#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते?

Kisan Bill Ke Baare Mein Logon Ko Jankari Kyun Nahin Dete
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:42
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं है जानकारी तो उसे भी जानना चाहता है और जो सचमुच किसान है वह तो अपने खेतों में मस्त हैं उन्हें जरूरत है कि किस तरह से हमारी फसल होगी पक्के 10 का भंडारण करें उसको मार्केट में बेचा गेहूं का है चना मटर इतनी सारी फसलें है सब्जी और तरह तरह के लोग झुंड बना के यहां बैठे हुए हैं बहुत सारे लोग हैं उसमें भी किसान भी है ऐसी बात नहीं है अब उन्होंने जानने की कोशिश नहीं किया है फिर तो हम नॉन नहीं दिखे 12 मुद्दे हैं जिसको मैं मानता हूं जैसे एमएसपी के लिए कानून बना लो मैं मानता हूं ठीक है और दो 12 है कि कानूनी कार्रवाई के लिए हमसे ऐड करके जुडिशरी के दूसरे हिस्सों में डिस्टिक मजिस्ट्रेट के आसपास है और दफ्तर जाए कोर्ट में जाएं और भंडारण के लिए जल व्यवस्था है सबको एकाधिकार को करने के लिए बैठ कर दो घंटा और लोगों को जानकारी दी जा रही है जानकारी लेना ही नहीं चाहते हैं उनको आप कहां से हैं
Kisaan bil ke baare mein logon ko jaanakaaree kyon nahin hai jaanakaaree to use bhee jaanana chaahata hai aur jo sachamuch kisaan hai vah to apane kheton mein mast hain unhen jaroorat hai ki kis tarah se hamaaree phasal hogee pakke 10 ka bhandaaran karen usako maarket mein becha gehoon ka hai chana matar itanee saaree phasalen hai sabjee aur tarah tarah ke log jhund bana ke yahaan baithe hue hain bahut saare log hain usamen bhee kisaan bhee hai aisee baat nahin hai ab unhonne jaanane kee koshish nahin kiya hai phir to ham non nahin dikhe 12 mudde hain jisako main maanata hoon jaise emesapee ke lie kaanoon bana lo main maanata hoon theek hai aur do 12 hai ki kaanoonee kaarravaee ke lie hamase aid karake judisharee ke doosare hisson mein distik majistret ke aasapaas hai aur daphtar jae kort mein jaen aur bhandaaran ke lie jal vyavastha hai sabako ekaadhikaar ko karane ke lie baith kar do ghanta aur logon ko jaanakaaree dee ja rahee hai jaanakaaree lena hee nahin chaahate hain unako aap kahaan se hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते?Kisan Bill Ke Baare Mein Logon Ko Jankari Kyun Nahin Dete
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:11
के बारे में लोगों की जानकारी क्यों नहीं देते सरकार अगर किसान बिल के बारे में लोगों को सही जानकारी दे दे या मीडिया से जानकारी दे दें या मंत्रालय से ही जानकारी देते हैं देश की केंद्र सरकार से जानकारी देते या मोदी जी का है जो मीडिया है वह सही जानकारी दे दे तो पूरे देश के अंदर से पानी भरते हैं अभी तो किसान आंदोलन को बदनाम किया जा रहा है इसलिए कि सरकार किसानों के हित के लिए बात कर रही है लेकिन इस किसान बिल में वास्तव में किसानों की सुखचैन किसानों की शांति किसानों को एक बंधुआ मजदूर से भी ज्यादा बना दिया गया है सीट में कानून बनाए गए हैं यह सारी जानकारी एक अपोजिशन थे तो बुराई कोई मीडिया जे तो बुरी है लेकिन जो बिकाऊ मीडिया है उसके प्ले वाली बातें बता रही है सच्चाई छुपाने
Ke baare mein logon kee jaanakaaree kyon nahin dete sarakaar agar kisaan bil ke baare mein logon ko sahee jaanakaaree de de ya meediya se jaanakaaree de den ya mantraalay se hee jaanakaaree dete hain desh kee kendr sarakaar se jaanakaaree dete ya modee jee ka hai jo meediya hai vah sahee jaanakaaree de de to poore desh ke andar se paanee bharate hain abhee to kisaan aandolan ko badanaam kiya ja raha hai isalie ki sarakaar kisaanon ke hit ke lie baat kar rahee hai lekin is kisaan bil mein vaastav mein kisaanon kee sukhachain kisaanon kee shaanti kisaanon ko ek bandhua majadoor se bhee jyaada bana diya gaya hai seet mein kaanoon banae gae hain yah saaree jaanakaaree ek apojishan the to buraee koee meediya je to buree hai lekin jo bikaoo meediya hai usake ple vaalee baaten bata rahee hai sachchaee chhupaane

bolkar speaker
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते?Kisan Bill Ke Baare Mein Logon Ko Jankari Kyun Nahin Dete
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:19
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं दे रहे हैं देखिए अभी भी साथ जो है 105 दिन से ऊपर हो गए और आंदोलन कर रहे हैं तो कहीं ना कहीं किसान बहुत ज्यादा परेशानी और राकेश टिकैत जी ने कहा है कि अभी यह आंदोलन रुकने वाला नहीं है और जब तक किसानों की मांग नहीं पूरा होगी तब तक हम पीछे नहीं हटेंगे बेशक ठंडी तक भी अगर आंदोलन जाएगा तो हम लोग तैयार हैं हमें कोई किसी चीज की परेशानी नहीं है और जहां तक की देखा जाए तो सरकार और किसान के प्रति कोई भी दोनों के बीच संविदा नहीं है जो भी बीजेपी है वह अपने कामों में लगी हुई है किसान है तो अपनी बातें को रखने के लिए परेशान हो आज उनकी कोई सुन नहीं रहा है सरकार जो है तानाशाही जैसी व्यवस्था रही है कम से कम सरकार को बात तो करनी चाहिए जाकर वहां पर कभी भी मोदी जी ऐसा नहीं किए क्या कुछ छड़ के लिए समय निकाल ले और जाकर उनसे दो बातें कर ले मुझे लगता है कि अगर मोदी जी इसकी चर्चा करें तो जरूर किसान दिन का हल निकाला जा सकता है लेकिन वह अपने राजी नहीं है और किसान भाई लोग परेशान है तो कहीं ना कहीं देखा जाए तो दोनों के बीच जो मतभेद बना हुआ है वह आज भी जा रही है दिखा जाए कब तक जारी रहेगा
Kisaan bil ke baare mein logon ko jaanakaaree kyon nahin de rahe hain dekhie abhee bhee saath jo hai 105 din se oopar ho gae aur aandolan kar rahe hain to kaheen na kaheen kisaan bahut jyaada pareshaanee aur raakesh tikait jee ne kaha hai ki abhee yah aandolan rukane vaala nahin hai aur jab tak kisaanon kee maang nahin poora hogee tab tak ham peechhe nahin hatenge beshak thandee tak bhee agar aandolan jaega to ham log taiyaar hain hamen koee kisee cheej kee pareshaanee nahin hai aur jahaan tak kee dekha jae to sarakaar aur kisaan ke prati koee bhee donon ke beech sanvida nahin hai jo bhee beejepee hai vah apane kaamon mein lagee huee hai kisaan hai to apanee baaten ko rakhane ke lie pareshaan ho aaj unakee koee sun nahin raha hai sarakaar jo hai taanaashaahee jaisee vyavastha rahee hai kam se kam sarakaar ko baat to karanee chaahie jaakar vahaan par kabhee bhee modee jee aisa nahin kie kya kuchh chhad ke lie samay nikaal le aur jaakar unase do baaten kar le mujhe lagata hai ki agar modee jee isakee charcha karen to jaroor kisaan din ka hal nikaala ja sakata hai lekin vah apane raajee nahin hai aur kisaan bhaee log pareshaan hai to kaheen na kaheen dekha jae to donon ke beech jo matabhed bana hua hai vah aaj bhee ja rahee hai dikha jae kab tak jaaree rahega

bolkar speaker
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते?Kisan Bill Ke Baare Mein Logon Ko Jankari Kyun Nahin Dete
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:02
कसम वाले किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते तो देखिए दोस्तों यदि अपने खुद के शेयर के स्तर की बात करूं तो जब भी कोई व्यक्ति किसान बिल को लेकर कि अपना बुद्धा जाहिर करते तो बिल्कुल चीज को लेकर के सहयोग किया जाता है कि दिल्ली के अंदर अहिंसा का जोधा सारी शिक्षा का भीड़ इकट्ठा करके आंदोलन की बात करते किसान बिल को लेकर परंतु आने वाले भविष्य में इसके परिणाम क्या होगा यह बहुत बेवकूफ बढ़ेगी और यह हकीकत माता उद्योग पड़ेंगे क्योंकि आप जानते हैं कि जो है उसकी खेती को लेकर के मुद्दे उठाए तो के साथ भी इन लोगों को समझ में भी काफी दिक्कत हो रही है परंतु हकीकत यह कहती है कि फ्यूचर पर जाकर के साथ जोड़ने वाले इस बिल को लेकर के लोगों का महत्व जो है वह किसानों के बीच में ज्यादा हो जाएगा जो कि भविष्य में इसके लिए खतरनाक साबित होगा यही कारण है कि रिपोर्ट लेकर के आधुनिक तो हो रहा है और साथ ही साथ अफ्रीका जो मुद्दा है कुछ बवाल खड़ा कर रखा है और जनता को समझना होगा

bolkar speaker
किसान बिल के बारे में लोगों को जानकारी क्यों नहीं देते?Kisan Bill Ke Baare Mein Logon Ko Jankari Kyun Nahin Dete
Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Sales executive
2:59
नमस्कार दोस्तों किसी सज्जन का प्रश्न है कि किसान बिल के बारे में लोगों की जानकारी क्यों नहीं देते हैं सरकार और किसानों के बीच में वार्तालाप चल रही वार्ता लाने चल रही है तो दोनों के बीच सहमति नहीं बन पा रही हैं कारण यह है कि बहुत सारे किसानों को इस बालक के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है जितनी कम क्योंकि हमारे देश के 60% से अधिक गांवों में निवास करते हैं तो उसके अंदर उसमें जो पढ़े-लिखे किसान नहीं तो बस अपनी खेती बाड़ी से अपनी उतना जमीन जमीन नहीं होने के कारण हुआ अपनी फसल को लगभग उसी अनुरूप में होती है जो उसे भरण-पोषण हो सके उसके लिए तो उतना माइंड इट नहीं करती है कि बहुत छोटे किसान लोग जो हमें विरोध करना चाहिए सरकार को वह अपने आप में खुश हैं लेकिन वैसे किसान जो अब बहुत अधिक मात्रा में उत्पादन करती है या प्लस में लोगों को एक दूसरे देशों को इंपोर्ट करती हैं इंपोर्ट करने के बाद से उन लोग को जो इकोनॉमिकल कंडीशन होती है वह बहुत ही छोटे किसान से बहुत ही हाय होती हैं तो इसलिए जो लोगों को अगर कोई तीन बिल है उनमें से मुझे एपीएमसी और पीएमसी को चिंता के है उसमें कुछ कटौती करने का एमएसपी में कटौती करने के बाद चल रही थी लेकिन एमएसपी जो है तो मैंने उसे वोटिंग कार्ड प्राइस जो थे वह सरकार से मांग मनवाने किसको किसको रहने दिया जाए तो खत्म नहीं किया लेकिन तीनों कालों का अगर सही ढंग से पढ़ा जाए तो यह क्या दुकान में से है एक एक कानून ऐसा जो आने वाले संभावनाएं को थोड़ी सी तकलीफ पहुंचा कि किसानों को सभी काम में इतना खराब नहीं है अगर सोचा जाए तो उसको एक मल्टीलेवल जो बोलते हैं उनका ऑपरेशन के साथ में जो खेती बारी किया जाता है मेरे को कंपनी उसके साथ में कंपनी को ऑर्डर देकर किसानों को किसानों को उसके अनुरूप में फसल तैयार करना पड़ता है उसके मतलब प्राइस जो है वह निर्धारित करता है वह किसान लोग निराश करेगा एक विलन बोला जाता है दूसरा भी ना बनाया था कि उसका जो अभी ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग हो गया है तो बीच में मार्केटिंग ग्राउंड जो किसान जो है क्या अपनी ऑनलाइन फसल को भेज सकता है इसे कर सकता हुआ है इसमें लेकिन किसी की जानकारी नहीं जाता खुलकर सरकार की ओर से बातचीत चल रही है लेकिन किसान है सो मारने के लिए नहीं उसको चाहिए केक के साथ तीनों किसान को बिल्कुल खत्म कर दिया जाए इस काला कानून है लेकिन जहां तक सरकार सरकार भी यह सोच रही है कि हमें क्या करना है जो हमें हमें लोगों को तकलीफों को भी जानना है लेकिन भविष्य में जो संभावना है उसको उसको तो खत्म नहीं किया और आने वाले समय में डीजे

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान बिल में क्या है,किसानों से जुड़े तीन बिलों में ऐसा क्या है,कृषि विधेयकों को लेकर देश के किसानों में बेचैनी
URL copied to clipboard