#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

अध्यात्म का विद्यार्थी के जीवन में क्या महत्व है

Adhyaatm Ka Vidyarthi Ke Jeevan Mein Kya Mehtv Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
5:00
कृष्ण अध्यात्म का विद्यार्थी के जीवन में क्या महत्व है आज रात में एक एनर्जी होती है वह एनर्जी होती है फेमिना इन एनर्जी अगर हम अध्यात्म को अच्छे से समझ ले तो यकीनन हम अपने अंदर की फेमिनिन एंड मस्कुलर नाना जी को अच्छे से बैलेंस कर लेंगे अपने फेमिनिन एंड मस्क लाइन माइंड को बहुत अच्छे से इस्तेमाल करेंगे तो हम जो चाहते हैं माली जी आप को बहुत बड़ा ऑफिसर भी बनना है तो प्रधानमंत्री भी बनना है तो आप बहुत अच्छे से बन सकते हैं क्योंकि आप में वह प्रतिभा आ जाएगी अभी आप सोच रहे हैं कि से पढ़ाई कर लो नौकरी कर लो तो सिर्फ आप और मैं स्क्रीन साइट की चीजों को ही सोच रहे हैं मतलब सिर्फ उनका आधा ही दिमाग इस्तेमाल करें एमिनेम को तो कर ही नहीं पा रहे ठीक है उस आधे दिमाग से अब क्या करेंगे कहीं आप पढ़ाई करेंगे कहीं भटकेगी कहीं आप लोग नशे वाली चीजों में जाएंगे मैं तो बिल्कुल सो जाएंगे आज की डेट में बहुत सारे लोग इन बैलेंस इसी कारण है वह गलत गलत चीजों में पड़े पड़े हैं वह पूरी तरीके से पुकारे नहीं है कि उनके अंदर की जो एनर्जी एंड मस्ती लाइन एनर्जी इन बैलेंस हो गई है पूरी तरीके से इन दोनों के एनर्जी को बैलेंस में लाने के लिए ही अध्यात्म बहुत जरूरी है आप सोचेंगे कि बैरागी हो जाते हैं ऐसा नहीं है यह आपकी थिंकिंग है इस दुनिया में रहकर कृष्ण जी ने अपनी जिंदगी को अच्छे से जिया है इस दुनिया में रहकर आपको अपनी स्थिति को और अपनी 3D लाइट को जैसे बोलती है मटेरियल स्टिक लाइफ दोनों को बैलेंस करके चलना पड़ेगा क्योंकि सिक्के के 1 पहलू को लेकर आप चलेंगे तो सिक्का चलेगा नहीं लेकिन सिक्के के दो पहलू होते हैं एक चिट होते पट होता है वह अगर आप दुकान में देंगे तो चलेगा ही है ना तो यही है कि आपको अगर अध्यात्म को समझना है अध्यात्म से जुड़ना है जब आप इसे जुड़ेंगे ना तो यकीनन आप बहुत ग्रो करेंगे बहुत सारे नॉलेज आपके पास आ जाएगी ज्ञान का भंडार क्योंकि मैं भी एक स्टूडेंट हूं और मैंने अध्यात्म को समझाए इसके बारे में बहुत डिस्कवर की है और अपने ऊपर अप्लाई भी किया है आज के डेट में बहुत सारी चीजें आप लोगों को गलत लगती हैं लेकिन मेरे नजरिए से देखें कि जो चीज हो रही है कहीं ना कहीं हमें कुछ सिखाने के लिए हो रही है आज की डेट में आप लोगों को लगता है कि मेरे ऊपर तो यह प्रॉब्लम आ गई है यह समस्या आ गई लेकिन अगर वह मेरे नजर से आप देखो ना तू मुझे चैलेंज नजर आता है यह चैलेंज मिला है आज का कोई बात नहीं इसका सलूशन ढूंढ लेंगे अगर आप देखेंगे कि आप बिजनेस कर रहे हो आप सोचोगे कि यह इंपॉसिबल है कि हो ही नहीं सकता अगर आप मेरे नजर से देखोगे तो मैं क्या देखूंगी नहीं हो सकता का मतलब कहीं ना कहीं समस्या है इस समस्या को ठीक करेंगे मतलब हो जाएगा मतलब कुछ इस पॉसिबल है लेकिन समस्या आ रही है समस्या को हमें क्लीन करना होगा समझना होगा क्या क्या कारण है तू अध्यात्म आपको सही तरीके से देखने का तरीका सिखा देता है अध्यात्म आपको दिखा देता है कि जितने भी दुनिया में आप देख लेना सारी चीजें हो रही हैं लोग भटक रहे हैं ना जाने कहां यह कृष्ण जी की माया नगरी है जहां माया में फंसे हैं बहुत सारे लोग अध्यात्म आपको माया से निकालकर रियालिटी दिखाता है वही जिसे कहते हैं 525 डायरेक्शन डायरेक्शन में आप सब चीज देखने लगते हो तो सब में खुद को देखने लगते हो कोई पढ़ भी रहा है कोई अफसर बन नहीं रहा है तो यह मैं भी हूं यह भी मैं हूं यह भी मैं हूं ठीक है अगर हम खुद को बेहतरीन बनाने लगते हैं तो हम अपनी वाइब्रेशन सेना अपनी अध्यात्म अर्थात स्त्री क्वालिटी से हम खुद के ऊपर विरोध करते हैं अपनी वाइब्रेशन से हम समाज में भी वह वाइब्रेशन फैलाते हैं वह एक अपोजिट ऑडिशन होता है ठीक है आध्यात्मिक अध्यात्मिक ज्ञान होता है वह ना तो छोटे बच्चों से ही शुरु कर देना चाहिए सिखाना क्योंकि मुझे समझ में आता है कि अध्यात्म बहुत इंपॉर्टेंट है बहुत सारे लोग कहते हैं कि नहीं अभी आप पढ़ाई लिखाई करो अध्यात्म में मत जाना इसे कहते हैं और रियालिटी यही है कि अगर आप बच्चों को बचपन से आध्यात्मिक तू वह बच्ची ना बहुत जल्दी करो करेंगे बहुत जल्दी अपने अंदर की मस्त लाइन एनर्जी को फेमिनिन एनर्जी को बैलेंस करना सीखेंगे उनका जो मायने ना जो सिर्फ एक ही साइड का काम करता हूं का दोनों माइंड मस्त लाइन एंड फेमिनिन का जो माइंड है दोनों काम करेगा और आप देखिएगा कि वह सबसे बड़े साइंटिस्ट बन जाएंगे तो छोटी उम्र में भी बहुत अच्छी तरीके से वह हर चीज को समझने लगेंगे ठीक है माइंड कैसे काम करता है माइंड की चार्ट समझने लगेंगे हर एक चीज को सीखने लगेंगे बच्चे
Krshn adhyaatm ka vidyaarthee ke jeevan mein kya mahatv hai aaj raat mein ek enarjee hotee hai vah enarjee hotee hai phemina in enarjee agar ham adhyaatm ko achchhe se samajh le to yakeenan ham apane andar kee pheminin end maskular naana jee ko achchhe se bailens kar lenge apane pheminin end mask lain maind ko bahut achchhe se istemaal karenge to ham jo chaahate hain maalee jee aap ko bahut bada ophisar bhee banana hai to pradhaanamantree bhee banana hai to aap bahut achchhe se ban sakate hain kyonki aap mein vah pratibha aa jaegee abhee aap soch rahe hain ki se padhaee kar lo naukaree kar lo to sirph aap aur main skreen sait kee cheejon ko hee soch rahe hain matalab sirph unaka aadha hee dimaag istemaal karen eminem ko to kar hee nahin pa rahe theek hai us aadhe dimaag se ab kya karenge kaheen aap padhaee karenge kaheen bhatakegee kaheen aap log nashe vaalee cheejon mein jaenge main to bilkul so jaenge aaj kee det mein bahut saare log in bailens isee kaaran hai vah galat galat cheejon mein pade pade hain vah pooree tareeke se pukaare nahin hai ki unake andar kee jo enarjee end mastee lain enarjee in bailens ho gaee hai pooree tareeke se in donon ke enarjee ko bailens mein laane ke lie hee adhyaatm bahut jarooree hai aap sochenge ki bairaagee ho jaate hain aisa nahin hai yah aapakee thinking hai is duniya mein rahakar krshn jee ne apanee jindagee ko achchhe se jiya hai is duniya mein rahakar aapako apanee sthiti ko aur apanee 3d lait ko jaise bolatee hai materiyal stik laiph donon ko bailens karake chalana padega kyonki sikke ke 1 pahaloo ko lekar aap chalenge to sikka chalega nahin lekin sikke ke do pahaloo hote hain ek chit hote pat hota hai vah agar aap dukaan mein denge to chalega hee hai na to yahee hai ki aapako agar adhyaatm ko samajhana hai adhyaatm se judana hai jab aap ise judenge na to yakeenan aap bahut gro karenge bahut saare nolej aapake paas aa jaegee gyaan ka bhandaar kyonki main bhee ek stoodent hoon aur mainne adhyaatm ko samajhae isake baare mein bahut diskavar kee hai aur apane oopar aplaee bhee kiya hai aaj ke det mein bahut saaree cheejen aap logon ko galat lagatee hain lekin mere najarie se dekhen ki jo cheej ho rahee hai kaheen na kaheen hamen kuchh sikhaane ke lie ho rahee hai aaj kee det mein aap logon ko lagata hai ki mere oopar to yah problam aa gaee hai yah samasya aa gaee lekin agar vah mere najar se aap dekho na too mujhe chailenj najar aata hai yah chailenj mila hai aaj ka koee baat nahin isaka salooshan dhoondh lenge agar aap dekhenge ki aap bijanes kar rahe ho aap sochoge ki yah imposibal hai ki ho hee nahin sakata agar aap mere najar se dekhoge to main kya dekhoongee nahin ho sakata ka matalab kaheen na kaheen samasya hai is samasya ko theek karenge matalab ho jaega matalab kuchh is posibal hai lekin samasya aa rahee hai samasya ko hamen kleen karana hoga samajhana hoga kya kya kaaran hai too adhyaatm aapako sahee tareeke se dekhane ka tareeka sikha deta hai adhyaatm aapako dikha deta hai ki jitane bhee duniya mein aap dekh lena saaree cheejen ho rahee hain log bhatak rahe hain na jaane kahaan yah krshn jee kee maaya nagaree hai jahaan maaya mein phanse hain bahut saare log adhyaatm aapako maaya se nikaalakar riyaalitee dikhaata hai vahee jise kahate hain 525 daayarekshan daayarekshan mein aap sab cheej dekhane lagate ho to sab mein khud ko dekhane lagate ho koee padh bhee raha hai koee aphasar ban nahin raha hai to yah main bhee hoon yah bhee main hoon yah bhee main hoon theek hai agar ham khud ko behatareen banaane lagate hain to ham apanee vaibreshan sena apanee adhyaatm arthaat stree kvaalitee se ham khud ke oopar virodh karate hain apanee vaibreshan se ham samaaj mein bhee vah vaibreshan phailaate hain vah ek apojit odishan hota hai theek hai aadhyaatmik adhyaatmik gyaan hota hai vah na to chhote bachchon se hee shuru kar dena chaahie sikhaana kyonki mujhe samajh mein aata hai ki adhyaatm bahut importent hai bahut saare log kahate hain ki nahin abhee aap padhaee likhaee karo adhyaatm mein mat jaana ise kahate hain aur riyaalitee yahee hai ki agar aap bachchon ko bachapan se aadhyaatmik too vah bachchee na bahut jaldee karo karenge bahut jaldee apane andar kee mast lain enarjee ko pheminin enarjee ko bailens karana seekhenge unaka jo maayane na jo sirph ek hee said ka kaam karata hoon ka donon maind mast lain end pheminin ka jo maind hai donon kaam karega aur aap dekhiega ki vah sabase bade saintist ban jaenge to chhotee umr mein bhee bahut achchhee tareeke se vah har cheej ko samajhane lagenge theek hai maind kaise kaam karata hai maind kee chaart samajhane lagenge har ek cheej ko seekhane lagenge bachche

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आध्यात्मिकता के विद्यार्थी जीवन में क्या लाभ है,लक्ष्य प्राप्ति में अध्यात्म कितना जरुरी है,अध्यात्म का विद्यार्थी के जीवन में क्या महत्व है
URL copied to clipboard