#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान आंदोलन के विरोध मोदी जी की हठधर्मिता कहां तक उचित है?

Kisan Andolan Ke Virodh Modi Ji Ki Hathdharmita Kahan Tak Uchit Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:56
प्रश्न है किसान आंदोलन के विरोध में मोदी जी की हठधर्मिता कहां तक उचित है देखिए इतनी ठंडी में जो साथ डिग्री टेंपरेचर से भी कम वहां का टेंपरेचर उसके साथ-साथ बारिश भी हो रही है और मोदी जी के पास इतना भी समय नहीं मिला कि वह इस तरह के लोगों से किसान भाइयों से जाकर मिले जो हमारा किस कृषि प्रधान देश है तू इसमें मोदी के लिए सबसे बड़ी बात कहने वाली है कि वह एक तानाशाही राज्य चलाना चाहते हैं वह देश के नागरिकों की और देश के लोगों की थोड़ी सी भी कदर नहीं करते क्योंकि पहले कि जब हम गुलाम थे इसी तरह की तानाशाही चलती थी जब कोई किसी की बात नहीं सुनता था और जो भी राजा था वह जबरदस्ती हर एक नियम ठोकने की बात करता था वह चाहे आप मानो या ना मानो जो लोग नहीं मानते थे उन्हें क्या किया जाता था कि उन्हें बहुत मारा पीटा जाता था या तो उन्हें देशद्रोही बनाकर उसे फांसी की सजा दे दी जाती थी आज वही ठीक तीन प्रकार से मोदी जी कर रहे हैं कि अगर मानोगे तो ठीक है नहीं मानोगे तो आप उसी तरह मरो इतनी ठंडी में क्या मोदी जी के पास इतना भी समय नहीं है कि जाकर उनसे बात करें हम जानते हैं कि दुनिया में कोई भी ऐसी चीज़ नहीं है जिसे की बातचीत करके सुलझा ना जा सके एक ऐसा यही एक साधन है जो सबसे उचित साधन है क्योंकि आप अगर बात करने जाएंगे तो जरूर है क्योंकि आपके पास भी अगर दिल है तो उनके पास भी देता है वह भी समझने की क्षमता रखते हैं तो आप जाइए उनसे प्यार से भी तो समझा सकते हैं इस तरह की हठधर्मिता तो यही संदेश देती है कि कहीं ना कहीं आप तानाशाही को जन्म दे रहे हैं धन्य
Prashn hai kisaan aandolan ke virodh mein modee jee kee hathadharmita kahaan tak uchit hai dekhie itanee thandee mein jo saath digree temparechar se bhee kam vahaan ka temparechar usake saath-saath baarish bhee ho rahee hai aur modee jee ke paas itana bhee samay nahin mila ki vah is tarah ke logon se kisaan bhaiyon se jaakar mile jo hamaara kis krshi pradhaan desh hai too isamen modee ke lie sabase badee baat kahane vaalee hai ki vah ek taanaashaahee raajy chalaana chaahate hain vah desh ke naagarikon kee aur desh ke logon kee thodee see bhee kadar nahin karate kyonki pahale ki jab ham gulaam the isee tarah kee taanaashaahee chalatee thee jab koee kisee kee baat nahin sunata tha aur jo bhee raaja tha vah jabaradastee har ek niyam thokane kee baat karata tha vah chaahe aap maano ya na maano jo log nahin maanate the unhen kya kiya jaata tha ki unhen bahut maara peeta jaata tha ya to unhen deshadrohee banaakar use phaansee kee saja de dee jaatee thee aaj vahee theek teen prakaar se modee jee kar rahe hain ki agar maanoge to theek hai nahin maanoge to aap usee tarah maro itanee thandee mein kya modee jee ke paas itana bhee samay nahin hai ki jaakar unase baat karen ham jaanate hain ki duniya mein koee bhee aisee cheez nahin hai jise kee baatacheet karake sulajha na ja sake ek aisa yahee ek saadhan hai jo sabase uchit saadhan hai kyonki aap agar baat karane jaenge to jaroor hai kyonki aapake paas bhee agar dil hai to unake paas bhee deta hai vah bhee samajhane kee kshamata rakhate hain to aap jaie unase pyaar se bhee to samajha sakate hain is tarah kee hathadharmita to yahee sandesh detee hai ki kaheen na kaheen aap taanaashaahee ko janm de rahe hain dhany

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन,किसान आंदोलन के कारण
URL copied to clipboard