#undefined

bolkar speaker

इस दुनिया में स्वार्थ की चकाचौंध में मानवता कहां चली गई है?

Is Duniya Mein Svarth Ki Chakachaundh Mein Maanvta Kaha Chali Gayi Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:31
विश्वास की चकाचौंध में मानवता कहां चली गई है जी नहीं माना था कहीं चली नहीं गई है आज की तारीख में भी लोगों के अंदर मानवता इंसानियत जैसे-जैसे मौजूद है यह बात बिल्कुल सही है जिसके चलते आज की तारीख में हर एक व्यक्ति अपने बारे में पहले सोचने लगा है और ऐसी ही ह्यूमन मेंटालिटी होती जा रही है इंसान की मानसिकता ऐसी ही होती जा रही है लेकिन हर तरफ से हर एक इंसान के अंदर से इंसानियत यह मानवता खत्म हो गई हो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Vishvaas kee chakaachaundh mein maanavata kahaan chalee gaee hai jee nahin maana tha kaheen chalee nahin gaee hai aaj kee taareekh mein bhee logon ke andar maanavata insaaniyat jaise-jaise maujood hai yah baat bilkul sahee hai jisake chalate aaj kee taareekh mein har ek vyakti apane baare mein pahale sochane laga hai aur aisee hee hyooman mentaalitee hotee ja rahee hai insaan kee maanasikata aisee hee hotee ja rahee hai lekin har taraph se har ek insaan ke andar se insaaniyat yah maanavata khatm ho gaee ho aisa bilkul bhee nahin hai aapaka din shubh rahe dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इस दुनिया में स्वार्थ की चकाचौंध में मानवता कहां चली गई है?Is Duniya Mein Svarth Ki Chakachaundh Mein Maanvta Kaha Chali Gayi Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:53
दुखी मन होता है यहीं पर बस बात इतना सा है कि आदमी नाम कमाने के चक्कर में व्यस्क होने के चक्कर में थोड़ा मन होता है लेकिन हर आदमी के पास है मन होता है हर आदमी के पास अच्छे बुरे समय में वह फील करता है कि उसे सही चलना चाहिए या नहीं तो सही काम करना चाहिए या नहीं उसकी करता जरूर है यह अलग बात है कि वह सील करने के बाद भी मानवता दिखाता है या नहीं तुम्हारा सही से बताओ थोड़ा उसको पहचानने का दे दे
Dukhee man hota hai yaheen par bas baat itana sa hai ki aadamee naam kamaane ke chakkar mein vyask hone ke chakkar mein thoda man hota hai lekin har aadamee ke paas hai man hota hai har aadamee ke paas achchhe bure samay mein vah pheel karata hai ki use sahee chalana chaahie ya nahin to sahee kaam karana chaahie ya nahin usakee karata jaroor hai yah alag baat hai ki vah seel karane ke baad bhee maanavata dikhaata hai ya nahin tumhaara sahee se batao thoda usako pahachaanane ka de de

bolkar speaker
इस दुनिया में स्वार्थ की चकाचौंध में मानवता कहां चली गई है?Is Duniya Mein Svarth Ki Chakachaundh Mein Maanvta Kaha Chali Gayi Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
0:52
हमसे हम उन सर का सवाल है इस दुनिया में स्वार्थ की चकाचौंध में मानवता कहां चली गई कि निश्चित तौर पर जो मानवता है कि आज क्या है कि आज देखा जाएगा जो समाज में जो भी मनुष्य कुछ करता है कुछ ना कुछ अपने स्वार्थ के लिए करते यहां तक कि वह स्वास्थ्य के लिए अपने ईमान को भी भेज देता हमें बहुत से ऐसे लोगों को देखा है क्यों निश्चित तौर पर पाया था पैसे के लिए कुछ भी कर सकते हैं कुछ भी हमेशा नहीं देखते कि मैं लोग जो मनुष्य के अंदर स्वार्थ के लिए नौकर तो निश्चित तौर पर उसे किसी चीज की जरूरत होती है नहीं अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी कर सकता है वह निश्चित तौर पर उनके साथ इतना बढ़ गया कि नहीं चित्र पर सवार थे कि अभी स्वार्थ का एक फायदा है कि निश्चित तौर पर स्वार्थ क्या है कि जो मनुष्य को आपस में बांध रखा है निश्चित तौर पर अगर हमारा आपका स्वार्थ नहीं होता तो निश्चित रूप से नाम से मतलब होता ना आप से मतलब होता तो उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Hamase ham un sar ka savaal hai is duniya mein svaarth kee chakaachaundh mein maanavata kahaan chalee gaee ki nishchit taur par jo maanavata hai ki aaj kya hai ki aaj dekha jaega jo samaaj mein jo bhee manushy kuchh karata hai kuchh na kuchh apane svaarth ke lie karate yahaan tak ki vah svaasthy ke lie apane eemaan ko bhee bhej deta hamen bahut se aise logon ko dekha hai kyon nishchit taur par paaya tha paise ke lie kuchh bhee kar sakate hain kuchh bhee hamesha nahin dekhate ki main log jo manushy ke andar svaarth ke lie naukar to nishchit taur par use kisee cheej kee jaroorat hotee hai nahin apane svaarth ke lie kuchh bhee kar sakata hai vah nishchit taur par unake saath itana badh gaya ki nahin chitr par savaar the ki abhee svaarth ka ek phaayada hai ki nishchit taur par svaarth kya hai ki jo manushy ko aapas mein baandh rakha hai nishchit taur par agar hamaara aapaka svaarth nahin hota to nishchit roop se naam se matalab hota na aap se matalab hota to ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • स्वार्थ की चकाचौंध मानवता का अर्थ
URL copied to clipboard