#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?

Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:46
हेलो एवरीवन तू आज आपका सवाल है कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है तो दीजिए आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इसलिए कहा जाता है क्योंकि जब भी इंसान को किसी चीज की जरूरत पड़ती है तो इंसान कुछ ना कुछ खोज और कुछ ना कुछ प्लान और कुछ ना कुछ इन्वेंशन जरूर करता है जैसे कि आपको पता है कि लॉकडाउन है या फिर आप यहां से वहां तक जा नहीं पाएंगे या फिर जा नहीं सकते तो आपको पता है कि आपको जरूरत भी है तो आप कुछ ना कुछ अविष्कार करने के बारे में सोचते हो कर भी लेते हैं क्योंकि आपको पता है कि आपको जाना है वहां यह बहुत जरूरी है तो जब भी इंसान को जरूरत पड़ती है इंसान कुछ ना कुछ जरूर अविष्कार और अपनी जरूरत के हिसाब से कुछ ना कुछ जरूर अविष्कार रीमेंस इन करता है जैसे कि नहीं पता था कि नहीं लाइट की जरूरत है या फिर इस चीज की जरूरत है या फिर वह खाने की जरूरत है इंसान उसकी जरूरत को पूरा करने के लिए जुट जाता है पूरा जी जान लगा देता है और कुछ ना कुछ उसके बदले या फिर उस तरह की चीजें वह जरूर मतलब वहां पर अविष्कार करता है आप जैसे कि कोई टेबल आपने लाया है उस टेबल पर बहुत सारे सामान घर पर रख रहे टेबल टूट जाता है या फिर किसी भी तरह से खराब हो जाता है वह सारे सामान को कहां रखना आपका दिमाग चलने लगता आप तुरंत कुछ ना कुछ उपाय सोचने लगते तो इस तरह क्या पाकिस्तानी करते फिर वह सामान पर किसी और जगह पर पेपर से या फिर कुछ भी चीज बनाकर आपने टेबल वहां पर बना लेते एक अविष्कार करते क्योंकि आपको पता था इतना सामान रखा है यह भी जरूरत की चीज है जो इंसान को जब भी किसी चीज की जरूरत पड़ती है इंसान कुछ ना कुछ अविष्कार जरूर करता है
Helo evareevan too aaj aapaka savaal hai ki aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka kya matalab hai aur aisa kyon kaha jaata hai to deejie aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai isalie kaha jaata hai kyonki jab bhee insaan ko kisee cheej kee jaroorat padatee hai to insaan kuchh na kuchh khoj aur kuchh na kuchh plaan aur kuchh na kuchh invenshan jaroor karata hai jaise ki aapako pata hai ki lokadaun hai ya phir aap yahaan se vahaan tak ja nahin paenge ya phir ja nahin sakate to aapako pata hai ki aapako jaroorat bhee hai to aap kuchh na kuchh avishkaar karane ke baare mein sochate ho kar bhee lete hain kyonki aapako pata hai ki aapako jaana hai vahaan yah bahut jarooree hai to jab bhee insaan ko jaroorat padatee hai insaan kuchh na kuchh jaroor avishkaar aur apanee jaroorat ke hisaab se kuchh na kuchh jaroor avishkaar reemens in karata hai jaise ki nahin pata tha ki nahin lait kee jaroorat hai ya phir is cheej kee jaroorat hai ya phir vah khaane kee jaroorat hai insaan usakee jaroorat ko poora karane ke lie jut jaata hai poora jee jaan laga deta hai aur kuchh na kuchh usake badale ya phir us tarah kee cheejen vah jaroor matalab vahaan par avishkaar karata hai aap jaise ki koee tebal aapane laaya hai us tebal par bahut saare saamaan ghar par rakh rahe tebal toot jaata hai ya phir kisee bhee tarah se kharaab ho jaata hai vah saare saamaan ko kahaan rakhana aapaka dimaag chalane lagata aap turant kuchh na kuchh upaay sochane lagate to is tarah kya paakistaanee karate phir vah saamaan par kisee aur jagah par pepar se ya phir kuchh bhee cheej banaakar aapane tebal vahaan par bana lete ek avishkaar karate kyonki aapako pata tha itana saamaan rakha hai yah bhee jaroorat kee cheej hai jo insaan ko jab bhee kisee cheej kee jaroorat padatee hai insaan kuchh na kuchh avishkaar jaroor karata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Vikash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
2:07

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
0:30
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का मतलब यह है कि जब आप कोई अन्य कार्य नहीं कर सकते लेकिन किसी निश्चित कार्य को पूरा करने का निश्चित स्थिति में ही जीवन निर्वाह करना है तो आप ही के साथ जीवन यापन करने का प्रबंध करते हैं यही मतलब था
Aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka matalab yah hai ki jab aap koee any kaary nahin kar sakate lekin kisee nishchit kaary ko poora karane ka nishchit sthiti mein hee jeevan nirvaah karana hai to aap hee ke saath jeevan yaapan karane ka prabandh karate hain yahee matalab tha

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:57
जिंदगी की जो हो सकता है होते हैं वही खोज करके अपनी आवश्यकता की पूर्ति का एक साधन बनते हैं अविष्कार मैंने खोज आवश्यकता मैंने जो हमारे जीवन के आवश्यक अगर मैं गर्मी लग रही है तुम यह खुद करेंगे कि हमें गर्मी कैसे दूर हो किसी पेड़ की छांव छांव में पहुंचे अगर आसपास छाया नहीं है तुम धीरे-धीरे यह कोशिश करेंगे हम पेड़ लगा दे भूख लग रही है तो कम से कम जल्दी से समय में कौन सी जी खाली तो हमारी की भूख मिट जाए अगर हमको न शिक्षा पद्धति पर कुछ बदलाव लाने हैं तुम ऐसे कौन से बदलाव लाने की कम समय में पढ़ करके हमारी बौद्धिक शक्ति के अनुसार उन्हें सारी ज्ञान प्राप्त हो जाएं तो हमारी आवश्यकता अधिक ज्ञान प्राप्त करने की है अधिक ज्ञान प्राप्त करने का जो साधन है वह आविष्कार कहलाता है स्टार आवश्यकता आविष्कार की जननी है हमें जिस चीज की आवश्यकता होती उसी हिसाब से हम 14 अविष्कार कर लेते हैं
Jindagee kee jo ho sakata hai hote hain vahee khoj karake apanee aavashyakata kee poorti ka ek saadhan banate hain avishkaar mainne khoj aavashyakata mainne jo hamaare jeevan ke aavashyak agar main garmee lag rahee hai tum yah khud karenge ki hamen garmee kaise door ho kisee ped kee chhaanv chhaanv mein pahunche agar aasapaas chhaaya nahin hai tum dheere-dheere yah koshish karenge ham ped laga de bhookh lag rahee hai to kam se kam jaldee se samay mein kaun see jee khaalee to hamaaree kee bhookh mit jae agar hamako na shiksha paddhati par kuchh badalaav laane hain tum aise kaun se badalaav laane kee kam samay mein padh karake hamaaree bauddhik shakti ke anusaar unhen saaree gyaan praapt ho jaen to hamaaree aavashyakata adhik gyaan praapt karane kee hai adhik gyaan praapt karane ka jo saadhan hai vah aavishkaar kahalaata hai staar aavashyakata aavishkaar kee jananee hai hamen jis cheej kee aavashyakata hotee usee hisaab se ham 14 avishkaar kar lete hain

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:55
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन पर क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है जो भी इंसान ने अविष्कार किए थे बिजली का आविष्कार हो मोबाइल फोन का आविष्कार कौन विमान का अविष्कार हूं पैसे होते हैं उनकी जो है वह आवश्यकता है का मतलब यह है कि जब इंसान को किसी चीज की जरूरत होती है वैसे आदिमकाल में इंसान को अपनी सुरक्षा सुरक्षा की जरूरत होने लगी उसको यह डर लगने लगा कि कोई जानवर दूसरे जानवर जो ऊपर हमला कर कर उनके उनको मार ना दे तुम सोचने लगा कि हमारे मेरे बचाव के लिए मुझे क्या करना चाहिए और उसने आसपास भी देखा तो पहले उसको पत्थर दिखाई दिए और वह मजबूत अर्जुन पर फेंके जा सकती है ऐसा भी उसको लगा तो पहले उसने पत्थर देखना शुरू कर दिया और बाद में कुछ पत्थरों को उसने इकरार करने के लिए उस तरीके से बनाया डिसएबल नजदीक के दुश्मन को यादव को मार सके और इसका एक आगे जाकर जो तलवारी बनी तो बनी तो बने और मिसाइल से बने यह सारी चीजें की सुरक्षा के लिए आवश्यक इसलिए वह बन गई अब आप अभी आपका जो अपडेट अपडेट है अपडेट इंफॉर्मेशन नहीं है इंसान को ज्यादा काम करने की इच्छा नहीं है वह मशीनों के द्वारा ही काम कर रहे हो लेना चाहता है और खुद आराम से जिंदगी जीना चाहते हैं तो रोबोट कार अविष्कार हुआ अब उसको ऐसा भी लग रहा है कि हमारे दिमाग को ज्यादा तकलीफ देना भी अच्छा नहीं है उससे प्यार मांगे वह हमें आराम चाहिए तो हमारी जगह कोई और दूसरा हमारी सरोज सोच सोच सकेगा और हमारे काम कर देगा तो कितना बेहतरीन और आज तुम स्तर की कृतिका उसने सोचना शुरू कर दिया और समाज में कुछ टैलेंट लोग होते हैं लाखों में एक होता है लेकिन लाखों को भारी होता है इंजीनियर लोग समाज में होती है वहीं दुनियाभर बदलते ख्याल तो हर व्यक्ति के मन में कई आते हैं लेकिन जिसको हासिल हुई करते हैं जो जीनियस लोग होते हैं और इसी तरह की तरीके से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस किया हुआ कैसे डाल दी गई है और यह शुरू भी हो गई तो आगे जाकर इंसान के बहुत सारे काम जो है वह उसने करेंगे और उन्हें अपना एक इंटेलिजेंस होगा कुछ सोचेंगे क्या-क्या करना चाहिए और इसका इस्तेमाल जीवन के हर क्षेत्र में किया जाएगा नैनो रोबोट से बनाकर इंसान के शरीर के अंदर की कैंसर की पेशियां होती है तेल शोधन को नष्ट कलयुग करने वाले ये नैनोबोट्स संशोधन चल रहा है और यह भी होगा जो जो भी आवश्यकता है आएगी वह उस पर मार्ग निकलता है इंसान का दिमाग धन्यवाद
Aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan par kya matalab hai aur aisa kyon kaha jaata hai jo bhee insaan ne avishkaar kie the bijalee ka aavishkaar ho mobail phon ka aavishkaar kaun vimaan ka avishkaar hoon paise hote hain unakee jo hai vah aavashyakata hai ka matalab yah hai ki jab insaan ko kisee cheej kee jaroorat hotee hai vaise aadimakaal mein insaan ko apanee suraksha suraksha kee jaroorat hone lagee usako yah dar lagane laga ki koee jaanavar doosare jaanavar jo oopar hamala kar kar unake unako maar na de tum sochane laga ki hamaare mere bachaav ke lie mujhe kya karana chaahie aur usane aasapaas bhee dekha to pahale usako patthar dikhaee die aur vah majaboot arjun par phenke ja sakatee hai aisa bhee usako laga to pahale usane patthar dekhana shuroo kar diya aur baad mein kuchh pattharon ko usane ikaraar karane ke lie us tareeke se banaaya disebal najadeek ke dushman ko yaadav ko maar sake aur isaka ek aage jaakar jo talavaaree banee to banee to bane aur misail se bane yah saaree cheejen kee suraksha ke lie aavashyak isalie vah ban gaee ab aap abhee aapaka jo apadet apadet hai apadet imphormeshan nahin hai insaan ko jyaada kaam karane kee ichchha nahin hai vah masheenon ke dvaara hee kaam kar rahe ho lena chaahata hai aur khud aaraam se jindagee jeena chaahate hain to robot kaar avishkaar hua ab usako aisa bhee lag raha hai ki hamaare dimaag ko jyaada takaleeph dena bhee achchha nahin hai usase pyaar maange vah hamen aaraam chaahie to hamaaree jagah koee aur doosara hamaaree saroj soch soch sakega aur hamaare kaam kar dega to kitana behatareen aur aaj tum star kee krtika usane sochana shuroo kar diya aur samaaj mein kuchh tailent log hote hain laakhon mein ek hota hai lekin laakhon ko bhaaree hota hai injeeniyar log samaaj mein hotee hai vaheen duniyaabhar badalate khyaal to har vyakti ke man mein kaee aate hain lekin jisako haasil huee karate hain jo jeeniyas log hote hain aur isee tarah kee tareeke se aartiphishiyal intelijens kiya hua kaise daal dee gaee hai aur yah shuroo bhee ho gaee to aage jaakar insaan ke bahut saare kaam jo hai vah usane karenge aur unhen apana ek intelijens hoga kuchh sochenge kya-kya karana chaahie aur isaka istemaal jeevan ke har kshetr mein kiya jaega naino robot se banaakar insaan ke shareer ke andar kee kainsar kee peshiyaan hotee hai tel shodhan ko nasht kalayug karane vaale ye nainobots sanshodhan chal raha hai aur yah bhee hoga jo jo bhee aavashyakata hai aaegee vah us par maarg nikalata hai insaan ka dimaag dhanyavaad

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:01
क्वेश्चन बहुत अच्छा है आपका आवश्यकता ही आविष्कार की जननी इस कथन का क्या मतलब होता है और ऐसा क्यों कहा जाता है बिना जरूरत का अविष्कार नहीं होता है हम लोगों को जिंदगी भर भोजन करने की जरूरत होती है एक घर की जरूरत होती है तभी हम लोग नौकरी तुमसे अगर आपको भोजन करने की जरूरत नहीं हो आपको अगर कपड़े पहनने की जरूरत नहीं हो तो आप कभी नौकरी नहीं दूंगी है उसी तरह लोगों को घर में अंधेरा लगता था उजाला नहीं लगता था थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया इसी तरह से दुनिया भर के साइंटिस्ट को जब भी कोई चीज किसी चीज का जरूरत होता तो वह उसकी खोज करते हैं जब वह खुद करते तो वह खुद अविष्कार में चेंज हो जाता है तो सही बात है आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है जब तक हम लोगों को जरूरत नहीं होगी हम लोग बिना जरूरत है किसी भी चीज को नहीं खोजते
Kveshchan bahut achchha hai aapaka aavashyakata hee aavishkaar kee jananee is kathan ka kya matalab hota hai aur aisa kyon kaha jaata hai bina jaroorat ka avishkaar nahin hota hai ham logon ko jindagee bhar bhojan karane kee jaroorat hotee hai ek ghar kee jaroorat hotee hai tabhee ham log naukaree tumase agar aapako bhojan karane kee jaroorat nahin ho aapako agar kapade pahanane kee jaroorat nahin ho to aap kabhee naukaree nahin doongee hai usee tarah logon ko ghar mein andhera lagata tha ujaala nahin lagata tha thomas alva edisan ne balb ka aavishkaar kiya isee tarah se duniya bhar ke saintist ko jab bhee koee cheej kisee cheej ka jaroorat hota to vah usakee khoj karate hain jab vah khud karate to vah khud avishkaar mein chenj ho jaata hai to sahee baat hai aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai jab tak ham logon ko jaroorat nahin hogee ham log bina jaroorat hai kisee bhee cheej ko nahin khojate

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:59
गुड मॉर्निंग फ्रेंड आपका सवाल है आप शायद आप ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है ऐसा क्यों कहा जाता है इसका मतलब है कि जब हमें किसी चीज की जरूरत महसूस होती है तब हम उसे खोजते हैं उसका आविष्कार करती थी अभी हाल ही में भारत में और पूरी दुनिया में कोरोनावायरस उसे पढ़ने के बाद ही तू उसकी वेबसाइट उससे पहले नहीं आए तो जब हमें जरूरत महसूस हुई तब वैक्सीन का आविष्कार हुआ और यही कारण है कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी होती है जब भी व्यक्ति को किसी चीज की आवश्यकता होती है तभी वह आविष्कार करता है
Gud morning phrend aapaka savaal hai aap shaayad aap hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka kya matalab hai aisa kyon kaha jaata hai isaka matalab hai ki jab hamen kisee cheej kee jaroorat mahasoos hotee hai tab ham use khojate hain usaka aavishkaar karatee thee abhee haal hee mein bhaarat mein aur pooree duniya mein koronaavaayaras use padhane ke baad hee too usakee vebasait usase pahale nahin aae to jab hamen jaroorat mahasoos huee tab vaikseen ka aavishkaar hua aur yahee kaaran hai ki aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hotee hai jab bhee vyakti ko kisee cheej kee aavashyakata hotee hai tabhee vah aavishkaar karata hai

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:40
दवा ली है क्या आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है यह कहावत कहती है कि किसी भी आविष्कार के पीछे एक मुख्य प्रेरक शक्ति होती है आवश्यकता विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभिन्न अवधारणाओं को लागू कर के जीवन को आसान बनाने के लिए मानव की बुनियादी आवश्यकता आविष्कार के पीछे प्राथमिक बल है उदाहरण के लिए बात करने के लिए टेलीफोन का आविष्कार हुआ मनोरंजन करने के लिए टेलीविजन का आविष्कार हुआ और इसी तरह अंधेरों में देखने की जरूरत ने प्रेरित किया तो बल्ब का आविष्कार किया
Dava lee hai kya aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka kya matalab hai aur aisa kyon kaha jaata hai aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai yah kahaavat kahatee hai ki kisee bhee aavishkaar ke peechhe ek mukhy prerak shakti hotee hai aavashyakata vigyaan aur praudyogikee vibhinn avadhaaranaon ko laagoo kar ke jeevan ko aasaan banaane ke lie maanav kee buniyaadee aavashyakata aavishkaar ke peechhe praathamik bal hai udaaharan ke lie baat karane ke lie teleephon ka aavishkaar hua manoranjan karane ke lie teleevijan ka aavishkaar hua aur isee tarah andheron mein dekhane kee jaroorat ne prerit kiya to balb ka aavishkaar kiya

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:43
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका दोस्त आपका सवाल है आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है तो दोस्तों जब हमें किसी चीज की जरूरत होती है तो हम उस चीज को खोजते हैं और अविष्कार अपने आप ही हो जाता है इसलिए जब किसी चीज की जरूरत पड़ती है तो उसका आविष्कार भी निकल आता है दोस्तों जैसे हमें भूख लगी है खाना बनाना है तो हम अपने आप ही उसको काम करेंगे कुछ अविष्कार निकल आएगा कुछ तो बना ही लेंगे इसलिए कहते हैं कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है तो दोस्तों अगर आपको मेरे जवाब अच्छे लगते हैं तो प्लीज लाइक करें सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka dost aapaka savaal hai aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka kya matalab hai aur aisa kyon kaha jaata hai to doston jab hamen kisee cheej kee jaroorat hotee hai to ham us cheej ko khojate hain aur avishkaar apane aap hee ho jaata hai isalie jab kisee cheej kee jaroorat padatee hai to usaka aavishkaar bhee nikal aata hai doston jaise hamen bhookh lagee hai khaana banaana hai to ham apane aap hee usako kaam karenge kuchh avishkaar nikal aaega kuchh to bana hee lenge isalie kahate hain ki aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai to doston agar aapako mere javaab achchhe lagate hain to pleej laik karen sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
bipin gupta  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए bipin जी का जवाब
Ac technician aur computer diploma
2:03
77 पहले या 20 साल पहले जब मोबाइल टेक्नोलॉजी का जमाना नहीं था तब लोगों के पास चिट्ठियां लिख कर समाचार भेजा जाता था या समाचार पाया जाता था डाक सेवा द्वारा इस प्रक्रिया चलती थी अब बहुत तकलीफ होती थी लेकिन जब हमें आवश्यकता पड़ गया रिक्वेस्ट चिट्टियां गायब होने लगी किसी किसी के जितिया पहुंच ही नहीं पाती थी तो कोई कोई का हाल-चाल मिली नहीं पाता था तो हो सकता पूरा भाई कि क्यों ना एक ऐसा यंत्र बनाया जाए कि आदमी घर बैठे किसी का भी हाल चाल पूछ सके बात कर सके आवाज सुन सके तो जब हो सकता पड़ गई तो यह मोबाइल टेक्नोलॉजी का खोजा इस खोज के कारण एक दूसरे से आदमी घर बैठे भात हाल-चाल लेने लगा समाचार होने लगा फिर इसमें आवश्यकता बढ़ती गई और यह मोबाइल आजा स्मार्टफोन के समान बनी चुका है 4G की आवश्यकता पड़ गई 4G बन गया हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्शन हो गई टॉर्च लग गया बहुत चने को चीज मोबाइल के कारण होने लगा इंटरनेट से सुलभ हो गया इसलिए कहा गया है कि जब-जब आवश्यकता पड़ती है एक नया अविष्कार अवश्य होता है इसीलिए कहा जाता हो सकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का यही अपील है कि जब तक हमें किसी वस्तु का किसी चीज की आवश्यकता नहीं पड़ेगी तब तक हम नया कुछ नहीं कर पाएंगे थैंक यू
77 pahale ya 20 saal pahale jab mobail teknolojee ka jamaana nahin tha tab logon ke paas chitthiyaan likh kar samaachaar bheja jaata tha ya samaachaar paaya jaata tha daak seva dvaara is prakriya chalatee thee ab bahut takaleeph hotee thee lekin jab hamen aavashyakata pad gaya rikvest chittiyaan gaayab hone lagee kisee kisee ke jitiya pahunch hee nahin paatee thee to koee koee ka haal-chaal milee nahin paata tha to ho sakata poora bhaee ki kyon na ek aisa yantr banaaya jae ki aadamee ghar baithe kisee ka bhee haal chaal poochh sake baat kar sake aavaaj sun sake to jab ho sakata pad gaee to yah mobail teknolojee ka khoja is khoj ke kaaran ek doosare se aadamee ghar baithe bhaat haal-chaal lene laga samaachaar hone laga phir isamen aavashyakata badhatee gaee aur yah mobail aaja smaartaphon ke samaan banee chuka hai 4g kee aavashyakata pad gaee 4g ban gaya haee speed intaranet kanekshan ho gaee torch lag gaya bahut chane ko cheej mobail ke kaaran hone laga intaranet se sulabh ho gaya isalie kaha gaya hai ki jab-jab aavashyakata padatee hai ek naya avishkaar avashy hota hai iseelie kaha jaata ho sakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka yahee apeel hai ki jab tak hamen kisee vastu ka kisee cheej kee aavashyakata nahin padegee tab tak ham naya kuchh nahin kar paenge thaink yoo

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:28

bolkar speaker
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है और ऐसा क्यों कहा जाता है?Aavashykta He Aavishkar Ki Janni Hai Is Kathan Ka Kya Matlab Hai Aur Aisa Kyun Kaha Jata Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:03
आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है इस कथन का क्या मतलब है ऐसा क्यों कहा जाता है सिंपल साइड में जो भी पोस्ट आया तो लॉक डाउन हुआ और उसके बाद आप देखिए कितने टाइप की चीजें जो अपनी लाइफ में पहले लोगों ने बनाए गए सभी लोग को बनाने लगे तो अब जरूरत पड़ने लगे बोर्ड में ऐसी जगह होता था वायरस पर दिखाओ लोगों ने उसके उसको लेकर चीजें बनाना शुरू कर दिया ताकि आप अपने घर के अंदर वायरस को मारकर इस लेवल तक रिसर्च आगे बढ़ते चला गया उनकी बात देखो बनी रहती है अगर कॉल नहीं आता तो को बैकस्ट्रीट के सबसे पहले किस मिलती थी हजारों थे कि आप देखोगे ना ही के पास पहले जाते थे तो सलून में जाते थे तो कपड़ा लगाते थे वह फिर वह बाल काटता था लेकिन इन लोगों को आवश्यकता पड़ी तो इस तरीके का विस्तार होने लगा मिस्टर का मतलब क्या होता है की चीजें भेजते हैं लेकिन मुझे एप्लीकेशन लिखने के लिए ऐसा लगा सकता हूं कि कहा जा सकता है इस तरीके इसका यह मतलब आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है और यह हमेशा होता रहता आवश्यक
Aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai is kathan ka kya matalab hai aisa kyon kaha jaata hai simpal said mein jo bhee post aaya to lok daun hua aur usake baad aap dekhie kitane taip kee cheejen jo apanee laiph mein pahale logon ne banae gae sabhee log ko banaane lage to ab jaroorat padane lage bord mein aisee jagah hota tha vaayaras par dikhao logon ne usake usako lekar cheejen banaana shuroo kar diya taaki aap apane ghar ke andar vaayaras ko maarakar is leval tak risarch aage badhate chala gaya unakee baat dekho banee rahatee hai agar kol nahin aata to ko baikastreet ke sabase pahale kis milatee thee hajaaron the ki aap dekhoge na hee ke paas pahale jaate the to saloon mein jaate the to kapada lagaate the vah phir vah baal kaatata tha lekin in logon ko aavashyakata padee to is tareeke ka vistaar hone laga mistar ka matalab kya hota hai kee cheejen bhejate hain lekin mujhe epleekeshan likhane ke lie aisa laga sakata hoon ki kaha ja sakata hai is tareeke isaka yah matalab aavashyakata hee aavishkaar kee jananee hai aur yah hamesha hota rahata aavashyak

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है
URL copied to clipboard