#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की है?

Supreme Court Ne Kisan Andolan Kee Tulna Tableegi Markaj Se Kyun Ki Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:51
आज आपका सवाल है कि सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्योंकि तू दिखे हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने यह किसान आंदोलन को लेकर गुरुवार को उन्होंने चिंता जाहिर किया उन्होंने कहा कि उन्हें कितना सिम डालने कितनी फिक्र हो रही है क्योंकि यह आंदोलन कब से चलती आ रही है साथ ही साथ उन्होंने यह भी कहा कि ए किसान आंदोलन 2020 में दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में उत्पन्न हुई है जहां पर तबलीगी जमात जैसी स्थिति बना सकता है तो उनका मानना है कि जहां से उत्पन्न हुई है निजामुद्दीन इलाके से तो शायद यह तबलीगी जमात जैसी स्थिति जैसे था वैसे बन सकता है तू इसलिए उन्होंने यह किसान आंदोलन को तबलीगी जमात जैसे उन चीजों से तुलना की
Aaj aapaka savaal hai ki supreem kort ne kisaan aandolan kee tulana tabaleegee marakaj se kyonki too dikhe haal hee mein supreem kort ne yah kisaan aandolan ko lekar guruvaar ko unhonne chinta jaahir kiya unhonne kaha ki unhen kitana sim daalane kitanee phikr ho rahee hai kyonki yah aandolan kab se chalatee aa rahee hai saath hee saath unhonne yah bhee kaha ki e kisaan aandolan 2020 mein dillee ke nijaamuddeen ilaake mein utpann huee hai jahaan par tabaleegee jamaat jaisee sthiti bana sakata hai to unaka maanana hai ki jahaan se utpann huee hai nijaamuddeen ilaake se to shaayad yah tabaleegee jamaat jaisee sthiti jaise tha vaise ban sakata hai too isalie unhonne yah kisaan aandolan ko tabaleegee jamaat jaise un cheejon se tulana kee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की है?Supreme Court Ne Kisan Andolan Kee Tulna Tableegi Markaj Se Kyun Ki Hai
DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
1:10
देखिए तबलीग जमात की जो भी हुआ था इसको मीडिया और कमेंट में इतना बेकार परजेंट किया था कि उनकी वजह से भारत में कोरोना स्प्रेड हो गया लेकिन वह सही नहीं था वह मीडिया लोगों के बीच में हमारी तरह स्क्रीट करवा रहा था मुसलमान सॉन्ग के मुसलमान गलत है यह कैंडल स्ट्रेट करवा रहा था यह और इतने कमेंट कभी कहीं ना कहीं परीक्षा में सपोर्ट मीडिया जो सेट किया था तो बाद में वह हो हमारी हाई कोर्ट्स वगैरह उसको औरंगपुर किए थे कि तबलीग जमात की वजह से कोई करना स्टार्ट हुआ नहीं है इसी तरह ही एक किसान आंदोलन को भी हमारी मीडिया काफी फटकार लगा रहे हैं मीडिया से अपने आप ही बोल रहे हैं कि किसान आंदोलन रहोगे गलत है तो सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को सेम तुलना क्या कि देश में क्या सही क्या गलत है यह मीडिया मीडिया पहले से ही 10 मिनट दे रहा है और हम हम लोग जान नहीं पाते आज चली रिजल्ट क्या है क्योंकि लोग प्रोडक्ट कर रहे हैं लेकिन पहले नहीं मीडिया पर सभी लोगों को बता देता है कि राव के यह लोग गलत है तो इसीलिए उसको तबलीगी जमात के साथ में तुलना किया था
Dekhie tabaleeg jamaat kee jo bhee hua tha isako meediya aur kament mein itana bekaar parajent kiya tha ki unakee vajah se bhaarat mein korona spred ho gaya lekin vah sahee nahin tha vah meediya logon ke beech mein hamaaree tarah skreet karava raha tha musalamaan song ke musalamaan galat hai yah kaindal stret karava raha tha yah aur itane kament kabhee kaheen na kaheen pareeksha mein saport meediya jo set kiya tha to baad mein vah ho hamaaree haee korts vagairah usako aurangapur kie the ki tabaleeg jamaat kee vajah se koee karana staart hua nahin hai isee tarah hee ek kisaan aandolan ko bhee hamaaree meediya kaaphee phatakaar laga rahe hain meediya se apane aap hee bol rahe hain ki kisaan aandolan rahoge galat hai to supreem kort ne is baat ko sem tulana kya ki desh mein kya sahee kya galat hai yah meediya meediya pahale se hee 10 minat de raha hai aur ham ham log jaan nahin paate aaj chalee rijalt kya hai kyonki log prodakt kar rahe hain lekin pahale nahin meediya par sabhee logon ko bata deta hai ki raav ke yah log galat hai to iseelie usako tabaleegee jamaat ke saath mein tulana kiya tha

bolkar speaker
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की है?Supreme Court Ne Kisan Andolan Kee Tulna Tableegi Markaj Se Kyun Ki Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्योंकि है कोई हास्यास्पद बात है और अगर सच में सुप्रीम कोर्ट द्वारा ऐसे क्या जाता है तो इसका मतलब यह है कि सुप्रीम कोर्ट किसी साजिश में हिस्सा ले सकता है तो तबलीगी मरकज उसका मतलब क्या है लोगों को मालूम नहीं इसका मतलब जैसे विपश्यना शिविर होता है कि जो लोग शराब सेटिंग से शिवपुरी किशोर में बर्बाद हो रहे हैं मानसिक रूप से ठीक नहीं है या हिंसक प्रवृत्ति में ज्यादा है कैसे लोगों को भेजते हैं वहां एक साथ वापस कुछ दिन वह धार्मिक साधना करते हैं और उसके लिए वह जमा हो जाते हैं और उसको सरकार इजाजत दे देते हैं भारत में भी मर तबलीगी मरकज को केंद्र सरकार ने इजाजत दीजिए उनका कार्यक्रम करने के लिए और किसानों का जो आंदोलन एक बिल के खिलाफ एक कानून के खिलाफ जो केंद्र सरकार ने बिना चर्चा के समग्र में बहुमत बहुमत होने का फायदा लेकर यह तो अपने कि किसानों के ऊपर प्रयास सरकार ने किया है और उसके लिए पहले तो 2 दिन राज्य के किसानों ने विरोध किया बाद में पूरे देश से किसानों का विरोध हो रहा है एचटीसी में अन्य कोई देश होता तो वह लोग भावना को देखकर ऐसे कानून पीछे लेता अमेरिका में पहले वोटिंग मशीन का प्रयोग किया गया था कुछ-कुछ इतने बड़े लोगों ने इस पर आशंका जताई अमेरिकन सरकार ने बंद करके बैलेट पेपर से चुनाव लेने का फैसला किया लोगों की बात सुनी सुनी जाती है भारत में ऐसा नहीं है भारत में बीजेपी सरकार को दशरथ कर रही है सही वाला सरकार बता बताते हैं आरोपित करते लेकिन इसके पहले वाले भी सरकार इसी तरीके से खेती रही है और उनको किया गया विरोध होगा उस समय मुझे इतना तो तुमको पता नहीं हो सका और यह समाज समाज व्यवस्था है इसमें मेजॉरिटी को जो लोग जनसंख्या में अस्सी नब्बे 90% है उनके ऊपर सामाजिक नियम उनके द्वारा ही दबाया गया है और यह लगभग 2000 साल से हो रहा है इसके रूप बदल गए लेकिन यह प्रवृत्ति वही है जो आज भी सरकार में है और विपक्ष में भी है और सारी जो सरकारी स्टेशंस है उनमें भी अब सीबीआई और कोर्ट में से हैं जो इंस्टीट्यूशन है उन्होंने उन्होंने भी कई बार उनके कार्य पर आशंका जताई गई है इसके बारे में लिखा भी गया है जाहिर तौर से रोज किया गया है आरोप किया गया है यह बातें हमारे सामने अगर सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा निर्णय लिया है तो बहुत गंभीर बात है और देश के लिए बहुत घातक है तुम कि अब तक दो न्यायपालिका थी उसके विश्वास रहता सबसे ज्यादा थी लेकिन वह दिन-ब-दिन की तरह बिखर खत्म हो जाए तो इस देश की स्थिति बहुत खराब हो सकती है आप हुकुम सही आ सकती है या का सविधान भी खत्म किया जा सकता है इस बातों को हमें समझ लेना चाहिए धन्यवाद
Supreem kort ne kisaan aandolan kee tulana tabaleegee marakaj se kyonki hai koee haasyaaspad baat hai aur agar sach mein supreem kort dvaara aise kya jaata hai to isaka matalab yah hai ki supreem kort kisee saajish mein hissa le sakata hai to tabaleegee marakaj usaka matalab kya hai logon ko maaloom nahin isaka matalab jaise vipashyana shivir hota hai ki jo log sharaab seting se shivapuree kishor mein barbaad ho rahe hain maanasik roop se theek nahin hai ya hinsak pravrtti mein jyaada hai kaise logon ko bhejate hain vahaan ek saath vaapas kuchh din vah dhaarmik saadhana karate hain aur usake lie vah jama ho jaate hain aur usako sarakaar ijaajat de dete hain bhaarat mein bhee mar tabaleegee marakaj ko kendr sarakaar ne ijaajat deejie unaka kaaryakram karane ke lie aur kisaanon ka jo aandolan ek bil ke khilaaph ek kaanoon ke khilaaph jo kendr sarakaar ne bina charcha ke samagr mein bahumat bahumat hone ka phaayada lekar yah to apane ki kisaanon ke oopar prayaas sarakaar ne kiya hai aur usake lie pahale to 2 din raajy ke kisaanon ne virodh kiya baad mein poore desh se kisaanon ka virodh ho raha hai echateesee mein any koee desh hota to vah log bhaavana ko dekhakar aise kaanoon peechhe leta amerika mein pahale voting masheen ka prayog kiya gaya tha kuchh-kuchh itane bade logon ne is par aashanka jataee amerikan sarakaar ne band karake bailet pepar se chunaav lene ka phaisala kiya logon kee baat sunee sunee jaatee hai bhaarat mein aisa nahin hai bhaarat mein beejepee sarakaar ko dasharath kar rahee hai sahee vaala sarakaar bata bataate hain aaropit karate lekin isake pahale vaale bhee sarakaar isee tareeke se khetee rahee hai aur unako kiya gaya virodh hoga us samay mujhe itana to tumako pata nahin ho saka aur yah samaaj samaaj vyavastha hai isamen mejoritee ko jo log janasankhya mein assee nabbe 90% hai unake oopar saamaajik niyam unake dvaara hee dabaaya gaya hai aur yah lagabhag 2000 saal se ho raha hai isake roop badal gae lekin yah pravrtti vahee hai jo aaj bhee sarakaar mein hai aur vipaksh mein bhee hai aur saaree jo sarakaaree steshans hai unamen bhee ab seebeeaee aur kort mein se hain jo insteetyooshan hai unhonne unhonne bhee kaee baar unake kaary par aashanka jataee gaee hai isake baare mein likha bhee gaya hai jaahir taur se roj kiya gaya hai aarop kiya gaya hai yah baaten hamaare saamane agar supreem kort ne aisa nirnay liya hai to bahut gambheer baat hai aur desh ke lie bahut ghaatak hai tum ki ab tak do nyaayapaalika thee usake vishvaas rahata sabase jyaada thee lekin vah din-ba-din kee tarah bikhar khatm ho jae to is desh kee sthiti bahut kharaab ho sakatee hai aap hukum sahee aa sakatee hai ya ka savidhaan bhee khatm kiya ja sakata hai is baaton ko hamen samajh lena chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की है?Supreme Court Ne Kisan Andolan Kee Tulna Tableegi Markaj Se Kyun Ki Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्योंकि है कोई हास्यास्पद बात है और अगर सच में सुप्रीम कोर्ट द्वारा ऐसे क्या जाता है तो इसका मतलब यह है कि सुप्रीम कोर्ट किसी साजिश में हिस्सा ले सकता है तो तबलीगी मरकज उसका मतलब क्या है लोगों को मालूम नहीं इसका मतलब जैसे विपश्यना शिविर होता है कि जो लोग शराब सेटिंग से शिवपुरी किशोर में बर्बाद हो रहे हैं मानसिक रूप से ठीक नहीं है या हिंसक प्रवृत्ति में ज्यादा है कैसे लोगों को भेजते हैं वहां एक साथ वापस कुछ दिन वह धार्मिक साधना करते हैं और उसके लिए वह जमा हो जाते हैं और उसको सरकार इजाजत दे देते हैं भारत में भी मर तबलीगी मरकज को केंद्र सरकार ने इजाजत दीजिए उनका कार्यक्रम करने के लिए और किसानों का जो आंदोलन एक बिल के खिलाफ एक कानून के खिलाफ जो केंद्र सरकार ने बिना चर्चा के समग्र में बहुमत बहुमत होने का फायदा लेकर यह तो अपने कि किसानों के ऊपर प्रयास सरकार ने किया है और उसके लिए पहले तो 2 दिन राज्य के किसानों ने विरोध किया बाद में पूरे देश से किसानों का विरोध हो रहा है एचटीसी में अन्य कोई देश होता तो वह लोग भावना को देखकर ऐसे कानून पीछे लेता अमेरिका में पहले वोटिंग मशीन का प्रयोग किया गया था कुछ-कुछ इतने बड़े लोगों ने इस पर आशंका जताई अमेरिकन सरकार ने बंद करके बैलेट पेपर से चुनाव लेने का फैसला किया लोगों की बात सुनी सुनी जाती है भारत में ऐसा नहीं है भारत में बीजेपी सरकार को दशरथ कर रही है सही वाला सरकार बता बताते हैं आरोपित करते लेकिन इसके पहले वाले भी सरकार इसी तरीके से खेती रही है और उनको किया गया विरोध होगा उस समय मुझे इतना तो तुमको पता नहीं हो सका और यह समाज समाज व्यवस्था है इसमें मेजॉरिटी को जो लोग जनसंख्या में अस्सी नब्बे 90% है उनके ऊपर सामाजिक नियम उनके द्वारा ही दबाया गया है और यह लगभग 2000 साल से हो रहा है इसके रूप बदल गए लेकिन यह प्रवृत्ति वही है जो आज भी सरकार में है और विपक्ष में भी है और सारी जो सरकारी स्टेशंस है उनमें भी अब सीबीआई और कोर्ट में से हैं जो इंस्टीट्यूशन है उन्होंने उन्होंने भी कई बार उनके कार्य पर आशंका जताई गई है इसके बारे में लिखा भी गया है जाहिर तौर से रोज किया गया है आरोप किया गया है यह बातें हमारे सामने अगर सुप्रीम कोर्ट ने ऐसा निर्णय लिया है तो बहुत गंभीर बात है और देश के लिए बहुत घातक है तुम कि अब तक दो न्यायपालिका थी उसके विश्वास रहता सबसे ज्यादा थी लेकिन वह दिन-ब-दिन की तरह बिखर खत्म हो जाए तो इस देश की स्थिति बहुत खराब हो सकती है आप हुकुम सही आ सकती है या का सविधान भी खत्म किया जा सकता है इस बातों को हमें समझ लेना चाहिए धन्यवाद
Supreem kort ne kisaan aandolan kee tulana tabaleegee marakaj se kyonki hai koee haasyaaspad baat hai aur agar sach mein supreem kort dvaara aise kya jaata hai to isaka matalab yah hai ki supreem kort kisee saajish mein hissa le sakata hai to tabaleegee marakaj usaka matalab kya hai logon ko maaloom nahin isaka matalab jaise vipashyana shivir hota hai ki jo log sharaab seting se shivapuree kishor mein barbaad ho rahe hain maanasik roop se theek nahin hai ya hinsak pravrtti mein jyaada hai kaise logon ko bhejate hain vahaan ek saath vaapas kuchh din vah dhaarmik saadhana karate hain aur usake lie vah jama ho jaate hain aur usako sarakaar ijaajat de dete hain bhaarat mein bhee mar tabaleegee marakaj ko kendr sarakaar ne ijaajat deejie unaka kaaryakram karane ke lie aur kisaanon ka jo aandolan ek bil ke khilaaph ek kaanoon ke khilaaph jo kendr sarakaar ne bina charcha ke samagr mein bahumat bahumat hone ka phaayada lekar yah to apane ki kisaanon ke oopar prayaas sarakaar ne kiya hai aur usake lie pahale to 2 din raajy ke kisaanon ne virodh kiya baad mein poore desh se kisaanon ka virodh ho raha hai echateesee mein any koee desh hota to vah log bhaavana ko dekhakar aise kaanoon peechhe leta amerika mein pahale voting masheen ka prayog kiya gaya tha kuchh-kuchh itane bade logon ne is par aashanka jataee amerikan sarakaar ne band karake bailet pepar se chunaav lene ka phaisala kiya logon kee baat sunee sunee jaatee hai bhaarat mein aisa nahin hai bhaarat mein beejepee sarakaar ko dasharath kar rahee hai sahee vaala sarakaar bata bataate hain aaropit karate lekin isake pahale vaale bhee sarakaar isee tareeke se khetee rahee hai aur unako kiya gaya virodh hoga us samay mujhe itana to tumako pata nahin ho saka aur yah samaaj samaaj vyavastha hai isamen mejoritee ko jo log janasankhya mein assee nabbe 90% hai unake oopar saamaajik niyam unake dvaara hee dabaaya gaya hai aur yah lagabhag 2000 saal se ho raha hai isake roop badal gae lekin yah pravrtti vahee hai jo aaj bhee sarakaar mein hai aur vipaksh mein bhee hai aur saaree jo sarakaaree steshans hai unamen bhee ab seebeeaee aur kort mein se hain jo insteetyooshan hai unhonne unhonne bhee kaee baar unake kaary par aashanka jataee gaee hai isake baare mein likha bhee gaya hai jaahir taur se roj kiya gaya hai aarop kiya gaya hai yah baaten hamaare saamane agar supreem kort ne aisa nirnay liya hai to bahut gambheer baat hai aur desh ke lie bahut ghaatak hai tum ki ab tak do nyaayapaalika thee usake vishvaas rahata sabase jyaada thee lekin vah din-ba-din kee tarah bikhar khatm ho jae to is desh kee sthiti bahut kharaab ho sakatee hai aap hukum sahee aa sakatee hai ya ka savidhaan bhee khatm kiya ja sakata hai is baaton ko hamen samajh lena chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की है?Supreme Court Ne Kisan Andolan Kee Tulna Tableegi Markaj Se Kyun Ki Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:00
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्योंकि है आपको पता होगा दिल्ली में जो तबलीगी मरकज जमाद जो यह कोरोना के समय हुआ था तो उन्हीं के ऊपर कोरोनावायरस लग गया था कि इन्हें तबलीगी जमात के लोगों ने ही करो ना ज्यादा फैलाया है लेकिन ऐसा नहीं था उनके ऊपर नाम लग गया और मीडिया ने उसे बहुत बढ़ा चढ़ाकर बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें निर्दोष साबित कर दिया क्योंकि कोरोनावायरस सारी वजह से पहला था खाली होने की वजह से नहीं पहला था इसी प्रकार जो किसान आंदोलन चल रहा है किसी भी मीडिया अपने हिसाब से सही गलत ही सब बताने में लगी हुई है तो इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने दोनों की तुलना की है कि यह तबलीगी जमात जैसे किसान आंदोलन को भी बता रहे हैं क्या सही है क्या गलत है अपने मन से ही निर्णय देने लगती है मीडिया की क्या सही है क्या गलत है इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने तुलना की है तो आपको जवाब अच्छी लगे तो प्लीज लाइक करिए का धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai supreem kort ne kisaan aandolan kee tulana tabaleegee marakaj se kyonki hai aapako pata hoga dillee mein jo tabaleegee marakaj jamaad jo yah korona ke samay hua tha to unheen ke oopar koronaavaayaras lag gaya tha ki inhen tabaleegee jamaat ke logon ne hee karo na jyaada phailaaya hai lekin aisa nahin tha unake oopar naam lag gaya aur meediya ne use bahut badha chadhaakar bataaya ki supreem kort ne unhen nirdosh saabit kar diya kyonki koronaavaayaras saaree vajah se pahala tha khaalee hone kee vajah se nahin pahala tha isee prakaar jo kisaan aandolan chal raha hai kisee bhee meediya apane hisaab se sahee galat hee sab bataane mein lagee huee hai to iseelie supreem kort ne donon kee tulana kee hai ki yah tabaleegee jamaat jaise kisaan aandolan ko bhee bata rahe hain kya sahee hai kya galat hai apane man se hee nirnay dene lagatee hai meediya kee kya sahee hai kya galat hai isalie supreem kort ne tulana kee hai to aapako javaab achchhee lage to pleej laik karie ka dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से क्यों की, किसान आंदोलन की तुलना तबलीगी मरकज से
URL copied to clipboard