#धर्म और ज्योतिषी

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:14
सीता जी का अग्नि परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का परित्याग क्यों कर दिया था जब रावण के दरबार से सीता जी को भगवान राम लेकर आए तो उन्होंने सीता जी को शिकार करने से पहले उनके समक्ष प्रस्ताव रखा किस अग्नि में से गुजर कर आपको आना है और अपनी पवित्रता का परिचय देना है राम की शब्द सीता जी के हीरे को बहुत विचलित कर के और माता सीता ने अग्नि की में से अपने आप को निकाल कर अपनी पर चर्चा कई परिचय नहीं दिया एक नारी समाज का पुरुष के ऊपर क्या प्रभुत्व क्या होता है उसका उन्होंने परिचय दिया लेकिन जब सीता जी को लेकर राम अयोध्या आए तो अयोध्या के दौरान दुनिया भर की चर्चाएं कुछ नालायक लोग कुछ अज्ञानी लोग कर रहे थे और कब प्रणाम यह था कि एक धोबी ने सीता जी को पति अपनी पत्नी से कहा मैं राम नहीं है जो प्रखर चाय पर पुरुष के घर से आई श्री को स्वीकार करें एक रात के लिए गोविंद जो कहीं रिश्तेदार में चली गई थी लेकिन फिर भी नहीं उसको पाप और फिल्म की दृष्टि से देखते हुए उसके प्रश्न उत्तर भाव का प्रयोग किया और प्रणाम बेटा यह बात जब राम के कानों तक परिवार वासियों के माध्यम से उन्होंने चीता का क्या करना उचित समझा कहते हैं कि वह मर्यादा पुरुषोत्तम के तत्वों ने इस बात पर गौर नहीं किया कि सीता का परित्याग करके क्या कहना चाहते क्या साबित करना चाहते हैं
Seeta jee ka agni pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka parityaag kyon kar diya tha jab raavan ke darabaar se seeta jee ko bhagavaan raam lekar aae to unhonne seeta jee ko shikaar karane se pahale unake samaksh prastaav rakha kis agni mein se gujar kar aapako aana hai aur apanee pavitrata ka parichay dena hai raam kee shabd seeta jee ke heere ko bahut vichalit kar ke aur maata seeta ne agni kee mein se apane aap ko nikaal kar apanee par charcha kaee parichay nahin diya ek naaree samaaj ka purush ke oopar kya prabhutv kya hota hai usaka unhonne parichay diya lekin jab seeta jee ko lekar raam ayodhya aae to ayodhya ke dauraan duniya bhar kee charchaen kuchh naalaayak log kuchh agyaanee log kar rahe the aur kab pranaam yah tha ki ek dhobee ne seeta jee ko pati apanee patnee se kaha main raam nahin hai jo prakhar chaay par purush ke ghar se aaee shree ko sveekaar karen ek raat ke lie govind jo kaheen rishtedaar mein chalee gaee thee lekin phir bhee nahin usako paap aur philm kee drshti se dekhate hue usake prashn uttar bhaav ka prayog kiya aur pranaam beta yah baat jab raam ke kaanon tak parivaar vaasiyon ke maadhyam se unhonne cheeta ka kya karana uchit samajha kahate hain ki vah maryaada purushottam ke tatvon ne is baat par gaur nahin kiya ki seeta ka parityaag karake kya kahana chaahate kya saabit karana chaahate hain

और जवाब सुनें

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:14
सीता जी का अग्नि परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का परित्याग क्यों कर दिया था जब रावण के दरबार से सीता जी को भगवान राम लेकर आए तो उन्होंने सीता जी को शिकार करने से पहले उनके समक्ष प्रस्ताव रखा किस अग्नि में से गुजर कर आपको आना है और अपनी पवित्रता का परिचय देना है राम की शब्द सीता जी के हीरे को बहुत विचलित कर के और माता सीता ने अग्नि की में से अपने आप को निकाल कर अपनी पर चर्चा कई परिचय नहीं दिया एक नारी समाज का पुरुष के ऊपर क्या प्रभुत्व क्या होता है उसका उन्होंने परिचय दिया लेकिन जब सीता जी को लेकर राम अयोध्या आए तो अयोध्या के दौरान दुनिया भर की चर्चाएं कुछ नालायक लोग कुछ अज्ञानी लोग कर रहे थे और कब प्रणाम यह था कि एक धोबी ने सीता जी को पति अपनी पत्नी से कहा मैं राम नहीं है जो प्रखर चाय पर पुरुष के घर से आई श्री को स्वीकार करें एक रात के लिए गोविंद जो कहीं रिश्तेदार में चली गई थी लेकिन फिर भी नहीं उसको पाप और फिल्म की दृष्टि से देखते हुए उसके प्रश्न उत्तर भाव का प्रयोग किया और प्रणाम बेटा यह बात जब राम के कानों तक परिवार वासियों के माध्यम से उन्होंने चीता का क्या करना उचित समझा कहते हैं कि वह मर्यादा पुरुषोत्तम के तत्वों ने इस बात पर गौर नहीं किया कि सीता का परित्याग करके क्या कहना चाहते क्या साबित करना चाहते हैं
Seeta jee ka agni pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka parityaag kyon kar diya tha jab raavan ke darabaar se seeta jee ko bhagavaan raam lekar aae to unhonne seeta jee ko shikaar karane se pahale unake samaksh prastaav rakha kis agni mein se gujar kar aapako aana hai aur apanee pavitrata ka parichay dena hai raam kee shabd seeta jee ke heere ko bahut vichalit kar ke aur maata seeta ne agni kee mein se apane aap ko nikaal kar apanee par charcha kaee parichay nahin diya ek naaree samaaj ka purush ke oopar kya prabhutv kya hota hai usaka unhonne parichay diya lekin jab seeta jee ko lekar raam ayodhya aae to ayodhya ke dauraan duniya bhar kee charchaen kuchh naalaayak log kuchh agyaanee log kar rahe the aur kab pranaam yah tha ki ek dhobee ne seeta jee ko pati apanee patnee se kaha main raam nahin hai jo prakhar chaay par purush ke ghar se aaee shree ko sveekaar karen ek raat ke lie govind jo kaheen rishtedaar mein chalee gaee thee lekin phir bhee nahin usako paap aur philm kee drshti se dekhate hue usake prashn uttar bhaav ka prayog kiya aur pranaam beta yah baat jab raam ke kaanon tak parivaar vaasiyon ke maadhyam se unhonne cheeta ka kya karana uchit samajha kahate hain ki vah maryaada purushottam ke tatvon ne is baat par gaur nahin kiya ki seeta ka parityaag karake kya kahana chaahate kya saabit karana chaahate hain

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:14
सीता जी का अग्नि परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का परित्याग क्यों कर दिया था जब रावण के दरबार से सीता जी को भगवान राम लेकर आए तो उन्होंने सीता जी को शिकार करने से पहले उनके समक्ष प्रस्ताव रखा किस अग्नि में से गुजर कर आपको आना है और अपनी पवित्रता का परिचय देना है राम की शब्द सीता जी के हीरे को बहुत विचलित कर के और माता सीता ने अग्नि की में से अपने आप को निकाल कर अपनी पर चर्चा कई परिचय नहीं दिया एक नारी समाज का पुरुष के ऊपर क्या प्रभुत्व क्या होता है उसका उन्होंने परिचय दिया लेकिन जब सीता जी को लेकर राम अयोध्या आए तो अयोध्या के दौरान दुनिया भर की चर्चाएं कुछ नालायक लोग कुछ अज्ञानी लोग कर रहे थे और कब प्रणाम यह था कि एक धोबी ने सीता जी को पति अपनी पत्नी से कहा मैं राम नहीं है जो प्रखर चाय पर पुरुष के घर से आई श्री को स्वीकार करें एक रात के लिए गोविंद जो कहीं रिश्तेदार में चली गई थी लेकिन फिर भी नहीं उसको पाप और फिल्म की दृष्टि से देखते हुए उसके प्रश्न उत्तर भाव का प्रयोग किया और प्रणाम बेटा यह बात जब राम के कानों तक परिवार वासियों के माध्यम से उन्होंने चीता का क्या करना उचित समझा कहते हैं कि वह मर्यादा पुरुषोत्तम के तत्वों ने इस बात पर गौर नहीं किया कि सीता का परित्याग करके क्या कहना चाहते क्या साबित करना चाहते हैं
Seeta jee ka agni pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka parityaag kyon kar diya tha jab raavan ke darabaar se seeta jee ko bhagavaan raam lekar aae to unhonne seeta jee ko shikaar karane se pahale unake samaksh prastaav rakha kis agni mein se gujar kar aapako aana hai aur apanee pavitrata ka parichay dena hai raam kee shabd seeta jee ke heere ko bahut vichalit kar ke aur maata seeta ne agni kee mein se apane aap ko nikaal kar apanee par charcha kaee parichay nahin diya ek naaree samaaj ka purush ke oopar kya prabhutv kya hota hai usaka unhonne parichay diya lekin jab seeta jee ko lekar raam ayodhya aae to ayodhya ke dauraan duniya bhar kee charchaen kuchh naalaayak log kuchh agyaanee log kar rahe the aur kab pranaam yah tha ki ek dhobee ne seeta jee ko pati apanee patnee se kaha main raam nahin hai jo prakhar chaay par purush ke ghar se aaee shree ko sveekaar karen ek raat ke lie govind jo kaheen rishtedaar mein chalee gaee thee lekin phir bhee nahin usako paap aur philm kee drshti se dekhate hue usake prashn uttar bhaav ka prayog kiya aur pranaam beta yah baat jab raam ke kaanon tak parivaar vaasiyon ke maadhyam se unhonne cheeta ka kya karana uchit samajha kahate hain ki vah maryaada purushottam ke tatvon ne is baat par gaur nahin kiya ki seeta ka parityaag karake kya kahana chaahate kya saabit karana chaahate hain

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:46
आपका सवाल है कि सीता का अग्नि परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का परित्याग क्यों किया तो माता सीता ने अग्नि परीक्षा दी थी वह बिल्कुल भी सही बिल्कुल भी इसको गलत नहीं मान सकते क्योंकि भगवान के सामने यार कह तो श्री राम जी के सामने अपने भाई और अपने मित्र गणों के सामने ही उन्होंने अग्नि परीक्षा ली थी जैसे मशीन राम जी को ऐसे ही मर्यादा पुरुषोत्तम राम नहीं कहा जाता है वह अपने राज्य की जनता ने सीता जी पर विश्वास नहीं किया था एक बार क्या हुआ था जब राम जी अपने राज्य के भ्रमण के लिए निकले थे तब वह अपनी जनता किराए जाना चाहते थे कि वह सीता के बारे में क्या सोचते हैं तो वह चुपके से गए थे और जनता उनके बारे में बात कर रही थी कि सीता पवित्र नहीं है क्योंकि सीता ने उन सभी के सामने अग्नि परीक्षा नहीं ली थी तो इसी बात को ध्यान में रखते हुए श्री राम अपनी पत्नी को छोड़ने पर विवश हो गए क्योंकि श्री राम जी के लिए प्रजा सर्वश्रेष्ठ है और पत्नी बाद में अपनी जनता की बात को सिरे से लेते हुए श्री राम जी ने सीता का प्रतिज्ञा किया था धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki seeta ka agni pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka parityaag kyon kiya to maata seeta ne agni pareeksha dee thee vah bilkul bhee sahee bilkul bhee isako galat nahin maan sakate kyonki bhagavaan ke saamane yaar kah to shree raam jee ke saamane apane bhaee aur apane mitr ganon ke saamane hee unhonne agni pareeksha lee thee jaise masheen raam jee ko aise hee maryaada purushottam raam nahin kaha jaata hai vah apane raajy kee janata ne seeta jee par vishvaas nahin kiya tha ek baar kya hua tha jab raam jee apane raajy ke bhraman ke lie nikale the tab vah apanee janata kirae jaana chaahate the ki vah seeta ke baare mein kya sochate hain to vah chupake se gae the aur janata unake baare mein baat kar rahee thee ki seeta pavitr nahin hai kyonki seeta ne un sabhee ke saamane agni pareeksha nahin lee thee to isee baat ko dhyaan mein rakhate hue shree raam apanee patnee ko chhodane par vivash ho gae kyonki shree raam jee ke lie praja sarvashreshth hai aur patnee baad mein apanee janata kee baat ko sire se lete hue shree raam jee ne seeta ka pratigya kiya tha dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:25
अलवर के बारे में स्वागत है आपका आपका प्रश्न है की परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का परित्याग कर दिया था तो फ्रेंड से जब सीता मां को भगवान राम रावण से छुड़ाकर ले आए थे युद्ध करने के बाद जब अयोध्या आए तो बहुत सारे लोग हैं से बुराइयां करते थे कि रावण कह रहे कि आई है राम जी को इनको नहीं रखना चाहिए या तो इनका अग्नि परीक्षा देनी चाहिए बल्कि एक अग्नि परीक्षा सीता जी जब राम भगवान रावण से जीत के लाए थे सीता को तो वह बनवा भी नहीं है जंगल में ही एक अग्नि परीक्षा दे चुकी थी फिर भी कभी अयोध्या आए तो लोग तरह-तरह की बातें करने लगे तो राम भगवान ने फिर से अग्नि परीक्षा की बात सब लोगों ने कही कि सीता की अग्नि परीक्षा करी जाए तो इसी से तंग होकर सीता जी अयोध्या को छोड़कर चली गई थी और उसमें भगवान राम की सहमति थी कि वे मेल को छोड़कर चली गई थी और वाल्मीकि जी के आज में रहने लगी थी वे भगवान राम से प्रार्थना की कि आप मुझे छोड़ दीजिए नहीं तो आपके ऊपर आप लंका लग जाएगा कि यह रावण के हारे के आएंगे तो भी ऐसी पत्नी को रख रहे हैं और सीता के मुंह में पड़े हुए हैं तो सीता जी की सहमति से ही राम भगवान सीता मां को जंगलों में लक्ष्मण के द्वारा छुड़वा दिए थे फिर भी वाल्मीकि के आश्रम में रहने लगी थी धन्यवाद
Alavar ke baare mein svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kee pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka parityaag kar diya tha to phrend se jab seeta maan ko bhagavaan raam raavan se chhudaakar le aae the yuddh karane ke baad jab ayodhya aae to bahut saare log hain se buraiyaan karate the ki raavan kah rahe ki aaee hai raam jee ko inako nahin rakhana chaahie ya to inaka agni pareeksha denee chaahie balki ek agni pareeksha seeta jee jab raam bhagavaan raavan se jeet ke lae the seeta ko to vah banava bhee nahin hai jangal mein hee ek agni pareeksha de chukee thee phir bhee kabhee ayodhya aae to log tarah-tarah kee baaten karane lage to raam bhagavaan ne phir se agni pareeksha kee baat sab logon ne kahee ki seeta kee agni pareeksha karee jae to isee se tang hokar seeta jee ayodhya ko chhodakar chalee gaee thee aur usamen bhagavaan raam kee sahamati thee ki ve mel ko chhodakar chalee gaee thee aur vaalmeeki jee ke aaj mein rahane lagee thee ve bhagavaan raam se praarthana kee ki aap mujhe chhod deejie nahin to aapake oopar aap lanka lag jaega ki yah raavan ke haare ke aaenge to bhee aisee patnee ko rakh rahe hain aur seeta ke munh mein pade hue hain to seeta jee kee sahamati se hee raam bhagavaan seeta maan ko jangalon mein lakshman ke dvaara chhudava die the phir bhee vaalmeeki ke aashram mein rahane lagee thee dhanyavaad

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:31
इंदु जी के अग्नि परीक्षा ली गई थी क्योंकि उनके गर्भ में बच्चे पर बैठे सभी रावण वितरण के द्वारा उनके गांव चली गई थी और उनका परिचय रिसीव हो किसी राजा बन जा तू रे कि राजेश का पक्षी होता है जिसको सभी को न्याय देना पड़ता है जनता कभी नहीं करना पड़ता है सितारों ने सीता का परित्याग किया है मैं थोड़ी देर के बाद में से 2 बच्चे हुए लड़की चाहिए जो कि अपने पिता राम जी से मिले
Indu jee ke agni pareeksha lee gaee thee kyonki unake garbh mein bachche par baithe sabhee raavan vitaran ke dvaara unake gaanv chalee gaee thee aur unaka parichay riseev ho kisee raaja ban ja too re ki raajesh ka pakshee hota hai jisako sabhee ko nyaay dena padata hai janata kabhee nahin karana padata hai sitaaron ne seeta ka parityaag kiya hai main thodee der ke baad mein se 2 bachche hue ladakee chaahie jo ki apane pita raam jee se mile

lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
2:00
आपका सवाल ए सीता का अग्नि परीक्षा का सच क्या है भगवान राम ने सीता का पता क्यों कर दिया था इसका जवाब है मेरा मानना है कि जो आप टीवी में दिखाते हैं नेकी सीता ने अग्नि परीक्षा ली हो तो मैं नहीं मानते यार वह सब क्योंकि रामायण2 चोली खोले गए तुलसीदास ने वाल्मीकि रामायण तुलसीदास करवाने ठीक है आप दोनों सामान को आप अच्छे से पढ़ सकते हो मैंने सुना है ठीक है इतना कंफर्म नहीं है लेकिन हां मैंने सुना कि अग्नि परीक्षा के लिए केक या नहीं कि एक पाठ है अग्नि परीक्षा लेकिन असली में अग्नि परीक्षा नहीं ली थी ठीक है राम ने सीता की अग्नि परीक्षा नहीं ली थी वह सिर्फ इसलिए नहीं थी उस पर से इसलिए बोला था क्योंकि वह अग्निदेव गाना अग्निदेव ने सीता को सुरक्षित रखा था और वह उसके जगह कोई दूसरा आने की उसका प्रतिरूप आप समझ सकते हो प्रतिरूप उसके आगे जो श्रीलंका में थाना सीता जी लंका में सीता माता की प्रतिरूप थे यानी कि उसका हम सफल हो यार पृथ्वी में आप समझ सकते हो ठीक है तू असली सीता कितने पास की अग्नि देव के पास थे ठीक है तो अब राम जी ने क्या किया लंका में श्रीलंका में रावण से युद्ध के उसके बाद विजय प्राप्त की उसके बाद क्या है सीता को छुड़ाएं छुड़ा लिया उसके बाद क्या किया उन्होंने अग्नि परीक्षा इसलिए ने कहा कि वह वापस ले सके सीता को जो असली सीता है वह अग्नि देवी से वापस कर देते हैं अग्नि परीक्षा के माध्यम से ठीक है लेकिन सच में अग्नि परीक्षा नहीं ली थी यह बात है आप प्रमाण पत्र शब्दों में इतना कर्म धर्म नहीं हूं दो रामायण वाल्मीकि रामायण तुलसीदास कवि तो आप दोनों में से कोई भी आप सर्च कर सकते इसके बारे में रिसर्च कर सकते हो गोरखपुर रचित समझना है तो मैंने सुना है कि आप अग्नि परीक्षा की असली सीता जी सीता सुरक्षित की अग्नि देव के पास और वापस लेने के लिए उन्होंने अग्नि परीक्षा के नाम से वापस सीता को अपने पास बुलाया नहीं समझ सकता
Aapaka savaal e seeta ka agni pareeksha ka sach kya hai bhagavaan raam ne seeta ka pata kyon kar diya tha isaka javaab hai mera maanana hai ki jo aap teevee mein dikhaate hain nekee seeta ne agni pareeksha lee ho to main nahin maanate yaar vah sab kyonki raamaayana2 cholee khole gae tulaseedaas ne vaalmeeki raamaayan tulaseedaas karavaane theek hai aap donon saamaan ko aap achchhe se padh sakate ho mainne suna hai theek hai itana kampharm nahin hai lekin haan mainne suna ki agni pareeksha ke lie kek ya nahin ki ek paath hai agni pareeksha lekin asalee mein agni pareeksha nahin lee thee theek hai raam ne seeta kee agni pareeksha nahin lee thee vah sirph isalie nahin thee us par se isalie bola tha kyonki vah agnidev gaana agnidev ne seeta ko surakshit rakha tha aur vah usake jagah koee doosara aane kee usaka pratiroop aap samajh sakate ho pratiroop usake aage jo shreelanka mein thaana seeta jee lanka mein seeta maata kee pratiroop the yaanee ki usaka ham saphal ho yaar prthvee mein aap samajh sakate ho theek hai too asalee seeta kitane paas kee agni dev ke paas the theek hai to ab raam jee ne kya kiya lanka mein shreelanka mein raavan se yuddh ke usake baad vijay praapt kee usake baad kya hai seeta ko chhudaen chhuda liya usake baad kya kiya unhonne agni pareeksha isalie ne kaha ki vah vaapas le sake seeta ko jo asalee seeta hai vah agni devee se vaapas kar dete hain agni pareeksha ke maadhyam se theek hai lekin sach mein agni pareeksha nahin lee thee yah baat hai aap pramaan patr shabdon mein itana karm dharm nahin hoon do raamaayan vaalmeeki raamaayan tulaseedaas kavi to aap donon mein se koee bhee aap sarch kar sakate isake baare mein risarch kar sakate ho gorakhapur rachit samajhana hai to mainne suna hai ki aap agni pareeksha kee asalee seeta jee seeta surakshit kee agni dev ke paas aur vaapas lene ke lie unhonne agni pareeksha ke naam se vaapas seeta ko apane paas bulaaya nahin samajh sakata

राजेश कृष्ण पारीक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए राजेश जी का जवाब
सभी को-जय सियाराम
1:53
आपका प्रश्न है कि माता सीता का अग्नि परीक्षा का सच क्या है तो यह सच यह है कि अग्निपरीक्षा कोई परीक्षा नहीं हुई थी जब माता सीता का हरण हुआ तो वह माता सीता का हरण नहीं जबकि उनका प्रतिबिंब था जिसको रावण लेकर गया था एक बार की बात है पंचवटी के अंदर है जब लक्ष्मण जी कंदमूल फल लाने को गए थे तो भगवान श्री रामचंद्र ने माता सीता से कहा कि ऐसी ते मैं पवित्र नर लीला करना चाहता हूं इसलिए तुम अग्नि के अंदर समा जाओ तो सीता का जो शरीर है वह अग्नि के अंदर डाल दिया अग्नि देव को समर्पित कर दिया और उनकी परछाई मां भगवान राम के पास रह गई जो बिल्कुल माता सीता की तरह थी उनके ही जैसी थी तो जब लंका से माता सीता को वापस लाया गया तो अग्निपरीक्षा इसलिए करवाई क्योंकि वह तो प्रतिबिंब था सीता थी नहीं तो प्रतिबिंब अग्नि के अंदर जल गया और पगली जो माता सीता को भगवान श्री राम के पास समर्पित करके चले गए तो यह अग्निपरीक्षा सच्चाई है अब आपका दूसरा सवाल है भगवान राम ने सीता का परित्याग क्यों कर दिया था तो यह मन भड़क बात है आदिकवि महर्षि वाल्मीकि ने रामायण को 6 कांडों में ही वितरित किया था साथ में उत्तर कांड वाल्मीकि रामायण का वह विपक्षियों द्वारा जोड़ा गया भगवान श्रीराम ने सीता का परित्याग किया ही नहीं इसलिए कथा मंगत है तो माता सीता का परित्याग हुआ ही नहीं था

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सीता कौन थी, सीता की अग्नि परीक्षा, सीता ने अग्नि परीक्षा क्यो दि
URL copied to clipboard