#टेक्नोलॉजी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:41
आपका सवाल है कि भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकरी क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक क्यों नहीं बनना चाहता तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि नौकरी करना नौकरी चलाता है हम घर पर भी हम लोग काम करते तो क्या हम नौकर हो गए हैं ऐसा तो नहीं है ना हर एक इंसान चाहता है कि वह टेबल हो अच्छे से अपनी लाइफ में रहे कोई भी प्रॉब्लम नहीं हो अब हर लोगों के अलग-अलग इंटरेस्ट होते हैं किसी को बिजनेस करना होता है कोई बहुत आगे बढ़ पाता बहुत सारी सुविधाएं उनके पास होती है जिस वजह से पढ़ पाता तो आगे उसे हर पोस्ट जो भी मिलता है उसे कुछ नहीं पढ़ पाते हैं इतना सुविधाएं हासिल नहीं होती है जिस वजह से कुछ लोग कभी पढ़ते हैं इस वजह से उनको नौकरी या फिर जॉब मिलती है ऐसा नहीं है कि जो लोग नौकरी करते हैं वह किसी के नौकर ही होते हैं अपना समझ के हर एक इंसान जो भी हो काम कर अपना करता है जिस तरह से भी आरजू पोजीशन है शर्मिला होता है उसमें करते हुए अपने आप को नौकर नहीं समझता अगर नौकरी करना है नौकर ख्याल आता तो कोई भी इंसान नौकरी नहीं करता सारे लोग बिजनेस करते हैं अब हर लोग बिजनेस हैंडल नहीं कर सकते हर लोग हायर पोजिशन में नहीं बैठ सकता मैं सब लोग हायर पोजिशन में ही बैठ जाएगा तो फिर काम कौन करेगा तो उसका जो इंटरेस्ट होता बहुत हिसाब से उत्पन्न में जाता है जो जितना मेहनत करता था उसको मैं पोजीशन मिलता है उतना वह पैसा कमा पाता है तो हर एक लोगों की लिस्ट सूची के हिसाब से हर एक इंसान फैसिलिटी सुविधाएं के जितने वृद्धि होती है उस हिसाब से इंसान को पोस्ट मिलता है
Aapaka savaal hai ki bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukaree kyon banana chaahate hain koee maalik kyon nahin banana chaahata to aisa bilkul bhee nahin hai ki naukaree karana naukaree chalaata hai ham ghar par bhee ham log kaam karate to kya ham naukar ho gae hain aisa to nahin hai na har ek insaan chaahata hai ki vah tebal ho achchhe se apanee laiph mein rahe koee bhee problam nahin ho ab har logon ke alag-alag intarest hote hain kisee ko bijanes karana hota hai koee bahut aage badh paata bahut saaree suvidhaen unake paas hotee hai jis vajah se padh paata to aage use har post jo bhee milata hai use kuchh nahin padh paate hain itana suvidhaen haasil nahin hotee hai jis vajah se kuchh log kabhee padhate hain is vajah se unako naukaree ya phir job milatee hai aisa nahin hai ki jo log naukaree karate hain vah kisee ke naukar hee hote hain apana samajh ke har ek insaan jo bhee ho kaam kar apana karata hai jis tarah se bhee aarajoo pojeeshan hai sharmila hota hai usamen karate hue apane aap ko naukar nahin samajhata agar naukaree karana hai naukar khyaal aata to koee bhee insaan naukaree nahin karata saare log bijanes karate hain ab har log bijanes haindal nahin kar sakate har log haayar pojishan mein nahin baith sakata main sab log haayar pojishan mein hee baith jaega to phir kaam kaun karega to usaka jo intarest hota bahut hisaab se utpann mein jaata hai jo jitana mehanat karata tha usako main pojeeshan milata hai utana vah paisa kama paata hai to har ek logon kee list soochee ke hisaab se har ek insaan phaisilitee suvidhaen ke jitane vrddhi hotee hai us hisaab se insaan ko post milata hai

और जवाब सुनें

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:45
हाय एवरीवन चलिए पहले सवाल को देखते किसी ने पूछा है कि भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकर क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक करने वाला ठीक है अपनी प्रश्न पूछा उसका उत्तर देते हैं देखिए हमारे इंडिया में सबसे बड़ी समस्या तो बेरोजगारी की है पहली बात नहीं है और बेरोजगारी तो कम हो नहीं रही है ना नौकरी निकल रही ना कुछ आप बात कर रहे मालिक कि यहां प्राइवेट नौकरी के लाले पड़े हैं लोगों के प्राइवेट नौकरी तक नहीं मिलती है मालिक बनने की बहुत दूर है उसके लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी पैसा हो अच्छे से सोच से बहुत मेहनत से काम करना पड़ेगा तो आ सकते थे इसलिए
Haay evareevan chalie pahale savaal ko dekhate kisee ne poochha hai ki bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukar kyon banana chaahate hain koee maalik karane vaala theek hai apanee prashn poochha usaka uttar dete hain dekhie hamaare indiya mein sabase badee samasya to berojagaaree kee hai pahalee baat nahin hai aur berojagaaree to kam ho nahin rahee hai na naukaree nikal rahee na kuchh aap baat kar rahe maalik ki yahaan praivet naukaree ke laale pade hain logon ke praivet naukaree tak nahin milatee hai maalik banane kee bahut door hai usake lie bahut mehanat karanee padee paisa ho achchhe se soch se bahut mehanat se kaam karana padega to aa sakate the isalie

DEBIDUTTA SWAIN Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DEBIDUTTA जी का जवाब
Motivational speaker
0:50
देखिए नौकरी करना जितना डिफिकल्ट नौकरी बनाना में इतना डिफिकल्ट है आपको नौकरी बनाने के लिए काफी इन्वेस्टमेंट की जरूरत है काफी पैसों की जरूरत है काफी कमेंट की सपोर्ट की जरूरत है लोगों के लोग तो साथ में चलने की जो ट्रस्ट होती वह ट्रस्ट की जरूरत है कि सभी चीज कहीं ना कहीं है हर क्यूबा में हमें नहीं मिल सकता है बहुत बड़ी रिस्क टेकिंग है और एक बहुत बड़ी कीमत की जरूरत है जो कि हर कोई रिस्क लेना चाहता नहीं है इसीलिए जनता लोग नौकरी के पीछे भागते हैं क्योंकि नौकरी इज जस्ट हुए हैं एक बार एक बार तैयारी कर लो नौकरी पा लो और बस बैठकर ही काम करो और पैसा लगाओ कोई ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है कोई ज्यादा दिमाग दिवालिया होने की भी कोई रिस्क नहीं जान बस इसीलिए
Dekhie naukaree karana jitana diphikalt naukaree banaana mein itana diphikalt hai aapako naukaree banaane ke lie kaaphee investament kee jaroorat hai kaaphee paison kee jaroorat hai kaaphee kament kee saport kee jaroorat hai logon ke log to saath mein chalane kee jo trast hotee vah trast kee jaroorat hai ki sabhee cheej kaheen na kaheen hai har kyooba mein hamen nahin mil sakata hai bahut badee risk teking hai aur ek bahut badee keemat kee jaroorat hai jo ki har koee risk lena chaahata nahin hai iseelie janata log naukaree ke peechhe bhaagate hain kyonki naukaree ij jast hue hain ek baar ek baar taiyaaree kar lo naukaree pa lo aur bas baithakar hee kaam karo aur paisa lagao koee jyaada sochane kee jaroorat nahin hai koee jyaada dimaag divaaliya hone kee bhee koee risk nahin jaan bas iseelie

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:40
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकर क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक तो नहीं बनना चाहता तो दोस्तों यह सब अपनी अपनी पसंद के ऊपर होता है दोस्तों कोई बिजनेस करना पसंद करना करता है कोई नौकरी करना पसंद करता है लेकिन नौकरी करने से कोई नौकर नहीं बन जाता है यह गलत सोच है अगर सब लोग मालिक मालिक बन जाएंगे तो काम करने वाला कौन बचेगा और काम करने से कोई नौकर नहीं हो जाता है तो काम करने के लिए वर्कर भी चाहिए तो वह नौकर नहीं होते हैं और जिसको नौकरी करना पसंद होता है वह नौकरी करता है जिसको बिजनेस करना पसंद होता है बिजनेस करता है तो दोस्तों जवाब अच्छे लगे तो लाइक करें धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukar kyon banana chaahate hain koee maalik to nahin banana chaahata to doston yah sab apanee apanee pasand ke oopar hota hai doston koee bijanes karana pasand karana karata hai koee naukaree karana pasand karata hai lekin naukaree karane se koee naukar nahin ban jaata hai yah galat soch hai agar sab log maalik maalik ban jaenge to kaam karane vaala kaun bachega aur kaam karane se koee naukar nahin ho jaata hai to kaam karane ke lie varkar bhee chaahie to vah naukar nahin hote hain aur jisako naukaree karana pasand hota hai vah naukaree karata hai jisako bijanes karana pasand hota hai bijanes karata hai to doston javaab achchhe lage to laik karen dhanyavaad

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:39
दोस्तों प्रश्न है कि भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकर क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक क्यों नहीं बनना चाहता तो दोस्तों में बताना चाहता हूं कि हमारे सबसे पहले तो एजुकेशन तंत्र में ऐसा होता है कि वह नौकरी के लिए ही पढ़ाई कर रहा होता है ऐसा लगता है उसको ऐसा बिजनेस के बारे में मालिक बनने के बारे में कोई शिक्षा नहीं दी जाती है ना ही प्रेरणा दी जाती है और घरों में भी यह बोला जाता है तू तो बहुत अच्छा तेरे को नौकरी मिल जाएगी और सबसे ज्यादा बड़ा आकर्षण हमारे यहां भारतीयों का नौकरी में सरकारी नौकरी की तरफ आकर्षण बहुत ज्यादा है इसलिए किसी को व्यापार करने के लिए प्रेरित नहीं किया जाता और यह कहा जाता है कर तू कुछ नहीं कर पाएगा तेरी दुकान खुलवा देंगे या पापा का बिजनेस संभाल लेगा ऐसी उसको सोच दी जाती है अभी दिल्ली में कुछ ऐसे कोर्सेज डेवलपमेंटल पर चिपके उससे मेरे को लगता है काफी प्रेरणा मिलेगी तो बच्चों को जन्म शिक्षा दे रहे हैं तभी से प्रेरित करें कि तुम नौकरी लेने वाला मत बनो नौकरी देने वाला बनो उसकी ट्रेनिंग होनी चाहिए प्रॉपर उसकी गाइडेंस होनी चाहिए और वित्त के बारे में भी प्रबंधन के बारे में भी बताना चाहिए एजुकेशन तंत्र में एवं वेल्थ के बाद बैंकों को भी अप्रोच करना चाहिए अगर कोई व्यापार करना चाहता है तो उसको आसानी से लोन दे सके तभी ऐसी सोच बदल सकती है अन्यथा हम लोग भारत के हमेशा बेरोजगारी के गिरफ्त में डूबे रहेंगे धन्यवाद
Doston prashn hai ki bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukar kyon banana chaahate hain koee maalik kyon nahin banana chaahata to doston mein bataana chaahata hoon ki hamaare sabase pahale to ejukeshan tantr mein aisa hota hai ki vah naukaree ke lie hee padhaee kar raha hota hai aisa lagata hai usako aisa bijanes ke baare mein maalik banane ke baare mein koee shiksha nahin dee jaatee hai na hee prerana dee jaatee hai aur gharon mein bhee yah bola jaata hai too to bahut achchha tere ko naukaree mil jaegee aur sabase jyaada bada aakarshan hamaare yahaan bhaarateeyon ka naukaree mein sarakaaree naukaree kee taraph aakarshan bahut jyaada hai isalie kisee ko vyaapaar karane ke lie prerit nahin kiya jaata aur yah kaha jaata hai kar too kuchh nahin kar paega teree dukaan khulava denge ya paapa ka bijanes sambhaal lega aisee usako soch dee jaatee hai abhee dillee mein kuchh aise korsej devalapamental par chipake usase mere ko lagata hai kaaphee prerana milegee to bachchon ko janm shiksha de rahe hain tabhee se prerit karen ki tum naukaree lene vaala mat bano naukaree dene vaala bano usakee trening honee chaahie propar usakee gaidens honee chaahie aur vitt ke baare mein bhee prabandhan ke baare mein bhee bataana chaahie ejukeshan tantr mein evan velth ke baad bainkon ko bhee aproch karana chaahie agar koee vyaapaar karana chaahata hai to usako aasaanee se lon de sake tabhee aisee soch badal sakatee hai anyatha ham log bhaarat ke hamesha berojagaaree ke girapht mein doobe rahenge dhanyavaad

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
6:53
जी देखिए कोई युवा जब अपनी पढ़ाई पूरी कर लेता है उसके बाद वह जॉब जॉब के लिए जाता है जॉब ढूंढता है उसका सिलेक्शन हो जाता है कहीं पर चाहे वह गारमेंट हो या प्राइवेट वगैरह बाकी मैं जा रहा हूं अगर पढ़ाई कर रहा होता है तो उसको पता होता है यह पढ़ाई करने के बाद मुझे यह करना है और वह अपना व्यवसाय अपनी पसंद का जो आप अपनी पसंद का सेक्टर इंडस्ट्री विल डू में सांसद एरिया जो उसे पसंद आते हैं उसकी वह पढ़ाई करता है उस एरिया में जाने के लिए वह तरह तैयार करता है अपने आप को और फिर यह देखते हैं कि मुझे अच्छी से अच्छी कंपनी में अच्छी नौकरी मिल जाए क्या यह सोचना गलत है कोई दिक्कत है इसमें जी कोई दिक्कत परेशानी नहीं है सब ठीक-ठाक है नौकरी में फायदा क्या है नौकरी करने वालों का पक्ष ले रहा हूं नौकरी में सबसे अच्छी बात यह होती है कि वह आपको उस फील्ड में मिल सकता है चांसेस है जिसमें आप इंटरेस्टेड है जिसमें आपकी रुचि है जिसकी आपने पढ़ाई की है और मुझे सैलरी मिल जाएगी उतनी ही मिलेगी हर महीने जितना हमने ऑफर में देखा था राइट तू ही निश्चित हो जाता है बंदा अगर किसी की सैलरी होती है किसी की एक लाख के किसी की 500038 को पता है ना कि मैं महीने में के अंत में मुझे इतने साल ही मिल ही जाएगी अब उसके लिए उसको काम करना हो तो इंसेंटिव वगैरह अलग होता है तो बड़ा क्लियर कट होता है कोई दिक्कत परेशानी नहीं है इसको मैनेज कर लेते हैं उसको पता होता है कि वह कैसे अपने बजट को देखना है वगैरा-वगैरा और वह आगे चलता है उसके बाद लेने के लिए उसके बाद मेरा है मेरा रोल डेसिग्नेशन क्या होगा मेरी सैलरी में कितना इंक्रीमेंट हो सकता है अगर मेरा काम अच्छा रहेगा कि रहोगे यह सारी चीजें को प्लानिंग होगी उसके साथ चलता है और करता रहता है ओके तो समझ में नहीं आता कि मैं नौकरी वगैरह हो गया था जब देखेंगे इंसान बड़ा काम करता है इस तरीके का ऑप्शन नहीं पर दूसरा इंसान ऐसा होता है जिसको मन करता है कि मैं कुछ अपना करूं उसके अंदर यह होती है कि नहीं कहीं और जाने की बजाय किसी और के लिए या किसी और उस सेक्टर में करने की वजह जो शायद मेरे को पसंद भी नहीं है जिसकी मैं पढ़ाई कर रहा हूं वगैरा-वगैरा मेरा वक्त करेगा यह चीज का इस चीज से लोगों को फायदा होगा और डेफिनेटली में अपना बिजनेस बना सकता हूं बढ़ा सकता हूं विस्तार कर सकता हूं तो ऐसे लोग भी हैं जो है हर इंसान में नहीं आता है कि मैं भेजने से करूं क्योंकि जब की बात आती है तो उसमें बहुत सारी चीजें लगती हैं आपकी सोच से लेकर आपका ऑपरेशनल 130 उसमें लगता है एक बड़ा करने के लिए आपको सोचना पड़ता है आपको टीम तैयार करनी पड़ती है आपको देखना पड़ता है कि यह चलेगा कैसे प्लानिंग करनी पड़ती है चाय बनानी पड़ती है देखना पड़ता है कि रिसोर्ट सतना से मिलेंगे तो उसका से मिलेंगे फाइनेंस कहां से होगा कैसे होगा टीम को कैसे मैनेज करना होगा तो बहुत सारे स्कूल से एक्सपोर्ट इसकी जरूरत पड़ती है और ऐसे नहीं होता कि आप ठाठ से बैठें और आपने बिजनेस शुरू कर देती नहीं बहुत मेहनत लगती है बहुत मशक्कत होती है लेकिन वहीं पर जॉब की बात होती तो जवाब में ऐसा नहीं है जो आप वही करेंगे जो आपको आता है यहां अगर आप फ्रेश हो रहे हैं तो भाई आप उस एरिया में आपका सिलेक्शन होगा जिस तेरे में उनको पता है कि उसने इसकी पढ़ाई की और यह काम कर ले काम करेंगे हम करेंगे कि कोई अपना बिजनेस नहीं करना चाहता होगा वह इसलिए नहीं करना चाहता होगा क्योंकि उसके पास आईडिया नहीं है उसके दिमाग में ऐसी बात नहीं आती वह ऐसा सोचता नहीं है कुछ लोग का ही होगा कि नहीं यार कौन करेगा आलसी वाला थोड़ा हिसाब किताब कि नहीं यार बहुत मेहनत है यार हीरो में से नहीं होगा मेरे को यह सारी चीजें नहीं आती मेरे से पीपल माने नहीं होते एक और कैटेगरी है जहां पर लोग ऐसे हैं जो हमेशा लोगों को प्रोत्साहित कर लूंगा और वह भी आधा सांप इंडिया जैसी जगह में और आज के हालातों में नौकरी तो आपको मिल जाएगी छोटी-बड़ी ऐसी वैसी ना कुछ मिल जाएगी थोड़ी बहुत पढ़ाई की है जो भी है जैसा भी होगा गुजारा क्या आप उसको अच्छा भी कर सकते हैं आप एक एंप्लॉयमेंट का जरिया बन सकते हैं तो इसीलिए आप तो बियर शॉप से कौन सा जॉब क्रिएटर आप जवाब सीकर जवाब जो देखता है जो जो ढूंढता है नौकरी जो करना चाहते हैं उसकी मानसिकता से आप निकाली है और आप जॉब क्रिएचर बनिए देखेगी बिजनेस में बहुत ही है वह है अभी देखें कि अगर आप इस दिन शुरू करते हैं तो उसके खाली आपको ही फायदा नहीं है आंख के जरिए बहुत सारे लोगों को नौकरी मिलेगी और नौकरी मिलेगी रोजगार मिलेगा पैसे मिलेंगे तो उनके घर परिवार का भी ख्याल या गुजारा होगा तो सोचे वह सब कुछ आपके कारण होगा और वहां पर जहां पर अब इस समय स्पेशली आजकल के बाद ऑरेंज जॉब को लेकर काम को लेकर पैसे ना मिलने की दिक्कत पैसा नहीं मिला कितना कितनी बड़ी दिक्कत है तो अगर आपके दिमाग में कुछ आईडिया है आप आसानी से कर सकते हैं आप किसी के साथ मिलकर कुछ शुरू कर सकते हैं जिससे आपका और बाकी लोगों का भी भला हो जाए तो क्यों नहीं करना चाहिए वैसे भी प्रधानमंत्री बोलते हैं ना आत्मनिर्भर भारत की बात होती है की बात होती है तो हम कुछ कर सकते हैं तो जरूर करना चाहिए थैंक यू
Jee dekhie koee yuva jab apanee padhaee pooree kar leta hai usake baad vah job job ke lie jaata hai job dhoondhata hai usaka silekshan ho jaata hai kaheen par chaahe vah gaarament ho ya praivet vagairah baakee main ja raha hoon agar padhaee kar raha hota hai to usako pata hota hai yah padhaee karane ke baad mujhe yah karana hai aur vah apana vyavasaay apanee pasand ka jo aap apanee pasand ka sektar indastree vil doo mein saansad eriya jo use pasand aate hain usakee vah padhaee karata hai us eriya mein jaane ke lie vah tarah taiyaar karata hai apane aap ko aur phir yah dekhate hain ki mujhe achchhee se achchhee kampanee mein achchhee naukaree mil jae kya yah sochana galat hai koee dikkat hai isamen jee koee dikkat pareshaanee nahin hai sab theek-thaak hai naukaree mein phaayada kya hai naukaree karane vaalon ka paksh le raha hoon naukaree mein sabase achchhee baat yah hotee hai ki vah aapako us pheeld mein mil sakata hai chaanses hai jisamen aap intarested hai jisamen aapakee ruchi hai jisakee aapane padhaee kee hai aur mujhe sailaree mil jaegee utanee hee milegee har maheene jitana hamane ophar mein dekha tha rait too hee nishchit ho jaata hai banda agar kisee kee sailaree hotee hai kisee kee ek laakh ke kisee kee 500038 ko pata hai na ki main maheene mein ke ant mein mujhe itane saal hee mil hee jaegee ab usake lie usako kaam karana ho to insentiv vagairah alag hota hai to bada kliyar kat hota hai koee dikkat pareshaanee nahin hai isako mainej kar lete hain usako pata hota hai ki vah kaise apane bajat ko dekhana hai vagaira-vagaira aur vah aage chalata hai usake baad lene ke lie usake baad mera hai mera rol designeshan kya hoga meree sailaree mein kitana inkreement ho sakata hai agar mera kaam achchha rahega ki rahoge yah saaree cheejen ko plaaning hogee usake saath chalata hai aur karata rahata hai oke to samajh mein nahin aata ki main naukaree vagairah ho gaya tha jab dekhenge insaan bada kaam karata hai is tareeke ka opshan nahin par doosara insaan aisa hota hai jisako man karata hai ki main kuchh apana karoon usake andar yah hotee hai ki nahin kaheen aur jaane kee bajaay kisee aur ke lie ya kisee aur us sektar mein karane kee vajah jo shaayad mere ko pasand bhee nahin hai jisakee main padhaee kar raha hoon vagaira-vagaira mera vakt karega yah cheej ka is cheej se logon ko phaayada hoga aur dephinetalee mein apana bijanes bana sakata hoon badha sakata hoon vistaar kar sakata hoon to aise log bhee hain jo hai har insaan mein nahin aata hai ki main bhejane se karoon kyonki jab kee baat aatee hai to usamen bahut saaree cheejen lagatee hain aapakee soch se lekar aapaka opareshanal 130 usamen lagata hai ek bada karane ke lie aapako sochana padata hai aapako teem taiyaar karanee padatee hai aapako dekhana padata hai ki yah chalega kaise plaaning karanee padatee hai chaay banaanee padatee hai dekhana padata hai ki risort satana se milenge to usaka se milenge phainens kahaan se hoga kaise hoga teem ko kaise mainej karana hoga to bahut saare skool se eksaport isakee jaroorat padatee hai aur aise nahin hota ki aap thaath se baithen aur aapane bijanes shuroo kar detee nahin bahut mehanat lagatee hai bahut mashakkat hotee hai lekin vaheen par job kee baat hotee to javaab mein aisa nahin hai jo aap vahee karenge jo aapako aata hai yahaan agar aap phresh ho rahe hain to bhaee aap us eriya mein aapaka silekshan hoga jis tere mein unako pata hai ki usane isakee padhaee kee aur yah kaam kar le kaam karenge ham karenge ki koee apana bijanes nahin karana chaahata hoga vah isalie nahin karana chaahata hoga kyonki usake paas aaeediya nahin hai usake dimaag mein aisee baat nahin aatee vah aisa sochata nahin hai kuchh log ka hee hoga ki nahin yaar kaun karega aalasee vaala thoda hisaab kitaab ki nahin yaar bahut mehanat hai yaar heero mein se nahin hoga mere ko yah saaree cheejen nahin aatee mere se peepal maane nahin hote ek aur kaitegaree hai jahaan par log aise hain jo hamesha logon ko protsaahit kar loonga aur vah bhee aadha saamp indiya jaisee jagah mein aur aaj ke haalaaton mein naukaree to aapako mil jaegee chhotee-badee aisee vaisee na kuchh mil jaegee thodee bahut padhaee kee hai jo bhee hai jaisa bhee hoga gujaara kya aap usako achchha bhee kar sakate hain aap ek employament ka jariya ban sakate hain to iseelie aap to biyar shop se kaun sa job krietar aap javaab seekar javaab jo dekhata hai jo jo dhoondhata hai naukaree jo karana chaahate hain usakee maanasikata se aap nikaalee hai aur aap job kriechar banie dekhegee bijanes mein bahut hee hai vah hai abhee dekhen ki agar aap is din shuroo karate hain to usake khaalee aapako hee phaayada nahin hai aankh ke jarie bahut saare logon ko naukaree milegee aur naukaree milegee rojagaar milega paise milenge to unake ghar parivaar ka bhee khyaal ya gujaara hoga to soche vah sab kuchh aapake kaaran hoga aur vahaan par jahaan par ab is samay speshalee aajakal ke baad orenj job ko lekar kaam ko lekar paise na milane kee dikkat paisa nahin mila kitana kitanee badee dikkat hai to agar aapake dimaag mein kuchh aaeediya hai aap aasaanee se kar sakate hain aap kisee ke saath milakar kuchh shuroo kar sakate hain jisase aapaka aur baakee logon ka bhee bhala ho jae to kyon nahin karana chaahie vaise bhee pradhaanamantree bolate hain na aatmanirbhar bhaarat kee baat hotee hai kee baat hotee hai to ham kuchh kar sakate hain to jaroor karana chaahie thaink yoo

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:28
हेलो फ्रेंड्स आप का सवाल है कि भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकर क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक क्यों नहीं बनना चाहता अच्छा सवाल है आपका सर दिखे भारत के अधिकांश युवा जो हैं आजकल नौकरी नहीं करना चाहते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि नौकरी मिलना और नौकरी करना बहुत आसान है वह एक लिमिटेड दायरे में रहना चाहते हैं वह किसी तरह की टेंशन नहीं करना चाहते लेकिन मालिक बनना आसान नहीं होता आज कल की डेट में कोई बिजनेस स्टार्ट करना फिर उसे जमाना फिर उसको बहुत सारे तरीकों से उसको संभालना तो यह सब बहुत मुश्किल है और इन सब कामों में समय वक्त और पैसा यह सब कुछ लगता है मेहनत इसमें लगती है और आजकल के युवा जो है वह मेहनत करना नहीं चाहते वह किसी झमेले में पड़ना नहीं चाहते इसलिए वह क्या करते हैं कि ज्यादातर युवा जो हैं अपना बिजनेस ना स्टार्ट करके अपना कोई काम-धंधा ना स्टार्ट करके नौकरी करना ज्यादा पसंद करते हैं उसका कारण यही है क्योंकि उन्हें पता है कि नौकरी आज नहीं तो कल मिल ही जाएगी और एक लिमिटेड सैलरी मिलेगी सुबेरे अपना काम पर चले गए शाम को अपना घर आ गए जो भी सर दरदिया मालिक चलेगा हम तो अपना काम करके आएंगे और हमारी कोई एक डेट पर में तनख्वाह मिल जानी है तो यह कारण है जबकि बिजनेस में क्या कि पूरा समय देना होता है पूरी मेहनत करनी होती है हर चीज का ध्यान रखना हर काम को समय पर करना है वह सारे झमेले हैं इस वजह से यह कारण है कि युवा लोगों से अधिकांश नौकर बनना पसंद करते हैं मालिक बनना पसंद नहीं करते धन्यवाद
Helo phrends aap ka savaal hai ki bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukar kyon banana chaahate hain koee maalik kyon nahin banana chaahata achchha savaal hai aapaka sar dikhe bhaarat ke adhikaansh yuva jo hain aajakal naukaree nahin karana chaahate hain kyonki unhen lagata hai ki naukaree milana aur naukaree karana bahut aasaan hai vah ek limited daayare mein rahana chaahate hain vah kisee tarah kee tenshan nahin karana chaahate lekin maalik banana aasaan nahin hota aaj kal kee det mein koee bijanes staart karana phir use jamaana phir usako bahut saare tareekon se usako sambhaalana to yah sab bahut mushkil hai aur in sab kaamon mein samay vakt aur paisa yah sab kuchh lagata hai mehanat isamen lagatee hai aur aajakal ke yuva jo hai vah mehanat karana nahin chaahate vah kisee jhamele mein padana nahin chaahate isalie vah kya karate hain ki jyaadaatar yuva jo hain apana bijanes na staart karake apana koee kaam-dhandha na staart karake naukaree karana jyaada pasand karate hain usaka kaaran yahee hai kyonki unhen pata hai ki naukaree aaj nahin to kal mil hee jaegee aur ek limited sailaree milegee subere apana kaam par chale gae shaam ko apana ghar aa gae jo bhee sar daradiya maalik chalega ham to apana kaam karake aaenge aur hamaaree koee ek det par mein tanakhvaah mil jaanee hai to yah kaaran hai jabaki bijanes mein kya ki poora samay dena hota hai pooree mehanat karanee hotee hai har cheej ka dhyaan rakhana har kaam ko samay par karana hai vah saare jhamele hain is vajah se yah kaaran hai ki yuva logon se adhikaansh naukar banana pasand karate hain maalik banana pasand nahin karate dhanyavaad

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:50
तुम्हारा सवाल है कि भारत के जवान नौकरी करके क्यों नौकर बनना चाहते हैं यह तुम पर भी लागू होता है अगर तुम रजवाड़े खानदान के हो खानदान से बहुत अमीर हो तो अच्छी बात है पर यह तुम कभी किसी को नहीं कह सकते कि नौकर बनना चाहते हैं भाई साहब के पास पूरी दौलत नहीं होती और कोई चांदी की चम्मच लेकर पैदा नहीं होता है तो नीचे एक छोटा इंसान ही बनता है नौकरी करके ही मालिक बनता है ठीक है तेरे घमंड मत बोलो यार कोई पैदा होते मालिक नहीं मिल सकता कुछ सीखना पड़ता है जो आगे जाकर वह सब को चकाचक एक बच्चा हो अगर वह बचपन से ही टीचर बन जाए तो आपको कैसा लगेगा पड़ता है सीखता तब जाकर सिखाता है कि नौकरियों में होता है ठीक है
Tumhaara savaal hai ki bhaarat ke javaan naukaree karake kyon naukar banana chaahate hain yah tum par bhee laagoo hota hai agar tum rajavaade khaanadaan ke ho khaanadaan se bahut ameer ho to achchhee baat hai par yah tum kabhee kisee ko nahin kah sakate ki naukar banana chaahate hain bhaee saahab ke paas pooree daulat nahin hotee aur koee chaandee kee chammach lekar paida nahin hota hai to neeche ek chhota insaan hee banata hai naukaree karake hee maalik banata hai theek hai tere ghamand mat bolo yaar koee paida hote maalik nahin mil sakata kuchh seekhana padata hai jo aage jaakar vah sab ko chakaachak ek bachcha ho agar vah bachapan se hee teechar ban jae to aapako kaisa lagega padata hai seekhata tab jaakar sikhaata hai ki naukariyon mein hota hai theek hai

अभिषेक शुक्ला  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अभिषेक जी का जवाब
Motivational speaker
2:48
देखिए आज के समय में जो है तो भारत में अधिकांश युवा जो है तो नौकरी करके नौकर इसलिए बनना चाहते हैं क्योंकि उन्हें पता है कि वह कभी भी जो है सुरेश नहीं उठाना चाहते कभी भी जो है तो अपने जिंदगी को दांव पर नहीं लगाना चाहते और जो व्यक्ति दांव पर लगा दिया अपने जीवन को तो वह मालिक बनकर हमेशा जीत है इस बात का हमेशा लोगों को पता होता है लेकिन कई परिस्थितियां हो जाती है कि लोग लोगों की तो कुछ इसलिए नहीं चीजों को उठा पाते क्योंकि उनके पास या तो समय कम होता है या तो रुपए की कमी होती है पैसों की कमी हो जाती है कभी तैयार हालात उस तरह नहीं होते कि मैं अपने बिजनेस को सेट अप करें और मालिक बन सके तो यह सभी चीजें भी कहीं ना कहीं निर्धारित करती है लोगों की सोच पर बाकी देखिए क्या है कि जो मालिक बना बैठा है वह अपने जी सभी को अपने समय को अपने पैसे को दाव में लगाकर पढ़ना है यह बहुत कम लोगों में देखा जाता है सफर जो है तो सोचता रहता है दोस्तों सो जाती मालिकों वाली हो गए तो आप मालिक है सोचे दिनों करवा ली जीने की हो गई तो आप नौकर ही बनकर रह जाएंगे तो इन चीजों का ख्याल रखिए और हमेशा सोच अपनी बड़ी रखें जो व्यक्ति बड़ी सोच रखेगा वही आज के जीवन में मालिक है बाकी जो छोटी सोच कर दीजिएगा कि हमें किसी कंपनी में जॉब मिल जाए और हम झाड़ू पोछा लगा करके या फिर उनकी दलाली करके नौकरी कर सके तो नौकर हिट्स वैसे ही चाहिए कोई दिक्कत नहीं है लोग जो कम पढ़े लिखे वाले ओपन वाली कि आज आपने देखा वह कितने ही बड़े बड़े बड़े व्यापारी हैं कितने बड़े बड़े अंबानी स्टेट जितने भी हैं उनके नीचे जो काम करते हुए उससे भी ज्यादा पढ़े लिखे होते हैं तो क्यों है ऐसा इसलिए है क्योंकि वह अपने जीवन को अपने दांव पर लगा कर के बैठे हैं और आज मैं मालिक बने बैठे हैं और आप चाहे तो नौकर बने बैठे हैं इसलिए सभी फल जो है तो सो सोच बड़ी कर लेंगे बेरोजगारी खत्म होगी तो छुट्टी रखेंगे बेरोजगारी और बढ़ेगी करना आपको सोचना आपको आपके ऊपर है छोटा सुझाव था अच्छा लगा हो कमेंट कीजिए खराब लगा हो तो भी कमेंट कीजिए लेकिन आपकी भलाई के लिए कहा हो हो सकता कहीं ना कहीं दिल को ठेस पहुंचेगी कुछ ना कुछ बदलाव आएगा कुछ ना कुछ क्रांति आएगी और अंदर से कुछ और जी ऊर्जा जागृत हो जिसमें कि हो सकता है नौकर वाली फीलिंग नहा कर के मालिक वाली सोचा जाए क्या पता करे के अंदर भी आ जाएगी तो मैं मान लूंगा कि मेरा बोला हुआ कुछ ना कुछ सुझाव आपके काम आ सके तो करके देखे हो सकता है कुछ ना कुछ सोच में परिवर्तन आएगा दोस्तों धन्यवाद
Dekhie aaj ke samay mein jo hai to bhaarat mein adhikaansh yuva jo hai to naukaree karake naukar isalie banana chaahate hain kyonki unhen pata hai ki vah kabhee bhee jo hai suresh nahin uthaana chaahate kabhee bhee jo hai to apane jindagee ko daanv par nahin lagaana chaahate aur jo vyakti daanv par laga diya apane jeevan ko to vah maalik banakar hamesha jeet hai is baat ka hamesha logon ko pata hota hai lekin kaee paristhitiyaan ho jaatee hai ki log logon kee to kuchh isalie nahin cheejon ko utha paate kyonki unake paas ya to samay kam hota hai ya to rupe kee kamee hotee hai paison kee kamee ho jaatee hai kabhee taiyaar haalaat us tarah nahin hote ki main apane bijanes ko set ap karen aur maalik ban sake to yah sabhee cheejen bhee kaheen na kaheen nirdhaarit karatee hai logon kee soch par baakee dekhie kya hai ki jo maalik bana baitha hai vah apane jee sabhee ko apane samay ko apane paise ko daav mein lagaakar padhana hai yah bahut kam logon mein dekha jaata hai saphar jo hai to sochata rahata hai doston so jaatee maalikon vaalee ho gae to aap maalik hai soche dinon karava lee jeene kee ho gaee to aap naukar hee banakar rah jaenge to in cheejon ka khyaal rakhie aur hamesha soch apanee badee rakhen jo vyakti badee soch rakhega vahee aaj ke jeevan mein maalik hai baakee jo chhotee soch kar deejiega ki hamen kisee kampanee mein job mil jae aur ham jhaadoo pochha laga karake ya phir unakee dalaalee karake naukaree kar sake to naukar hits vaise hee chaahie koee dikkat nahin hai log jo kam padhe likhe vaale opan vaalee ki aaj aapane dekha vah kitane hee bade bade bade vyaapaaree hain kitane bade bade ambaanee stet jitane bhee hain unake neeche jo kaam karate hue usase bhee jyaada padhe likhe hote hain to kyon hai aisa isalie hai kyonki vah apane jeevan ko apane daanv par laga kar ke baithe hain aur aaj main maalik bane baithe hain aur aap chaahe to naukar bane baithe hain isalie sabhee phal jo hai to so soch badee kar lenge berojagaaree khatm hogee to chhuttee rakhenge berojagaaree aur badhegee karana aapako sochana aapako aapake oopar hai chhota sujhaav tha achchha laga ho kament keejie kharaab laga ho to bhee kament keejie lekin aapakee bhalaee ke lie kaha ho ho sakata kaheen na kaheen dil ko thes pahunchegee kuchh na kuchh badalaav aaega kuchh na kuchh kraanti aaegee aur andar se kuchh aur jee oorja jaagrt ho jisamen ki ho sakata hai naukar vaalee pheeling naha kar ke maalik vaalee socha jae kya pata kare ke andar bhee aa jaegee to main maan loonga ki mera bola hua kuchh na kuchh sujhaav aapake kaam aa sake to karake dekhe ho sakata hai kuchh na kuchh soch mein parivartan aaega doston dhanyavaad

भारत बनेगा स्वर्ग नमामि गंगे Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए भारत जी का जवाब
रेस्टोरेंट में मुनीम के पद पर कार्यरत
2:17
संस्कार आपका सवाल भारत के अधिकांश युवा नौकरी करके नौकर क्यों बनना चाहते हैं कोई मालिक क्यों नहीं बनना चाहता देखो जी मैं कहना चाहूंगा कि अगर सभी मालिक बन जाएगा तो नौकरी कौन बनेगा अक्षर ज्ञान के सवाल में जवाब है कि अगर हर इंसान मालिक बन जाएगा तो नौकर कौन है हां अगर मालिक बनना है तो मालिक है से उन्हें जो जिम्मेदारी निभाता है वही एक मालिक होता है जो जिम्मेदारी से मुंह मोड़ दो मालिक बनते हैं मालिक तो एक जिम्मेदार होता है जो उतार ला सकती दिखता है जिसमें क्षमता होती है वही मालिक बन पाता है जिन्हें क्षमता नहीं होती है वह नौकर बन गई और रही बात अधिकांश लो तो भारत में रोजगारी कितना है विदेश में 40 परसेंट रोजगार और सब बेरोजगारों का इंसाफ पिक्चर में अच्छा जीवन बनाने के लिए क्या नौकरी करूं जिससे मुझे तो 4:00 बजने लगी है यही कारण है कि आदमी बनता है जो संघर्ष करता है नौकरी करने वाले जानते हैं नौकरी करेंगे 12 घंटे या 8 घंटे ड्यूटी करेंगे सांभर से मिलने पैसे मिल जाएंगे अपना जीवन व्यतीत करें हमारी करने वालों को कुछ नहीं लगाना पड़ता है और जो है जो अपने नीचे पहने पढ़ते उनको मैसेज देना पड़ता है समझाना पड़ता है तो मालिक बनने में पैसा भी चाहिए हमें भी चाहिए दिमाग में क्षमता भी चाहिए और धीरज धर्म की सब्जी उसके अंदर विद्वान होती है वह वाली हमारी माता है और कुछ लोग नौकरी करते करते भी अपने आप को समझते हैं अपने काम के मालिक
Sanskaar aapaka savaal bhaarat ke adhikaansh yuva naukaree karake naukar kyon banana chaahate hain koee maalik kyon nahin banana chaahata dekho jee main kahana chaahoonga ki agar sabhee maalik ban jaega to naukaree kaun banega akshar gyaan ke savaal mein javaab hai ki agar har insaan maalik ban jaega to naukar kaun hai haan agar maalik banana hai to maalik hai se unhen jo jimmedaaree nibhaata hai vahee ek maalik hota hai jo jimmedaaree se munh mod do maalik banate hain maalik to ek jimmedaar hota hai jo utaar la sakatee dikhata hai jisamen kshamata hotee hai vahee maalik ban paata hai jinhen kshamata nahin hotee hai vah naukar ban gaee aur rahee baat adhikaansh lo to bhaarat mein rojagaaree kitana hai videsh mein 40 parasent rojagaar aur sab berojagaaron ka insaaph pikchar mein achchha jeevan banaane ke lie kya naukaree karoon jisase mujhe to 4:00 bajane lagee hai yahee kaaran hai ki aadamee banata hai jo sangharsh karata hai naukaree karane vaale jaanate hain naukaree karenge 12 ghante ya 8 ghante dyootee karenge saambhar se milane paise mil jaenge apana jeevan vyateet karen hamaaree karane vaalon ko kuchh nahin lagaana padata hai aur jo hai jo apane neeche pahane padhate unako maisej dena padata hai samajhaana padata hai to maalik banane mein paisa bhee chaahie hamen bhee chaahie dimaag mein kshamata bhee chaahie aur dheeraj dharm kee sabjee usake andar vidvaan hotee hai vah vaalee hamaaree maata hai aur kuchh log naukaree karate karate bhee apane aap ko samajhate hain apane kaam ke maalik

bipin gupta  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए bipin जी का जवाब
Ac technician aur computer diploma
0:50

Abdul_Ahad  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abdul_Ahad जी का जवाब
Unknown
2:20
हमारे ऐसी है जो सवाल पूछना है कि भारत के अधिकांश विश्वास नौकरी करके मुकर क्यों बनना चाहते हैं जबकि मालिक नहीं अपने शब्द में डालना है वह भारत का डर लगता है तुम्हारा फिल्म का गाना बिजनेस को रेनापुर किया जा रहा है और तुम्हें तुम्हें मेरी कसम नहीं लगती है लेकिन वास्तविकता से इसका कोई सरकार नहीं है जब हम पहने सुते खातिर आनंद विहार से कहां तक नहीं होता तो इससे जाता है मजदूरी तो बाबुल की रानियां तो पूरी जानकारी जुदाई कॉमेडी और भारत की जुगाड़ में है वह आ रही है ऐसी को सही तरीके से चुदाई किया जाए स्टीकर लगाने का जवाब
Hamaare aisee hai jo savaal poochhana hai ki bhaarat ke adhikaansh vishvaas naukaree karake mukar kyon banana chaahate hain jabaki maalik nahin apane shabd mein daalana hai vah bhaarat ka dar lagata hai tumhaara philm ka gaana bijanes ko renaapur kiya ja raha hai aur tumhen tumhen meree kasam nahin lagatee hai lekin vaastavikata se isaka koee sarakaar nahin hai jab ham pahane sute khaatir aanand vihaar se kahaan tak nahin hota to isase jaata hai majadooree to baabul kee raaniyaan to pooree jaanakaaree judaee komedee aur bhaarat kee jugaad mein hai vah aa rahee hai aisee ko sahee tareeke se chudaee kiya jae steekar lagaane ka javaab

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के अधिकांश युवा भारत के युवाओं के लिए नौकरी
URL copied to clipboard