#जीवन शैली

bolkar speaker

आज के समय में किराए का घर अपने घर से ज्यादा बेहतर माना जाता है ऐसा क्यों?

Aaj Ke Samay Mein Kiraye Ka Ghar Apne Ghar Se Jyada Behtar Mana Jaata Hai Aisa Kyun
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:39
उसका कारण बेटे यह है कि नंबर एक तो आजकल भूमि के भाव आसमान को छू रहे हैं नंबर तो उसमे सारा खर्चा जो होता है वह मालिक गई उसको बनवाने में कंस्ट्रक्शन कराने में आजकल बहुत पैसा खर्च होता है क्योंकि आप देख रहे हैं मजदूरी के भाव आसमान को छू रहे हैं और जो बिल्डिंग मैटेरियल्स है उसके भाव आसमान को छूने भारत में महंगाई नित रोज बढ़ जाती है घटती नहीं है क्योंकि सरकार का उतना नियंत्रण नहीं है जितना नियंता मार्केट पर होना चाहिए व्यापारी खुलेआम तुम देख रहे हो कि ऐसे आइटम को भेजता है जन आइटम है उनको अधिक बेनिफिट है बजाएं उपभोक्ता के तो इस कारण से लोग बाग आजकल खतरा नहीं लगे हैं क्योंकि इतना पैसा लोगों पर कहां से आया कि देश में बेरोजगारी व गरीबी फैली हुई है जिनके पास पैसा है उनके पास देश में 20% लोग केवल धन आदि हैं जिनमें आप फिर भी एक्टर्स को कह सकते हैं फिल्म और राजनीति के नेताओं को कह सकते हैं अधिकारी व को कह सकते हैं कर्मचारी वर्ग को कह सकते हैं और व्यापारी वर्ग को कह सकते हैं यह पांच वर्गी 20 परसेंट बनता है जो धनाढ्य हैं बाकी देश में सेंड गरीब लोगों का है जिनमें आप ही कर सकते हैं लेबर वर्क है किसान वर्ग के हैं मिडिल क्लास के लोग हैं यह सभी इसी के अंतर्गत आते हैं अस्सी परसेंट में तो ऐसे लोगों पर इतना पैसा तो होता नहीं है कि वह अपने घर के मकान बनवा सके जबकि किराए के मकान में अपना किराया दिया आपने और फिर आप फ्री हैं जबकि घर के मकान में आपको नंबर 1 आजकल लोग अतिक्रमण कर लेते हैं नंबर दो घटिया माल सप्लाई कर देते हैं नंबर 3 ठेकेदार पर यदि आप बनवाते हैं तो ठीक केदार आजकल 50% का मुनाफा खजाने की कोशिश करते हैं कई बार घटिया माल को लगा देते हैं अच्छा फिर बिजली के पानी के बिल इस कदर बढ़ गए हुए हैं कि बहुत ज्यादा महंगाई के कारण से परेशान हैं इसलिए लोग आजकल किराए के घर ज्यादा पसंद करते हैं बजाया अपना बनवाने के और जिनके पास पैसा है भारत में उनके पास 10 10 बिल्डिंग भी हैं और जिनके पास पैसा नहीं है गरीबी है बॉटम वर्क से है मेटल वर्क्स है वह व्यक्ति एक मकान का सिर्फ सपना लिए जन्म लेता है और सब बढ़िया ही मर जाता है
Usaka kaaran bete yah hai ki nambar ek to aajakal bhoomi ke bhaav aasamaan ko chhoo rahe hain nambar to usame saara kharcha jo hota hai vah maalik gaee usako banavaane mein kanstrakshan karaane mein aajakal bahut paisa kharch hota hai kyonki aap dekh rahe hain majadooree ke bhaav aasamaan ko chhoo rahe hain aur jo bilding maiteriyals hai usake bhaav aasamaan ko chhoone bhaarat mein mahangaee nit roj badh jaatee hai ghatatee nahin hai kyonki sarakaar ka utana niyantran nahin hai jitana niyanta maarket par hona chaahie vyaapaaree khuleaam tum dekh rahe ho ki aise aaitam ko bhejata hai jan aaitam hai unako adhik beniphit hai bajaen upabhokta ke to is kaaran se log baag aajakal khatara nahin lage hain kyonki itana paisa logon par kahaan se aaya ki desh mein berojagaaree va gareebee phailee huee hai jinake paas paisa hai unake paas desh mein 20% log keval dhan aadi hain jinamen aap phir bhee ektars ko kah sakate hain philm aur raajaneeti ke netaon ko kah sakate hain adhikaaree va ko kah sakate hain karmachaaree varg ko kah sakate hain aur vyaapaaree varg ko kah sakate hain yah paanch vargee 20 parasent banata hai jo dhanaadhy hain baakee desh mein send gareeb logon ka hai jinamen aap hee kar sakate hain lebar vark hai kisaan varg ke hain midil klaas ke log hain yah sabhee isee ke antargat aate hain assee parasent mein to aise logon par itana paisa to hota nahin hai ki vah apane ghar ke makaan banava sake jabaki kirae ke makaan mein apana kiraaya diya aapane aur phir aap phree hain jabaki ghar ke makaan mein aapako nambar 1 aajakal log atikraman kar lete hain nambar do ghatiya maal saplaee kar dete hain nambar 3 thekedaar par yadi aap banavaate hain to theek kedaar aajakal 50% ka munaapha khajaane kee koshish karate hain kaee baar ghatiya maal ko laga dete hain achchha phir bijalee ke paanee ke bil is kadar badh gae hue hain ki bahut jyaada mahangaee ke kaaran se pareshaan hain isalie log aajakal kirae ke ghar jyaada pasand karate hain bajaaya apana banavaane ke aur jinake paas paisa hai bhaarat mein unake paas 10 10 bilding bhee hain aur jinake paas paisa nahin hai gareebee hai botam vark se hai metal varks hai vah vyakti ek makaan ka sirph sapana lie janm leta hai aur sab badhiya hee mar jaata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आज के समय में किराए का घर अपने घर से ज्यादा बेहतर माना जाता है ऐसा क्यों?Aaj Ke Samay Mein Kiraye Ka Ghar Apne Ghar Se Jyada Behtar Mana Jaata Hai Aisa Kyun
Amit  Vaishnava Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Unknown
1:51
छा गया है कि आज के समय में किराए का घर अपने घर से ज्यादा बेहतर माना जाता है ऐसा क्यों लेकिन सबसे पहली बात तो यह है कि आजकल उस समय वहां स्थिरता को तोड़ने वाला है हम किसी एक जगह पर बैठे नहीं है रह जाए और ना ही अब ऐसा चाहते भी हो कि हम बैठे रह जाए तो आज की सोच में रुकावट प्रगतिशील प्रगतिशील व्यक्ति चाहिए तो इसमें जो विचारधारा है इसको अपने अंदर मन में हमने इतनी गहराई में उतार लिया है इतनी गहराई में जगह दे दिया है कि हम उसको जाने अनजाने में अपने जीवन का एक हिस्सा बना चुके हैं इसी तरह से उसे कि हम बड़ी सारी बातों को बिना चाहे सोचते हैं बिना चाहे करते हैं और उन्हें करने में कोई दिक्कत भी नहीं होती कि किसी तरह की सोच आजकल मेरे ख्याल से युवाओं में ज्यादा हो रही है कि हमें अपना घर से ज्यादा यार खुशी मांगने वगैरह से ज्यादा किसी फ्लैट वगैरह में ज्यादा इंटरेस्ट होते जाता है इसका कारण है कि हम एक जगह पर रुका और बेहतर जीवन को जीना चाहते हैं हम रोज कुछ ना कुछ नया करना चाहते हैं और हर स्तर में सोच में गलती नहीं है ना ही भारत सरकार से या सोच सही है लेकिन हम अपने लिए एक स्थान जरूर ऐसा निर्धारित करना चाहिए जहां पर आप अपनी उपलब्धियों को सेंड हो सकते हैं आप अपने जीवन काल में प्राप्त वस्तुओं का संग्रह कर सकें अपने लिए नहीं आने वाले लोगों के लिए आने वाले कल के लिए इसके साथ धन्यवाद
Chha gaya hai ki aaj ke samay mein kirae ka ghar apane ghar se jyaada behatar maana jaata hai aisa kyon lekin sabase pahalee baat to yah hai ki aajakal us samay vahaan sthirata ko todane vaala hai ham kisee ek jagah par baithe nahin hai rah jae aur na hee ab aisa chaahate bhee ho ki ham baithe rah jae to aaj kee soch mein rukaavat pragatisheel pragatisheel vyakti chaahie to isamen jo vichaaradhaara hai isako apane andar man mein hamane itanee gaharaee mein utaar liya hai itanee gaharaee mein jagah de diya hai ki ham usako jaane anajaane mein apane jeevan ka ek hissa bana chuke hain isee tarah se use ki ham badee saaree baaton ko bina chaahe sochate hain bina chaahe karate hain aur unhen karane mein koee dikkat bhee nahin hotee ki kisee tarah kee soch aajakal mere khyaal se yuvaon mein jyaada ho rahee hai ki hamen apana ghar se jyaada yaar khushee maangane vagairah se jyaada kisee phlait vagairah mein jyaada intarest hote jaata hai isaka kaaran hai ki ham ek jagah par ruka aur behatar jeevan ko jeena chaahate hain ham roj kuchh na kuchh naya karana chaahate hain aur har star mein soch mein galatee nahin hai na hee bhaarat sarakaar se ya soch sahee hai lekin ham apane lie ek sthaan jaroor aisa nirdhaarit karana chaahie jahaan par aap apanee upalabdhiyon ko send ho sakate hain aap apane jeevan kaal mein praapt vastuon ka sangrah kar saken apane lie nahin aane vaale logon ke lie aane vaale kal ke lie isake saath dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किराए का घर अपने घर से ज्यादा बेहतर क्यों माना जाता है, किराए का घर बेहतर क्यों माना जाता
URL copied to clipboard