#undefined

bolkar speaker

इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?

In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:14
आई लव यू जानू आज आपका सवाल है कि इन दिनों महिलाओं में इनसाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण हैं तो देखिए इंजाइटी होता क्या जाती जब हम किसी चीज के बारे में डरते हैं आपसे बहुत ज्यादा फ्रेंड में है किसी चीज को लेकर बहुत ज्यादा सोच रहे हैं वही कहते हैं तो महिलाओं की बात करें तो मेरी सबसे मुझे लगता है कि ज्यादा से ज्यादा पुरुषों को यह सब चीज होती है क्योंकि उन्हें मतलब बहुत प्रकार का टेंशन होता है कि घर में कैसे पैसे लेना है क्या कैसे कमाना है क्या से घर चलाना है और महिलाओं की बात करें तो अभी फिलाल की बात करे तुझे देखिए लॉक डाउन हो गया इतने सारे पहला तो लॉक डाउन हो गया घर कैसे चलाना है तो पैसे नहीं है तुझे इतना हस्बैंड को प्रॉब्लम हो रही उनको फिर उसके बाद उनको इतना काम काज रहता है कि वह मतलब रेस्ट नहीं कर पाती अगर आप बाहर जाते हैं ऑफिस में आप बैठकर काम करते तो आपका एक लिमिटेड टाइम होता है कि मैं अपने से आपको काम करना लेकिन आई महिलाओं की बात करें तो उनके लिए कोई टाइम नहीं होता वह दिनभर मतलब काम करती रहती है तो बिना बिना रेस्ट के काम करना यह भी कैन राइट एस्से हो सकता है उसके बाद उसे क्राइम हो रहा है जितना मतलब सुनते हैं मैं यहां तक कि जो हमारे देश है वहां पर महिला बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है इस बारे में लाइंस इतने सारे न्यूज़ देख ले तुझे इसकी वजह से ऐसा लगता है कि मतलब आप बाहर जाना या फिर कहीं दूर जाना है मतलब बिल्कुल भी सही नहीं है तो किस वजह से भी स्ट्रेस और अब टेंशन होता है कि की जा रही है फिर कैसे के मदद के लिए निकल रहे हैं या फिर अपनी दोस्त अगर आना जाना कर रहे हैं कोई भी काम कर रहे हैं तो किस वजह से टेंशन होता है अपने भाई का ध्यान नहीं रखती है कामकाज अपने बिजी शेड्यूल के वजह से तो जिसकी वजह से नहीं होता है तो 18 महीने की जीवन में कोई मुश्किल है इसकी वजह से अगर आप अपने हेल्थ का ध्यान नहीं देते हैं आप किसी चीज की वजह से आप डर रहे हैं वह और के साथ भी क्यों ना हुआ जैसे क्राइम में भी हमारे साथ में पर किसी और के साथ है तो वह जिसको देख कर भी हम डर रहे हैं सोच रहे हैं इस वजह से इंसान को एंड राइटिंग होता है वही सब कारण है जिसकी वजह से हुई मेहंदी देखने के लिए मिल रहा है

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:12
न्यू महीनों में जयंती की समस्या बढ़ने के क्या कारण है मौसम का परिवर्तन ठंड का और गर्मी का सामना जमुना 3 का तापमान बताइए ना पाता और राष्ट्रीय का तापमान जो है वह सामान्य से ज्यादा होना तो ठंडी गर्म आज के साथ-साथ जो शारीरिक तापमान है उससे हमारे रूम टेंपरेचर का और हमारे प्राकृतिक तापमान के साथ साथ भोजन की विभिन्न प्रकार की सिचुएशन है वह भी इससे सीजन सेंड अ सूटेबल नहीं बैठती क्योंकि जो वक्त के अनुसार इंसान को भोजन और भोजन के स्वरूप और तत्वों का सेवन करना चाहिए वह पोषण पाया महीना ही नहीं कर पाती है इसलिए कुछ सारी रूप से कुछ वातावरण के रूप से कुछ पर्यावरण के रूप से इस समस्या का पढ़ने का एक मुख्य कारण है
Nyoo maheenon mein jayantee kee samasya badhane ke kya kaaran hai mausam ka parivartan thand ka aur garmee ka saamana jamuna 3 ka taapamaan bataie na paata aur raashtreey ka taapamaan jo hai vah saamaany se jyaada hona to thandee garm aaj ke saath-saath jo shaareerik taapamaan hai usase hamaare room temparechar ka aur hamaare praakrtik taapamaan ke saath saath bhojan kee vibhinn prakaar kee sichueshan hai vah bhee isase seejan send a sootebal nahin baithatee kyonki jo vakt ke anusaar insaan ko bhojan aur bhojan ke svaroop aur tatvon ka sevan karana chaahie vah poshan paaya maheena hee nahin kar paatee hai isalie kuchh saaree roop se kuchh vaataavaran ke roop se kuchh paryaavaran ke roop se is samasya ka padhane ka ek mukhy kaaran hai

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:02
इन राइटिंग की समस्या आज कल 3:00 के अंदर जो है हम देख रहे हैं बढ़ रही है और इन राइटिंग भी कई तरह की होती है उसमें सी वेराइटी भी होती है कम दादा काफी तरह की रहती है और अलग-अलग उसके जीजा हो सकते हैं खासतौर पर महिलाओं पर महिलाओं में हम देखने आजकल बढ़ रही है इंक्वायरी तो सबसे पहले तो मुझे ऐसा लगता है कि सोशल मीडिया का जो पर एक संजय की सभी की जिंदगी सभी के नजरों में आ गई है और एक अच्छा प्रदर्शन करना खुद को नंबर साबित करना और सब कामों में दक्ष होना यह बहुत एक प्लेटफार्म एक अपेक्षा हो गई है अगर कोई व्यक्ति उसको खरा नहीं उतरता है तो उसको भी बुरा लगता है और लोग भी उसको कॉल कर दें इसके अलावा हम देखते हैं कि मॉम चेंज होते हैं मगर शादी कब की बात करें तो भी जल्दी जल्दी घबरा जाता है इंसान उसमें लाइट होने लगती है तो महिलाओं में जैसे हम देखते हैं कि 45 वर्ष के फोन मॉडल चेंज हो जाए तो वह भी हैकिंग साइटिका कारण हो सकते हैं दूसरा की जो फैमिली के अंदर ही यह प्रॉब्लम है पहले से तो हो सकता है इस वजह से उनको हो रही हूं यह दिक्कत कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारे परिवेश में कोई स्ट्रेस स्ट्रेस मतलब ऐसी चीजें जो हमें कोई ऐसी घटनाएं हो सकती हैं कोई ऐसे लोग हो सकते हैं जिनसे हम को एक बेटी होती है हम टेंशन में आ जाते हैं परेशान हो जाते हैं तो कभी-कभी रिश्तो के अंदर हमें कई ऐसे अभी उसका सामना करना पड़ता है न्यूजमीटर सेक्सुअल हो या फिर फिजिकल हो ऐसा जरूरी नहीं है इमोशनल एब्यूज भी होता है किसी को नहीं क्लिक करना उसकी बात ना सुनना उस की अपेक्षा करना आवेला करना इस सेविंग लाइट को और अगर कोई ऑटोमेटिक इवेंट हुआ है कोई सेक्सुअल एसॉल्ट है या कोई हेल्थ प्रॉब्लम हुई है कोई इलनेस है जो महिला को है या अगर हम देखते हैं कि एनीमेशन का केस है तो बाय आईटी अपने आप साथ में नहीं रहती हैं बहुत सारे डिसऑर्डर्स के साथ बहुत सारी बीमारियों के साथ भी जुड़ी हुई है हमारे आसपास के लोगों के साथ भी जुड़ी हुई है कि वह हमसे कैसा व्यवहार करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण है जो मुझे लगता है कि इंसान खुद को क्या समझता है कुछ के बारे में क्या उसे सोचता उसकी सेल्फी में जो है वह भी बहुत बड़ा कारण है मेरे हिसाब से जो इन राइटिंग बढ़ रही है आज राइटिंग जिस कांटेक्ट में आ जा रहे हैं आप को यही है कि इतनी ज्यादा अपेक्षाएं हैं महिलाओं से आजकल कि वह गांधी कार्यभार भी संभाल ले अपने पूरे व्यक्तित्व को भी नहीं खा रहे हैं कि वह कभी कभी उसको मुझे पैरामीटर को मीट नहीं कर पाई थी जिस वजह से एक बेटी होती है और कंपटीशन करना कांस्टेंट कंपेयर करते रहना खुद को दूसरों के साथ यह भी एक कारण है एक बेटी का तो कारण कुछ भी हो सकते हैं हम अगर अच्छी सोच रखते हैं अपना लाइफ स्टाइल रखते हैं तो हम बहुत हद तक एक्साइटेड धन्यवाद
In raiting kee samasya aaj kal 3:00 ke andar jo hai ham dekh rahe hain badh rahee hai aur in raiting bhee kaee tarah kee hotee hai usamen see veraitee bhee hotee hai kam daada kaaphee tarah kee rahatee hai aur alag-alag usake jeeja ho sakate hain khaasataur par mahilaon par mahilaon mein ham dekhane aajakal badh rahee hai inkvaayaree to sabase pahale to mujhe aisa lagata hai ki soshal meediya ka jo par ek sanjay kee sabhee kee jindagee sabhee ke najaron mein aa gaee hai aur ek achchha pradarshan karana khud ko nambar saabit karana aur sab kaamon mein daksh hona yah bahut ek pletaphaarm ek apeksha ho gaee hai agar koee vyakti usako khara nahin utarata hai to usako bhee bura lagata hai aur log bhee usako kol kar den isake alaava ham dekhate hain ki mom chenj hote hain magar shaadee kab kee baat karen to bhee jaldee jaldee ghabara jaata hai insaan usamen lait hone lagatee hai to mahilaon mein jaise ham dekhate hain ki 45 varsh ke phon modal chenj ho jae to vah bhee haiking saitika kaaran ho sakate hain doosara kee jo phaimilee ke andar hee yah problam hai pahale se to ho sakata hai is vajah se unako ho rahee hoon yah dikkat kabhee-kabhee aisa hota hai ki hamaare parivesh mein koee stres stres matalab aisee cheejen jo hamen koee aisee ghatanaen ho sakatee hain koee aise log ho sakate hain jinase ham ko ek betee hotee hai ham tenshan mein aa jaate hain pareshaan ho jaate hain to kabhee-kabhee rishto ke andar hamen kaee aise abhee usaka saamana karana padata hai nyoojameetar seksual ho ya phir phijikal ho aisa jarooree nahin hai imoshanal ebyooj bhee hota hai kisee ko nahin klik karana usakee baat na sunana us kee apeksha karana aavela karana is seving lait ko aur agar koee otometik ivent hua hai koee seksual esolt hai ya koee helth problam huee hai koee ilanes hai jo mahila ko hai ya agar ham dekhate hain ki eneemeshan ka kes hai to baay aaeetee apane aap saath mein nahin rahatee hain bahut saare disordars ke saath bahut saaree beemaariyon ke saath bhee judee huee hai hamaare aasapaas ke logon ke saath bhee judee huee hai ki vah hamase kaisa vyavahaar karate hain aur sabase mahatvapoorn hai jo mujhe lagata hai ki insaan khud ko kya samajhata hai kuchh ke baare mein kya use sochata usakee selphee mein jo hai vah bhee bahut bada kaaran hai mere hisaab se jo in raiting badh rahee hai aaj raiting jis kaantekt mein aa ja rahe hain aap ko yahee hai ki itanee jyaada apekshaen hain mahilaon se aajakal ki vah gaandhee kaaryabhaar bhee sambhaal le apane poore vyaktitv ko bhee nahin kha rahe hain ki vah kabhee kabhee usako mujhe pairaameetar ko meet nahin kar paee thee jis vajah se ek betee hotee hai aur kampateeshan karana kaanstent kampeyar karate rahana khud ko doosaron ke saath yah bhee ek kaaran hai ek betee ka to kaaran kuchh bhee ho sakate hain ham agar achchhee soch rakhate hain apana laiph stail rakhate hain to ham bahut had tak eksaited dhanyavaad

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:16
हेलो अभिभावक शिक्षक होंगे प्रश्न पूछा गया है इन दिनों में महिलाओं की एनसीआरटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है लेकिन जैसा कि मेरी सच के अनुसार देश में 3.3 महिलाएं सिटी का शिकार होते हैं वहीं पुरुषों में स्पर्श सर 25 आर्म्स इसलिए यदि दुखी रहना हमेशा बुरा महसूस करना हर काम में रुचि ना बनना नींद ना आना लंबे समय तक अपने जीवन में यह डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं दुनिया भर में लगभग 35 करोड लोग जो है डिप्रेशन जाने के अनुसार किसे जो है परेशान है इस बीमारी का अन्य बीमारी की तरह इलाज जरूर लें एक अध्ययन में तो यह भी बात सामने आई कि पुरुषों की तुलना में अवसाद का शिकार ज्यादा होती है लेकिन इसके बारे में जो है वह बात नहीं कर पाते हैं शहर के मनोचिकित्सक भी कहते हैं कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में दोगुना डिप्रेशन चलती है और 3 गुना महिलाओं को आत्मघाती विचार तक आते हैं सरकार सामाजिक माना जाता है साथ में महिलाओं के हार्मोन में बदलाव भी अवसाद का कारण बनते हैं सच्चे जन की कमी ही सबसे बड़ी जिम्मेदार हैं क्योंकि मनुष्य के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन के कारण होता है इसी से दिमाग की खुशी की तरंगे आ जाती जाती है महिलाओं में यह होने वाले हार्मोन बदलाव या पीरियड के दौरान हार्मोन शरीर में कम होने लगता है इस समय महिलाओं के साथ जाने की पंचायती जो है ज्यादा होती है इस पर लेकिन लोगों का ध्यान नहीं जाता ना ही मूड स्विंग पर लोगों ने समझ पाते हैं इसलिए महिलाएं खुद इस नहीं कहती क्योंकि हमारे समाज में महिलाओं अपने बारे में बात करने की इजाजत नहीं है ज्यादातर गैर बराबरी में होता है डिप्रेशन डिप्रेशन का दूसरा सबसे बड़ा कारण जो है कि समाज में महिलाओं को बराबरी का अधिकार नहीं है इसलिए वह खुलकर अपना जीवन नहीं जी पाते भेज यात्रा आर्थिक तौर पर भी सक्षम नहीं होते लिया और अपने फैसले लेने का अधिकार भी उनके पास नहीं होता ही नहीं करने से हमेशा डिप्रेशन का शिकार होती हैं देश में 3.9 सीसी की महिला का शिकार होते हैं वहीं पुरुषों में इसका स्तर तू कौन सा वंशी सीरियल दुखी रहना हमेशा बुरा महसूस करना हर काम में रुचि ना बनना नींद ना आना यह डिप्रेशन के लक्षण है दुनिया भर में कम से कम जैसे पहले बस 35 करोड लोग जो है इसका शिकार बन चुके हैं तो यही कुछ मुख्य कारण है जिनकी वजह से यह महिलाओं में इसकी जगह प्रॉब्लम बढ़ती जा रही है आशा करता हूं आपको हमसे जो पसंद आए तो लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo abhibhaavak shikshak honge prashn poochha gaya hai in dinon mein mahilaon kee enaseeaaratee kee samasya badhane ke kya kaaran hai lekin jaisa ki meree sach ke anusaar desh mein 3.3 mahilaen sitee ka shikaar hote hain vaheen purushon mein sparsh sar 25 aarms isalie yadi dukhee rahana hamesha bura mahasoos karana har kaam mein ruchi na banana neend na aana lambe samay tak apane jeevan mein yah dipreshan ke lakshan ho sakate hain duniya bhar mein lagabhag 35 karod log jo hai dipreshan jaane ke anusaar kise jo hai pareshaan hai is beemaaree ka any beemaaree kee tarah ilaaj jaroor len ek adhyayan mein to yah bhee baat saamane aaee ki purushon kee tulana mein avasaad ka shikaar jyaada hotee hai lekin isake baare mein jo hai vah baat nahin kar paate hain shahar ke manochikitsak bhee kahate hain ki mahilaen purushon kee tulana mein doguna dipreshan chalatee hai aur 3 guna mahilaon ko aatmaghaatee vichaar tak aate hain sarakaar saamaajik maana jaata hai saath mein mahilaon ke haarmon mein badalaav bhee avasaad ka kaaran banate hain sachche jan kee kamee hee sabase badee jimmedaar hain kyonki manushy ke shareer mein estrojan haarmon ke kaaran hota hai isee se dimaag kee khushee kee tarange aa jaatee jaatee hai mahilaon mein yah hone vaale haarmon badalaav ya peeriyad ke dauraan haarmon shareer mein kam hone lagata hai is samay mahilaon ke saath jaane kee panchaayatee jo hai jyaada hotee hai is par lekin logon ka dhyaan nahin jaata na hee mood sving par logon ne samajh paate hain isalie mahilaen khud is nahin kahatee kyonki hamaare samaaj mein mahilaon apane baare mein baat karane kee ijaajat nahin hai jyaadaatar gair baraabaree mein hota hai dipreshan dipreshan ka doosara sabase bada kaaran jo hai ki samaaj mein mahilaon ko baraabaree ka adhikaar nahin hai isalie vah khulakar apana jeevan nahin jee paate bhej yaatra aarthik taur par bhee saksham nahin hote liya aur apane phaisale lene ka adhikaar bhee unake paas nahin hota hee nahin karane se hamesha dipreshan ka shikaar hotee hain desh mein 3.9 seesee kee mahila ka shikaar hote hain vaheen purushon mein isaka star too kaun sa vanshee seeriyal dukhee rahana hamesha bura mahasoos karana har kaam mein ruchi na banana neend na aana yah dipreshan ke lakshan hai duniya bhar mein kam se kam jaise pahale bas 35 karod log jo hai isaka shikaar ban chuke hain to yahee kuchh mukhy kaaran hai jinakee vajah se yah mahilaon mein isakee jagah problam badhatee ja rahee hai aasha karata hoon aapako hamase jo pasand aae to laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:27
इन दिनों में महिलाओं में एंजायटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है कौन सा दिन है उस दिन का जिक्र तो करो दिन तो हमेशा ऐसी होती हिंदी नाइट का समय होता है वही का समय ज्यादा होता है नाइट को कम होता लेकिन अब उस दिन हो तो बताइए दोस्त और समस्या के कारण तभी तो तुम्हें कौन से दिन की बात करूं सर्दी का गर्मी का बरसात का था तो मासिक धर्म की बात करते हैं जो महिलाओं का 1 महीने में एक बार उनको इस अवस्था से ही रखना पड़ता है इसको हम मासिक चक्र बोलते हैं निश्चित तौर पर महिलाओं का यूज़ चक्र 10 साल से शुरू होकर के 40 से 45 सालों तक ही चलता रहा और वीर चक्र निर्धारित समय में चलता है तो निश्चित तौर पर इससे उनका अपने आप को एक महिला का तंत्र जाने का पति को शांत और दैनिक कार्यों की महिलाएं अधिकतर लापरवाही करते हैं अपने खान ब्रेकफास्ट सही समिति नहीं करती एक्सरसाइज योगा के लिए बोला जाए तो इसमें खानपान की सबसे ज्यादा दूसरा नियम इतना होना अनियमितता पाई जाना खून की कमी होगा बिहार में परिवर्तन पाया जाता है वह सारी चीजें सिर्फ महिलाओं का खानपान महिलाओं का एक्सरसाइज योगा बनाकर और मानसिक स्थिति में अपने आप को संतुलित ना करें और इसके अंतिम है कि शारीरिक संबंध भी खुलकर के ना बना पाना है तो इसके लिए मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं यदि आप अपने दिनचर्या को बदलना महिलाएं किचन में काम करती सब का खाना बनाती है लेकिन सबसे लास्ट में ब्रेकफास्ट करते हैं या कभी-कभी चाय के घर पर पूरा दिन निकाल लेते हैं दोपहर में 12:01 बजे खाते हैं करती मेरा समय फास्ट हमेशा महिलाओं को भी सुबह 8:00 बजे से पहले लंच एक से डेढ़ के बीच में और एडमिन का 8:00 बजे सुबह जरूर प्राणायाम करें योगा करें कुछ नहीं हो तो रूपचंद करें बॉडी के अंदर स्थिरता रहेगी और सही होगा चाहते हो तो मैंने बता दो और बाकी 1 दिनों का जिक्र करें चाइल्डबर्थ के लिए बच्चे जन्म के लिए उसमें प्रॉब्लम हो रही है या सेक्सुअल प्रॉब्लम हो रही है उनको जवाब देते तो शायद जवाब देना
In dinon mein mahilaon mein enjaayatee kee samasya badhane ke kya kaaran hai kaun sa din hai us din ka jikr to karo din to hamesha aisee hotee hindee nait ka samay hota hai vahee ka samay jyaada hota hai nait ko kam hota lekin ab us din ho to bataie dost aur samasya ke kaaran tabhee to tumhen kaun se din kee baat karoon sardee ka garmee ka barasaat ka tha to maasik dharm kee baat karate hain jo mahilaon ka 1 maheene mein ek baar unako is avastha se hee rakhana padata hai isako ham maasik chakr bolate hain nishchit taur par mahilaon ka yooz chakr 10 saal se shuroo hokar ke 40 se 45 saalon tak hee chalata raha aur veer chakr nirdhaarit samay mein chalata hai to nishchit taur par isase unaka apane aap ko ek mahila ka tantr jaane ka pati ko shaant aur dainik kaaryon kee mahilaen adhikatar laaparavaahee karate hain apane khaan brekaphaast sahee samiti nahin karatee eksarasaij yoga ke lie bola jae to isamen khaanapaan kee sabase jyaada doosara niyam itana hona aniyamitata paee jaana khoon kee kamee hoga bihaar mein parivartan paaya jaata hai vah saaree cheejen sirph mahilaon ka khaanapaan mahilaon ka eksarasaij yoga banaakar aur maanasik sthiti mein apane aap ko santulit na karen aur isake antim hai ki shaareerik sambandh bhee khulakar ke na bana paana hai to isake lie main sirph itana kahana chaahata hoon yadi aap apane dinacharya ko badalana mahilaen kichan mein kaam karatee sab ka khaana banaatee hai lekin sabase laast mein brekaphaast karate hain ya kabhee-kabhee chaay ke ghar par poora din nikaal lete hain dopahar mein 12:01 baje khaate hain karatee mera samay phaast hamesha mahilaon ko bhee subah 8:00 baje se pahale lanch ek se dedh ke beech mein aur edamin ka 8:00 baje subah jaroor praanaayaam karen yoga karen kuchh nahin ho to roopachand karen bodee ke andar sthirata rahegee aur sahee hoga chaahate ho to mainne bata do aur baakee 1 dinon ka jikr karen chaildabarth ke lie bachche janm ke lie usamen problam ho rahee hai ya seksual problam ho rahee hai unako javaab dete to shaayad javaab dena

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
0:35
कुछ औरतों को इतना ज्यादा काम हो जाता है इतना मेहनत करती है सारा दिन रात जिसकी वजह से यह सब चीजें हो जाती है लेकिन कुछ मैंने ऐसी है जो वह यह भी टेंशन होता है कि मेरा इंस्टाग्राम पर फ्लावर्स नहीं बढ़ रहे हैं फेसबुक पर लोग मुझे फॉलो ने कहने 5000 फ्रेंड तो फुल हो गया बट आप मुझे फॉलो करना कि जरूरत है नहीं कर पा रहा है तो ऐसे-ऐसे चीजों भी कोई यूट्यूब लग रहा था लेकिन चोर बन गई उसका कुछ भी मतलब ऐसी चीज है तो यह सब जगह की वजह से जो है टेंशन में जांच करेंगे ना में महिलाओं का बढ़ने लगे तमाम सोशल मीडिया के कारण दे
Kuchh auraton ko itana jyaada kaam ho jaata hai itana mehanat karatee hai saara din raat jisakee vajah se yah sab cheejen ho jaatee hai lekin kuchh mainne aisee hai jo vah yah bhee tenshan hota hai ki mera instaagraam par phlaavars nahin badh rahe hain phesabuk par log mujhe pholo ne kahane 5000 phrend to phul ho gaya bat aap mujhe pholo karana ki jaroorat hai nahin kar pa raha hai to aise-aise cheejon bhee koee yootyoob lag raha tha lekin chor ban gaee usaka kuchh bhee matalab aisee cheej hai to yah sab jagah kee vajah se jo hai tenshan mein jaanch karenge na mein mahilaon ka badhane lage tamaam soshal meediya ke kaaran de

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:13
दोस्तों आपका प्रश्न है कि इन दिनों में महिलाओं में एक जाति की समस्या बढ़ने के क्या कारण तो सही जान लेते हैं कि क्या होता है कि एक मानसिक रोग है जिसमें रोगी को बचाने के साथ नकारात्मक विचार चिंता को डर का आभास होता है जिसे अचानक हाथ में पसीना आना आदि अगर समय पर इसका सही इलाज न किया जाए तो यह बहुत खतरनाक हो सकता है और बाकी का कारण भी बन सकता है आगे चलकर रोकना है हित भी कर सकता है तो हमारे रोजमर्रा के चीन में दिनचर्या में कुछ ऐसी चिंताएं सामान्य ऐसी होती है जो मान्यता एंजायटी और डिप्रेशन का कारण बनती है कम कभी इसके नतीजे जो है वह भयंकर भी हो सके जैसे दोस्त तो नौकरी हां और परीक्षा से पहले की वैसे ही बहुत ही ज्यादा कुछ युवा लोग बैठे नहीं रखते हैं और जैसे ही बिलों का भुगतान किया जाता है किस देश में पानी की तो चिंता होती और ऐसे चिंता बहुत ही खराब मानी जाती है यह जो हर किसी को ऋण चुकता करना है या किस्ते चुकाना या बिलों का भुगतान करना कैस्पियन आया लोगों के बीच खड़े होने की घबराहट या चिंतामन आधार कार्ड खो गया वैसे ऊंचाई आवारा कुत्ते से कट जाने का डंडा का डंडा किसी के निधन होने वाला दुख या चिंता होने का कारण बन जाता है और दूसरी बढ़ने के कारण है और भी घटनाएं हो सकती है जो हमेशा तनाव में रखती हो जैसे कि कोई कार्यालय का तनाव गरीबी की मृत्यु कदम अपनी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप या बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप इत्यादि अन्य भी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती है जैसे किसी भी प्रकार का रोग नमाना रोड शुक्रिया हृदय संबंधी रोग भी एंजायटी डिसऑर्डर हो सकता है तो लोग तनाव में है वह भी इसकी चपेट में आ सकते हैं और दोस्तों नशे का सेवन भी हो सकता है दोस्तों यह समस्या को बढ़ाने का यह बहुत ही ज्यादा काम कारण है जैसे ही नशे का असर खत्म होगा समस्या पहले से ज्यादा महसूस होने लगती तो तू तो इंजॉय ही डिसऑर्डर से निजात पाया जा सकता है लेकिन इसे बिल्कुल भी हल्के में नहीं लेना चाहिए अगर कोई लक्षण नजर आए तो फौरन डॉक्टर की सलाह पर इलाज के लिए किसी प्रोफेशनल डॉक्टर को दिखाएं स्पेशल ड्राइंग साइटिका का इलाज दवा कंपनियां मिले-जुले इस्तेमाल से बेहद आसानी से किया जा सकता है दोस्तों इस को करते हुए रोगी को कभी भी अकेला ना छोड़ा छोड़ी स्वस्थ आहार लें और भोजन करने का एक थैले बनाए संगीत सुनें दोस्तों बयान तो जरूर ही करें प्रतिदिन 30 मिनट कम से कम बयान अवश्य करें सुबह शाम शेयर करने की आदत बनाएं और अपनी दिनचर्या में योग जरूर सर धन्यवाद
Doston aapaka prashn hai ki in dinon mein mahilaon mein ek jaati kee samasya badhane ke kya kaaran to sahee jaan lete hain ki kya hota hai ki ek maanasik rog hai jisamen rogee ko bachaane ke saath nakaaraatmak vichaar chinta ko dar ka aabhaas hota hai jise achaanak haath mein paseena aana aadi agar samay par isaka sahee ilaaj na kiya jae to yah bahut khataranaak ho sakata hai aur baakee ka kaaran bhee ban sakata hai aage chalakar rokana hai hit bhee kar sakata hai to hamaare rojamarra ke cheen mein dinacharya mein kuchh aisee chintaen saamaany aisee hotee hai jo maanyata enjaayatee aur dipreshan ka kaaran banatee hai kam kabhee isake nateeje jo hai vah bhayankar bhee ho sake jaise dost to naukaree haan aur pareeksha se pahale kee vaise hee bahut hee jyaada kuchh yuva log baithe nahin rakhate hain aur jaise hee bilon ka bhugataan kiya jaata hai kis desh mein paanee kee to chinta hotee aur aise chinta bahut hee kharaab maanee jaatee hai yah jo har kisee ko rn chukata karana hai ya kiste chukaana ya bilon ka bhugataan karana kaispiyan aaya logon ke beech khade hone kee ghabaraahat ya chintaaman aadhaar kaard kho gaya vaise oonchaee aavaara kutte se kat jaane ka danda ka danda kisee ke nidhan hone vaala dukh ya chinta hone ka kaaran ban jaata hai aur doosaree badhane ke kaaran hai aur bhee ghatanaen ho sakatee hai jo hamesha tanaav mein rakhatee ho jaise ki koee kaaryaalay ka tanaav gareebee kee mrtyu kadam apanee garlaphrend se brekap ya boyaphrend se brekap ityaadi any bhee kaee svaasthy sambandhee samasyaen ho sakatee hai jaise kisee bhee prakaar ka rog namaana rod shukriya hrday sambandhee rog bhee enjaayatee disordar ho sakata hai to log tanaav mein hai vah bhee isakee chapet mein aa sakate hain aur doston nashe ka sevan bhee ho sakata hai doston yah samasya ko badhaane ka yah bahut hee jyaada kaam kaaran hai jaise hee nashe ka asar khatm hoga samasya pahale se jyaada mahasoos hone lagatee to too to injoy hee disordar se nijaat paaya ja sakata hai lekin ise bilkul bhee halke mein nahin lena chaahie agar koee lakshan najar aae to phauran doktar kee salaah par ilaaj ke lie kisee propheshanal doktar ko dikhaen speshal draing saitika ka ilaaj dava kampaniyaan mile-jule istemaal se behad aasaanee se kiya ja sakata hai doston is ko karate hue rogee ko kabhee bhee akela na chhoda chhodee svasth aahaar len aur bhojan karane ka ek thaile banae sangeet sunen doston bayaan to jaroor hee karen pratidin 30 minat kam se kam bayaan avashy karen subah shaam sheyar karane kee aadat banaen aur apanee dinacharya mein yog jaroor sar dhanyavaad

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
ऑल फ्रेंड स्वागत है आपका नाम पर देश में इन दिनों में महिलाओं में मिट्टी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है तो फ्रेंड दिनों में मिलोगे के बढ़ने के कारण तनाव भी है और लॉक डाउन की वजह से महिलाओं में डबल बोझ पड़ गया उन ऑफिस में भी काम करती हूं घर का भी काम करती है और पुरुष भी महिलाओं को बहुत तनाव देते हैं घर में रहकर भी मांगते नहीं दिया और मैंने तो अपने आप में थोड़ा भी टाइम नहीं मिल पाता इसलिए क्योंकि ज्यादा बढ़ गई है धन्यवाद

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
3:36
आपका क्वेश्चन इन दिनों में महिलाओं में इनसाइटी की समस्या बढ़ने का क्या कारण है तो देखिए इन दिनों में से मैं समझती हूं आपका मतलब है जो गुरु नकल चल रहा है इसमें जब फैमिली एंड डोमेन है घर के जो मेल है वह सभी यही घर पर हैं ऑनलाइन वर्क कर रहा है तू महिलाओं के इनसाइटी जो बढ़ रही है तो देखी ऑफिस ईमेल किया और उन्हें यह शो करना रहता है कि हम तो काम करते हैं पैसा कमाते हैं सीमेंट परसेंट मिल की 13 की होती है डीएवी अवस्था इस पर कोई शक है तो वह हाथों हाथों में हर चीज चाहिए अब उन्हें लगता है कि हम ऑफिस वर्क कर रहे हैं मतलब हम ही सब काम कर रहे जबकि महिलाओं में भी महिलाओं का अपना ऑफिस पर भी रहता है और उन्हें घर का भी पूरा काम करना पड़ता है तो इसके लिए इनसाइट इतनी बढ़ रही है उसके बाद फिर महिलाओं की अपनी भी मंत्री प्रॉब्लम है या जो भी अलग चीज है तू सबकी से भी रहती है 90% मिल चुके हैं उन्हें हैबिट होती है कि अभी चाहिए तुरंत चाहिए फिर वह उनको लेक्चर देने लगेंगे देर होगी तो यहां कमियां निकालने लगेंगे तो यह वाली चीज को समझना चाहिए कि हम अकेले मस्ती करते हमारे घर की जो लेडीस हैं वह भी वर्क करती हैं एंड रिस्पेक्ट करनी चाहिए उनकी उन्हें आराम करने का थोड़ा समय देना चाहिए सबके घर में ही होता है कि फीमेल काम कर रही ना तुम को आराम करने नहीं दिया जाता है एंड उनको थोड़ा रेस्ट करने नहीं दिया जाता है होता क्या है फीमेल सब अपने-अपने काम करती रहती है एंड उतनी देर में जेंट्स का रेस्ट भी हो जाता है सपोज आपने लंच दे दिया था पीके वह सो गए आराम कर लिया जब तक महिलाओं का काम चल रहा है और फिर उनका टाइम हो जाएगा चाय का उठ जाएंगे वह यह फैक्ट है होता है घरों में तो उठ जाएंगे तो महिलाओं को तलाश करने का टाइम नहीं मिला ना पुरुषों ने राजनीति कर लिया और अपना काम कर लिया बच्चों का भी यही रहता है कि मम्मा चाहिए आप यह चाहिए वह चाहिए तो सब को यह चाहिए सोचना चाहिए कि उन्हें भी आराम करने का टाइम दिया जाए कुछ काम वह स्वयं अपने हाथों से करें यह चीज इतनी सिंपल नहीं है जितनी दिख रही है यह काफी सारी शुभ होते हैं हर लेडी को अपनी लाइफ में पेश करना ही पड़ता है लेकिन गलत है ना उन्हें भी अपना आराम करने का अपने शौक पूरे करने का थोड़ा टाइम दिया था तुमको एंजाइटी नहीं होगी लाइट इसीलिए होती क्योंकि एक हद तक इंसान कोई भी चीज को समझ सकता है उससे ज्यादा वह फ्रेंड्स नहीं कर पाता हूं और आप जो भी हैं आप सभी ध्यान रखेंगे कि महिलाओं को पर्याप्त समय दिया जाए उसे प्रेम से बात की जाए और आराम करने का समय दिया जान के काम में थोड़ा बहुत हाथ बटा लिया जाए इसलिए वह खुश हो जाती हो ना और ज्यादा कुछ नहीं चाहिए होता है इसलिए थैंक यू
Aapaka kveshchan in dinon mein mahilaon mein inasaitee kee samasya badhane ka kya kaaran hai to dekhie in dinon mein se main samajhatee hoon aapaka matalab hai jo guru nakal chal raha hai isamen jab phaimilee end domen hai ghar ke jo mel hai vah sabhee yahee ghar par hain onalain vark kar raha hai too mahilaon ke inasaitee jo badh rahee hai to dekhee ophis eemel kiya aur unhen yah sho karana rahata hai ki ham to kaam karate hain paisa kamaate hain seement parasent mil kee 13 kee hotee hai deeevee avastha is par koee shak hai to vah haathon haathon mein har cheej chaahie ab unhen lagata hai ki ham ophis vark kar rahe hain matalab ham hee sab kaam kar rahe jabaki mahilaon mein bhee mahilaon ka apana ophis par bhee rahata hai aur unhen ghar ka bhee poora kaam karana padata hai to isake lie inasait itanee badh rahee hai usake baad phir mahilaon kee apanee bhee mantree problam hai ya jo bhee alag cheej hai too sabakee se bhee rahatee hai 90% mil chuke hain unhen haibit hotee hai ki abhee chaahie turant chaahie phir vah unako lekchar dene lagenge der hogee to yahaan kamiyaan nikaalane lagenge to yah vaalee cheej ko samajhana chaahie ki ham akele mastee karate hamaare ghar kee jo ledees hain vah bhee vark karatee hain end rispekt karanee chaahie unakee unhen aaraam karane ka thoda samay dena chaahie sabake ghar mein hee hota hai ki pheemel kaam kar rahee na tum ko aaraam karane nahin diya jaata hai end unako thoda rest karane nahin diya jaata hai hota kya hai pheemel sab apane-apane kaam karatee rahatee hai end utanee der mein jents ka rest bhee ho jaata hai sapoj aapane lanch de diya tha peeke vah so gae aaraam kar liya jab tak mahilaon ka kaam chal raha hai aur phir unaka taim ho jaega chaay ka uth jaenge vah yah phaikt hai hota hai gharon mein to uth jaenge to mahilaon ko talaash karane ka taim nahin mila na purushon ne raajaneeti kar liya aur apana kaam kar liya bachchon ka bhee yahee rahata hai ki mamma chaahie aap yah chaahie vah chaahie to sab ko yah chaahie sochana chaahie ki unhen bhee aaraam karane ka taim diya jae kuchh kaam vah svayan apane haathon se karen yah cheej itanee simpal nahin hai jitanee dikh rahee hai yah kaaphee saaree shubh hote hain har ledee ko apanee laiph mein pesh karana hee padata hai lekin galat hai na unhen bhee apana aaraam karane ka apane shauk poore karane ka thoda taim diya tha tumako enjaitee nahin hogee lait iseelie hotee kyonki ek had tak insaan koee bhee cheej ko samajh sakata hai usase jyaada vah phrends nahin kar paata hoon aur aap jo bhee hain aap sabhee dhyaan rakhenge ki mahilaon ko paryaapt samay diya jae use prem se baat kee jae aur aaraam karane ka samay diya jaan ke kaam mein thoda bahut haath bata liya jae isalie vah khush ho jaatee ho na aur jyaada kuchh nahin chaahie hota hai isalie thaink yoo

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Dr Vipul Bulandi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr जी का जवाब
Ayurvedic doctor
0:42

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Asif Asif Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Asif जी का जवाब
Unknown
0:07

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है,Anxiety को न करें इग्नोर, एंग्जाइटी डिसऑर्डर के कारण
URL copied to clipboard