#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:49
इसने किसानों का मुद्दा क्या है क्या चाहते हैं किसान अगर किसानों के हित की बात है तो उनके हित के बाद हित के बारे में सरकार कब सुनाया और सुनवाई करेगी तू दिखे क्या है कि किसानों का यही मुद्दा है कि वह जो नया कृषि कानून बिल पास हुआ है उसे पूरी तरह से कैंसिल करने की बात कर रहे हैं और सरकार क्या कर रहे हैं उनमें संशोधन की बात कर रही है जिससे कि दोनों में बात नहीं बनी अभी कल के डेट में दोनों लोग के साथ मीटिंग हुई थी लेकिन बात नहीं बनी है आगे टाल दी गई है 15 जनवरी को अब 15 जनवरी को देखा जाए कि क्या दोनों लोगों के बीच में बातें होती है वही दोनों अपने अपने मुद्दे पर अड़े हुए हैं लेकिन अब 15 तारीख को देखा जाएगा क्या होती है लेकिन सरकार को कुछ न कुछ किसानों की बातें सुनी चाहिए
Isane kisaanon ka mudda kya hai kya chaahate hain kisaan agar kisaanon ke hit kee baat hai to unake hit ke baad hit ke baare mein sarakaar kab sunaaya aur sunavaee karegee too dikhe kya hai ki kisaanon ka yahee mudda hai ki vah jo naya krshi kaanoon bil paas hua hai use pooree tarah se kainsil karane kee baat kar rahe hain aur sarakaar kya kar rahe hain unamen sanshodhan kee baat kar rahee hai jisase ki donon mein baat nahin banee abhee kal ke det mein donon log ke saath meeting huee thee lekin baat nahin banee hai aage taal dee gaee hai 15 janavaree ko ab 15 janavaree ko dekha jae ki kya donon logon ke beech mein baaten hotee hai vahee donon apane apane mudde par ade hue hain lekin ab 15 taareekh ko dekha jaega kya hotee hai lekin sarakaar ko kuchh na kuchh kisaanon kee baaten sunee chaahie

और जवाब सुनें

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:11
किसान चाहते हैं कि यह बिल पास हो जाए और जो कि किसान नहीं कुछ बिचौलिए हैं वह चाहते गवर्नमेंट पर हर तरीके का अपमान करने को तैयार है कलेक्शन करने को तैयार है पर बिल बाप इसी की उसमें वह लगे हुए हैं वह इसलिए क्योंकि यह तो बैग बहुत मजबूत की जा रही है पैसा फंडिंग बहुत अच्छे से हो रही है किसानों की क्योंकि अगर आपने देखा होगा कुछ फेक होती है कुछ सही होती है वहां पर जो है वह पिकनिक वाली स्पॉट सब ने बना दी कि एक आम के साथ आप खुद सोच सकते हैं आपके आसपास भी रहते होंगे गांव से बिलॉन्ग करते होंगे तो देखा होगा किसान के पास धन-धान्य बहुत होता है पर नहीं होता सो जाऊंगा खाने की पीने की कोई कमी नहीं होती किसी भी बहुत छोटे किसानों उनकी मत दिखाना तो होती है अच्छे से अच्छा नहीं होता तो कौन अपना समय करके इतनी दूर आएगा यह तो किसानों की हित की बातें बहुत सारी बातें कुली किसानों को और आगे बढ़ते लड़ना भी चाहिए परंतु उसमें करेक्शन करना चाहिए यह चीज गलत है आप इसे इसका कोई सलूशन बहुत अच्छी बातें भी है
Kisaan chaahate hain ki yah bil paas ho jae aur jo ki kisaan nahin kuchh bichaulie hain vah chaahate gavarnament par har tareeke ka apamaan karane ko taiyaar hai kalekshan karane ko taiyaar hai par bil baap isee kee usamen vah lage hue hain vah isalie kyonki yah to baig bahut majaboot kee ja rahee hai paisa phanding bahut achchhe se ho rahee hai kisaanon kee kyonki agar aapane dekha hoga kuchh phek hotee hai kuchh sahee hotee hai vahaan par jo hai vah pikanik vaalee spot sab ne bana dee ki ek aam ke saath aap khud soch sakate hain aapake aasapaas bhee rahate honge gaanv se bilong karate honge to dekha hoga kisaan ke paas dhan-dhaany bahut hota hai par nahin hota so jaoonga khaane kee peene kee koee kamee nahin hotee kisee bhee bahut chhote kisaanon unakee mat dikhaana to hotee hai achchhe se achchha nahin hota to kaun apana samay karake itanee door aaega yah to kisaanon kee hit kee baaten bahut saaree baaten kulee kisaanon ko aur aage badhate ladana bhee chaahie parantu usamen karekshan karana chaahie yah cheej galat hai aap ise isaka koee salooshan bahut achchhee baaten bhee hai

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:41
चलिए पहले प्रश्न को देखते हैं किसी ने प्रश्न पूछा है कि किसानों को मुद्दा क्या है क्या चाहते हैं किसान अगर किसानों के हित की बात है तो उनके हित के बारे में सरकार कब सुनेंगे यह सरकार का फैसला सरकार को किसानों में चलनी चाहिए किसान आत्महत्या कर रहे हैं भूखे मर रहे हैं बीमार पड़ रहे हैं उन पर पहुंचा रहे हो रही है इतने दिनों से आंदोलन कर रहे लेकिन उनकी मनीष नहीं आ रही किसानों का बिल है तो किसानों के पक्ष में आना चाहिए किसानों की बातों को सुनना चाहिए मानना चाहिए लागू करना चाहिए किसान कोई बड़ी बात नहीं कह रहे हैं किसान गुंडे है ना चोर है डकैत परेशान नहीं हो रहा जो उनके साथ अन्याय है
Chalie pahale prashn ko dekhate hain kisee ne prashn poochha hai ki kisaanon ko mudda kya hai kya chaahate hain kisaan agar kisaanon ke hit kee baat hai to unake hit ke baare mein sarakaar kab sunenge yah sarakaar ka phaisala sarakaar ko kisaanon mein chalanee chaahie kisaan aatmahatya kar rahe hain bhookhe mar rahe hain beemaar pad rahe hain un par pahuncha rahe ho rahee hai itane dinon se aandolan kar rahe lekin unakee maneesh nahin aa rahee kisaanon ka bil hai to kisaanon ke paksh mein aana chaahie kisaanon kee baaton ko sunana chaahie maanana chaahie laagoo karana chaahie kisaan koee badee baat nahin kah rahe hain kisaan gunde hai na chor hai dakait pareshaan nahin ho raha jo unake saath anyaay hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान मुद्दा क्या है, तीन कृषि कानून क्या है, कृषि कानून के लिए सरकार के उपाय
URL copied to clipboard