#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

धनु लग्न के चतुर्थ भाव में केतु की महादशा का कैसा फल मिलता है?

Dhanu Lagan Ke Chaturth Bhav Mein Ketu Kee Mahadasha Ka Kaisa Phal Milta Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:52
लग्न में चतुर्थ भाव में केतु की महादशा का कैसा फल मिलता है दोस्तों देखे केतु की अपनी कोई राशि नहीं होती वह जिस राशि में बैठे हैं जिस भाव में बैठे हैं उसी के अनुसार अपना फल देते हैं अगर वह की मित्र राशि है तो फिर वह अच्छा फल देते शत्रु राशि तो शत्रु का फल देते हैं धनु लग्न में चतुर्थ भाव में भी नहीं आती है जो कि गुरु की राशि है वैसे तो उस राशि को किस तू की शत्रु राशि होती है लेकिन के तू जो है मोक्ष है और गुरु ज्ञान है ऐसी ऐसी होती चतुर्थ भाव में बने तो ऐसे व्यक्ति को भले ही माता से सुकून मिलता हूं भूमि भवन वाहन का शो का कम मिलता है लेकिन ऐसे व्यक्ति की जरूरत होती है वह धार्मिक भावनाओं की तरफ होती है ऐसा व्यक्ति अपना खर्चा सबसे ज्यादा धार्मिक जगह पर करता है धर्म-कर्म के कार्य मंत्र साधना से संबंधित कार्य में ज्यादा क्योंकि हमारे मन का कारक है भूमि भवन वाहन का माता से संबंधित होने वाले सुखों का कारक होने के कारण यहां का जो केतु है उनसे को धार्मिक प्रवृत्ति का फल आता है ऐसे व्यक्ति की आर्थिक स्थिति कमजोर होती है पैसे में ऐसा व्यक्ति कमजोर होता है लेकिन जितना मिले उतने में खुश होता है ऐसे व्यक्ति का मन शांत रहता है हमेशा रितु की पांचवी दृष्टि अष्टम भाव पर पड़ने से शरीर में भुगतान से संबंधित रोग हो सकते हैं दशम भाव पर दृष्टि पड़ने से नौकरी व्यापार से संबंध में रूकावट हो सकती है यानी कि ऐसे व्यक्ति का काम नब्बे परसेंट बार आते-आते बनते बनते रुक जाता है बाहर विभाग में जब केतु दृष्टि डालता है तो ऐसा जो है व्यक्ति जो है विदेश सेटलमेंट की संभावना बन रही है यानी कि केतु की महादशा में ऐसा व्यक्ति विदेश जाता है वहां जाकर पैसा का हां पता है लेकिन धनु लग्न में चतुर्थ भाव का जो केतु है इसको हम अच्छा नहीं मान सकते हैं ऐसे व्यक्ति को किसी भी चीज का होने का पूर्वाभास हो जाता है चेक करो कि घटना है बुरी घटना होने का उसके कुछ ऐसे संकेत मिलने लगते हैं जिससे वह पता हो जाता है कि हमारे सर आने वाले समय में यह घटनाएं हो सकती है इसका सबसे बड़ा कारण यह है क्योंकि तुम्हारे मन के भाव में बैठा है यह हमारे मन को जागृत करता है ऐसे व्यक्ति की दिव्य दृष्टि भी होती है यानी कि पूर्व से ही आगे वाले आने वाले समय को पहचान लेता है ऐसा व्यक्ति धार्मिक प्रवृत्ति का होता है घर में कलह का वातावरण माता से ऐसे व्यक्ति के संबंध अच्छे नहीं बनते तो यह है कुछ फल केतु के चतुर्थ भाव में धनु लग्न में जय माता दी जय हिंदुस्तान
Lagn mein chaturth bhaav mein ketu kee mahaadasha ka kaisa phal milata hai doston dekhe ketu kee apanee koee raashi nahin hotee vah jis raashi mein baithe hain jis bhaav mein baithe hain usee ke anusaar apana phal dete hain agar vah kee mitr raashi hai to phir vah achchha phal dete shatru raashi to shatru ka phal dete hain dhanu lagn mein chaturth bhaav mein bhee nahin aatee hai jo ki guru kee raashi hai vaise to us raashi ko kis too kee shatru raashi hotee hai lekin ke too jo hai moksh hai aur guru gyaan hai aisee aisee hotee chaturth bhaav mein bane to aise vyakti ko bhale hee maata se sukoon milata hoon bhoomi bhavan vaahan ka sho ka kam milata hai lekin aise vyakti kee jaroorat hotee hai vah dhaarmik bhaavanaon kee taraph hotee hai aisa vyakti apana kharcha sabase jyaada dhaarmik jagah par karata hai dharm-karm ke kaary mantr saadhana se sambandhit kaary mein jyaada kyonki hamaare man ka kaarak hai bhoomi bhavan vaahan ka maata se sambandhit hone vaale sukhon ka kaarak hone ke kaaran yahaan ka jo ketu hai unase ko dhaarmik pravrtti ka phal aata hai aise vyakti kee aarthik sthiti kamajor hotee hai paise mein aisa vyakti kamajor hota hai lekin jitana mile utane mein khush hota hai aise vyakti ka man shaant rahata hai hamesha ritu kee paanchavee drshti ashtam bhaav par padane se shareer mein bhugataan se sambandhit rog ho sakate hain dasham bhaav par drshti padane se naukaree vyaapaar se sambandh mein rookaavat ho sakatee hai yaanee ki aise vyakti ka kaam nabbe parasent baar aate-aate banate banate ruk jaata hai baahar vibhaag mein jab ketu drshti daalata hai to aisa jo hai vyakti jo hai videsh setalament kee sambhaavana ban rahee hai yaanee ki ketu kee mahaadasha mein aisa vyakti videsh jaata hai vahaan jaakar paisa ka haan pata hai lekin dhanu lagn mein chaturth bhaav ka jo ketu hai isako ham achchha nahin maan sakate hain aise vyakti ko kisee bhee cheej ka hone ka poorvaabhaas ho jaata hai chek karo ki ghatana hai buree ghatana hone ka usake kuchh aise sanket milane lagate hain jisase vah pata ho jaata hai ki hamaare sar aane vaale samay mein yah ghatanaen ho sakatee hai isaka sabase bada kaaran yah hai kyonki tumhaare man ke bhaav mein baitha hai yah hamaare man ko jaagrt karata hai aise vyakti kee divy drshti bhee hotee hai yaanee ki poorv se hee aage vaale aane vaale samay ko pahachaan leta hai aisa vyakti dhaarmik pravrtti ka hota hai ghar mein kalah ka vaataavaran maata se aise vyakti ke sambandh achchhe nahin banate to yah hai kuchh phal ketu ke chaturth bhaav mein dhanu lagn mein jay maata dee jay hindustaan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • धनु लग्न में केतु, केतु क्या है
URL copied to clipboard