#भारत की राजनीति

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:02
तो आज आप का सवाल है कि क्या आरक्षण का मतलब की निर्णायक व्यक्ति का हक छीन कर वह हक किसी नालायक व्यक्ति को दे देना है तो देखिए आरक्षण का मतलब जब आरक्षण और रिजर्वेशन किया गया था तब कास्ट को लेकर जैसे लोगों के साथ भी एक किया जाता था बहुत ही गंदा शुरू किया जाता था अगर आप एंड टीवी पर बीआर अंबेडकर का जो सीरियल देता अगर आप को देखेंगे तब आपको पता चलेगा कि किस तरह से उन लोगों के साथ मतलब ऐसे व्यवहार किया जाता तो दिखे अभी भी अगर हमारे घर आ जाता तो बहुत सारे लोगों की सोच विचार अभी भी ऐसा है कि यह छूट छूट हो गया हनुमान सोने के बाद भी लोग ऐसा सोचते तो सूचित तब मतलब किस हद तक सोचते होंगे तभी के हालात को देखकर रिजर्वेशन नहीं आ गया कि नहीं जिनके साथ ऐसा होता है काश को लेकर यह नहीं देखा गया था कि हां मतलब कौन मजाक अच्छा पड़ रहा है कौन बुरा पड़ रही है सब देखकर किसान सोसाइटी में गंदा ट्रेन किया जाता था कोविड-19 और सारी पिक कल उन्हें भी मतलब माना जाए इसीलिए ऐसा रिजर्वेशन आरक्षण किया गया था लेकिन अभी देखे क्या हो गया कि जो कास्ट को लेकर अगर हम अभी भी रिजर्वेशन के वितरण को लेकर बहुत विवाद भी हद होता है कि नहीं रिजर्वेशन और आरक्षण हटाना चाहिए क्योंकि उनको कम मार्क्स लाकर और काश के बेसिस पर उनको मिल जाता है तुझे भी निकाला क्या तब यह सोचकर नहीं निकाला गया था कि नालायक को याद नहीं करते उनको दे दे सिर्फ हम सब को एक साथ लाने के लिए आरक्षण किया गया था मेरे हिसाब से अभी समय के साथ चेंज है सा और थोड़ा मॉडिफाई करने की बहुत जरूरत है तो मैं चाहती हूं कि अभी कास्ट को लेकर रिजर्वेशन ना हो अभी सिर्फ और सिर्फ कौन मतलब अगर रिजर्वेशन है तो किसी की इनकम को देखकर हो और जहां पर यह प्लेटफॉर्म आता है कि हां कौन कितना अच्छा पढ़ा है कि कितने अच्छे मार्क्स है उसके
To aaj aap ka savaal hai ki kya aarakshan ka matalab kee nirnaayak vyakti ka hak chheen kar vah hak kisee naalaayak vyakti ko de dena hai to dekhie aarakshan ka matalab jab aarakshan aur rijarveshan kiya gaya tha tab kaast ko lekar jaise logon ke saath bhee ek kiya jaata tha bahut hee ganda shuroo kiya jaata tha agar aap end teevee par beeaar ambedakar ka jo seeriyal deta agar aap ko dekhenge tab aapako pata chalega ki kis tarah se un logon ke saath matalab aise vyavahaar kiya jaata to dikhe abhee bhee agar hamaare ghar aa jaata to bahut saare logon kee soch vichaar abhee bhee aisa hai ki yah chhoot chhoot ho gaya hanumaan sone ke baad bhee log aisa sochate to soochit tab matalab kis had tak sochate honge tabhee ke haalaat ko dekhakar rijarveshan nahin aa gaya ki nahin jinake saath aisa hota hai kaash ko lekar yah nahin dekha gaya tha ki haan matalab kaun majaak achchha pad raha hai kaun bura pad rahee hai sab dekhakar kisaan sosaitee mein ganda tren kiya jaata tha kovid-19 aur saaree pik kal unhen bhee matalab maana jae iseelie aisa rijarveshan aarakshan kiya gaya tha lekin abhee dekhe kya ho gaya ki jo kaast ko lekar agar ham abhee bhee rijarveshan ke vitaran ko lekar bahut vivaad bhee had hota hai ki nahin rijarveshan aur aarakshan hataana chaahie kyonki unako kam maarks laakar aur kaash ke besis par unako mil jaata hai tujhe bhee nikaala kya tab yah sochakar nahin nikaala gaya tha ki naalaayak ko yaad nahin karate unako de de sirph ham sab ko ek saath laane ke lie aarakshan kiya gaya tha mere hisaab se abhee samay ke saath chenj hai sa aur thoda modiphaee karane kee bahut jaroorat hai to main chaahatee hoon ki abhee kaast ko lekar rijarveshan na ho abhee sirph aur sirph kaun matalab agar rijarveshan hai to kisee kee inakam ko dekhakar ho aur jahaan par yah pletaphorm aata hai ki haan kaun kitana achchha padha hai ki kitane achchhe maarks hai usake

और जवाब सुनें

shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
0:42

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आरक्षण का आज के युग में क्या मतलब बनकर रह गया है, क्या आरक्षण के कारण
URL copied to clipboard