#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जनक सदैव आध्यात्मिक रहता है?

Janam Kundli Mein Upasthit Kis Bhav Se Janak Sadev Aadhyaatmik Rehta Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:29
देखिए अगर गुरु आपके अष्टम या नवम भाव में रहे भाग्य और धर्म के स्थान पर या केतु आपकी अष्टम भाव में रहे नवम भाव में रहे या तृतीय भाव में रहे तो जातक सदैव आध्यात्मिक रतन की देखी यह केतु विजडम देता है गुरु ज्ञान देता है यह दोनों के अच्छे भाव में रहने से आदमी अध्यात्म में रूचि रखता है थैंक यू
Dekhie agar guru aapake ashtam ya navam bhaav mein rahe bhaagy aur dharm ke sthaan par ya ketu aapakee ashtam bhaav mein rahe navam bhaav mein rahe ya trteey bhaav mein rahe to jaatak sadaiv aadhyaatmik ratan kee dekhee yah ketu vijadam deta hai guru gyaan deta hai yah donon ke achchhe bhaav mein rahane se aadamee adhyaatm mein roochi rakhata hai thaink yoo

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जनक सदैव आध्यात्मिक रहता है?Janam Kundli Mein Upasthit Kis Bhav Se Janak Sadev Aadhyaatmik Rehta Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:53
नेशनल चैनल कुंडली में उपस्थित किस भाव की जातक चातक सदैव आध्यात्मिक रहता है तो दोस्तों देखिए पंचम भाव में 3 या 3 से अधिक ग्रहों की युति होने पर ऐसा होता है अगर पंचम भाव में आपके बुद्धू गुरु और सूर्य हैं तो ऐसा व्यक्ति सदा आध्यात्मिक की दृष्टि से रहता और दूसरा योग है बारहवें भाव में केतु किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में द्वादश भाव में अगर बलवान केतु बैठा हो तो यह जो स्थान एवं मोक्ष का स्थान है ऐसा जो इंसान है बाहरी जो है दिखावे दुनिया से दूर रहता है बल्कि आध्यात्म की ओर दुनिया में जाता है ऐसा व्यक्ति से कभी-कभी आकाश केतु बलवान और कभी-कभी शादी भी नहीं करता मिथुन लग्न की कुंडली में लग्न में कोई ग्रह नहीं बैठा हूं पांचवी घर से पांचवें घर में गुरु बैठा और लग्न पर उसकी दृष्टि पड़ेगी तो ऐसा व्यक्ति अध्यात्म की ओर आकर्षित होगा उसके पीछे का कारण है कि जो गुरु जब हमारे शरीर से संबंध बनाता है तो यह हमें ज्ञान की दुनिया में ले जाता है और जो है बाहरी जितनी भी पैसे रोकड़ दिखावे जितनी भी दुनिया से दूर रख कर एक अलग ही ज्ञान प्रदान करता है ऐसे व्यक्ति का मन किसी और चीज में लगता ही नहीं है बिना ईश्वर के सिवाय ईश्वर के पांच वाक्य में शनि यदि किसी जन्म कुंडली में यदि किसी की मिथुन कन्या तुला या फिर कुंभ लग्न की कुंडली में शनि स्वर्ग रही है सुधर ही यहां तो मिथुन लग्न में ऐसा योग बन सकता है अष्टम या नवम भाव में स्वग्रही शनि हो तो ऐसा शनि व्यक्ति की एक तो आयु बहुत लंबी करता है और पूरी आयु में उसका जो है ईश्वर के प्रति जो है जागृत होता है ऐसे व्यक्ति को तो समझ लो कि जैसे किसी भी चीज का पूर्वाभास हो जाता है यानी कि आज वह कुछ क्या मतलब उसके जीवन में आगे कुछ ऐसा होने वाला है कुछ घटना हो गया तो उससे उसका ईश्वर पूर्वाभास करा देती है उसके पीछे का कारण होता है उसका आध्यात्मिक की ओर जो कला आध्यात्म की ओर झुकने के कारण यहां का शनि जो व्यक्ति को रहस्यमई विद्याओं की ओर ले जाता है ऐसे व्यक्ति को गुण विद्या संस्कृत में सब तरीके की विधाएं आती है हर व्यक्ति नकारात्मक कार्यों को करने वाले या नकारात्मक दृष्टि से चलने वाले लोगों को सबक सिखाते हैं कि का शुक्र मीन राशि में बलवान हो तो ऐसा व्यक्ति जातक दुर्गा मां की या किसी देवी की साधना करता है ऐसे व्यक्ति बहुत सारे को दैवीय शक्तियों का बहुत विशेष रुप से ध्यान होता है तो यह है कुछ बातें
Neshanal chainal kundalee mein upasthit kis bhaav kee jaatak chaatak sadaiv aadhyaatmik rahata hai to doston dekhie pancham bhaav mein 3 ya 3 se adhik grahon kee yuti hone par aisa hota hai agar pancham bhaav mein aapake buddhoo guru aur soory hain to aisa vyakti sada aadhyaatmik kee drshti se rahata aur doosara yog hai baarahaven bhaav mein ketu kisee vyakti kee janm kundalee mein dvaadash bhaav mein agar balavaan ketu baitha ho to yah jo sthaan evan moksh ka sthaan hai aisa jo insaan hai baaharee jo hai dikhaave duniya se door rahata hai balki aadhyaatm kee or duniya mein jaata hai aisa vyakti se kabhee-kabhee aakaash ketu balavaan aur kabhee-kabhee shaadee bhee nahin karata mithun lagn kee kundalee mein lagn mein koee grah nahin baitha hoon paanchavee ghar se paanchaven ghar mein guru baitha aur lagn par usakee drshti padegee to aisa vyakti adhyaatm kee or aakarshit hoga usake peechhe ka kaaran hai ki jo guru jab hamaare shareer se sambandh banaata hai to yah hamen gyaan kee duniya mein le jaata hai aur jo hai baaharee jitanee bhee paise rokad dikhaave jitanee bhee duniya se door rakh kar ek alag hee gyaan pradaan karata hai aise vyakti ka man kisee aur cheej mein lagata hee nahin hai bina eeshvar ke sivaay eeshvar ke paanch vaaky mein shani yadi kisee janm kundalee mein yadi kisee kee mithun kanya tula ya phir kumbh lagn kee kundalee mein shani svarg rahee hai sudhar hee yahaan to mithun lagn mein aisa yog ban sakata hai ashtam ya navam bhaav mein svagrahee shani ho to aisa shani vyakti kee ek to aayu bahut lambee karata hai aur pooree aayu mein usaka jo hai eeshvar ke prati jo hai jaagrt hota hai aise vyakti ko to samajh lo ki jaise kisee bhee cheej ka poorvaabhaas ho jaata hai yaanee ki aaj vah kuchh kya matalab usake jeevan mein aage kuchh aisa hone vaala hai kuchh ghatana ho gaya to usase usaka eeshvar poorvaabhaas kara detee hai usake peechhe ka kaaran hota hai usaka aadhyaatmik kee or jo kala aadhyaatm kee or jhukane ke kaaran yahaan ka shani jo vyakti ko rahasyamee vidyaon kee or le jaata hai aise vyakti ko gun vidya sanskrt mein sab tareeke kee vidhaen aatee hai har vyakti nakaaraatmak kaaryon ko karane vaale ya nakaaraatmak drshti se chalane vaale logon ko sabak sikhaate hain ki ka shukr meen raashi mein balavaan ho to aisa vyakti jaatak durga maan kee ya kisee devee kee saadhana karata hai aise vyakti bahut saare ko daiveey shaktiyon ka bahut vishesh rup se dhyaan hota hai to yah hai kuchh baaten

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जन्म कुंडली में उपस्थित किस भाव से जनक सदैव आध्यात्मिक रहता है, किस भाव से जनक सदैव आध्यात्मिक रहता है
URL copied to clipboard