#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

राहु महादशा द्वादश भाव में गुरु और राहु की युति का क्या उपाय है?

Rahu Mahadasha Dvadash Bhav Mein Guru Aur Rahu Ki Yuti Ka Kya Upay Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:53
देखिए जो अपने प्रश्न किया है इसमें अपने लगने लिखा अलग नहीं लिखा क्योंकि राहु एक छाया ग्रह है उसके अपनी कोई राशि नहीं होती है और जहां बैठता है उसी के स्वभाव में डर जाता है अपने मित्र के साथ विराजमान है तो अपनी मित्रता को बड़ा शत्रु के साथ विराजमान है तो शत्रुता कराएगा की मिथुन कन्या तुला मकर कुंभ लग्न की कुंडली है तो आपको राहु से घबराने की कोई जरूरत नहीं इसकी मित्र लगने अगर के बारहवें भाव में तोला कन्या मिथुन मकर व कुंभ राशि पड़ती है तो फिर जो है आपको राहुल ज्यादा बुरा परिणाम नहीं देगा सभा के किस-किस गुरु की युति है यानी कि गुरु चांडाल योग बनना है तो दोस्तों देखिए अगर राहु की प्लेसमेंट अपने शत्रु वाली राशि में है तो आपको मैं एक उपाय बता देता हूं देखो रॉयल ब्लू कलर जाने की जो रोल भी निकला कपड़ा होता है उस नीले कपड़े खोलें उसके अंदर एक मोर का पर बुधवार वाले दिन ऐसे जो है गले में धारण करें और काले कलर के कुत्ते को रोजगार में कुछ खाने के लिए भेज तो रहा हूं आपका जो है बुरा परिणाम देना जो हम कर देगा राहु की भी टीम दृष्टि होती है गुरु की भी तीन दृष्टि होती है अगर राहु बाप के चौथे सेट में और आठवें घर को पांचवें सातवें और नौवें दृष्टि से देख रहा है यानी कि आपके माता के स्कूल में आपके शत्रु रोग ऋण दुर्घटना और आपके हाथ में है दृष्टि डालें वही आपको जो है गुरु से बचा रहा है गुरु की डिश टीवी चौथे सेट में और आठवीं करनी पड़ेगी तो गुरु आपको जो है इससे बचा रहा है इसीलिए हर गुरुवार को विष्णु सहस्त्र का पाठ आप जरूर करें इस उपाय को करने से पहले आप अपनी कुंडली में ग्रहों की डिग्री को देख ले कौन सा ग्रह कितनी डिग्री पर है अगर राहु और गुरु के साथ में होती है लेकिन डिग्री वालों में गुरु जो है ना उसे ऊपर ए डिग्री वर्ग में तो योग पाए ना करें क्योंकि राहु जफर वहां कमजोर हो जाता है वह डिग्री के ऊपर निर्भर करेगा और एक और बात ध्यान रखें कि राहु और केतु की जो डिग्री होती है वह उल्टी चलती है जबकि गुरु की सीडी चलती है जीरो से जीरो से 30 तक वह 300 तक जाती है अब राहु के कष्ट देने की आपको लक्षण बताता हूं उसके घाव कैसे कष्ट देता है अगर आपको रोज काले कुत्ते भोंकते हैं कि आपका शरीर ठीक नहीं रहता है या जो है अगर आप की माता का शरीर आने की आपकी मां का जो है स्वास्थ खराब रहता है और आप के जो है आई में हानि हो रही है आपको कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाना पड़ रहा है या कोई चीज आपके पर चलना है जिसमें आपका पैसा ज्यादा जा रहा है तभी यह समझ लो कि आपको राहु बुरा परिणाम तेरा है अभी सारे लक्षण है तू ही उपाय करें अन्यथा ना करें और जो है
Dekhie jo apane prashn kiya hai isamen apane lagane likha alag nahin likha kyonki raahu ek chhaaya grah hai usake apanee koee raashi nahin hotee hai aur jahaan baithata hai usee ke svabhaav mein dar jaata hai apane mitr ke saath viraajamaan hai to apanee mitrata ko bada shatru ke saath viraajamaan hai to shatruta karaega kee mithun kanya tula makar kumbh lagn kee kundalee hai to aapako raahu se ghabaraane kee koee jaroorat nahin isakee mitr lagane agar ke baarahaven bhaav mein tola kanya mithun makar va kumbh raashi padatee hai to phir jo hai aapako raahul jyaada bura parinaam nahin dega sabha ke kis-kis guru kee yuti hai yaanee ki guru chaandaal yog banana hai to doston dekhie agar raahu kee plesament apane shatru vaalee raashi mein hai to aapako main ek upaay bata deta hoon dekho royal bloo kalar jaane kee jo rol bhee nikala kapada hota hai us neele kapade kholen usake andar ek mor ka par budhavaar vaale din aise jo hai gale mein dhaaran karen aur kaale kalar ke kutte ko rojagaar mein kuchh khaane ke lie bhej to raha hoon aapaka jo hai bura parinaam dena jo ham kar dega raahu kee bhee teem drshti hotee hai guru kee bhee teen drshti hotee hai agar raahu baap ke chauthe set mein aur aathaven ghar ko paanchaven saataven aur nauven drshti se dekh raha hai yaanee ki aapake maata ke skool mein aapake shatru rog rn durghatana aur aapake haath mein hai drshti daalen vahee aapako jo hai guru se bacha raha hai guru kee dish teevee chauthe set mein aur aathaveen karanee padegee to guru aapako jo hai isase bacha raha hai iseelie har guruvaar ko vishnu sahastr ka paath aap jaroor karen is upaay ko karane se pahale aap apanee kundalee mein grahon kee digree ko dekh le kaun sa grah kitanee digree par hai agar raahu aur guru ke saath mein hotee hai lekin digree vaalon mein guru jo hai na use oopar e digree varg mein to yog pae na karen kyonki raahu japhar vahaan kamajor ho jaata hai vah digree ke oopar nirbhar karega aur ek aur baat dhyaan rakhen ki raahu aur ketu kee jo digree hotee hai vah ultee chalatee hai jabaki guru kee seedee chalatee hai jeero se jeero se 30 tak vah 300 tak jaatee hai ab raahu ke kasht dene kee aapako lakshan bataata hoon usake ghaav kaise kasht deta hai agar aapako roj kaale kutte bhonkate hain ki aapaka shareer theek nahin rahata hai ya jo hai agar aap kee maata ka shareer aane kee aapakee maan ka jo hai svaasth kharaab rahata hai aur aap ke jo hai aaee mein haani ho rahee hai aapako kort kachaharee ka chakkar lagaana pad raha hai ya koee cheej aapake par chalana hai jisamen aapaka paisa jyaada ja raha hai tabhee yah samajh lo ki aapako raahu bura parinaam tera hai abhee saare lakshan hai too hee upaay karen anyatha na karen aur jo hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • राहु महादशा द्वादश भाव में गुरु और राहु की युति का क्या उपाय है, राहु महादशा द्वादश भाव में गुरु और राहु की युति का उपाय
URL copied to clipboard