#undefined

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:58
गले के डॉक्टर पैसे के लिए मरीज का इलाज करते हैं या मानवता के लिए अपना उत्तरदायित्व समझकर उनका इलाज करते हैं लेकिन आज की तारीख में हर एक चीज को व्यवसाय बना लिया गया है जहां पर शिक्षा तक को नहीं छोड़ा गया है जुकेशन को भी उन्होंने लोगों ने व्यवसाय की तरह ही फिट करना शुरू कर दिया है वहां पर इलाज भी एक ऐसी ही चीज हो गई है बहुत सारे डॉक्टर ऐसे मौजूद है जो मात्र पैसे के लिए ही मरीज का इलाज करना चाहते हैं जो चाहते हैं कि वजन के पास में पेशेंट आधार है जिससे कि उनकी आमदनी होती रहे उनका बैंक बैलेंस बढ़ता है लेकिन ऐसा नहीं है कि सभी डॉक्टर ऐसे ही होते हैं आज की तारीख में भी बहुत सारे ऐसे डॉक्टर मौजूद है जो सिर्फ बेसिक फीस लेकर के दवाइयों के जो खर्चा होता है सिर्फ उतना से लेकर के अपनी फीस महीना लेते हुए मानवता के लिए भी मरीजों का इलाज करते हैं और बहुत सारे चैरिटी ऐसे भी करते हैं डॉक्टर लोग जो नहीं तो अपनी फीस लेते हैं साथ ही साथ जिस मरीज का इलाज कर रहे होते हैं उनको दवाइयां भी मुफ्त में प्रदान कराते हैं आपका दिन शुभ रहे थे निवास
Gale ke doktar paise ke lie mareej ka ilaaj karate hain ya maanavata ke lie apana uttaradaayitv samajhakar unaka ilaaj karate hain lekin aaj kee taareekh mein har ek cheej ko vyavasaay bana liya gaya hai jahaan par shiksha tak ko nahin chhoda gaya hai jukeshan ko bhee unhonne logon ne vyavasaay kee tarah hee phit karana shuroo kar diya hai vahaan par ilaaj bhee ek aisee hee cheej ho gaee hai bahut saare doktar aise maujood hai jo maatr paise ke lie hee mareej ka ilaaj karana chaahate hain jo chaahate hain ki vajan ke paas mein peshent aadhaar hai jisase ki unakee aamadanee hotee rahe unaka baink bailens badhata hai lekin aisa nahin hai ki sabhee doktar aise hee hote hain aaj kee taareekh mein bhee bahut saare aise doktar maujood hai jo sirph besik phees lekar ke davaiyon ke jo kharcha hota hai sirph utana se lekar ke apanee phees maheena lete hue maanavata ke lie bhee mareejon ka ilaaj karate hain aur bahut saare chairitee aise bhee karate hain doktar log jo nahin to apanee phees lete hain saath hee saath jis mareej ka ilaaj kar rahe hote hain unako davaiyaan bhee mupht mein pradaan karaate hain aapaka din shubh rahe the nivaas

और जवाब सुनें

Dr.Pragya Tiwari Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Dr.Pragya जी का जवाब
Medical student (future doctor)
0:44
देखिए इस दुनिया में जो भी लोग जॉब करते हैं उनका मीन व्हाट इस पैसे कमा नहीं होता है और यह बात सच भी है हमें पैसे कमाने के लिए कुछ ना कुछ काम करने की जरूरत होती है अगर डॉक्टर की बात की जाए तो उनके साथ भी ऐसा ही है वह असली टाइम रहता है कि डॉक्टर साहब पैसे कमाने के लिए मरीज का इलाज करते हैं पर इसके साथ-साथ कई बार ऐसा भी होता है जब वह सेल्सियस हो करके और किसी भी व्यक्ति का इलाज करते हैं जब भी पैसे के लिए नहीं बल्कि मानवता के लिए ऐसा करते हैं तो कई बार ऐसी कैसे देखी जाती है ऐसी घटनाएं होती रहती है लेकिन अगर बात की जाए तो पैसे कमाने के लिए ही डॉक्टर से इलाज करते हैं
Dekhie is duniya mein jo bhee log job karate hain unaka meen vhaat is paise kama nahin hota hai aur yah baat sach bhee hai hamen paise kamaane ke lie kuchh na kuchh kaam karane kee jaroorat hotee hai agar doktar kee baat kee jae to unake saath bhee aisa hee hai vah asalee taim rahata hai ki doktar saahab paise kamaane ke lie mareej ka ilaaj karate hain par isake saath-saath kaee baar aisa bhee hota hai jab vah selsiyas ho karake aur kisee bhee vyakti ka ilaaj karate hain jab bhee paise ke lie nahin balki maanavata ke lie aisa karate hain to kaee baar aisee kaise dekhee jaatee hai aisee ghatanaen hotee rahatee hai lekin agar baat kee jae to paise kamaane ke lie hee doktar se ilaaj karate hain

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:18
इस उत्तर के जवाब में आपको धैर्य पूर्वक समझने की आवश्यकता है हां सुनता से पहले की जो कंडीशन थी तब तक भारत में नैतिकता थी मानवता की इंसानियत थी पर मानता हूं कि अब एजुकेशन में पिछड़े हुए थे माना हमारा एजुकेशन बम गिरा हुआ था लेकिन उस समय एक मानवता जिंदा थी इंसानियत थी नैतिकता थी भारतीय संस्कृति के पलवल से धन कितने दीवाने नहीं तो मानव मानव की परवाह करता था क्योंकि देश में जनसंख्या कम थी इतनी आई नहीं थी जिस कदर तुम देख रहे हो क्या जो जनसंख्या वृद्धि हो रही है वह बेलगाम गति से हो रही है विस्फोटक गति से हो रही है देश के नेताओं को सत्ता की आप और सत्ता की जोड़-तोड़ से फुर्सत नहीं है कि कभी ध्यान नहीं दे रहे हैं इसलिए वेस्टर्न कल्चर इस कदर बढ़ गई है कि इसके फॉलोअर्स अधिक होते जा रहे हैं भारतीय संस्कृति लुप्त होती जा रही है भारतीय संस्कृति के संस्कार और शिष्टाचार मेहनत सभी एकदम लुप्त होते जा रहे हैं आज वेस्टर्न कल्चर का प्रभाव अधिक बढ़ रहा है और वेस्टर्न कल्चर भौतिकता वादी है वेस्टर्न कल्चर न्यू सेंट्रो का सिद्धांत सिखाती है खुदगर्जी स्वार्थ लालच से भरी हुई है इसमें हाईलिविंग विद सिंपल थिंकिंग है जबकि भारतीय संस्कृति सिंपल लिविंग हाई थिंकिंग के सिद्धांत पर टिकी हुई थी उस समय धन हाथ का मैल समझा जाता था इंसान की कीमत थी धन की कीमत नहीं थी जन को साधन समझते थे जबकि तमकुही शादी समझ लिया गया है इंसान केवल साधन हो गया है इसलिए यूज एंड थ्रो की स्थिति आ गई है इसलिए तुम आज देखे हो मुझे पुरानी डॉक्टर थे ओल्ड पीढ़ी के डॉक्टर से वह मानव को मानव समझ करके जल सेवा करते हुए धन के प्रतिनिधि लालची आगरा उनका नहीं था दुराग्रह नहीं था जबकि आज के डॉक्टर नहीं है कि तू घर बीच अकेला जमीन दे चाहे जायदाद भेज चक्की चला लेकिन तीसरा की मात्रा और पैसा ला परिणाम स्वरुप अधिकृत के डॉक्टर की लापरवाही से भी टाइप हो जाती है पहली के डॉक्टर जिंसी बीते समाजसेवी थे वह शपथ लेते थे उस शपथ को निभाते थे क्योंकि डॉक्टर से पैसा ज्वाइन करने से पहले शपथ लेनी होती है कि मैं मानवता के हित में मानवता की जन सेवा करने के लिए मैं इस पैसे को अपनाता हूं जब आज के डॉक्टर सब कुछ भूल चुके हैं उनके लिए पैसा ही माई बाप है वह सिर्फ पैसा कमाने के लिए ही यह काम जॉब करते हैं परिणाम स्वरूप तुम देखते हो कि बहुत से बहुत से डॉक्टर तो सरकारी नौकरियों की परवाह ही नहीं करते हैं उनको कोई मतलब नहीं है कि रोगी तड़प रहा है तो तब तक रोता मर जाता है लेकिन कई डॉक्टर्स को मैंने यह देखा है कि वह मोबाइल नंबर चाहिए क्योंकि मैं मानवीय संवेदनाएं बिल्कुल समाप्त हो चुकी है सहानुभूति समाप्त हो चुकी है इसलिए आज तुमने धिक्कार मानवता की बातें इस दौर में मत करो माता का उत्तर दायित्व समझकर के पहले के डॉक्टर ट्रीटमेंट किया करते थे अब के डॉक्टर में केवल 10 परसेंट डॉक्टर से आप कह सकते हो जो मानव को मानव समझते हैं कि हम मानवता का अपना दायित्व समझते हैं और वह मानव सेवा करते हैं और धर्म के प्रति दुराग्रह नहीं है बाकी 90 परसेंट डॉक्टर साहब धन के प्रति बहुत 94 ही लालची और खुदगर्ज और स्वार्थी स्वभाव के
Is uttar ke javaab mein aapako dhairy poorvak samajhane kee aavashyakata hai haan sunata se pahale kee jo kandeeshan thee tab tak bhaarat mein naitikata thee maanavata kee insaaniyat thee par maanata hoon ki ab ejukeshan mein pichhade hue the maana hamaara ejukeshan bam gira hua tha lekin us samay ek maanavata jinda thee insaaniyat thee naitikata thee bhaarateey sanskrti ke palaval se dhan kitane deevaane nahin to maanav maanav kee paravaah karata tha kyonki desh mein janasankhya kam thee itanee aaee nahin thee jis kadar tum dekh rahe ho kya jo janasankhya vrddhi ho rahee hai vah belagaam gati se ho rahee hai visphotak gati se ho rahee hai desh ke netaon ko satta kee aap aur satta kee jod-tod se phursat nahin hai ki kabhee dhyaan nahin de rahe hain isalie vestarn kalchar is kadar badh gaee hai ki isake pholoars adhik hote ja rahe hain bhaarateey sanskrti lupt hotee ja rahee hai bhaarateey sanskrti ke sanskaar aur shishtaachaar mehanat sabhee ekadam lupt hote ja rahe hain aaj vestarn kalchar ka prabhaav adhik badh raha hai aur vestarn kalchar bhautikata vaadee hai vestarn kalchar nyoo sentro ka siddhaant sikhaatee hai khudagarjee svaarth laalach se bharee huee hai isamen haeeliving vid simpal thinking hai jabaki bhaarateey sanskrti simpal living haee thinking ke siddhaant par tikee huee thee us samay dhan haath ka mail samajha jaata tha insaan kee keemat thee dhan kee keemat nahin thee jan ko saadhan samajhate the jabaki tamakuhee shaadee samajh liya gaya hai insaan keval saadhan ho gaya hai isalie yooj end thro kee sthiti aa gaee hai isalie tum aaj dekhe ho mujhe puraanee doktar the old peedhee ke doktar se vah maanav ko maanav samajh karake jal seva karate hue dhan ke pratinidhi laalachee aagara unaka nahin tha duraagrah nahin tha jabaki aaj ke doktar nahin hai ki too ghar beech akela jameen de chaahe jaayadaad bhej chakkee chala lekin teesara kee maatra aur paisa la parinaam svarup adhikrt ke doktar kee laaparavaahee se bhee taip ho jaatee hai pahalee ke doktar jinsee beete samaajasevee the vah shapath lete the us shapath ko nibhaate the kyonki doktar se paisa jvain karane se pahale shapath lenee hotee hai ki main maanavata ke hit mein maanavata kee jan seva karane ke lie main is paise ko apanaata hoon jab aaj ke doktar sab kuchh bhool chuke hain unake lie paisa hee maee baap hai vah sirph paisa kamaane ke lie hee yah kaam job karate hain parinaam svaroop tum dekhate ho ki bahut se bahut se doktar to sarakaaree naukariyon kee paravaah hee nahin karate hain unako koee matalab nahin hai ki rogee tadap raha hai to tab tak rota mar jaata hai lekin kaee doktars ko mainne yah dekha hai ki vah mobail nambar chaahie kyonki main maanaveey sanvedanaen bilkul samaapt ho chukee hai sahaanubhooti samaapt ho chukee hai isalie aaj tumane dhikkaar maanavata kee baaten is daur mein mat karo maata ka uttar daayitv samajhakar ke pahale ke doktar treetament kiya karate the ab ke doktar mein keval 10 parasent doktar se aap kah sakate ho jo maanav ko maanav samajhate hain ki ham maanavata ka apana daayitv samajhate hain aur vah maanav seva karate hain aur dharm ke prati duraagrah nahin hai baakee 90 parasent doktar saahab dhan ke prati bahut 94 hee laalachee aur khudagarj aur svaarthee svabhaav ke

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • डॉक्टर मरीज का क्या रिस्ता होता है, डॉक्टर मरीज का इलाज किस व्यवहार से करता है
URL copied to clipboard