#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:13
हेलो जीवाणु तो आज आप का सवाल है कि हम व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं इसके लिए हमें क्या करना होगा तो फिलहाल नहीं करना चाहूंगी कि लोगों को बहुत अच्छे से पता है कि उनको क्या करना है क्या नहीं करना तुमसे सबसे जबरदस्त कोई भी चीज नहीं है रुकना चाहिए मतलब आज उपवास नहीं करना चाहिए था लेकिन हम लोगों को सही रास्ते पर लाने के लिए यह कर सकते हैं अगर कर सकते हैं और ईश्वर को हर एक इंसान को याद करना चाहिए हम यह कर सकते लेकिन बहुत सारे लोग देखे क्या होते हैं इनकी भक्ति के नाम पर ऐसा ब्रेनवाश कर देते हैं कि लोग अपने-अपने में लड़ाई झगड़ा करने लगते हैं तो बांधकर ईश्वर की बनाने की है और मतलब कि ईश्वर को लोग आजकल भूलते जा रहे हैं अब देखें और नहीं जा रहे हैं तुम्हारे मम्मी पापा भी है मतलब हम लोग जब पढ़ते लिखते हैं आप टीवी देखते तो ऐसे बोलते हैं कि नहीं तुम लोग मेरे को याद नहीं करते हो यह वह सब तो आप उन्हें समझाइए कि हम इस दुनिया में हमें यह जीवन मिली है गिफ्ट मिला है ईश्वर के का यह दिन है रियल जिसके जो भी किताबें है वह पढ़ कर आप सुनाइए जब भी आप पढ़ते तो आप देश देश पढ़िए और टीवी वगैरह जेंटलमैन चलता है वह भी होने दे जो बीच में कभी कदार कोई भजन या फिर कोई भी कव्वाली है सब भी बीच में मत रखना चाहिए घर में ताकि हमें भी धर्म से है या फिर हम हमें भी ईश्वर को याद करना चाहिए जिससे मन धन से भी क्यों ना हो हमेशा को याद करना चाहिए इतने बिजी ना हो हमें उनकी निकालना चाहिए तू समझा बुझाकर बीच-बीच में यह बताने के लिए कि ईश्वर हमारे प्रति कितना कृपा दिखाते हैं और कितना कुछ हमारे लिए करते हैं तो यह सब अगर आप मत तो बताएंगे मैंने अपने आसपास कितना कुछ उन्होंने किया है आपको जिंदगी मिली है जो सबसे बड़ी बातें यह सब चीज अगर इस तरह सुने समझाने की कोशिश करेंगे तो वह खुद ही ईश्वर के प्रति प्रेम दिखाएंगे
Helo jeevaanu to aaj aap ka savaal hai ki ham vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate hain isake lie hamen kya karana hoga to philahaal nahin karana chaahoongee ki logon ko bahut achchhe se pata hai ki unako kya karana hai kya nahin karana tumase sabase jabaradast koee bhee cheej nahin hai rukana chaahie matalab aaj upavaas nahin karana chaahie tha lekin ham logon ko sahee raaste par laane ke lie yah kar sakate hain agar kar sakate hain aur eeshvar ko har ek insaan ko yaad karana chaahie ham yah kar sakate lekin bahut saare log dekhe kya hote hain inakee bhakti ke naam par aisa brenavaash kar dete hain ki log apane-apane mein ladaee jhagada karane lagate hain to baandhakar eeshvar kee banaane kee hai aur matalab ki eeshvar ko log aajakal bhoolate ja rahe hain ab dekhen aur nahin ja rahe hain tumhaare mammee paapa bhee hai matalab ham log jab padhate likhate hain aap teevee dekhate to aise bolate hain ki nahin tum log mere ko yaad nahin karate ho yah vah sab to aap unhen samajhaie ki ham is duniya mein hamen yah jeevan milee hai gipht mila hai eeshvar ke ka yah din hai riyal jisake jo bhee kitaaben hai vah padh kar aap sunaie jab bhee aap padhate to aap desh desh padhie aur teevee vagairah jentalamain chalata hai vah bhee hone de jo beech mein kabhee kadaar koee bhajan ya phir koee bhee kavvaalee hai sab bhee beech mein mat rakhana chaahie ghar mein taaki hamen bhee dharm se hai ya phir ham hamen bhee eeshvar ko yaad karana chaahie jisase man dhan se bhee kyon na ho hamesha ko yaad karana chaahie itane bijee na ho hamen unakee nikaalana chaahie too samajha bujhaakar beech-beech mein yah bataane ke lie ki eeshvar hamaare prati kitana krpa dikhaate hain aur kitana kuchh hamaare lie karate hain to yah sab agar aap mat to bataenge mainne apane aasapaas kitana kuchh unhonne kiya hai aapako jindagee milee hai jo sabase badee baaten yah sab cheej agar is tarah sune samajhaane kee koshish karenge to vah khud hee eeshvar ke prati prem dikhaenge

और जवाब सुनें

guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:45

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
भगवान ने इस संसार में आपको पैदा किए है कुछ करने के लिए तो इस संसार में सत्कर्म करने के लिए आप आए हैं केवल खाना खाकर के लिए हटके आराम करने के लिए वह मार के चले जाने के लिए नहीं आया इस मनुष्य का जीवन बहुत अमूल्य है हजारों लाखों लोगों से आप गुर्जर करके जब आप आते हैं तथा ही मनुष्य का जीवन प्राप्त होता है आपको इसलिए उस जीवन को आत्मा को परमात्मा से लिंकर के आम ब्रह्मास्मि को समझते हुए आध्यात्मिक लाइन को ध्यान रखिए लोगों की मदद कीजिए समाज की सेवा कीजिए माता पिता की सेवा कीजिए कड़ी मेहनत दूर दृष्टि पक्का इरादा अनुशासन के साथ जब अपने कार्यों का निस्तारण करेंगे ईमानदारी के साथ करेंगे तो आप भी प्रसन्न रहेंगे आपको परिवार भी प्रसन्न रहेगा समाज भी प्रसन्न रहेगा और समाज के साथ जब कंधे से कंधा मिलाकर के आप लोगों को की मदद करने का जब कार्य करेंगे तो आप सर्वश्रेष्ठ माने जाएंगे और ऐसे कार्य करने वाले लोग ही मतलब ईश्वर का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं
Bhagavaan ne is sansaar mein aapako paida kie hai kuchh karane ke lie to is sansaar mein satkarm karane ke lie aap aae hain keval khaana khaakar ke lie hatake aaraam karane ke lie vah maar ke chale jaane ke lie nahin aaya is manushy ka jeevan bahut amooly hai hajaaron laakhon logon se aap gurjar karake jab aap aate hain tatha hee manushy ka jeevan praapt hota hai aapako isalie us jeevan ko aatma ko paramaatma se linkar ke aam brahmaasmi ko samajhate hue aadhyaatmik lain ko dhyaan rakhie logon kee madad keejie samaaj kee seva keejie maata pita kee seva keejie kadee mehanat door drshti pakka iraada anushaasan ke saath jab apane kaaryon ka nistaaran karenge eemaanadaaree ke saath karenge to aap bhee prasann rahenge aapako parivaar bhee prasann rahega samaaj bhee prasann rahega aur samaaj ke saath jab kandhe se kandha milaakar ke aap logon ko kee madad karane ka jab kaary karenge to aap sarvashreshth maane jaenge aur aise kaary karane vaale log hee matalab eeshvar ka aasheervaad praapt karate hain

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:46
नमस्कार आपका सवाल है कि हम व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं इसके लिए हमें क्या करना होगा बड़ा अच्छा सवाल है आपका और आपकी सोच भी बहुत अच्छी है आप लोगों को ईश्वर से जोड़ना चाहते हैं उनकी भक्ति के बारे में बताना चाहते हैं बहुत अच्छी बात है लेकिन सबसे पहले क्या होता है आप कोई कीर्तन आयोजित कीजिए कोई भजन कीर्तन का प्रोग्राम रखे अगर आप संभव है ऐसा ऐसा कर सकते हैं तो इसके अलावा आपको लोगों में ब्रोशर बनाकर बांट सकते हैं ईश्वर के प्रति भगवान के प्रति धर्म के प्रति और उसके अलावा आप लोगों के लिए अपना भंडारा लगा सकते हैं और उनके लिए गरीबों के लिए आप कार्य कर सकते हैं और वह सामाजिक कार्य करते समय नेक कार्य करते समय आप साथ ही साथ ईश्वर का प्रचार भी कर सकते हैं तो इससे क्या होगा कि लोगों में ईश्वर के प्रति जागरूकता बढ़ेगी ईश्वर के प्रति भक्ति बढ़ेगी और अभी जो लोग नास्तिक है ईश्वर नहीं मानते किसी धर्म को नहीं मानते किसी देवी देवता को नहीं मानते तो वह लोग शायद जागरूक हो जाए और उन्हें समझाने लगे कि देखो ठीक है संसार जैसा चल रहा है वैसा चलता रहेगा और चलता है लेकिन फिर भी हमें भगवान को नहीं बोलना चाहिए ईश्वर को नहीं भूलना चाहिए और हो सके तो पूरे दिन में एक बार ईश्वर की भक्ति जरूर करनी चाहिए और किसी भी मंदिर के आगे से मस्जिद के आगे से गुरुद्वारे के आगे से निकलते हैं किसी चर्च के आगे से निकलते हैं तो हमें वहां दोनों हाथ जोड़कर अपने सर को झुका कर एक बार प्रार्थना अवश्य करनी चाहिए कि हे प्रभु हे येशु है मेरे बाबा जी आप इस संसार में कल्याण बनाए रखना लोगों का भला करो लोगों को सद्बुद्धि दो और विश्व का कल्याण हो और सभी धर्मों की जय हो यह प्रार्थना जरूर करनी चाहिए उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki ham vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate hain isake lie hamen kya karana hoga bada achchha savaal hai aapaka aur aapakee soch bhee bahut achchhee hai aap logon ko eeshvar se jodana chaahate hain unakee bhakti ke baare mein bataana chaahate hain bahut achchhee baat hai lekin sabase pahale kya hota hai aap koee keertan aayojit keejie koee bhajan keertan ka prograam rakhe agar aap sambhav hai aisa aisa kar sakate hain to isake alaava aapako logon mein broshar banaakar baant sakate hain eeshvar ke prati bhagavaan ke prati dharm ke prati aur usake alaava aap logon ke lie apana bhandaara laga sakate hain aur unake lie gareebon ke lie aap kaary kar sakate hain aur vah saamaajik kaary karate samay nek kaary karate samay aap saath hee saath eeshvar ka prachaar bhee kar sakate hain to isase kya hoga ki logon mein eeshvar ke prati jaagarookata badhegee eeshvar ke prati bhakti badhegee aur abhee jo log naastik hai eeshvar nahin maanate kisee dharm ko nahin maanate kisee devee devata ko nahin maanate to vah log shaayad jaagarook ho jae aur unhen samajhaane lage ki dekho theek hai sansaar jaisa chal raha hai vaisa chalata rahega aur chalata hai lekin phir bhee hamen bhagavaan ko nahin bolana chaahie eeshvar ko nahin bhoolana chaahie aur ho sake to poore din mein ek baar eeshvar kee bhakti jaroor karanee chaahie aur kisee bhee mandir ke aage se masjid ke aage se gurudvaare ke aage se nikalate hain kisee charch ke aage se nikalate hain to hamen vahaan donon haath jodakar apane sar ko jhuka kar ek baar praarthana avashy karanee chaahie ki he prabhu he yeshu hai mere baaba jee aap is sansaar mein kalyaan banae rakhana logon ka bhala karo logon ko sadbuddhi do aur vishv ka kalyaan ho aur sabhee dharmon kee jay ho yah praarthana jaroor karanee chaahie ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:07
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि हमें व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं तो हमें क्या करना होगा तो हम ईश्वर की भक्ति के लिए किसी को जागृत करना चाहते हैं तो हमें से बताना चाहिए कि यह सृष्टि भगवान के द्वारा बनाई हुई है भगवान के अंसारी चलती है भगवान को मानना बहुत अच्छा होता है और भगवान की पूजा करना बहुत अच्छा होता है भगवान में मन लगाना चाहिए तो हमारे सब दुख दर्द दूर हो जाते हैं ईश्वर की भक्ति के लिए प्रेस करने के लिए उन्हें रामायण की बातें बताएं महाभारत में जो अच्छी बातें हुई वह बताएं गीता की बातें बताएं सब धार्मिक ग्रंथों के बारे में बताना चाहिए कोई अच्छे भजन सुनाना चाहिए अच्छे उदाहरण देना चाहिए कि ईश्वर सबकी रक्षा करते हैं इसी प्रकार से आप को समझाना चाहिए तो लोगों के समझ में आएगा और जो बड़े-बड़े मंदिर है देखो कितनी अच्छी वहां पर भगवान रहते हैं और चमत्कार होते हैं यह सब भगवान होने का विश्वास दिलाना होगा तो आपको जवाब पसंद आए तो लाइक कीजिए का धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki hamen vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate hain to hamen kya karana hoga to ham eeshvar kee bhakti ke lie kisee ko jaagrt karana chaahate hain to hamen se bataana chaahie ki yah srshti bhagavaan ke dvaara banaee huee hai bhagavaan ke ansaaree chalatee hai bhagavaan ko maanana bahut achchha hota hai aur bhagavaan kee pooja karana bahut achchha hota hai bhagavaan mein man lagaana chaahie to hamaare sab dukh dard door ho jaate hain eeshvar kee bhakti ke lie pres karane ke lie unhen raamaayan kee baaten bataen mahaabhaarat mein jo achchhee baaten huee vah bataen geeta kee baaten bataen sab dhaarmik granthon ke baare mein bataana chaahie koee achchhe bhajan sunaana chaahie achchhe udaaharan dena chaahie ki eeshvar sabakee raksha karate hain isee prakaar se aap ko samajhaana chaahie to logon ke samajh mein aaega aur jo bade-bade mandir hai dekho kitanee achchhee vahaan par bhagavaan rahate hain aur chamatkaar hote hain yah sab bhagavaan hone ka vishvaas dilaana hoga to aapako javaab pasand aae to laik keejie ka dhanyavaad

anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:58
मेरे मत के अनुसार व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहे कोई भी लोग तो उसे यह करना चाहिए कि हर जगह जगह सत्संग भवन जोधपुर की जगह के नाम की प्रचार प्रचार प्रसार करना चाहिए और उनके सॉन्ग गाने चाहिए और उनकी उनके प्रति जो हारता भगवान के प्रति जो हमारी जवाब दिया उसके लिए उनसे मिलने प्रमाणित करके दिखाना चाहिए तथा तथा लोगों को कहना चाहिए ईश्वर की भक्ति करें तो बहुत ही फायदा है लेकिन पूरे 24 घंटे में कम से कम भगवान को पान 10 मीटर की जाए तो बहुत अच्छा और भगवान को याद नहीं करोगे तो बाद में प्रस्ताव इसलिए हमें ईश्वर का ध्यान करने के लिए हम ईश्वर की भक्ति करने के लिए हमें कम से कम 5010 मंथ देनी चाहिए उसके लिए मैं आपको बताता हूं ईश्वर का ध्यान करें तो हमें 10 से 15 मिनट बाद शाम अपने-अपने परमात्मा का ध्यान करना चाहिए एकाग्रता के माध्यम से तथा कोई व्यक्ति अधिक करना चाहे तो अधिक कर सकता है और जो कोई व्यक्ति छल कपट अब आप इनसे बचना चाहते हैं तो वह भी ईश्वर की आराधना पूजा-पाठ बत्ती कर सकता है तथा कभी भी छल कपट है या नास्तिक वाले लोग इसे कभी भी ना करें और ना ही वसीम संजय कमाई करेंगे भगवान तो हम सभी मारक क्षमता मिल जाएंगे
Mere mat ke anusaar vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahe koee bhee log to use yah karana chaahie ki har jagah jagah satsang bhavan jodhapur kee jagah ke naam kee prachaar prachaar prasaar karana chaahie aur unake song gaane chaahie aur unakee unake prati jo haarata bhagavaan ke prati jo hamaaree javaab diya usake lie unase milane pramaanit karake dikhaana chaahie tatha tatha logon ko kahana chaahie eeshvar kee bhakti karen to bahut hee phaayada hai lekin poore 24 ghante mein kam se kam bhagavaan ko paan 10 meetar kee jae to bahut achchha aur bhagavaan ko yaad nahin karoge to baad mein prastaav isalie hamen eeshvar ka dhyaan karane ke lie ham eeshvar kee bhakti karane ke lie hamen kam se kam 5010 manth denee chaahie usake lie main aapako bataata hoon eeshvar ka dhyaan karen to hamen 10 se 15 minat baad shaam apane-apane paramaatma ka dhyaan karana chaahie ekaagrata ke maadhyam se tatha koee vyakti adhik karana chaahe to adhik kar sakata hai aur jo koee vyakti chhal kapat ab aap inase bachana chaahate hain to vah bhee eeshvar kee aaraadhana pooja-paath battee kar sakata hai tatha kabhee bhee chhal kapat hai ya naastik vaale log ise kabhee bhee na karen aur na hee vaseem sanjay kamaee karenge bhagavaan to ham sabhee maarak kshamata mil jaenge

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
4:20
जी आपके अंदर ऐसा विचार आया आप ऐसा सोचते हैं लोगों के बारे में सोचते हैं और इन्हें ईश्वर के बारे में जानते हैं समझते हैं और बताना चाहते हैं लोगों को जागरुक कर आना चाहते हैं कि अच्छी बातें अच्छी सोच अच्छी विचारधारा है लेकिन आज सोच कर देखिए देखेगी सुनना नहीं चाहता है सबको लगता है कि मेरे पास बहुत ज्ञान है मुझे खुद पता है या फिर मुझे उसकी आवश्यकता नहीं है ईश्वर के पास भी इंसान कब जाता है तब जाता है ना जब उसे कोई दरख्वास्त करनी होती है कुछ मांगना होता है कुछ है यह होता है तो वह जाता है मंदिर जाता है यह करता है वह करता है या फिर अगर ईश्वर से नाराज होता है तो जाता है या फिर कंप्यूटर रूठ जाता है इमो बहुत कम है ऐसा होता है कि वह ईश्वर के पास तक जाते हैं या रोज उनको धन्यवाद करते हैं चलो मेरे पास बहुत कुछ नहीं है थोड़ा बहुत है लेकिन मेरा जीवन ठीक-ठाक से चल रहा है तो धन्यवाद भी कोई नहीं करना चाहता उसके अंदर वह भावना आती ही नहीं है जब लाइफ बहुत थक नहीं हो रही होती है बहुत अच्छा है सब कुछ चल रहा होता है तो याद ही नहीं करते इस वर्ग को वह तो जब लाइफ में कभी ठोकर मिलती है या कहीं कुछ दिक्कत परेशानी होती है हां तो भैया तो याद करते हैं कि भगवान मेरा काम बना दो या फिर बोलते हैं कि मेरे साथ ऐसा क्यों मेरे साथ ही ऐसा क्यों हो रहा है वगैरा-वगैरा इस तरीके के इंसान जितने भी लोग हैं बहुत सारे लोग हैं भाई इन लोगों को अगर आप बताना चाहते हैं जागरूक कराना चाहते हैं तो यह देख लीजिए कि आप कौन हैं कौन मतलब किस हैसियत से यकीन रिलेशन से कैस्टर कारण से वह आपकी बात सुनेंगे आप कौन हैं आप क्या करते हैं क्यों वह आपकी बात सुनना चाहेंगे आप अपनी बात उनके उनके समस्त कैसे रखेंगे सोच कर देखिए ऐसे ही जाएंगे और उन को बोलेंगे चलो आज मैं बताता हूं इसके बारे में उसके बारे में कौन सुनना चाहेगा भी आपके घर परिवार के लोग फिर भी सोने दोस्त वगैरह सुन भी नहीं उसके अलावा कौन करना चाहेगा मुश्किल है ना तो मेरा ख्याल यह है कि भाई अब ऐसी चेष्टा नहीं करनी चाहिए हां अगर आप ऐसे इसी लाइन में है ऐसी फिल्में आपका वजन वगैरा दे रहे हैं तो चलो बात समझ आती है आज दो लोग सुन रहे हैं का शक्ल 10 सुनेंगे फिर 100 1000 10000 सुनेंगे कोई दिक्कत परेशानी नहीं है लेकिन अगर आप सोचते हैं कि मैं जाकर ऐसी बात करूं तो देखिए बहुत सारे आज सोर्सेस हैं जिनसे लोगों को बहुत सारी इंफॉर्मेशन मिलती रहती है तो सोच की कमी नहीं है इंफॉर्मेशन की कमी नहीं है जहां देखेंगे वहां पर कोई ना कोई आ ज्ञान दे रहा होता है चाहे वो टीवी में हो वीडियो के जरिए वगैरा वगैरा तो बाप को यह देखना है कि मैं आप इनको सोच कर उनको क्या बोलूं किस तरीके से बोलूं वैसा करके आप प्रयास कर सकते हैं तो एक तो तरीका यह हुआ कि भाई जब आप आमने-सामने अप्रत्यक्ष रूप से अरे कर ऐसा कुछ नहीं शरीर ले सकते हैं दूसरा तरीका यह हुआ कि भाई आप अपने नॉलेज को अपने ज्ञान को अपने प्रेजेंटेशन को अपनी बात को यह वीडियो के माध्यम से यूट्यूब के जरिए फेसबुक के जरिए सोशल मीडिया के जरिए लोगों तक आप आ जाइए धीरे-धीरे आपकी फैन फॉलोइंग बढ़ती चली जाएगी लोग आपको जाने लगेंगे सुने लगेंगे समझने लगेंगे उनको आपका दृष्टिकोण समझ आने लगेगा तो डेफिनेटली आपके लिए यह आसान होगा अपना रास्ता बनाना और लोगों तक या लोगों के बीच में अप्रत्यक्ष रूप से जाना और कोई प्रोग्राम करना उनको बताना एंड तरीके से बताना कुछ भी नहीं आएंगे आप रखेंगे मेरा कांटेक्ट क्या होगा मैं किस तरीके का बात करूंगा कितनी देर का बात करूंगा किस तरीके से चीजों को प्रेजेंट करूंगा ताकि लोगों को हंसते-हंसते आसानी से समझ आ जाए यह सारी चीजें आपको देखनी पड़ेगी तो जैसे नहीं ली कुछ ना कुछ रास्ता बन जाएगा
Jee aapake andar aisa vichaar aaya aap aisa sochate hain logon ke baare mein sochate hain aur inhen eeshvar ke baare mein jaanate hain samajhate hain aur bataana chaahate hain logon ko jaagaruk kar aana chaahate hain ki achchhee baaten achchhee soch achchhee vichaaradhaara hai lekin aaj soch kar dekhie dekhegee sunana nahin chaahata hai sabako lagata hai ki mere paas bahut gyaan hai mujhe khud pata hai ya phir mujhe usakee aavashyakata nahin hai eeshvar ke paas bhee insaan kab jaata hai tab jaata hai na jab use koee darakhvaast karanee hotee hai kuchh maangana hota hai kuchh hai yah hota hai to vah jaata hai mandir jaata hai yah karata hai vah karata hai ya phir agar eeshvar se naaraaj hota hai to jaata hai ya phir kampyootar rooth jaata hai imo bahut kam hai aisa hota hai ki vah eeshvar ke paas tak jaate hain ya roj unako dhanyavaad karate hain chalo mere paas bahut kuchh nahin hai thoda bahut hai lekin mera jeevan theek-thaak se chal raha hai to dhanyavaad bhee koee nahin karana chaahata usake andar vah bhaavana aatee hee nahin hai jab laiph bahut thak nahin ho rahee hotee hai bahut achchha hai sab kuchh chal raha hota hai to yaad hee nahin karate is varg ko vah to jab laiph mein kabhee thokar milatee hai ya kaheen kuchh dikkat pareshaanee hotee hai haan to bhaiya to yaad karate hain ki bhagavaan mera kaam bana do ya phir bolate hain ki mere saath aisa kyon mere saath hee aisa kyon ho raha hai vagaira-vagaira is tareeke ke insaan jitane bhee log hain bahut saare log hain bhaee in logon ko agar aap bataana chaahate hain jaagarook karaana chaahate hain to yah dekh leejie ki aap kaun hain kaun matalab kis haisiyat se yakeen rileshan se kaistar kaaran se vah aapakee baat sunenge aap kaun hain aap kya karate hain kyon vah aapakee baat sunana chaahenge aap apanee baat unake unake samast kaise rakhenge soch kar dekhie aise hee jaenge aur un ko bolenge chalo aaj main bataata hoon isake baare mein usake baare mein kaun sunana chaahega bhee aapake ghar parivaar ke log phir bhee sone dost vagairah sun bhee nahin usake alaava kaun karana chaahega mushkil hai na to mera khyaal yah hai ki bhaee ab aisee cheshta nahin karanee chaahie haan agar aap aise isee lain mein hai aisee philmen aapaka vajan vagaira de rahe hain to chalo baat samajh aatee hai aaj do log sun rahe hain ka shakl 10 sunenge phir 100 1000 10000 sunenge koee dikkat pareshaanee nahin hai lekin agar aap sochate hain ki main jaakar aisee baat karoon to dekhie bahut saare aaj sorses hain jinase logon ko bahut saaree imphormeshan milatee rahatee hai to soch kee kamee nahin hai imphormeshan kee kamee nahin hai jahaan dekhenge vahaan par koee na koee aa gyaan de raha hota hai chaahe vo teevee mein ho veediyo ke jarie vagaira vagaira to baap ko yah dekhana hai ki main aap inako soch kar unako kya boloon kis tareeke se boloon vaisa karake aap prayaas kar sakate hain to ek to tareeka yah hua ki bhaee jab aap aamane-saamane apratyaksh roop se are kar aisa kuchh nahin shareer le sakate hain doosara tareeka yah hua ki bhaee aap apane nolej ko apane gyaan ko apane prejenteshan ko apanee baat ko yah veediyo ke maadhyam se yootyoob ke jarie phesabuk ke jarie soshal meediya ke jarie logon tak aap aa jaie dheere-dheere aapakee phain pholoing badhatee chalee jaegee log aapako jaane lagenge sune lagenge samajhane lagenge unako aapaka drshtikon samajh aane lagega to dephinetalee aapake lie yah aasaan hoga apana raasta banaana aur logon tak ya logon ke beech mein apratyaksh roop se jaana aur koee prograam karana unako bataana end tareeke se bataana kuchh bhee nahin aaenge aap rakhenge mera kaantekt kya hoga main kis tareeke ka baat karoonga kitanee der ka baat karoonga kis tareeke se cheejon ko prejent karoonga taaki logon ko hansate-hansate aasaanee se samajh aa jae yah saaree cheejen aapako dekhanee padegee to jaise nahin lee kuchh na kuchh raasta ban jaega

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:35
हैदर क्वेश्चन पूछा गया क्या व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं इसके लिए हम क्या कर सकते हैं तो ईश्वर की भक्ति वही व्यक्ति कर सकता है जो अपने मन में जो है उसके प्रति श्रद्धा हो क्योंकि हम इस तरह जो है किसी को प्रेरित कर के हम पूजा हो या कोई भी कार्य नहीं करवा सकते हैं इसके लिए जरूरी है कि उस व्यक्ति के अंदर जो हैं भगवान के प्रति श्रद्धा हो विश्वास हो तभी जो है वह व्यक्ति जो है ईश्वर की भक्ति कर सकते हैं
Haidar kveshchan poochha gaya kya vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate hain isake lie ham kya kar sakate hain to eeshvar kee bhakti vahee vyakti kar sakata hai jo apane man mein jo hai usake prati shraddha ho kyonki ham is tarah jo hai kisee ko prerit kar ke ham pooja ho ya koee bhee kaary nahin karava sakate hain isake lie jarooree hai ki us vyakti ke andar jo hain bhagavaan ke prati shraddha ho vishvaas ho tabhee jo hai vah vyakti jo hai eeshvar kee bhakti kar sakate hain

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:49
देखें ईश्वर के प्रति भक्ति के प्रति जागरूक करने के लिए पहले तो स्वयं को खुद ईश्वर का भक्ति बनाने के लिए कर्म करना होगा कि आप फोन भी करके बस्ती में सक्षम है या नहीं है पहले अपने आप को दुरुस्त कीजिए पहले अपने मन के मैल को छोड़िए और ईश्वर भक्ति सॉन्ग करिए खींचे और जब आप कुछ परिपक्व हो जाएं फोन पर कर दो परमात्मा की कृपा से ही हुआ जा सकता है हां जब आपको ऐसा लगे कि मैं कुछ किशन की भक्ति के प्रति लोगों को जागरूक कर सकता हूं तो पहले अपने दोस्तों को दूर करें और फिर लोगों को जागरूक करने का प्रयत्न करें ऐसा ना हो कि आप लोगों को भक्ति के लिए प्रेरित करें और आप में भर्ती की भावना ही ना हो इसलिए सर्वप्रथम अपने आप को सुधारने और फिर साधु समाज को सुधारने के लिए ईश्वर की भक्ति करने के लिए जागरूक कीजिए और यह देखिए कि समाज में यह लोग ईश्वर की भक्ति के लिए यह क्या सोच लिया नहीं है पहले कॉल व्यक्तिगत विचार उनकी कार्यप्रणाली सुने भक्ति गाने प्ले कीजिए ऐसा ना हो क्या भक्ति के विपरीत करते करें और लोगों पर उनके पास कांकेर में पड़ जाए तो आप उन्हीं को भक्ति के लिए प्रेरित करें पहले यह में मानवता मिस्त्री क्या मानवता को जो प्रधानता देते हैं
Dekhen eeshvar ke prati bhakti ke prati jaagarook karane ke lie pahale to svayan ko khud eeshvar ka bhakti banaane ke lie karm karana hoga ki aap phon bhee karake bastee mein saksham hai ya nahin hai pahale apane aap ko durust keejie pahale apane man ke mail ko chhodie aur eeshvar bhakti song karie kheenche aur jab aap kuchh paripakv ho jaen phon par kar do paramaatma kee krpa se hee hua ja sakata hai haan jab aapako aisa lage ki main kuchh kishan kee bhakti ke prati logon ko jaagarook kar sakata hoon to pahale apane doston ko door karen aur phir logon ko jaagarook karane ka prayatn karen aisa na ho ki aap logon ko bhakti ke lie prerit karen aur aap mein bhartee kee bhaavana hee na ho isalie sarvapratham apane aap ko sudhaarane aur phir saadhu samaaj ko sudhaarane ke lie eeshvar kee bhakti karane ke lie jaagarook keejie aur yah dekhie ki samaaj mein yah log eeshvar kee bhakti ke lie yah kya soch liya nahin hai pahale kol vyaktigat vichaar unakee kaaryapranaalee sune bhakti gaane ple keejie aisa na ho kya bhakti ke vipareet karate karen aur logon par unake paas kaanker mein pad jae to aap unheen ko bhakti ke lie prerit karen pahale yah mein maanavata mistree kya maanavata ko jo pradhaanata dete hain

Dukh kaise mite? Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
1:53
कृष्णा आपने पूछा है कि हम भक्तों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते इसके लिए हमें क्या करना चाहिए हरे कृष्णा हरि करें इसके लिए को आजकल ऐसे ऐसे जैसे भूल कर आकर सोशल मीडिया भी है उसे आप भक्ति बताएं लेकिन आप खुद स्वयं इस में जुड़े हैं और उनकी कृपा के दर्शन करें वह आगे आते हैं उनका पालन करें उपदेश दे उसको सच मानकर इस मार्ग पर चलें तब आप खुद मजबूत होंगे अदृश्य तभी सभी भक्ति बताने में आप ज्यादा कामयाब ज्यादा होंगे हर एक ऐसे विश्वरी भक्ति बताना बहुत कष्ट करें क्योंकि जीवात्मा हो तो सुखी होते होते हैं दूर से सुखी करने की सामर्थ्य आ जाती हरे कृष्णा हरे कृष्णा तो यह तो ईश्वर का काम है तो इससे प्रश्न होंगे हरे कृष्णा हरे कृष्णा आप स्वयं तो भक्ति करते होंगे औरैया भावना आपकी सुबह मैं इस भावना का बहुत आदर करता हूं हर एक रिश्ता इस प्रसाद निराकार और साकार होना शाखा देवसर कृष्ण ही है निराकार में तो विद्वानों के प्रकाश मानते हैं उनका करते हैं अलग-अलग धर्म मानते हरे कृष्ण हरे कृष्ण हरे कृष्ण आज पूरे विश्व में 300 धर्म चल रहे हैं और 600 भाषाएं बोली जाती है हरे कृष्णा जी का श्री कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण की कथाएं तो वह करे पर मैंने काफी वीडियो अपलोड किए उन्हें आप ध्यान पर उसने मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं हरे कृष्णा जी कृष्णा जी कृष्णा जी कुछ नहीं कर सकते
Krshna aapane poochha hai ki ham bhakton ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate isake lie hamen kya karana chaahie hare krshna hari karen isake lie ko aajakal aise aise jaise bhool kar aakar soshal meediya bhee hai use aap bhakti bataen lekin aap khud svayan is mein jude hain aur unakee krpa ke darshan karen vah aage aate hain unaka paalan karen upadesh de usako sach maanakar is maarg par chalen tab aap khud majaboot honge adrshy tabhee sabhee bhakti bataane mein aap jyaada kaamayaab jyaada honge har ek aise vishvaree bhakti bataana bahut kasht karen kyonki jeevaatma ho to sukhee hote hote hain door se sukhee karane kee saamarthy aa jaatee hare krshna hare krshna to yah to eeshvar ka kaam hai to isase prashn honge hare krshna hare krshna aap svayan to bhakti karate honge auraiya bhaavana aapakee subah main is bhaavana ka bahut aadar karata hoon har ek rishta is prasaad niraakaar aur saakaar hona shaakha devasar krshn hee hai niraakaar mein to vidvaanon ke prakaash maanate hain unaka karate hain alag-alag dharm maanate hare krshn hare krshn hare krshn aaj poore vishv mein 300 dharm chal rahe hain aur 600 bhaashaen bolee jaatee hai hare krshna jee ka shree krshn hare krshn krshn kee kathaen to vah kare par mainne kaaphee veediyo apalod kie unhen aap dhyaan par usane meree shubhakaamanaen aapake saath hain hare krshna jee krshna jee krshna jee kuchh nahin kar sakate

kaalki Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए kaalki जी का जवाब
Marketing executive,,deals with wellness products,,Driver,
2:44
यह सवाल पूछने वाला इंसान जरूर एक शुद्ध भक्तों है जो चाहता है कि ईश्वर के प्रति जो प्रेम भाव है वह लोगों में जगह क्योंकि आजकल पहले तो जो 62 70% लोग हैं वह ईश्वर पर विश्वास नहीं करते बाकी जो बचे हुए लोग हैं वह लालच के कारण ईश्वर पर विश्वास रखते हैं और जो कुछ परसेंटेज के बाकी बचे हुए हैं मुश्किल से दो या तीन परसेंट के जो लोग हैं वह ईश्वर को एक सही मायने में मानते हैं यार दोस्त एक आपको कहानी बताता हूं हमारे शास्त्रों में लिखा है कि कृष्ण को राधा चाहती थी और वह किसी और को चाहते थे और शादी हुई उनकी मीरा से तो कृष्ण कहते हैं की विधि का विधान तो मैं भी नहीं बदल सकता ईश्वर होते हुए भी मैं विधि का विधान नहीं पलट पाया तो तुम तो एक साधारण मनुष्य आपने कहा कि हमें क्या करना होगा तो दो हमें सिर्फ ईश्वर के लिए कार्य करने होंगे मर्द के साथ भी बात करते हैं उसे ईश्वर के बारे में बताना होगा लेकिन उसके लिए आपको पहले खुद ईश्वर को जान लेना पड़ेगा खुद ईश्वर को ढंग से समझना पड़ेगा पहले तो जो इंसान ईश्वर के पास की इच्छा के कारण आता है इसको कभी उसकी शक्तियों को नहीं समझ सकता कभी उसे स्मरण नहीं कर सकता कभी उसे महसूस नहीं कर सकता एक दिन मेरे को एक ने कहा कि एक मेरे बाबा है पता नहीं क्या नाम बताया था उन्होंने उनका अगर आपको ईश्वर परमात्मा की अनुभूति करनी तो आप उन बाबा के पास चले गए लेकिन दो यह सब बाबा गूगल लोग बेकार हैं ईश्वर ने क्या कहा ईश्वर ने कहा है मैं तो कण-कण में हूं मुझे तो मेरी अनुभूति तो आप कहीं भी प्राप्त कर सकते हैं किसी भी जगह पर तू आपको सिर्फ उसका एक सच्चे दिल से स्मरण करना है आपको यह नहीं कि मैं ईश्वर तुझे मान लूंगा तो मुझे यह मिल जाएगा या तेरे को मारने से मेरे पाप कर्म दूर हो जाएंगे या यह दूध नहीं सिर्फ अपना एक दोस्त मानो एक ऐसा दोस्त जो हमेशा तुम्हें सुनता है जो हमेशा तुम्हें सुनेगा आप हमेशा चाहते हैं कि आपको कोई ना कोई सुने आप हमेशा चाहते हैं आप हमेशा कुछ ना कुछ बोले ना कि कोई आपको सुनता है लेकिन सबसे जो बैनर है वह ईश्वर वह है गॉड तो उस पर पूरा विश्वास रखें और आपकी जो सवाल का जवाब है वह यह है कि आप जागरूक करना चाहते हैं तो भाई ईश्वर की सच्ची श्रद्धा अपने अंदर प्रेम रखिए आप अपने आप ही सब को बताते चले जाएंगे तब वह लीलाएं आपके साथ होंगी ना आप ले लो अपनी आंखों के सामने देखेंगे ईश्वर आपके साथ
Yah savaal poochhane vaala insaan jaroor ek shuddh bhakton hai jo chaahata hai ki eeshvar ke prati jo prem bhaav hai vah logon mein jagah kyonki aajakal pahale to jo 62 70% log hain vah eeshvar par vishvaas nahin karate baakee jo bache hue log hain vah laalach ke kaaran eeshvar par vishvaas rakhate hain aur jo kuchh parasentej ke baakee bache hue hain mushkil se do ya teen parasent ke jo log hain vah eeshvar ko ek sahee maayane mein maanate hain yaar dost ek aapako kahaanee bataata hoon hamaare shaastron mein likha hai ki krshn ko raadha chaahatee thee aur vah kisee aur ko chaahate the aur shaadee huee unakee meera se to krshn kahate hain kee vidhi ka vidhaan to main bhee nahin badal sakata eeshvar hote hue bhee main vidhi ka vidhaan nahin palat paaya to tum to ek saadhaaran manushy aapane kaha ki hamen kya karana hoga to do hamen sirph eeshvar ke lie kaary karane honge mard ke saath bhee baat karate hain use eeshvar ke baare mein bataana hoga lekin usake lie aapako pahale khud eeshvar ko jaan lena padega khud eeshvar ko dhang se samajhana padega pahale to jo insaan eeshvar ke paas kee ichchha ke kaaran aata hai isako kabhee usakee shaktiyon ko nahin samajh sakata kabhee use smaran nahin kar sakata kabhee use mahasoos nahin kar sakata ek din mere ko ek ne kaha ki ek mere baaba hai pata nahin kya naam bataaya tha unhonne unaka agar aapako eeshvar paramaatma kee anubhooti karanee to aap un baaba ke paas chale gae lekin do yah sab baaba googal log bekaar hain eeshvar ne kya kaha eeshvar ne kaha hai main to kan-kan mein hoon mujhe to meree anubhooti to aap kaheen bhee praapt kar sakate hain kisee bhee jagah par too aapako sirph usaka ek sachche dil se smaran karana hai aapako yah nahin ki main eeshvar tujhe maan loonga to mujhe yah mil jaega ya tere ko maarane se mere paap karm door ho jaenge ya yah doodh nahin sirph apana ek dost maano ek aisa dost jo hamesha tumhen sunata hai jo hamesha tumhen sunega aap hamesha chaahate hain ki aapako koee na koee sune aap hamesha chaahate hain aap hamesha kuchh na kuchh bole na ki koee aapako sunata hai lekin sabase jo bainar hai vah eeshvar vah hai god to us par poora vishvaas rakhen aur aapakee jo savaal ka javaab hai vah yah hai ki aap jaagarook karana chaahate hain to bhaee eeshvar kee sachchee shraddha apane andar prem rakhie aap apane aap hee sab ko bataate chale jaenge tab vah leelaen aapake saath hongee na aap le lo apanee aankhon ke saamane dekhenge eeshvar aapake saath

Abdul_Ahad  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abdul_Ahad जी का जवाब
Unknown
1:33
तो आपने पूछा है कि हम व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं इसके लिए हमें क्या करना होगा तो बहुत ही सिंपल से चीज है कि आपको यहां पर उन्हें प्रेक्टिकल करके दिखाना होगा ठीक है कि आपको किस तरह की भक्ति के लिए सामने वाले को प्रेरित करना चाह रहे हैं या जादू करना चाह रहे हैं अगर आप उस को जागरूक करना चाह रहे हैं तो आपको उस तरह से एक करना लाजिमी जैसे सपोर्ट करिए आप मुस्लिम है और आप चाहते हैं कि दूसरों को दावत दे तो आपको खुद को पहले वह सब चीजें करना होगी जैसे की नमाज पढ़ना होगी रोजे रखना होंगे जवाब देना हो कि हज करना होगा और अच्छे अमल करने होंगे जैसे पड़ोसी के साथ में अच्छा सलूक करना होगा उसके अलावा भी बहुत सारी बातें हैं और इसी तरह से यदि आप तो एक हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं तो आपको भी पूजा पाठ करना होगा उसके अंदर जो भी आपका जो धार्मिक में है उसके अंदर जाना होगा अच्छी संवेदना पत्नियों की और हर बुरे काम से इंसान को रोकना होगा और अच्छे काम की और उस को जागरुक करना होगा तो और इसी तरह से आप सिख ईसाई धर्म से ताल्लुक रखते तो अच्छी बातों का आप उसके दर पर चला फॉलो करना पड़ेगा और दूसरों को फिर बताना पड़ेगा आपको बताने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी आइडल देखेंगे तो लोग आपको देखकर जागरूक होंगे और वह खुद ही उस काम को करने के लिए आते होंगे शुक्रिया
To aapane poochha hai ki ham vyaktiyon ko eeshvar kee bhakti ke prati jaagarook karana chaahate hain isake lie hamen kya karana hoga to bahut hee simpal se cheej hai ki aapako yahaan par unhen prektikal karake dikhaana hoga theek hai ki aapako kis tarah kee bhakti ke lie saamane vaale ko prerit karana chaah rahe hain ya jaadoo karana chaah rahe hain agar aap us ko jaagarook karana chaah rahe hain to aapako us tarah se ek karana laajimee jaise saport karie aap muslim hai aur aap chaahate hain ki doosaron ko daavat de to aapako khud ko pahale vah sab cheejen karana hogee jaise kee namaaj padhana hogee roje rakhana honge javaab dena ho ki haj karana hoga aur achchhe amal karane honge jaise padosee ke saath mein achchha salook karana hoga usake alaava bhee bahut saaree baaten hain aur isee tarah se yadi aap to ek hindoo dharm se taalluk rakhate hain to aapako bhee pooja paath karana hoga usake andar jo bhee aapaka jo dhaarmik mein hai usake andar jaana hoga achchhee sanvedana patniyon kee aur har bure kaam se insaan ko rokana hoga aur achchhe kaam kee aur us ko jaagaruk karana hoga to aur isee tarah se aap sikh eesaee dharm se taalluk rakhate to achchhee baaton ka aap usake dar par chala pholo karana padega aur doosaron ko phir bataana padega aapako bataane kee jaroorat hee nahin padegee aaidal dekhenge to log aapako dekhakar jaagarook honge aur vah khud hee us kaam ko karane ke lie aate honge shukriya

Tej Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tej जी का जवाब
Unknown
1:52

Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:58
आज का सवाल बहुत ही अच्छा है बहुत ही यूज़फुल महत्वपूर्ण है कि हम व्यक्तियों को ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक करना चाहते हैं कि हमें क्या करना चाहिए तो इस तरीके के कारण है जिसके कारण आप बहुत सारी चीजें हैं जो कुछ चीजें मैं जानता हूं वह आपके साथ एक प्लेन करना चाहूंगा आप सभी के साथ कि अगर पहली बात तो सबसे अगर मैं मेन पॉइंट अगर बोलो तो किसी भी इंसान के अंदर आप कोई भी भगवान के प्रति भक्ति नहीं जगा सकता जब तक उसके मन में खुद से नहीं जाएगी अगर जैसे मान लीजिए कि आप और हनुमान जी को मानते हैं या माताजी को मानते हैं और आपके ही घर में कोई ऐसा बंदा है जो भगवान को ही नहीं मानता है तो आप चाहे कितने सालों से पूजा-पाठ करते आ रहे हैं सब कर रहे हो और आप उसे कहने को कर रहे हैं कि कम से कम हां तो जोड़ ले दिया बत्ती तो कर ले लेकिन वह नहीं करता है तो ऐसा है कि जो आज के समय है आज के समय में लोग आधुनिक टेक्नोलॉजी से इतने गिरे हुए हैं सोशल मीडिया में और ऐसी गंदगी उम्र में या फिर हम से ऐसी सिचुएशन में फंसे हुए हैं कि वह लोग समझना ही नहीं चाहते बोलो भगवान की और आने की चाहते उन लोगों को यह लगता है कि भगवान की तरफ जाना मतलब दुख है और उन लोगों को यह लगता है कि भगवान को जो मानता है वह कमजोर है तो मैं उन लोगों को आज बता देना चाहता हूं जितने भी लोग सुन रहे हैं कि भगवान को मानने वाला इंसान कभी कमजोर नहीं होता है हमें भगवान को मानना है इसलिए चाहिए क्योंकि भगवान ने में हर चीज भी हमें प्रकृति भी हमें हर चीज फ्री में दिए हमें जीवन फ्री में दिया है आंखें का नाम सब कुछ फ्री में दिया है जिन लोगों को नहीं दिया है उन लोगों के पास जा कर देखिए अगर आपके पास ऐसी जने योगिता आपको कैसा लगेगा आप कैसे जग जीवन काटेंगे तो हर दिन में भगवान का शुक्रिया करना चाहिए तो इन चीजों से लिखा गया ऐसी बातों से लेकर आप किसी इंसान को भगवान के प्रति जागरूक कर सकते हैं उसके भक्ति के की भक्ति को जगा सकते हैं उसके लिए आप को जबरदस्ती नहीं करनी है क्योंकि जबरदस्ती का प्यार हो जबरदस्ती की भक्ति कभी फलित नहीं होती हो कभी टिकते नहीं तो ईश्वर के प्रति जागरूक करना चाहते हैं तो आपको सत्संग रखना चाहिए लोगों को उसने आमंत्रित करना चाहिए लोगों को थोड़ा उनके हिसाब से भी करना चाहिए ताकि वह बोरिंग नहीं होगा जैसे अगर आप कोई भक्ति रख रहे हैं कोई भी भगवान की तो वहां आपको डीजे विजय या जो भी है जो आज के समय के अनुसार जो आज के लोगे उनके और उनके अनुसार ही सही लेकिन अगर उनको उत्पत्ति जागृत करनी है तो उनको थोड़ा उनके हिसाब से भी चलना चाहिए क्योंकि अगर आप पुरानी रामायण के टाइम के अगर वह गाने चला देंगे तो वह लोग बोर हो जाएंगे और फिर वह नहीं आएंगे दोपहर दोबारा बस्ती में तो मतलब कुछ एक क्रिएटिव आईडिया जनरेट कीजिए क्रिएटिविटी लाई है कि आप कैसे ईश्वर के प्रति जागरूकता कर सकते कि वह इन बातों को भी आप कह सकते हैं कि जो भगवान ने दिया है वह सिर्फ भगवान ने ही दिया है और उसके लिए मस्तानी फुल होना ठीक है और हम ईश्वर का धन्यवाद करना

राम सिंह Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए राम जी का जवाब
शिक्षण
1:25
नमस्कार दोस्तों मैं रामसिंग पंकज आपका सवाल है कि हम व्यक्तियों को ईश्वर के प्रति जागरूक करना चाहती स्क्रीन क्या करें दोस्तों आप पहले तो आप अपना ईश्वर का स्वरूप आपको इंग्लिश करना होगा आप किस प्रकार के गुण में भी लिख कर दे दो प्रकार की भक्ति मानी जाती है तो सगुण भक्ति मान सकते हैं एक निर्गुण भक्ति इसके अलावा मैं आपको बताता भक्ति होती होली भक्ति भक्ति के तरीके से किसी को ईश्वर के प्रति आंख मारे वह कोई काम कर रहे हैं लेकिन आप एक अच्छे प्रकाश सिंह पॉजिटिव वे में जाकर लोगों को चरित्र में उन्नति लाने के लिए और उनके आस्था में बनाने के लिए ₹20 अपनाना चाहते तो ग्रुप क्यों नहीं है आपको इसका मूल कारण ढूंढना पड़ेगा और दूसरी बात भी है आप उनके सामने शिवर का जो स्वरूप प्रस्तुत करोगे तो उनके अंदर ईश्वर के प्रति श्रद्धा और विश्व जगन्नाथ जी आप कौन के सामने ईश्वर कि वह प्रतिमा आप को दिखानी है अपनी बातों से जवाबों से तर्कों से आदिश ईश्वर का नाम लेते हो तो आपके अंदर एक आत्मविश्वास आता है जिनमें समरसता के जीवन के झोका जाने हो सकते हैं इन सब उपाय कर कर आप लोगों के सर के प्रति जागरूक कर सकते हो लेकिन किसी के प्रति जबरदस्ती करते हो तो बिल्कुल ही गलत है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ईश्वर की भक्ति ईश्वर की भक्ति के प्रति जागरूक
  • ईश्वर के प्रति सच्ची भक्ति, हम ईश्वर के प्रति कनेक्टिविटी (जागरूकता) स्थापित कैसे करें, ईश्वर के प्रति जागरूक कैसे करें
URL copied to clipboard