#जीवन शैली

bolkar speaker

आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?

Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:22
हम तो आज आप का सवाल है कि आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए तो दिखे आत्मनिर्भरता और सर रिलायंस बहुत जरूरी होता है क्योंकि जब तक आप अपने आप पर भरोसा नहीं करेंगे आप खुद पर विश्वास नहीं करेंगे कि हम आपके पास जो भी चीज है जिस तरह से जितना भी टैलेंट है आपको उसको किस तरह से यूटिलाइज करना और आप यूटिलाइज जहां पर कर रहे हैं आप सही कह रहे हैं आप किसी भी जैसे कि आप एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं तो वहां पर आपको खुद पर भरोसा रखना कि हां मैं कर सकता हूं यह बहुत जरूरी होता है क्योंकि देखिए बहुत सारे लोग आपके माइंड को डाइवर्ट करने के लिए आते हैं कुछ लोग इसका इंटेंशन नहीं होता समझाने के लिए कुछ लोगों का इंटेंशन होता है कि आप को डायवर्ट करने के लिए जो मेहनत करो कुछ नहीं होगा कंपटीशन बहुत ज्यादा होता है हमारा कुछ नहीं हो सकता करने की कोशिश करेंगे और एक पल के लिए आपका मन भी करेगा कि नहीं शायरी रुक सही बोल रहे हैं लेकिन वहां पर अगर आप खुद पर भरोसा नहीं रखे कि नहीं अगर कॉन्पिटिशन टॉप है तो मैं भी मतलब काम पर हूं मैं भी अच्छे से कर सकता हूं तो ऐसे हर एक काम में आपको खुद पर भरोसा रखना कि हां आप सही करें सही कर सकते हैं आप अच्छा कर सकते यह बहुत जरूरी होता है
Ham to aaj aap ka savaal hai ki aatmanirbharata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie to dikhe aatmanirbharata aur sar rilaayans bahut jarooree hota hai kyonki jab tak aap apane aap par bharosa nahin karenge aap khud par vishvaas nahin karenge ki ham aapake paas jo bhee cheej hai jis tarah se jitana bhee tailent hai aapako usako kis tarah se yootilaij karana aur aap yootilaij jahaan par kar rahe hain aap sahee kah rahe hain aap kisee bhee jaise ki aap egjaam kee taiyaaree kar rahe hain to vahaan par aapako khud par bharosa rakhana ki haan main kar sakata hoon yah bahut jarooree hota hai kyonki dekhie bahut saare log aapake maind ko daivart karane ke lie aate hain kuchh log isaka intenshan nahin hota samajhaane ke lie kuchh logon ka intenshan hota hai ki aap ko daayavart karane ke lie jo mehanat karo kuchh nahin hoga kampateeshan bahut jyaada hota hai hamaara kuchh nahin ho sakata karane kee koshish karenge aur ek pal ke lie aapaka man bhee karega ki nahin shaayaree ruk sahee bol rahe hain lekin vahaan par agar aap khud par bharosa nahin rakhe ki nahin agar konpitishan top hai to main bhee matalab kaam par hoon main bhee achchhe se kar sakata hoon to aise har ek kaam mein aapako khud par bharosa rakhana ki haan aap sahee karen sahee kar sakate hain aap achchha kar sakate yah bahut jarooree hota hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
2:55
प्रश्न है आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए देखिए आत्मनिर्भरता के कारण व्यक्ति अन्य साधारण लोगों से ऊंचा होता है उसका जीवन सार्थक और किसी उद्देश्य विशेष की प्राप्ति में सक्षम होता है उसकी बुद्धि और चातुर्य उसके अपने हृदय के अनुसार होती है और वह उत्तम संस्कार प्राप्त करता है वह अपने कार्य में श्रेष्ठ रहता है और जीवन में प्रगति करता है अपनी अच्छे आचरण से दूसरों का भी मार्ग दर्शन करके उन्हें उन्नति शील बनाता है मनुष्य को नम्रता और स्वतंत्रता पूर्वक बिना अहंकार की मर्यादा पूर्ण जीवन बिताना चाहिए इससे आत्मनिर्भर ताती है आत्म मर्यादा के लिए बड़ों का सम्मान और छोटे और बराबर वालों की प्रति कोमलता का व्यवहार करना चाहिए अपने व्यवहार में नंबर रहकर उद्देश्यों को उच्च रखता ही रखना ही ऊंचा तीर चलाना माना जाता है महाराणा प्रताप ने जंगलों की खाक छानी परंतु अधीनता न मानी क्योंकि अपनी मर्यादा की चिंता जितनी स्वयं को होती है दूसरे को नहीं दूसरों की उचित बात समझते हुए अंधभक्त नहीं होना चाहिए तुलसीदास जी की सर्वप्रिय था और कीर्ति उनकी याद निर्भरता और मानसिक स्वतंत्रता के कारण थी उनके समकालीन कवि केशवदास अभिलाषी राजाओं की कठपुतली बने रहे अंत में उनकी बुरी गत हुई एक आप गौर करने वाली बात है कि प्रत्येक आदमी का भाग्य उसके हाथ में है वह अपना जीवन निर्वाह कर सकता है यही भाव चाहे इसे स्वतंत्रता स्वालंबन आदि कुछ भी कहो मनुष्य और दास में अंतर कराता है हनुमान जी ने अकेले सीता जी की खोज कर डाली और कोलंबस ने अमेरिका को ढूंढ निकाला शिवाजी ने थोड़े सैनिकों से औरंगजेब की नींद हराम कर दी और एकलव्य ने बिना गुरु के जंगल में निशाने पर निशाने लगाकर तीरंदाजी में सिद्धि प्राप्त की यही चित्त वृत्ति है जो मनुष्य को और उसे उच्च बनाती है जिस मनुष्य की बुद्धि और चतुराई उसके हृदय में स्थित है वह जीवन और कर्म क्षेत्र में पृष्ठ रहता है और दूसरों का भी मार्गदर्शन करता है यही आत्मनिर्भरता है धन्यवाद
Prashn hai aatmanirbharata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie dekhie aatmanirbharata ke kaaran vyakti any saadhaaran logon se ooncha hota hai usaka jeevan saarthak aur kisee uddeshy vishesh kee praapti mein saksham hota hai usakee buddhi aur chaatury usake apane hrday ke anusaar hotee hai aur vah uttam sanskaar praapt karata hai vah apane kaary mein shreshth rahata hai aur jeevan mein pragati karata hai apanee achchhe aacharan se doosaron ka bhee maarg darshan karake unhen unnati sheel banaata hai manushy ko namrata aur svatantrata poorvak bina ahankaar kee maryaada poorn jeevan bitaana chaahie isase aatmanirbhar taatee hai aatm maryaada ke lie badon ka sammaan aur chhote aur baraabar vaalon kee prati komalata ka vyavahaar karana chaahie apane vyavahaar mein nambar rahakar uddeshyon ko uchch rakhata hee rakhana hee ooncha teer chalaana maana jaata hai mahaaraana prataap ne jangalon kee khaak chhaanee parantu adheenata na maanee kyonki apanee maryaada kee chinta jitanee svayan ko hotee hai doosare ko nahin doosaron kee uchit baat samajhate hue andhabhakt nahin hona chaahie tulaseedaas jee kee sarvapriy tha aur keerti unakee yaad nirbharata aur maanasik svatantrata ke kaaran thee unake samakaaleen kavi keshavadaas abhilaashee raajaon kee kathaputalee bane rahe ant mein unakee buree gat huee ek aap gaur karane vaalee baat hai ki pratyek aadamee ka bhaagy usake haath mein hai vah apana jeevan nirvaah kar sakata hai yahee bhaav chaahe ise svatantrata svaalamban aadi kuchh bhee kaho manushy aur daas mein antar karaata hai hanumaan jee ne akele seeta jee kee khoj kar daalee aur kolambas ne amerika ko dhoondh nikaala shivaajee ne thode sainikon se aurangajeb kee neend haraam kar dee aur ekalavy ne bina guru ke jangal mein nishaane par nishaane lagaakar teerandaajee mein siddhi praapt kee yahee chitt vrtti hai jo manushy ko aur use uchch banaatee hai jis manushy kee buddhi aur chaturaee usake hrday mein sthit hai vah jeevan aur karm kshetr mein prshth rahata hai aur doosaron ka bhee maargadarshan karata hai yahee aatmanirbharata hai dhanyavaad

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
बहुत समय पहले एक कृषि हुआ करते थे और वह किसी से कोई भी मतलब नहीं रखते थे और उन्हें किसी भी चीज की कोई आवश्यकता की किसी की इतनी जरूरत नहीं होती थी चाहे वह पैसों की हो या रहन-सहन की वास्ता हो या खानपान की व्यवस्था हो किसी भी चीज से उन्हें कोई तकलीफ नहीं हुआ कभी किसी चीज की कोई परेशानी नहीं होती थी और किसी चीज की कोई टेंशन नहीं होती थी और जब लोगों ने उससे पूछा कि आखिर आप इस तरह से कैसे रहते हैं आपको किसी प्रकार की कोई चिंता दर्द है क्यों नहीं रहता उन्होंने कहा कि मैं आत्मनिर्भर हूं तो जो व्यक्ति ने होता उसे किसी प्रकार का डर भय चिंता नहीं रहता अब यहां सवाल आ रहा है कि आत्म निर्भरता क्या है इसका महत्व क्या है आखिर यह होता है अरिजीत कैसे किया जाता है जो व्यक्ति अपने आप में एक संप्रदाय का ठेका लेता है संप्रदाय से मेरा मतलब धन से नहीं पड़ जाएगा कि हर एक चीज ध्यान योग शिक्षा और प्रशिक्षण और बुद्धि और बल हो कुछ भी आप किसी एक से पूरी तरह से उसकी से धनी है तो आप अपने आप में आत्मनिर्भर हैं संपूर्ण जैसे एक योगी परमात्मा का पूरी तरह से परमात्मा आत्मनिर्भर रहता है उसने अपने जीवन की डोर उस को समर्पित कर दिया कि समर्पण ही आत्मनिर्भर का सबसे बड़ा मैं तो एकदम किसी के प्रति समर्पित हो जाते हैं किसी के भी प्रति क्या हुआ अपना लक्ष्य हो क्या अपनी कोई भी क्षमता हो उसके पत्ते का धन समर्पित हो जाते हैं तो हम देखते कि हम आत्मनिर्भर हो गए हैं जैसा कि मैंने ऋषि के बारे में कहा उन्होंने अपना सबकुछ समर्पित कर दिया था परमात्मा को हैंग भगवान को तूने किसी चीज की चिंता नहीं रहेगी उन्होंने जो कुछ भी आप करोगे आपके हाथों इसी तरह से जब हम किसी को अपने आप को समर्पित कर देते हैं जीवन में चाहे वह कुछ भी हो जहां को पैसा कमाना है सक्सेसफुल बनना हो या कोई संगीतकार बनाया कोई बॉडी बिल्डर बनना कोई एथलेटिक्स बना कोई रेसलर ना जब हम ईमानदारी के साथ समर्पित होते हैं तो हम आत्मनिर्भर बन जाते हैं और फिर हमें किसी चीज का कोई दर्द है नहीं रहता
Bahut samay pahale ek krshi hua karate the aur vah kisee se koee bhee matalab nahin rakhate the aur unhen kisee bhee cheej kee koee aavashyakata kee kisee kee itanee jaroorat nahin hotee thee chaahe vah paison kee ho ya rahan-sahan kee vaasta ho ya khaanapaan kee vyavastha ho kisee bhee cheej se unhen koee takaleeph nahin hua kabhee kisee cheej kee koee pareshaanee nahin hotee thee aur kisee cheej kee koee tenshan nahin hotee thee aur jab logon ne usase poochha ki aakhir aap is tarah se kaise rahate hain aapako kisee prakaar kee koee chinta dard hai kyon nahin rahata unhonne kaha ki main aatmanirbhar hoon to jo vyakti ne hota use kisee prakaar ka dar bhay chinta nahin rahata ab yahaan savaal aa raha hai ki aatm nirbharata kya hai isaka mahatv kya hai aakhir yah hota hai arijeet kaise kiya jaata hai jo vyakti apane aap mein ek sampradaay ka theka leta hai sampradaay se mera matalab dhan se nahin pad jaega ki har ek cheej dhyaan yog shiksha aur prashikshan aur buddhi aur bal ho kuchh bhee aap kisee ek se pooree tarah se usakee se dhanee hai to aap apane aap mein aatmanirbhar hain sampoorn jaise ek yogee paramaatma ka pooree tarah se paramaatma aatmanirbhar rahata hai usane apane jeevan kee dor us ko samarpit kar diya ki samarpan hee aatmanirbhar ka sabase bada main to ekadam kisee ke prati samarpit ho jaate hain kisee ke bhee prati kya hua apana lakshy ho kya apanee koee bhee kshamata ho usake patte ka dhan samarpit ho jaate hain to ham dekhate ki ham aatmanirbhar ho gae hain jaisa ki mainne rshi ke baare mein kaha unhonne apana sabakuchh samarpit kar diya tha paramaatma ko haing bhagavaan ko toone kisee cheej kee chinta nahin rahegee unhonne jo kuchh bhee aap karoge aapake haathon isee tarah se jab ham kisee ko apane aap ko samarpit kar dete hain jeevan mein chaahe vah kuchh bhee ho jahaan ko paisa kamaana hai saksesaphul banana ho ya koee sangeetakaar banaaya koee bodee bildar banana koee ethaletiks bana koee resalar na jab ham eemaanadaaree ke saath samarpit hote hain to ham aatmanirbhar ban jaate hain aur phir hamen kisee cheej ka koee dard hai nahin rahata

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:26
उसका दोस्तों आपका प्रश्न है आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए दोस्तों आत्मनिर्भरता का अर्थ होता है स्वाबलंबी होना स्वामी यानी कि अपने ही ऊपर निर्भर होना दूसरों के ऊपर कोई कार्य न छोड़ना अपना कार्य खुद ही करने को आत्मनिर्भर कहा जाता है दोस्तों आत्मनिर्भरता का महत्व बहुत बड़ा है ऐसा सभी को होना भी चाहिए क्योंकि आजकल जो अपना कार्यक्रम किसी को दूसरे को सौंप देते हैं तो वह कार्य एक तो समय पर नहीं होने की उम्मीद कर सकते हैं समय पर नहीं होगा और जो भी होगा उसमें कुछ न कुछ तो गड़बड़ मिलेगी तो यदि खुद का कार्य हम खुद ही कर ले तो जोश में कमी रह जाती है या जो समय की बर्बादी तो होने की संभावना रहती है तो वह ऐसा कुछ उसमें नहीं हो सकता है तो खुद का काम खुद ही करना या फिर जो करने योग्य जो काम है वह तो खुद ही कर ले व्यक्ति तो दूसरों की तो दिख जी के वह नहीं सुननी पड़ती है और जो खुद का स्वास्थ्य है वह भी अपना फिट रहता है और जो लोग स्वावलंबी होते हैं वह लंबी आयु वाले भी होते हैं क्योंकि खुद का स्वास्थ्य भी अच्छा रखते हैं ना किसी से जब तक करनी पड़ती है तो वह एक प्रकार से आत्मनिर्भर होते हैं ज्ञानी स्वयं के ऊपरी आश्रित होते हैं उन्हें दूसरों की कोई दूसरों के ऊपर के मोहताज नहीं होते हैं दूसरों की उन्हें जी हजूरी करने की या फिर उन्हें बार-बार में कहने की कोई आवश्यकता नहीं होती है तो ऐसा जहां कहीं होता है तो वहां पर आत्मनिर्भर व्यक्ति जो है वही जिसमें होते हैं और उन्हें किसी से कोई मनमुटाव तनाव स्ट्रेस आदि भी नहीं होता है क्योंकि उसे पता है कि करना उसे खुद ही है खुद कर लेगा जैसा उसे उसके पास समय है तो वह खुद कर सकता है और दूसरों से काम करवाने से दूसरों के ऊपर आश्रित रहने से हमें यह रहता है कि उन्होंने किया है या नहीं किया है कब करेगा फिर धीरे धीरे धीरे धीरे चिंता रानी शुरू हो जाती है तनाव स्ट्रेस बढ़ना शुरू हो जाता है तो आत्मनिर्भरता यानी कि स्वाबलंबी ही होना चाहिए धन्यवाद
Usaka doston aapaka prashn hai aatmanirbharata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie doston aatmanirbharata ka arth hota hai svaabalambee hona svaamee yaanee ki apane hee oopar nirbhar hona doosaron ke oopar koee kaary na chhodana apana kaary khud hee karane ko aatmanirbhar kaha jaata hai doston aatmanirbharata ka mahatv bahut bada hai aisa sabhee ko hona bhee chaahie kyonki aajakal jo apana kaaryakram kisee ko doosare ko saump dete hain to vah kaary ek to samay par nahin hone kee ummeed kar sakate hain samay par nahin hoga aur jo bhee hoga usamen kuchh na kuchh to gadabad milegee to yadi khud ka kaary ham khud hee kar le to josh mein kamee rah jaatee hai ya jo samay kee barbaadee to hone kee sambhaavana rahatee hai to vah aisa kuchh usamen nahin ho sakata hai to khud ka kaam khud hee karana ya phir jo karane yogy jo kaam hai vah to khud hee kar le vyakti to doosaron kee to dikh jee ke vah nahin sunanee padatee hai aur jo khud ka svaasthy hai vah bhee apana phit rahata hai aur jo log svaavalambee hote hain vah lambee aayu vaale bhee hote hain kyonki khud ka svaasthy bhee achchha rakhate hain na kisee se jab tak karanee padatee hai to vah ek prakaar se aatmanirbhar hote hain gyaanee svayan ke ooparee aashrit hote hain unhen doosaron kee koee doosaron ke oopar ke mohataaj nahin hote hain doosaron kee unhen jee hajooree karane kee ya phir unhen baar-baar mein kahane kee koee aavashyakata nahin hotee hai to aisa jahaan kaheen hota hai to vahaan par aatmanirbhar vyakti jo hai vahee jisamen hote hain aur unhen kisee se koee manamutaav tanaav stres aadi bhee nahin hota hai kyonki use pata hai ki karana use khud hee hai khud kar lega jaisa use usake paas samay hai to vah khud kar sakata hai aur doosaron se kaam karavaane se doosaron ke oopar aashrit rahane se hamen yah rahata hai ki unhonne kiya hai ya nahin kiya hai kab karega phir dheere dheere dheere dheere chinta raanee shuroo ho jaatee hai tanaav stres badhana shuroo ho jaata hai to aatmanirbharata yaanee ki svaabalambee hee hona chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:53
आपका सवाल है आज निर्माता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए तो मेरे दोस्त मैं आपको कुछ बताना चाहती हूं कि मेरे हिसाब से आत्मनिर्भर होना आज के जमाने में बहुत जरूरी है हर इंसान को व्यक्ति को आत्मनिर्भर होना चाहिए क्योंकि इतनी महंगाई के जमाने में हम आज के जमाने में हमारे परिवार में एक बन्ना कमाए और दोनों बैठ के आ नहीं सकते हैं क्योंकि की मंगाई होने के साथ-साथ दूसरे पर डिपेंड रहने पर अपना वैल्यू खत्म होता है देखने को नहीं मिलती है और इंसान को आत्मनिर्भर होना बहुत जरूरी है और इसका उदाहरण देकर मैं यह बताना चाहती हूं कि जैसे मेरी कुछ दिन पहले मेरी एक फ्रेंड की शादी हुई और मुझे पढ़ाई कर रहे थे बारे में कपूर की शादी और शादी होने के बाद वह ससुराल गए ससुराल जाने के बाद पता चला कि जो हस्बैंड है ओहो गलत है होली नहीं है परिवार में उनका कुछ कुछ ज्यादा खास हो इज्जत मान सम्मान नहीं है आवक में लोगों को रिस्पेक्ट नहीं करते हैं आते ही नहीं है घर में भी कुछ दिनों के बाद में पता चला कि उनसे शादी करने से पहले ही किसी से शादी कर रखी है और उसका एक बच्चा है तो इतना जानने के बाद उसको काफी परेशान होने और उन्होंने अपने आप को खत्म करने की सुसाइड करने की कोशिश की मगर उन्हें बचा लिया गया उसके बाद वह मैं मायके ले आया क्या और माय खिलाने के बाद जो 4 साल मतलब वह 4 साल मायके में अपने रही तो मैंने देखा वह बिल्कुल मेरे पड़ोस में थी तो मैं नहीं देखा जो उनकी स्थिति की हर एक व्यक्ति के वह पूछ कर अपने मायके में ही हो बोझ बन गई थी एकदम से उनके परिवार वाले उनके मां-बाप उनके भाई बहन उनका कोई रिस्पेक्ट करता नहीं था मतलब ऐसी बात करते थे लोग कैसा कभी-कभी ऐसी जिंदगी से अच्छा है कि इंसान मर जाए फिर तो मैंने उनको समझाया बहुत समझाया और कई लोगों ने और कुछ हेल्प के द्वारा कुछ हमने भी मिला जितना संभव हो सका मैंने भी किया और हेल्प के द्वारा उन्होंने अब पढ़ाई आगे कंप्लीट और क्लिक करने के बाद उन्होंने अपने आप करेंगे तो जॉब पर आने के बाद जब साथ निर्भर हो गई है अपने आप किशन किशन सो गई है तो आज उसी परिवार में उन्हीं के भाई भाभी उनके मां-बाप अपना रिश्वत देते हैं और बहुत कर उसी का जो कल कहते थे कि बेटी भगवान किसी को ना दें यह बोझ बन के सर पर आकर बैठ गई है उसको आज बोलते हैं कि ऐसी बेटी हर किसी को बोल दो मेरे दोस्त मेरे हिसाब से हर लड़की हर व्यक्ति को हर आदमी को आत्मनिर्भर होना चाहिए किसी पर निर्भर नहीं रहना चाहिए उस पर निर्भर रहना चाहिए दोस्त आशा है कि आपको पसंद आएंगे और धन्यवाद
Aapaka savaal hai aaj nirmaata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie to mere dost main aapako kuchh bataana chaahatee hoon ki mere hisaab se aatmanirbhar hona aaj ke jamaane mein bahut jarooree hai har insaan ko vyakti ko aatmanirbhar hona chaahie kyonki itanee mahangaee ke jamaane mein ham aaj ke jamaane mein hamaare parivaar mein ek banna kamae aur donon baith ke aa nahin sakate hain kyonki kee mangaee hone ke saath-saath doosare par dipend rahane par apana vailyoo khatm hota hai dekhane ko nahin milatee hai aur insaan ko aatmanirbhar hona bahut jarooree hai aur isaka udaaharan dekar main yah bataana chaahatee hoon ki jaise meree kuchh din pahale meree ek phrend kee shaadee huee aur mujhe padhaee kar rahe the baare mein kapoor kee shaadee aur shaadee hone ke baad vah sasuraal gae sasuraal jaane ke baad pata chala ki jo hasbaind hai oho galat hai holee nahin hai parivaar mein unaka kuchh kuchh jyaada khaas ho ijjat maan sammaan nahin hai aavak mein logon ko rispekt nahin karate hain aate hee nahin hai ghar mein bhee kuchh dinon ke baad mein pata chala ki unase shaadee karane se pahale hee kisee se shaadee kar rakhee hai aur usaka ek bachcha hai to itana jaanane ke baad usako kaaphee pareshaan hone aur unhonne apane aap ko khatm karane kee susaid karane kee koshish kee magar unhen bacha liya gaya usake baad vah main maayake le aaya kya aur maay khilaane ke baad jo 4 saal matalab vah 4 saal maayake mein apane rahee to mainne dekha vah bilkul mere pados mein thee to main nahin dekha jo unakee sthiti kee har ek vyakti ke vah poochh kar apane maayake mein hee ho bojh ban gaee thee ekadam se unake parivaar vaale unake maan-baap unake bhaee bahan unaka koee rispekt karata nahin tha matalab aisee baat karate the log kaisa kabhee-kabhee aisee jindagee se achchha hai ki insaan mar jae phir to mainne unako samajhaaya bahut samajhaaya aur kaee logon ne aur kuchh help ke dvaara kuchh hamane bhee mila jitana sambhav ho saka mainne bhee kiya aur help ke dvaara unhonne ab padhaee aage kampleet aur klik karane ke baad unhonne apane aap karenge to job par aane ke baad jab saath nirbhar ho gaee hai apane aap kishan kishan so gaee hai to aaj usee parivaar mein unheen ke bhaee bhaabhee unake maan-baap apana rishvat dete hain aur bahut kar usee ka jo kal kahate the ki betee bhagavaan kisee ko na den yah bojh ban ke sar par aakar baith gaee hai usako aaj bolate hain ki aisee betee har kisee ko bol do mere dost mere hisaab se har ladakee har vyakti ko har aadamee ko aatmanirbhar hona chaahie kisee par nirbhar nahin rahana chaahie us par nirbhar rahana chaahie dost aasha hai ki aapako pasand aaenge aur dhanyavaad

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
AM Kaptan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए AM जी का जवाब
Unknown
1:48
आइए साथ में दोस्त आज का विषय देखते हैं आज निर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए मैं आपको स्वस्थ कर देना चाहता हूं कि आत्म निर्भरता क्या होता है आत्मनिर्भरता का मतलब होता है किसी दूसरे व्यक्ति पर टिके ना होना और आत्मनिर्भरता का मतलब होता है किसी भी क्षेत्र में किसी भी चित्र हो कोई भी चित्र उस क्षेत्र में आप अपनी सी निर्णय लो अपने सी डिसाइड करना ही आत्म निर्भरता कहलाता है और आत्मनिर्भरता का मैं आपको बता देना चाहता हूं अगर आज इस समाज में आत्मनिर्भर अगर ना होते गौतम बुद्ध तो कैसे आज इतिहास पुरुष दित्य गौतम बुद्ध ने आठ निर्भरता की वजह से इतनी बड़ी कौन को खड़ी कर दिया है मैं कहता हूं कि अगर आप निर्भरता भीमराव अंबेडकर लव होते तो इतना बड़ा संविधान क्यों लिख देते यह सभी क्या है आत्मनिर्भरता है आत्मनिर्भरता का मतलब कांफिडेंट होता है और आत्मनिर्भरता मतलब जो तुम्हारे अंदर प्रतिभाएं छुपी है उसे कैसे बाहर अपने आप से डिसाइड करके बाहर निकालते हो धन्यवाद साथी वीडियो अच्छा लगा हो तो लाइक और शेयर करें धन्यवाद
Aaie saath mein dost aaj ka vishay dekhate hain aaj nirbharata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie main aapako svasth kar dena chaahata hoon ki aatm nirbharata kya hota hai aatmanirbharata ka matalab hota hai kisee doosare vyakti par tike na hona aur aatmanirbharata ka matalab hota hai kisee bhee kshetr mein kisee bhee chitr ho koee bhee chitr us kshetr mein aap apanee see nirnay lo apane see disaid karana hee aatm nirbharata kahalaata hai aur aatmanirbharata ka main aapako bata dena chaahata hoon agar aaj is samaaj mein aatmanirbhar agar na hote gautam buddh to kaise aaj itihaas purush dity gautam buddh ne aath nirbharata kee vajah se itanee badee kaun ko khadee kar diya hai main kahata hoon ki agar aap nirbharata bheemaraav ambedakar lav hote to itana bada sanvidhaan kyon likh dete yah sabhee kya hai aatmanirbharata hai aatmanirbharata ka matalab kaamphident hota hai aur aatmanirbharata matalab jo tumhaare andar pratibhaen chhupee hai use kaise baahar apane aap se disaid karake baahar nikaalate ho dhanyavaad saathee veediyo achchha laga ho to laik aur sheyar karen dhanyavaad

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:53
हेलो दोस्तों मैंने यह सवाल है आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए तो आत्मनिर्भर हो ना कि अपने खुद के बल पर अपनी जीवन को यापन करना और आपको खुद के पैरों पर खड़े होकर कोई ना कोई जॉब पाना कोई अवनीश करना याद निर्भर होता है जैसे कि मैं स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करता हूं सेल पैसे अन्य करता हूं इसका मतलब यह है कि मैं आत्मनिर्भर हूं मैं अपनी खुद की स्किल को विनाया है और मैं अब आप निर्भर हूं मुझे किसी से पैसे मांगने की जरूरत नहीं पड़ती है यह होता आत्मनिर्भर अपना खुद का बिजनेस करना खुद के नंबर नौकरी पाना यह होता है आज नर्मदा
Helo doston mainne yah savaal hai aatmanirbharata ke mahatv ko udaaharan sahit samajhaie to aatmanirbhar ho na ki apane khud ke bal par apanee jeevan ko yaapan karana aur aapako khud ke pairon par khade hokar koee na koee job paana koee avaneesh karana yaad nirbhar hota hai jaise ki main stok maarket mein treding karata hoon sel paise any karata hoon isaka matalab yah hai ki main aatmanirbhar hoon main apanee khud kee skil ko vinaaya hai aur main ab aap nirbhar hoon mujhe kisee se paise maangane kee jaroorat nahin padatee hai yah hota aatmanirbhar apana khud ka bijanes karana khud ke nambar naukaree paana yah hota hai aaj narmada

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आत्मनिर्भरता के महत्व को बताएं आत्मनिर्भरता का महत्व
URL copied to clipboard