#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

वैराग्य कैसे होता है?

Vairagya Kaise Hota Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
वैरागी कैसे होता है भूत रोचक सवाल है लेकिन अभी जो करंट जेनरेशन जो है उसको और आने वाली आने वाली जनरेशन को इसके संबंध में ज्यादा मालूमात नहीं है यह शब्द का नाम सुनते ही वह किसी भगवाधारी साधु या सन्यासी की प्रतिमा उनके मन में आती है और उसका अर्थ व उसी तरह का होना इस तरह से लेकिन ऐसी बात नहीं है वैराग्य कैसे बात है कि जो इंसान को क्षति की ओर ले जाती वैराग्य में व्यक्ति जो होता है वह कामवासना भाई क्रोध आदि विकार होते हैं उनको वह छोड़ देता है या वह भी घर छोड़ जाते हैं और एक सुंदर सरल स्वच्छ मन की स्थिति पर निर्माण हो जाती है उसके अंदर का स्वास्थ्य ज्वाइन निकल जाता है इसके अंदर की विवेचना क्रोध निकल जाते हैं तो उसका चेहरा ही एक अलग है चमक उसके चेहरे पर दिखाई देने लगती किसी चीज पर मोहित नहीं होता और वह जरूरत से ज्यादा चीजों को हाथ रखना या मांगना अपने आप उसे छुप जाता है पूरी दुनिया को अपना घर समझता है सभी को अपना फैमिली मेंबर समझता है उसका फोटो में जो होता है वह सारी मानवता उसका कुटुंब चाहिए सभी लोगों को एक ही तरह से देखता है प्यार करता है और मदद करता है अपने आप के लिए कुछ भी नहीं लग रखता है वह हो सकता है कि पूरे देश में भ्रमण करें ताकि देश या विश्व किस तरह का है लोगों की जीवन किस प्रकार के जीने के तरीके कौन दुखी है कितना दुखी है दुखों के कारण क्या है उसके निवारण क्या है इसके बारे में वह सोच सके इसलिए तेरी कई बैरागी जोड़ते हैं बेस्ट स्वामी विवेकानंद ने उस में आते हैं उन्होंने भी पूरे भारत का भ्रमण किया था उसे ज्यादा करके बैरागी लोग ऐसी एक लड़की होती है यह मूर्ति रखने वाले लोग इस तरीके से सोचते हैं कि से वैराग्य प्राप्त होता है आ जाता है वसुंधरा कुटुंबकम रवीश वही मेरा कुटुम भैया और जो जवान छोरा कुटेला प्राणी मात्रा मराठी में संत ज्ञानेश्वर की पंक्तियां हैं इस दुनिया में सभी पुराणों माथुर सहित इंसानों को जो जो भी चाहे वो मिले सब का कल्याण संभव संभव मंगलम गौतम बुद्ध बैरागी थे अनिका आपका मंगल हो अब यह आने वाली जनरेशन को भी यह चीजें दिखाई जानी चाहिए नहीं तो आजकल हम जो देख रहे हैं वह अमेरिका का राष्ट्रपति भी जहां प्राची जनों का सीन ऐसा माना जाता है बाकी पॉलिटिकल रिजल्ट कुछ भी हो लेकिन वहां पर हंगामा तो मजा सवा 200 साल के बाद जो इंसान जो गलत रास्ते पर चल रहा है और उसमें उसका निश्चित अंत तो और भी और आज भी और अभी भी उसको बचाने के लिए कोशिश करनी चाहिए और मानवता को बचाना चाहिए जो समाज के समझदार लोग हैं उन्होंने अपनी चाहिए शिक्षा व स्थानीय व्यवस्था ने शासन व्यवस्था है गंभीरता से लेते हुए हर व्यक्ति को एक वैराग्य की स्थिति प्राप्त हो और वह भौतिक जीवन बिजी है जोरबा द बुद्धा कहा जाता है वैसा बने
Vairaagee kaise hota hai bhoot rochak savaal hai lekin abhee jo karant jenareshan jo hai usako aur aane vaalee aane vaalee janareshan ko isake sambandh mein jyaada maaloomaat nahin hai yah shabd ka naam sunate hee vah kisee bhagavaadhaaree saadhu ya sanyaasee kee pratima unake man mein aatee hai aur usaka arth va usee tarah ka hona is tarah se lekin aisee baat nahin hai vairaagy kaise baat hai ki jo insaan ko kshati kee or le jaatee vairaagy mein vyakti jo hota hai vah kaamavaasana bhaee krodh aadi vikaar hote hain unako vah chhod deta hai ya vah bhee ghar chhod jaate hain aur ek sundar saral svachchh man kee sthiti par nirmaan ho jaatee hai usake andar ka svaasthy jvain nikal jaata hai isake andar kee vivechana krodh nikal jaate hain to usaka chehara hee ek alag hai chamak usake chehare par dikhaee dene lagatee kisee cheej par mohit nahin hota aur vah jaroorat se jyaada cheejon ko haath rakhana ya maangana apane aap use chhup jaata hai pooree duniya ko apana ghar samajhata hai sabhee ko apana phaimilee membar samajhata hai usaka photo mein jo hota hai vah saaree maanavata usaka kutumb chaahie sabhee logon ko ek hee tarah se dekhata hai pyaar karata hai aur madad karata hai apane aap ke lie kuchh bhee nahin lag rakhata hai vah ho sakata hai ki poore desh mein bhraman karen taaki desh ya vishv kis tarah ka hai logon kee jeevan kis prakaar ke jeene ke tareeke kaun dukhee hai kitana dukhee hai dukhon ke kaaran kya hai usake nivaaran kya hai isake baare mein vah soch sake isalie teree kaee bairaagee jodate hain best svaamee vivekaanand ne us mein aate hain unhonne bhee poore bhaarat ka bhraman kiya tha use jyaada karake bairaagee log aisee ek ladakee hotee hai yah moorti rakhane vaale log is tareeke se sochate hain ki se vairaagy praapt hota hai aa jaata hai vasundhara kutumbakam raveesh vahee mera kutum bhaiya aur jo javaan chhora kutela praanee maatra maraathee mein sant gyaaneshvar kee panktiyaan hain is duniya mein sabhee puraanon maathur sahit insaanon ko jo jo bhee chaahe vo mile sab ka kalyaan sambhav sambhav mangalam gautam buddh bairaagee the anika aapaka mangal ho ab yah aane vaalee janareshan ko bhee yah cheejen dikhaee jaanee chaahie nahin to aajakal ham jo dekh rahe hain vah amerika ka raashtrapati bhee jahaan praachee janon ka seen aisa maana jaata hai baakee politikal rijalt kuchh bhee ho lekin vahaan par hangaama to maja sava 200 saal ke baad jo insaan jo galat raaste par chal raha hai aur usamen usaka nishchit ant to aur bhee aur aaj bhee aur abhee bhee usako bachaane ke lie koshish karanee chaahie aur maanavata ko bachaana chaahie jo samaaj ke samajhadaar log hain unhonne apanee chaahie shiksha va sthaaneey vyavastha ne shaasan vyavastha hai gambheerata se lete hue har vyakti ko ek vairaagy kee sthiti praapt ho aur vah bhautik jeevan bijee hai joraba da buddha kaha jaata hai vaisa bane

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:19
आपने पूछा बैराग्य कैसे होता है देखें विराग सदैव इराक से वैराग्य बनता है और इसका विपरीत शब्द है अनुराग का मतलब होता लगाओ किसी के प्रति ज्यादा लगाओ तो अनुराग और लगाओ खत्म हो जाए तो फिर आप यह भी अब तो तरह से होता है यह तो भगवान की कृपा से कुछ लोग जन्म जाते ही विरागी प्रवृत्ति के होते हैं उन्हें भोग विलास ज्यादा पसंद नहीं होता है समझे ना दूसरा वह लोग होते हैं जो किसी से लगाओ तो रखते लेकिन जब उनके साथ धोखा होता है इंसान के द्वारा हो चाहे परिस्थितियों के द्वारा हो जिसको दुर्भाग्य कह सकते हैं तो मन टूट जाता है जैसे गोस्वामी तुलसीदास का मन टूटा था महादेवी वर्मा जी का टूटा था तो यह लोग अनुराग से विराट की तरफ बढ़े हैं और विवेकानंद जैसे व्यक्ति जन्मजात सन्यासी थे समझे राजा जनक हुई है या रामकृष्ण परमहंस देव अनुराग में भी बिरहा से जुड़े हुए थे तो वैराग्य जो होता है वह परिस्थिति पास भी होता है जन्मजात भी होता है वह कुछ और लिख रहा जो होता है आत्म संयम से भी वैराग्य स्थापित होता है जैन मुनि जो है वह इसी के प्रतिदर्श माने जा सकते हैं
Aapane poochha bairaagy kaise hota hai dekhen viraag sadaiv iraak se vairaagy banata hai aur isaka vipareet shabd hai anuraag ka matalab hota lagao kisee ke prati jyaada lagao to anuraag aur lagao khatm ho jae to phir aap yah bhee ab to tarah se hota hai yah to bhagavaan kee krpa se kuchh log janm jaate hee viraagee pravrtti ke hote hain unhen bhog vilaas jyaada pasand nahin hota hai samajhe na doosara vah log hote hain jo kisee se lagao to rakhate lekin jab unake saath dhokha hota hai insaan ke dvaara ho chaahe paristhitiyon ke dvaara ho jisako durbhaagy kah sakate hain to man toot jaata hai jaise gosvaamee tulaseedaas ka man toota tha mahaadevee varma jee ka toota tha to yah log anuraag se viraat kee taraph badhe hain aur vivekaanand jaise vyakti janmajaat sanyaasee the samajhe raaja janak huee hai ya raamakrshn paramahans dev anuraag mein bhee biraha se jude hue the to vairaagy jo hota hai vah paristhiti paas bhee hota hai janmajaat bhee hota hai vah kuchh aur likh raha jo hota hai aatm sanyam se bhee vairaagy sthaapit hota hai jain muni jo hai vah isee ke pratidarsh maane ja sakate hain

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:54
मित्र आप का सवाल है वैराग्य कैसे होता है तो मित्रो आपके सवाल का उत्तर यह है मेरा कि वह होता है जो हमारे हिंदू और बौद्ध तथा जैन आदि दर्शनों में प्रचलित प्रसिद्ध अवधारणा होती है जिसका मोटा मोटा अर्थ यह है कि संसार की वस्तुओं एवं घरों में विरत होना जिसमें सामान्य लोग लगे रहते हैं फिर आगे भी प्लस राग से वेतन जिसका अर्थ है राग से अलग होना फिर आगे होता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Mitr aap ka savaal hai vairaagy kaise hota hai to mitro aapake savaal ka uttar yah hai mera ki vah hota hai jo hamaare hindoo aur bauddh tatha jain aadi darshanon mein prachalit prasiddh avadhaarana hotee hai jisaka mota mota arth yah hai ki sansaar kee vastuon evan gharon mein virat hona jisamen saamaany log lage rahate hain phir aage bhee plas raag se vetan jisaka arth hai raag se alag hona phir aage hota hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:50
जो मनुष्य का जीवन संतोषी हो जाता है सारी और चेतना उसके समाप्त हो जाती हैं उसको जीवन जीने के लिए साधारण खाना चाहिए तड़क-भड़क नहीं चाहिए साधारण वस्त्र चाहिए मन संतोषी हो जाता है किसी से ईर्ष्या और द्वेष नहीं रहता है तो ऐसा व्यक्ति जो है बहुत जल्दी इस चरित्र को प्राप्त करने के लिए बैराज का जीवन ले लेता है बराक के जीवन का मतलब है बिना राजविराज जिसके जीवन में कोई रागनी कोई फायदा नहीं कोई भूख ना कोई माया मोह न कोई जंजाल ना हो ऐसा आदमी जब इन सब चीजों को त्याग देता है तो बैरागी कहलाता है और इसीलिए कहा गया है कि साधु ऐसा चाहिए जैसा सुप्रभात सार सार को गहि रहे थोथा देई उड़ाय जब हम अध्यात्म की ओर जाते हैं लोग कुत्ता की ओर बढ़ते हैं तो अलौकिक शक्तियां जब हमारे दिमाग में भर जाती है और हम को ऊर्जा प्रदान करती है उसे वैराग्य
Jo manushy ka jeevan santoshee ho jaata hai saaree aur chetana usake samaapt ho jaatee hain usako jeevan jeene ke lie saadhaaran khaana chaahie tadak-bhadak nahin chaahie saadhaaran vastr chaahie man santoshee ho jaata hai kisee se eershya aur dvesh nahin rahata hai to aisa vyakti jo hai bahut jaldee is charitr ko praapt karane ke lie bairaaj ka jeevan le leta hai baraak ke jeevan ka matalab hai bina raajaviraaj jisake jeevan mein koee raaganee koee phaayada nahin koee bhookh na koee maaya moh na koee janjaal na ho aisa aadamee jab in sab cheejon ko tyaag deta hai to bairaagee kahalaata hai aur iseelie kaha gaya hai ki saadhu aisa chaahie jaisa suprabhaat saar saar ko gahi rahe thotha deee udaay jab ham adhyaatm kee or jaate hain log kutta kee or badhate hain to alaukik shaktiyaan jab hamaare dimaag mein bhar jaatee hai aur ham ko oorja pradaan karatee hai use vairaagy

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:25
राज्य हिंदू बौद्ध तथा जैन धर्म आदि प्रश्नों में प्रचलित प्रसिद्ध अवध आना है जिसका मोटा असर हिसार क्यों उन वस्तुओं एवं मत होना मैं सामान्य लोग लगे रहते हैं राज्य काल आता है वैराग्य का अर्थ व राग से विलन होना
Raajy hindoo bauddh tatha jain dharm aadi prashnon mein prachalit prasiddh avadh aana hai jisaka mota asar hisaar kyon un vastuon evan mat hona main saamaany log lage rahate hain raajy kaal aata hai vairaagy ka arth va raag se vilan hona

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
A.k.s. Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए A.k.s. जी का जवाब
Teacher
5:16
देखिए कोई भी कार्य होता है तो इंसान यह समझता है कि यह कल उसके द्वारा हो रहा है किंतु इंसान की सबसे बड़ी भूल होती हैं लिखित इंसानों को बनाने वाला जो वह परम शक्ति है जो परमात्मा है जो निरंकार है यानी कि जो कोई भी है जिसके जरिए सारा संसार चल रहा है इन्हीं संपूर्ण सृष्टि जिसके द्वारा रचित की गई है उसी के द्वारा हर इंसान को उसकी अलग अलग भूमिका दी जाती है जिसका से हम देखते हैं चलचित्र में आने की फिल्मों में एक अभिनेता एक अभिनेत्री और एक खलनायक के सभी लोग अपनी अलग अलग भूमिका निभाकर के इस फिल्म का निर्माण करते हैं उसे परमात्मा भी हम इस धरती पर भेजा है और सभी को अलग-अलग घूम कर दे रखा है चाहे छोटा सा जीव ही क्यों ना हो सभी को अपनी अपनी भूमिका निभाने के लिए उस परमात्मा ने उन्हें शरीर दिया है और सभी अपने अपने कार्यों में व्यस्त हैं यह एक प्रकार का नाटक ही है जिस्म फिल्म देखते हैं उसे परमात्मा एक कलयुग की फिल्म का निर्माण किया है कि जैसा कि फिलहाल आपका प्रश्न है कि बैरागी कैसे होता है मेरा काला पर सीधा चाहिए था कि बैरागी तभी हमारे अंदर आ सकता है जब उसकी कृपा होगी यानी कि हमारे कर्मों के द्वारा ही हमारे जो है मार्ग प्रशस्त होते हैं अगर हमारे कर्म अच्छे हैं तो हमारे मन में जो विचार होंगे वह भी अच्छे होंगे और इसी प्रकार से हम इस संसार के भौतिक सुखों को छोड़कर के वैराग्य धारण कर सकते हैं जब हमारे मन में अशांति होगी या नहीं हमारे दिल को हमारे मन को हमारे आत्मा को सुकून नहीं मिलेगा इस संसार में मतलब हमारे साले का कोई अच्छा ही आ जाए हमसे कसम मत बना लो लेकिन फिर भी हमारा मन जो होगा मन में वैराग्य भावना उत्पन्न हो गई तो और एकता उत्पन्न होगी जब उसकी मर्जी होगी इनकी जो परमात्मा जो है वह बैरागी या नहीं बैरागी एक साधु सन्यासी अगर बनने के लिए उसने लिखा है तो हम निश्चित हमारे मन में जो है वह वैराग्य की भावना आएगी और हमारे सामने हुआ है जो विश्व सुंदरी होगी वह भी हमारे लिए कुछ लगेगी तो यह सब उस परमात्मा के ऊपर होता है उसने हमको जो भी है हम अपनी भूमिका निभाते हैं यह है सच्चे मन से अपने मन पर कंट्रोल करके दिखाता है कि अगर तुम मेरी तरफ एक कदम बढ़ा रहा है इतना तेरी तरफ 10 कदम बढ़ाता हूं काम क्रोध लोभ मोह इन सब कुछ छोड़ कर के अगर अभी हम एक सरल जीवन जीने के लिए अगर अग्रसर होते हैं हम तो परमात्मा के द्वारा शास्त्री गायक कहा गया है कि अगर एक नंबर आता है तो मैं तेरी तरफ 10 कदम बढ़ा लूंगा अरे बात पूर्णता सत्य है इसी प्रकार होता है जब संसार की सारी सुख सुविधाएं हमारे लिए जो है वह कांटे के समान लगने लगती है लोग कामवासना में लिप्त रहते हैं और अनेक प्रकार के व्यंजन और भोजन पकवान खाने पीने में और शायद जीवन जो है आसाराम में बिताने के लिए मस्त रहते हैं किंतु यह सब चीजें हमारे लिए कुछ लगने लगेगी जब मेरे मन में वैराग्य की भावना आएगी बारात जब हमारे मन की आत्मा संसार की जो हमारे सुख शांति के लिए है यह सब चीज असली सुख और असली शांति में नहीं दे सकते हैं असली सुख और शांति हमें तब मिलेगी जब हम उस परमात्मा को यानी कि परमात्मा को ढूंढने परमात्मा को पाने की पहचान कर ले ऑटोमेटिक नहीं आ जाती है सनकी पता करना लेकिन वचन नहीं कर पाता है क्योंकि इसके पीछे स्वार्थ से जुड़ा होता है और वह अपने भौतिक सुखों के आनंद में इस प्रकार डूब जाता है कि उसे स्वयं की पहचान तो दूर ना तो पहचान पाता है ना तो पहचान पाता है और ऐसे में नहीं आती है त्याग करने की क्षमता होगी और हमें यह संसार जो है पूरी तरह से कष्टकारी लगेगा तब हमारे मन में यह भावना है कि हम इस संसार को छोड़कर के एकांत यानी कि शांति हो अपने आप को खोज करके उस परमात्मा विलीन होने के लिए तत्पर होंगे तब जो है बैरागी जो है आने लगेगा यानी कि जब हमें संसार में हर तरफ से हमें कष्ट मिलेगा अंधकार आ जाएगा यानी कि संसार वाले जो है तुम्हें जीने नहीं देंगे तब तुम्हारे अंदर मन में वैराग्य भावना अपना समझते हो वह अपने भी तुम्हारा साथ छोड़ करके चले जाएंगे यह तुम्हें धोखा देंगे तब तुम्हारे मन में जो है ना आ जाएगी
Dekhie koee bhee kaary hota hai to insaan yah samajhata hai ki yah kal usake dvaara ho raha hai kintu insaan kee sabase badee bhool hotee hain likhit insaanon ko banaane vaala jo vah param shakti hai jo paramaatma hai jo nirankaar hai yaanee ki jo koee bhee hai jisake jarie saara sansaar chal raha hai inheen sampoorn srshti jisake dvaara rachit kee gaee hai usee ke dvaara har insaan ko usakee alag alag bhoomika dee jaatee hai jisaka se ham dekhate hain chalachitr mein aane kee philmon mein ek abhineta ek abhinetree aur ek khalanaayak ke sabhee log apanee alag alag bhoomika nibhaakar ke is philm ka nirmaan karate hain use paramaatma bhee ham is dharatee par bheja hai aur sabhee ko alag-alag ghoom kar de rakha hai chaahe chhota sa jeev hee kyon na ho sabhee ko apanee apanee bhoomika nibhaane ke lie us paramaatma ne unhen shareer diya hai aur sabhee apane apane kaaryon mein vyast hain yah ek prakaar ka naatak hee hai jism philm dekhate hain use paramaatma ek kalayug kee philm ka nirmaan kiya hai ki jaisa ki philahaal aapaka prashn hai ki bairaagee kaise hota hai mera kaala par seedha chaahie tha ki bairaagee tabhee hamaare andar aa sakata hai jab usakee krpa hogee yaanee ki hamaare karmon ke dvaara hee hamaare jo hai maarg prashast hote hain agar hamaare karm achchhe hain to hamaare man mein jo vichaar honge vah bhee achchhe honge aur isee prakaar se ham is sansaar ke bhautik sukhon ko chhodakar ke vairaagy dhaaran kar sakate hain jab hamaare man mein ashaanti hogee ya nahin hamaare dil ko hamaare man ko hamaare aatma ko sukoon nahin milega is sansaar mein matalab hamaare saale ka koee achchha hee aa jae hamase kasam mat bana lo lekin phir bhee hamaara man jo hoga man mein vairaagy bhaavana utpann ho gaee to aur ekata utpann hogee jab usakee marjee hogee inakee jo paramaatma jo hai vah bairaagee ya nahin bairaagee ek saadhu sanyaasee agar banane ke lie usane likha hai to ham nishchit hamaare man mein jo hai vah vairaagy kee bhaavana aaegee aur hamaare saamane hua hai jo vishv sundaree hogee vah bhee hamaare lie kuchh lagegee to yah sab us paramaatma ke oopar hota hai usane hamako jo bhee hai ham apanee bhoomika nibhaate hain yah hai sachche man se apane man par kantrol karake dikhaata hai ki agar tum meree taraph ek kadam badha raha hai itana teree taraph 10 kadam badhaata hoon kaam krodh lobh moh in sab kuchh chhod kar ke agar abhee ham ek saral jeevan jeene ke lie agar agrasar hote hain ham to paramaatma ke dvaara shaastree gaayak kaha gaya hai ki agar ek nambar aata hai to main teree taraph 10 kadam badha loonga are baat poornata saty hai isee prakaar hota hai jab sansaar kee saaree sukh suvidhaen hamaare lie jo hai vah kaante ke samaan lagane lagatee hai log kaamavaasana mein lipt rahate hain aur anek prakaar ke vyanjan aur bhojan pakavaan khaane peene mein aur shaayad jeevan jo hai aasaaraam mein bitaane ke lie mast rahate hain kintu yah sab cheejen hamaare lie kuchh lagane lagegee jab mere man mein vairaagy kee bhaavana aaegee baaraat jab hamaare man kee aatma sansaar kee jo hamaare sukh shaanti ke lie hai yah sab cheej asalee sukh aur asalee shaanti mein nahin de sakate hain asalee sukh aur shaanti hamen tab milegee jab ham us paramaatma ko yaanee ki paramaatma ko dhoondhane paramaatma ko paane kee pahachaan kar le otometik nahin aa jaatee hai sanakee pata karana lekin vachan nahin kar paata hai kyonki isake peechhe svaarth se juda hota hai aur vah apane bhautik sukhon ke aanand mein is prakaar doob jaata hai ki use svayan kee pahachaan to door na to pahachaan paata hai na to pahachaan paata hai aur aise mein nahin aatee hai tyaag karane kee kshamata hogee aur hamen yah sansaar jo hai pooree tarah se kashtakaaree lagega tab hamaare man mein yah bhaavana hai ki ham is sansaar ko chhodakar ke ekaant yaanee ki shaanti ho apane aap ko khoj karake us paramaatma vileen hone ke lie tatpar honge tab jo hai bairaagee jo hai aane lagega yaanee ki jab hamen sansaar mein har taraph se hamen kasht milega andhakaar aa jaega yaanee ki sansaar vaale jo hai tumhen jeene nahin denge tab tumhaare andar man mein vairaagy bhaavana apana samajhate ho vah apane bhee tumhaara saath chhod karake chale jaenge yah tumhen dhokha denge tab tumhaare man mein jo hai na aa jaegee

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:24

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:23
सवाल यह है कि वैराग्य कैसा होता है वैराग्य हिंदू बौद्ध तथा जैन आदि दर्जनों में प्रचलित प्रसिद्ध अवधारणा है जिसका मोटा और संसार की उन वस्तुओं एवं कर्मठ होना है जिसमें सामान्य लोग लगे रहते हैं वैराग्य वीर एवं राग से व्युत्पन्न है जिसका अर्थ राग से अलग होना है
Savaal yah hai ki vairaagy kaisa hota hai vairaagy hindoo bauddh tatha jain aadi darjanon mein prachalit prasiddh avadhaarana hai jisaka mota aur sansaar kee un vastuon evan karmath hona hai jisamen saamaany log lage rahate hain vairaagy veer evan raag se vyutpann hai jisaka arth raag se alag hona hai

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:10
नमस्कार आपका प्रश्न है वैराग्य कैसे होता है तो पहले हम समझ लेते हैं फिर आगे क्या होता है वैराग्य वह होता है जो इस दुनिया के सांसारिक मोह को छोड़कर जो पूजा पाठ में और एकदम अलग साधु संत हो जाते हैं उसे ही बैरागी बोला जाता है इस दुनिया के जो सांसारिक मोह माया बंधन होते हैं जैसे माता पुत्र का रिश्ता पति पत्नी का रिश्ता यह सब छोड़कर लोग जो पैसा धन दौलत सब छोड़कर वैराग की तरफ बढ़ जाते हैं उसे ही वैराग कहते हैं पर यह से होता है कि जैसे जब किसी को किसी चीज से बिल्कुल भी मन हट जाता है या किसी रिश्ते से या किसी धन दौलत से किसी चीज से जब उसका विश्वास उठ जाता है तो वह वैराग्य की तरफ बढ़ जाता है और वह वैराग्य धारण कर लेता है वैराग आदमी को किसी से मोहनी होता है वह सिर्फ ईश्वर में ध्यान लगाते हैं और ईश्वर की करते हैं उसे सांसारिक मोह माया से कोई भी मतलब नहीं होता है तो आपको जवाब पसंद आए तो प्लीज लाइक करिएगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai vairaagy kaise hota hai to pahale ham samajh lete hain phir aage kya hota hai vairaagy vah hota hai jo is duniya ke saansaarik moh ko chhodakar jo pooja paath mein aur ekadam alag saadhu sant ho jaate hain use hee bairaagee bola jaata hai is duniya ke jo saansaarik moh maaya bandhan hote hain jaise maata putr ka rishta pati patnee ka rishta yah sab chhodakar log jo paisa dhan daulat sab chhodakar vairaag kee taraph badh jaate hain use hee vairaag kahate hain par yah se hota hai ki jaise jab kisee ko kisee cheej se bilkul bhee man hat jaata hai ya kisee rishte se ya kisee dhan daulat se kisee cheej se jab usaka vishvaas uth jaata hai to vah vairaagy kee taraph badh jaata hai aur vah vairaagy dhaaran kar leta hai vairaag aadamee ko kisee se mohanee hota hai vah sirph eeshvar mein dhyaan lagaate hain aur eeshvar kee karate hain use saansaarik moh maaya se koee bhee matalab nahin hota hai to aapako javaab pasand aae to pleej laik kariega dhanyavaad

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
भजन है वैराग्य कैसे होता है वैराग्य का मतलब यह है कि जो संसार एक रुप से हमारी मोह के बेटियां होती है उससे ब्रेकअप हो ना लाला अलग होना मेरा की भावना जागृत होती है लेकिन ऐसा नहीं होता कि उसका वैराग फोन पर होता है लेकिन हां यह जो जिस संस्थान में विघ्न कार्य की जितनी भी भर्तियां है उससे निवृत्ति पाने का उपाय वैराग पत्र बनता है कि उससे कोई राह किसी तरह का हम मन में संगठन की भावनाएं नहीं आनी चाहिए क्योंकि उनकी भाव भीड़ थी नहीं संप्रेषित होकर का कार्य करके मनुष्य के अंदर कुछ ऑफिस करती है इसलिए सिर्फ से रहित होकर कि उन्हें बैरागी पथ पर उच्च स्तर पर लाना पड़ता है और यह जब तक पूर्णता के पथ पर पूर्ण विराम तो नहीं आती तब तक इसकी गतिविधियां बढ़ती चली जाती है उसके बीच में आने वाली बहुत सी अपेक्षाएं हैं जो किसी न किसी आधार पर बांधती हैं एक चाहे कोई भी हो जब किसी को संज्ञान में होता है तो परी बंद हो जाता है अर्थात मुक्त तो जब होता है जब किसी भी पदार्थ के संसर्ग में ना रहते हुए मृत्यु पंक्ति चली जाती है और महाराष्ट्र सदन के अंदर स्थित होता है और यह बहुत समाधि की स्थिति में सहायक होती है इसलिए वैराग धारण होता लेकिन कैसे होता है तो ऐसा कभी कुछ इंसान को कोई ह्रदय में अघात पहुंचता है जिसकी वजह से वह एक दुष्ट होता है तो वह दूसरे मार्ग की ओर चल पड़ता है वह संपूर्ण त्याग करता है एक ही परेशानी की वजह से जिसको चल नहीं पाता उससे भी प्रत्यक्ष की भावना उत्पन्न हो जाती है और और उन्मुख होता है मेरा के प्रति लेकिन भैरव का अर्थ यह नहीं होता है कि अपने आप को बिल्कुल ही मिनिस्टर करता है वह बल्कि एक किसी तत्व की प्राप्ति का साधन बनता है उसमें पूर्णता आती है यही मेरा की उचित व्याख्या है धन्यवाद में
Bhajan hai vairaagy kaise hota hai vairaagy ka matalab yah hai ki jo sansaar ek rup se hamaaree moh ke betiyaan hotee hai usase brekap ho na laala alag hona mera kee bhaavana jaagrt hotee hai lekin aisa nahin hota ki usaka vairaag phon par hota hai lekin haan yah jo jis sansthaan mein vighn kaary kee jitanee bhee bhartiyaan hai usase nivrtti paane ka upaay vairaag patr banata hai ki usase koee raah kisee tarah ka ham man mein sangathan kee bhaavanaen nahin aanee chaahie kyonki unakee bhaav bheed thee nahin sampreshit hokar ka kaary karake manushy ke andar kuchh ophis karatee hai isalie sirph se rahit hokar ki unhen bairaagee path par uchch star par laana padata hai aur yah jab tak poornata ke path par poorn viraam to nahin aatee tab tak isakee gatividhiyaan badhatee chalee jaatee hai usake beech mein aane vaalee bahut see apekshaen hain jo kisee na kisee aadhaar par baandhatee hain ek chaahe koee bhee ho jab kisee ko sangyaan mein hota hai to paree band ho jaata hai arthaat mukt to jab hota hai jab kisee bhee padaarth ke sansarg mein na rahate hue mrtyu pankti chalee jaatee hai aur mahaaraashtr sadan ke andar sthit hota hai aur yah bahut samaadhi kee sthiti mein sahaayak hotee hai isalie vairaag dhaaran hota lekin kaise hota hai to aisa kabhee kuchh insaan ko koee hraday mein aghaat pahunchata hai jisakee vajah se vah ek dusht hota hai to vah doosare maarg kee or chal padata hai vah sampoorn tyaag karata hai ek hee pareshaanee kee vajah se jisako chal nahin paata usase bhee pratyaksh kee bhaavana utpann ho jaatee hai aur aur unmukh hota hai mera ke prati lekin bhairav ka arth yah nahin hota hai ki apane aap ko bilkul hee ministar karata hai vah balki ek kisee tatv kee praapti ka saadhan banata hai usamen poornata aatee hai yahee mera kee uchit vyaakhya hai dhanyavaad mein

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:29
बरसाने की राधा जी के चरणों में प्रणाम ओपन कर्म की प्रधान आदि से संबंधित लोग मिथिला प्राइस प्रसंस्करण सकते हैं दार्जिलिंग वाला
Barasaane kee raadha jee ke charanon mein pranaam opan karm kee pradhaan aadi se sambandhit log mithila prais prasanskaran sakate hain daarjiling vaala

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वैराग्य के बारे में जानकारी वैराग्य कैसा होता है
URL copied to clipboard