#भारत की राजनीति

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:23
जी इन दिल्ली आंदोलन में बैठे किसान को तेवर भी बोला जाता है यह सही नहीं है क्योंकि किसान कुछ तो इशू है वह जो फार्म बिल में है जिसकी वजह से वह कंसर्न्ड है वह तो ठीक है पर इसे लोग उसको पर टेक्स्ट कर रहे हैं तो किसान को इत्यादि कहना सरकार के लिए एक के यह निंदनीय बात है कि किसी एक देश में किसान जो सभी को खाना देता है उसको दयावती कहा जाता है धन्यवाद
Jee in dillee aandolan mein baithe kisaan ko tevar bhee bola jaata hai yah sahee nahin hai kyonki kisaan kuchh to ishoo hai vah jo phaarm bil mein hai jisakee vajah se vah kansarnd hai vah to theek hai par ise log usako par tekst kar rahe hain to kisaan ko ityaadi kahana sarakaar ke lie ek ke yah nindaneey baat hai ki kisee ek desh mein kisaan jo sabhee ko khaana deta hai usako dayaavatee kaha jaata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:36
कपासन दिल्ली में आंदोलन पर बैठे किसानों को सरकार आतंकवादी कह रही है क्या किसान आतंकवादी होते हैं तो आपको बता देते कि किसान आतंकवादी नहीं होते लेकिन किसान अपने आंदोलन करने बैठे हैं और वहां पर जो उनका आंदोलन है उसको राजनीतिक पार्टियां अपना रंग देना चाहती हैं जो खालिस्तान समर्थक ग्रुप है वह अपना रंग देना चाहता है जिससे कि सरकार के प्रेशर बनाया जा सके यहां पर किसानों को बहुत समझ तो समझ कर आगे बढ़ना होगा और दूसरों के द्वारा अपने आंदोलन को हाईजैक करने से पहचाना होगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Kapaasan dillee mein aandolan par baithe kisaanon ko sarakaar aatankavaadee kah rahee hai kya kisaan aatankavaadee hote hain to aapako bata dete ki kisaan aatankavaadee nahin hote lekin kisaan apane aandolan karane baithe hain aur vahaan par jo unaka aandolan hai usako raajaneetik paartiyaan apana rang dena chaahatee hain jo khaalistaan samarthak grup hai vah apana rang dena chaahata hai jisase ki sarakaar ke preshar banaaya ja sake yahaan par kisaanon ko bahut samajh to samajh kar aage badhana hoga aur doosaron ke dvaara apane aandolan ko haeejaik karane se pahachaana hoga main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:46
दिल्ली आंदोलन पर बैठे किसानों को सरकार सत्यवादी कह रही है और एक वीडियो पोस्ट किया था उसमें बता रहा है कि जहां पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए खालिस्तानी कह रहा है टुकड़े टुकड़े गैंग का समर्थन मिल रहा है यह सारी बातें सरकार की सही हो सकती है लेकिन सरकार को यह देखना चाहिए कि किसानों की मांगें जायज हैं और कानूनों में उन्हें सुधार करना चाहिए जो कि किसानों के हित में होना चाहिए यह नहीं देखना चाहिए कि आंदोलन करने वाले किसानों की विचारधारा कैसी है वह कौन सी पार्टी से प्रेरित हैं उनकी मांगों को देखना चाहिए और किसानों के हित में कदम उठाना चाहिए धन्यवाद
Dillee aandolan par baithe kisaanon ko sarakaar satyavaadee kah rahee hai aur ek veediyo post kiya tha usamen bata raha hai ki jahaan paakistaan jindaabaad ke naare lagae khaalistaanee kah raha hai tukade tukade gaing ka samarthan mil raha hai yah saaree baaten sarakaar kee sahee ho sakatee hai lekin sarakaar ko yah dekhana chaahie ki kisaanon kee maangen jaayaj hain aur kaanoonon mein unhen sudhaar karana chaahie jo ki kisaanon ke hit mein hona chaahie yah nahin dekhana chaahie ki aandolan karane vaale kisaanon kee vichaaradhaara kaisee hai vah kaun see paartee se prerit hain unakee maangon ko dekhana chaahie aur kisaanon ke hit mein kadam uthaana chaahie dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:53
हां बताना कि दिल्ली आंदोलन पर बैठे किसानों को सरकार हत्या वादी कह रही है क्या किस आदत याबाजी होते हैं देखिए हर सरकार में भी जो बैठे वह भी इंसान हैं हवन संजो कर रहे हैं वह भी इंसान है जिस को तकलीफ है वह अपने दुख हो रहा है जो सत्ता में बैठा है वह उसकी खिल्ली उड़ा रहा है तो जब कोई किसी का दर्द नहीं समझेगा तो एक दूसरे को कुछ भी कटाक्ष करते रहे का जिसके पैर न फटी बिवाई वो क्या जाने पीर पराई वह बैठे मंत्री बने घूम रहे हैं उनको किसानों का दर्द नहीं मालूम है सच्चाई सबको मालूम है इस बात की कि अगर किसान परेशान होगा तो पूरा भारत परेशान होगा अन्नदाता परेशान होगा अगर उनको शहीद कीमत नहीं मिलेगी और यह सब पूंजी पतियों के लिए अगर किया जाएगा तो उसके परिणाम बहुत भाई आवा हो सकते हैं किसान कहीं हत्या बाजे नहीं होता सरकार उठकर भाषा को समझ नहीं पा रही है और जबरदस्ती उनको जो है परेशान किया जा रहा है
Haan bataana ki dillee aandolan par baithe kisaanon ko sarakaar hatya vaadee kah rahee hai kya kis aadat yaabaajee hote hain dekhie har sarakaar mein bhee jo baithe vah bhee insaan hain havan sanjo kar rahe hain vah bhee insaan hai jis ko takaleeph hai vah apane dukh ho raha hai jo satta mein baitha hai vah usakee khillee uda raha hai to jab koee kisee ka dard nahin samajhega to ek doosare ko kuchh bhee kataaksh karate rahe ka jisake pair na phatee bivaee vo kya jaane peer paraee vah baithe mantree bane ghoom rahe hain unako kisaanon ka dard nahin maaloom hai sachchaee sabako maaloom hai is baat kee ki agar kisaan pareshaan hoga to poora bhaarat pareshaan hoga annadaata pareshaan hoga agar unako shaheed keemat nahin milegee aur yah sab poonjee patiyon ke lie agar kiya jaega to usake parinaam bahut bhaee aava ho sakate hain kisaan kaheen hatya baaje nahin hota sarakaar uthakar bhaasha ko samajh nahin pa rahee hai aur jabaradastee unako jo hai pareshaan kiya ja raha hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दिल्ली आंदोलन किसानों का‌ आंदोलन
URL copied to clipboard