#जीवन शैली

Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
2:13
नमस्कार मेरा नाम है वैष्णवी और आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल पर जवाब करने वाले आप बोलकर पर सवाल किया है कि प्राचीन भारत के अपेक्षा आधुनिक भारत में भारतीय महिला अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करती है आपके सवाल जो है वह ज्यादा भारी है और मैं उसका आंसर कैसे करूंगी मुझे नहीं पता कैसे भी मेरे दिल में जो आ रहा है मुझसे बोलती चली जा रही हूं तो आप जरूर अंत तक सुनिए गा और मुझे कमेंट में जरूर बताइएगा कि आपको मेरा आंसर जो है वह कैसा लगा के बाद कहीं तो आप रोज अखबार पढ़ते हैं रोज टीवी देखते हैं आपको क्या लगता है कि महिलाएं सुरक्षित है भारत में मुझे तो ऐसा नहीं लगता कि महिलाएं सुरक्षित है भारत में 18 साल की महिला हो 25 साल की महिला हो खेसारी की लड़की हो होता तो उसके साथ वही तो आधुनिक भारत में महिलाएं जो है वह तो सुरक्षित नहीं है अब बात करते हैं प्राचीन भारत की तो देखिए प्राचीन भारत में में थी नहीं तो मैं कुछ कह नहीं सकती हूं आपको ज्यादा पता नहीं सकती उनकी क्या था क्या नहीं था पर जितना मैंने पाया है समझा यह जाना है उस अनुसार मैं आपको बताऊं तो महिलाओं की स्थिति जो है वह हमेशा से ही ऐसी रही है वह कभी भी सुरक्षित नहीं रही है उदाहरण के तौर पर आप अहिल्या का उदाहरण ले लें अहिल्या जो है वह ऋषि गौतम की पत्नी थी और बेहद खूबसूरत नारी थी वह फिर क्या हुआ कि 1 दिन राजा इंद्र का मन है उन्होंने चंद्रमा को पैरवी के लिए लगाया दृश्य गौतम का रूप धारण करता है महिला के साथ दुराचार करते हैं उनके तो आप कैसे कह सकते हैं कि प्राचीन भारत में महिलाएं जो है वह खुद को सुरक्षित महसूस करती थी और दूसरा उदाहरण आप द्रौपदी का ले लीजिए द्रौपदी जो है वह अपने घर में ही सुरक्षित नहीं रह पाई तो भारत जो है वो एक बहुत बड़ा क्षेत्र है पूरे भारत की बात करनी छोड़ देनी चाहिए जब एक महिला अपने घर में ही सुरक्षित नहीं रह पा रही है तो मुझे उम्मीद है आपको आपके प्रश्न का जवाब मिल गया होगा धन्यवाद
Namaskaar mera naam hai vaishnavee aur aap mujhe sun rahe hain bhaarat ke nambar ek savaal par javaab karane vaale aap bolakar par savaal kiya hai ki praacheen bhaarat ke apeksha aadhunik bhaarat mein bhaarateey mahila apane aap ko kitana surakshit mahasoos karatee hai aapake savaal jo hai vah jyaada bhaaree hai aur main usaka aansar kaise karoongee mujhe nahin pata kaise bhee mere dil mein jo aa raha hai mujhase bolatee chalee ja rahee hoon to aap jaroor ant tak sunie ga aur mujhe kament mein jaroor bataiega ki aapako mera aansar jo hai vah kaisa laga ke baad kaheen to aap roj akhabaar padhate hain roj teevee dekhate hain aapako kya lagata hai ki mahilaen surakshit hai bhaarat mein mujhe to aisa nahin lagata ki mahilaen surakshit hai bhaarat mein 18 saal kee mahila ho 25 saal kee mahila ho khesaaree kee ladakee ho hota to usake saath vahee to aadhunik bhaarat mein mahilaen jo hai vah to surakshit nahin hai ab baat karate hain praacheen bhaarat kee to dekhie praacheen bhaarat mein mein thee nahin to main kuchh kah nahin sakatee hoon aapako jyaada pata nahin sakatee unakee kya tha kya nahin tha par jitana mainne paaya hai samajha yah jaana hai us anusaar main aapako bataoon to mahilaon kee sthiti jo hai vah hamesha se hee aisee rahee hai vah kabhee bhee surakshit nahin rahee hai udaaharan ke taur par aap ahilya ka udaaharan le len ahilya jo hai vah rshi gautam kee patnee thee aur behad khoobasoorat naaree thee vah phir kya hua ki 1 din raaja indr ka man hai unhonne chandrama ko pairavee ke lie lagaaya drshy gautam ka roop dhaaran karata hai mahila ke saath duraachaar karate hain unake to aap kaise kah sakate hain ki praacheen bhaarat mein mahilaen jo hai vah khud ko surakshit mahasoos karatee thee aur doosara udaaharan aap draupadee ka le leejie draupadee jo hai vah apane ghar mein hee surakshit nahin rah paee to bhaarat jo hai vo ek bahut bada kshetr hai poore bhaarat kee baat karanee chhod denee chaahie jab ek mahila apane ghar mein hee surakshit nahin rah pa rahee hai to mujhe ummeed hai aapako aapake prashn ka javaab mil gaya hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:53
वाले प्राचीन भारत के अध्यक्ष आधुनिक भारत में महिलाएं अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करती है दोस्त प्राचीन भारत की बात करें तो उस समय के लोग थे उनके अंदर सभ्यता संस्कृति सारी चीजें समायोजित अर्थ जानते हैं जब सभ्यता और संस्कृति का प्रश्न उत्तर भारत में लोग समय अपने आप को काफी ज्यादा सुरक्षित महसूस करती थी पर बात करें घरेलू कुछ और काम हर जगह नहीं अभी आधुनिक भारत के बात करें तो कहा जाता है कि महिलाओं को यहां पर भी कानून जो है वह सम्मान देते हैं और वो तो रिजर्वेशन है और सुरक्षा की जान तक बात कीजिए महिलाओं की सुरक्षा दोस्तों पहले ज्योति हैं सिर्फ पंच पटेल पंचायत में वेट करके इनको सुरक्षित कर दीजिए आज हमें जो कानून में महिलाओं को सुरक्षित करते हुए महिला के चलते महिलाएं सुरक्षित जाती है परंतु कानून की बात करो ऐसे कानून दिए गए हैं जिसके चलते वह कोई भी मुद्दा जो है उठा नहीं सकती है अपनी सुरक्षा स्वयं कर सकती है क्योंकि आजकल अलार्म आती है महिलाओं को आत्मनिर्भर बनती जा रही है कि प्राचीन में भी महिला सुरक्षित कानून कानून कुछ गलत मानसिकता वाले लोगों के चलते महिला सुरक्षित आज के दौर में कम है
Vaale praacheen bhaarat ke adhyaksh aadhunik bhaarat mein mahilaen apane aap ko kitana surakshit mahasoos karatee hai dost praacheen bhaarat kee baat karen to us samay ke log the unake andar sabhyata sanskrti saaree cheejen samaayojit arth jaanate hain jab sabhyata aur sanskrti ka prashn uttar bhaarat mein log samay apane aap ko kaaphee jyaada surakshit mahasoos karatee thee par baat karen ghareloo kuchh aur kaam har jagah nahin abhee aadhunik bhaarat ke baat karen to kaha jaata hai ki mahilaon ko yahaan par bhee kaanoon jo hai vah sammaan dete hain aur vo to rijarveshan hai aur suraksha kee jaan tak baat keejie mahilaon kee suraksha doston pahale jyoti hain sirph panch patel panchaayat mein vet karake inako surakshit kar deejie aaj hamen jo kaanoon mein mahilaon ko surakshit karate hue mahila ke chalate mahilaen surakshit jaatee hai parantu kaanoon kee baat karo aise kaanoon die gae hain jisake chalate vah koee bhee mudda jo hai utha nahin sakatee hai apanee suraksha svayan kar sakatee hai kyonki aajakal alaarm aatee hai mahilaon ko aatmanirbhar banatee ja rahee hai ki praacheen mein bhee mahila surakshit kaanoon kaanoon kuchh galat maanasikata vaale logon ke chalate mahila surakshit aaj ke daur mein kam hai

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:42
प्राचीन भारत की अपेक्षा आधुनिक भारत में भारतीय महिलाओं महिला अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करती हैं उस समय की अपेक्षा देखा जाए तो आज बहुत महिलाओं को सम्मान मिला है उनको महिलाओं को प्यार मिला है महिलाएं हर फील्ड में अपने आप को प्रदर्शित कर रहे हैं चाहे वह नेशनल लेवल पर हो इंटरनेशनल लेवल पर हो प्रदेश लेवल पर हो जिला लेवल पर डिस्टिक मंडल लेवल पर हर क्षेत्र में देखा जाए तो महिलाओं का वर्चस्व अच्छा हो रहा है चाहे वह शिक्षा के मायने में हो चाहे कोई नेतृत्व के मामले मामले पहले से बहुत ज्यादा सुधार हुआ आदमी स्वार्थी लेकिन अभी भी ₹1 बहुत सारे लोगों में है वह राशि फल आज भी लोगों में है जिसकी महिलाएं शिकार होती है जिससे प्रताड़ित होती तो अगर देखा जाए तो अभी बहुत ऐसी सुरक्षा महिलाओं के प्रति बनाई गई है और माननीय मोदी जी भी बहुत ज्यादा आपने आपको महिलाओं के प्रति सुरक्षित महसूस कराने की कोशिश करें कि महिलाएं हमेशा सुरक्षित रहें और कभी भी अपने मन की ही करें यह नहीं हो कि किसी के जबरदस्ती या किसी प्रताड़ित किया जाए तो अगर देखा जाए तो प्राचीन भारत से आधुनिक भारत में महिलाओं को बहुत सुरक्षा बहुत सम्मान जुने हक मिलना चाहिए और संविधान के थ्रू जो उन्हें हक अभी भी नहीं मिलता है संविधान में दिया गया है तो आने वाले समय में हम यही उम्मीद करते हैं कि हम उन्हें जो संविधान कहता है जो उनकी भावना करती है जो एक महिला के प्रति सम्मान मिला वह हमें देना चाहिए और हरगिज़ उसे इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है
Praacheen bhaarat kee apeksha aadhunik bhaarat mein bhaarateey mahilaon mahila apane aap ko kitana surakshit mahasoos karatee hain us samay kee apeksha dekha jae to aaj bahut mahilaon ko sammaan mila hai unako mahilaon ko pyaar mila hai mahilaen har pheeld mein apane aap ko pradarshit kar rahe hain chaahe vah neshanal leval par ho intaraneshanal leval par ho pradesh leval par ho jila leval par distik mandal leval par har kshetr mein dekha jae to mahilaon ka varchasv achchha ho raha hai chaahe vah shiksha ke maayane mein ho chaahe koee netrtv ke maamale maamale pahale se bahut jyaada sudhaar hua aadamee svaarthee lekin abhee bhee ₹1 bahut saare logon mein hai vah raashi phal aaj bhee logon mein hai jisakee mahilaen shikaar hotee hai jisase prataadit hotee to agar dekha jae to abhee bahut aisee suraksha mahilaon ke prati banaee gaee hai aur maananeey modee jee bhee bahut jyaada aapane aapako mahilaon ke prati surakshit mahasoos karaane kee koshish karen ki mahilaen hamesha surakshit rahen aur kabhee bhee apane man kee hee karen yah nahin ho ki kisee ke jabaradastee ya kisee prataadit kiya jae to agar dekha jae to praacheen bhaarat se aadhunik bhaarat mein mahilaon ko bahut suraksha bahut sammaan june hak milana chaahie aur sanvidhaan ke throo jo unhen hak abhee bhee nahin milata hai sanvidhaan mein diya gaya hai to aane vaale samay mein ham yahee ummeed karate hain ki ham unhen jo sanvidhaan kahata hai jo unakee bhaavana karatee hai jo ek mahila ke prati sammaan mila vah hamen dena chaahie aur haragiz use isake alaava koee vikalp nahin hai

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:53
हेलो गूगल आई होप आप सब ठीक होंगे बोल कर अपना को स्वागत है प्रश्न पूछा गया प्राचीन भारत की अपेक्षा अधिक भारत में भारतीय महिला अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करती हैं लेकिन आधुनिक भारत और प्राचीन भारत के हम अगर बात करें तो प्राचीन भारत में महिलाएं सुरक्षित थी काफी उसकी वजह क्या थी कि महिलाएं मुस्लिम घर से नहीं निकलती थी क्या मुस्लिम महिलाएं थी वह तरह से एक बंदिश में रहती थी जिसकी वजह से यह चीज है ना कम होना शुरू हो गई थी जो बहुत कम हुई थी लेकिन वह गलत है क्योंकि उसमें औरतों पर जागू मंच पर थी काफी ज्यादा स्ट्रिक्टनेस थी और उनको पढ़ने के लिए नाम पर लग कामों के लिए ना उनको आजाद से घूमने फिरने की जो तुमको आजादी थी जिसकी वजह से उनको एक तरह से छुपा के रखा जाता था एक तरह से रुको प्रोडक्ट करके रखा था जाता था जो कि एक तरह से बहुत ही गलत सोच थी उसका सपोर्ट हम नहीं करते हैं कि देखे हर किसी को अपनी आजादी का पूरा पूर्णता इस्तेमाल करने करने का पूरा हक है अगर हम आधुनिक भारत की बात करें तो बिल्कुल आदमी को भारत में महिलाएं बहुत ज्यादा सुरक्षित हैं अगर आप देखना चाहते हैं तो आप देखिए की बहुत सारी महिलाएं कौन-कौन से कार्य में कितना अच्छा काम कर रहे हो कितना बढ़िया कर रही है कुछ तेज के अगर हम बात करें कुछ ऐसे स्टेटस हैं जहां पर इस चीज में महिलाओं के प्रति बहुत ज्यादा अपराध हो रहे हैं बलात्कार से लेकर सुसाइडल से लेकर जाग किडनैपिंग से लेकर अलग बहुत सारे ऐसे कुछ हैं सबसे मूसली जो अभी तो दिक्कत है वह है जितने बलात्कार यार एप्स हो रहे हैं उनमें जिसमें ना तू देखी है बच्चों को छोटा छोड़ा जा रहा है ना बुजुर्गों को नायक औरतों को तो अभी मैंने किसी एक अपने यूजर का ही इसमें कमेंट दिखे तो उन्होंने पूरे भारत इसमें हम पूरे भारत को जो है नहीं बोल सकते कि पूरे भारत में महिलाओं को असुरक्षित हैं जो सुरक्षित नहीं है जैसा कुछ कुछ टेस्ट के वजह से हम पूरे भारत को अपने जो है नजर से नहीं देख सकते या उसमें उनकी तुलना नहीं कर सकते क्योंकि भारत में महिलाओं को बहुत ज्यादा आगे बढ़ने का ऑप्शन दिया है हर किसी को दिया तो हम कुछ देर जहां पर उनकी सोच जो है इतनी संकुचित सोच है इस चीज के बारे में महिलाओं के बारे में वही पर महिलाओं पर अत्याचार या फीमेल पर अत्याचार होते हैं अगर हम हिंदू धर्म की बात छोड़ कर मगर मुस्लिम धर्म की बात करें तो मुस्लिम धर्म में तो महिलाओं को बिल्कुल भी कोई आजादी नहीं लेकिन वह सुरक्षित है एक बंदिशों में रखा गया लेकिन को सुरक्षित क्यों क्योंकि उनको पता है जो भी उनके उनके प्रोडक्शन में लगे रहते हैं उनको पता है इस चीज के बारे में किस को कैसे लेकिन वह बाहर की दुनिया से तो सुरक्षित है लेकिन जितने अत्याचार उनके घरों में उन पर होते हैं उनके घरों में यह चीजें होती हैं वह वही जानते हैं तो बंदी से आपको चीजों से बचा सकते हैं लेकिन बंदी से जो हैं आपको खुद भी अंदर अंदर जो है खत्म कर सकते हैं तो देखिए कुछ जगहों की जब कुछ सोच की वजह से जो है औरतों पर अत्याचार या औरतों पर जो हम दूर की सोच है जो उनकी एक तरह से फ्रीडम है उसे थोड़ा सा लगा लेकिन कोई फ्रीडम हो जो कुछ भी हो कुछ मैं आपकी सोच लिया आपके संस्कार बहुत जरूरी हैं उसी के हिसाब से वह कर सकता है बाकी हमें अपनी बेटियों को अपनी बहनों को अपने दोस्तों को चीजों के बारे में समझाना बहुत जरूरी है चाहे वह लड़का हो चाहे वह लड़के लेकिन फिलहाल लड़की की बात कर तो उनको समझाना बहुत दिन के रक्षा के लिए उनको सेल्फ डिफेंस उनको बचने के तरीके उनको लड़ने के लिए जेपीसी के सामने किसी का मुकाबला करने के लिए हम इनको कुछ दिन करना पड़ेगा इस चीज पर बहुत सारे लोग काम कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का भी इसी तरह गया बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ यह भी है बाकी ग्रैंड मास्टर शिफूजी देखी वह भी एक मिट्टी भारतीय टीम को एक उस पर चल रहे हैं तो हमें उनको को तैयार करना पड़ेगा पूरे भारत को हम इस चीज को ब्लेम नहीं कर सकते कि पूरे भारत में हमारे यहां महिलाएं सुरक्षित में कुछ टैक्स हैं कुछ रजिस्ट्रेशन जिन पर बहुत ज्यादा चीज खाता है वह हमें खुद देखना पड़ेगा हमें अपनी तैयारी खुद करनी पड़ेगी आशा करता हूं आपका आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo googal aaee hop aap sab theek honge bol kar apana ko svaagat hai prashn poochha gaya praacheen bhaarat kee apeksha adhik bhaarat mein bhaarateey mahila apane aap ko kitana surakshit mahasoos karatee hain lekin aadhunik bhaarat aur praacheen bhaarat ke ham agar baat karen to praacheen bhaarat mein mahilaen surakshit thee kaaphee usakee vajah kya thee ki mahilaen muslim ghar se nahin nikalatee thee kya muslim mahilaen thee vah tarah se ek bandish mein rahatee thee jisakee vajah se yah cheej hai na kam hona shuroo ho gaee thee jo bahut kam huee thee lekin vah galat hai kyonki usamen auraton par jaagoo manch par thee kaaphee jyaada striktanes thee aur unako padhane ke lie naam par lag kaamon ke lie na unako aajaad se ghoomane phirane kee jo tumako aajaadee thee jisakee vajah se unako ek tarah se chhupa ke rakha jaata tha ek tarah se ruko prodakt karake rakha tha jaata tha jo ki ek tarah se bahut hee galat soch thee usaka saport ham nahin karate hain ki dekhe har kisee ko apanee aajaadee ka poora poornata istemaal karane karane ka poora hak hai agar ham aadhunik bhaarat kee baat karen to bilkul aadamee ko bhaarat mein mahilaen bahut jyaada surakshit hain agar aap dekhana chaahate hain to aap dekhie kee bahut saaree mahilaen kaun-kaun se kaary mein kitana achchha kaam kar rahe ho kitana badhiya kar rahee hai kuchh tej ke agar ham baat karen kuchh aise stetas hain jahaan par is cheej mein mahilaon ke prati bahut jyaada aparaadh ho rahe hain balaatkaar se lekar susaidal se lekar jaag kidanaiping se lekar alag bahut saare aise kuchh hain sabase moosalee jo abhee to dikkat hai vah hai jitane balaatkaar yaar eps ho rahe hain unamen jisamen na too dekhee hai bachchon ko chhota chhoda ja raha hai na bujurgon ko naayak auraton ko to abhee mainne kisee ek apane yoojar ka hee isamen kament dikhe to unhonne poore bhaarat isamen ham poore bhaarat ko jo hai nahin bol sakate ki poore bhaarat mein mahilaon ko asurakshit hain jo surakshit nahin hai jaisa kuchh kuchh test ke vajah se ham poore bhaarat ko apane jo hai najar se nahin dekh sakate ya usamen unakee tulana nahin kar sakate kyonki bhaarat mein mahilaon ko bahut jyaada aage badhane ka opshan diya hai har kisee ko diya to ham kuchh der jahaan par unakee soch jo hai itanee sankuchit soch hai is cheej ke baare mein mahilaon ke baare mein vahee par mahilaon par atyaachaar ya pheemel par atyaachaar hote hain agar ham hindoo dharm kee baat chhod kar magar muslim dharm kee baat karen to muslim dharm mein to mahilaon ko bilkul bhee koee aajaadee nahin lekin vah surakshit hai ek bandishon mein rakha gaya lekin ko surakshit kyon kyonki unako pata hai jo bhee unake unake prodakshan mein lage rahate hain unako pata hai is cheej ke baare mein kis ko kaise lekin vah baahar kee duniya se to surakshit hai lekin jitane atyaachaar unake gharon mein un par hote hain unake gharon mein yah cheejen hotee hain vah vahee jaanate hain to bandee se aapako cheejon se bacha sakate hain lekin bandee se jo hain aapako khud bhee andar andar jo hai khatm kar sakate hain to dekhie kuchh jagahon kee jab kuchh soch kee vajah se jo hai auraton par atyaachaar ya auraton par jo ham door kee soch hai jo unakee ek tarah se phreedam hai use thoda sa laga lekin koee phreedam ho jo kuchh bhee ho kuchh main aapakee soch liya aapake sanskaar bahut jarooree hain usee ke hisaab se vah kar sakata hai baakee hamen apanee betiyon ko apanee bahanon ko apane doston ko cheejon ke baare mein samajhaana bahut jarooree hai chaahe vah ladaka ho chaahe vah ladake lekin philahaal ladakee kee baat kar to unako samajhaana bahut din ke raksha ke lie unako selph diphens unako bachane ke tareeke unako ladane ke lie jepeesee ke saamane kisee ka mukaabala karane ke lie ham inako kuchh din karana padega is cheej par bahut saare log kaam kar rahe hain pradhaanamantree narendr modee jee ka bhee isee tarah gaya betee bachao betee padhao yah bhee hai baakee graind maastar shiphoojee dekhee vah bhee ek mittee bhaarateey teem ko ek us par chal rahe hain to hamen unako ko taiyaar karana padega poore bhaarat ko ham is cheej ko blem nahin kar sakate ki poore bhaarat mein hamaare yahaan mahilaen surakshit mein kuchh taiks hain kuchh rajistreshan jin par bahut jyaada cheej khaata hai vah hamen khud dekhana padega hamen apanee taiyaaree khud karanee padegee aasha karata hoon aapaka aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
3:10
प्राचीन भारत के पिक्चर आदमी भारत में भारतीय महिला अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करती है सट्टा किंग भारत में जो महिलाओं के साथ अत्याचार होता था दुराचार होता था आज भारत समझोगे बहुत जो है श्रेष्ठ हो गया है महिलाओं के लिए सशक्तिकरण जैसी बातचीत होती है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जैसे नारे लगते हैं बेटी की महिलाओं के लिए बहुत बड़ी बड़ी जो है जुमले छोड़े जाते हैं लेकिन फैक्ट्री जो प्राचीन भारत आजाद ने भारत में महिलाओं की भूमिका कितनी महिलाएं अपने आप में बहुत सी प्रगत की जगह पर खड़ी है लेकिन इस घड़ी में रुपए पुरुष समाज में महिलाओं को केवल भोग विलास के साधन समझा जाता है उनको एक साधारण ने जो समझा जाता है महिला भी नहीं और उनसे जो है वह बिल्कुल परसों जैसा आचरण किया जाता है उन्हें पशु समिति की आचरण करने वाली पशुता का परिचय देते हुए समाज में महिला पुरुष में कोई अंतर नहीं है यह सिर्फ कहने को है लेकिन किसी भी घर में कहीं भी देखो पिता के घर में देखो तो या पति के घर में देखो तो महिलाओं को उनका वास्तविक सम्मान नहीं मिलता है पिता के गाने पिता और भाई उनको इस तरह आदेश देते हैं जैसे कि वह घर में काम करने के लिए की जननी है एशिया देश में टेंपो ऐसी वाणी सुनने को मिलती है जैसे वह खरीद के लाए इसलिए आज की चेन्नई ने कहा कि महिलाओं को स्वतंत्रता मिलनी चाहिए उनकी भी सीमा है उन्हें भी अधिकार मिलने चाहिए उन्हें भी आगे बढ़ने का अवसर मिलना चाहिए उन्हें भी अपनी बातचीत करनी को चलना चाहिए उनको भी उसने पुलिस को निर्धारित करने का वचन ना चाहिए लेकिन यहां पुरुष प्रधान समाज महिलाओं का भविष्य निर्धारित करता है जो वह चाहते हैं वह करते हैं निकेतन ता पूर्वक कोई महिला या कोई कन्या या कोई लड़की अपनी फैक्ट्री नहीं लिख सकती ले सकती है लेती है उसके प्रति समाज की परिवार की और सब जनमानस की अवधारणा ही नकारात्मक हो जाती है और पता नहीं किस लोक की भावनाएं वह सोचने लगते हैं महिला आदमी अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करती
Praacheen bhaarat ke pikchar aadamee bhaarat mein bhaarateey mahila apane aap ko kitana surakshit mahasoos karatee hai satta king bhaarat mein jo mahilaon ke saath atyaachaar hota tha duraachaar hota tha aaj bhaarat samajhoge bahut jo hai shreshth ho gaya hai mahilaon ke lie sashaktikaran jaisee baatacheet hotee hai betee bachao betee padhao jaise naare lagate hain betee kee mahilaon ke lie bahut badee badee jo hai jumale chhode jaate hain lekin phaiktree jo praacheen bhaarat aajaad ne bhaarat mein mahilaon kee bhoomika kitanee mahilaen apane aap mein bahut see pragat kee jagah par khadee hai lekin is ghadee mein rupe purush samaaj mein mahilaon ko keval bhog vilaas ke saadhan samajha jaata hai unako ek saadhaaran ne jo samajha jaata hai mahila bhee nahin aur unase jo hai vah bilkul parason jaisa aacharan kiya jaata hai unhen pashu samiti kee aacharan karane vaalee pashuta ka parichay dete hue samaaj mein mahila purush mein koee antar nahin hai yah sirph kahane ko hai lekin kisee bhee ghar mein kaheen bhee dekho pita ke ghar mein dekho to ya pati ke ghar mein dekho to mahilaon ko unaka vaastavik sammaan nahin milata hai pita ke gaane pita aur bhaee unako is tarah aadesh dete hain jaise ki vah ghar mein kaam karane ke lie kee jananee hai eshiya desh mein tempo aisee vaanee sunane ko milatee hai jaise vah khareed ke lae isalie aaj kee chennee ne kaha ki mahilaon ko svatantrata milanee chaahie unakee bhee seema hai unhen bhee adhikaar milane chaahie unhen bhee aage badhane ka avasar milana chaahie unhen bhee apanee baatacheet karanee ko chalana chaahie unako bhee usane pulis ko nirdhaarit karane ka vachan na chaahie lekin yahaan purush pradhaan samaaj mahilaon ka bhavishy nirdhaarit karata hai jo vah chaahate hain vah karate hain niketan ta poorvak koee mahila ya koee kanya ya koee ladakee apanee phaiktree nahin likh sakatee le sakatee hai letee hai usake prati samaaj kee parivaar kee aur sab janamaanas kee avadhaarana hee nakaaraatmak ho jaatee hai aur pata nahin kis lok kee bhaavanaen vah sochane lagate hain mahila aadamee apane aap ko surakshit mahasoos nahin karatee

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
2:48
हाय फ्रेंड्स क्वेश्चन पूछा गया है कितना चीन भारत के परीक्षा रद्द होने की भारत में महिला अपने आप को कितना सुरक्षित महसूस करते हैं तुम प्राचीन भारत के अपेक्षा अगर आज के आधुनिक भारत के महिलाओं की अगर बात की जाए तो इसमें काफी अंतर में देखने को मिलता है आज के आधुनिक महिलाओं में जो है उनके प्रति जहां सम्मान देखने को मिलता है जो पहले के भारतीय महिला में नहीं था पहले भारत की प्राचीन भारत के गद्दार की जाए तो पहले उस समय महिला ज्योतिष सिर्फ घर तक ही सीमित थी क्यों नहीं किसी भी क्षेत्र में खेल का क्षेत्र हो या फिर युद्ध से लेकर उस समय की राजनीतिक स्थिति से लेकर आर्थिक स्थिति तक किसी ने बीच में महिलाओं की भागीदारी नहीं होती थी महिला को सिर्फ जो है घर तक ही सीमित रखा जाता था लेकिन इसके अलावा बर्बाद होने के बाद में बात करें तो आधुनिक भारत के किसी भी क्षेत्र में ऊंचाई खेल का क्षेत्र हो या फिर राजनीति से जुड़ी क्षेत्र या फिर किसी भी जो है क्षेत्र में आम महिलाओं को उतना ही देखते हैं जितना महिला को देखते हैं लेकिन महिला जो है अब पुरुषों की बराबरी भी कर रहे हैं जो कि पहले ऐसा नहीं था वही अकरम प्राचीन भारत की महिला की बात करें तो प्राचीन भारत के महिला के साथ जो है ज्यादा जो है शोषण हुआ करता था लेकिन अगर आधुनिक भारत की बात करें तो आधुनिक भारत में कई तरह के ऐसे कानून बन गए हैं जिस कानून के बदौलत चयन महिला सर उठाकर समाज में जीत सकते हैं अनिका करवा चाहे तो किसी भी व्यक्ति को बिना कारण जो है उसे दंडित करवा सकते हैं क्योंकि ऐसे ऐसे जो कानून प्रस्तावना के रूप में जो है भारत में जो ऐसे कानून बन गए हैं इसके अलावा महिला की बात की जाए तो महिला जो है उसे आरक्षण की व्यवस्था भी बहुत अधिक प्राप्त हुई हैं जिससे महिला जो हर क्षेत्र में उन्नति कर सकती हैं इसी तरह गर्म प्राचीन भारत के महिला में अगर देखें तो उस समय जो था जो भी पढ़ाई का कार्य था वह पुरुष ही करते थे यानी कि महिला को इसमें जो है आवंटित नहीं किया जाता था लेकिन आज के आधुनिक भारत में यह देखने को नहीं मिलता है क्योंकि जितनी चाहे परसेंटेज साक्षरता की दर से पुरुष है उतनी ही महिला भी हैं

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • महिला सुरक्षा के मामले,भारत में महिलाएं पहले की तुलना में सुरक्षित,महिलाओं के लिए नई क्रांति
URL copied to clipboard