#पढ़ाई लिखाई

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
5:38
जी देखिए ज्यादा माता-पिता अपने छोटे से बच्चे को नन्हे से बच्चे को और चाहे वह लड़का हो या लड़की जब शिक्षा के लिए कहीं पर एंड रोल कराते हैं उसे कहते हैं फॉर्मल एजुकेशन के लिए और कहीं पर उसका एडमिशन होना आ तुझे वहां पर यह ध्यान या ख्याल नहीं रहता है कि वह इसको अच्छी नौकरी मिल जाए इसलिए इस को पढ़ाना है कि नहीं हर माता-पिता यह देखते हैं जानते हैं समझते हैं कि वह बच्चे का या इन आगे चलके इंसान का शिक्षित होना समाज में बहुत अनिवार्य है जरूरी है शिक्षा से क्षमा चाहता है कई सारी चीजों के बारे में ज्ञान मिलता है अलग-अलग सब्जेक्ट के माध्यम से हमें पता चलता है कि वह अभिज्ञान क्या होता है तो भूगोल क्या होता है हमारा इतिहास कैसा रहा है तो हमें जोड़ घटाना या गणित कैसे करना होता है यह शिक्षा दिलाती हैं आगे चलके हायर स्टडीज होते हैं और आपने अपनी मनपसंद के सिम में जाते हैं और वह चूस करते हैं आज इस फील्ड में आपका इंटरेस्ट होते हैं ताकि आप उसको कैरियर बना सके तो जब धीरे-धीरे बड़े होने लगते हैं तब आगे सा के ख्याल आता है कि वह या तो हमें स्कूल में जॉब करेंगे या फिर हम अपना ही कोई कारोबार करेंगे इस समय इस फिल्में वगैरह वगैरह तो शुरू में यह नहीं होता है कि भाई जॉब के लिए एक छोटा सा बच्चा जो आपकी नहीं पड़ता है जी ने उस समय माता पिता उसको बोलते हैं कि तुम को क्यों पढ़ना चाहिए या उसको बोलते भी क्या है वह उनको बताते हैं कि यहां यह पढ़ लो यह कर लो वह कर लो वगैरा-वगैरा कभी जिक्र हुआ तो बोल देंगे कि यहां यह पढ़ने की यह फायदे हैं नहीं पढ़ने के लिए नुकसान है वगैरा-वगैरा लेकिन दीक्षा जिसके भी मैं बात कर रहा हूं यह हुआ फॉर्मल एजुकेशन भाई पढ़ाई लिखाई किस लिए होता है ज्ञान के लिए होता है ताकि हम हमारा ज्ञानवर्धक हो हमारा जो ज्ञान है वह प्रतिदिन बता रहे हैं यही ज्ञान तो है जो हमें हेल्प करता है मदद करता है का बेहतर जीवन याद जिंदगी जीने में तो इसको क्यों नहीं बढ़ाया जाए अच्छे हो जाता है जब यह ध्यान आपको एक फील्ड में ले जाता है और आपकी रुचि वहां बढ़ने लगती हैं तो आपको समझ जाते हैं नहीं इसको ऐसे नहीं ऐसे किया जा चुका है यह सही तरीका है वगैरह वगैरह तो यह हुआ फॉर्मल एजुकेशन खाली फॉर्मल एजुकेशन में नहीं होता है वही इनफॉरमल एजुकेशन भी तो चलते हैं ना माता-पिता संस्कार देते हैं बताते हैं कायदे कानून क्या होते हैं मैंने क्या होते हैं टिकट क्या होते हैं किस तरीके से रहते हैं बात करते हैं बड़ों को देखते हैं आदर सम्मान कैसे करते हैं फिर भी तो शिक्षा बिना भेजो कि फॉर्मल एजुकेशन इन फॉर्मल तरीके से कई जगह से कई सोर्स देखा कि माध्यम से लोगों तक पहुंचती है अभी यह बात और है कि कोई किसी को लेना चाहे कोई किसी को ना दे ना चाहे कोई सब कुछ एक तरीका है कहां जाए कोई सब कुछ अलग तरीके का चाय तो कमेंट में नौकरी पाने की प्राप्ति के लिए जो पढ़ाई करता है शिक्षण करता है वह सोच समझ शुरू में नहीं होती है वह धीरे-धीरे डिवेलप होते हैं जैसे जैसे को शिक्षा का स्तर बढ़ाने लगता है अलग-अलग कक्षाओं में जाते हैं जाने लगता है तो उसको समझ आने लगता है कि इस था यह स्कोप है मुझे अच्छा लगता है मुझे यह करना चाहिए आगे जाकर महेश को अपना फैशन बना लूंगा मेरा कैरियर ही स्पीड में होना यह सारी कहानियां आती है और देखने नौकरी आदमी इसलिए भी करते हैं कि नहीं अगर नौकरी नहीं करेगा तो पूरे 24 घंटे में से 8 घंटे सोने का हटा दें बचे 16 घंटे 16 घंटे में श्यामा तू फालतू काम भी हटा देते हैं तो मोटा मोटा ग्राम देखा जाए तो वह इंसान पूरे दिन भर में 5 से 10 घंटे करेगा क्या उसको कहीं अपने आपको इंग्लिश करना पड़ेगा कोई काम करना पड़ेगा और अपने घर को चलाने के लिए खुद को संभालने के लिए डेफिनिटी पैसों की जरूरत पड़ती है पड़ती है ना तो वही नौकरी इसका हिसाब से मदद करता है लेकिन खाली नौकरी करने और बिजनेस के बारे में नहीं सोचना अगर आप सक्षम हैं तो भी तो यह बात का इतनी जल्दी नहीं है उतनी समझदारी वाली नहीं है क्योंकि जब आप जॉब करते हैं तो आप इंग्लिश होते हैं आपका ध्यान फोकस अटेंशन एक एरिया में होता है वहां पर ग्रुप नीचे होता भी है तो आपका लाइफ पाटनर है अब जो कि आपको दिखेगा संभालेगा बताएगा समझेगा और कहानी आगे बढ़ती चली जाएगी तो जैसे जैसे हम अपनी शिक्षा के स्तर को बढ़ाते रहते हैं किरण से अपनी लर्निंग से दूसरों की लर्निंग से अनुभव से वगैरा-वगैरा उतना हम और बेहतर होते चले जाते हैं इस जीवन को जीने में की अध्यक्ष नीति शिक्षा देनी चाहिए शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए और एक और नजरिया है वही है कि भाई जीवन पर देखा जाए तो हम स्टूडेंट ही रहते हैं और स्टूडेंट ही रहना चाहिए क्योंकि हजार जगह से हम चीजें पढ़ते हैं देखते हैं सुनते हैं समझते हैं कौन सा को जीवन में उतारते रहने और आगे बढ़ते रहने वाले कि वह किसी और प्रयोजन के लिए काम करते हैं नौकरी के अलावा तो हां वह तो अच्छी बात है कि हम अपने स्किल को डिवेलप करने की बात करेंगे हम अपनी यह सोच विचार की बात करेंगे उसको डेवलप करने की बात करेंगे तो डेफिनटली सहायता प्रदान मिलती है

और जवाब सुनें

Divya Singh  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Divya जी का जवाब
Mentor teacher at DoE, Delhi
4:59
नमस्कार प्रश्न है शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना है या फिर कुछ और विशेष शिक्षा एक ऐसा शब्द है केवल शब्द ही नहीं इतनी सारी बातों को अपने अंदर समेटे हुए हैं शिक्षा शिक्षा एक व्यापक अर्थ देने वाला शब्द है एक सार्थक शब्द है इसमें जीवन का सार छिपा है शिक्षा यानी जीवन जीने की कला शिक्षा केवल नौकरी पाने का साधन मात्र नहीं है बल्कि शिक्षा एक जीवन का शादी हो सकता है यह जीवन को साध्य बनाने का साधन हो सकती है शिक्षा अब इसको कुछ इस प्रकार समझ जाएगा कि नौकरी पाना ही क्या जीवन का लक्ष्य है तो यदि हमारे जीवन का लक्ष्य कुछ और है तो शिक्षा उसका साधन हो सकती है केवल नौकरी पाना उसमें शिक्षा मददगार तो होती है नौकरी तो हम अपने जीवन यापन के लिए करते हैं अपनी बिल्कुल आधारभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए करते हैं किंतु नौकरी से हम कभी जीवन को सुखी सुखी नहीं बना सकता नौकरी एक हिस्सा जरूर है हमारे जीवन का किंतु देखिएगा कि कुछ लोग नौकरी पाकर अपनी मनपसंद नौकरी पा कर भी क्या खुश हैं इसका अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि नौकरी करने में कोई बुराई है काम करने में कोई बुराई है नहीं है काम करना भी हमारे जीवन का उद्देश्य होता है लेकिन यदि हम एक मुख्य उद्देश्य हमारा में नाम है या मुख्य जो गोल है जो लक्ष्य है जीवन का कि हम क्यों आए हैं दुनिया में क्यों को समझने में और उस क्यों तक पहुंचने के लिए दैनिक जीवन में आने वाले चुनौतियों का सामना करने में शिक्षा मददगार होती है नौकरी में आने वाली चुनौतियों का सामना भी हम शिक्षा से कर सकते हैं पारिवारिक जीवन में गृहस्थ जीवन में विद्यार्थी जीवन में सामाजिक जीवन में हर प्रकार के क्षेत्र में विभिन्न चुनौतियों का सामना एक व्यक्ति को करना पड़ता है चाहे वह किसी भी आयु वर्ग का क्यों ना हो तो शिक्षा जो है उसका उद्देश्य केवल नौकरी प्राप्त करना तो नहीं है बिल्कुल सही चीज के मायने कुछ और भी अब शिक्षित व्यक्ति हम किसे कहते हैं केवल भाषा और उसको लिख नहीं पढ़नी नहीं आती है तो इसका मतलब यह नहीं हो जाता कि वह शिक्षित नहीं है हम उसका असर नहीं है इलिटरेट जिसे हम कहते हैं ना तो वो साक्षर नहीं है यानी लिटरेट नहीं है अभी लिटरेसी रेट कहीं का कम हो सकता है लेकिन एजुकेटेड हो ना और लिटरेट होना दोनों में काफी फर्क है एजुकेशन इज ए कंप्रिहेंसिव टॉम शिक्षा एक व्यापक शब्द शब्द है या एक सार्थक शब्द है जबकि साक्षर होना एक बहुत ही थोड़े से छोटे से दायरे में एक हिस्सा होता है कि आप अपनी बात को लिखकर पढ़ कर समझ सकते हैं प्रकट कर सकते हैं या दूसरे की बात को समझ सकते हैं या नहीं तो नौकरी पाने के लिए कोई डिग्री सर्टिफिकेट को जो हम देखते हैं वह ठीक है कहीं ना कहीं मान्यता देता है कि हम उस प्रोसेस से गुजरे हैं उस प्रक्रिया से हम गुजर के आए हैं जहां पर यह जांचा गया कि हम किसी विशेष क्षेत्र में अशिक्षित हैं या उसकी हम समझ रखते हैं किंतु आप देखेंगे कि क्या जीवन को जीने की शिक्षा किसी भी इंस्टीट्यूट या कॉलेज में प्रत्यक्ष तौर पर कराई जाती है जिसका कोई सर्टिफिकेट मिल सके यह व्यक्ति अपने ग्रस्त जीवन में सफल होगा माता-पिता से संबंध अच्छा रहेगा ऐसा कोई सर्टिफिकेट में मिलता है प्रकार से जवाब देखेंगे तो शिक्षा जो है केवल नौकरी प्राप्त करने से कहीं बढ़कर है जिसका हां हम अपनी स्कूली शिक्षा के विभिन्न क्रियाओं के द्वारा हम उनको करते हुए हम अप्रत्यक्ष रूप से बहुत कुछ सीख रहे होते हैं जीवन ही हमें बहुत कुछ सिखा रहा होता है इतने लोगों से हम मिलते हैं इतने कार्य हम दिन भर में करते हैं तो गाहे-बगाहे हम शिक्षा की बहुत सारी चीजों से गुजरते हैं और औपचारिक अनौपचारिक गैर औपचारिक तीन प्रकार के कैटेगरी में जब बांटते हैं तो शिक्षा हमारी निरंतर चलती रहने वाली प्रक्रिया है बहुत कुछ बढ़ता है

lalit Jangra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Blogging
2:41
शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना है या फिर और कुछ और नहीं नहीं हम किसी का टाइम बर्बाद करने के लिए नहीं क्वेश्चन करते हैं मेरा जो क्वेश्चन था एसओ के मुताबिक क्योंकि मैं एक ब्लॉगर हूं ब्लॉगिंग करता हूं वेबसाइट डेवलपिंग करता हूं और एक वेबसाइट चलाता भी हूं दूसरी बात नौकरी प्राप्त करना है फिर ओके नहीं पहले से ही नौकरी कर रहा हूं ट्रांसपोर्ट मेरा कोई ऐसा उद्देश्य नहीं है इसका प्राप्त करने का उद्देश्य तो हर कोई जानता है कि हां हमें शिक्षा मिले कुछ न कुछ नया प्राप्त करना चाहता है और हम भी यही चाहते हैं कुछ ना कुछ नया सीखे कुछ ना कुछ ऐसी बातें निकले आपके मुंह से जो हमने हमारे ब्लॉग पर नहीं डाली होगी हम जो क्वेश्चन करते हैं उसके तरह-तरह के अनुसार आते हैं कोई पैसा देता है कोई कैसा भेजा सब को सुनने के बाद उसका 21 कंटेंट बनता हुआ एक यूनीक कंटेंट तैयार होता मेरा आप लोग जो रहते हो आप लोग दो हेल्प करते हो हमारी उसके अनुसार दो मेरा कंटेंट तैयार होता है बहुत-बहुत यूनिक प्यार होगा आपका थैंक्यू करता हूं बहुत यूनीक कंटेंट तैयार होता है आर्टिकल आर्टिकल प्यार करने का मतलब मेरा करो एक वेबसाइट चलाना ज्यादा से ज्यादा फॉलोअर्स इकट्ठा करना और आप लोग जो जानकारी मुझको देते हो मैं अपने ब्लॉक कर देता हूं बस इतना ही खुद से ज्यादा इधर-उधर की बातें नहीं हम तो सीधे-साधे बंदे हैं ब्लॉगिंग करते हैं अगर बुरा लग रहा हूं वह तो आपको आपसे किस दिन करना बंद कर देंगे कोई बात नहीं सॉरी सॉरी जी

 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
1:59
हर दोस्त दोस्तों मैंने यह सवाल है शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना है और कुछ और है तू एजुकेशन जो हमें प्राप्त होती है उस के दम पर हम अपनी लाइफ को बेहतर बना सकते हैं यानी कि हम अपनी लाइफ में कुछ करना चाहते हैं एक अन्य का सोच हम उसे कमा सकते हैं जैसे कई ऐसे लोग होते हैं जो 12 पास में बैठे हैं और वो एक अच्छी खासी मल्टीनेशनल कंपनी चला रहे हैं कई से 12 पास है और भूख लोगों की नौकरी नौकरी को छोड़ कर वह बिजनेस पर ध्यान देते हैं फेसबुक के यू सी यू हैं उन्हें भी डॉग कॉलेज ड्रॉपआउट हैं वह आज दुनिया के सबसे अमीर आदमी की लिस्ट में शामिल हैं तो उसे पढ़ाई करना सिम कार्ड में जॉब के लिए तैयारी करना सही नहीं है ना ही प्राइवेट नौकरी की आप दोनों को लेकर चल सकते हैं और आपको लगता है कि मुझे गारमेंट जॉब करना है तुम्हें अच्छे से पढ़ाई करूंगा और आपको लगता है कि मुझे बिजनेस करना तब उसके लिए पढ़ाई जरूरत पड़ती है थोड़ी बोली तो होनी चाहिए तो आपको न्यूट्रल होना चाहिए आपको सिर्फ कर में जॉब को ही अपना आटा क्यों नहीं रखना चाहिए एक बैठक में भी ऑप्शन होना चाहिए और आपको लगता है कि मैं अगर एग्जाम नहीं निकाल पाता हूं या मेरा उस घर में जॉब नहीं लगती है तो मेरे पास यह बिजनेस करने का ऑडियो मेरे पास आओ मैं अपनी लाइफ को इस तरीके से आसानी से जीत सकता हूं कि करने का सोच मुझे मिल सकता है तो हमें लूट लेना चाहिए और हमें सब का मेकअप के चक्कर में नहीं आना चाहिए मैं अपने आपको दोनों के बीच इस पर अपना काम करना चाहिए बिजनेस के बेस पर और उद्योग के बेस पर पागलों का अलग-अलग होता कोई बिजनेस करना चाहता है कोई गांड में जॉब जिसको जो पसंद होता है उसको वही करना चाहिए कि जो अब अपनी पसंद का मनपसंद का करेगा तो वह हमेशा सक्सेसफुल हुआ

N. A. tuition centre Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए N. जी का जवाब
Teaching
0:34

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:58
शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है जो नौकरी प्राप्त करना है या फिर कुछ और शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य आज प्रयोग नौकरी प्राप्त करने और शिक्षा प्राप्त कर 9 डिग्री प्राप्त करना कि शिक्षा का मूल उद्देश्य ज्ञान प्राप्त करना ताकि आपको हर चीज का हल पच्चीसी का समाधान करने का वचन शिक्षा प्राप्त करते हैं और समस्याओं के कारणों को समझ पाते हैं और उनका समाधान निकाल पाता है कितनी डिग्री प्राप्त करता है वह समस्याओं को जन्म देता है और समाधान तो दूर और चम चमके जनजानी में फर्स्ट आया था क्योंकि उसे ज्ञान की प्राप्ति नहीं होती तो मूल उद्देश्य ज्ञान प्राप्त करना आज समाज के लोगों का मूल उद्देश्य डिग्री प्राप्त करें इंग्लिश प्ले प्राप्त करना है तूने नौकरी मिले

Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
1:07
आज का सवाल शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश क्या केवल नौकरी प्राप्त करना है फ्री या कुछ और दीजिए हम आपको एक बात बताते हैं आप मान लीजिए ग्रेजुएशन तक पढ़ाई किए हैं आप कोई ऐसी किताब बता दीजिए उसमें लिखा वह पढ़ाई किया जाता है नौकरी के लिए या पढ़ाई किया जाता बिजनेस के लिए कोई भी ऐसी किताब में नहीं लिखा हुआ है कि पढ़ाई किया जाता नौकरी की विज्ञान एक ऐसी चीज है जिसे इंसान पाने के बाद हर एक तारे इंसान से अलग हो जाता अजय गौतम बुध के पास चाणक्य चाणक्य के पास बहुत सारे ज्ञान था उसको भगवान मानते हैं क्यों उसे अज्ञान था ना कि उसने पढ़ा था नौकरी के लिए नहीं पड़ा था उसी तरह से आज आज का जो हाल है आज का माहौल युवा सर्वे के बाद सोचता है कि पर लेकर नौकरी पाने की पढ़ाई का मकसद नौकरी नहीं होता प्राय का मकसद होता है कि अपने समाज के प्रति दायित्व क्या होना चाहिए समय देश के प्रति स्वरूप याद आते हो जब अपने पिता के पास ज्यादा इतना बच्चों के प्रतीक यादव के संस्कारों को जानना ही पढ़ाई के बारे में पढ़ाया जाता है धन्यवाद

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
3:23
हाय फ्रेंड्स को शिक्षा देने की शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या होता है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर कुछ तो शिक्षा हम सभी जानते हैं कि प्रकाश पुंज होता है इससे किसी भी व्यक्ति के अंदर सामाजिक आर्थिक तथा आध्यात्मिक होता है विकास होता है जिसके बाद किसी भी क्षेत्र के बारे में पुनः अवगत हो जाता है और वह अपने जीवन के हर कदम को समझदारी के साथ जो होता है निर्णय लेता है लेकिन अगर हम शिक्षा के अभी के उद्देश्य की बात करें तो शिक्षा का उद्देश्य है आज के समय में सिर्फ नौकरी प्राप्त करना ही हो गया है लेकिन अगर हम शिक्षा का मूल उद्देश्य की बात करें तो स्कूल में शिक्षा का मूल उद्देश्य होता है कि हम जो हैं हर व्यक्ति के अंदर शिक्षा के उन गुणों को देखें से क्या होता है कि समाज में परिवर्तन हो सके क्योंकि समाज का जो है विकास शिक्षा पर ही निर्भर होता है और देश का भविष्य जो होता है वह शिक्षित युवा कहीं हां बे कहीं ना कहीं चलें शिक्षा का मूल उद्देश्य जो होता है यही होना चाहिए जिससे क्या हो इस समाज की वृद्धि हो तथा युवाओं के अंदर जो है कुछ नया करने की जरूरत तमन्ना जबर उसके अंदर जागती हो तो शिक्षा के बदौलत ही हो पाता है लेकिन अभी केवल परिस्थिति के अनुसार देखा जाए तो शिक्षा का एकमात्र उद्देश्य जो है नौकरी प्राप्त करना है क्योंकि क्या होता है क्या मैं नौकरी प्राप्त करने के लिए अधिकांश में पढ़ाई करनी पड़ती है जिसमें हमें पूर्ण रूप से विकास नहीं हो पाता क्योंकि अगर हम शिक्षा का मूल उद्देश्य की अगर बात करना है तो उसके अंदर जो होता है हमें नैतिक विकास यहां तक कि नैतिक कर्तव्य इन सब की जानकारी होना जरूरी है क्योंकि शिक्षा उन्हें भी कहा जाता है और महात्मा गांधी ने भी कहा है कि शिक्षा सिर्फ जोड़ता है बैठने वाली विद्यालय बल्कि शिक्षा के द्वारा किसी व्यक्ति के नैतिक गुणों का विकास होता है नैतिक शिक्षा अंदर आती है फिर नैतिक कर्तव्य उत्पन्न होता है और इन सभी के समाहित रूप को शिक्षा कहा जाता है महात्मा गांधी के अनुसार अगर देखा जाए तो शिक्षा के अंदर जो होता है अत्याधुनिक का गुण होना जरूरी होता है व्यक्ति को पूर्ण शिक्षित मानते हैं जिस व्यक्ति के अंदर किसी बड़े व्यक्ति के अंदर जो है सम्मान की भावना को जागृत होती है व सम्मान करता है अपने से छोटों से प्यार करता है इसके अलावा समाज को बदलने की क्षमता रखता है समाज में हो रहे कुरीतियों जैसे दहेज प्रथा बाल विवाह विधवा कुंती पर इन सब के विरुद्ध लड़ने की अक्षमता उसके अंदर तुम्हें जो है कौन सा शिक्षित व्यक्ति माना जाता है अगर यह जानकारी अगर आपको अच्छी लगी है तो कृपया जो है इस ऑडियो क्लिप को लाइक करें और सब्सक्राइब करें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:32
स्वागत है आपका आपका प्रश्न शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर कुछ और उच्च शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य खाली नौकरी प्राप्त करना नहीं होता है शिक्षा में बहुत सारा ज्ञान देती है वह सारी बातें हैं जो उन्हें शिक्षा से मिलती हैं हमारी नैतिक शिक्षा में नैतिक हमें ज्ञान होता है और शिक्षा से हमें पैसे तो कमाते हैं सच्चा जीवन के भाषण इंदौर में मिलते हैं कि शिक्षा जिसके पास होती है वह इंसान बन जाता है

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है नौकरी करना या फिर लोगों ने और सरकार होने और शिक्षित समाज में ऐसी घटनाएं निर्माण किया ऐसा प्रचार किया है कि शिक्षण में से नौकरी मिलती है और कैरियर पता है आप की जिंदगी नहीं जा सकती है पुलिस के लिए स्टेबल गवर्नमेंट नौकरी बड़े लोगों की संख्या कम थी लेकिन लोंग टर्म पॉलिसी नहीं बनाई और सभी लोगों ने देखा कि सरकारी नौकरी में पेंशन तो कहीं मरने तक सुरक्षित था तो बाकी सब लोगों को सुरक्षित स्थान सुरक्षित व्यापारी धंधे वाली मनीष जी और मैं गणपति की बात तो बहुत दूर की है वह तो अपनी गलियों से सुरक्षित है और अंधविश्वास अप्रैल तक सुरक्षित रहेगी इसकी इसकी कोई इनके कोई प्रॉपर्टी की माने तो फिर से निम्न कृषि में शिक्षा की लोक कल्याणकारी राज्य की संकल्पना होती है इसलिए शिक्षा का न्यूज़ में प्रावधान होता है लेकिन लोक शिक्षण भी अच्छी लगती है पाठ्यक्रम का शीर्षक गीत लोक शिक्षण नहीं होगा प्रशिक्षण मूवी लंदन से वापस नहीं क्या कोई छुट्टी थोड़ी सी चीजें बताई गई और नीचे लॉक तोड़ना है इंजीनियर बनना है या पढ़कर सरकारी नौकरी मिलती है परिणति होने के बाद चाहे जैसी सुंदर लड़की या पत्नी मिली थी और अपना घर भूल जाता है फिर भी पेंशन मिलती है और इतना ही 19 शिक्षक रोटी और विदेशी लड़की के साथ लक्ष्मी से समाज में दिया गया लेकिन शिक्षा जो है कैसा जिंदगी जीना है सीखने के लिए जीवन में एक बड़ी समाज अधिक वजन के साथ जिंदगी अर्थपूर्ण एक धोकेबाज़ का नमक करने के लिए कुछ पराक्रम करने के लिए जिंदगी भाई अभी शकर शकर अतिवृष्टि और क्रिएटिव कम करके इस दुनिया को सारे हिंदुओं से जीवन भरपूर जीना है और समझना की शिक्षा का पेपर कौन देश होता है सिर्फ नौकरी प्राप्त करना ही नहीं होता है क्योंकि नौकरी सिर्फ मुक्ति का विचार किया तो इसका मतलब पशु का विचार करना होता है भाई साहब दारू करने के दारू बेचने वाले को भी हजार 500 700 800 उन पर उसके से मिलता है एक बोतल भेजने के बाद पैसा कमा सकता है उसके लिए बाकी शिक्षा की कोई जरूरत नहीं होती है तो इंसान को इंसान बनाने के लिए शिक्षा की जरूरत होती है क्योंकि करना पैसा कमाना यह अलग चीज है कोई बड़ा उद्योगपति है कहां पड़ा हुआ है लेकिन सबसे अमीर होता है सबसे ज्यादा पैसे वाला होता है की बातें हमें घर में रखनी चाहिए

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:37
अब तुम्हारी की शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर कुछ और ज्योति के शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य हमेशा आपको होना चाहिए है अपने ज्ञान के दायरे को बढ़ाना नौकरी प्राप्त कर लेना कोई भी बड़ी अचीवमेंट नहीं होती है नौकरी तो आप बिना बहुत आदत विकसित हुई भी कर ही लेंगे अपने लिए अर्निंग कर ही लेंगे लेकिन जितनी दादा आप शिक्षा एजुकेशन को इतना ज्यादा आप क्रश करेंगे समझेंगे उत्तेजना को ज्ञान का दायरा नॉलेज का दायरा बढ़ेगा आक्रोशित समझने की क्षमता बढ़ेगी किस तरीके से चीजों को सकारात्मक रूप से आसानी से स्टार्ट आउट करना है इस चीज की समझ पड़ेगी आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:27
प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है कि और नौकरी प्राप्त ज्ञान में वृद्धि जब तक आप अपने ज्ञान में भर्ती करेंगे तब तक आप नौकरी नहीं कर पाया है कि जिंदगी नो रिप्लाई करना चाहते हैं जिसकी आपने अपने जैसे यूनिवर्सिटी के एग्जाम पास में है या तो आप लोगों की जय हो सचिन भाई सब्जेक्ट पेपर तू क्या क्या आपके पास ज्ञान है और नौकरी नहीं हो क्या अभी कौन आएगा फिर आप अपना ध्यान रखो अपने आप में सिमट कर दो

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
1:31
नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है कि वह नौकरी प्राप्त करना है फिर और कुछ और दिगि्प्रिंट शिक्षा का मतलब होता है सिर्फ नौकरी पाना नहीं होता फ्रेंड अगर आप पढ़े लिखे हैं योग्य हैं तो आप में कई प्रकार की क्वालिटी होती है सर्वप्रथम तो आप जो है नौकरी के योग्य हो जाते हैं आपको नौकरी पाने में किसी प्रकार की कोई प्रॉब्लम नहीं होती है अगर आपको खुदा ने खासा कभी नौकरी पाने में प्रॉब्लम होती है तो आप कहीं न कहीं अपना जो है बिजनेस कर सकते हैं उसे आप आगे बढ़ सकते हैं अगर यह सब करते हैं उसके बाद भी आपको जो है प्रॉफिट होती है आपको समाज में कैसे रहा जाता है कैसे किस तरीके से बात की जाती है लोगों से आपका जो बोलने का लहजा होता है वह सब चेंज हो जाता है और आप धीरे-धीरे कार्य तो होते होते आप ही तो है आदमी बन जाते हैं फ्रेंड यही सिम चीज अगर आपके पास एजुकेशन नहीं है पढ़ाई नहीं है फिर तो आप निरंतर कितना भी प्रयास करते रहिए आप का विकास नहीं हो सकता अगर पढ़ाई की है फिर तो कहीं ना कहीं आप जो है अपने आप को इस टाइम कर सकते हैं फ्रेंड और दुनिया की नजरों में दुनिया के सामने जो है अपना सिर उठाते रह सकते हैं प्लीज तो आजा फ्रेंड की आप सभी को है जवाब पसंद आया होगा निवास

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:25
चित्रकार करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर और को देखेंगे तो नौकरी हो सकता है शिक्षा का मतलब सिर्फ ज्ञान लेकर क्या किताबी ज्ञान लेकर नौकरी के लिए कंपटीशन तैयार करना नहीं है बल्कि शिक्षा के माध्यम से आपका मानसिक विकास होता आपका शारीरिक विकास होता आपका बौद्धिक विकास होता है निश्चित तौर पर आपके अंदर एक स्किल डेवलप होता उसने लोकेशनल पीछे पड़ते हैं तो इसके आपके अंदर रोजगार से संबंधित चीजें हैं आप खुद अपना रोजगार सेंटर लोधी किस प्रकार की शिक्षा विभाग राम मेडिकल की दुनिया में जाते हो तो सब निश्चित तौर पर वहां पर उनका ज्ञान होगा और दूसरी चीजों का इन्हीं हो गया दूसरे क्षेत्र में शिक्षा के माध्यम से द्वारा विभिन्न प्रकार की तकलीफ होती है आप तो सही कथन को जानते हैं आप अपने देश के समाज के बारे में अपनी संस्कृति सभ्यता का विस्तृत ज्ञान देखते हैं उसके गुण देखते हैं आप धर्म के बारे में जानते हैं आधुनिक शाम में चलने वाली सरकारी योजनाओं को जानते हैं और शहरी चीज है और और नौकरी प्राप्त करना सिर्फ शिक्षा का उद्देश्य नहीं हो सकता हार्दिक की एक ही पढ़ना लिखना सिर्फ जाने से नहीं होगा बल्कि अपने ज्ञान को और दूसरी दिशा में सामाजिक कार्यों में करने के लिए अपना रोजगार के लिए लोगों को रोजगार देने के लिए और काबिलियत नहीं है पल पर जो है अपनी मंजिल हासिल करने के लिए देश के विकास में योगदान देश किसी रूप में दे सकते हो शिक्षकों पर डॉक्टर ग्रुप में या किसी तरह से देश की सेवा करने में आपको सकते हैं समाज की सेवा के लिए शिक्षा का उद्देश्य हैं और कहते हैं कि जिस देश की शिक्षा है वही उसकी देश की सबसे बड़ी पूंजी है बेहतरीन शिक्षा उत्तर प्रदेश की तरफ जाता है

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
25197141:29
करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना फिर और कुछ भी देने दोस्तों शिक्षा प्राप्त करने का आज का जो मुख्य उद्देश्य वह तो सिर्फ मात्र नौकरी रह चुका है परंतु यदि आप देखिए गर्मी से महात्मा बुद्ध ने महावीर स्वामी ने संविधान की कोशिश करने के लिए नहीं बल्कि उन्होंने देश की जनता को अच्छे विचार और इस वजह से बात की थी आज के दौर में दोस्तों जरूर शिक्षा का जो उद्देश्य नौकरी प्राप्त का उद्देश्य उसका केवल नौकरी प्राप्त करना है तो वह व्यक्ति कभी सफल नहीं होगा क्योंकि शिक्षा कभी भी नौकरी प्राप्त करने के लिए नहीं भूली जाती बल्कि राजा बनने के लिए की जाती है

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:23
बात करने का दिल किया है क्यों नौकरी प्राप्त करना है फिर या फिर कुछ और उसी के पास में बहुत अच्छी बात है सिर्फ नौकरी भी का सबसे पैसे भी कमा सकते हैं संस्कार भी कमा सके लोगों को रिस्पेक्ट देने का वक्त सबसे बड़ा धोखा धड़ी सबसे तेज कैलकुलेशन आएंगे तो सब्जी लेना या फिर स्टोर का एल्बम देना बहुत अच्छे से ले सकते बिना किसी का ठेके
Baat karane ka dil kiya hai kyon naukaree praapt karana hai phir ya phir kuchh aur usee ke paas mein bahut achchhee baat hai sirph naukaree bhee ka sabase paise bhee kama sakate hain sanskaar bhee kama sake logon ko rispekt dene ka vakt sabase bada dhokha dhadee sabase tej kailakuleshan aaenge to sabjee lena ya phir stor ka elbam dena bahut achchhe se le sakate bina kisee ka theke

मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
कृषक 🌾🌾🌾🌾
0:40
ऑस्कर में थोड़ा जैसे आप का प्रेस में शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर और कुछ तीखी मित्रों शिक्षा प्राप्त करने के लिए केवल में नौकरी की आवश्यकता नहीं पड़ते हैं हमारे लिए शिक्षा बहुत सी जगह में शिक्षा को अनुदान करना पड़ता है जिससे हम कोई बिजनेस कर रहे हैं तो बिजनेस में कर्म पढ़ा लिखा ना हो तो बिजनेस चला पाएंगे इसलिए करके कोई जरूरी नहीं है कि शिक्षा हमारी नौकरी चलिए ही मिलते हैं शिक्षा में संविदा नौकरी मिलते हैं और शिक्षा से हम बहुत कुछ कर सकते हैं अगर हमारे पास शिक्षा ही नहीं रहेगा तुम कैसे जीवन में कुछ कर पाएंगे इसलिए करके शिक्षा हमारे लिए आवश्यक है धन्यवाद

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
0:47
आपको किसने शिक्षा प्राप्त करने के उद्देश्य क्या है केवल नौकरी प्राप्त करना या फिर और कुछ और टिकट पहले तो शिक्षण संस्थान का होता है शिक्षक होता था उम्मीद की जाती थी उसने संस्कार होंगे लेकिन आज शिक्षा कर तो आज तो मैं नौकरी है और हर नौकरी के लिए इसलिए आप देखें अलग-अलग शिक्षाएं हैं आईडी हैक इंजीनियर बनेंगे पीएमटी है तो डॉक्टर बनेंगे ऐसे समझे आपने कौन से हैं तो सीए बनेंगे बैंक में जाएंगे इस तरह से अलग-अलग निर्धारित हो गया और राजस्थान शिक्षा का अर्थ मात्र नौकरी रह गया था

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • शिक्षा का उद्देश्य क्या है, शिक्षा का मूल उद्देश्य क्या है, नैतिक शिक्षा का मूल उद्देश्य क्या है
URL copied to clipboard