mein bilkul aap sahee hai ki kya sakate is baat ko usaka kaaran hee hai ki de ke bhaarat ka vaataavaran alag hai bhaarat ke logon ka jo khaan paane ko alag hai aur rahan-sahan bahut alag hai vaataavaran mein bhee phark padata hai aur logon ke khaanapaan se bhee bahut phark padata hai yahaan ke log mehanatee jyaada hai har aapane dekha hoga ki majadoor ke bachche kam beemaar padate hain kyonki vah hamesha dhoop mein rahenge ya mittee mein khelate rahenge unhen kisee cheej kee koee paravaah nahin hotee unako jyaada keyaratekar vagairah kuchh nahin chaahie to kya hota aur phir majadoor jaldee beemaar nahin padata hai kyonki kaaran hai ki vah sirph saada khaana khaate hain saada jeevan vyateet karate hain vah sirph apana daal rotee saag sabjee jo khaate hue khaate hain jyaada vah idhar tala hua chikan matan yah sab jyaadaatar un mein nahin hota to isalie bolo kam beemaar padate hain aur isake alaava vah mehanat jyaada karate hain isalie aur baahar ke deshon mein kya ki har kaam masheenon se kiya jaata mehanat hai hee nahin phir vahaan ka vaataavaran bhee alag taip ka hai kisee desh mein thanda ja raha hai kisee desh mein garm jyaada hai aur phir vahaan par kya hai ki log saaph saphaee se ya ke thoda sa keyar nahin karate kisee bhee cheej ko jo mila vah kha lete hain ab aapane dekha hai cheen mein paingolin naamak jaanavar kha liya ab usake khaane se kya hoga ki karo na phail gaya ab karo na dekar poore vishv mein poore bhaarat mein har jagah bura haal hai har jagah berojagaaree patnee kya-kya samasyaen yah kis beemaaree se utpann ho gaee hai vah samasya kahaan se aaee hai vah cheen se aaee hai aur cheen mein kyon hai kyonki vahaan par kisee bhee jaanavar ka chaahe vah kisee bhee kvaalitee ka kuchh bhee kha lete hain is vajah se hamaare desh mein pratirodhak kshamata jyaada hai aur doosare deshon mein kam hai dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:42
नमस्कार दोस्तों प्रश्न कि भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है तो दोस्तों के कई कारण हैं एक तो कारण कि हमारी जलवायु बहुत अच्छी है गर्मी सर्दी बरसात बसंत सारे सीजन का हम लोग आनंद लेते हैं हम खुशकिस्मत हैं और एक कारण इसका गरीबी का भी है या मध्यम वर्ग के लोग भी हैं तो बहुत साफ ग्रामीण क्षेत्रों में देखेंगे तो लोगों को अभी बिजली नहीं है उनको पसीने में रहने की आदत है गर्मियों में 8000 घंटे ही बिजली आती है या साइकिल से चलते हैं या पैदल चलते हैं कि ग्रामीण क्षेत्र में लोग ज्यादा रहते हैं शहरों में आप देखेंगे उनकी उनकी काफी कमजोर पाई गई शहरों में ज्यादा क्षति हुई करो ना काल में जो एसी में रहते हैं गाड़ी में रहते हैं फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं और हमारा खान पान मसाले वाला जो है वह भी एक प्रतिरोधक क्षमता को तलब करता है जैसे कि हम लोग कहते हैं हल्दी खाने से अच्छा होता है तो हम पहले से ही हल्दी खाते हैं दाल में खाते हैं सब्जी में डालते हैं या फिर तो हल्दी हो गया जैसे कि अदरक हो गया अदरक खाते हैं हम लोग और जैसे कि चाय में या अन्य चीजों में मसाला डालते हैं उसे प्रतिरोधक क्षमता काफी बढ़ जाती है हम लोगों की इसलिए भारत की अब देखिए प्रतियोगिता क्षमता काफी अच्छी है पर हर राज्य के अलग-अलग पकवान है अपने जलवायु के हिसाब से वातावरण के मौसम के हिसाब से सारी चीजें कर रखी होती हैं जैसे कि यूपी बिहार में आम का पन्ना सत्तू बनाई जाती है इसके अंदर तो उसका भी काफी लाभ होता है तो उससे काफी फायदा मिलता है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn ki bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon adhik hai to doston ke kaee kaaran hain ek to kaaran ki hamaaree jalavaayu bahut achchhee hai garmee sardee barasaat basant saare seejan ka ham log aanand lete hain ham khushakismat hain aur ek kaaran isaka gareebee ka bhee hai ya madhyam varg ke log bhee hain to bahut saaph graameen kshetron mein dekhenge to logon ko abhee bijalee nahin hai unako paseene mein rahane kee aadat hai garmiyon mein 8000 ghante hee bijalee aatee hai ya saikil se chalate hain ya paidal chalate hain ki graameen kshetr mein log jyaada rahate hain shaharon mein aap dekhenge unakee unakee kaaphee kamajor paee gaee shaharon mein jyaada kshati huee karo na kaal mein jo esee mein rahate hain gaadee mein rahate hain phijikal ektivitee nahin karate hain aur hamaara khaan paan masaale vaala jo hai vah bhee ek pratirodhak kshamata ko talab karata hai jaise ki ham log kahate hain haldee khaane se achchha hota hai to ham pahale se hee haldee khaate hain daal mein khaate hain sabjee mein daalate hain ya phir to haldee ho gaya jaise ki adarak ho gaya adarak khaate hain ham log aur jaise ki chaay mein ya any cheejon mein masaala daalate hain use pratirodhak kshamata kaaphee badh jaatee hai ham logon kee isalie bhaarat kee ab dekhie pratiyogita kshamata kaaphee achchhee hai par har raajy ke alag-alag pakavaan hai apane jalavaayu ke hisaab se vaataavaran ke mausam ke hisaab se saaree cheejen kar rakhee hotee hain jaise ki yoopee bihaar mein aam ka panna sattoo banaee jaatee hai isake andar to usaka bhee kaaphee laabh hota hai to usase kaaphee phaayada milata hai dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:06
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है तो फ्रेंड समाधि भारत में शुद्ध खाना खाया जाता है कि समय से बना हुआ फास्टफूड हम लोग नहीं खाते ज्यादा इसलिए हमारे यहां रोग प्रतिरोधक क्षमता है हमारे यहां दाल चावल सब्जी रोटी या सलाद फल खाया जाता है इसलिए यहां पर लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है विदेशों में लोग पिज़्ज़ा बर्गर यह सब ज्यादा खाते हैं इसलिए वह फास्ट फूड होते हैं तो फास्ट फूड में इतनी ताकत नहीं होती जितनी हमारे घर के बने शुद्धता जी खाने में ताकत होती है दालों में सब्जियों में रोटियों में और हमारे फल फ्रूट जो है इसलिए हम लोगों के यहां रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से ज्यादा है क्योंकि हमारे यहां का खानपान बहुत अच्छा है दूसरे देशों की अपेक्षा हम लोग ताजा खाना खाते हैं हम लोग ऐसा बासी पिज्जा पिज्जा यह सब नहीं खाते हैं इसलिए यहां की रोड क्षमता दूसरे देशों से ज्यादा है तो आपको जवाब पसंद आए तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon adhik hai to phrend samaadhi bhaarat mein shuddh khaana khaaya jaata hai ki samay se bana hua phaastaphood ham log nahin khaate jyaada isalie hamaare yahaan rog pratirodhak kshamata hai hamaare yahaan daal chaaval sabjee rotee ya salaad phal khaaya jaata hai isalie yahaan par logon kee rog pratirodhak kshamata jyaada hai videshon mein log pizza bargar yah sab jyaada khaate hain isalie vah phaast phood hote hain to phaast phood mein itanee taakat nahin hotee jitanee hamaare ghar ke bane shuddhata jee khaane mein taakat hotee hai daalon mein sabjiyon mein rotiyon mein aur hamaare phal phroot jo hai isalie ham logon ke yahaan rog pratirodhak kshamata doosare deshon se jyaada hai kyonki hamaare yahaan ka khaanapaan bahut achchha hai doosare deshon kee apeksha ham log taaja khaana khaate hain ham log aisa baasee pijja pijja yah sab nahin khaate hain isalie yahaan kee rod kshamata doosare deshon se jyaada hai to aapako javaab pasand aae to laik keejiega dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:49
छा गया है भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है तो देखिए भारत में बहुत सारी चीजों को इग्नोर किया जाता है वैसे हमारे हेल्थ यीशु को हम कभी भी खाने से पहले यह नहीं सोचते कि चीज साफ है या नहीं अगर हमको पसंद है हम खा लेंगे हम कहीं का भी पानी बहुत आसानी से पी लेते हमें हमेशा आरो का यह मिनरल वाटर की जरूरत नहीं पड़ती हम नॉर्मल ट्रैक्टर से भी काम चला लेते हैं ऐसी बहुत सारी हमारी हैबिट्स है कुछ हैबिट्स हमारी गंदी में तो कुछ एडिट सच्ची हम ज्यादातर जो मौसमी फल है उसको खाने में बिलीव करते हो और जिस एरिया में रहते उस एरिया में आसपास जिस तरीके की फल सब्जियों की है हम ज्यादा उनको प्रचार करते इससे हमारा इम्यूनिटी सिस्टम दूसरों की अपेक्षा बेहतर होता है उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Chha gaya hai bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon adhik hai to dekhie bhaarat mein bahut saaree cheejon ko ignor kiya jaata hai vaise hamaare helth yeeshu ko ham kabhee bhee khaane se pahale yah nahin sochate ki cheej saaph hai ya nahin agar hamako pasand hai ham kha lenge ham kaheen ka bhee paanee bahut aasaanee se pee lete hamen hamesha aaro ka yah minaral vaatar kee jaroorat nahin padatee ham normal traiktar se bhee kaam chala lete hain aisee bahut saaree hamaaree haibits hai kuchh haibits hamaaree gandee mein to kuchh edit sachchee ham jyaadaatar jo mausamee phal hai usako khaane mein bileev karate ho aur jis eriya mein rahate us eriya mein aasapaas jis tareeke kee phal sabjiyon kee hai ham jyaada unako prachaar karate isase hamaara imyoonitee sistam doosaron kee apeksha behatar hota hai ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Vikash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
2:21

bolkar speaker
भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है?Bharat Ke Logon Ki Rog Pratirodhak Shamta Dusre Deshon Se Kyun Adhik Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:03
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सवाल भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दूं आपने एक्सप्रेस अप लगाओ कि जो भारत देश है जिसमें सबसे अधिक शाकाहारी लोग यानी कि जो भी शाकाहारी लोग भारत में सबसे ज्यादा रहते हैं यही कारण है कि लोग जो साग सब्जी लोग उनके पैतृक संपत्ति दूसरी तौर पर भारत के जो लोग यहां पर मतलबी लोग ज्यादा से ज्यादा यही कारण है कि मुझे जो भी बीमारी आती है तो निश्चित तौर पर भारत के लोग ज्यादा होती है
Namaskaar doston kaise hain aap savaal bhaarat ke logon kee rog pratirodhak kshamata doosare deshon se kyon adhik hai lekin aapakee jaanakaaree ke lie bata doon aapane eksapres ap lagao ki jo bhaarat desh hai jisamen sabase adhik shaakaahaaree log yaanee ki jo bhee shaakaahaaree log bhaarat mein sabase jyaada rahate hain yahee kaaran hai ki log jo saag sabjee log unake paitrk sampatti doosaree taur par bhaarat ke jo log yahaan par matalabee log jyaada se jyaada yahee kaaran hai ki mujhe jo bhee beemaaree aatee hai to nishchit taur par bhaarat ke log jyaada hotee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता दूसरे देशों से क्यों अधिक है, भारत के लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक कैसे है
URL copied to clipboard