#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

पूजा पाठ में अघर्य का क्या महत्व है?

Pooja Paath Mein Aghary Ka Kya Mehtv Hai
 Inder Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:39
बहुत कुछ बहुत कुछ अपने बारे में कहने जा रहा हूं ट्रेन में धार्मिक धार्मिक में नहीं रहना चाहता हूं और मुझे एक बड़ी से बड़ी सीख मिली हो धार्मिक स्थल के बारे में ज्ञान और बुद्धि मारने वाला

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पूजा पाठ में अघर्य का क्या महत्व है?Pooja Paath Mein Aghary Ka Kya Mehtv Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:18
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न पूजा पाठ नहीं है और किस देने का महत्व क्या है दोस्तों हम अपने इष्ट देवताओं को सूर्य भगवान को या अन्य समस्त देवी देवताओं को कई बार हम अर्घ्य देते हैं अर्घ्य देने का बड़ा ही महत्व है उनसे हमारे समस्त परेशानियां समस्या संकट दूर हो जाते हैं और हमारे इष्ट देवों की कृपा हमारे ऊपर बनी रहती है ज्यादातर लोग सूर्य भगवान को अर्घ्य चढ़ाते हैं दोस्तों भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए बेहद खास दिन होता है रविवार ज्योतिष के अनुसार जो लोग इस दिन सूर्य की विशेष पूजा करते हैं उन्हें घर परिवार और सम्मान समाज में मान सम्मान मिलता है और दरिद्रता से मुक्ति भी मिल सकती है यदि रविवार के दिन सूर्य पूजा करते हैं तो आपके जीवन में कई समस्याओं का समाधान हो सकता है इस दिन सूर्य भगवान को जल चढ़ाना चाहिए यदि रोज भगवान सूर्य को जल चढ़ाते हैं तो और भी बेहतर होता है लेकिन रविवार को इसका खास महत्व है आइए थोड़ा इसके बारे में विस्तार से जानते हैं दोस्तों सुबह स्नान के बाद सूर्य भगवान को जल अर्पित करें इसके लिए तांबे के लोटे में जल परियां और इसमें चावल फूल डालकर सूर्य को अर्घ्य देव सूर्य से संबंधित चीजें जैसे तांबे का बर्तन पीले या लाल वस्त्र गेहूं गुड़ माणिक्य लाल चंदन आदि का दान करें अपनी श्रद्धा अनुसार इन चीजों में किसी भी चीज का दान किया जा सकता है रविवार के दिन सूर्य मंत्र स्तुति का पाठ करें दोस्तों इस बात के साथ शक्ति बुद्धि स्वास्थ्य व सम्मान की कामना भी करनी चाहिए उस दिन व्रत भी किया जा सकता है सुबह के बाद तो धूप दीप से सूर्य देव का पूजन करें इसके बारे में सिर्फ एक एक सलाह फलाहार करना चाहिए दोस्तों सूर्य देव को जल अर्पण करने के बहुत ही बड़े फायदे हैं किसी भी चीज की कमी नहीं रहती है और सभी मनोकामना पूर्ण भी होती है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn pooja paath nahin hai aur kis dene ka mahatv kya hai doston ham apane isht devataon ko soory bhagavaan ko ya any samast devee devataon ko kaee baar ham arghy dete hain arghy dene ka bada hee mahatv hai unase hamaare samast pareshaaniyaan samasya sankat door ho jaate hain aur hamaare isht devon kee krpa hamaare oopar banee rahatee hai jyaadaatar log soory bhagavaan ko arghy chadhaate hain doston bhagavaan soory ko prasann karane ke lie behad khaas din hota hai ravivaar jyotish ke anusaar jo log is din soory kee vishesh pooja karate hain unhen ghar parivaar aur sammaan samaaj mein maan sammaan milata hai aur daridrata se mukti bhee mil sakatee hai yadi ravivaar ke din soory pooja karate hain to aapake jeevan mein kaee samasyaon ka samaadhaan ho sakata hai is din soory bhagavaan ko jal chadhaana chaahie yadi roj bhagavaan soory ko jal chadhaate hain to aur bhee behatar hota hai lekin ravivaar ko isaka khaas mahatv hai aaie thoda isake baare mein vistaar se jaanate hain doston subah snaan ke baad soory bhagavaan ko jal arpit karen isake lie taambe ke lote mein jal pariyaan aur isamen chaaval phool daalakar soory ko arghy dev soory se sambandhit cheejen jaise taambe ka bartan peele ya laal vastr gehoon gud maaniky laal chandan aadi ka daan karen apanee shraddha anusaar in cheejon mein kisee bhee cheej ka daan kiya ja sakata hai ravivaar ke din soory mantr stuti ka paath karen doston is baat ke saath shakti buddhi svaasthy va sammaan kee kaamana bhee karanee chaahie us din vrat bhee kiya ja sakata hai subah ke baad to dhoop deep se soory dev ka poojan karen isake baare mein sirph ek ek salaah phalaahaar karana chaahie doston soory dev ko jal arpan karane ke bahut hee bade phaayade hain kisee bhee cheej kee kamee nahin rahatee hai aur sabhee manokaamana poorn bhee hotee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पूजा पाठ में अघर्य का क्या महत्व है अघर्य का क्या महत्व है
URL copied to clipboard