#रिश्ते और संबंध

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:22
मेरी जान क्या हाल है कि एक इंसान का मनोबल बढ़ाने ने अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है किसी के मनोबल बढ़ाने परिवार का दोस्त का बहुत बहुत ज्यादा होता है क्योंकि ऐसे परिवार में दोस्तों के साथ इंसान ज्यादा से ज्यादा टाइम गुजारता है और स्कूल में भी अगर आप ज्यादातर भी आपके फ्रेंड्स मिलते हैं फैमिली में भी आपके कोई ना कोई ऐसे दोस्त टाइप्स आफ थे किसी के साथ ऐसा होता है तो इस तरह से यह लोग आपके साथ बहुत ज्यादा रहते हैं तो अगर आप कभी गिरते हैं या फिर अगर आपके मन में नेगेटिव चीज आ रही है या फिर आपकी मनोबल या फिर आप को ऐसा लग रहा है कि नहीं मैं कुछ नहीं कर सकता वहां पर आपको आपकी काबिलियत और आम जनता को तो इंसान बताता आपको फिर से वो उस जगह पर लगता है तो इसमें फैमिली और फ्रेंड्स बहुत ज्यादा हाथ होता है क्योंकि कहते अगर कोई भी बच्चा बिगड़ता है फिर सुधरता है तो सामने को कहा जाता है पति के दोस्त के साथ एक दोस्त के संगत का असर या फिर परिवार ने क्या यही सिखाया है इस तरह की चीजों से हम जान सकते कि यह सब चीजों का कितना ज्यादा सरपट तो वही लोग आपकी अच्छे होंगे आपके हर एक चीज में साथ देंगे आपके मनोबल को बढ़ाने के तो यह लोग आपके जिंदगी भर के लिए आपका एक साथ और एक सहारा बनेंगे जो आपको जिंदगी भर मदद करें

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:12
इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता देखिए अगर आपका परिवार का सदस्य चाहे तो आप का मनोबल सरस्वत बढ़ा सकता और आपका सच्चा मित्र या दोस्त हो वह भी बड़ा परिवार के सदस्यों के द्वारा बढ़ाए का मनोबल निश्चित तौर पर आपको अपनी प्रगति की तरफ ले जाता है लेकिन इसमें जरूरी है कि उस परिवार के सदस्यों का आपसी प्यार और सहयोग हो एक दूसरे और जिम्मेदारियों का एहसास परिवार और दोस्तों एक ऐसी हम कह सकते हैं तो उनसे है जहां से किसी भी व्यक्ति का व्यक्तित्व में बदलाव लाया जा सकता उसके आत्मविश्वास को बढ़ाया जा सकता है उसके अमल को बढ़ाया जा सकता अगर ही दो चीजें अच्छी हैं आपकी तो निश्चित तौर पर आप का मनोबल बढ़ सकता है
Insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ka kitana haath hota dekhie agar aapaka parivaar ka sadasy chaahe to aap ka manobal sarasvat badha sakata aur aapaka sachcha mitr ya dost ho vah bhee bada parivaar ke sadasyon ke dvaara badhae ka manobal nishchit taur par aapako apanee pragati kee taraph le jaata hai lekin isamen jarooree hai ki us parivaar ke sadasyon ka aapasee pyaar aur sahayog ho ek doosare aur jimmedaariyon ka ehasaas parivaar aur doston ek aisee ham kah sakate hain to unase hai jahaan se kisee bhee vyakti ka vyaktitv mein badalaav laaya ja sakata usake aatmavishvaas ko badhaaya ja sakata hai usake amal ko badhaaya ja sakata agar hee do cheejen achchhee hain aapakee to nishchit taur par aap ka manobal badh sakata hai

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Berojgar
1:16
इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है कि हमारा मनोबल तभी बढ़ता है जो हम एक दूसरे से मोटिवेट होते हैं एक दूसरे की चीजों को देखकर कुछ सीखते हैं हमें कुछ करना तो रहता है हमें कुछ करने की ललक तो रहती है लेकिन क्या होता है जो हमारा मनोबल होता है जो हमें मोटिवेशन नहीं मिल पाता तो क्या होता है कि दोस्तों के द्वारा परिवार वालों की जीत की वजह से परिवार वालों की हेल्प की वजह से हमें क्या होता है कि ईसीजी मनोबल बढ़ाने की जुगाड़ होते हैं और यही मनोबल हमारे जीवन के अथक प्रयासों में सफलता का श्रेय बनते हैं और कहीं ना कहीं हम जब सफल होते तो इस परिवार वालों का दोस्त दोस्तों का कुछ हमारी बुराइयां करने वाले लोगों का भी हाथ रहता है हम उसे क्या कहते हैं बेवकूफ मेरी बुर हम उनसे क्या लेते हैं सीख लेते हैं उनसे अपनी कमियों को सुधारने का अवसर जो हमें प्राप्त होता है यही हमारे मनोबल को बढ़ाता है और हम अपने अचीवमेंट तक बहुत आराम से थोड़ी सी मेहनत करते हुए चले जाते हैं

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
1:33
नमस्कार कष्ट है एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है तो मुझे ऐसा लगता है बुखार ज्यादा हाथ में कहूंगी हाथ ही उनका होता है क्योंकि आज आप देखेंगे अगर मान लीजिए आप पर कोई काम नहीं हो रहा है लेकिन अगर आपके साथ है सपरिवार और आप जैसे दोस्त हैं जो आपका प्रोत्साहन करते हैं आप बोलते हैं कि नहीं यह काम तो कर सकती है या कर सकता है तो कहीं ना कहीं जो अब तक के चांस होते हैं इस काम को पूरा करने के दांत होते हैं वह बढ़ जाते हैं क्योंकि इंसान पर बैठ कर सोचना शुरु कर देता है और जब हमने उससे डायरेक्ट में सोचना शुरू कर दिया और उस पर काम करना शुरू कर दिया तो मान लीजिए और समझ लीजिए कि 50108 पोस्ट काम जो है वह तो वहीं पर हो क्या लेकिन अगर ऐसे लोग हैं जो आपके आगे पीछे रहे हैं या जिनके साथ आप रहते हैं वह आपको ऐसा करते हैं कि नहीं यह काम तो तू कर ही नहीं सकता यह कर ही नहीं सकती तो फिर मैं लगता है कि अगर वह इंसान उसका बिल भी हुआ कि वह काम कर सकता है लेकिन अगर आपके आसपास के दोस्त और आपके परिवार ने बोल दिया कि यह तो नहीं कर सकती या नहीं कर सकता तो फिर वह काम नहीं होगा क्योंकि वह फिर अपने मन में इस तरह की बात है जो बैठा लेता है कि यह काम मुझसे अब नहीं होगा तो इस तरह से जो है मनोबल बढ़ाने में परिवार और दोस्तों का बहुत ज्यादा हाथ होता है तो मैं आपसे दरख्वास्त करूंगी कृपया अपने दोस्त जो हैं उन्हीं को चुने उन्हीं के साथ ज्यादा क्लॉक रखें जो आप को प्रोत्साहित करते हैं शुक्रिया

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:20
एक एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है तो बहुत बड़ा योगदान है क्योंकि फैमिली कैसी चीज होती है अपनी दोस्त जो आपके बारे में अच्छा बोले आप को अच्छे मनोहर देंगे तो आप आगे बढ़ जाती है अभी वही आपको नीचे गिर आएंगे आप कितनी भी कोशिश करेंगे एक दो परसेंट हुकम रह जाता है

मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
कृषक 🌾🌾🌾🌾
1:21
नमस्कार मित्रों जैसे आपके पड़ोस में एक दिन शाम का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है तो दीजिए मित्रों बिना परिवार की सहमति और सलाद से कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे कि मैं बाद में पछताना पड़े परिवार के लिए सलाह हमारे लिए बहुत जरूरी होती अगर परिवार में एकता है तो उसे कोई नहीं बिगाड़ सकता वहीं परिवार में टूट जाते हैं तो फिर आपको हजारों ऐसे झंझट आ जाएगा जिससे आप जिंदगी में उलझने के सिवा कुछ नहीं बचे इसलिए करके जो भी कार्य करते हुए परिवार के साथ में लोड करके करिए और जीवन में आगे बढ़ी अन्यथा आगे आपको कुछ नहीं बचेगा हाथ जीवन में बहुत सारे ऐसे उतार-चढ़ाव होते रहते हैं लेकिन हमें उन उतार-चढ़ाव में हिम्मत नहीं हारना चाहिए मैं हमेशा सभी के साथ मिलजुल कर के रहना चाहिए और परिवार ऐसा सदस्य जो हमें मनोबल बढ़ता है और हमें कोई कार्य करने में सहायता करता है दोस्तों का सामान इसमें करके दिया जाता है कि दोस्त भी अच्छा हो तो हमें आसमान तक भी पहुंचा सकता है इसलिए करके परिवार और दोस्तों का दोनों का ही सलाह लेना चाहिए तभी जीवन में आगे बढ़ सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar mitron jaise aapake pados mein ek din shaam ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ka kitana haath hota hai to deejie mitron bina parivaar kee sahamati aur salaad se koee kaam nahin karana chaahie jisase ki main baad mein pachhataana pade parivaar ke lie salaah hamaare lie bahut jarooree hotee agar parivaar mein ekata hai to use koee nahin bigaad sakata vaheen parivaar mein toot jaate hain to phir aapako hajaaron aise jhanjhat aa jaega jisase aap jindagee mein ulajhane ke siva kuchh nahin bache isalie karake jo bhee kaary karate hue parivaar ke saath mein lod karake karie aur jeevan mein aage badhee anyatha aage aapako kuchh nahin bachega haath jeevan mein bahut saare aise utaar-chadhaav hote rahate hain lekin hamen un utaar-chadhaav mein himmat nahin haarana chaahie main hamesha sabhee ke saath milajul kar ke rahana chaahie aur parivaar aisa sadasy jo hamen manobal badhata hai aur hamen koee kaary karane mein sahaayata karata hai doston ka saamaan isamen karake diya jaata hai ki dost bhee achchha ho to hamen aasamaan tak bhee pahuncha sakata hai isalie karake parivaar aur doston ka donon ka hee salaah lena chaahie tabhee jeevan mein aage badh sakate hain dhanyavaad

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:23
नमस्कार दोस्तों प्रश्न की एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों कितना हाथ होता है तो दोस्तों बनाना चाहता हूं कि अगर कोई व्यक्ति परेशान है उसका मनोबल नीचे गिरा हुआ है तो सबसे पहले जो उसका मनोबल में वृद्धि कर सकते हैं वह उसके परिवार के सदस्य हैं माता-पिता हैं कई बार ऐसा होता है कि माता-पिता नकारात्मक होते हैं कोई वह कार्य करता है तो भी वह करता रहता है और सफलता प्राप्त करती है कर लेता है या कर लेती है क्योंकि उसके दोस्त जहां बैठता है उसको प्रोत्साहित करते रहते हैं उसका मनोबल ऊंचा रखते रहते हैं तो दोस्तों माता-पिता दोस्तों का और आपके समाज का बहुत बड़ा योगदान है आपके मनोबल को ऊंचा करने के लिए आप देखते होंगे स्टेडियम में जैसे कोई मैच देखने जाते हैं तो जिस देश के जो है खिलाड़ी खेल रहे होते हैं तो दर्शन होते हैं वह मनोबल ताली बजाकर और शूटिंग करके मनोबल बढ़ाते हैं खेल वह नहीं रहे लेकिन देखिए मनोबल इतना काम करता है कि वह खिलाड़ियों में जोश भर देता है इसके अंदर और कई बार अच्छा प्रदर्शन करने में सफल हो जाते हैं तो दोस्तों मनोबल बढ़ाने के लिए परिवार बहुत इंपॉर्टेंट है अगर परिवार में ही नकारात्मकता रहेगी तो चाहे बाहर से कितना भी मनोबल आपको बढ़ाया जाए तो कुछ ना कुछ में कमी अवश्य आएगी धन्यवाद
Namaskaar doston prashn kee ek insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston kitana haath hota hai to doston banaana chaahata hoon ki agar koee vyakti pareshaan hai usaka manobal neeche gira hua hai to sabase pahale jo usaka manobal mein vrddhi kar sakate hain vah usake parivaar ke sadasy hain maata-pita hain kaee baar aisa hota hai ki maata-pita nakaaraatmak hote hain koee vah kaary karata hai to bhee vah karata rahata hai aur saphalata praapt karatee hai kar leta hai ya kar letee hai kyonki usake dost jahaan baithata hai usako protsaahit karate rahate hain usaka manobal ooncha rakhate rahate hain to doston maata-pita doston ka aur aapake samaaj ka bahut bada yogadaan hai aapake manobal ko ooncha karane ke lie aap dekhate honge stediyam mein jaise koee maich dekhane jaate hain to jis desh ke jo hai khilaadee khel rahe hote hain to darshan hote hain vah manobal taalee bajaakar aur shooting karake manobal badhaate hain khel vah nahin rahe lekin dekhie manobal itana kaam karata hai ki vah khilaadiyon mein josh bhar deta hai isake andar aur kaee baar achchha pradarshan karane mein saphal ho jaate hain to doston manobal badhaane ke lie parivaar bahut importent hai agar parivaar mein hee nakaaraatmakata rahegee to chaahe baahar se kitana bhee manobal aapako badhaaya jae to kuchh na kuchh mein kamee avashy aaegee dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका बोलकर है पर फ्रेंड सबको सभा में एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का हाथ होता है तो ट्रेंस किसी भी इंसान का मनोबल बढ़ाने में उसके परिवार और दोस्तों का बहुत बड़ा हाथ होता है कि परिवार वाले उसका मनोबल बढ़ाते हैं दोस्त भी उसे आगे कार्य करने के लिए प्रेरित करते हैं तो इन लोगों का बहुत बड़ा हाथ होता है धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka bolakar hai par phrend sabako sabha mein ek insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ka haath hota hai to trens kisee bhee insaan ka manobal badhaane mein usake parivaar aur doston ka bahut bada haath hota hai ki parivaar vaale usaka manobal badhaate hain dost bhee use aage kaary karane ke lie prerit karate hain to in logon ka bahut bada haath hota hai dhanyavaad

ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:56
सवाल पूछा गया एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है तो देखिए अगर एक इंसान का मनोबल पर कोई बड़ा सकता है तो एक तो पहली बार इंसान खोल दें लेकिन किसी कारणवश अगर उसका मनोबल गिरता है उसको कॉन्फिडेंस कम हो रहा है तो एक परिवार और मित्र ही वह लोग होते हैं उसका मनोबल द्वारा बढ़ा सकते हैं क्योंकि इस इंसान को बेहतर तरीके से जानते हो उसको वह चीज बताते जो असल में उसको जाने योग्य होती है अपना मनोबल बढ़ाने के लिए उसके लगाकर आपके आपके पास आपके परिवार और दोस्तों कैसे बोलते तो आप जीवन में बहुत कुछ पढ़ा हासिल कर सकते हैं क्योंकि यह देखिए सपोर्ट पुस्तक होना बहुत जरूरी है सही बात हम कमजोर पड़ जाते हैं हम घर पर जाकर तो ऐसे समय में जब हमारा परिवार हमारा सपोर्ट करता है तब काफी बेहतर तरीके से उस चीज को कर पाते हैं उम्मीद करते हैं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya ek insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ka kitana haath hota hai to dekhie agar ek insaan ka manobal par koee bada sakata hai to ek to pahalee baar insaan khol den lekin kisee kaaranavash agar usaka manobal girata hai usako konphidens kam ho raha hai to ek parivaar aur mitr hee vah log hote hain usaka manobal dvaara badha sakate hain kyonki is insaan ko behatar tareeke se jaanate ho usako vah cheej bataate jo asal mein usako jaane yogy hotee hai apana manobal badhaane ke lie usake lagaakar aapake aapake paas aapake parivaar aur doston kaise bolate to aap jeevan mein bahut kuchh padha haasil kar sakate hain kyonki yah dekhie saport pustak hona bahut jarooree hai sahee baat ham kamajor pad jaate hain ham ghar par jaakar to aise samay mein jab hamaara parivaar hamaara saport karata hai tab kaaphee behatar tareeke se us cheej ko kar paate hain ummeed karate hain aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

मनीष कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मनीष जी का जवाब
किसान
1:26
अंजनेश्वर आपने कुछ नहीं किया है कि मिशन का मनमुटाव हिंदू परिवार और दोस्तों और इतना हाथ होता है तो सर मैं आपको बताना चाहता हूं एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में परिवार का बहुत योगदान रहता है और दोस्तों का और भेजा था बट जब वह अपना खुद को अकेला महसूस करता है और वह डिप्रेशन में होता है तो उसके दोस्तों से हुई उसको बाहर निकाल सकते हैं उसके मनोबल को बढ़ा सकते हैं और परिवार तो सब कुछ होता है एक इंसान का परिवार ही सब कुछ होता है जो मनोबल को बढ़ाता है सब कुछ ठीक करता है परिवार के बिना कुछ नहीं दोस्त भी नहीं होते जितने परिवार एक साथ होते परिवार एक ऐसी चीज होती है परिवार सहित दोस्त बनते हैं और दोस्ती परिवार बनता है तो दोनों का बड़ा ही योगदान होता है मनोबल बढ़ाने में और दोनों का बहुत बड़ा हाथ होता है परिवार के बिना दोस्त नहीं होते और तो बिना परिवार नहीं होता परिवार हमेशा आगे बढ़ाने के लिए बाहर देता है हमेशा उसका मनोबल बढ़ाते हैं उसको प्रेरित करता है परिवार के आगे बढ़ता है और परिवार को देखकर उसके संस्कारों को देखने उसका मनोबल बढ़ता है और दोस्तों को देखकर उसको अच्छा फील होता है और मनोबल उसका और अच्छा बढ़ता है और दोस्त हमेशा उसके अच्छे होते हैं वो हमेशा मनोबल बढ़ाते और उसके साथ देते हैं लेकिन साथ
Anjaneshvar aapane kuchh nahin kiya hai ki mishan ka manamutaav hindoo parivaar aur doston aur itana haath hota hai to sar main aapako bataana chaahata hoon ek insaan ka manobal badhaane mein parivaar ka bahut yogadaan rahata hai aur doston ka aur bheja tha bat jab vah apana khud ko akela mahasoos karata hai aur vah dipreshan mein hota hai to usake doston se huee usako baahar nikaal sakate hain usake manobal ko badha sakate hain aur parivaar to sab kuchh hota hai ek insaan ka parivaar hee sab kuchh hota hai jo manobal ko badhaata hai sab kuchh theek karata hai parivaar ke bina kuchh nahin dost bhee nahin hote jitane parivaar ek saath hote parivaar ek aisee cheej hotee hai parivaar sahit dost banate hain aur dostee parivaar banata hai to donon ka bada hee yogadaan hota hai manobal badhaane mein aur donon ka bahut bada haath hota hai parivaar ke bina dost nahin hote aur to bina parivaar nahin hota parivaar hamesha aage badhaane ke lie baahar deta hai hamesha usaka manobal badhaate hain usako prerit karata hai parivaar ke aage badhata hai aur parivaar ko dekhakar usake sanskaaron ko dekhane usaka manobal badhata hai aur doston ko dekhakar usako achchha pheel hota hai aur manobal usaka aur achchha badhata hai aur dost hamesha usake achchhe hote hain vo hamesha manobal badhaate aur usake saath dete hain lekin saath

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:41
उनका मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है देखिए इसमें कोई संदेह नहीं है परिवार अपने बच्चों का मनोबल बढ़ाने का प्रयास करते हैं मित्र भी प्रयास करते हैं लेकिन अगर किसी कारणवश वह बच्चा या विद्यार्थी कामयाब नहीं होता है 246 बार असफल हो जाता है तो बच्चे का मनोबल तोड़ने में सबसे बड़ी भूमिका परिवार की होती है और मित्रों का बहुत बड़ा योगदान होता है जो कि इंसान को ताने मार कर खत्म कर देता डिप्रेशन में लाने का इंसान की मनोबल तोड़ने का और सच कहूं तो उसकी शक्ति कोचिंग करने का इंसान को कमजोर करने जितना बड़ा योगदान मित्रों और परिवार के सदस्यों का और रिश्तेदारों का होता है मैं समझता हूं यह मित्र होकर भी शत्रु बन जाते हैं हां कोई कहा मित्र कोई एक ऐसा काहे कैसी या कोई आपका अपना या आपका गुरु वह आपके मनोबल बड़ा आपका साथ देगा और क्यों आप का साथ दें जो आपके मनोबल को बढ़ाने में मदद करें चाहे वह भाइयों बहनों माताओं का बेटा हूं गुरु या कोई मित्रों आप कर लीजिए उस की शरण में जाकर उसे अपनाने की सारी दुनिया को छोड़ दीजिए चिट्ठी सफल हो जाएंगे जतिन सक्सेस हो जाएंगे सारी दुनिया आपके चरणो में होगी जो आज आपको मनोबल तोड़ रहे हैं आप को कमजोर आंकने आपको नाकाम कह रहे आप की प्रचलित धारणा बना चुके हैं क्या कुछ नहीं हो सकता जीवन खराब कर दिया पैसा बर्बाद कर दिया हम को खत्म कर लिया जिनकी ही हो जाएं और परिवार के सदस्यों की होती है बाहर वालों की नहीं बाहर वाली आग में घी डालने का काम करते हैं उन सब के सब को आप एक किसी एक का सहारा लेकर आप सबको नतमस्तक कर सकते यह निर्णय आपको नहीं

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:39
जी देखिए दुनिया में इतने सारे लोग हैं करोड़ों लोग बैलेंसर पीपल के प्रोग्राम पूछे और आप ऐसा सवाल का जवाब एक चेक करते हैं कि वह इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों का कितना हाथ होता है तुम्हारे पास इतने सारे लोगों का डाटा तो है नहीं तो एग्जैक्ट तरीके से बताना बड़ा मुश्किल होता है क्योंकि कई बार ऐसा हो सकता है तो घर परिवार हो सकता है जहां पर परिवार का साथ नहीं मिलता है दोस्तों को साथ नहीं मिलता है कई बार ऐसा होता है कि परिवार का साथ है लेकिन दोस्तों के साथ नहीं है कई बार ऐसा होता है कि परिवार ही साथ नहीं दे रहा लेकिन कुछ दोस्त साथ दे रहे हैं कई बार बहुत सारे दोस्त साथ दे रहे हैं कई बार एक भी दोस्त नहीं है कई बार परिवार में से एक तो साथ दे रहे दूसरा नहीं दे रहा कई बार सारे विरोधी हैं परिवार में और दोस्त भी नहीं है तो हर जहां तरीके के प्रमोटर सिंह कॉन्बिनेशन हो सकते हैं तो इसीलिए किसी नतीजे पर पहुंचना और बताना दो कि मैं जानता हूं कि भाई लेकिन एक इंसान का मनोबल बढ़ाने के लिए परिवार और दोस्तों का इतना इतना प्रतिशत हाथ होता है ऐसा कुछ भी नहीं होता बड़ी सिंपल सी बात है यह दोनों ही आप का मनोबल बढ़ा सकते हैं या गिरा सकते हैं किसी को दोनों ही मनोबल बढ़ाते हैं और किसी के साथ में भाई कोई भी नहीं होता मनोबल बढ़ाने के लिए कई जगह पर ऐसा प्रतीत होता है कि वह मनोबल बढ़ा रहे हैं बट असल में वह बड़ा नहीं रहे वह निंदा कर रहे हैं वह हमें धरती रहे हैं वह हमें अब पीछे धकेल रहे हैं ऐसा भी है तो बहुत सारी चीज़ें हो सकती है तो एक्जेक्टली बताना बहुत मुश्किलें तो क्या करना है जी देखे हमें दूसरों के भरोसे थोड़े ही ना बैठना है जीवन हमारा अपना लाइफ शॉपिंग वेल विद ए न्यू एटीट्यूड मुझे आज सुबह रिपोर्ट आप दूसरों के भरोसे बैठेंगे कि भाई कोई मेरा मनोबल बढ़ा दे तो आप कैसे जाएं कैसे आगे बढ़ेंगे नहीं ना अगर आप चाहते हैं कि भैया मेरे साथ कोई चार्जर की तरह लगा रहे हमेशा तू ही में चार जाऊंगा तू ही तो संभव नहीं है ना जी जीवन आपका है आप किस तरीके का जीवन जीना चाहते हैं एक्सीडेंट करना चाहते हैं उस को ध्यान में रखें और अपने अपने काम की निरंतर काम करिए करते रहिए और आगे बढ़ते चले जाएं यही तो करने की जरूरत है कुछ और करने की जरूरत ही नहीं है किसी के भरोसे मत बैठिए बस आगे बढ़ते चले जाइए आंखें ओपन रहिए समझ ले जानी है और आगे बढ़ जाता है
Jee dekhie duniya mein itane saare log hain karodon log bailensar peepal ke prograam poochhe aur aap aisa savaal ka javaab ek chek karate hain ki vah insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ka kitana haath hota hai tumhaare paas itane saare logon ka daata to hai nahin to egjaikt tareeke se bataana bada mushkil hota hai kyonki kaee baar aisa ho sakata hai to ghar parivaar ho sakata hai jahaan par parivaar ka saath nahin milata hai doston ko saath nahin milata hai kaee baar aisa hota hai ki parivaar ka saath hai lekin doston ke saath nahin hai kaee baar aisa hota hai ki parivaar hee saath nahin de raha lekin kuchh dost saath de rahe hain kaee baar bahut saare dost saath de rahe hain kaee baar ek bhee dost nahin hai kaee baar parivaar mein se ek to saath de rahe doosara nahin de raha kaee baar saare virodhee hain parivaar mein aur dost bhee nahin hai to har jahaan tareeke ke pramotar sinh konbineshan ho sakate hain to iseelie kisee nateeje par pahunchana aur bataana do ki main jaanata hoon ki bhaee lekin ek insaan ka manobal badhaane ke lie parivaar aur doston ka itana itana pratishat haath hota hai aisa kuchh bhee nahin hota badee simpal see baat hai yah donon hee aap ka manobal badha sakate hain ya gira sakate hain kisee ko donon hee manobal badhaate hain aur kisee ke saath mein bhaee koee bhee nahin hota manobal badhaane ke lie kaee jagah par aisa prateet hota hai ki vah manobal badha rahe hain bat asal mein vah bada nahin rahe vah ninda kar rahe hain vah hamen dharatee rahe hain vah hamen ab peechhe dhakel rahe hain aisa bhee hai to bahut saaree cheezen ho sakatee hai to ekjektalee bataana bahut mushkilen to kya karana hai jee dekhe hamen doosaron ke bharose thode hee na baithana hai jeevan hamaara apana laiph shoping vel vid e nyoo eteetyood mujhe aaj subah riport aap doosaron ke bharose baithenge ki bhaee koee mera manobal badha de to aap kaise jaen kaise aage badhenge nahin na agar aap chaahate hain ki bhaiya mere saath koee chaarjar kee tarah laga rahe hamesha too hee mein chaar jaoonga too hee to sambhav nahin hai na jee jeevan aapaka hai aap kis tareeke ka jeevan jeena chaahate hain ekseedent karana chaahate hain us ko dhyaan mein rakhen aur apane apane kaam kee nirantar kaam karie karate rahie aur aage badhate chale jaen yahee to karane kee jaroorat hai kuchh aur karane kee jaroorat hee nahin hai kisee ke bharose mat baithie bas aage badhate chale jaie aankhen opan rahie samajh le jaanee hai aur aage badh jaata hai

Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Sales executive
2:49
एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों के विभिन्न प्रकार से हाथ बंधे हैं सर्वप्रथम कहां जाएं तो जब भी कोई इंसान या कोई व्यक्ति किसी मुसीबत या कोई कंडीशन में ऐसा हो जो जीवन और हार के बीच में उसको फर्क नजर नहीं आ रहा है वह अपनी उपलब्धियों को नकारा है तो वैसे सिचुएशन डायरेक्ट स्पीच इनडायरेक्ट टैक्सेस में चला जाता है जिससे कि उसका परिवार का साथ होना या अपने दोस्तों के साथ में बहुत ही आवश्यक हो जाता है उसके लिए सपोर्ट चाहता है वह अपना कुछ जीना चाहता क्यों उस उस रास्ते से निकले कैसे तो सिचुएशन में क्या करते जब परिवार का व्यक्ति अपने परिवार को कुछ ऐसे अपनी कंडीशन को अप्लाई करके बोलता है है तो उसे परिवार और उसके बाद तो उसके हाव-भाव से उसकी चेतना भावना को समझ समझ स्नेक इस वक्त रखते हैं दवा अपने अपने बच्चों के लिए बहुत ही ज्यादा प्रोटेक्टिव हो जाते हैं और दूसरी तरफ आया था हमारे दोस्तों के लिए दोस्तों हमारे बचपन के संगी साथी होते होते हैं तो और क्या व्यक्ति के रूप में क्या जो हम लोग हमेशा ऐसे बातों को शेयर कर पाते हैं भले वह कितने-कितने कड़वी बातें क्यों ना हो कितनी कुछ ऐसी बातें जो किसी दूसरे का हाथ घर से गए फिर भी हम उसके साथ में शेयर करना पसंद करते हैं जो हमें पता होता आपने कष्ट बल रहते हैं कि हमारे जो दोस्त है भले ही हम आज कितना भी बोल दे फिर भी वह हमारे साथ जरूर एक न एक दिन हमारे साथ में रहेंगे तो ऐसा प्रोडक्ट डेमो हाल बंधनों के बीच में और इस प्रकार से कुछ सामंजस्य स्थापित करके वह क्या तो बहुत ही अहम भूमिका निभाती है उसके जीवन को उबारने में और किसके जीवन को आगे बढ़ाने में मतलब कहने का मतलब है कि जब भी कोई ऐसी विकट परिस्थिति किसी भी इंसान के बीच आती है तो उनके परिवार वालों और उनके दोस्तों की बहुत ही अहम भूमिका होती है उसके जीवन के लिए ऐसा ही नहीं हमें हर परिवार से हर परिवार यदि आम कहने का मतलब है कि हमें अपने परिवार और दोस्तों के लिए अपने लिए कुछ भी जो ऐसी सिचुएशन जनरेट हो जो हमें लगे कि नहीं हमारे परिवार को साथ देना चाहिए अपने दोस्तों के साथ देना चाहिए तुम्हें सीसीटी हमें साथ देना ही उचित होता है कि हमारे परिवार और दोस्त जीवन के सुख-दुख के लिए बहुत ही लंबे प्रोटेक्टिव बनाते हैं
Ek insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston ke vibhinn prakaar se haath bandhe hain sarvapratham kahaan jaen to jab bhee koee insaan ya koee vyakti kisee museebat ya koee kandeeshan mein aisa ho jo jeevan aur haar ke beech mein usako phark najar nahin aa raha hai vah apanee upalabdhiyon ko nakaara hai to vaise sichueshan daayarekt speech inadaayarekt taikses mein chala jaata hai jisase ki usaka parivaar ka saath hona ya apane doston ke saath mein bahut hee aavashyak ho jaata hai usake lie saport chaahata hai vah apana kuchh jeena chaahata kyon us us raaste se nikale kaise to sichueshan mein kya karate jab parivaar ka vyakti apane parivaar ko kuchh aise apanee kandeeshan ko aplaee karake bolata hai hai to use parivaar aur usake baad to usake haav-bhaav se usakee chetana bhaavana ko samajh samajh snek is vakt rakhate hain dava apane apane bachchon ke lie bahut hee jyaada protektiv ho jaate hain aur doosaree taraph aaya tha hamaare doston ke lie doston hamaare bachapan ke sangee saathee hote hote hain to aur kya vyakti ke roop mein kya jo ham log hamesha aise baaton ko sheyar kar paate hain bhale vah kitane-kitane kadavee baaten kyon na ho kitanee kuchh aisee baaten jo kisee doosare ka haath ghar se gae phir bhee ham usake saath mein sheyar karana pasand karate hain jo hamen pata hota aapane kasht bal rahate hain ki hamaare jo dost hai bhale hee ham aaj kitana bhee bol de phir bhee vah hamaare saath jaroor ek na ek din hamaare saath mein rahenge to aisa prodakt demo haal bandhanon ke beech mein aur is prakaar se kuchh saamanjasy sthaapit karake vah kya to bahut hee aham bhoomika nibhaatee hai usake jeevan ko ubaarane mein aur kisake jeevan ko aage badhaane mein matalab kahane ka matalab hai ki jab bhee koee aisee vikat paristhiti kisee bhee insaan ke beech aatee hai to unake parivaar vaalon aur unake doston kee bahut hee aham bhoomika hotee hai usake jeevan ke lie aisa hee nahin hamen har parivaar se har parivaar yadi aam kahane ka matalab hai ki hamen apane parivaar aur doston ke lie apane lie kuchh bhee jo aisee sichueshan janaret ho jo hamen lage ki nahin hamaare parivaar ko saath dena chaahie apane doston ke saath dena chaahie tumhen seeseetee hamen saath dena hee uchit hota hai ki hamaare parivaar aur dost jeevan ke sukh-dukh ke lie bahut hee lambe protektiv banaate hain

lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
1:29
एक सवाल एक इंसान का मनोबल बढ़ाने में अपने परिवार और दोस्तों वक्त कितना हाथ होता है कि जवाब है हाथ होता है भैया अगर आपके परिवार वाले लोग आपको मोटिवेट करते आपके दोस्त आप को मोटिवेट कर असंभव काम को भी असंभव कर सकते हो ठीक है असंभव से दिखने वाले काम को भी आप संभोग कर सकते हो अगर आपके परिवार वाले लोगों को सपोर्ट करते हैं ओके दोस्त लो आप को मोटिवेट करते हैं तो आप मोटिवेट होकर क्या वो काम कर लोगे और वही विपरीत फिर आपके जो परिवार वाले हैं वह आपको भी मोटिवेट करते हैं कि आप नहीं कर सकते मत करो यह क्या कर काम कर रहा है मत कर मत कर यार दोस्त लोग भी ऐसे करें कि आप नहीं कर सकता मत कर अभी आप कुछ करना चाहते अपनी लाइफ में आगे बढ़ना चाहती लेकिन आपके परिवार वाले लोग आपके दोस्त लोगों को मोटिवेट नहीं बल्कि आपको नीचे खींच रहे कि आप आगे मत बढ़ो की सहायता नहीं कर रहे हल नहीं कर रहे हो मोटिवेट नहीं कर रही आप जो काम आप करना चाहते हो वह काम आप नहीं कर सकते अगर आप ऐसे व्यक्ति के बीच में रहते हो ऐसे दोस्तों और परिवार के लोग बिजी रहते हो बहुत मायने रखता है आप जिंदगी भर साथ भी है तुम वह आप को मोटिवेट करता है नहीं करता क्या आपको आगे बढ़ने में हेल्प नहीं करता कर रहा है तो आप अपनी लाइफ में बहुत आगे जा सकते बहुत आगे जा सकते हो शिखर पर पहुंचे कि नहीं जो प्राप्त करना चाहते हो वह आप कर सकते हो ठीक है अगर ऐसे दोस्त मिल जाए ऐसे परिवारों ने लोग जो आपकी हेल्प कर रहे हैं मदद करें और आपको आगे बढ़ने में हल मेरी मदद करें और आपके साथ रहना को मोटिवेट कर रहे हैं तो आप सब कुछ कर सकते हो ठीक है
Ek savaal ek insaan ka manobal badhaane mein apane parivaar aur doston vakt kitana haath hota hai ki javaab hai haath hota hai bhaiya agar aapake parivaar vaale log aapako motivet karate aapake dost aap ko motivet kar asambhav kaam ko bhee asambhav kar sakate ho theek hai asambhav se dikhane vaale kaam ko bhee aap sambhog kar sakate ho agar aapake parivaar vaale logon ko saport karate hain oke dost lo aap ko motivet karate hain to aap motivet hokar kya vo kaam kar loge aur vahee vipareet phir aapake jo parivaar vaale hain vah aapako bhee motivet karate hain ki aap nahin kar sakate mat karo yah kya kar kaam kar raha hai mat kar mat kar yaar dost log bhee aise karen ki aap nahin kar sakata mat kar abhee aap kuchh karana chaahate apanee laiph mein aage badhana chaahatee lekin aapake parivaar vaale log aapake dost logon ko motivet nahin balki aapako neeche kheench rahe ki aap aage mat badho kee sahaayata nahin kar rahe hal nahin kar rahe ho motivet nahin kar rahee aap jo kaam aap karana chaahate ho vah kaam aap nahin kar sakate agar aap aise vyakti ke beech mein rahate ho aise doston aur parivaar ke log bijee rahate ho bahut maayane rakhata hai aap jindagee bhar saath bhee hai tum vah aap ko motivet karata hai nahin karata kya aapako aage badhane mein help nahin karata kar raha hai to aap apanee laiph mein bahut aage ja sakate bahut aage ja sakate ho shikhar par pahunche ki nahin jo praapt karana chaahate ho vah aap kar sakate ho theek hai agar aise dost mil jae aise parivaaron ne log jo aapakee help kar rahe hain madad karen aur aapako aage badhane mein hal meree madad karen aur aapake saath rahana ko motivet kar rahe hain to aap sab kuchh kar sakate ho theek hai

Akash verma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Gov Job in Kanpur
2:46
डिग्गी में एक रियल वाक्य बता रहा हूं इसलिए मेरे मेरा कंडीशन मतलब मैं एक बहुत ही गरीब परिवार तथा लाल अब तो बहुत ही कंडीशन सही हो गया तुम्हें एक प्राइवेट कंपनी में काम कर रहा था तो मेरा एक दोस्त है तो वह मुझे सरकारी नौकरी की तैयारी करता है तो वह मतलब मैं भी जाते शादी पढ़ाई करता था तो अभी फ़िलहाल वो मेरे पास दोस्तों हैं मैसेज किया है कि ऐ मेरे दोस्त लौट के आ जाओ तो फिर ऐसे ही कुछ दिन काम किया फिर मूड बना पढ़ाई करने के लिए मैं पढ़ाई किया आज शिलालेख में बहुत ही अच्छी जगह पर हूं मैं और रही बात है मलीके देखी फैमिली सपोर्ट बहुत जरूरी होता है और कहीं ना कहीं आपको दिखता नहीं है डायरेक्ट इनडायरेक्ट लेवल रूप से फैमिली सपोर्ट में है मेरे मेरे सपोर्ट में थी तो मैं आज एक अच्छी जगह पर हूं और इसका अहम रोल भी होता है जिंदगी में बहुत सारे में मतलब बिल्कुल समझ लीजिए इतना अब ऐसी परिस्थिति में था आज फिलहाल दोस्तों के सपोर्ट से कभी पढ़ाई के टाइम पर पैसे नहीं होते तो फिर देने के लिए तो उसको सब भी सपोर्ट है मेरे लाइफ में दोस्तों का और वही साथ आएगी आज मैं एक अच्छे पोस्ट पर हूं सर्विस करता हूं गवर्नमेंट सर्विस और और रही बात फैमिली कि मैं जब जॉब छोड़ दिया था तो फैमिली मेरे साथ थी और उसके बाद मैंने अच्छे से पढ़ाई की और एक जगह सेटल तो कहीं न कहीं इस चीज का मायने रखता है और जब दोनों साथ में हो ना जब दोनों साथ में फैमिली भी सपोर्ट में है और दोस्त भी मतलब गोडाउन वाले नाम खींचने वाले ना हो गया रे यार चलो आज तो शराब पीते हैं या इन सब लक्षणों वाले नहीं होने चाहिए एक मतलब हमेशा पॉजिटिव थिंकिंग माल्या ने जहां नेगेटिव थिंकिंग भी जरूरी है बट कहीं कहीं ठीक हैं तो दोस्त रोल और परिवार करो लाइफ में बहुत मायने रखता है थोड़ा सा बना कर रखना पड़ता है और फैमिली का सपोर्ट जो है होने से आदमी का खवासा जो कह सकते हैं कि यह परेशानी झेलने वाली जो दिक्कत है वह थोड़ा कम हो जाते हैं अगर फैमिलीज सपेरन सपोर्टेड है तो धन्यवाद
Diggee mein ek riyal vaaky bata raha hoon isalie mere mera kandeeshan matalab main ek bahut hee gareeb parivaar tatha laal ab to bahut hee kandeeshan sahee ho gaya tumhen ek praivet kampanee mein kaam kar raha tha to mera ek dost hai to vah mujhe sarakaaree naukaree kee taiyaaree karata hai to vah matalab main bhee jaate shaadee padhaee karata tha to abhee filahaal vo mere paas doston hain maisej kiya hai ki ai mere dost laut ke aa jao to phir aise hee kuchh din kaam kiya phir mood bana padhaee karane ke lie main padhaee kiya aaj shilaalekh mein bahut hee achchhee jagah par hoon main aur rahee baat hai maleeke dekhee phaimilee saport bahut jarooree hota hai aur kaheen na kaheen aapako dikhata nahin hai daayarekt inadaayarekt leval roop se phaimilee saport mein hai mere mere saport mein thee to main aaj ek achchhee jagah par hoon aur isaka aham rol bhee hota hai jindagee mein bahut saare mein matalab bilkul samajh leejie itana ab aisee paristhiti mein tha aaj philahaal doston ke saport se kabhee padhaee ke taim par paise nahin hote to phir dene ke lie to usako sab bhee saport hai mere laiph mein doston ka aur vahee saath aaegee aaj main ek achchhe post par hoon sarvis karata hoon gavarnament sarvis aur aur rahee baat phaimilee ki main jab job chhod diya tha to phaimilee mere saath thee aur usake baad mainne achchhe se padhaee kee aur ek jagah setal to kaheen na kaheen is cheej ka maayane rakhata hai aur jab donon saath mein ho na jab donon saath mein phaimilee bhee saport mein hai aur dost bhee matalab godaun vaale naam kheenchane vaale na ho gaya re yaar chalo aaj to sharaab peete hain ya in sab lakshanon vaale nahin hone chaahie ek matalab hamesha pojitiv thinking maalya ne jahaan negetiv thinking bhee jarooree hai bat kaheen kaheen theek hain to dost rol aur parivaar karo laiph mein bahut maayane rakhata hai thoda sa bana kar rakhana padata hai aur phaimilee ka saport jo hai hone se aadamee ka khavaasa jo kah sakate hain ki yah pareshaanee jhelane vaalee jo dikkat hai vah thoda kam ho jaate hain agar phaimileej saperan saported hai to dhanyavaad

Akash verma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Gov Job in Kanpur
2:46
डिग्गी में एक रियल वाक्य बता रहा हूं इसलिए मेरे मेरा कंडीशन मतलब मैं एक बहुत ही गरीब परिवार तथा लाल अब तो बहुत ही कंडीशन सही हो गया तुम्हें एक प्राइवेट कंपनी में काम कर रहा था तो मेरा एक दोस्त है तो वह मुझे सरकारी नौकरी की तैयारी करता है तो वह मतलब मैं भी जाते शादी पढ़ाई करता था तो अभी फ़िलहाल वो मेरे पास दोस्तों हैं मैसेज किया है कि ऐ मेरे दोस्त लौट के आ जाओ तो फिर ऐसे ही कुछ दिन काम किया फिर मूड बना पढ़ाई करने के लिए मैं पढ़ाई किया आज शिलालेख में बहुत ही अच्छी जगह पर हूं मैं और रही बात है मलीके देखी फैमिली सपोर्ट बहुत जरूरी होता है और कहीं ना कहीं आपको दिखता नहीं है डायरेक्ट इनडायरेक्ट लेवल रूप से फैमिली सपोर्ट में है मेरे मेरे सपोर्ट में थी तो मैं आज एक अच्छी जगह पर हूं और इसका अहम रोल भी होता है जिंदगी में बहुत सारे में मतलब बिल्कुल समझ लीजिए इतना अब ऐसी परिस्थिति में था आज फिलहाल दोस्तों के सपोर्ट से कभी पढ़ाई के टाइम पर पैसे नहीं होते तो फिर देने के लिए तो उसको सब भी सपोर्ट है मेरे लाइफ में दोस्तों का और वही साथ आएगी आज मैं एक अच्छे पोस्ट पर हूं सर्विस करता हूं गवर्नमेंट सर्विस और और रही बात फैमिली कि मैं जब जॉब छोड़ दिया था तो फैमिली मेरे साथ थी और उसके बाद मैंने अच्छे से पढ़ाई की और एक जगह सेटल तो कहीं न कहीं इस चीज का मायने रखता है और जब दोनों साथ में हो ना जब दोनों साथ में फैमिली भी सपोर्ट में है और दोस्त भी मतलब गोडाउन वाले नाम खींचने वाले ना हो गया रे यार चलो आज तो शराब पीते हैं या इन सब लक्षणों वाले नहीं होने चाहिए एक मतलब हमेशा पॉजिटिव थिंकिंग माल्या ने जहां नेगेटिव थिंकिंग भी जरूरी है बट कहीं कहीं ठीक हैं तो दोस्त रोल और परिवार करो लाइफ में बहुत मायने रखता है थोड़ा सा बना कर रखना पड़ता है और फैमिली का सपोर्ट जो है होने से आदमी का खवासा जो कह सकते हैं कि यह परेशानी झेलने वाली जो दिक्कत है वह थोड़ा कम हो जाते हैं अगर फैमिलीज सपेरन सपोर्टेड है तो धन्यवाद
Diggee mein ek riyal vaaky bata raha hoon isalie mere mera kandeeshan matalab main ek bahut hee gareeb parivaar tatha laal ab to bahut hee kandeeshan sahee ho gaya tumhen ek praivet kampanee mein kaam kar raha tha to mera ek dost hai to vah mujhe sarakaaree naukaree kee taiyaaree karata hai to vah matalab main bhee jaate shaadee padhaee karata tha to abhee filahaal vo mere paas doston hain maisej kiya hai ki ai mere dost laut ke aa jao to phir aise hee kuchh din kaam kiya phir mood bana padhaee karane ke lie main padhaee kiya aaj shilaalekh mein bahut hee achchhee jagah par hoon main aur rahee baat hai maleeke dekhee phaimilee saport bahut jarooree hota hai aur kaheen na kaheen aapako dikhata nahin hai daayarekt inadaayarekt leval roop se phaimilee saport mein hai mere mere saport mein thee to main aaj ek achchhee jagah par hoon aur isaka aham rol bhee hota hai jindagee mein bahut saare mein matalab bilkul samajh leejie itana ab aisee paristhiti mein tha aaj philahaal doston ke saport se kabhee padhaee ke taim par paise nahin hote to phir dene ke lie to usako sab bhee saport hai mere laiph mein doston ka aur vahee saath aaegee aaj main ek achchhe post par hoon sarvis karata hoon gavarnament sarvis aur aur rahee baat phaimilee ki main jab job chhod diya tha to phaimilee mere saath thee aur usake baad mainne achchhe se padhaee kee aur ek jagah setal to kaheen na kaheen is cheej ka maayane rakhata hai aur jab donon saath mein ho na jab donon saath mein phaimilee bhee saport mein hai aur dost bhee matalab godaun vaale naam kheenchane vaale na ho gaya re yaar chalo aaj to sharaab peete hain ya in sab lakshanon vaale nahin hone chaahie ek matalab hamesha pojitiv thinking maalya ne jahaan negetiv thinking bhee jarooree hai bat kaheen kaheen theek hain to dost rol aur parivaar karo laiph mein bahut maayane rakhata hai thoda sa bana kar rakhana padata hai aur phaimilee ka saport jo hai hone se aadamee ka khavaasa jo kah sakate hain ki yah pareshaanee jhelane vaalee jo dikkat hai vah thoda kam ho jaate hain agar phaimileej saperan saported hai to dhanyavaad

Vinod kumar pandey  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vinod जी का जवाब
Life coach, parenting coach, relationship coach and career counsellor
1:12

Avdhesh Tiwari Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Avdhesh जी का जवाब
Business
1:21

Soumya Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Soumya जी का जवाब
Unknown
1:28

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:50

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसी का मनोबल कैसे बढ़ाएं, परिवार वाले मनोबल कैसे बढ़ाएं
URL copied to clipboard