#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?

Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:14

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:18

bolkar speaker
किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
Dr.Pragya Tiwari Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Dr.Pragya जी का जवाब
Medical student (future doctor)
0:26

bolkar speaker
किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
StayInspire.Com Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए StayInspire.Com जी का जवाब
स्वनिर्माण
1:22

bolkar speaker
किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:27

bolkar speaker
किसान इतने आक्रमण क्यों हो रहे हैं?Kisaan Itne Aakraman Kyun Ho Rahe Hain
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:59
कोविड-19 से तुमको शिक्षा लेनी चाहिए जब आप इतिहास को पढ़ेंगे तो यह पाएंगे तो जो मजबूत शासक होते थे उनके सामान उनके अधीन रहकर के शांतिपूर्वक देश हित में कार्य करते रहते थे लेकिन तू जब शासक कमजोर होता था तो सामंत उसके स्वतंत्र होने का प्रयास करते थे और उसमें भी जनहित की उपेक्षा भी करते थे जब शोषण भी करते थे और आपस में लड़ते भी थे और आपस में शक्ति प्रदर्शन भी करते थे जी की स्तुति यहां पर है भारतीय शासन की जो कमजोरियां हैं भारतीय जो गंदी राजनीति है भारत में 2 वोटों की राजनीति है भारत में जो तुष्टीकरण की राजनीति है उसका लाभ उठा रहे हैं और ना ही साथ देश का शासन इंदिरा जी के समय भी चलता था इंदिरा जी ने देख लिया कि जब विपक्षी अधिक थकान सी हो गया तो उन्होंने इमरजेंसी लगा दी और इन सब को ठिकाने लगा दिया ठीक यही स्थिति अब चाहे आप उसे यह कह सकते हैं बहुत से लोग कहते हैं उदारवादी रोग हिसाब इंद्रजीत आना साथी नहीं राजस्थान आशा नहीं थी महान नीति के चाणक्य ने भी इस बात को कहा है कि देश को प्रशासन को चलाने के लिए जनहितकारी शासन चलाने के लिए शक्ति का होना अनिवार्य है लिपस्टिक इस बड़ी सच्चाई एकदम पक्का सिद्धांत है प्रशासन चलाना है तो शक्ति चलाया जाता है कि शासन में जब आप हाथ जोड़कर प्रशासन चलाना चाहिए आप विनम्रता से प्रशासन चलाना चलाएं तो यह कभी संभव ही नहीं है जितनी भी इतिहास की आप देखेंगे तो जितनी मजबूत शासक रहे उन्होंने शक्ति से शासन चलाया अलाउद्दीन खिलजी तो एक मामूली भाषा था लेकिन उस पाशा ने वहां पर उस समय में चाचा बेईमानी छल कपट आदि को एकदम बंद कर दिया था रिश्वतखोरी करने की उसके कर्मचारी हिम्मत नहीं करते थे और आज भारत देश में आप देख लो कि लोकतंत्र है लेकिन उसके पश्चात बेईमानी भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी का 1 घोटाले नित्य प्रति होते हैं सरकारों पर सरकारें बदलती हैं तो संस्कार के शासनकाल में होते हैं आखिर यह क्यों होता है क्योंकि इसका कारण यह है कि हमारे नियम बहुत कमजोर हैं हमारे कानून बहुत कमजोर हैं और लोग उस का नाजायज फायदा उठाते हैं एक दूसरे की नहीं कहते हैं हमाम में सभी नंगे हैं यह जानते हैं कि मैं इसकी कहूंगा तो यह मेरी खोल कर रख देगा परिणाम स्वरूप एक दूसरा एक दूसरे की बातों को छुपा जाता है इसलिए इस प्रकार ऐसा हो जाता है वरना आप सोचो आज किसानों ने 26 जनवरी के दिन यह किसान नहीं है नंबर एक बात तो यह नोट करें किसान आंदोलन में आज तुम जो देख रहे हो यह किसान नहीं है यह विपक्षी दल के बेर नेता हैं जो अकेले मोदी को नहीं हरा सके चुनाव में के लिए मोदी के कारण पराजित हुए इसलिए अपनी बौखलाहट को किसानों के कंधे पर रखकर के लिए निकाल रहे हैं नंबर दो किसानों के ध्वज तले जो राष्ट्र ध्वज का अपमान हुआ तो रात की संपत्ति को लूट का सूट की गई या दिल्ली की तोड़फोड़ की गई भारतीय सरकार के अधीन राज्य का शासन होता निश्चित रूप से ही विपक्षी दलों की जोड़ी डस है या जो उनको समर्थन दे रहे हैं उन लीडर्स को या किशन दल के दो मुख्य लीडर्स है उसको पहले ही वार्निंग दे दी जानी चाहिए थी यदि देश में किसी प्रकार नुकसान हुआ इसी प्रकार की तोड़फोड़ हुई किसी प्रकार की हिंसा हुई तो उसके उत्तरदाई जिम्मेदार आप माने जाएंगे और आप से हर्जाना वसूल किया जाएगा यदि राज्य का शासन हो पाया योगी जी जैसों का शासन होता और योगी जी ने कैसे उत्तर प्रदेश में सारा तोड़फोड़ बंद करा रखी है योगी जी ने कैसे आप देख रहे हो वहां पर असामाजिक तत्व पास कर रहे हैं उसका कारण योगी जी का अच्छा प्रशासन है योगी जी की योग्यता है वास्तव में जो ₹10 का नुकसान करता है उससे ₹100 की वसूली की जानी चाहिए उसकी जमीन जायदाद पूरी बसु जब कर लेनी चाहिए लेकिन जब तक इंडिया कैसे लचर कानून रहेंगे ऐसी वोटों की राजनीति रहेगी भ्रष्ट राजनीति रहेगी तो इसी प्रकार के उपद्रव और यह ऐसे बंदे होते रहेंगे
Kovid-19 se tumako shiksha lenee chaahie jab aap itihaas ko padhenge to yah paenge to jo majaboot shaasak hote the unake saamaan unake adheen rahakar ke shaantipoorvak desh hit mein kaary karate rahate the lekin too jab shaasak kamajor hota tha to saamant usake svatantr hone ka prayaas karate the aur usamen bhee janahit kee upeksha bhee karate the jab shoshan bhee karate the aur aapas mein ladate bhee the aur aapas mein shakti pradarshan bhee karate the jee kee stuti yahaan par hai bhaarateey shaasan kee jo kamajoriyaan hain bhaarateey jo gandee raajaneeti hai bhaarat mein 2 voton kee raajaneeti hai bhaarat mein jo tushteekaran kee raajaneeti hai usaka laabh utha rahe hain aur na hee saath desh ka shaasan indira jee ke samay bhee chalata tha indira jee ne dekh liya ki jab vipakshee adhik thakaan see ho gaya to unhonne imarajensee laga dee aur in sab ko thikaane laga diya theek yahee sthiti ab chaahe aap use yah kah sakate hain bahut se log kahate hain udaaravaadee rog hisaab indrajeet aana saathee nahin raajasthaan aasha nahin thee mahaan neeti ke chaanaky ne bhee is baat ko kaha hai ki desh ko prashaasan ko chalaane ke lie janahitakaaree shaasan chalaane ke lie shakti ka hona anivaary hai lipastik is badee sachchaee ekadam pakka siddhaant hai prashaasan chalaana hai to shakti chalaaya jaata hai ki shaasan mein jab aap haath jodakar prashaasan chalaana chaahie aap vinamrata se prashaasan chalaana chalaen to yah kabhee sambhav hee nahin hai jitanee bhee itihaas kee aap dekhenge to jitanee majaboot shaasak rahe unhonne shakti se shaasan chalaaya alauddeen khilajee to ek maamoolee bhaasha tha lekin us paasha ne vahaan par us samay mein chaacha beeemaanee chhal kapat aadi ko ekadam band kar diya tha rishvatakhoree karane kee usake karmachaaree himmat nahin karate the aur aaj bhaarat desh mein aap dekh lo ki lokatantr hai lekin usake pashchaat beeemaanee bhrashtaachaar rishvatakhoree ka 1 ghotaale nity prati hote hain sarakaaron par sarakaaren badalatee hain to sanskaar ke shaasanakaal mein hote hain aakhir yah kyon hota hai kyonki isaka kaaran yah hai ki hamaare niyam bahut kamajor hain hamaare kaanoon bahut kamajor hain aur log us ka naajaayaj phaayada uthaate hain ek doosare kee nahin kahate hain hamaam mein sabhee nange hain yah jaanate hain ki main isakee kahoonga to yah meree khol kar rakh dega parinaam svaroop ek doosara ek doosare kee baaton ko chhupa jaata hai isalie is prakaar aisa ho jaata hai varana aap socho aaj kisaanon ne 26 janavaree ke din yah kisaan nahin hai nambar ek baat to yah not karen kisaan aandolan mein aaj tum jo dekh rahe ho yah kisaan nahin hai yah vipakshee dal ke ber neta hain jo akele modee ko nahin hara sake chunaav mein ke lie modee ke kaaran paraajit hue isalie apanee baukhalaahat ko kisaanon ke kandhe par rakhakar ke lie nikaal rahe hain nambar do kisaanon ke dhvaj tale jo raashtr dhvaj ka apamaan hua to raat kee sampatti ko loot ka soot kee gaee ya dillee kee todaphod kee gaee bhaarateey sarakaar ke adheen raajy ka shaasan hota nishchit roop se hee vipakshee dalon kee jodee das hai ya jo unako samarthan de rahe hain un leedars ko ya kishan dal ke do mukhy leedars hai usako pahale hee vaarning de dee jaanee chaahie thee yadi desh mein kisee prakaar nukasaan hua isee prakaar kee todaphod huee kisee prakaar kee hinsa huee to usake uttaradaee jimmedaar aap maane jaenge aur aap se harjaana vasool kiya jaega yadi raajy ka shaasan ho paaya yogee jee jaison ka shaasan hota aur yogee jee ne kaise uttar pradesh mein saara todaphod band kara rakhee hai yogee jee ne kaise aap dekh rahe ho vahaan par asaamaajik tatv paas kar rahe hain usaka kaaran yogee jee ka achchha prashaasan hai yogee jee kee yogyata hai vaastav mein jo ₹10 ka nukasaan karata hai usase ₹100 kee vasoolee kee jaanee chaahie usakee jameen jaayadaad pooree basu jab kar lenee chaahie lekin jab tak indiya kaise lachar kaanoon rahenge aisee voton kee raajaneeti rahegee bhrasht raajaneeti rahegee to isee prakaar ke upadrav aur yah aise bande hote rahenge

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आक्रमक किसान
URL copied to clipboard