#जीवन शैली

bolkar speaker

एक इंसान को खुद पर भरोसा कब नहीं होता है?

Ek Insaan Ko Khud Par Bharosa Kab Nahi Hota Hai
Dr.Pragya Tiwari Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Dr.Pragya जी का जवाब
Medical student (future doctor)
0:37
इंसान का खुद पर से भरोसा तब उठ जाता है जब कोई काम करने वाला होता है और उस काम में फेल हो जाता है और ऐसा जब बार-बार होता है तब इंसान को लगता है कि वह किसी भी काम करने के काबिल नहीं है और जो भी काम करता है वह फेल हो जाता है इसके अलावा जब इंसान की किस्मत साथ नहीं देती है और इंसान जो भी काम करता है उसमें उनकी किस्मत खराब होती है तो उस टाइम पर भी इंसान का खुद पर से भरोसा उठ जाता है और उसे लगता है कि उसका कोई भी काम नहीं हो पाएगा

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एक इंसान को खुद पर भरोसा कब नहीं होता है?Ek Insaan Ko Khud Par Bharosa Kab Nahi Hota Hai
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
0:45
लेकिन एक इंसान को खुद पर भरोसा कब नहीं होता अपने आसपास के लोगों से खत्म हो जाए उसके साथ वाले उसके अपने लोग उसका विश्वास तोड़ दे तो उसका फिर खुद से भी भरोसा हट जाता है मगर भीड़ में अकेले हैं तो हम खुद डगमगा जाते हैं उस भीड़ में भीड़ में अगर हंड्रेड बीते पल है और एक कोई हमारा सपोर्ट है तो भी हमारे पास विश्वास होता है कोई हमें ताकत ना देगी हमारी हिम्मत को बढ़ा सकता किसान केसरी अपने शब्दों के जरिए लेकिन जब कोई ऐसा आर्य ना मिले तो इंसान का खुद पर भी भरोसा टूट जाता है धन्यवाद

bolkar speaker
एक इंसान को खुद पर भरोसा कब नहीं होता है?Ek Insaan Ko Khud Par Bharosa Kab Nahi Hota Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
I am nurse
2:45
नाइस गुड मॉर्निंग अनिल मिश्रा मुझे दुनिया की सबसे अच्छी सवाल जवाब दो फ्रेंड एक सवाल को खुद का भरोसा कम नहीं होता तो सिचुएशन अलग-अलग होती है और भी अलग-अलग होते हैं कि हमारा विश्वास पूछने का पहला तो यह होता है कि जब हम कोई काम बार-बार करते हैं कोई बार कोई कोई भी चीज पढ़ाई या फिर कोई भी वर्क ले लो जो हम बार-बार कर रहे हो और उसमें बार-बार हमें असफलता मिल रही हो तो हमारा विश्वास अपने आप से उठ जाता है कि हम इसको नहीं कर पाएंगे नहीं कर सकते हैं तो टूट जाता है और उसका विश्वास खत्म हो जाता है अपने आप पर आना चाहते हैं करना चाहते हैं अंदर से बहुत अपने आप पर कभी फ्रेंड है कि हम ही काम कर लेंगे और हमारे फैमिली या हमारे अपने जिन्हें हम जो हमारे दिल के बहुत करीब हो जिन्हें हम खुद मानते हो अगर वह बार-बार हमें एहसास दिलाएं कि तुम नहीं कर पाओ तुम नहीं कर पाओगे तुम से नहीं होगा तुम्हारे बस की बात नहीं है और यही चीजें हम बार-बार सुने तो कहीं ना कहीं हमारी जो अंदर कन्फ्यूजन होता है वह टूट जाता है और हमारा विश्वास अपने आप से उठने लगता है कि सब सबको लगता है कि वह मेरे अपने में ही नहीं कर पाऊंगा तुम सकता है मुझसे काम ना हो पाए तो वहां भी कहीं ना कहीं हमारा भरोसा अपने आप से उठ जाता है दोस्तों तो दो सिचुएशन और हम सब के अलग-अलग होते हैं और अलग-अलग तरीके से इंसान का अपने आप पर भरोसा टूट जाता है या फिर देख लीजिए दोस्त कहीं एक ऐसा भी होता है कि अगर हम कुछ काम कर रहे हो जहां हम से अच्छे देखने में फिजिकल रूप से अच्छे दिखने वाले लोग हैं और अगर हमारा थोड़ा सा रंग दबा हुआ है या फिर हमारा थोड़ा सा मतलब खूबसूरती में दम है तो कहीं भरोसा उठने लगता है कि आप इतने अच्छे अच्छे लोग यहां पर हैं हम हमारा हो पाएगा कि नहीं हम कर पायेंगे कि नहीं शाम को तो हमें हमारा कहीं ना कहीं कन्फ्यूजन भरोसा थोड़ा सा तक मंगाता है विशाल है कि इंसान को अपने आप पर भरोसा नहीं टूटने देना चाहिए कोशिश करते रहना चाहिए कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती है और बस यही कहूंगी कि विश्वास से भरोसा तो उठ जाता है लेकिन फिर भी इंसान के अंदर इंसान भी 20 साल पुरानी है कुछ भी सोच सकता है कुछ भी कर सकता है और वह करने की ताकत अपना भरोसा अपना ट्रस्टी देता है हमें कि हमें खुद पर अगर विश्वास हो तो ही हम कुछ कर सकते हैं दोस्तों सब ने भरोसा को कभी टूटने ना दीजिए और चाहे कोई कुछ भी कहे अगर आपके अंदर दिल की आवाज है कि आप एक कर सकते हो तो आपको करना चाहिए और एक बार दो बार तीन बार सफलता मिलेगी लेकिन एक भी आपको जरूर मिलेगा हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • खुद पर भरोसा कैसे रखे, खुद पर भरोसा रखना क्यो जरूरी है, खुद पर भरोसा कब नही होता
URL copied to clipboard