#भारत की राजनीति

Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
2:15
आपका प्रश्न है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया तो देखिए इस्तीफा देने का जो एक सबसे बड़ा कारण यह था कि लगभग 20 से 25 विधायक जो है वह एक तरफ हो गए थे और उन्होंने यह मतलब बाय इस्तीफा इनके जो है देने की मांग कर रहे थे और पूरा माहौल जुड़े पूरा उत्तराखंड का वह पूरा पूर्णता जो है वह बदल चुका था क्योंकि यह विधायक जो थे वह त्रिवेंद्र सिंह रावत जी से बहुत ज्यादा नाराज थे एक बहुत ही बड़ी बात है कि अभी भी आप कोई सरकार चला रहे हैं तो सबसे बड़ी चीज तो आपके पास यही होती है कि आप कम से कम जो अपनी ब्राउज़र आपकी जो टीम है उसे आप एकत्र करके रखें क्योंकि अगर आप अपनी टीम को एकत्र करके नहीं रखते हैं तो जाहिर सी बात है वह आपका विद्रोह करने लगेंगे और इस तरीके से जो है क्या कोई बड़ा से बड़ा नेता ही क्यों ना हो उसको उसमें इतना ही पड़ता है तो यह लगभग 9वी मुख्यमंत्री से त्रिवेंद्र सिंह रावत और इनकी पारी जो कि वह आखिरकार जयंत हुई गई लेकिन उन्होंने जो अपने कार्यकाल लगभग 4 साल का पूरा किया और त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 18 मार्च 2017 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी 9 मार्च 2030 को उनको इस्तीफा देना पड़ा मोदीनगर और वह रह जाते तो हम ही कह देते भैया इनका 4 साल पूरा हो गया बात यह थी कि बजट सत्र के दौरान शुरू हुआ था यह लगभग 86 खेल और त्रिवेंद्र के दिल्ली दौरे के बाद ही काफी गर्म हो गया था अब परिवेश में अगर देखें तो दौरे के बाद अगले ही दिन त्रिवेंद्र सिंह जो है वह दिल्ली रवाना हुए तो उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व से मिलने के लिए समय मांगा था राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी से मुलाकात भी की लेकिन वापस आते ही उनको जो है इस्तीफा सौंप देना पड़ा तो हम यह कह सकते हैं कि कहीं ना कहीं जेपी नड्डा जी ने ही इनको बोला होगा कि भैया आप जो है जाकर दिल्ली जो है इस्तीफा सौंप दीजिए और दूसरी तरफ जो है अनियंत्रित अफसरशाही भी एक कारण बताया जा रहा है इन्होंने जो इनके अफसर थे उन सभी को लगभग कंट्रोल नहीं कर पाया क्योंकि तुम का नेतृत्व नहीं कर पाए यह पूरा कारण रहा है धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki uttaraakhand ke mukhyamantree trivendr sinh raavat ne isteepha kyon diya to dekhie isteepha dene ka jo ek sabase bada kaaran yah tha ki lagabhag 20 se 25 vidhaayak jo hai vah ek taraph ho gae the aur unhonne yah matalab baay isteepha inake jo hai dene kee maang kar rahe the aur poora maahaul jude poora uttaraakhand ka vah poora poornata jo hai vah badal chuka tha kyonki yah vidhaayak jo the vah trivendr sinh raavat jee se bahut jyaada naaraaj the ek bahut hee badee baat hai ki abhee bhee aap koee sarakaar chala rahe hain to sabase badee cheej to aapake paas yahee hotee hai ki aap kam se kam jo apanee brauzar aapakee jo teem hai use aap ekatr karake rakhen kyonki agar aap apanee teem ko ekatr karake nahin rakhate hain to jaahir see baat hai vah aapaka vidroh karane lagenge aur is tareeke se jo hai kya koee bada se bada neta hee kyon na ho usako usamen itana hee padata hai to yah lagabhag 9vee mukhyamantree se trivendr sinh raavat aur inakee paaree jo ki vah aakhirakaar jayant huee gaee lekin unhonne jo apane kaaryakaal lagabhag 4 saal ka poora kiya aur trivendr sinh raavat ne 18 maarch 2017 ko mukhyamantree pad kee shapath lee thee 9 maarch 2030 ko unako isteepha dena pada modeenagar aur vah rah jaate to ham hee kah dete bhaiya inaka 4 saal poora ho gaya baat yah thee ki bajat satr ke dauraan shuroo hua tha yah lagabhag 86 khel aur trivendr ke dillee daure ke baad hee kaaphee garm ho gaya tha ab parivesh mein agar dekhen to daure ke baad agale hee din trivendr sinh jo hai vah dillee ravaana hue to unhonne kendreey netrtv se milane ke lie samay maanga tha raashtreey adhyaksh jepee nadda jee se mulaakaat bhee kee lekin vaapas aate hee unako jo hai isteepha saump dena pada to ham yah kah sakate hain ki kaheen na kaheen jepee nadda jee ne hee inako bola hoga ki bhaiya aap jo hai jaakar dillee jo hai isteepha saump deejie aur doosaree taraph jo hai aniyantrit aphasarashaahee bhee ek kaaran bataaya ja raha hai inhonne jo inake aphasar the un sabhee ko lagabhag kantrol nahin kar paaya kyonki tum ka netrtv nahin kar pae yah poora kaaran raha hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:16
टिफिन के मुख्य चरण सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया वास्तव में उनके पास जो था बाहुबली या सदन में परीक्षण के दौरान शक्ति बन को कमजोर हो गया था क्योंकि कांग्रेस के कुछ जो एमएलए थे वह उनका साथ छोड़कर बीजेपी के खेमे में शामिल हो गए अब उनके पास जो बहुमत था वह बहुमत साबित नहीं हो पाया इसलिए उन्होंने समय से पहले इस्तीफा दे दिया कि सदन में परीक्षण के दौरान उन को पराजय का सामना करना पड़े इससे उन्होंने पहली इस्तीफा दे दिया क्योंकि जब उनकी सास के लोग उनके समर्थन में नहीं खड़े हुए जबकि रावत जी ने अपनी उत्तराखंड में बहुत कार्य किया जनता के लिए पहुंच प्रशंसनीय सराहनीय कार्य किया लेकिन राजनीतिक दांव चल जाए कुछ नहीं और खास करके जो वर्तमान हालात हैं उन हालातों में उन्होंने इस्तीफा देना अपनी चांद समझे बजाए की पराजय का सामना करना उनको पड़े क्योंकि उनके पास बहुमत नहीं
Tiphin ke mukhy charan sinh raavat ne isteepha kyon diya vaastav mein unake paas jo tha baahubalee ya sadan mein pareekshan ke dauraan shakti ban ko kamajor ho gaya tha kyonki kaangres ke kuchh jo emele the vah unaka saath chhodakar beejepee ke kheme mein shaamil ho gae ab unake paas jo bahumat tha vah bahumat saabit nahin ho paaya isalie unhonne samay se pahale isteepha de diya ki sadan mein pareekshan ke dauraan un ko paraajay ka saamana karana pade isase unhonne pahalee isteepha de diya kyonki jab unakee saas ke log unake samarthan mein nahin khade hue jabaki raavat jee ne apanee uttaraakhand mein bahut kaary kiya janata ke lie pahunch prashansaneey saraahaneey kaary kiya lekin raajaneetik daanv chal jae kuchh nahin aur khaas karake jo vartamaan haalaat hain un haalaaton mein unhonne isteepha dena apanee chaand samajhe bajae kee paraajay ka saamana karana unako pade kyonki unake paas bahumat nahin

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
4:14
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया तू पहले हम जानते हैं कि जब उन्होंने 9 मार्च 2021 को जब उनसे अपनी राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलने के बाद उन्होंने अपना इस्तीफा सौंप दिया सोने के बाद बाहर निकल के जो मीडिया में उन्होंने बात किया जो विचार प्रकट किया था उससे साफ लगता है कि कहीं ना कहीं जो सियासी अंदर की बातें चल रही है जो पार्टी में मंथन चल रहा है उसका इस सबसे बड़ा कारण है उन्होंने कहा कि हम उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देते हैं और यीशु मौका है किसी और को मिलना चाहिए तो हम इस वजह से दे रहे हो कि किसी और को मिलना चाहिए और जिसकी उसे जरूरत है और दूसरी बातों में कहा कि अगर फिर भी यह मीडिया थे पूछ रहे थे कि आप कारण बताइए तो उन्होंने कहा कि अगर आपको कारण जानना है तो पहला है कि एक शाम ही विचार है जो हम ने इस्तीफा दिया है तू कहीं ना कहीं इस सामूहिक विचार है सामूहिक मतलब कि पूरे एनडीए पार्टी का सपोर्ट कर रही है उसके अलावा देखा जाए तो उन्होंने डायरेक्ट कहा केवल और कुछ जानना है इससे ज्यादा तो आप दिल्ली जाकर पता कर सकते हैं इससे यह पता चला कि हां यह चीजें लग रही हैं कहीं ना कहीं पार्टी में जो मंथन चल रहा है इसकी बहुत बड़ा कारण है और उसके नवा दिखाई जाए तो कुछ विधायक और कुछ मंत्री थे त्रिवेंद्र सिंह रावत जब से मुख्यमंत्री बने उसके बाद से ही उम्मीद नाराजगी चल रही है अब जो भी मामला रहा हो लेकिन खुलकर अभी सामने नहीं आया है वही उन्हीं की नाराजगी की वजह से जो इस्तीफा दी है यह दूसरा कारण पहला कारण यह है और दूसरा कारण है कि अगर जो मंत्री और विधायक नाराज चल रहे थे उन्होंने कहीं पार्टी से या बीजेपी एनडीए से यह बात कही थी कि अगर आगे और जो बच्चे साल उनके लगभग 1 साल है अगर रह गए तो कहीं ना कहीं पार्टी को अगला जो चुनाव है उसमें हार का सामना करना पड़ेगा पड़ेगा तो इसका सबसे बड़ा कारण जो देखा जाए यही है बीजेपी ने अपने आप को प्रस्तुत करने के लिए क्या किया किंतु इन से इस्तीफा की मांग की और उन्होंने इस्तीफा दिया क्योंकि उन्हें ऐसा बीजेपी को ऐसा लगा वीडियो कैसा लगा कि आने वाले आगामी 1 साल बाद जो चुनाव हो कहीं न कहीं यह ऐसा लग रहा है कि हमारी पार्टी को जो मिलना चाहिए वह नहीं मिला इस वजह से क्या हुआ कि उन्होंने इस्तीफा दिया और बीजेपी वालों ने मतलब कहां जाएगी पार्टी के अध्यक्ष और सभी लोग ने मांग की और जो भी नेतागण है वह मांग की इस वजह से लौटना पड़ा वहीं बैठक बुलाई गई थी उसमें साफ तौर से हारने की बात कह दी गई थी जो विधायक थे और मंत्री थे उनको एक उनकी दिल्ली जो बीजेपी नेशनल बीजेपी पार्टी के अध्यक्ष उनसे बातें हो चुकी थी और उसके अलावा त्रिवेंद्र सिंह रावत दिल्ली में गए थे दिल्ली जाने का उनका भी एक मकसद था बातचीत के लिए लेकिन बातें उनकी नहीं बनेगी वही जो राष्ट्रीय अध्यक्ष है जेपी नड्डा जी से बातें की लेकिन वह बातें जो जिस मकसद से आए थे वह नहीं बन पाई और इन्हीं अंतर क्या करना पड़ा इस्तीफा देना पड़ा तो यही अमित शाह भी उस मीटिंग में मौजूद थे लेकिन वही है कि जो भी निर्णय हुआ एक कहीं ना कहीं एक को अंदरूनी जो मंथन चल रही है उसकी वजह से और सबसे बड़ा जो कारण है कारण यह कि है कि बीजेपी को ऐसा लगा कि आने वाले आगामी चुनाव में हमारी हार होने वाली है इस वजह से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शिल्पा की मांग करवाएं और उन्होंने इस्तीफा दे दिया
Uttaraakhand ke mukhyamantree trivendr sinh raavat ne isteepha kyon diya too pahale ham jaanate hain ki jab unhonne 9 maarch 2021 ko jab unase apanee raajyapaal bebee raanee maury se milane ke baad unhonne apana isteepha saump diya sone ke baad baahar nikal ke jo meediya mein unhonne baat kiya jo vichaar prakat kiya tha usase saaph lagata hai ki kaheen na kaheen jo siyaasee andar kee baaten chal rahee hai jo paartee mein manthan chal raha hai usaka is sabase bada kaaran hai unhonne kaha ki ham uttaraakhand ke mukhyamantree pad se isteepha dete hain aur yeeshu mauka hai kisee aur ko milana chaahie to ham is vajah se de rahe ho ki kisee aur ko milana chaahie aur jisakee use jaroorat hai aur doosaree baaton mein kaha ki agar phir bhee yah meediya the poochh rahe the ki aap kaaran bataie to unhonne kaha ki agar aapako kaaran jaanana hai to pahala hai ki ek shaam hee vichaar hai jo ham ne isteepha diya hai too kaheen na kaheen is saamoohik vichaar hai saamoohik matalab ki poore enadeee paartee ka saport kar rahee hai usake alaava dekha jae to unhonne daayarekt kaha keval aur kuchh jaanana hai isase jyaada to aap dillee jaakar pata kar sakate hain isase yah pata chala ki haan yah cheejen lag rahee hain kaheen na kaheen paartee mein jo manthan chal raha hai isakee bahut bada kaaran hai aur usake nava dikhaee jae to kuchh vidhaayak aur kuchh mantree the trivendr sinh raavat jab se mukhyamantree bane usake baad se hee ummeed naaraajagee chal rahee hai ab jo bhee maamala raha ho lekin khulakar abhee saamane nahin aaya hai vahee unheen kee naaraajagee kee vajah se jo isteepha dee hai yah doosara kaaran pahala kaaran yah hai aur doosara kaaran hai ki agar jo mantree aur vidhaayak naaraaj chal rahe the unhonne kaheen paartee se ya beejepee enadeee se yah baat kahee thee ki agar aage aur jo bachche saal unake lagabhag 1 saal hai agar rah gae to kaheen na kaheen paartee ko agala jo chunaav hai usamen haar ka saamana karana padega padega to isaka sabase bada kaaran jo dekha jae yahee hai beejepee ne apane aap ko prastut karane ke lie kya kiya kintu in se isteepha kee maang kee aur unhonne isteepha diya kyonki unhen aisa beejepee ko aisa laga veediyo kaisa laga ki aane vaale aagaamee 1 saal baad jo chunaav ho kaheen na kaheen yah aisa lag raha hai ki hamaaree paartee ko jo milana chaahie vah nahin mila is vajah se kya hua ki unhonne isteepha diya aur beejepee vaalon ne matalab kahaan jaegee paartee ke adhyaksh aur sabhee log ne maang kee aur jo bhee netaagan hai vah maang kee is vajah se lautana pada vaheen baithak bulaee gaee thee usamen saaph taur se haarane kee baat kah dee gaee thee jo vidhaayak the aur mantree the unako ek unakee dillee jo beejepee neshanal beejepee paartee ke adhyaksh unase baaten ho chukee thee aur usake alaava trivendr sinh raavat dillee mein gae the dillee jaane ka unaka bhee ek makasad tha baatacheet ke lie lekin baaten unakee nahin banegee vahee jo raashtreey adhyaksh hai jepee nadda jee se baaten kee lekin vah baaten jo jis makasad se aae the vah nahin ban paee aur inheen antar kya karana pada isteepha dena pada to yahee amit shaah bhee us meeting mein maujood the lekin vahee hai ki jo bhee nirnay hua ek kaheen na kaheen ek ko andaroonee jo manthan chal rahee hai usakee vajah se aur sabase bada jo kaaran hai kaaran yah ki hai ki beejepee ko aisa laga ki aane vaale aagaamee chunaav mein hamaaree haar hone vaalee hai is vajah se mukhyamantree trivendr sinh raavat shilpa kee maang karavaen aur unhonne isteepha de diya

मनीष कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मनीष जी का जवाब
किसान
0:49
हां जी सर नमस्कार और मैं आप रो मनीष हजारों भक्तों से एक नए प्रश्न के उत्तर दे पाएंगे आप जवाब पूछे हो उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया मैं अपने बताओ चौथे भारतीय जनता पार्टी खुद से प्रॉब्लम रे कारण कुछ विधायक वरी आप से प्रॉब्लम ही वीर्य शिवेंद्र सिंह रावत जी ने इस्तीफा दिया और दूसरा जो मैंने सुना है वहां पर साधु-संतों को वह ना पसंद है तो उस वजह से वह भारतीय जनता पार्टी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत जी को तलब किया था उसी वजह से उन्होंने इस्तीफा दिया तीर्थराज सिंह रावत बने उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री बढ़िया
Haan jee sar namaskaar aur main aap ro maneesh hajaaron bhakton se ek nae prashn ke uttar de paenge aap javaab poochhe ho uttaraakhand ke mukhyamantree trivendr sinh raavat ne isteepha kyon diya main apane batao chauthe bhaarateey janata paartee khud se problam re kaaran kuchh vidhaayak varee aap se problam hee veery shivendr sinh raavat jee ne isteepha diya aur doosara jo mainne suna hai vahaan par saadhu-santon ko vah na pasand hai to us vajah se vah bhaarateey janata paartee ne trivendr sinh raavat jee ko talab kiya tha usee vajah se unhonne isteepha diya teertharaaj sinh raavat bane uttaraakhand ke nae mukhyamantree badhiya

Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:34
आपका सवाल है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि कई कारण बताइए जिसमें सबसे पहला कार्य अपने जो साथी विधायकों की नहीं छोड़ते ब्यूरो के अधिकारियों पर ज्यादा निर्भर है जिसको अपने काम को इग्नोर किया जाता है कि अगर कोई छोटा काम नहीं कराना है तो उसमें मुख्यमंत्री को चलाने वाली जब तक मुख्यमंत्री के साथ तब तक कोई छोटा काम की विधायक नहीं करवा सकते तो इन सब परिस्थितियों को देखते हुए विधायकों में काफी नाराजगी थी उन्होंने अगले इलेक्शन में भ्रष्टाचार का मामला चल रहा है सब परिस्थितियों को देखते हुए त्रिवेंद्र सिंह रावत ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है बीजेपी को प्रधानमंत्री बनाया गया उसको निकालने वाले की तो हटा दिया गाड़ी से पहले आग को बुझाते धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki uttaraakhand ke mukhyamantree trivendr sinh raavat jee aapakee jaanakaaree ke lie bata doon ki kaee kaaran bataie jisamen sabase pahala kaary apane jo saathee vidhaayakon kee nahin chhodate byooro ke adhikaariyon par jyaada nirbhar hai jisako apane kaam ko ignor kiya jaata hai ki agar koee chhota kaam nahin karaana hai to usamen mukhyamantree ko chalaane vaalee jab tak mukhyamantree ke saath tab tak koee chhota kaam kee vidhaayak nahin karava sakate to in sab paristhitiyon ko dekhate hue vidhaayakon mein kaaphee naaraajagee thee unhonne agale ilekshan mein bhrashtaachaar ka maamala chal raha hai sab paristhitiyon ko dekhate hue trivendr sinh raavat aisa bahut kam dekhane ko milata hai beejepee ko pradhaanamantree banaaya gaya usako nikaalane vaale kee to hata diya gaadee se pahale aag ko bujhaate dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:20
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आपको अपने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया है तो फ्रेंड त्रिवेंद्र सिंह रावत जी ने इसलिए इस्तीफा दिया है क्योंकि उनके आपसी पार्टी में कुछ गलत चल रही थी और कोई लड़ाई झगड़े की वजह से ही उन्होंने इस्तीफा दिया है धन्यवाद

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:34
हेलो एवरीवन आई होप आप सब ठीक होंगे प्रश्न पूछा गया उत्तराखंड का मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया है त्रिवेंद्र सिंह रावत के अलावा भी पहले दोस्त 2000 के राज्य गठन के बाद कांग्रेस के नारायण दत्त तिवारी के लावा बहुत सारे मुख्यमंत्री जो अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए थे और साथ में देखिए उन्होंने ऐसे समय में स्थित है जब कुछ दिन बाद ही उनके 4 साल के कार्यकाल पूरा होने वाला था तो पार्टी के विधायकों ने उत्तराखंड पहुंच प्रवेशिका ओं के सामने आशंका जताई थी कि यदि त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री में मुख्यमंत्री है तो पार्टी का अगला चुनाव भी को पूरी तरह से हार सकती है दिल्ली से विशेष तौर पर भेजे गए निवेशक रमन सिंह अध्यक्ष अमन कमेटी की बैठक के बाद उन्होंने अपनी रिपोर्ट अपनी जो रिपोर्ट पार्टी जो रिपोर्ट पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंपी थी तो उत्तराखंड में असंतुष्ट नेताओं के सहित बेलगाम में होती ब्यूरोक्रेसी सहित मंत्रिमंडल के विस्तार में देरी के बाद का उल्लेख किया गया है तो उसकी वजह से भी उन्होंने इस जो है अपना जो है इस्तीफा देना पड़ा उनको क्योंकि यह जो जब रिपोर्ट बनाई गई थी उसी आधार पर यह फैसला लिया गया कि उनको जो है और ग्रुप के प्रमुख विधायक सांसदों की राय के आधार पर ही केंद्रीय नेतृत्व को बताया था कि अगले साल होने वाले चुनाव को लेकर स्थिति उनके अच्छी नहीं है इस वजह से उनको जो है नई भूमिका किसी को देने की तैयारी है तो उसी वजह से उनसे इस्तीफा दिया गया आशा करता हूं आप काफी सवाल का जवाब मिल गया को लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद

Bhanu Prakash jha  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Bhanu जी का जवाब
Students
1:14

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • उत्तराखंड के मुख्यमंत्री कौन है, त्रिवेंद्र सिंह रावत कौन है, त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस्तीफा क्यों दिया
URL copied to clipboard